Tag Archives: never

नौकरी छोड़ते समय भूलकर भी न करें ये 5 ग़लतियां (5 Mistakes never to do when you quit your job)

Resignation Tips

Resignation Tips

ऑफिस के माहौल से दिल और दिमाग़ खराब हो रहा है, चाहकर भी काम करना मुश्किल हो रहा है, मैनेजमेंट से ठीक तरह से कोऑपरेशन नहीं मिल पा रहा है, ये सारी बातें स़िर्फ और स़िर्फ एक ही ओर इशारा करती हैं कि नौकरी छोड़ दिया जाए. इस माहौल में काम कर पाना बहुत मुश्किल हो जाता है. ये बात हम सभी जानते हैं, लेकिन तैश में आकर नौकरी छोड़ते समय कुछ ऐसी ग़लतियां कर जाते हैं, जो उचित नहीं होतीं. आप भी अगर नौकरी छोड़ने की सोच रहे हैं, तो इन 5 ग़लतियों से बचें.

इंस्टेंट रेज़िग्नेशन
इंस्टेंट रेजिग्नेशन का मतलब है कि कई दिन से परेशान होकर आप एक दिन इतने ग़ुस्से में आए कि जॉब छोड़ने का मूड बना लिया और तुरंत ग़ुस्से में आकर रिज़ाइन लेटर टाइप न करें. दिमाग़ में जब भी रिज़ाइन करने की बात उठे, तो सबसे पहले अपने हेड ऑफ डिपार्टमेंट से बात करें. उससे अपनी सारी परेशानी शेयर करें और फिर उसे बताएं कि आप बहुत जल्द इस्तीफा देने वाले हैं. आप अपनी ओर से सारी फॉरमैलिटी पूरी करें. सही तरह से रिज़ाइन न करने पर कंपनी आपके साथ पंगा कर सकती है. हो सकता है कि वो आपको रीलिविंग लेटर देने में आनाकानी करे.

बुरी इमेज
नौकरीपेशा वालों के लिए इंप्रेसिव इमेज यानी अच्छी छवि बनाना बहुत ज़रूरी होता है. भले ही काम थोड़ा कम करें, लेकिन छवि अच्छी ज़रूर होनी चाहिए. नौकरी छोड़ने से पहले आप भी इस बात का ध्यान रखें. किसी से झगड़ा करने, ऑफिस में हंगामा करने की ग़लती न करें. रिज़ाइन करने के बाद नोटिस पीरियड में लोगों से अच्छी तरह से बात करें. इस बात का ध्यान रखिए कि किसी के लिए नहीं, लेकिन आपके लिए ये आगे बहुत काम देगा.

हैंडओवर न करना
अंग्रेज़ी का ये शब्द बहुत कुछ कहता है. जैसे आप किसी अपने कि शादी में जाते हैं, तो वो आपको अपना समझकर पैसे के लेन-देन का काम आपको सौंप देता है. आप पूरे फंक्शन के दौरान अच्छी तरह से उसे निभाते हैं और जब फंक्शन पूरा हो जाता है और वहां से चलने की बेला होती है, तो आप एक-एक हिसाब देते हैं. आपके पास जो पैसा बचा है, उसे आप उस व्यक्ति को हैंडओवर कर देते हैं. ठीक इसी तरह ऑफिस से जाने के पहले ऑफिस का जो भी काम, सामान आपके पास है, उसे हैंडओवर करें.

नो फ्यूचर प्लानिंग
नौकरी छोड़ने का कारण ही मायने नहीं रखता, बल्कि उसके आगे क्या है, वो भी मायने रखता है. इस नौकरी को छोड़ने के बाद आगे आप क्या करना चाहते हैं, किस फर्म में नौकरी करेंगे या नौकरी नहीं करेंगे जैसी बातें आपको पहले ही डिसाइड कर लेनी चाहिए. बिना फ्यूचर प्लानिंग के नौकरी छोड़ने का निर्णय आपके लिए उचित नहीं होगा. कभी भी ये क़दम न उठाएं. इससे आपको भविष्य. में परेशानी हो सकती है.

कंपनी के ख़िलाफ अफवाह
भले ही आप नौकरी छोड़ने की सोच रहे हैं, लोकिन इसका ये बिल्कुल मतलब नहीं कि आप कंपनी के ख़िलाफ़ बातें करें. भले ही कंपनी ने आपके लिए अच्छा न किया हो, लेकिन आप अपने अनुसार काम करें. चुपचाप रिज़ाइन करें. बाहर कंपनी की बुराई करने से कुछ होगा नहीं.

श्वेता सिंह

… क्योंकि गुज़रा हुआ व़क्त लौटकर नहीं आता (Lost Time Is Never Found Again)

rsz_1maxresdefault
लोग अक्सर कहते हैं, क्या करें… समय ही नहीं मिलता! लेकिन समय का सदुपयोग करने वाले ऐसा कभी नहीं कहते. हम सभी के पास एक दिन में चौबीस घंटे का ही समय होता है, ये हम पर है कि हम उसका सदुपयोग करते हैं या दुरुपयोग.

… क्योंकि समय मुफ़्त मिलता है
समय बहुत क़ीमती है, लेकिन हमें ये बिल्कुल मुफ़्त मिलता है. जो लोग समय की सही क़ीमत जानते हैं, वो इसका सही इस्तेमाल करके कामयाबी की ऊंचाइयों को छूते हैं और जो समय की क़द्र नहीं करते, वो इसे यूं ही बर्बाद करके अपना भविष्य ख़राब करते हैं. समय का सही उपयोग करके ही अपने सपनों को साकार किया जा सकता है, अपने लक्ष्य तक पहुंचा जा सकता है.

… क्योंकि समय भेदभाव नहीं करता
प्रकृति और समय कभी किसी के साथ भेदभाव नहीं करते. हवा, पानी, मौसम, दिन-रात… ये सब हम सबके लिए हमेशा एक जैसे रहते हैं. अमीर व्यक्ति के लिए सूरज पूरब की बजाय पश्‍चिम से नहीं उगता या बरसात किसी की उम्र या हैसियत देखकर उस पर कम या ज़्यादा नहीं बरसती. अमीर-ग़रीब, बच्चे-बूढ़े सभी के लिए समय एक जैसा रहता है. हां, समय का सही उपयोग न करके या समय को व्यर्थ गंवाकर हम अपना भविष्य ज़रूर ख़राब कर देते हैं. यदि हम आज समय की क़द्र करेंगे, तभी समय कल हमारी क़द्र करेगा.

यह भी पढ़ें: सफलता के मंत्र


… क्योंकि समय भविष्य तय करता है
हम आज जो भी हैं, जहां भी हैं उसके लिए हम ख़ुद ज़िम्मेदार हैं, क्योंकि हमने अपने अतीत में जो मेहनत की है हमारा वर्तमान उस मेहनत का ही नतीजा है. हमारी आज की मेहनत ही हमारा भविष्य तय करती है. अतः समय की क़ीमत समझकर उसका सही उपयोग करना बहुत ज़रूरी है. समय का सही इस्तेमाल करके देखिए, ये आपको हमेशा स्वस्थ और समृद्ध बनाए रखेगा.

… क्योंकि व़क्त लौटकर नहीं आता
आप समय का स़िर्फ एक बार ही इस्तेमाल कर सकते हैं, क्योंकि गुज़रा हुआ व़क्त कभी लौटकर नहीं आता यानी हम समय को रीसाइकल नहीं कर सकते. अतः कभी ये न कहें कि ये काम अगली बार करेंगे. हो सकता है, अगली बार आप व़क्त गंवा चुके हों और गुज़रा हुआ व़क्त आपसे कहे कि अब बहुत देर हो चुकी है.

… क्योंकि समय बेशक़ीमती तोहफ़ा है
यदि आप किसी को वाक़ई कुछ देना चाहते हैं, तो उसे अपना व़क्त दीजिए, क्योंकि साथ गुज़ारा हुआ व़क्त अपने साथ ख़ूबसूरत यादें संजो लेता है, जिन्हें याद करके हम भविष्य में मुस्कुरा सकते हैं. व़क्त जीवन के कई पाठ पढ़ा जाता है, बड़े से बड़े घाव भर देता है और नए सिरे से जीने की ताक़त भी देता है. अतः आज यदि आपका व़क्त सही नहीं चल रहा, तो निराश न हों, मेहनत करते जाएं, आपका अच्छा व़क्त ज़रूर आएगा.
ऐसी घड़ी नहीं बन सकती, जो गुज़रे हुए घंटों को बजा दे.
– प्रेमचंद

 सही काम करने के लिए समय हर वक़्त ही ठीक रहता है.
– मार्टिन लूथर किंग जूनियर

समय तब तक दुश्मन नहीं बनता, जब तक आप इसे व्यर्थ गंवाने का प्रयास नहीं करते.
– अज्ञात

समय और समुद्र की लहरें किसी का इंतज़ार नहीं करतीं.
– अज्ञात

 

अधिक जीने की कला के लिए यहां क्लिक करें: JEENE KI KALA