Tag Archives: motivation

दोराहे (क्रॉसरोड्स) पर खड़ी ज़िंदगी को कैसे आगे बढ़ाएं? (Are You At A Crossroads In Your Life? The Secret To Dealing With Crossroads In Life)

हमारी ज़िंदगी (Life) में कई बार ऐसे मौ़के आते हैं, जब हमारे लिए निर्णय लेना मुश्किल हो जाता है. हम चाहकर भी समझ नहीं पाते कि अब क्या करें. ऐसी स्थिति में दोराहे (Crossroads) पर खड़ी ज़िंदगी को कैसे आगे बढ़ाएं? ज़िंदगी में जब निर्णय लेना मुश्किल हो जाए, तो ऐसी स्थिति से कैसे उबरें, दोराहे पर खड़ी ज़िंदगी को आगे बढ़ाने के कुछ आसान रास्ते बता रही हैं काउंसलिंग सायकोलॉजिस्ट डॉ. माधवी सेठ (Psychologist Dr. Madhavi Seth). डॉ. माधवी के अनुसार, इस स्थिति को सायकोलॉजी में कॉन्फ्लिक्ट कहते हैं. मॉडर्न सोशल सायकोलॉजी के फादर कहे जानेवाले कर्ट लुइन, जो एक सोशल सायकोलॉजिस्ट हैं, उन्होंने कॉन्फ्लिक्ट थ्योरी पर गहन अध्ययन किया है. कर्ट लुइन का कहना है कि कॉन्फ्लिक्ट हर किसी की ज़िंदगी में होते हैं. आप उनसे बच तो नहीं सकते, लेकिन सही फैसला लेकर या बीच का रास्ता निकालकर आप इन कॉन्फ्लिक्ट्स से बाहर ज़रूर निकल सकते हैं. माधवी सेठ से हमने दोराहे पर खड़ी ज़िंदगी से जुड़ी कुछ स्थितियां शेयर कीं, जिनका हल उन्होंने कुछ इस तरह बताया.

Crossroads In Life

1) समस्या: मेरी शादी को आठ साल हो गए हैं, हमारे दो बच्चे हैं. दो साल पहले तक तो सब ठीक था, लेकिन दो साल से मेरे पति का अपने ऑफिस की कलीग से अफेयर चल रहा है. मेरे पति कहते हैं कि अब वो स़िर्फ उसे ही प्यार करते हैं, उन्हें अब मुझमें कोई दिलचस्पी नहीं है. वो मुझसे तलाक़ चाहते हैं, लेकिन मैं उन्हें तलाक़ देकर आज़ाद नहीं घूमने देना चाहती. मेरे सास-ससुर मुझे बहुत प्यार करते हैं, लेकिन पति उनकी भी नहीं सुनते. सास-ससुर बच्चों के भविष्य के लिए चुपचाप सब कुछ सहने को कहते हैं, लेकिन मैं ये बात सहन नहीं कर पा रही हूं.
समाधान: आपकी जगह कोई भी महिला होती, तो वह पति का ऐसा व्यवहार सहन नहीं कर पाती. आप इस बारे में पति और सास-ससुर से खुलकर बात करें, उनसे बच्चों के भविष्य के बारे में डिस्कस करें. हो सके तो उस महिला से भी मिलें, जिससे पति का अफेयर चल रहा है. अगर ऐसा करने से स्थितियां सुधरती हैं, तो ठीक है, लेकिन इतना करने के बाद भी यदि आपके पति को आपका और बच्चों का ख़्याल नहीं आता, तो समझ लीजिए कि वो अपने नए रिश्ते में बहुत आगे निकल गए हैं. ऐसे में साथ रहने का कोई मतलब नहीं. आप एक बेवफ़ा इंसान के साथ ऐसे कितने दिनों तक एक छत के नीचे रह सकेंगी. बेहतर होगा कि आप अपने और बच्चों के भविष्य के बारे में सोचें और ज़िंदगी में आगे बढ़ें.

2) समस्या: मेरा बेटा एक रिलेशनशिप में नहीं रहता. वो कहता है कि मैं एक लड़की को बहुत दिनों तक डेट नहीं कर सकता. उसका बार-बार ब्रेकअप होता रहता है और उसे इसका दुख भी नहीं होता.
समाधान: आजकल के युवा रिलेशनशिप मेंटेनेंस की परवाह नहीं करते. ऐसी हरकत को इमोशनल डिनायल भी कह सकते हैं. ऐसे युवा भले ही अपने ब्रेकअप से दुखी हुए हों, लेकिन ये बात दूसरों पर ज़ाहिर नहीं होने देते, हर समय कूल दिखने की कोशिश करते हैं. जो युवा अपने इमोशन को दबा देते हैं, उन्हें ज़ाहिर नहीं करते, आगे चलकर वो डिप्रेशन के शिकार तक हो सकते हैं. कई बार ऐसे लोग आगे चलकर भावनाशून्य भी हो जाते हैं यानी उन पर किसी भी भावना का कोई असर नहीं होता, इसलिए बच्चों को अपनी भावनाएं स्वीकार करना सिखाएं, वरना आगे चलकर उन्हें रिलेशनशिप में बहुत द़िक्क़तें आ सकती हैं.

3) समस्या: मेरी शादी को पांच साल हो गए हैं और हमारा तीन साल का बेटा है. मेरे पति बिना ग़लती के बात-बात पर मुझ पर हाथ उठाते हैं और सास-ससुर भी उनका ही साथ देते हैं. मायके में शिकायत की, तो वो भी कहते हैं कि घर बचाने और बच्चे की ख़ातिर सहन कर लो, वरना तुम्हें कौन पालेगा. लेकिन मुझसे बार-बार ये बेइज़्ज़ती सहन नहीं होती.
समाधान: पति के हाथों बार-बार बिना ग़लती के मार खाना बहुत अपमानजनक है. आप कमाती नहीं हैं, तो इसका ये मतलब नहीं है कि आपकी कोई इज़्ज़त नहीं है. सबसे पहले तो आप स्वावलंबी बनने के लिए कोई काम शुरू कीजिए, इससे आपका आत्मविश्‍वास बढ़ेगा और आपके मन से अपने और बच्चे के भविष्य का डर निकल जाएगा. साथ ही पति और सास-ससुर से इस बारे में बात करें कि आप आगे से ये सब सहन नहीं करेंगी. अपने लिए आपको ख़ुद ही बात करनी होगी, ख़ुद ही आगे आना होगा.

यह भी पढ़ें: ख़ुश रहना है तो सीखें ये 10 बातें (10 Easy Things Successful People Do To Stay Happy)

 

4) समस्या: हमारा इकलौता बेटा अमेरिका में सेटल हो गया है, उसकी बीवी भी वहीं नौकरी करती है. वो चाहते हैं कि हम वहां उनके साथ रहें, लेकिन वहां हमारा अपना कोई नहीं है. हमारा वहां मन नहीं लगता. बेटे-बहू के बिना हमारा यहां भी मन नहीं लगता. इस तरह ज़िंदगी कैसे कटेगी, समझ नहीं आता.
समाधान: ऐसी स्थिति में पैरेंट्स को समझदारी से काम लेना चाहिए. आप बेटे-बहू का भविष्य ख़राब नहीं कर सकते, इसलिए आपको बीच का रास्ता निकालना चाहिए. ये सच है कि पूरी ज़िंदगी अपने देश में बिताने के बाद विदेश में रहना मुश्किल है, लेकिन अकेले रहना भी तो संभव नहीं. ऐसे में पैरेंट्स को विन-विन सिचुएशन अपनानी चाहिए यानी अपनी सुविधानुसार दोनों जगहों पर रहना चाहिए. आप चाहें तो त्योहारों के समय या सर्दियों में अपने देश में रह सकते हैं और गर्मियों में या फ्री टाइम में बेटे-बहू के साथ विदेश में रह सकते हैं. ऐसा करके आप बिज़ी भी रहेंगे और ख़ुश भी. ज़िद करके आप भी दुखी रहेंगे और आपके बच्चे भी. बच्चों की और अपनी सुविधानुसार समाधान निकाल लीजिए.

5) समस्या: हमारी शादी को एक साल हो गया है. अभी कुछ दिन पहले ही मेरी पत्नी ने मुझे बताया कि शादी से पहले उसका अफेयर था और ब्रेकअप के बाद से उन दोनों ने न कभी एक-दूसरे को फोन किया और न ही कभी एक-दूसरे से मिले. लेकिन पत्नी की पिछली ज़िंदगी का सच जानने के बाद मैं उसके साथ नॉर्मल व्यवहार नहीं कर पा रहा हूं. मुझे लगता है कि वो मन ही मन उसकी तुलना मुझसे करती होगी. मेरे साथ रहते हुए भी उसके ख़्यालों में वो ही रहता होगा. अब मैं अपनी पत्नी के साथ पहले की तरह बेहिचक नहीं रह पा रहा हूं.
समाधान: आप सबसे पहले अपनी पत्नी की जगह ख़ुद को रखकर देखिए. अगर आपके साथ ऐसा हुआ होता, तो आप क्या करते? आपकी पत्नी ने अपनी बीती ज़िंदगी के बारे में आपको ईमानदारी से सब कुछ बताया और अब वो बीती बातों को भूलकर ज़िंदगी में आपके साथ आगे बढ़ चुकी है. फिर आप क्यों उनकी पिछली ज़िंदगी के बारे में सोचकर अपना आज ख़राब कर रहे हैं. आप भी बीती बातों को भूल जाइए और अपनी शादीशुदा ज़िंदगी को ख़ुशनुमा बनाइए.

यह भी पढ़ें: अपने सपनों को पूरा कैसे करें? (How To Fulfill Your Dreams)

How To Deal With Crossroads In Life

6) समस्या: मेरे पापा का ऑटोमोबाइल का बिज़नेस है, लेकिन मैं फोटोग्राफी में करियर बनाना चाहता हूं. मेरे पापा ने अपने इस बिज़नेस को खड़ा करने में अपनी पूरी ज़िंदगी लगा दी, अब वो चाहते हैं कि मैं अपना पैशन छोड़कर उनका काम संभालूं, लेकिन मेरा बिज़नेस में ज़रा भी मन नहीं लगता. मुझे समझ नहीं आ रहा कि मैं क्या करूं.
समाधान: जहां तक करियर की बात है, तो ज़िंदगी का ये फैसला हमें ख़ुद ही लेना होता है. कई बार ऐसा भी होता है कि जिस काम को हम अपना पैशन समझते हैं, जब हम उसे करने बैठते हैं, तो समझ आता है कि ये मात्र हमारा शौक था, हम उस काम के लिए बने ही नहीं थे. आपको सबसे पहले अपने पैशन को पहचानना होगा. यदि फोटोग्राफी वाकई आपका पैशन है, तो आप उसके बिना नहीं रह पाएंगे. ऐसे में आप यदि बेमन से अपने पिता का बिज़नेस संभालेंगे, तो शायद उसे उस मुक़ाम तक न पहुंचा सकें, जहां आप अपने मनपसंद करियर को पहुंचा सकते हैं. आपको अपने पापा से इस बारे में बात करनी चाहिए और अपने पैशन के लिए काम करना चाहिए. आपके पापा अपने बिज़नेस को इसलिए इतना आगे बढ़ा पाए, क्योंकि ये उनका पैशन था. इसी तरह आपको अपने पैशन को ही करियर बनाना चाहिए.

7) समस्या: मैं एक हाउसवाइफ हूं. मेरा बचपन एक छोटे शहर में बीता. मेरी शादी मुंबई के लड़के से हुई, इसलिए शादी के बाद मैं यहां आ गई. मेरे पति और ससुराल वालों को लगता है कि मेरा रहन-सहन, बातचीत करने का तरीक़ा उन जैसा नहीं है. मेरे पति मुझे कहीं घुमाने-फिराने, पार्टी वगैरह में नहीं ले जाते. मुझे ये सब अच्छा नहीं लगता, इससे मेरा कॉन्फिडेंस कम होता जा रहा है.
समाधान: सबसे पहले इस बात पर ध्यान दें कि आपके पति या ससुरालवाले आपके साथ ऐसा व्यवहार क्यों कर रहे हैं. आपमें वाकई कमी है या वो आपको नीचा दिखाने के लिए ऐसा करते हैं. यदि आप में कमी है, तो आप अपनी पर्सनैलिटी को निखारने की कोशिश करें और यदि वो स़िर्फ आपको नीचा दिखाने के लिए ऐसा कर रहे हैं, तो उनसे इस बारे में बात करें और कहें कि आप ये सब सहन नहीं करेंगी.

8) समस्या: मेरी उम्र 30 साल है. मेरी प्रॉब्लम ये है कि मैं अफेयर तो कर लेता हूं, लेकिन जैसे ही बात शादी तक पहुंचती है, तो मैं डर जाता हूं और ब्रेकअप कर लेता हूं. मैं शादी की ज़िम्मेदारी लेने से डरता हूं.
समाधान: ये आपकी अकेले की प्रॉब्लम नहीं है, आजकल अधिकतर युवा कमिटमेंट फोबिया के शिकार हैं. वो अफेयर तो करना चाहते हैं, लेकिन शादी की ज़िम्मेदारी नहीं उठाना चाहते. कई लोग शादी तो कर लेते हैं, लेकिन बच्चे की ज़िम्मेदारी नहीं उठाना चाहते. ये आपको तय करना होगा कि यदि आपको सेटल्ड लाइफ चाहिए, तो आपको उसकी ज़िम्मेदारियां उठाने के लिए भी तैयार रहना होगा.

यह भी पढ़ें: क्या है आपकी ख़ुशी का पासवर्ड? (Art Of Living: How To Find Happiness?)

 

9) समस्या: मेरे शादी को पांच साल हो गए हैं. मेरा चार साल का बेटा है. कुछ समय पहले मेरे पति की अचानक एक्सीडेंट में मौत हो गई. अब मेरे ससुराल वाले चाहते हैं कि मैं अपने देवर से शादी कर लूं, लेकिन मेरा मन उसे अपना पति मानने को तैयार ही नहीं है. मैंने कभी अपने देवर को उस नज़र से देखा ही नहीं है. मुझे समझ नहीं आ रहा कि मैं क्या करूं.
समाधान: आपकी स्थिति में फैसला लेना वाकई मुश्किल होता है. पति को खोने का दर्द, बच्चे के भविष्य की चिंता, अपनी ज़िंदगी की फिक्र… आपके मन में न जाने कितनी उथल-पुथल मच रही होगी. यदि आप अभी फैसला नहीं ले पा रही हैं, तो ख़ुद को थोड़ा और टाइम दीजिए. किसी भी इंसान को अपनी ज़िंदगी में शामिल करने से पहले उसे मन से स्वीकार करना ज़रूरी होता है. यदि आप अपने देवर को पति के रूप में नहीं स्वीकार कर पाएंगी, तो उनके साथ ख़ुश नहीं रह पाएंगी इसलिए अपनी ज़िंदगी का फैसला सोच-समझकर लें, जिसमें आपकी और आपके बच्चे दोनों की ख़ुशी शामिल हो.

– कमला बडोनी

क्या रिश्ते स्वर्ग में बनते हैं? जानने के लिए देखें वीडियो:

ख़ुशहाल ज़िंदगी जीने के 5 आसान तरीके (5 Simple Ways To Live Life For Yourself)

यदि हम अपने आप से पूछें कि हमारे लिए ख़ुशी की क्या परिभाषा है, हमें किस बात से ख़ुशी मिलती है, क्या हम वाकई ख़ुश हैं? तो शायद हम अपने ही सवालों का जवाब नहीं दे पाएंगे. ऐसा नहीं है कि हमें जवाब पता नहीं, लेकिन हम उसे स्वीकारना नहीं चाहते, क्योंकि हम अपने लिए कम और दूसरों के लिए ज़्यादा जीते हैं. हम ख़ुद से ज़्यादा लोगों की परवाह करने में लगे रहते हैं. हमें क्या पसंद है, हम क्या चाहते हैं, इससे ज़्यादा हमें इस बात की परवाह रहती है कि लोग क्या कहेंगे? आइए, हम आपको बताते हैं ख़ुशहाल ज़िंदगी जीने के 5 आसान तरीके.

Ways To Live Life

क्या आप वाकई खुश हैं?
क्या आपने कभी ख़ुद से ये सवाल किया है कि आप अपनी ख़ुशी के नाम पर जो भी करते हैं, क्या उसमें वाकई आपकी ख़ुशी होती है? चाहे त्योहार हो या शादी-ब्याह ऐसे ख़ास मौक़ों पर अपने लिए कुछ ख़रीदते समय भी हम ये सोचते रहते हैं कि ये चीज़ लोगों को पसंद आएगी या नहीं. आप अपनी ख़ुशी के बारे में कम और दूसरों की ख़ुशी के बारे में ज़्यादा सोचते रहते हैं. कई बार दूसरों पर अपना इंप्रेशन जमाने के लिए हम अपने बजट से ज़्यादा ख़र्च तो कर देते हैं, लेकिन बाद में उसकी भरपाई करना हमें मुश्किल लगने लगता है. दूसरों के बारे में सोच-सोचकर हम अपने सुंदर-सरल जीवन को इतना जटिल बना देते हैं कि कई बार हम अपनी पहचान ही खो देते हैं. हम ये भूल जाते हैं कि हमें किस चीज़ से ख़ुशी मिलती है.

यह भी पढ़ें: अमीर और क़ामयाब बनना है तो सीखें ये आदतें (How To Become Rich And Successful)

 

ख़ुशहाल ज़िंदगी जीने के 5 आसान तरीके

1) सुबह उठते ही सबसे पहले मुस्कुराएं और कहें कि मैं अपना/अपनी फेवरिट हूं. फिल्म जब वी मेट में करीना कपूर का यह डायलॉग सच में इतना पावरफुल है कि ये आपको ख़ुशी और एनर्जी से भर देता है. यकीन मानिए, जो लोग ख़ुद से प्यार करते हैं, वो दूसरों को भी हमेशा ख़ुश देखना चाहते हैं इसलिए सबसे पहले ख़ुद से प्यार करें.

2) सच्ची ख़ुशी पाने के लिए वही करें जो आपको अच्छा लगता है, न कि जो लोग कर रहे हैं.

3) हमेशा बड़ों की तरह बर्ताव न करें, कभी-कभी बच्चों की तरह खिलखिलाकर हंसें, उछलकूद करें, बेपरवाह होकर नाचे-गाएं, दोस्तों के साथ घूमने जाएं, सड़क पर खड़े होकर चाट का लुत्फ़ उठाएं… ऐसी छोटी-छोटी बातों में ही ज़िंदगी की असली ख़ुशी छुपी होती है.

यह भी पढ़ें: मन की बात लिखने से दूर होता है तनाव (Writing About Your Emotions Can Help Reduce Stress)

 

4) समस्या या परेशानियां सभी के जीवन में आती हैं, लेकिन जीवन में क़ामयाब वही होते हैं, जो परेशानियों से डरते नहीं, बल्कि उनका हल निकालने के रास्ते तलाशते हैं. आप भी ऐसा ही करें, आपके सोचने से समस्या हल नहीं होगी, उसके लिए आपको समस्या से बाहर निकलने के रास्ते तलाशने होेंगे.

5) कभी भी किसी और से अपनी तुलना न करें. ईश्‍वर ने हम सबको अलग और स्पेशल बनाया है इसलिए अपनी ख़ूबियों को पहचानें और अपनी अलग पहचान बनाएं. आपको ईश्‍वर ने जो भी हुनर दिया है, उसे निखारने की हमेशा कोशिश करते रहें, ताकि आप अपनी ज़िंदगी में कभी भी बोर न हों.

सीखें प्यार की 5 भाषाएं, देखें वीडियो:

दूसरों का भला करें (Do Good Things For Others)

Do Good Things For Othersकहते हैं कि जो लोग दूसरों के लिए गड्ढा खोदते हैं, एक दिन वो ख़ुद उसी गड्ढे में गिर जाते हैं. ठीक वैसे ही जो व्यक्ति दूसरों का भला करता है, उसका भला स्वयं भगवान करते हैं, इसलिए यदि आप चाहते हैं कि आपका भला हो, तो अब से दूसरों का भला करने की कोशिश करें.

जो बोएंगे, वही पाएंगे ये बात हम सदियों से सुनते आ रहे हैं, फिर भी न जाने क्यों? हम बबूल का पेड़ उगाकर उससे मीठा फल पाने की इच्छा रखते हैं. तो आइए, इस बार अपने मन-आंगन में भलाई के बीज बोने का प्रयास करते हैं, ताकि स्वादिष्ट फल का सुख भोग सकें.

सज्जन व्यक्ति करते हैं दूसरों का भला

तरुवर फल नहिं खात है, सरवर पियहि न पान।
कहि रहीम पर काज हित, संपति संचहि सुजान॥

संत रहीम दास जी कहते हैं कि पेड़ पर फलने वाले फल का सेवन स्वयं पेड़ नहीं करते और न ही नदी में बहता पानी ख़ुद नदी पीती है. ठीक उसी तरह जो संत पुरुष होते हैं, वो ख़ुद के लिए नहीं बल्कि दूसरों के हित के लिए धन संचय करते हैं. अतः अगर आप चाहते हैं कि आपकी गिनती भी सज्जन व्यक्ति में की जाए, तो दूसरों का हित करने की कोशिश करें.

दूसरों का भला करने से होता है ख़ुद का भला
यह बात सोलह आने सच है कि दूसरों का भला करने से ख़ुद का भला होता है. इस बात को परिभाषित करने के लिए प्रस्तुत है संत रहीम दास जी की निम्न पंक्ति,

वे रहीम नर धन्य हैं, पर उपकारी अंग।
बांटनवारे को लगै, ज्यौं मेहंदी को रंग॥

अर्थात जो व्यक्ति स्वयं अपने हाथों से दूसरों को मेहंदी बांटता है, उसके हाथ में ख़ुद-ब-ख़ुद मेंहदी का रंग चढ़ जाता है, ठीक इसी तरह जो नर दूसरों का भला करता है, उसका भी भला होता है.

ऐसे व्यक्ति किसी काम के नहीं…..

बड़ा हुआ तो क्या हुआ जैसे पेड़ खजूर।
पंथी को छाया नहीं फल लागे अति दूर॥

अपार धन-संपत्ति होने के बावजूद जो लोग कभी किसी की मदद नहीं करते और न ही दूसरों के हित के बारे में सोचते, ऐसे लोग बिल्कुल खजूर के उस पेड़ की तरह हैं, जो गगन चुंबी होते हुए भी न किसी को फल का सुख देता है और न ही राहगिरों को छाया दे पाता है.

यह भी पढ़ें: ख़ुद पर भरोसा रखें (Trust YourSelf)

[amazon_link asins=’0091906385,9351772071,9332537925,8186775587′ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’e5715a33-c6b9-11e7-b35b-9521db670c83′]

क्या है आपकी ख़ुशी का पासवर्ड? (Art Of Living: How To Find Happiness?)

Art Of Living

ख़ुशी की कोई परिभाषा नहीं, कोई फॉर्मूला नहीं… हर किसी के लिए ख़ुशी के मायने अलग-अलग होते हैं. हां, एक बात सभी पर लागू होती है कि ख़ुश रहना सबके लिए ज़रूरी है. आपकी ख़ुशी का पासवर्ड क्या है?

Untitled collage

ताकि खिली रहे चेहरे पर मुस्कान
ज़िंदगी की भागदौड़, गलाकाट कॉम्पटीशन में अक्सर हम इतने उलझ जाते हैं कि अपनी छोटी-छोटी ख़ुशियों को भी नज़रअंदाज़ करने लगते हैं. कई बार तो ऐसा भी होता है कि हम ये तक भूल जाते हैं कि हमें ख़ुशी किस बात से मिलती है. ये वो संकेत हैं जब हम जाने-अनजाने कई बड़ी बीमारियों को न्योता दे रहे होते हैं. ऐसी स्थिति आने से पहले ही संभल जाना ज़रूरी है. हवा, पानी, भोजन की तरह ही ख़ुशी भी जीवन की खुराक है. इसके बिना आप हेल्दी लाइफ नहीं जी सकते. अतः अपनी अन्य ज़रूरतों की लिस्ट में ख़ुशी के लिए भी ख़ास जगह बनाएं और उसे अपने चेहरे से हटने न दें.

यूं बनाएं ख़ुशी का पासवर्ड
यदि आपको घूमने का शौक़ है और आप किसी ख़ास जगह घूमने जाना चाहते हैं, तो उसके लिए आज से ही थोड़ी-थोड़ी सेविंग करना शुरू कर दें. हर बार पैसे बचाते समय उस जगह के बारे में सोचकर ख़ुशी महसूस करें. फिर जब सेविंग हो जाए, तो टिकिट बुक करें और बुकिंग की तारीख़ या उस जगह के नाम को अपने मोबाइल या लैपटॉप का पासवर्ड बनाएं. फिर आप जब भी पासवर्ड टाइप करेंगे तो आपके चेहरे पर उस जगह पर जाने की ख़ुशी साफ़ झलकेगी. काम के बोझिल माहौल में भी आपकी ख़ुशी का पासवर्ड आपको रिफ्रेश कर देगा.

वजहें कई हैं 
यदि आप कोई महंगी ज्वेलरी ख़रीदना चाहती हैं, तो उसकी फोटो को अपने मोबाइल की डिसप्ले पिक्चर बनाएं. फिर जब भी आप अपना मोबाइल देखेंगी, तो अपनी पसंदीदा ज्वेलरी देखकर आपके चेहरे पर मुस्कान खिल जाएगी. ज्वेलरी की फोटो देखकर उसे ख़रीदने की उत्सुकता बढ़ेगी और आप बचत के लिए और तैयारी करने लगेंगी.

यह भी पढ़ें: हार से हारे नहीं… 

shutterstock_92469559
आज़माएं स्मार्ट ट्रिक्स
* वज़न घटाने के लिए स्लिम एंड सेक्सी पासवर्ड रख सकती हैं.
* घर ख़रीदने के लिए ड्रीम होम पासवर्ड रखें.
* पैरेंट्स बनना चाहते हैं तो माई बेबी शब्द का चुनाव कर सकते हैं.
* गाड़ी ख़रीदना चाहते हैं तो लॉन्ग ड्राइव शब्द को अपने लैपटॉप या मोबाइल का पासवर्ड बनाएं.

[amazon_link asins=’B0154B5PAY,B0030HNNS6,B00YSBV4D4,B01LSJPX5I’ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’364853a2-b7e6-11e7-823d-a9eb3c70fa74′][amazon_link asins=’B0154B5PAY,B0030HNNS6,B00YSBV4D4,B01LSJPX5I’ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’36e61a58-b7e6-11e7-92f5-571eb7944090′]

shutterstock_46558228

यह भी पढ़ें: शब्दों की शक्ति

छोटी-छोटी ख़ुशियां
ख़ुशी पाने के लिए महंगे होटल में खाना, इंटरनेशनल टूर आदि ज़रूरी नहीं हैं, छोटी-छोटी बातों से भी ख़ुशियां मिलती हैं. यकीन न हो तो आज़माकर देख लीजिए.
* दोस्तों से मिलने के लिए स्पेशल ओकेज़न का इंतज़ार न करें. हफ्ते या महीने में एक बार अपने दोस्तों से ज़रूर मिलें और हर वो काम करें जिससे आपको ख़ुशी मिलती है.
* बॉस ने आपको बिना वजह डांटा, लेकिन आप अपने बचाव में कुछ नहीं कह सके, तो काग़ज़-कलम उठाइए और अपने मन की भड़ास काग़ज़ पर उतार दीजिए. बॉस को जो भी कहना चाहते हैं, वो सब उस काग़ज़ पर लिख दीजिए और उस काग़ज़ को जला दीजिए. उसके बाद एक लंबी सांस लीजिए और खुलकर मुस्कुराइए. यकीन मानिए, आप बहुत हल्का महसूस करेंगे.
* लंबी छुट्टियों का इंतज़ार न करें, वीकेंड पर छोटी-सी ट्रिप प्लान करके भी आप ख़ुशी के पल जुटा सकते हैं.
* आपकी उम्र चाहे जो होे, अपने भीतर के बच्चे को कभी बड़ा न होने दें. उसे शरारतें करने दें, तभी आप ज़िंदगी की असली ख़ुशी महसूस कर सकेंगे.
* अपने शौक को कभी नज़रअंदाज़ न करें. डांस, स्पोर्ट्स, पेंटिंग… आपको जिस चीज़ का शौक हो, उसके लिए थोड़ा टाइम ज़रूर निकालें. इससे आपको कभी बोरियत नहीं महसूस होगी और आप ज़िंदगी से हमेशा प्यार करेंगे.
* ख़ुशी पाने से कहीं ज़्यादा ख़ुशी देने से संतुष्टि मिलती है इसलिए जीवन में ऐसे काम ज़रूर करें जिनसे आप दूसरों के चेहरे पर ख़ुशी बिखेर सकें. यक़ीन मानिए, उसकी ख़ुशी आपके चेहरे पर भी साफ़ नज़र आएगी.
– कमला बडोनी

अन्य मोटिवेशनल स्टोरीज़ पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें: Jeene ki kala (Motivational Stories)