normal delivery

मेरी उम्र 35 वर्ष है. मेरे दो बच्चे हैं और दोनों बच्चों की नॉर्मल डिलीवरी हुई थी. कुछ दिनों से मुझे लग रहा है कि मेरी योनि से कुछ बाहर आ रहा है. मुझे योनि में ढीलापन भी महसूस होता है और पेशाब करने में परेशानी होती है.
– रीमा कपूर, दिल्ली.

आपकी समस्या से लगता है कि आपकी योनि की मांसपेशियों में ढीलापन आने से यूटेरस अपनी जगह से हिल गया है. ऐसा अक्सर नॉर्मल डिलीवरी के बाद होता है, ख़ासतौर पर तब, जब बच्चा बड़े आकार का हो या वैक्यूम की मदद से हुआ हो. ऐसे में यूटेरस योनि में या योनि से बाहर आ जाता है. कभी-कभी तो ज़्यादा कफ़ होने से ब्लैडर व रेक्टम भी बाहर आ जाता है, क्योंकि उन्हें सपोर्ट नहीं मिल पाता. इसका इलाज सर्जरी से ही संभव है. इसके लिए योनि या लेप्रोस्कोपिक सर्जरी द्वारा यूटेरस को कस दिया जाता है. यदि मरीज़ की उम्र ज़्यादा है तो यूटेरस को ही निकाल दिया जाता है.

यह भी पढ़ें: Personal Problems: एक्टॉपिक प्रेग्नेंसी क्या होती है? (What Is Ectopic Pregnancy?)

Vaginal Laxity
मेरी उम्र 44 वर्ष है. मुझे 2 साल से अत्यधिक रक्तस्राव हो रहा है, जिसके कारण मुझे बहुत ज़्यादा थकान महसूस होती है. मेरी रिपोर्ट भी नॉर्मल है. डॉक्टर का कहना है कि मेनोपॉज़ के दौरान अक्सर ऐसा हो जाता है, लेकिन मेरे लिए अब इस परेशानी को सहना मुश्किल हो गया है. कृपया, उपाय बताएं.
– माधवी कंज़रकर, नागपुर .

आपकी समस्या को देखकर लगता है कि आपको डिस़फंक्शनल यूटेराइन ब्लीडिंग है. इस स्थिति में सोनोग्राफ़ी में यूटेरस व ओवरीज़ नॉर्मल नज़र आते हैं, लेकिन मरीज़ को रक्तस्राव होता रहता है. इस प्रॉब्लम के लिए आप गायनाकोलॉजिस्ट से बात करके दवाएं ले सकती हैं. यदि आप परमानेंट सोल्यूशन चाहती हैं, तो आपके पास दो विकल्प हैं, यूटेरस में हार्मोन इंटरायूटेराइन डिवाइस इंसर्ट करवा लें. यह कॉपर टी की तरह ही होता है. इससे अगले 5 साल के लिए आपका रक्स्राव रुक जाएगा. दूसरा विकल्प है- यूटेराइन बलून एब्लेशन, जिसमें एक बलून को ट्यूब में लगाकर योनि मार्ग द्वारा अंदर डाला जाता है. बलून में गर्म पानी भरकर कंप्यूटर द्वारा यूटेरस की दीवारों को नष्ट किया जाता है. लेकिन यह प्रक्रिया वेे महिलाएं ही करवा सकती हैं, जो भविष्य में मां नहीं बनना चाहतीं.

यह भी पढ़ें: Personal Problems: क्या गर्भनिरोधक गोलियों से वज़न बढ़ता है? (Do Contraceptive Pills Cause Weight Gain?)

Dr. Rajshree Kumar

डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा ऐप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

मैं 37 वर्षीय महिला हूं और मेरी दो सामान्य डिलीवरी हो चुकी है. कुछ दिनों से मुझे ऐसा लग रहा है जैसे मेरी योनि (Vagina) से कुछ बाहर आ रहा है. इसके अलावा मुझे योनि में ढीलापन भी महसूस होता है. क्या ऐसी कोई एक्सरसाइज़ (Exercise) है, जिससे इस स्थिति में सुधार हो सके?
– मनाली, छत्तीसगढ़

नॉर्मल डिलीवरी के बाद गर्भाशय का लटकना और योनि में ढीलापन दोनों ही सामान्य बातें हैं. इस स्थिति से उबरना मुश्किल है, बल्कि मेनोपॉज़ के बाद तो स्थिति और भी ख़राब होती चली जाती है. आप चाहें तो पेल्विक फ्लोर यानी कीगल एक्सरसाइज़ कर सकती हैं. यदि परमानेंट इलाज चाहती हैं तो सर्जरी ही सबसे अच्छा इलाज है. पेरीनियल रिपेयर विधि द्वारा योनि में कसाव लाया जा सकता है. यह बहुत ही छोटी व आसान-सी विधि है. इसके अलावा कीहोल सर्जरी द्वारा यूटेरस को फिक्स किया जा सकता है.

यह भी पढ़ें: Personal Problems: चॉकलेट सिस्ट से बहुत परेशान हूं (Chocolate Cyst: Causes, Symptoms And Treatment)

How To Tighten Up Vagina

मेरी उम्र 38 वर्ष है और मेरे दो बच्चे हैं. पिछले एक साल से मुझे माहवारी के समय बहुत ज़्यादा दर्द और रक्तस्राव होता है. सोनोग्राफ़ी करवाने पर मुझे पता चला कि मेरेे गर्भाशय में 1-2 बड़े फायब्रॉइड (गांठ) हैं. मुझे डॉक्टर ने सलाह दी है कि यूटेरस निकलवा दूं, पर मैं इसके लिए मानसिक तौर पर तैयार नहीं हूं. क्या इसके अलावा मेरे पास कोई विकल्प नहीं है?
– रंजीता, लखनऊ.

यदि गर्भाशय के बीच में अंदर की ओर फायब्रॉइड हो तो यह माहवारी के समय बहुत तकलीफ़ देता है. आधुनिक टेकनीक के चलते अब हीस्टिरोस्कोपिक व लेप्रोस्कोपिक सर्जरी (कीहोल सर्जरी) द्वारा फायब्रॉइड को आसानी से हटाया जा सकता है. आप चाहें तो इस ट्रीटमेंट का सहारा ले सकती हैं. ऐसे केस में यदि महिला की उम्र कम हो तो कोशिश की जानी चाहिए कि यूटेरस को बगैर हटाए फायब्रॉयड को निकाला जा सके.

यह भी पढ़ें: Personal Problems: पीरियड्स में होनेवाले दर्द के लिए क्या कोई ख़ास टेस्ट कराना होगा? (Menstrual Cramps- Diagnosis And Treatments)

Dr. Rajshree Kumar

डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा ऐप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies