Tag Archives: MIRZYA

FILM REVIEW: मिर्ज़्या किसी ख़ूबसूरत पेंटिंग की तरह है, लेकिन रोमांस की कमी है (Mirzya Movie Review)

फिल्म– मिर्ज़्या
निर्देशक राकेश ओमप्रकाश मेहरा
स्टारकास्ट- हर्षवर्धन कपूर, सैयामी खेर, के के रैना, ओम पुरी
रेटिंग- 2.5 स्टार

मिर्ज़्या एक अहम् फिल्म है, क्योंकि यह एक फ़िल्म होने के साथ-साथ दो नए चेहरों को बॉलीवुड में लॉन्च भी कर रही है, ऐसे में ओमप्रकाश मेहरा पर काफ़ी बड़ी ज़िम्मेदारी थी. अनिल कपूर के बेटे हर्षवर्धन कपूर और सैयामी खेर दोनों के लिए ये फिल्म उनकी डेब्यू फिल्म होने के साथ-साथ एक ख़ास फिल्म भी है, जिसमें मिर्ज़ा-साहिबान की लव स्टोरी को पर्दे पर उतारना था. आइए, जानते हैं कैसी है मिर्ज़्या और आपको ये फिल्म देखनी चाहिए या नहीं.

06mirzya3 (1)

कहानी

कहानी शुरू होती है बचपन के दोस्त सुचित्रा (सैयामी खेर) और मोनीश (हर्षवर्धन कपूर) से. एक हादसे के बाद दोनों अलग हो जाते है. बड़े होने के बाद किस्मत दोनों को फिर एक-दूसरे के सामने ला खड़ा करती है. सुचित्रा विदेश से लौटती है और उसकी शादी एक बड़े घराने के बेटे प्रिंस करण (राज चौधरी) के साथ तय हो जाती है. मोनीश जिसने अपना नाम बदल कर आदिल मिर्ज़ा रख लिया है, वो करण के यहां घोड़ों के अस्तबल में काम करता है और सुचित्रा को घुड़सवारी सिखाता है. मोनीश तो सुचित्रा को एक नज़र में पहचान जाता है, लेकिन सुचित्रा जब मोनीश को पहचानती है, तब दोनों के बीच का प्यार फिर जाग जाता है और वो समाज की बेडियां तोड़कर एक होना चाहते हैं. इस कहानी के साथ प्रेमी मिर्ज़ा-साहिबान की कहानी भी चलती रहती है. 474886-mirzya (1)

फिल्म की यूएसपी

यह फिल्म किसी ख़ूबसूरत पेटिंग की तरह लगती है. सिनेमैटोग्राफ़ी कमाल की है. विज़ुअली फिल्म शानदार लग रही है. 17 साल बाद गुलज़ार साहब स्क्रिप्ट राइटिंग में वापसी कर रहे हैं और उन्होंने हर एक दृश्य को बड़ी ही ख़ूबसूरती से लिखा है. शंकर-एहसान-लॉय का म्यूज़िक काफ़ी दमदार है.

फिल्म की कमज़ोरी

फिल्म की कमज़ोरी है, उसमें दिखाए गए दो एरा, जो दर्शकों को कंफ्यूज़ करेंगे. इसमें कई ऐसे दृश्य या सीन्स हैं, जो बेवजह हैं. ऐसे में रोमांस को पर्दे पर उतारने में थोड़ी कमी रह गई है. अमीर प्रेमिका और गरीब प्रेमी की कहानी कोई नहीं हैं, ऐसी कहानियों पर पहले भी फिल्में बन चुकी हैं. यह इस साल की सबसे ख़ूबसूरत रोमांटिक फिल्म बन सकती थी, लेकिन कई ज़रूरी दृश्यों में अभिनय और डायरेक्शन की कमी इस फिल्म को कमज़ोर बना देती है.Mirzya-1-Saiyami-and-Harshvardhan (1)

किसकी ऐक्टिंग में था दम?

पहली फिल्म के हिसाब से हर्षवर्धन और सैयामी दोनों की ही ऐक्टिंग अच्छी है. दोनों ने ही अपने किरदार के साथ न्याय किया है. अनिल कपूर के बेटे और सोनम के भाई हर्षवर्धन में पिता की विरासत को आगे ले जाने की सारी ख़ूबियां नज़र आ रही हैं.

क्यों जाएं फिल्म देखने?

फिल्म देखने की कुछ ज़्यादा वजहें तो नहीं है, लेकिन हां अगर आपको ये दो नए चेहरे पसंद आ रहे हैं, तो आप एक बार इस फिल्म को देख सकते हैं. इसके अलावा अगर आपको मिर्ज़ा-साहिबान की कहानी के बारे में नहीं पता है, तो ये फिल्म उनकी कहानी के बारे में आपकी जानकारी बढ़ा सकती है. इसके अलावा वीकेंड पर अगर करने के लिए कुछ ख़ास नहीं है तो इस फिल्म को ही देख आएं.

INTERVIEW: ‘मिर्ज़या’ की तरह प्यार करना चाहता हूं : हर्षवर्धन (Harshvardhan Kapoor wants to fall in love like Mirzya)

mirzya-trailer_640x480_61466736152 (1)अनिल कपूर के बेटे हर्षवर्धन कपूर फिल्म मिर्ज़या से अपनी फिल्मी पारी शुरू करने जा रहे हैं. हर्षवर्धन अपनी पहली ही फिल्म में दोहरी भूमिका निभा रहे हैं, जिसे वह काफ़ी चुनौतीपूर्ण भी मानते हैं. राकेश ओमप्रकाश मेहरा के निर्देशन में बनी यह फिल्म पंजाबी लोककथा ‘मिर्ज़ा-साहिबान’ से प्रेरित है, लेकिन उससे बिल्कुल जुदा भी है.

हर्षवर्धन ने विशेष बातचीत में कहा कि यह फिल्म ‘मिर्ज़ा-साहिबान’ से अलग है. उन्होंने कहा, “राकेश सर ने मिर्ज़ा-साहिबान की कहानी से प्रेरित होकर यह फिल्म बनाई है, लेकिन इसे आज के ज़माने के हिसाब से पेश किया गया है. यह उस कहानी से एकदम अलग है, जो आपने पढ़ी या सुनी होगी.”

किसी मशहूर हस्ती के बच्चों की बॉलीवुड में एंट्री अमूमन आसान ही होती है, लेकिन हर्षवर्धन की राय इससे अलग है. उन्होंने इस फिल्म से जुड़ने की कहानी बताई, “मैं 2008 में फिल्म दिल्ली-6 के सेट पर राकेश ओमप्रकाश मेहरा से पहली बार मिला था. उन्होंने 2011 में मुझे बताया था कि गुलजार साहब मिर्ज़या की कहानी लिख रहे हैं. उन्होंने मुझे फिल्म में मुख्य किरदार निभाने को कहा, लेकिन इससे पहले मैंने ख़ुद को इस किरदार के लिए तैयार किया और 2013 में यह फिल्म करने का फैसला किया तो यह इतना आसान नहीं था.”

हर्षवर्धन ने इस फिल्म के लिए काफ़ी पसीना बहाया है. उन्होंने घुड़सवारी से लेकर पोलो खेलने तक तमाम तरह का प्रशिक्षण लिया है. इसके बारे में वह कहते हैं, “मैंने 18 महीने के लिए घुड़सवारी की, तीर चलाना, पोलो खेलना, रेत पर मोटरसाइकिल चलना सीखा. यह सब आसान नहीं था. इस फिल्म में मेरे दो किरदार भी हैं. मैंने खुद को शारीरिक और मानसिक रूप से इसके लिए तैयार किया.”

हर्षवर्धन अपनी पहली ही फिल्म में डबल रोल के अनुभव को शेयर करते हुए कहते हैं, “फिल्म में मेरे दोनों किरदार एकदम जुदा हैं. यह यकीनन चुनौतीपूर्ण था, लेकिन मेरे दिमाग़ में यही था कि अगर मैं इसे सही तरीक़े से निभा पाऊंगा तो इसे याद किया जाएगा. राकेश सर ने हमें शुरू में ही समझा दिया था कि यह फिल्म इस कहानी पर आधारित है, लेकिन उससे पूरी तरह जुदा है, इसलिए हमने मिर्ज़ा-साहिबान को ज्यादा नहीं पढ़ा.”

फिल्म की कहानी गुलज़ार साहब ने लिखी है. हर्षवर्धन कहते हैं, “गुलज़ार साहब ने कहानी लिखी है तो यकीनन यह फिल्म कविता की तरह है. मिर्ज़या एक म्यूज़िकल फिल्म है, जिसकी कहानी संगीत के जरिए आगे बढ़ती है.”

वह कहते हैं, “मैं मिर्ज़या की तरह प्यार करना चाहता हूं. यह सिर्फ एक प्रेम कहानी नहीं है, बल्कि यह आपको प्यार करना सिखाती है.”

हर्षवर्धन मिर्ज़या के बाद दो और फिल्में कर रहे हैं और वह अगले साल तक फिल्मों में ही व्यस्त हैं. यह पूछने पर कि वह किसी फिल्म को साइन करने से पहले किस चीज को अधिक महत्व देते हैं. इसके जवाब में उन्होंने कहा, “मेरे लिए फिल्म का निर्देशक कौन है, यह मायने रखता है, क्योंकि एक अच्छा निर्देशक औसत या खराब स्क्रिप्ट में जान फूंकने की हिम्मत रखता है, लेकिन अच्छी कहानी भी अच्छे निर्देशक के बगैर दम तोड़ देती है.”

हर्षवर्धन कहते हैं कि मिर्ज़या लोगों को प्यार करना सिखाएगी, इसलिए यह दर्शकों को खींचने में कामयाब ज़रूर होगी.

हर्षवर्धन का टशन, घायल होने के बाद भी जुटे प्रमोशन में (Harshvardhan Kapoor promotes ‘Mirzya’ despite injury)

5पापा जैसे हैं हर्षवर्धन कपूर. अनिल कपूर जैसे ही एनर्जेटिक, डेडिकेटेड और काम को लेकर एक्साइटेड. अब आप सोच रहे होंगे की हम इतनी तारीफ़ क्यों कर रहे हैं, तो आपको बता दें कि तारीफ़ के ही काबिल हैं हर्षवर्धन. घायल होने के बाद भी वो अपनी फिल्म मिर्ज़्या के प्रमोशन में कोई कमी नहीं रख रहे हैं. दरअसल, हर्षवर्धन ने मिर्ज़्या में ज़बरदस्त एक्शन सीन्स किए हैं. इन एक्शन सीन्स को शूट करते वक़्त हर्ष के सिर पर चोट लगी, जिसकी वजह से उन्हें वर्टिगो की तकलीफ़ हो गई है. चोट का सिलसिला यहींं ख़त्म नहीं हुआ इसी फिल्म का क्लाइमेक्स शूट करते वक़्त उनके कान पर भी चोट लगी, जिसकी वजह से उनकी सुनने की क्षमता पर भी असर हुआ और अब तक उनका इलाज भी चल रहा है. इन सब परेशानियों के बावजूद हर्षवर्धन जमकर जुटे हैं प्रमोशन करने में.

‘मिर्ज़या’ का टाइटल सॉन्ग रिलीज़-Mirzya

मिर्ज़ा-साहिबा की प्रेम कहानी पर बनी फिल्म मिर्ज़या(Mirzya) का टाइटल ट्रैक रिलीज़ हो गया है. अनिल कपूर के बेटे हर्षवर्धन कपूर और नई ऐक्ट्रेस श्यामी खेर इस फिल्म से डेब्यू करने जा रहे हैं. हर्षवर्धन ने ये गाना अपने टि्वटर एकाउंट पर शेयर भी किया है. फिल्म का ये टाइटल ट्रैक फिल्म की कहानी बयां कर रहा है. ये गाना गुलज़ार साहब ने लिखा, जिसे कंपोज़ किया है शंकर-एहसान-लॉय ने. मिर्ज़या 7 अक्टूूबर को रिलीज़ होगी.