Tag Archives: Myths

कंडोम से जुड़े 10 Interesting मिथ्स और फैक्ट्स (10 Interesting Myths And Facts Related To Condoms)

यह सच है कि आज भी समाज में सेक्स और सुरक्षित यौन संबंधों को लेकर ज़्यादा बात नहीं होती और न ही इसे अधिक तवज्जो दी जाती है, जिसके परिणाम गंभीर हो सकते हैं और होते भी हैं. दरअसल, लोगों में आज भी कंडोम को लेकर बहुत-सी भ्रांतियां और ग़लतफ़हमियां हैं, जिन्हें दूर करना ज़रूरी है, ताकि आप सुरक्षित यौन संबंध बना सकें और कई तरह के यौन रोगों से बचे रहें.

Myths And Facts Related To Condoms

1. दो कंडोम एक साथ यूज़ करना ज़्यादा सुरक्षित रहता है.

ये सबसे बड़ी ग़लतफ़हमी है. एक साथ दो कंडोम का इस्तेमाल करने से आपको किसी भी तरह से अधिक सुरक्षा नहीं मिलेगी, बल्कि उससे असुविधा अधिक होगी. बेहतर होगा एक ही कंडोम यूज़ करें.

2. अगर मेरी पार्टनर कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स ले रही है, तो कंडोम यूज़ करना ज़रूरी नहीं.

कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स आपको अनचाहे गर्भ से कुछ हद तक सुरक्षा प्रदान तो करती हैं, लेकिन सेक्सुअली ट्रान्समिटेड डिसीज़ से नहीं. बेहतर होगा कि सुरक्षित यौन संबंधों के लिए कंडोम भी यूज़ करें.

3. कंडोम से मेरी सेंसिटिविटी कम हो जाती है और सेक्स सुख उतना अधिक नहीं मिल पाता.

यह महज़ एक ग़लत धारणा है. कंडोम से आपकी सेक्सुअल क्रिया अपेक्षाकृत लंबी चल सकती है. आजकल अलग-अलग फ्लेवर्स और प्रकार के कंडोम उपलब्ध हैं, आपको अपनी सुविधानुसार सही कंडोम सिलेक्ट करना है.

4. कंडोम आसानी से फट जाते हैं.

नहीं, आपको स़िर्फ उन्हें सही ढंग से पहनने की ज़रूरत है. पहनते व़क्त यह ध्यान रहे कि टिप पर कोई एयर बबल न हो.

5. कंडोम्स की एक्सपायरी डेट नहीं होती.

जी नहीं, उनकी भी एक्सपायरी डेट होती है. आप पैकेट पर तारीख़ चेक करें और एक्सपायर्ड कंडोम यूज़ न करें, क्योंकि उससे खुजली, जलन, रैशेज़ जैसी समस्या हो सकती है. वो फट सकता है, क्योंकि उसकी फ्लैक्सीबिलिटी और इलास्टिसिटी ख़त्म हो चुकी होती है.

यह भी पढ़ें: पार्टनर को रोमांचित करेंगे ये 10 हॉट किसिंग टिप्स

6. एक्स्ट्रा लुब्रिकेशन की ज़रूरत होती है कंडोम के साथ.

कंडोम्स लुब्रिकेटेड ही होते हैं, लेकिन यदि आप और लुब्रिकेशन चाहते हैं, तो वॉटर या सिलिकॉन बेस्ड लुब्रिकेंट्स ही यूज़ करें, क्योंकि ऑयल बेस्ड लुब्रिकेंट्स से कंडोम फट सकता है. दरअसल ऑयल में कंडोम का रबर घुलने लगता है, जिससे वो फट सकता है.

7. लैटेक्स एलर्जी आपको कंडोम के इस्तेमाल से रोकती है.

लैटेक्स एलर्जी आपको अनप्रोटेक्टेड सेक्स करने के लिए बाध्य नहीं कर सकती. नॉन लैटेक्स कंडोम भी बाज़ार में मिलते हैं. आप इनके बारे में पता करें और यूज़ करें.

8. ओरल या ऐनल सेक्स के लिए कंडोम यूज़ करना ज़रूरी नहीं.

बहुत-सी सेक्सुअल बीमारियां और इंफेक्शन्स ओरल व ऐनल सेक्स से भी फैलते हैं, इसलिए कंडोम को नज़रअंदाज़ न करें.

9. कंडोम ख़रीदने के लिए आपको 18 साल का होना ज़रूरी है.

आप किसी भी उम्र में कंडोम ख़रीद सकते हैं. इसके लिए उम्र की बंदिश नहीं है.

10. मैं स़िर्फ अच्छे और डीसेंट पार्टनर के साथ ही सेक्स करता/करती हूं, जिसमें कंडोम यूज़ करने की ज़रूरत नहीं.

आप किसी को देखकर या महज़ अनुमान लगाकर यह पता नहीं लगा सकते कि उसकी सेक्स लाइफ कैसी है और वो किन-किन लोगों के साथ सेक्स कर चुका है. बेहतर होगा यौन रोगों से सुरक्षित रहने के लिए कंडोम यूज़ करें और महिलाएं भी अपने पार्टनर से बेझिझक कंडोम यूज़ करने को कहें.

– योगिनी भारद्वाज

यह भी पढ़ें:  नहीं जानते होंगे आप ऑर्गैज़्म से जुड़ी ये 10 बातें

यह भी पढ़ें: ओरल सेक्स से जुड़े 5 मिथ्स और फैक्ट्स

ओरल सेक्स से जुड़े 5 मिथ्स और फैक्ट्स (Myths & Facts Related To Oral Sex)

Oral Sex

ओरल सेक्स से जुड़े 5 मिथ्स और फैक्ट्स

Oral Sex

मिथ 1: ओरल सेक्स करनेवाले वर्जिन नहीं रहते?

फैक्ट: सेक्स का नाम सुनते ही लोगों को लगता है कि सेक्स से जुड़ा कुछ भी करो, आपकी वर्जिनिटी चली जाएगी, जबकि ऐसा है नहीं. जब आपके सेक्सुअल ऑर्गन्स एक-दूसरे से मिलते हैं, तब वर्जिनिटी जाती है. दूसरे शब्दों में कहें, तो वर्जिनिटी के लिए फिज़िकल पेनिट्रेशन ज़रूरी है. एक्सपर्ट कहते हैं कि इससे आपकी वर्जिनिटी तो नहीं जाएगी, पर हां आप इमोशनल वर्जिनिटी ज़रूर खो सकते हैं.

मिथ 2: ओरल सेक्स हमेशा अनहाइजीनिक होता है.

फैक्ट: हाइजीन व्यक्ति विशेष पर निर्भर करता है. अगर आप और आपका पार्टनर साफ़-सफ़ाई का ध्यान रखते हैं, तो आपको यह सोचने की ज़रूरत नहीं है. यह प्रॉब्लम वहां आती है, जहां एक से ज़्यादा पार्टनर्स होते हैं. एक्सपर्ट कहते हैं कि अपने प्राइवेट पार्ट्स को हमेशा साफ़-सुथरा रखें. ओरल सेक्स से पहले और बाद में अपने प्राइवेट पार्ट्स को क्लीन करें. शाम को घर लौटने पर शावर लें. आपकी फ्रेशनेस आपके रिश्ते को भी फ्रेश रखेगी.

मिथ 3: ओरल सेक्स से कभी ऑर्गैज़्म नहीं मिलता.

फैक्ट: ओरल सेक्स फोरप्ले की तरह होता है, पर इसमें पूरी संभावना रहती है कि पार्टनर्स को ऑर्गैज़्म मिले. ख़ासतौर से महिलाओं के ऑर्गैज़्म के चांसेस इसमें ज़्यादा होते हैं. इसलिए ऐसा बिल्कुल न सोचें कि आप इससे वंचित रह जाएंगे, इसलिए इसे करने का कोई फ़ायदा नहीं.

मिथ 4: ओरल सेक्स से सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिसीज़ के चांसेज़ नहीं होते.

फैक्ट: ऐसा बिल्कुल भी नहीं है, क्योंकि ओरल सेक्स के दौरान एक-दूसरे के बॉडी फ्लूइड एक्सचेंज होते हैं, जो इंफेक्शन का कारण बन सकता है. एक्सपर्ट्स के मुताबिक इसमें इंफेक्शन की संभावना अधिक रहती है, इसलिए प्रिकॉशन लेना बहुत ज़रूरी है. इसमें सबसे ज़्यादा बुरी बात जो है, वो यह कि ये इंफेक्शन्स आपके चेहरे पर साफ़ दिखाई देते हैं यानी ओरल इंफेक्शन्स हो सकते हैं.

मिथ 5: ओरल सेक्स में कंडोम की ज़रूरत नहीं.

फैक्ट: यह बहुत आश्‍चर्य की बात है कि मार्केट में फ्लेवर्ड कंडोम की बहुत सारी रेंज आ गई है, बावजूद इसके लोगों को इसकी जानकारी है. एक्सपर्ट कहते हैं कि कंडोम के फ्लेवर्ड लुब्रिकेंट को लेकर ज़्यादातर महिलाओं में यह झिझक रहती है कि कहीं उसका लुब्रिकेंट उनकी सेहत के लिए नुक़सानदायक हो सकता है. जबकि उन्हें यह समझना चाहिए जो चीज़ ओरल सेक्स में सुरक्षा के लिहाज़ से ही बना हो, भला उसमें क्या प्रॉब्लम हो सकती है.

यह भी पढ़ें: 7 तरह के सेक्सुअल पार्टनरः जानें आप कैसे पार्टनर हैं