menstrual periods

पीरियड्स में अधिकतर महिलाएं आज भी सेनेटरी पैड का ही इस्तेमाल करती हैं, लेकिन यदि तुलना की बात की जाए, तो ये जानना ज़रूरी है कि सेनेटरी पैड, टैम्पून और मेंस्ट्रुअल कप में से आपके लिए क्या है बेहतर? इसके साथ ही महिलाओं को पीरियड्स में हेल्थ और हाइजीन का ध्यान कैसे रखें, इसकी जानकारी भी होनी चाहिए.

Sanitary Pads, Tampons And Menstrual Cups

क्या आप पीरियड्स में सेनेटरी पैड का उपयोग करती हैं?
ज़्यादातर महिलाएं पीरियड्स में सेनेटरी पैड यानी सेनेटरी नैपकिन का उपयोग करती हैं. सेनेटरी पैड्स कॉटन या अन्य फैब्रिक से बने होते हैं. इनमें लिक्विड को सोखने की क्षमता अधिक होती है और ये पांच से छह घंटे तक ब्लीडिंग को सोख सकते हैं. कुछ महिलाओं को सेनेटरी पैड्स के उपयोग के दौरान रैशेज़, खुजली जैसी तकलीफ़ों का सामना करना पड़ता है. ऐसी महिलाओं को अच्छी क्वालिटी के सेनेटरी पैड्स का इस्तेमाल करना चाहिए और सेनेटरी पैड्स को उचित समय पर बदलते रहना चाहिए. साथ ही हाइजीन का भी ख़ास ध्यान रखना चाहिए.

यह भी पढ़ें: पीरियड के दर्द से छुटकारा पाने के 5 आसान घरेलू उपाय (5 Home Remedies To Reduce Period Pain)

Sanitary Pads

क्या आप पीरियड्स में टैम्पून का उपयोग करती हैं?
टैम्पून कॉटन और विशेष फैब्रिक से बना हुआ एक स्टिक जैसा होता है, जिसमें नीचे की ओर एक धागा लटका रहता है. टैम्पून का इस्तेमाल इसे वजायना में डालकर किया जाता है. जब टैम्पून पर्याप्त ब्लड को सोख लेता है, तो धागे की मदद से टैम्पून को वजायना के बाहर निकालकर उसे डिस्पोज़ कर दिया जाता है. कुछ महिलाएं पीरियड्स में टैम्पून का उपयोग करती हैं. टैम्पून चार-पांच घंटे तक ब्लीडिंग को सोख सकता है. हमारे देश में बहुत कम महिलाएं टैम्पून का इस्तेमाल करती हैं. कुछ महिलाओं को टैम्पून के उपयोग से यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन होने की शिकायत रहती है.

Tampons

क्या आप पीरियड्स में मेंस्ट्रुअल कप का उपयोग करती हैं?
मेंस्ट्रुअल कप मुलायम और लचीले लेटेक्स का बना एक कप है, जिसे पीरियड्स के दौरान कई बार इस्तेमाल किया जा सकता है. मार्केट में सिंगल यूज के लिए भी मेंस्ट्रुअल कप उपलब्ध हैं. पैड्स, टैम्पून और मेंस्ट्रुअल कप की तुलना में मेंस्ट्रुअल कप ज़्यादा सुरक्षित है यानी इसमें लीकेज का रिस्क कम होता है, इसके बावजूद हमारे देश में बहुत कम महिलाएं ही मेंस्ट्रुअल कप का इस्तेमाल करती हैं.

Menstrual Cups

सेनेटरी पैड, टैम्पून और मेंस्ट्रुअल कप, ये तीनों ही पीरियड्स में इस्तेमाल किए जाने वाले भरोसेमंद प्रोडक्ट्स हैं, आप अपनी सुविधा और ज़रूरत के अनुसार इनका चुनाव कर सकती हैं.

योनि संक्रमण (Vaginal Yeast Infection) का उपचार जानने के लिए देखें ये वीडियो:

पीरियड के दर्द से छुटकारा पाने के 5 आसान घरेलू उपाय आजमाकर आप पीरियड के दर्द से आसानी से छुटकारा पा सकती हैं. आपके किचन में मौजूद चीजों से आप आसानी से पीरियड के दर्द से छुटकारा पा सकती हैं. दादीमां के घरेलू नुस्खे जितने आसान होते हैं, उतने असरदार भी होते हैं. आप भी पीरियड के दर्द से छुटकारा पाने के 5 आसान घरेलू उपाय आजमाएं और पीरियड के दर्द से छुटकारा पाएं.

Home Remedies To Reduce Period Pain

पीरियड का दर्द महिलाओं की एक आम समस्या है. कई महिलाओं को पीरियड के दौरान इतना दर्द होता है कि उन्हें उठने-बैठने में भी तकलीफ होती है. पीरियड के दर्द के कारण कई महिलाएं अपने रोज़मर्रा के काम भी नहीं कर पाती हैं. पीरियड के दर्द से छुटकारा पाने के लिए यदि महिलाओं को आसान घरेलू उपायों की जानकारी मिल जाए, तो वो हर महीने होने वाले माहवारी के दर्द से छुटकारा पा सकती हैं.

यह भी पढ़ें: व्हाइट डिस्चार्ज (श्‍वेत प्रदर) से बचने के 10 घरेलू उपाय (10 Best Home Remedies To Cure White Discharge In Women)

 

जानें पीरियड के दर्द से छुटकारा पाने के 5 आसान घरेलू उपाय
1) माहवारी संबंधी सभी परेशानियों के निवारण के लिए गरम पानी का सेवन उत्तम है. माहवारी शुरू होने के 10 दिन पहले से गरम पानी पीना शुरू कर दें.
2) पीरियड के दर्द से बचने के लिए 8-10 बादाम रात में पानी में भिगोकर रख दें. सुबह छिलका निकालकर खाली पेट इसका सेवन करें.
3) पिसी हुई अलसी और पिसी हुई राई की गर्म-गर्म पुल्टिस कमर पर बांधने से आराम मिलता है.
4) 3 ग्राम कुटी अदरक, 3 काली मिर्च का चूर्ण और 1 बड़ी इलायची चूर्ण, काली चाय और दूध व पानी एकसाथ मिलाकर अच्छी तरह पकाएं. आधा पानी रह जाने पर उतार लें. इसे कुनकुना ही पीएं. ऐसा करने से माहवारी के दर्द से आराम मिलेगा.
5) पीरियड के दौरान कमर में दर्द हो तो बरगद का दूध निकालकर कमर पर सुबह-शाम लेप करें.

पीरियड के दर्द से छुटकारा पाने के 5 आसान घरेलू उपाय जानने के लिए देखें ये वीडियो:

 

 

मैं 19 वर्षीया कॉलेज स्टूडेंट हूं. मैं यह जानना चाहती हूं कि सामान्य पीरियड्स किसे कहते हैं. इसकी क्या परिभाषा है? कृपया, मार्गदर्शन करें.
– आस्था चहल, गंगटोक. 

यह बताना बहुत ही मुश्किल है कि सामान्य पीरियड्स क्या है, क्योंकि हर महिला का शरीर अलग होता है और उसकी ब्लीडिंग और लक्षण दूसरों से अलग होते हैं, इसलिए इसे परिभाषित करना आसान नहीं है. कुछ बातों का ध्यान रखकर आप कह सकती हैं कि आपके पीरियड्स असामान्य हैं, जैसे- किसी महीने पीरियड्स न आना, अचानक अत्यधिक रक्तस्राव होना, लंबे समय तक ब्लीडिंग का होना आदि. अगर आपके साथ ऐसा हो रहा हो, तो आप अपनी गायनाकोलॉजिस्ट से संपर्क करें. वो आपका चेकअप करके बताएंगी कि गर्भाशय से संबंधित कोई समस्या तो नहीं. साथ ही उसका सही इलाज भी करेंगी. पीरियड्स का साइकल 28 दिनों का ही होता है, यह एक मिथ्या है. बढ़ती उम्र के साथ हर महिला के साइकल में भी बदलाव होते रहते हैं.

यह भी पढ़ें: Personal Problems: क्या प्रेग्नेंसी में शुगर लेवल बढ़ना नॉर्मल है? (Is It Normal To Have Increased Blood Sugar During Pregnancy?)

 

Normal Menstrual Period

मैं 26 वर्षीया शादीशुदा महिला हूं. मैं रोज़ाना अपने वेजाइना को साफ़ करती हूं, फिर भी एक गंध-सी आती है. क्या यह सामान्य है? 
– मधुमिता गौर, उज्जैन.

हेल्दी वेजाइना की अपनी एक गंध होती है, लेकिन वो बुरी नहीं होती. अगर आपको लगता है कि यह गंध गंदी या बदबूदार है, तो यह किसी तरह का वेजाइनल इंफेक्शन हो सकता है. ध्यान दें कि आपका खानपान भी वेजाइना की गंध को प्रभावित करता है. इसके अलावा बहुत ज़्यादा कैफीन, अल्कोहल या स्मोकिंग भी वेजाइना की गंध को प्रभावित करती है. अगर आपको गंध से कोई द़िक्क़त हो रही है, तो अपनी डॉक्टर से मिलें. वो आपको इस बारे में अच्छी तरह से गाइड करेंगी और अगर कोई इंफेक्शन हुआ, तो ट्रीटमेंट भी आसानी से हो जाएगा.

यह भी पढ़ें: Personal Problems: 3-4 महीनों के बाद पीरियड्स आते हैं (Why My Periods Are 3-4 Months Late?)

Dr. Rajshree Kumar

डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा ऐप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

 

Roti & Paratha Recipes (E-Book)

Rs.30
Free

May 2017 ( Meri Saheli )

Rs.35 Rs.0

Hair Style (E-Book)

Rs.30