Tag Archives: pahla pyaar

पहला अफेयर: ख़ामोश मुहब्बत… (Pahla Affair: Khamosh Mohabbat)

Pahla Affair, Khamosh Mohabbat

Pahla Affair, Khamosh Mohabbat

पहला अफेयर: ख़ामोश मुहब्बत… (Pahla Affair: Khamosh Mohabbat)

बात उन दिनों की है, जब मैंने कॉलेज में दाख़िला लिया था. मेरा कोई दोस्त नहीं था, इसलिए थोड़ा अकेलापन-सा लगता. फिर धीरे-धीरे आदत-सी हो चली. कक्षा में मेरी सीट खिड़की के पास थी. कई दिनों से मैं गौर कर रही थी कि रोज़ एक साया मेरे पास से गुज़रता, उसकी निगाहें मुझे ही घूर रही होती थीं. पहले तो मुझे उस पर बहुत ग़ुस्सा आया. सोचा, किसी दिन ऐसी ख़बर लूंगी कि होश ठिकाने आ जाएंगे जनाब के. फिर धीरे-धीरे वह मुझे अच्छा लगने लगा. उसका चेहरा बहुत आकर्षक था. जब भी वह मेरे क्लास रूम के पास से गुज़रता मैं बेचैन हो जाती, उसकी आहटों से मेरी धड़कनें तेज़ हो जातीं.

अब तो ये रोज़ का सिलसिला हो गया था. वह दिन में कई बार उस जगह से गुज़रता और मैं सबकी नज़रें बचाकर उसे देख लिया करती. कई बार तो आते-जाते हमारा आमना-सामना भी हुआ, परंतु कोई बात नहीं हुई. हर समय एक बेक़रारी-सी रहती. कुछ कहना चाहती, पर कह नहीं पाती थी. शायद यही प्यार था. वे मेरे दोस्तों से मेरे बारे में बातें करते. दोस्तों से ही पता चला कि उन्हें मैं बहुत ख़ूबसूरत लगती हूं और जिस तरह के पहनावे में वे मुझे देखना चाहते थे, उसका ज़िक्र भी कर देते. जब बात मुझ तक पहुंचती तो मैं उनकी ही पसंदीदा ड्रेस पहनकर कॉलेज जाती. उनकी प्रशंसा उनकी आंखों में नज़र आ जाती. आंखों ही आंखों में हमारी बातें होतीं. दोनों ही संकोची स्वभाव के थे. न वे कुछ कह पाए, न मैं.

मैं सम्पन्न परिवार से थी और दोस्तों से पता चला कि वे साधारण परिवार के हैं. हमारी जाति में फ़र्क़ था. शायद यही कारण था, जो हम दिल की बात दिल में ही दबाकर रह गए. समय गुज़रता गया. परीक्षाएं हुईं. कॉलेज ख़त्म हो गए. मन में एक कसक लिए हम एक-दूसरे से जुदा हो गए.

कॉलेज के बाद मेरी शादी की बात चलने लगी. मन तो बहुत हुआ कि कहीं से वो सामने आ जाएं और मम्मी-पापा से मेरा हाथ मांग लें, पर ऐसा कुछ नहीं हुआ और मेरी शादी मम्मी-पापा की मर्ज़ी से हो गई. मैंने भी उन्हें पाने की ख़्वाहिश को अपने मन के किसी कोने में दबाकर पति को मन से स्वीकार कर लिया.

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: डायट चार्ट 

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: पहला-पहला प्यार है…

पति स्वभाव से अच्छे थे और मुझे ख़ुश भी रखते. जल्दी ही मैं एक बच्चे की मां भी बन गई. बहुत समय बाद मेरे पति को फुर्सत मिली थी, हमने छुट्टियों में घूमने का प्रोग्राम बना लिया. मेरे बेटे का ट्रेन में ये पहला सफ़र था. मैं और मेरे पति उसे ख़ुश होते, किलकारियां मारते हुए देख आनंदित हो रहे थे. अचानक एक आहट-सी हुई और दिल ज़ोरों से धड़कने लगा. यह तो वही आहट है, जिसका कभी मुझे हर पल इंतज़ार रहता था, धड़कनें बेचैन हो जाया करती थीं. मैंने सिर उठाकर सामने देखा तो देखती रह गई. वही चेहरा नज़र आया, जो आज भी दिल में बसा हुआ है. मेरा प्यार मेरी आंखों के सामने खड़ा मंद-मंद मुस्कुरा रहा था. यही तो वह मुस्कान थी, जिसकी मैं दीवानी थी.

वे मेरे सामने वाली बर्थ पर थे. आज भी फिर वही बात हुई. मैं बहुत-सी बातें करना चाहती थी, पर परिवार के आगे बेबस थी. मेरे पति ने उनसे परिचय किया और बातों-बातों में ही दोस्ती भी कर ली. उनकी बातों से ही पता चला कि उन्होंने मेरी आस में किसी से शादी नहीं की. मेरी आंखें भर आईं.

सफ़र ख़त्म होने को था. अफ़सोस कि आज भी मैं उन्हें नज़रें चुराकर ही देख रही थी. मैं उस मोहिनी मूरत को जीभर के देखना चाहती थी. हमारा स्टेशन आ गया. मैं मन में एक टीस लिए उनसे जुदा हो गई, मेरी तो मंज़िल आ गई थी, पर उनके न सफ़र का पता था, न मंज़िल का.

– अनुपलता श्रीवास्तव