Tag Archives: Mumtaz

सोनाली बेंद्रे ही नहीं, इन 5 सितारों को भी कैंसर ने बनाया था अपना शिकार (Not Only Sonali Bendre, These 5 celebs also diagnosed with cancer)

अभिनेत्री सोनाली बेंद्रे (Sonali Bendre) को हाई ग्रेड कैंसर हुआ है और वो अपना इलाज न्यूयॉर्क में करवा रही हैं. सोनाली के साथ इस मुश्किल घड़ी में बॉलीवुड के तमाम सितारे खड़े हैं और उनके जल्द ही स्वस्थ होने की दुआ मांग रहे हैं. हालांकि सोनाली ऐसी पहली एक्ट्रेस नहीं हैं, जो कैंसर से ज़िंदगी की जंग लड़ रही हैं. उनके अलावा बॉलीवुड के कुछ और सितारे भी हैं, जिन्होंने कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी को मात देकर ज़िंदगी की जंग जीती है. चलिए आपको मिलवाते हैं ऐसे ही 5 सितारों से, जो कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी के शिकार हो चुके हैं.

5 celebs diagnosed with cancer

इरफान खान 

कुछ समय पहले ही एक्टर इरफान खान ने ट्वीट करके फैंस को जानकारी दी थी कि वो एंडोक्राइन ट्यूमर से पीड़ित हैं. बता दें कि वो बीते कुछ महीनों से लंदन में अपना इलाज करा रहे हैं. हालांकि उन्होंने इस बीमारी के डाइग्नोज़ होते ही, इससे लड़ने का फ़ैसला किया. फैंस और बॉलीवुड के तमाम सितारे इरफान के जल्द ही स्वस्थ होने की कामना कर रहे हैं.

Irfan Khan

मनीषा कोइराला 

एक्ट्रेस मनीषा कोइराला को साल 2012 में पता चला था कि वो ओवरी  कैंसर से पीड़ित हैं, लेकिन उन्होंने इस ख़तरनाक बीमारी से लड़ने का फ़ैसला किया और अपना इलाज कराने के लिए न्यॉयॉर्क चली गईं. बता दें कि मनीषा ने साल 2014 में इस बीमारी को मात देते हुए इससे पूरी तरह से मुक्ति पा ली है. अब मनीषा बिल्कुल स्वस्थ हैं.

Manisha Koirala

मुमताज

बीते दौर की मशहूर अभिनेत्री मुमताज भी कैंसर की शिकार हो चुकी हैं. 54 साल की उम्र में मुमताज को ब्रेस्ट कैंसर हो गया था और उन्हें इसके बारे में बहुत देर से पता चला, बावजूद इसके उन्होंने इस बीमारी से लड़ने की ठान ली. बता दें कि कीमोथेरेपी की वजह से उनकी हालत बहुत ख़राब हो चुकी थी. उनके सारे बाल उड़ गए थे, ऐसे में उन्हें घर से बाहर निकलने में भी डर लगता था, लेकिन उन्होंने इस बीमारी को मात देते हुए ज़िंदगी की जंग जीत ली.

Mumtaz

लीजा रे 

बॉलीवुड की कई फिल्मों में काम कर चुकी विदेशी एक्ट्रेस लीजा रे को साल 2009 में कैंसर ने अपनी गिरफ्त में ले लिया था. उन्हें मल्टीपल मायलोमा था, जो व्हाइट ब्लड सेल्स की एक घातक बीमारी है, जिससे बचने की गुंज़ाइश न के बराबर होती है, लेकिन लीजा ने हिम्मत नहीं हारी और इस बीमारी को मात देने में कामयाबी रहीं.

Lisa Ray

अनुराग बासु 

बॉलीवुड के मशहूर डायरेक्टर अनुराग बासु भी साल 2004 में ब्लड कैंसर के शिकार हो चुके थे, लेकिन हैरत की बात तो यह है कि इस बीमारी के डाइग्नोज़ होने के बाद डॉक्टर ने उन्हें बताया था कि उनके पास सिर्फ़ 2 महीने की मोहलत है. बावजूद इसके उन्होंने अपने हौसले के दम पर इस बीमारी को मात दी. बता दें कि क़रीब 3 साल तक कीमोथेरेपी लेने के बाद वो स्वस्थ होकर काम पर लौटे थे.

Anurag Basu

यह भी पढ़ें: Shocking: सोनाली बेंद्रे को कैंसर, न्यूयॉर्क में चल रहा है इलाज़

 

 

 

बर्थडे स्पेशल: मुमताज़ पर फ़िदा थे शम्मी कपूर (Happy Birthday Mumtaz)

Happy Birthday Mumtaz

‘गोरे रंग पे न इतना गुमान कर… गाना गुज़रे ज़माने की जिस मशहूर अदाकारा पर फिल्माया गया था, वह हैं मुमताज़. मुमताज़ ने अपनी बड़ी-बड़ी आंखों, काले बाल, गोरे रंग और अभिनय की अनोखी अदा से सभी पर अपना जादू बिखेरा. उन्होंने 60-70 के दशक में अपने ख़ूबसूरत अंदाज़ से दर्शकों को अपना दीवाना बना दिया था.
मुमताज़ का नाम बॉलीवुड की बेहतरीन अभिनेत्रियों में शुमार है. उन्होंने कई फिल्मों में अपने अभिनय के जलवे बिखेरे और एक के बाद एक कई हिट फिल्में दीं.
उनका जन्म 31 जुलाई, 1947 को मुस्लिम परिवार में हुआ. घर की माली हालत खस्ता थी, सो महज़ 12 वर्ष की उम्र में उन्हें फिल्मों में कदम रखना पड़ा. अपनी छोटी बहन मलिका के साथ वह रोज़ाना स्टूडियो के चक्कर लगाया करतीं और छोटी-मोटी भूमिका मांगती थीं.

उनकी मां नाज़ और चाची नीलोफर पहले से फिल्मी दुनिया में मौजूद थीं, लेकिन दोनों जूनियर आर्टिस्ट होने के नाते अपनी बेटियों की सिफारिश करने के योग्य नहीं थीं. मुमताज़ ने जूनियर आर्टिस्ट से स्टार बनने का सपना अपने मन में संजोया था और उन्होंने यह सच कर दिखाया.
अपनी लगन और मेहनत से 70 के दशक में उन्होंने स्टार की हैसियत हासिल कर ली. उस दौर के कई नामी सितारे, जो कभी मुमताज़ का नाम सुनकर मुंह बनाते थे, वे भी उनके साथ काम करने को बेताब रहने लगे.
मुमताज़ ने दारा सिंह से लेकर दिलीप कुमार जैसे महान कलाकारों के साथ अभिनय किया. उन्होंने शम्मी कपूर, देवानंद, संजीव कुमार, जितेंद्र और शशि कपूर जैसे सितारों के साथ काम किया, मगर राजेश खन्ना के साथ उनके काम को सबसे ज़्यादा सराहा गया. मुमताज़ और राजेश की फिल्में देखने के लिए सिनेमाघरों में भीड़ उमड़ती थी.

यह भी पढ़ें: हैप्पी बर्थडे सोनू निगम

  संजय दत्त हुए 58 के, किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं है उनकी लाइफ, देखें उनके अनदेखे पिक्चर्स 

मुमताज़ ने लगभग दस साल तक बॉलीवुड पर राज किया है. वह शर्मिला टैगोर के समकक्ष मानी गईं और उन्हें मेहनताना भी उन्हीं के बराबर मिलता था.
सत्तर के दशक तक मुमताज़ का भी स्टार बनने का सपना सच हो गया था. उन्होंने गुजराती मूल के लंदनवासी मयूर वाधवानी नामक व्यवसायी से 1974 में शादी की और ब्रिटेन में जा बसीं. शादी के पहले उनका नाम संजय खान, फिरोज़ खान, देव आनंद जैसे कुछ सितारों के साथ जोड़ा गया था.
मुमताज़ जब 18 साल की थीं, तभी शम्मी कपूर ने उन्हें शादी के लिए प्रपोज़ किया था. उस समय मुमताज़ भी शम्मी से प्यार करती थीं. शम्मी चाहते थे कि मुमताज़ अपना फिल्मी करियर छोड़कर उनसे शादी कर लें, लेकिन उनके लिए उस समय अपने परिवार को संभालना ज़रूरी थी, इसलिए मुमताज़ ने इनकार कर दिया.शादी के बाद भी मुमताज़ की तीन फिल्में रिलीज़ हुईं, जिनकी शूटिंग उन्होंने शादी से पहले ही पूरी कर ली थी. फिल्मों के प्रस्ताव हालांकि उन्हें शादी के बाद भी मिलते रहे. उन्हें 53 साल की उम्र में ब्रेस्ट कैंसर हो गया था, जिसे उन्होंने मात दी.
साल 1967 की फिल्म राम और श्याम व 1969 की फिल्म आदमी और इंसान के लिए फिल्मफेयर बेस्ट सपोर्टिग एक्ट्रेस का अवार्ड जीता. साल 1971 में उन्हें खिलौना के लिए फिल्मफेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का पुरस्कार मिला था.

मेरी सहेली की ओर से मुमताज़ को उनके जन्मदिन पर ढेरों शुभकामनाएं. 

बॉलीवुड और टीवी से जुड़ी और ख़बरों के लिए क्लिक करें.