Tag Archives: new job

जब हो जाएं जॉबलेस (Are You jobless?)

1_17_13-jobless-unemployment1 (1)

ओह नो! सुबह उठते ही जब रोज़ाना की तरह रवि ने अपने मोबाइल में ऑफिस का डे-प्लान देखना चाहा, तो मैसेज बॉक्स में अपनी नौकरी जाने का मैसेज पढ़कर उसके होश उड़ गए. उसे समझ नहीं आ रहा था कि सब कुछ इतने अचानक कैसे हो गया? कल तक तो ऑफिस में सब ठीक-ठाक था. इस तरह की घटनाएं आज आम हो गई हैं. आज जितनी आसानी से नौकरियां मिलती हैं, उतनी ही आसानी से छूट भी जाती हैं. अगर आप भी रवि की तरह अपनी नौकरी छूटने पर परेशान हैं, तो जानिए इस परेशानी को कम करने के कुछ आसान उपाय?

निराश न हों
करियर काउंसलर फ़रज़ाद दमानिया कहते हैं कि अचानक जॉबलेस होने पर लोग बौखला जाते हैं. उन्हें लगता है कि उनका सब कुछ लुट गया. घर का लोन, बच्चों की फीस, बाकी इनवेस्टमेंट्स आदि के लिए अब पैसे कहां से आएंगे? इन बातों को सोचकर लोग निराश रहने लगते हैं और कई बार तो डिप्रेशन में भी चले जाते हैं. आपके साथ यदि ऐसा हो, तो इस समस्या को ख़ुद पर हावी न होने दें और नई जॉब के लिए प्रयासरत रहें.

बेरोज़गारी भत्ते के लिए अप्लाई करें
प्राइवेट जॉब आज है कल नहीं रहेगी, इस बात को अपने दिमाग़ में बिठा लें. अचानक नौकरी चली जाने के बाद परेशान होने की बजाय सरकारी भत्ते के लिए अप्लाई करें. इससे आपको थोड़ी-बहुत मदद मिल सकेगी.

अपने ड्यूज़ (बकाया) क्लियर करें
माना आपकी जॉब छूट गई और आप बहुत परेशान हैं, लेकिन इसका ये मतलब नहीं कि आप अपने सारे ड्यूज़ कंपनी में ही छोड़ दें. जॉब जाने के बाद सबसे पहले उस कंपनी में जाएं और एचआर से सभी औपचारिकता पूरी करके पीएफ, मेडिक्लेम, लीव इनकैशमेंट आदि का सेटलमेंट करें. ये पैसे आपके बहुत काम आएंगे.

मनोविशेषज्ञ की मदद लें
नौकरी छूटने के बाद यदि आप लगातार तनाव में रहते हैं, तो इसे हल्के में न लें. तुरंत किसी मनोविशेषज्ञ के पास जाएं और उनसे अपनी स्थिति को सही-सही बयां करें. जितनी जल्दी हो सके, तनाव की स्थिति से बाहर निकलें और नए सिरे से ज़िंदगी जीने की कोशिश करें.

रिलैक्स रहें
अचानक नौकरी छूटने पर घबराने की बजाय रिलैक्स रहें. चाहें तो इस दौरान अपने शौक पूरे करें, जैसे- डांस, स्विमिंग, सिंगिंग आदि. इसके लिए आप क्लासेस भी ज्वॉइन कर सकते हैं. इस तरह धीरे-धीरे आप नौकरी छूटने के ट्रॉमा से बाहर आ जाएंगे.

लोगों से संपर्क करें
एक नौकरी छूटने के बाद चुप होकर हाथ पर हाथ रखकर बैठने की बजाय अपने आसपास के लोगों, दोस्तों और रिश्तेदारों से अपनी जॉब के बारे में बात करें. हो सके तो सभी को अपना बायोडाटा देकर रखें. आप क्या काम कर सकते हैं और कितनी तनख़्वाह चाहते हैं? ये भी बताकर रखें.

मानसिक रूप से मज़बूत बनें
अचानक जॉब छूटने पर मानसिक रूप से मज़बूत होना बहुत ज़रूरी है. अपने आप पर ये विश्‍वास रखें कि आज नहीं तो कल जॉब तो मिलनी ही है, फिर बेकार की चिंता करने से क्या फ़ायदा?

करियर काउंसलर की सहायता लें
अगर जॉब छूटने के बाद कुछ नया ट्राई करना चाहते हैं और समझ नहीं पा रहे हैं, तो बेहतर होगा कि आप किसी करियर काउंसलर से संपर्क करें. तुरंत जॉब तलाशने की बजाय कुछ दिन घर बैठकर इत्मिनान से सोचें और फिर आगे बढ़ें.

डेली ख़र्चे में कटौती
अचानक जॉब छूटने पर सबसे बड़ी परेशानी पैसों की होती है. हर महीने सैलरी के भरोसे ख़र्चे बढ़ा लेने पर अचानक उसमें कटौती करना भारी पड़ता है या यूं कहें बहुत मुश्किल हो जाता है. नौकरी छूटने पर कुछ महीनों तक आपके घर की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं रहेगी. ऐसे में किसी एक चीज़ पर रोक लगाने से अच्छा है कि आप अपने हर ख़र्च में कटौती करें, जैसे- यदि सप्ताह के आख़िरी दिन फैमिली के साथ मूवी जाते थे, तो अब न जाएं, महीने में एक दिन शहर से बाहर दूर कहीं जाने का प्लान भी न बनाएं, शॉपिंग आदि पर रोक लगाएं. हर फिज़ूलख़र्च पर फुल स्टॉप लगाएं.

पार्ट टाइम जॉब करें
अचानक जॉब छूटने पर हो सकता है आपको महीनों जॉबलेस रहना पड़े. ऐसे में रोज़ के घरेलू ख़र्च में कमी तो नहीं की जा सकती, इसलिए जितनी जल्दी हो सके पार्ट टाइम जॉब ज्वाइन करें. इससे आपकी इनकम भी होती रहेगी और आप मार्केट में बने भी रहेंगे.

पसंदीदा कोर्स करें
नौकरी छूटने पर आप कुछ समय के लिए ब्रेक लेकर किसी कोर्स के बारे में भी सोच सकते हैं. सालों से दबी अपनी इच्छा को अब आप पूरा कर सकते हैं. उदाहरण के लिए, यदि आप मैनेजमेंट की पढ़ाई करना चाहते थे, लेकिन किसी कारणवश नहीं कर पाए, तो अब कर सकते हैं. इस तरह आप नए सिरे से नौकरी की शुरुआत करके जीवन को नया आयाम दे सकते हैं.

इन चीज़ों से बचें:

  • बेकार घूमने से बचें.
  • परिवार को इसके लिए दोष न दें.
  • बुरी आदतों (शराब, सिगरेट आदि) से बचें.
  • नौकरी छोड़ने के बाद कभी भी उस कंपनी की बुराई न करें.
  • नौकरी छूटने पर डिप्रेशन में आने से बचें.

नई जॉब के लिए क्या करें?

  • बायोडाटा अपडेट करें.
  • जॉब छूटने पर दुखी होकर घर में बैठने की बजाय दोस्तों, रिश्तेदारों और अपने पुराने सहकर्मियों से नई जॉब के बारे में बात करें.
  • जॉब दिलाने वाले प्रोफेशनल्स जैसे- एचआर व कंसलटेंट से बात करें.
  • जॉब को लेकर अगर कनफ्यूज़ हैं, तो करियर काउंसलर से बात करें.
  • अचानक जॉब चली जाने पर घबराहट में आकर किसी भी कंपनी में तुरंत ज्वाइन न करें.
  • नई जॉब ज्वाइन करने से पहले सैलरी को लेकर फ्लैक्सिबल रहें. मन में सैलरी का पैमाना तय न करें.
  • नई नौकरी मिलने तक मन में संतोष रखें.
  • आत्मविश्‍वास में कमी न आने दें.
  • जॉब के प्रति हमेशा सकारात्मक नज़रिया रखें.
  • जॉब पोर्टल जैसे- नौकरी डॉट कॉम, मॉन्सटर इंडिया, टाइम्स जॉब आदि पर अपना अपडेटेड बायोडाटा पोस्ट करें.

– श्वेता सिंह

न्यू जॉब जॉइन करने से पहले ख़ुद से करें कुछ सवाल (Make Yourself Some Questions Before Joining New Job )

joining New Job

 

Questions Before Joining New Job

अच्छी लाइफस्टाइल जीने के लिए आर्थिक मज़बूती बहुत ज़रूरी है. ऐसे में कई बार जॉब जाने की परेशानी का सामना भी आपको करना पड़ता है. बेरोज़गार होने और आर्थिक दिक्क़तों के चलते कोई भी नौकरी करने से पहले अच्छी तरह से उसके बारे में सोचें और ख़ुद से उस नौकरी से जुड़ी इन बातों को पूछें.

पर्सनल वैल्यूज़
आर्थिक तंगी के चलते पार्ट टाइम जॉब के लिए आप कुछ भी कर सकते हैं, लेकिन फुल टाइम जॉब के लिए आप उसी फर्म को चुनें, जो आपके व्यक्तित्व से मेल खाता हो. ऐसे फर्म को कभी वरियता न दें, जो आपके इंटरेस्ट से मेल न खाता हो और जहां पर ख़ुद आपकी कोई इज़्ज़त न हो. भले ही सैलरी बहुत अच्छी क्यों न हो, लेकिन इस तरह के फर्म में आप ज़्यादा दिन तक काम नहीं कर पाएंगे. बेहतर होगा पहले अपने आप से इस बारे में पूछें फिर कोई निर्णय लें.

कंपनी की रेपोटेशन
स़िर्फ पैसों के लिए किसी भी कंपनी में काम करना भविष्य में बुरा साबित हो सकता है. जिस भी कंपनी से आपको ऑफर लेटर आया है, सबसे पहले उसके बारे में अच्छी तरह से जांच-पड़ताल कर लें. मार्केट में उस कंपनी के बारे में लोगों का क्या कहना है, ये भी आपके लिए बहुत महत्व रखता है. अपनी सीवी को मज़बूत करने और ख़ुद की इज़्ज़त का ख़्याल करते हुए बेस्ट कंपनी का चुनाव करें.

भविष्य का ख़्याल
किसी भी कंपनी में जॉब के लिए आवेदन देने से पहले अपने भविष्य का ख़्याल ज़रूर रखें. अपने लक्ष्य को दिमाग़ में रखकर ही आगे बढ़ें. लॉन्ग टर्म के लिए अगर कंपनी आपके लिए उपयुक्त नहीं रहेगी और आप अपने लक्ष्य को हासिल नहीं कर पाएंगे, तो बेहतर होगा कि कुछ समय और इंतज़ार करें और दूसरी नौकरी की
तलाश करें.

वर्कप्लेस का माहौल
दिन के आठ घंटे जहां आप काम करेंगे उसका माहौल आपके अनुसार न होने पर बहुत जल्द ही काम में मन नहीं लगता और आप नई जॉब की तलाश में लग जाते हैं. नई नौकरी जॉइन करने से पहले वहां काम करनेवालों से ऑफिस के अंदर के माहौल के बारे में पता लगाएं. सब कुछ जानने के बाद ख़ुद ही तय करें कि क्या ऐसे माहौल में आप काम कर पाएंगे?

कैसा है बॉस?
बॉस का असर आपके काम पर बहुत पड़ता है. एक अच्छे बॉस के होने से आपका काम करने में मन लगता है और इसका फ़ायदा आपके साथ आपकी कंपनी को भी होता है, लेकिन बॉस के सही न होने से कई तरह की समस्याओं से गुज़रना पड़ता है. काम का अनियमित समय, एक्स्ट्रा प्रेशर, टारगेट और मेंटल टॉर्चर जैसी कई परेशानियों के चलते प्रायः लोग जॉब छोड़ देते हैं.

सैलरी
किसी भी तरह की नौकरी करने का सबसे मुख्य कारण है कि उससे आपकी आमदनी हो. महीने के आख़िर में आपको कुछ पैसे मिल जाएं, जिससे आपकी ज़रूरतें आसानी से पूरी हो जाएं और भविष्य के लिए कुछ बचत भी कर लें. इसलिए इंटरव्यू देने के बाद और ज्वाइन करने से पहले ख़ुद से एक बार पूछें कि क्या इतनी सैलरी आपके लिए उपयुक्त होगी या फिर इस नौकरी के साथ आपको कहीं और भी कुछ करना पड़ेगा? पूरी तरह से संतुष्ट होने के बाद ही आगे बढ़ें.

घर से कंपनी की दूरी
कहीं भी जॉब ज्वाइन करने से पहले अमूमन दिमाग़ में ये बात ज़रूर आती है कि रोज़ाना घर से ऑफिस पहुंचने में कितना समय लगेगा. नई नौकरी का ऑफर लेटर हाथ में लेने से पहले आप ये सुनिश्‍चित कर लें कि क्या प्रतिदिन आप इतनी दूरी तय कर पाएंगे, क्या आसानी से और सही समय पर आप प्रतिदिन ऑफिस पहुंच पाएंगे, इस नौकरी को करने में कहीं ट्रैवलिंग में ही आपका बहुत पैसा तो नहीं लग जाएगा जैसी आदि बातों को पहले ही अपने दिमाग़ में सोच लें फिर आगे बढ़ें.

अपनी पसंद
अपनी पसंद का खाना न होने पर जब आप नहीं खाते, तो नौकरी बिना पसंद की कैसे कर सकते हैं. घर की माली हालत ठीक न होने पर भले ही मजबूरी में आप नई नौकरी के लिए हां कर दें, लेकिन कुछ ही समय के बाद आपका वहां मन नहीं लगेगा. इसलिए नई नौकरी के लिए हां करने से पहले एक नहीं, बल्कि सौ बार सोचें फिर हां करें, क्योंकि बार-बार जॉब बदलने से आपकी सीवी कमज़ोर हो जाती है और लोगों में आपकी ग़लत छवि जाती है.

आपकी क्षमता
आप कितने पानी में खड़े हैं, इसकी जानकारी होना बहुत ज़रूरी है. दूसरों के कहने और उनकी ज़ोर-ज़बर्दस्ती से बिना सोचे ही किसी भी तरह के काम को हां न करें. हर इंसान की अपनी व्यक्तिगत क्षमता होती है उससे अधिक काम होने पर तनाव होता है और फिर धीरे-धीरे सेहत बिगड़ने लगती है. इंटरव्यू टेबल पर बैठते ही आप वहां के काम और टार्गेट के बारे में जानना न भूलें.

प्राथमिकता का रखें ख़्याल
अपनी प्राथमिकता को देखते हुए सही जॉब की तलाश करना आपकी ज़िम्मेदारी है. कई बार जॉब संतुष्टि से ज़्यादा पैसों की ज़रूरत ज़्यादा होती है. ऐसे में अगर सैलरी को दिमाग़ में रखकर जॉब सिलेक्शन कर रहे हैं, तो कोई बुरी बात नहीं है.

– श्वेता सिंह