Tag Archives: Menopause

Personal Problems: मिसकैरेज के बाद कंसीव करने में दिक्कत आ रही है (Pregnancy After Miscarriage- What You Need To Know?)

मेरी उम्र 42 वर्ष है. मुझे पिछले 3 महीने से पीरियड्स नहीं आए हैं. पिछले साल भी मेरे पीरियड्स अनियमित हो गए थे, लेकिन ज़्यादा लंबे समय तक नहीं. कहीं मैं प्रेग्नेंट तो नहीं हो गई? हमने कोई कॉन्ट्रासेप्शन भी यूज़ नहीं किया. मेरे बच्चे की उम्र 16 साल है और कुछ दिनों से मेरी तबीयत भी ठीक नहीं चल रही है.
                 – मोनाली बनर्जी, कोलकाता.

ये प्री-मेनोपॉज़ल के लक्षण लगते हैं. यदि आप अपनी प्रेग्नेसी को कंफर्म करना चाहती हैं, तो गायनाकोलॉजिस्ट की सलाह ले सकती हैं या फिर घर पर ही यूरिन प्रेग्नेंसी टेस्ट कर सकती हैं. कई बार हार्मोनल गड़बड़ी या कुछ दवाओं के कारण पीरियड्स अनियमित हो जाते हैं. इसके लिए ज़रूरी है कि आप संतुलित डायट लें, जिसमें हरी सब्ज़ियां, फल, दालें, दूध आदि को शामिल करें. नियमित रूप से एक्सरसाइज़ करें. अपना रूटीन चेकअप, जैसे- ब्लड व यूरिन टेस्ट, सोनोग्राफ़ी, पैप स्मीयर और मैमोग्राफ़ी समय-समय पर कराती रहें.

 

यह भी पढ़ें: Personal Problems: क्या ब्रेस्ट से लिक्विड डिस्चार्ज होना ख़तरनाक है? (Is Abnormal Nipple Discharge Dangerous?)

Pregnancy After Miscarriage

मैं 23 वर्षीया महिला हूं. मेरी शादी को डेढ़ साल ही हुआ है. 9 महीने पहले मेरा 2 माह का मिसकैरेज हुआ था. इसके बाद डॉक्टर ने अगले 6 महीने तक कंसीव न करने की सलाह दी थी. लेकिन अब हम पिछले 3 माह से कंसीव करने की कोशिश कर रहे हैं, पर सफल नहीं हो पा रहे हैं. क्या हमें कोई टेस्ट कराने की ज़रूरत है?.

                       -सिया खंडूरी, दिल्ली.

आप पहले एक बार प्रेग्नेंट हो चुकी हैं, इसका मतलब है कि आपको दोबारा कंसीव करने में कोई समस्या नहीं होगी. बच्चे में किसी तरह की असामान्यताएं होने पर ही प्रेग्नेंसी के पहले 3 महीने में गर्भपात होने की आशंका अधिक होती है. यदि आप गर्भ धारण करना चाहती हैं, तो अपनी पीरियड डेट के पहले दिन को काउंट करते हुए 10 से 20 दिन के बीच इंटरकोर्स करें. सप्लीमेंट के तौर पर फॉलिक एसिड लें और गायनाकोलॉजिस्ट द्वारा बताए गए निर्देशों का पालन करें.

यह भी पढ़ेंPersonal Problems: पीरियड्स में होनेवाले दर्द के लिए क्या कोई ख़ास टेस्ट कराना होगा? (Menstrual Cramps- Diagnosis And Treatments)

Dr. Rajshree Kumar

डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा ऐप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

Personal Problems: मेनोपॉज़ के बाद ब्लीडिंग कहीं गंभीर समस्या तो नहीं? (What Does It Mean If You’re Bleeding After Menopause?)

मैं 53 वर्षीया महिला हूं. तीन साल पहले मेरा मेनोपॉज़ (Menopause) हो चुका है. इन दिनों अचानक मुझे हल्की वेजाइनल ब्लीडिंग (Vaginal Bleeding) शुरू हो गई है. क्या यह कोई गंभीर समस्या है? क्या मुझे चेकअप करवाना चाहिए?
– सुमति राव, मैंगलोर.

एक बार जब मासिकधर्म एक साल के लिए बंद हो जाए तो यह स्थिर हो जाता है. इसके बाद कभी आपको वेजाइनल ब्लीडिंग नहीं होनी चाहिए, यहां तक कि दाग़-धब्बे भी नहीं दिखनेे चाहिए. आपको तुरंत गायनाकोलॉजिस्ट से चेकअप करवाना चाहिए, जो इंटरनल एक्ज़ामिनेशन या पीएपी स्मीअर जांच से सर्विक्स के कैंसर का पता लगा सकते हैं. यूट्रीन लाइन पर सूजन है या नहीं, इसकी जांच के लिए आप सोनोग्राफ़ी भी करवा लें. यूट्रीन लाइन पर सूजन एंडोमेट्रियल हाइपरप्लेसिया, कैंसर या ओवरी ट्यूमर का संकेत है. वेजाइनल ब्लीडिंग का कारण इनमें से कोई भी हो सकता है, इसलिए सही जांच ज़रूरी है.

यह भी पढ़ें: Personal Problems: पीरियड्स अनियमित हैं और वज़न भी बढ़ रहा है (What Causes Irregular Periods And Weight Gain?)

 Bleeding After Menopause
मैं 40 वर्षीया महिला हूं. मैंने अपनी सहेलियों से सुना है कि उन्होंने पीएपी स्मीअर करवाया है. यह क्या है और इस उम्र में क्या यह सभी को करवाना
पड़ता है?
– रजनी शर्मा, दिल्ली.

40 वर्ष की उम्र ऐसी उम्र है, जहां किसी भी तरह के कैंसर या ट्यूमर की संभावना से पहले ही नियमित चेकअप करवाते रहना चाहिए. पीएपी स्मीअर एक साधारण-सा टेस्ट है, जिसमें कॉटन या ब्रश को सर्विक्स से छूकर स्लाइड तैयार की जाती है और इस स्लाइड की जांच द्वारा कैंसर या अन्य किसी बीमारी का पता लगाया जा सकता है. यह जांच किसी भी डॉक्टर के क्लिनिक में दो मिनट में की जा सकती है. यह जांच हर साल करवानी चाहिए और इसकी शुरुआत तभी कर देनी चाहिए, जब महिला सेक्सुअली एक्टिव हो. इसके अलावा 40 की उम्र में पेल्विक सोनोग्राफ़ी करवानी चाहिए, जिससे गर्भाशय और ओवरी के कैंसर का पता चलता है. साथ ही मैमोग्राफ़ी भी करवा लेनी चाहिए, जिससे स्तन कैंसर का पता चलता है. किसी भी महिला को कैंसर की जांच के लिए ये सामान्य से टेस्ट अवश्य करवाने चाहिए.

यह भी पढ़ें: Personal Problems: दो साल में सिर्फ दो बार पीरियड्स आए (Reasons For Irregular Periods)

Dr. Rajshree Kumar

डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा ऐप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

 

Personal Problems: 40 की उम्र में महिलाओं को कौन-से टेस्ट्स कराने चाहिए? (Medical Tests For Women in Their 40s)

मैं 39 वर्षीया कामकाजी महिला हूं. मैं यह जानना चाहती हूं कि मेरे लिए इस उम्र में कौन-से टेस्ट्स करवाने ज़रूरी हैं?
– पल्लवी राणा, इंदौर.

 

किसी भी हेल्थ प्रोफेशनल से आप अपना जनरल चेकअप करवा सकती हैं, जिसमें ब्लड प्रेशर, पल्स रेट, चेस्ट व हार्ट की जांच के अलावा सिर से पैर तक की जांच की जाती है. इसके साथ ही पैप स्मियर टेस्ट व पेल्विक की जांच भी ज़रूर करवाएं. अगर कुछ डिटेक्ट हुआ, तो आपको सोनोग्राफी भी करानी पड़ सकती है. इसके अलावा साल में एक बार बेसिक एक्ज़ामिनेशन, जैसे ब्लड टेस्ट, लिपिड प्रोफाइल, लिवर और किडनी प्रोफाइल, चेस्ट एक्स-रे और ईसीजी ज़रूर करवाएं. अगर आप फिट और हेल्दी हैं, फिर भी हर साल आंख और दांत की जांच ज़रूर करवाएं.

यह भी पढ़ें: Personal Problems: मेनोपॉज़ के क्या लक्षण होते हैं? (What Are The Signs And Symptoms Of Menopause?)

 

Medical Tests For Women

पिछले हफ़्ते मेरी ऑफिस की सहेली अचानक बेहोश हो गई, जो प्रेग्नेंट थी. उसे तुरंत अस्पताल ले जाया गया, जहां उसकी इमर्जेंसी सर्जरी करनी पड़ी. डॉक्टर ने बताया कि वह एक्टॉपिक प्रेग्नेंसी (Ectopic Pregnancy) की शिकार हुई है. यह क्या है? क्या भविष्य में उसकी प्रेग्नेंसी नॉर्मल होगी?
– सरला पटेल, रोहतक.

 

इस अवस्था में भू्रण यूटेरस के अंदर रहने की बजाय बाहर आमतौर पर ट्यूब्स में रह जाता है, जिससे भू्रण 5-6 हफ़्तों से ज़्यादा सुरक्षित नहीं रहता. आमतौर पर महिलाओं को पेट में मरोड़, वेजाइनल ब्लीडिंग, कंधों आदि में दर्द होता है. एक्टॉपिक प्रेग्नेंसी सर्विक्स, ओवरीज़ या एब्डोमेन में भी हो सकती है. अगर उनका दूसरा ट्यूब ठीक है, तो भविष्य में वह प्रेग्नेंट हो सकती हैं.

यह भी पढ़ें:  Personal Problems: क्या पति का स्पर्म काउंट टेस्ट कराना ज़रूरी है? (Should You Get Your Husband’s Sperm Count Checked?)

Dr. Rajshree Kumar

 

डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

 

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

Personal Problems: पीरियड्स देरी से आने के क्या कारण हो सकते हैं? (What Could Be The Reasons For Delayed Periods?)

Personal Problems: पीरियड्स देरी से आने के क्या कारण हो सकते हैं? (What Could Be The Reasons For Delayed Periods?)
मैं 47 साल की महिला हूं. मुझे कई महीनों से पीरियड्स नहीं आ रहे हैं. इसकी क्या वजह हो सकती है? कहीं मुझे मेनोपॉज़ तो नहीं हो गया है. कृपया, मेरी समस्या का समाधान करें.
– रेषा गुप्ता, ठाणे.

मेनोपॉज़ होने पर पीरियड्स पहले की तरह रेग्युलर नहीं रहते हैं. कभी ब्लीडिंग ज़्यादा होती है, कभी कम और कई बार केवल स्पॉट नज़र आता है. कई बार पीरियड्स ज़्यादा दिनों के लिए रहते हैं, तो कभी कम दिनों में ही ख़त्म हो जाते हैं. अगर आपके पीरियड्स मिस हो रहे हैं, तो सबसे पहले प्रेग्नेंसी टेस्ट करें. अगर आप प्रेग्नेंट नहीं हैं, तो हो सकता है कि यह मेनोपॉज़ के संकेत हों. अगर लगातार 12 महीनों तक आपको पीरियड्स नहीं आते हैं और उसके बाद भी स्पॉटिंग ही दिखाई देती है, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें, क्योंकि ये कैंसर जैसी गंभीर समस्या भी हो सकती है.
मेनोपॉज़ को आप स्वयं पहचान सकती हैं. मेनोपॉज़ के कॉमन लक्षण हैं- वेजाइनल ड्रायनेस, नींद की कमी या नींद डिस्टर्ब हो जाना, ज़्यादा पसीना आना आदि. इन सारे लक्षणों की वजह से आप चिंता या अवसाद महसूस कर सकती हैं. मेनोपॉज़ है या नहीं ये जानने के लिए आप गायनाकोलॉजिस्ट से संपर्क करें. एक ब्लड टेस्ट के ज़रिए आसानी से इसका पता लगाया जा सकता है. इसके अलावा आप पैप स्मीयर यानी सरवाइकल कैंसर स्क्रीनिंग टेस्ट भी करवा सकती हैं.

यह भी पढ़ें: शारीरिक संबंध के बाद १-२ दिन तक ब्लीडिंग क्यों होती है?

Delayed Periods

पिछले 2-3 महीने से मेरे पीरियड्स देरी से आ रहे हैं. कृपया, मुझे बताएं कि पीरियड्स देरी से आने के क्या-क्या कारण हो सकते हैं.
– दीपिका शिंदे, जलगांव.  

स्ट्रेस, कुपोषण, थाइरॉइड प्रॉब्लम, कोई बीमारी, कंट्रासेप्टिव पिल्स, ईटिंग डिसऑर्डर, अर्ली मेनोपॉज़, ब्रेस्ट फीडिंग, मोटापा, पीसीओडी और अचानक से वज़न काम होने पर भी पीरियड्स देरी से आते हैं. आप अपने डॉक्टर से मिलें वो आपके पीरियड्स देरी से आने का कारण ज़्यादा सही तरीक़े से बता पाएंगे.

यह भी पढ़ें:  कंडोम के इस्तेमाल से प्राइवेट पार्ट में खुजली व जलन क्यों होती है?

 Dr. Rajshree Kumar

 

 डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

Personal Problems: मेनोपॉज़ के बाद कभी-कभी ब्लीडिंग होती है (Bleeding After Menopause: Causes & Treatment)

मैं 55 साल की हूं और 3 साल पहले मेरा मेनोपॉज़ हुआ है. लेकिन मेरी समस्या यह है कि पिछले 2 महीनों से मुझे कभी-कभी ब्लीडिंग हो रही है, जिसके कारण मैं बहुत चिंतित हूं. ऐसा क्यों हो रहा है?

– ज्योति छाया, हरियाणा.

मेनोपॉज़ के बाद रक्तस्राव को साधारण नहीं समझना चाहिए और आपको फ़ौरन गायनाकोलॉजिस्ट से परामर्श लेना चाहिए. ऐसा निम्न कारणों से हो सकता है– अगर आप हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी का इस्तेमाल कर रही हों, आपको फायब्रॉयड या गर्भाशय कैंसर की शिकायत हो, योनि कैंसर हो, सर्वाइकल कैंसर या यूटेरियन कैंसर की शिकायत हो. ऐसा सर्वाइकल या योनि में इंफेक्शन के कारण भी हो सकता है. बेहतर होगा कि आप अपना पूरा चेकअप करवाएं.

यह भी पढ़ें: Personal Problems: बच्चे को कितने समय तक ब्रेस्टफीडिंग करानी चाहिए?

Bleeding After Menopause, Causes, Treatment

मुझे दो महीने का गर्भ है. ये मेरा पहला बच्चा है. मुझे सुबह बहुत चक्कर आता है और उल्टियां भी होती हैं. मुझे क्या करना चाहिए?

– कार्तिका, नासिक.

गर्भावस्था में सुबह के समय नॉसिया या उल्टी होना सामान्य बात है. अगर आप खाली पेट हैं तो आपकी समस्या और भी बढ़ सकती है. सुबह उठने के बाद बिस्किट और चाय या दूध लें. खाली पेट कभी न रहें. दिन के समय भी कार्बोहाइड्रेड से युक्त आहार लें. फैटी फूड से परहेज़ करें. ये शिकायत सामान्यत: तीसरे महीने के बाद दूर हो जाती है. अगर ऊपर बताए गए निर्देशों का पालन करने के बाद भी आराम नहीं मिलता है, तो डॉक्टर से मिलें जो आपको उल्टियां बंद करने के लिए कोई गोलियां देंगे.

यह भी पढ़ें: कंडोम के इस्तेमाल से प्राइवेट पार्ट में खुजली व जलन क्यों होती है?

यह भी पढ़ें: पर्सनल प्रॉब्लम्स: गर्भधारण नहीं कर पा रही हूं, क्या मुझमें कोई प्रॉब्लम है?

 

 डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

 

पर्सनल प्रॉब्लम्स: क्या 38 साल की उम्र में मेनोपॉज़ हो सकता है? (Can Menopause Start At 38?)

Can Menopause Start At 38
मैं 38 वर्षीया महिला हूं और मेरी 8 साल की एक बेटी भी है. पिछले 7-8 महीने से मेरे पीरियड्स नहीं आ रहे हैं. डॉक्टर ने मेरा ब्लड टेस्ट करवाया, ताकि प्रीमैच्योर ओवेरियन फेलियर की जांच हो सके. उनके मुताबिक मुझे मेनोपॉज़ हो गया है, पर क्या 38 साल की उम्र में भी मेनोपॉज़ हो सकता है?
– जया राजपूत, आगरा.

40 साल के पहले अगर किसी महिला को मेनोपॉज़ होता है, तो उसे प्रीमैच्योर ओवेरियन फेलियर कहते हैं. इसके कई कारण हो सकते हैं, जैसे- आनुवांशिक, कीमो थेरेपी, रेडियो थेरेपी, धूम्रपान आदि. दरअसल, ब्लड टेस्ट की रिपोटर्र् देखने के बाद ही आपकी डॉक्टर ने प्रीमैच्योर ओवेरियन फेलियर की बात कंफर्म की है. चूंकि आपको जल्दी मेनोपॉज़ हुआ है, इसलिए आपको अपने डायट का ख़ास ख़्याल रखना होगा. विटामिन डी और कैल्शियम टैबलेट्स के साथ-साथ एक्सरसाइज़ पर भी विशेष ध्यान दें.

Can Menopause Start At 38

मैं 31 वर्षीया महिला हूं और मेरी दाहिनी छाती में एक गांठ है. डायग्नॉसिस के लिए डॉक्टर ने मैमोग्राफी की बजाय अल्ट्रासोनोग्राफी करवाई. सही नतीजे पर पहुंचने के लिए बायोप्सी भी करवाई, जिसमें पता चला कि मुझे फाइब्रोइडोनोमा है. डॉक्टर ने मुझे कुछ भी न करने की सलाह दी है. क्या यह सही है?
– मेघा वर्मा, लुधियाना.

यह बहुत अच्छी बात है कि आपने बायोप्सी करवा ली है और रिपोर्ट में महज़ फाइब्रोइडोनोमा पाया गया है. इस उम्र में यह बहुत-सी महिलाओं को होता है, इसमें घबरानेवाली कोई बात नहीं. आपको मैमोग्राफी की बजाय अल्ट्रासोनोग्राफी कराने के लिए इसलिए कहा गया, क्योंकि आप 35 साल से कम उम्र की हैं. कम उम्र में मैमोग्राफी की बजाय सोनोग्राफी से ज़्यादा अच्छी तरह से जांच होती है और इसमें रेडिएशन का असर भी कम होता है, इसलिए डॉक्टर ने यह टेस्ट करवाया. एक बात का ख़ास ख़्याल रखें कि महीने में एक बार सेल्फ एक्ज़ामिनेशन ज़रूर करें.

यह भी पढ़ें: कंडोम के इस्तेमाल से प्राइवेट पार्ट में खुजली व जलन क्यों होती है?

यह भी पढ़ें: पर्सनल प्रॉब्लम्स: गर्भधारण नहीं कर पा रही हूं, क्या मुझमें कोई प्रॉब्लम है?

 

 डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies