Tag Archives: Natural Home Remedies

पेट संबंधी समस्याओं के घरेलू उपचार (Natural Home Remedies For Abdominal Pain)

 

Stomach Problems
पेटदर्द के घरेलू नुस्ख़े
* आधा टीस्पून सेंधा नमक और एक टीस्पून अजमोद का चूर्ण खाने से पेट की पीड़ा तुरंत शांत हो जाती है.
* एक टीस्पून इमली की कोमल पत्तियों को पीसकर उसमें आधा टीस्पून सेंधा नमक मिलाकर पीने से पेटदर्द से छुटकारा मिलता है.
* हींग या काला नमक डालकर गर्म किया हुआ तेल पेट पर मलने या सेंक करने से पेटदर्द ठीक हो जाता है.
* मूली के रस में नींबू का रस मिलाकर पीने से भोजन के बाद पेट में होनेवाले दर्द से छुटकारा मिलता है.

पेट में मरोड़ होने पर
* गाय का दूध और पानी समभाग में लेकर उबालिए. जब पानी जल जाए और केवल दूध रह जाए, तो उसे उतारकर पीने से पेट के मरोड़ से छुटकारा मिलता है. यह नुस्ख़ा पेचिश में भी लाभदायक है.
* ताज़ा छाछ में बेल का पल्प मिलाकर पीने से मरोड़ से राहत मिलती है.
* मेथी का चूर्ण दही में मिलाकर खाने से पेट की मरोड़ का शमन होता है.
* मेथी की सब्ज़ी के रस में काली किशमिश मिलाकर पीने से भी मरोड़ दूर हो जाता है.

ये भी पढें: ज्वाइंट पेन के लिए होम रेमेडीज़

पेट में भारीपन होने पर
* चने का रस 5 से 10 बूंद दो से तीन बार दो-दो घंटे पर लेने से पेट का भारीपन मिटता है.
* 1-1 टेबलस्पून किशमिश और सौंफ को आधा लीटर पानी में भिगोकर रख दीजिए. सुबह उसे मसल व छानकर उसमें 3 टीस्पून शक्कर मिलाकर कुछ दिनों तक पीने से पेट का भारीपन दूर हो जाता है.

जी मिचलाने पर
* जी मिचलाने का संबंध पेट की ख़राबी से होता है. 50 ग्राम चावल को एक ग्लास पानी में एक घंटे तक भिगोकर रखिए. उसके बाद पानी को निथारकर पीने से जी मिचलाना बंद हो जाता है.
* इलायची के दानों का आधा टीस्पून चूर्ण अनार के शर्बत में मिलाकर पीने से मिचली का शमन होता है.
* जायफल को चावल के धोवन में घिसकर पीने से जी मितलाने के विकार का शमन होता है.
* नींबू को काटकर उसके फांकों पर शक्कर छिड़ककर चूसने से मितली से छुटकारा मिलता है.

ये भी पढें: पेट संबंधी समस्याएं- घरेलू उपाय

पेट में जलन होने पर
* अजवायन और नमक पीसकर उसकी फंकी लेने से पेट की जलन का शमन होता है.
* 10-10 ग्राम धनिया और जीरा लेकर उन्हें अधकुटा कर लीजिए और उसे पाव लीटर पानी में रात को भिगोकर रख दीजिए. सुबह उसे मसल-छानकर व उसमें शक्कर डालकर चार-छह दिन तक पीने से पेट की जलन शांत होती है.
* अजवायन को तवे पर भूनकर उसमें समभाग में सेंधा नमक मिलाकर चूर्ण बना लें. एक टीस्पून यह चूर्ण गर्म पानी के साथ लेने से पेट की जलन मिटती है.
* धनिया और शक्कर का शर्बत बनाकर पीने से भी पेट की जलन दूर हो जाती है.

सुपर टिप
दो चम्मच नींबू का रस, एक चम्मच अदरक का रस व थोड़ी-सी शक्कर मिलाकर पीने से हर प्रकार का पेट का दर्द दूर होता है.

– मूरत गुप्ता

दादी मां के अन्य घरेलू नुस्ख़े/होम रेमेडीज़ जानने के लिए यहां क्लिक करें- Dadi Ma Ka Khazana

[amazon_link asins=’B001MA23Z2,B01BSQ9K8M,B0144OZUMK’ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’408ef53a-b4aa-11e7-9534-2f8904e46af7′]

 

ब्यूटी प्रॉब्लम्स: क्या कंप्यूटर के सामने ज़्यादा बैठने से आंखों को नुकसान हो रहा है? (Beauty Problems: Protect Your Eyes While Work On Computer)

कम्प्यूटर के सामने ज्यादा बैठने के नुकसान और उपचार

मैं वर्किंग वुमन हूं. ऑफ़िस में कंप्यूटर पर ज़्यादा देर काम करने के कारण मेरी आंखें लाल हो जाती हैं और आंखों में जलन व खुजली होने लगती है. कृपया, बताएं कि आंखों की सही देखभाल के लिए मुझे क्या करना चाहिए?
– शिखा मेहरा, मुंबई

कम्प्यूटर के सामने ज्यादा बैठने के नुकसान और उपचार

आंखें हमारे शरीर का बहुत ही महत्वपूर्ण और संवेदनशील हिस्सा हैं इसलिए इनकी सही देखभाल बेहद ज़रूरी है. आंखों को स्वस्थ बनाए रखने के लिए निम्न बातों का ध्यान रखें:
* कंप्यूटर पर काम करते समय स्क्रीन पर लगातार न देखें. 20 से 30 मिनट के अंतराल पर स्क्रीन से नज़रें हटा लें, इससे आंखों को आराम मिलेगा.
* नियमित अंतराल पर आंखों पर ठंडे पानी के छीटें मारती रहें.
* आंखों में जलन या खुजली होने पर मलने या रगड़ने की भूल न करें. डॉक्टर की सलाह लेकर आई ड्रॉप का इस्तेमाल करें.
* चेहरा धोने के लिए माइल्ड सोप या केमिकल फ्री फेसवॉश का इस्तेमाल करें.
* आंखों के आस-पास की त्वचा बेहद नाज़ुक होती है, ज़रा-सी भी लापरवाही से झुर्रियां व डार्क सर्कल की समस्या हो सकती है.
* डार्क सर्कल व झुर्रियों से बचने के लिए रोज़ाना सोने से पहले मॉइश्‍चराइज़िंग क्रीम से आंखों के चारों तरफ़ हल्के हाथों से मसाज करें.
* आंखों को धूप से बचाने के लिए यूवी प्रोटेक्टिव लेंस वाले सनग्लासेज़ का इस्तेमाल करें. सस्ते और घटिया क्वालिटी के लेन्स या सनग्लास़ेज न लगाएं. ये आंखों को नुक़सान पहुंचा सकते हैं.
* 1 मिनट में कम से कम 12 से 15 बार पलकें झपकाएं, वरना आंखें ड्राई हो सकती हैं.
* ज़्यादा गर्मी पैदा करने वाले टेबल लैंप व इलेक्ट्रॉनिक आइटम्स से दूर रहें. इनके संपर्क में ज़्यादा रहने से आंखों में जलन की शिकायत हो सकती है.
* क़िताब या मैग्ज़ीन पढ़ते समय अपनी आंखों और क़िताब के बीच कम से कम आधे फ़ीट की दूरी रखें.
* एक्सरसाइज़ से भी आंखों को हेल्दी रखा जा सकता है. अतः थोड़ी देर के लिए आंखें बंद करें, पुतलियों को क्लॉक वाइज़ और एंटी क्लॉक वाइज़ घुमाएं. इससे आंखों को आराम मिलेगा.