Tag Archives: password selection

पासवर्ड सिलेक्ट करते समय न करें ये ग़लतियां (Avoid These Password Selection Mistakes)

 

पासवर्ड यानी कुछ नंबर, कुछ अक्षर और सांकेतिक चिह्नों का मिला-जुला कॉम्बिनेशन. पासवर्ड बनाते समय अक्सर आप यही सोचते होंगे कि आपके द्वारा बनाए गए पासवर्ड को कोई हैक नहीं कर सकता, लेकिन ऐसा हो सकता है. कई बार पासवर्ड बनाते समय हम छोटी-छोटी ग़लतियां कर बैठते हैं, जिसका सबसे ज़्यादा फ़ायदा हैकर्स उठाते हैं. अगर आप हैकर्स से सावधान रहना चाहते हैं, तो पासवर्ड बनाते समय इन
ग़लतियों से बचें.

Password Selection Mistakes

कैसा हो पासवर्ड?

–     अगर आप इंटरनेट बैंकिंग का इस्तेमाल करते हैं, तो इंटरनेट बैंकिंग का य़ूजर आईडी और पासवर्ड गोपनीय रखें.

–     समय-समय पर अपना पासवर्ड बदलते रहें. लंबे समय तक एक ही पासवर्ड इस्तेमाल करते रहने से उसके क्रैक होने की संभावना अधिक होती है.

–     एक अकाउंट के लिए केवल एक पासवर्ड का प्रयोग करें.

पासवर्ड बनाते समय रखें कुछ बातों  का ख़ास ख़्याल

–     अपनी व्यक्तिगत जानकारी- नाम, मोबाइल नंबर, एडे्रस आदि कभी किसी के साथ शेयर न करें.

–     मकान नंबर, जन्मदिन, शादी की सालगिरह, मोबाइल नंबर, पत्नी व बच्चों के नाम के आधार पर पासवर्ड बनाने की ग़लती न करें. आपका जान-पहचानवाला कोई भी व्यक्ति इन सूचनाओं के आधार पर आपका अकाउंट हैक कर सकता है.

–     अपने फेवरेट स्टार्स और प्लेस के नाम पर  भी पासवर्ड न बनाएं.

–     उपरोक्त व्यक्तिगत जानकारी के अलावा अपनी मां का सरनेम भी किसी अनजान व्यक्ति के साथ शेयर न करें. इसका कारण है कि यूज़र अपने डेबिट कार्ड का पासवर्ड रिसेट करता है, तो सिक्युरिटी क्वेश्‍चन में सबसे पहले आपकी मां का सरनेम या पेट नेम पूछा जाता है.

–     बैंक अपने ग्राहकों को समय-समय पर मैसेज भेजकर सचेत करते रहते हैं कि अगर कोई आपसे व्यक्तिगत जानकारी मांगे, तो उनसे शेयर करने की बजाय तुरंत बैंक को सूचित करें.

–     एक ही पासवर्ड को अलग-अलग अकांउट के लिए यूज़ करना ज़ोख़िम भरा हो सकता है. यदि हैकर्स आपके एक अकाउंट का पासवर्ड जान लेता है, तो उसे अन्य खातों को साइन इन करना आसान हो जाएगा.

–     एक बार साइन इन करने के बाद हैकर्स आपके ईमेल और एड्रेस से आपके बैंक अकाउंट को भी एक्सेस कर सकता है.

–     ईज़ी पासवर्ड बेशक याद रखने में आसान होते हैं, लेकिन इन्हें बनाने से अकाउंट हैैक होने का ख़तरा बढ़ जाता है, क्योंकि हैकर्स सरल पासवर्ड को आसानी से क्रैक कर लेते हैं.

–     पासवर्ड बनाते समय ऐसी निजी जानकारी शेयर न करें, जिसे अन्य लोग आपके बारे में जानते हों, जैसे- आपका निक नेम, आपके घर की गली व रोड का नाम व नंबर, मोबाइल नंबर, आपके पेट एनिमल का नाम आदि.

–     पासवर्ड बनाते समय आसान शब्दों (जैसे- रिीीुेीव) और वाक्यों, कीबोर्ड पैटर्न (जैसे- िुंशीींू या रिंूुीु) और अनुक्रम (जैसे- रललव या 1234) का इस्तेमाल करने से बचें.

–     स्ट्रॉन्ग पासवर्ड बनाने के लिए वाक्यों व मुहावरों का प्रयोग करें. वाक्य या मुहावरे ऐसे होने चाहिए, जिसे दूसरे लोग नहीं जानते हों.

–     अपने पर्सनल और प्रोफेशनल अकाउंट के पासवर्ड अलग-अलग बनाएं. यदि आपका प्रोफेशनल अकाउंट हैक हो गया या फिर प्रोफेशनल स्तर पर आपके साथ कोई धोखाधड़ी होती है, तो आपका पर्सनल इंफॉर्मेशन भी लीक हो जाएगा.

स्ट्रॉन्ग पासवर्ड बनाने के लिए क्या करें?

–    अगर आप कुछ वर्णों को जोड़कर पासवर्ड बना रहे हैं, तो उस पासवर्ड में 8 या उससे अधिक वर्ण होने चाहिए.

–     अक्षर, अंक और प्रतीक चिह्नों का संयोजन करके पासवर्ड बनाएं.

–    पासवर्ड बनाते समय अक्षरों को अंकों के साथ बदलें.

–     पासवर्ड हमेशा लंबे बनाएं. लंबे यानी जिनमें कम से कम 10 अक्षरों, अंकों व प्रतीक चिह्नों का इस्तेमाल किया गया हो.

–     लंबे पासवर्ड बनाने का एक फ़ायदा यह भी है कि ये पासवर्ड स्ट्रॉन्ग होते हैं, जिन्हें हैक करना मुश्किल होता है.

–     स्ट्रॉन्ग पासवर्ड को याद रखना थोड़ा मुश्किल होता है, इसलिए आप पासवर्ड मैनेजर ऐप डाउनलोड कर सकते हैं.

–     यह ऐप आपका पासवर्ड सेव कर लेता है, जिसे सिंगल पासवर्ड या ओटीपी से एक्सेस किया जा सकता है.

यह भी पढ़ें: Wow! पोर्न साइट को ब्लॉक करेगा हर हर महादेव ऐप

Password Selection Mistakes
कैसे रखें अपना पासवर्ड सुरक्षित?

–     स्ट्रॉन्ग पासवर्ड बनाने के बाद उसे पर्स, वॉलेट या डेस्क आदि जगहों पर लिखकर रखने की ग़लती न करें. कोई भी इस पासवर्ड को चोरी करके आपके अकाउंट को साइन इन कर सकता है.

–     अपने महत्वपूर्ण अकाउंट, जैसे- ईमेल, ऑनलाइन बैंकिंग अकाउंट के लिए अलग-अलग पासवर्ड बनाएं. कुछ वेबसाइट्स ओटीपी का ऑप्शन देती हैं, जिससे आपकी सिक्योरिटी और मज़बूत हो जाती है.

–     अगर आप अपना पासवर्ड भूल जाते हैं, तो पासवर्ड मैनेजर ऐप्स की सहायता से इस परेशानी से निजात पा सकते हैं.

–     हमेशा पासवर्ड मैनेजर ऐप्स डाउनलोड करने से पहले इनका रिव्यू चेक कर लें.

कब ज़रूरत है पासवर्ड रिसेट करने की?

–     अगर आप अपना पासवर्ड भूल गए हैं या आपका पासवर्ड लॉक हो गया है, तो अपने अकाउंट को दोबारा ओपन करने के लिए आपको अपना पासवर्ड रिसेट करना पड़ेगा.

–     यदि आपको ऐसा महसूस हो कि कोई अन्य व्यक्ति भी आपके अकाउंट को एक्सेस कर रहा है, तो तुरंत अपना पासवर्ड रिसेट करें.

–     यदि आप अपना अकाउंट किसी कारण से साइन इन नहीं कर पा रहे हैं, तो आपको पासवर्ड रिसेट करने की आवश्यकता है.

– नागेश चमोली

यह भी पढ़ें: ‘वाहन’ से जानें किसी भी वाहन की जानकारी
यह भी पढ़ें: हर वक्त सेल्फी लेना है ‘मेंटल डिस्ऑर्डर’

पासवर्ड सिलेक्ट करते व़क्त न करें ये ग़लतियां

2

ईमेल अकाउंट हो या बैंक अकाउंट, प्रोफेशनल अकाउंट हो या फिर पर्सनल अकाउंट- हर तरह के अकाउंट को सुरक्षित रखने के लिए हम सबसे सिक्योर्ड पासवर्ड बनाते हैं, पर कई छोटी-छोटी ग़लतियां इन अकाउंट्स की सुरक्षा के लिए ख़तरा हो सकती हैं. हैकिंग की बढ़ती वारदातों से सबक लेते हुए हमें पासवर्ड सिलेक्ट करते व़क्त कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए. तो आइए जानें, कौन-सी हैं वो ग़लतियां, जो अक्सर लोग करते हैं? और कैसे बनाएं एक स्ट्रॉन्ग व सिक्योर्ड पासवर्ड?

पासवर्ड मिस्टेक्स

छोटा पासवर्ड: बड़े पासवर्ड को याद रखने की झंझट से बचने के लिए अक्सर लोग छोटा पासवर्ड बनाने की ग़लती
करते हैं.

पर्सनल डाटा को चुनना: मोबाइल नंबर, जन्मदिन, शादी की सालगिरह, पत्नी या बच्चों का नाम, अपना पता आदि को पासवर्ड बनाने की ग़लती ज़्यादातर लोग करते हैं. ऐसे में आपके बारे में थोड़ी-बहुत जानकारी रखनेवाला कोई भी व्यक्ति आपका अकाउंट हैक कर सकता है.

बहुत कॉमन पासवर्ड रखना: बहुत कॉमन पासवर्ड, जैसे- अपने फेवरेट एक्टर का नाम, अपनी मनपसंद डिश का नाम, आपका फेवरेट डायलॉग या तकियाकलाम आदि रखने से दूसरों के लिए पासवर्ड पता करना बहुत आसान हो
जाता है.

अपने नाम का पासवर्ड बनाना: बहुत-से लोगों को यह सबसे आसान लगता है कि अपने ही नाम, सरनेम या निक नेम को पासवर्ड बनाएं, पर हैकर्स के लिए भी यह उतना ही
आसान है.

स़िर्फ अक्षर या नंबर रखना: पासवर्ड हमेशा लेटर्स, नंबर्स, स्पेशल कैरेटर्स आदि को जोड़कर बनाना चाहिए, स़िर्फ अक्षर या नंबर्स को क्रैक करना आसान होता है.

सभी जगह एक ही पासवर्ड रखना: याद रखने की सहूलियत को ध्यान में रखते हुए बहुत-से लोग एक ही पासवर्ड का इस्तेमाल सभी अकाउंट्स में करते हैं, चाहे वो ईमेल हो, नेट बैंकिंग हो या मोबाइल फोन की सिक्योरिटी. इसमें सबसे बड़ा ख़तरा यही होता है कि एक जगह का पासवर्ड क्रैक हो गया, तो धोखाधड़ी करनेवालों के लिए यह बहुत आसान हो जाता है.

पासवर्ड न बदलना: सालों से एक ही पासवर्ड इस्तेमाल करने से उसके लीक होने की संभावना बढ़ जाती है. पासवर्ड को समय-समय पर बदलते रहना चाहिए.

लिखकर रखना: पासवर्ड बनाने के बाद भूल न जाएं, इसलिए लिखना ज़रूरी है, पर संभालकर. अपने मोबाइल में, एटीएम कार्ड के पीछे, कीबोर्ड के नीचे, पॉकेट में चिट बनाकर रखने से उसके दूसरे के हाथों में लगने की संभावना बढ़ जाती है.
दूसरों से शेयर करना: दोस्ती-यारी के चक्कर में बहुत-से लोग अपना पासवर्ड दूसरों से शेयर करते हैं, पर यह ठीक नहीं. इससे उसके लीक होने की संभावना बढ़ जाती है.

कमज़ोर सिक्योरिटी सवाल: पासवर्ड भूलने की स्थिति में सिक्योरिटी से जुड़े सवालों के जवाब देकर आप अपना अकाउंट ओपन कर सकते हैं. इसलिए सिक्योरिटी से जुड़े सवाल ऐसे रखें, जिनके जवाब आपके अलावा किसी और को न पता हों.
पर्सनल व प्रोफेशनल अकाउंट्स के लिए एक ही पासवर्ड: जिस तरह आप अपनी पर्सनल लाइफ को प्रोफेशनल से अलग रखते हैं, ठीक उसी तरह अपने पासवर्ड्स को भी रखें. ऐसे में प्रोफेशनल लेवल पर धोखाधड़ी होने पर आपके सभी पर्सनल अकाउंट्स की जानकारी छिन जाएगी.

अनसिक्योर्ड कंप्यूटर या नेटवर्क से लॉग इन करना: ऐसे नेटवर्क या डिवाइस से लॉग इन करने से हैकिंग की संभावना बढ़ जाती है. इसलिए हमेशा सिक्योर्ड सिस्टम का ही इस्तेमाल करें.

पासवर्ड बनाते समय दिए गए निर्देशों का पालन न करना: जब भी हम पासवर्ड बनाते हैं, तब सिस्टम हमें कुछ निर्देश देता रहता है, जिनका हमें पालन करना चाहिए, पर उनका पालन न करने से हमारा पासवर्ड कमज़ोर रह जाता है.

यह भी पढ़ें: 5 ईज़ी स्टेप्स में अनलॉक करें लॉक्ड स्मार्टफोन

1

बनाएं स्ट्रॉन्ग पासवर्ड

  • पासवर्ड हमेशा बड़ा होना चाहिए.
  • पर्सनल डाटा अवॉइड करें.
  • कुछ क्रिएटिव और अलग सोचें.
  • पासवर्ड में अपना या अपनों का नाम अवॉइड करें. चाहें, तो आप दो-तीन लोगों के नाम को जोड़कर या हेर-फेर करके भी पासवर्ड बना सकते हैं.
  • पासवर्ड हमेशा 8 लेटर्स से ज़्यादा का ही रखें. उसमें लेटर्स, नंबर्स और स्पेशल कैरेक्टर ज़रूर रखें.
  • सभी अकाउंट्स के लिए अलग-अलग
    पासवर्ड्स बनाएं.
  • अकाउंट के सिक्योरिटी वाले सवाल सबके
    अलग-अलग रखें.
  • हर तीन-चार महीने पर अपना पासवर्ड बदलते रहें, ताकि दूसरों के
    लिए उसे क्रैक करना आसान न हो.
  • पासवर्ड लिखकर रखना चाहते हैं, तो किसी सिक्योर्ड डायरी में रखें, जो दूसरों के हाथ न लगे.
  • कभी भी अपना पासवर्ड दूसरों से शेयर न करें.
  • सार्वजनिक स्थान पर पासवर्ड कभी न बताएं. किसी से शेयर करना है, तो उसे लिखकर दें.
  • अपने कंप्यूटर को हमेशा एंटी वायरस से अपडेटेड रखें.
  • इंग्लिश के शब्दों को ज्यों का त्यों लिखने की बजाय उन्हें उल्टा करके लिखें, जैसे- आई i को उल्टा करके ! बना दें.

– दिनेश सिंह

यह भी पढ़ें: सुस्त कंप्यूटर को तेज़ बनाने के आसान टिप्स