Tag Archives: Parents Alert

कहीं आपके बच्चे को नशे की लत तो नहीं? (Does Your Child Have An Addiction Problem?)

Child Addiction Problems

बच्चों की परवरिश करना किसी चुनौती से कम नहीं है. जैसे-जैसे बच्चे बड़े होने लगते हैं, उनके स्वभाव और व्यवहार में बदलाव आने लगता है. ये बदलाव इतने साधारण होते हैं कि पैरेंट्स इन्हें समझ ही नहीं पाते हैं या फिर किशोरावस्था का कारण समझकर चुप रह जाते हैं और इन संकेतों को नज़रअंदाज़ करने लगते हैं. पर क्या पैरेंट्स यह जानते हैं कि उनकी यह अनदेखी उनके बच्चों को नशे का शिकार बना रही है.

पता लगाएं कि बच्चा नशा तो नहीं करता

किशोर बच्चे अपना अधिकतर समय स्कूल-कॉलेज और कोचिंग क्लासों में अपने दोस्तों के साथ बिताते हैं. उनके साथ समय बिताते हुए कई बार वे ग़लत संगत में पड़ जाते हैं और नशा करने लगते हैं, जिसका पैरेंट्स को अंदाज़ा भी नहीं होता. हम यहां पर कुछ ऐसे संकेत दे रहे हैं, जिनसे पैरेंट्स यह अंदाज़ा लगा सकते हैं कि कहीं उनका बच्चा नशे के शिकंजे में तो नहीं फंस रहा है.

* बच्चा यदि स्कूल-कॉलेज और कोचिंग क्लास ख़त्म होने के बाद घर आने की बजाय इधर-उधर चला जाए.

* जब बच्चा देरी से घर आने लगे.

* अगर वह रात को अपने दोस्तों के घर रुकने के लिए पैरेंट्स पर दबाव बनाने लगे.

* बच्चा जब ज़रूरत से ज़्यादा पॉकेटमनी मांगने लगे.

* जब वह अधिकतर समय अकेले बिताने लगे या फिर आपकी उपस्थिति उसे खलने लगे.

* नशे की तलब लगने पर पैरेंट्स को बिना बताए घर से चला जाए.

* घर के ज़रूरी कामों को छोड़कर बच्चा जब अचानक उठकर बाहर चला जाए.

* जो बच्चा पहले कभी माउथफ्रेशनर इस्तेमाल नहीं करता था और अब अचानक च्युंगम, टॉफी, सौंफ, हरी इलायची आदि खाना शुरू कर दे, तो पैरेंट्स को इस बात को हल्के में नहीं लेना चाहिए. हो सकता है उनका बच्चा नशे की दुर्गंध को छिपाने के लिए माउथफ्रेशनर इस्तेमाल कर रहा हो.

* बच्चे के स्कूल-कॉलेज आदि जगहों से आने के बाद अगर उसके मुंह से माउथफ्रेशनर की ख़ुशबू आए, तो भी पैरेंट्स सावधान हो जाएं.

* जब बच्चा पैंरेट्स से दूर से बात करे, इसका अर्थ है कि बच्चा आपसे मुंह की दुर्गंध को छिपाने की कोशिश कर रहा है.

* बच्चे के पॉकेट या बैग से माचिस, लाइटर या रोल किया हुआ कोई काग़ज़ मिले.

* उसके चेहरे को, विशेष रूप से उसकी आंखों को ग़ौर से देखें.

* अगर बच्चा दिन-प्रतिदिन कमज़ोर होता जा रहा हो या फिर अपनी डायट से ज़्यादा खा रहा हो.

उपरोक्त बताई गई बातें स़िर्फ एक संकेत हैं, ज़रूरी नहीं कि आपका बच्चा नशे की गिरफ़्त में हो. बच्चे से पूरी बात जानने-पूछने के बाद ही किसी निष्कर्ष पर पहुंचें.

यह भी पढ़े: बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिए सीखें स्पिरिचुअल पैरेंटिंग (Spiritual Parenting For Overall Development Of Children)

पैरेंट्स कैसे करें तहकीकात?

* अगर आपको शक है कि आपका बच्चा नशे का आदी हो रहा है, तो सबसे पहले उसके फ्रेंड्स और टीचर्स आदि से संपर्क करें.

* बिना बताए उसके स्कूल, कॉलेज और कोचिंग सेंटर में पहुंच जाएं.

* वहां पर बच्चा आपको देख ले, तो उससे छिपने की बजाय बात करें.

* ऐसा कोई बहाना बनाएं, जिससे उसको असलियत का पता न चले.

* इस बात का विशेष ध्यान रखें कि सोशल मीडिया में वह किस तरह की पोस्ट करता है.

* आजकल के बच्चे सोशल मीडिया पर  सबसे ज़्यादा एक्टिव रहते हैं, इसलिए उनके सोशल मीडिया अकाउंट पर पैनी नज़र रखें.

* अगर बच्चा हॉस्टल में रहता है, तो वहां के वॉर्डन, टीचर्स, फें्रड्स आदि से बच्चे की गतिविधियों के बारे में पूछें.

* अगर पैरेंट्स को यह संदेह है कि उनका बच्चा नशे के शिकंजे में फंसता जा रहा है, तो उसे डांटने-मारने की बजाय प्यार से समझाएं.

* उसे इस बात का एहसास कराएं, ‘आपको उसकी ज़रूरत है, आप उससे बहुत प्यार करते हैं’.

* पैरेंट्स को भी समझना चाहिए कि उम्र बढ़ने के साथ-साथ बच्चों को आज़ादी ज़रूर दें, लेकिन वे इस आज़ादी का नाजायज़ फ़ायदा न उठाएं. आज़ादी देने के साथ-साथ उन पर पैनी नज़र भी रखें.

बच्चे में दिखें ये लक्षण, तो पैरेंट्स हो जाएं सावधान

इन लक्षणों को ध्यान में रखकर पैरेंट्स अंदाज़ा लगा सकते हैं कि उनका बच्चा कहीं नशे का आदी तो नहीं हो रहा है-

* चिड़चिड़ापन, बेचैनी, घबराहट, पसीना और ग़ुस्सा आना.

* नींद न आना, शरीर में ऐंठन होना, सिर में तेज़ दर्द होना, भूख कम लगना.

* अचानक मूड स्विंग होना, छोटी-छोटी बातों पर कंफ्यूज़ होना, मानसिक तनाव होना आदि.

बच्चे में अगर उपरोक्त लक्षण दिखाई दें, तो ज़रूरी नहीं कि वह नशे का शिकार हो. ये लक्षण किसी अन्य बीमारी के भी हो सकते हैं, पर पैरेंट्स का अलर्ट होना बहुत ज़रूरी है.

यह भी पढ़े: बच्चों के दिमाग़ पर मोबाइल का दुष्प्रभाव (7 Harmful Effects Of Mobile On Children)

बच्चे क्यों फंस जाते हैं नशे के शिकंजे में?

बाल मनोवैज्ञानिकों का मानना है कि-

* अधिकतर बच्चे अपने दोस्तों के उकसाने पर नशे की शुरुआत करते हैं. जब बच्चा अपने दोस्तों को नशा करते हुए देखता है, तो उसके मन में भी नशे को टेस्ट करने की जिज्ञासा उठने लगती है और धीरे-धीरे वह नशे के शिकंजे में फंसता चला जाता है.

* जब बच्चा परिवार में अपने किसी बड़े को नशा (स्मोकिंग या ड्रिंक) करते हुए देखता है, तो उसके मन में भी नशे का स्वाद चखने की इच्छा उठने लगती है.

* नशे के मायाजाल में फंसने का एक कारण फिल्में और टेलीविज़न भी है. दरअसल, जब बच्चे फिल्म और टीवी कलाकारों को नशा करते हुए देखते हैं, तो वे भी उनकी नकल करने की कोशिश करने लगते हैं.

* वर्किंग पैरेंट्स होने के कारण बच्चों के साथ  क्वालिटी टाइम न बिताना, मार्गदर्शन न करना, अनचाही डिमांड को पूरी करना, दोस्तों की तरफ़ ध्यान न देना आदि ऐसे अनेक कारण हैं, जिनके कारण बच्चे ग़लत संगति में पड़ जाते हैं.

पैरेंट्स कैसे करें नशे की गिरफ़्त में फंसे बच्चे की मदद?

* अगर बच्चा नशे का आदी है, तो सबसे पहले उसे ख़ुद पर नियंत्रण रखना सिखाएं.

* उसे समझाएं कि जब भी उसका मन नशा करने का करे, तो अपना ध्यान वहां से हटाकर कहीं और लगाने का प्रयास करे.

* जैसे-जैसे बच्चे बड़े होने लगते हैं, उनके दोस्तों का दायरा भी बढ़ने लगता है. अत: ग़लत संगति से बचाने के लिए ज़रूरी है कि उसे बिना बताए उसके दोस्तों पर कड़ी नज़र रखें.

* नशे की गिरफ़्त से बचाने के लिए ज़रूरी है कि बच्चे को नशे के दुष्परिणामों के बारे में विस्तार से बताएं.

* किसी ऐसे व्यक्ति का उदाहरण देकर समझाएं,  जिसका जीवन नशे के कारण बर्बाद हो गया हो.

* पैरेंट्स को भी ध्यान रखना चाहिए कि बच्चों से कभी भी नशेवाली चीज़ें न मंगवाएं.

* घर में होनेवाली पार्टियों और घर आए मेहमान के सामने नशेवाली चीज़ें सर्व न करें.

* कभी भी बच्चे के सामने नशा न करें. इससे उसके मन में इन चीज़ों के प्रति जिज्ञासा पनपने लगती है.

* अगर घर में कॉकटेल पार्टियां होती हैं, तो बच्चे को वहां से हटाकर अन्य गेम्स आदि में व्यस्त रखें.

* यदि बच्चा नशे की आदत नहीं छोड़ पा रहा है, तो बिना समय बर्बाद किए काउंसलर और एक्सपर्ट्स की सलाह लें.

* यदि स्थिति दिन-प्रतिदिन गंभीर होती जा रही हो, तो बच्चे को नशा मुक्ति केंद्र ले जाएं.

                            – पूनम नागेंद्र शर्मा

अधिक पैरेंटिंग टिप्स के लिए यहां क्लिक करेंः Parenting Guide

न्यूज़ टाइम- आज की 5 ख़ास ख़बरें… (News Time- Today’s Top 5 News)

गांधीजी को कांग्रेसनल पुरस्कार प्रस्ताव…

विश्‍वभर को शांति का संदेश देनेवाले सभी के प्रेरणास्त्रोत महात्मा गांधीजी को उनके अमूल्य योगदान के लिए अमेरिका का सर्वोच्च सम्मान कांग्रेसनल गोल्ड मेडल से सम्मानित किए जाने का प्रस्ताव न्यूयॉर्क की कांग्रेस सांसद कैरोलिन मालोनी ने रखा है, जिस पर अमेरिकी संसद विचार कर रही है. कांग्रेसनल स्वर्ण पदक से सम्मानित होनेवाले महात्मा गांधीजी पहले भारतीय होंगे. वैसे इससे पहले यह अवॉर्ड यूएस के पहले राष्ट्रपति जॉर्ज वाशिंगटन, नेल्सन मंडेला, मदर टेरेसा, रोजा पार्क्स आदि को मिल चुका है.

Today's Top 5 News

मोमो गेम से मौत…

मोमो वॉट्सअप चैलेंज गेम से राजस्थान के अजमेर में एक दसवीं की स्टूडेंट छवि की मौत… उसने अपनी हाथ की नस काटकर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. इस ख़तरनाक खेल में भी ब्लू व्हेल गेम की तरह ही मौत का टास्क दिया जाता है. स्टूडेंट के मोबाइल फोन की ब्राउज़र हिस्ट्री, मोमो चैलेंज गेम के रूल्स व उसकी बॉडी पर बने निशान द्वारा ही इस गेम को लेकर संशय जताया जा रहा है. इस गेम में सोशल मीडिया पर जापान के क्षेत्र का कोड नंबर होता है, जिसे सेव करने पर खूंखार क़िस्म की फोटो प्रोफाइल में होती है. यह फोटो जापान के म्यूज़ियम में रखी गई एक मूर्ति का है. व्यक्ति के दिलोदिमाग़ में डर पैदा करनेवाला मोमो गेम एक कॉन्सिपिरेसी ध्योरी पर बेस है.

पैरेंट्स के लिए गाइडलाइन्स

* इस तरह के हादसे से बचने के लिए अपने बच्चों की सोशल मीडिया पर की एक्टिविटीज़ पर नज़र रखें.

* वे क्या पोस्ट कर रहे हैं, किस साइट पर जा रहे हैं, क्या लिख व रिप्लाइ दे रहे हैं… इन तमाम बातों पर ध्यान दें.

* यदि बच्चे उदास, परेशान, गुमसुम से दिखें, तो इसकी वजहों को जानने की कोशिश ज़रूर करें.

* फोन को को एंटी वायरस से सुरक्षित रखें. इससे संदिग्ध लिंक खोलने के दौरान पॉप-अप आ जाएगा. एंटी वायरस प्रोटेक्शन से वॉट्सऐप, फेसबुक, एसएमएस, मैसेंजर आदि भी सेफ रहेंगे.

 

एशियन गेम्स- जीत का सिलसिला बरकरार

इंडोनेशिया के जर्काता में हो रहे 18 वें एशियन गेम्स में भारत ने बजरंग पूनिया, विनेश फोगाट, सौरभ चौधरी के तीन गोल्ड, दीपक कुमार, लक्ष्य, संजीव राजपूत के तीन सिल्वर और अपूर्वी चंदेला, रवि कुमार, अभिषेक वर्मा, दिव्या काकरान ब्रॉन्ज़ मेडल के साथ कुल 10 पदक हासिल कर लिया है. और यह जीत का सिलसिला बरकरार है. पदक तालिका में भारत सातवे नंबर पर है.

यह भी पढ़ें: Proud Moment: विनेश फोगाट ने रचा इतिहास… एशियाड में भारत का महिला कुश्ती वर्ग का पहला गोल्ड (Vinesh Phogat Creates History After Winning Gold At Asian Games)

वुमन सेफ्टी के लिए पैनिक बटन…

महिलाओं की सुरक्षा के लिए छत्तीसगढ़ में एसएमएस मॉडयूल सिस्टम बनाकर ऑनलाइन जांच-पड़ताल का मॉनिटरिंग सिस्टम तैयार किया गया है. साथ ही स्त्रियों पर होनेवाले अपराधों को रोकने के लिए विभिन्न खंभों पर पैनिक बटन का सिस्टम भी बनाया गया है. इससे भीड़भाड़ इलाका, चौराहा, सड़क आदि पर महिलाओं के साथ होनेवाले छेड़छाड़, ग़लत हरकतें आदि की जानकारी तुरंत पुलिस की टीम को मिल जाएगी और वे आरोपी को पकड़ लेंगे. फ़िलहाल इसे रायपुर पर लगाया जा रहा है. यदि यह एक्सपीरिमेंट्स कामयाब रहा, तो इसे 112 डायल सेवा के अंतर्गत अन्य शहरों में भी लगाया जाएगा. यह पैनिक बटन ट्रेनों में इस्तेमाल होनेवाले इमर्जेंसी चेन की तरह होगा यानी खंभे पर लगे बटन के दबाने पर इमर्जेंसी की जानकारी कंट्रोल रूम को मिलेगी और बचाव दल मौ़के पर पहुंच जाएगी.

जल्द ही इसी तरह का पैनिक बटन उत्तर प्रदेश में भी मोबाइल पर शुरू किया जाएगा. डायल 112 के सिस्टम में पुलिस बचाव दल की सारी वेन ग्लोबल पोज़ीशिनिंग सिस्टम (जीपीएस) से जुड़ी होगी. जीपीएस से घटनास्थल के आसपास होने वाली वेन की लोकेशन का पता लग सकेगा और तुरंत जरूरतमंद को सहायता के लिए कंट्रोल कमांड देगा.

 

मलाइका का जलवा…

मलाइका अरोरा क़रीब तीन साल बाद पटाखा फिल्म में हैलो हैलो होंगे… आइटम सॉन्ग पर परफॉर्म करेंगी. विशाल भारद्वाज द्वारा निर्देशित इस गीत की कोरियोग्राफी गणेश आचार्य ने, गीत  लिखे गुलजार साहब ने और सुमधुर आवाज़ से सजाया है रेखा भारद्वाज ने. पटाखा हमेशा लड़ती-झगड़ती दो बहनों की मज़ेदार कहानी है.

– ऊषा गुप्ता