Number

क्या आप भी 1, 10, 19 और 28 को जन्मे हैं, तो आपका रूलिंग नंबर है- 1 (Numerology No 1: Personality And Characteristics)

जिन लोगों का जन्म 1, 10, 19 और 28 तारीख़ को होता है, उन्हें 1 नंबर रूल करता है, जिसे हम उनको रूलिंग नंबर या बर्थ नंबर कह सकते हैं. इसका सीधा-सा कैल्कुलेशन है- आपकी डेट ऑफ बर्थ यानी जन्म तारीख़ के अंकों को जोड़ लें और उससे जो नंबर आता है, वो आपका रूलिंग नंबर कहलाता है. आज हम बात करेंगे नंबर वन यानी एक नंबर वालों की, क्या होती है उनकी ख़ासियत और कैसी होती है उनकी पर्सनैलिटी, आइए जानें-

ऑरिजनैलिटी इनकी पहचान होती है: ये न्यू आइडियाज़ और ओरिजनैलिटी में विश्‍वास रखते हैं. क्रिएटिव होते हैं. उन्हें दूसरों से आदेश लेना या किसी के अंडर काम करना पसंद नहीं होता. यही वजह है कि ये या तो अपना बिज़नेस स्टार्ट करते हैं या फिर आप इन्हें बड़ी कंपनियों में बड़े पदों पर देख सकते हैं.

पारिवारिक व ज़िम्मेदार होते हैं: ये परिवार में भी ज़िम्मेदारी निभाते हैं. हां, उन्हें घर के सदस्यों द्वारा सम्मान चाहिए होता है.

यह भी पढ़ें: क्या आप भी 2, 11, 20 और 29 को जन्मे हैं, तो आपका रूलिंग नंबर है- 2

जो ठान लेते हैं, वही करते हैं: एक बार इन्होंने कोई निर्णय ले लिया, तो फिर ये पीछे नहीं हटते, चाहे सारी दुनिया इनके ख़िलाफ़ क्यों न हो जाए. आप इन पर भरोसा कर सकते हैं.

प्यार में वफ़ादारी है इनकी निशानी: ये लॉयल पार्टनर्स होते हैं और प्यार में धोखा नहीं देते. बेहद रोमांटिक होते हैं और अपने पार्टनर को भी काफ़ी महंगे गिफ्ट्स देते हैं. बदले में ये वही वफ़ादारी अपने पार्टनर से भी एक्सपेक्ट करते हैं.

परेशानियों से घबराते नहीं हैं: चाहे इनके सामने कितनी भी परेशानियां या चुनौतियां आएं, ये घबरानेवालों में से बिल्कुल नहीं हैं. यही वजह है कि ये जिस भी क्षेत्र में करियर बनाते हैं, वहां ऊंचाइयों तक जाते हैं.

किन सेलेब्स के साथ शेयर करते हैं आप अपना नंबर: अनुष्का शर्मा, विद्या बालन, रितिक रौशन, ऐश्‍वर्या राय, धीरूभाई अंबानी, सुनील गावस्कर, लता मंगेश्कर, रेखा आदि कुछ उदाहरण हैं, जिनका बर्थ नंबर 1 है.

यह भी पढ़ें: हाथ की रेखाओं से जानें कि कहीं आपको ब्लडप्रेशर का ख़तरा तो नहीं

p v sindhu

रियो ओलिंपिक 2016 में देश के लिए रजत पदक जीतने वाले पी वी सिंधु रैंकिंग में टॉप 5 पर पहुंच चुकी हैं. सिंधू ने अपनी रैंकिंग में एक स्थान का सुधार किया है और उनके खाते में 69399 अंक हैं. ओलिंपिक के बाद से लगातार पीवी सफलता की सीढ़ियां चढ़ती जा रही हैं.

सायना से आगे निकलीं पी. वी.
भारत की ही सायना नेहवाल अपने नौंवें स्थान पर बनी हुई हैं. सिंधू ने 2017 की शुरुआत छठे स्थान से की थी, लेकिन 26 जनवरी को वह नौंवे स्थान पर खिसक गई थीं. सिंधू उसके बाद फिर छठे स्थान पर लौटीं और अब 5 वें नंबर पर आ गई हैं. सिंधु और सायना दोनों वियतनाम के हो ची मिन्ह शहर में चल रही एशियाई मिश्रित चैंपियनशिप में भारतीय टीम से हट गई थीं.

महिला युगल में टॉप 25 में कोई भारतीय जोड़ी नहीं है. हालांकि ज्वाला गुट्टा और अश्‍विनी पोनप्पा दो स्थान के सुधार के साथ 27वें नंबर पर आ गई हैं. मिश्रित युगल में प्रणव चोपड़ा और एन सिक्की रेड्डी का 14वां स्थान कायम है. एकल में भारत की ओर से पी वी सिंधु ही सर्वश्रेष्ठ रैंकिंग पर हैं. भारत के लिए यह गौरव की बात है.

 

श्वेता सिंह