Tag Archives: movie Review of hamare pyare prime minister

Movie Review: हामिद, फोटोग्राफ और मेरे प्यारे Prime Minister ( Movie Review of Hamid, Photograph and mere pyare Prime Minister)

hamid Movie Review

फिल्मः हामिद 
निर्देशकः एजाज़ ख़ान
कलाकारः रसिका दुग्गल, विकास कुमार
रेटिंगः 4 स्टार

hamid Movie Review

हामिद कश्मीर के मुद्दों पर बनी संवेदनशील फिल्म है जो अलगाववाद, गायब हो जाते लोग, सेना के घाटी में दबाव, घाटी के रहनेवालों की स्थिति, पाकिस्तान और आतंकवादी संगठनो की घाटी में सक्रियता और पत्थरबाज़ी के विषयों को छूकर निकलती है.

कहानीः सात साल के बच्चे हामिद (ताल्हा अरशद रेहशी) के पिता रहमत (सुमित कौल) एक रात घर से निकलते हैं तो वो वापस घर नहीं लौटते. सालभर अपने पति को खोजती इशरत (रसिका दुग्गल) अपना सब कुछ भूल चुकी है. यहां तक की अपने बेटे हामिद की भी वो सुधबुध नहीं लेती. हामिद को पता चलता है कि उसके पिता अल्लाह के पास हैं और अब वह अल्लाह से अपने पिता को वापस लाने की जुगत लगाने लगता है. तभी उसे ये भी बताया जाता है कि 786 अल्लाह का नंबर है. हामिद जब अपनी बाल बुद्धि के बल पर किसी तरह उस नंबर को दस डिजिट में बदलकर अल्लाह को कॉन्टैक्ट करता है, तो वह नंबर सीआरपीएफ के जवान अभय (विकास कुमार) को लग जाता है. अपने परिवार से दूर कश्मीर में ड्यूटी पर तैनात अभय स्वयं अपने ऐसे कृत्य के अपराधबोध से दबा हुआ है, जहां अनजाने में उसके हाथों एक मासूम की जान जा चुकी है और वह उस बोझ को कम नहीं कर पा रहा है. इसके बाद की कहानी जानने के लिए आपको यह फिल्म देखनी होगी.

खूबियांः हामिद के कुछ दृश्य बेहद संवेदनशील हैं. सेना के जवानों का एक आम कश्मीरी को रोकना, एक पिता का मजबूरी में बाहर जाना, अलगाववादियों का बचपन से ही कश्मीरी बच्चों पर निगाह रखना, मां का अपने बेटे से पैसे मांगना इत्यादि. छोटे छोटे दृश्यों में ये फिल्म आपको छू लेती है लेकिन बार बार फिल्म की धीमी गति इसकी पकड़ बनने नहीं देती.

खामियांः फिल्म की एक सबसे बड़ी समस्या है इसकी लंबाई. फर्स्ट हाफ बहुत खिंचा हुआ लगता है, मगर जैसे ही हामिद की कॉल अल्लाह उर्फ अभय को लगती है, कहानी दौड़ने लगती है. फिल्म की एडिटिंग कसी हुई होती, तो फिल्म का फर्स्ट हाफ भी मजबूत बन सकता था. मसाला फिल्मों के शौक़ीनों को यह फिल्म थोड़ी स्लो लग सकती है.

फिल्मः फोटोग्राफ
निर्देशकः रितेश बन्ना
कलाकारः नवाज़ुद्दीन सिद्दिकी, सान्या मल्होत्रा
रेटिंग- 2 स्टार

रितेश बत्रा की फ़िल्म  फोटोग्राफ एक फोटोग्राफ़र रफ़ीक की कहानी है, जो मुंबई के गेटवे ऑफ़ इंडिया में लोगों की तस्वीर खींचकर पैसे कमाता है. एक दिन वो एक यंग लड़की मिलोनी (सान्या मल्होत्रा) को तस्वीर खिंचवाने के लिए राज़ी करता है.  कुछ ऐसा होता है कि रफ़ीक मिलोनी को अपनी दादी से अपनी मंगेतर के तौर पर मिलवाता है. अलग धर्म, अलग रंग, रूप और अलग पढ़ाई होने के बाद दोनों को ये एहसास होने लगता है कि दोनों में बहुत कुछ एक जैसा है. दोनों का नेचर और इमोशन छिपाने का तरीक़ा भी एक जैसा है. इन दोनों की केमिस्ट्री और प्यार के ठंडे एहसास तले ये फ़िल्म चलती है.


फिल्म- मेरे प्यारे प्राइम मिनिस्टर 
स्टारकास्ट: अंजलि पाटिल, अतुल कुलकर्णी, मकरंद देशपांडे 
निर्देशक: राकेश ओम प्रकाश मेहरा
रेटिंगः  3.5 स्टार

यह फिल्म में खुले में शौच के साथ पैदा होने वाली गंभीर समस्या की ओर इशारा करती है. जिसमें महिला सुरक्षा की बात को प्रमुखता से उठाया गया है. ‘रंग दे बसंती’ और ‘भाग मिल्खा भाग’ जैसी शानदार फिल्में बनाने वाले डायरेक्टर राकेश ओमप्रकाश मेहरा  ने इस बार इस टॉपिक को उठाया है. फिल्म अपनी बात को काफी प्रभावी ढंग से कहती है. फिल्म की कहानी है घाटकोपर की झोपड़ी में रहने वाले एक मां-बेटे की. मां दिनभर कढ़ाई का काम करती है और उसका छोटा बेटा पूरे स्लम में उधम मचाता रहता है. वह पढ़ाई भी करता है . इस बस्ती की एक ही समस्या है.  वहां कोई शौचालय नहीं है। इतनी बड़ी बस्ती के लोग ट्रेन की पटरियों पर लाइन में शौच के लिए जाते हैं और सबसे बड़ी समस्याएं महिलाओं को होती है जो आधी रात या अलसुबह अंधेरे इस काम को अंजाम देती हैं. ऐसे में अंजलि जब वह शौच के लिए जाती है तो उसके साथ यौन दुष्कर्म हो जाता है. इसके बाद वो बच्चा अपनी मां के लिए किस तरह टॉयलेट बनवाने के लिए संघर्ष करता है. फिल्म में यही दिखाया गया है.

ये भी पढ़ेंः हम दोस्त नहीं हैः एरिका के साथ झगड़े पर हिना ख़ान का बयान