Tag Archives: plan

वैलेंटाइन डेस्टिनेशन- करें रोमांटिक जगहों की सैर (Valentine destination- Plan a romantic tour)

Valentine Destinations

Valentine Destinations

वैलेंटाइन डे पर सिर्फ़ पार्टनर को डिनर कराने का प्लान है, तो अच्छी बात नहीं. कितना ख़ास दिन है ये. कुछ अलग और नया कीजिए. उन्हें कहीं घुमाने ले जाइए. हो सके तो शहर से बाहर की सैर करवाएं. दिमाग़ काम नहीं कर रहा है, तो चलिए हम आपको बताते हैं कि इस वैलेंटाइन डे पर कहां जाएं अपने वैलेंटाइन के साथ.

Valentine Destinations

मिनिकॉय

नीला आसमान, नीला समंदर और नेचुरल ब्यूटी के आकर्षण से भरपूर मिनिकॉय या मलिक आपके लिए बेहतरीन रोमांटिक डेस्टिनेशन होगा. पार्टनर के साथ इस साल वैलेंटाइन पर यहां ज़रूर जाएं. लक्षद्वीप का ये दीप ख़ासतौर पर महिलाओं की फेवरेट जगह हैं. अपने पार्टनर को ख़ुश करने के लिए यहां लेकर ज़रूर जाएं.

मेन अट्रैक्शन
– यहां का ब्लू पानी आपको रोमांचित करेगा.
– व्हाइट सैंड पर पार्टनर के साथ कुछ पल ज़रूर बिताएं.
– पेड़ों से ढके छोटे-छोटे कॉटेज में रहने का आनंद ज़रूर उठाएं.

Valentine Destinations
ऊटी

रोमांटिक सफ़र और एक यादगार लम्हा जीना चाहते हैं, तो ऊटी ज़रूर जाएं. वैसे इसे बॉलीवुड में काफ़ी एक्सप्लोर किया गया है. वैलेंटाइन के मौ़के पर देशभर से कपल्स यहां कुछ दिन का स्टे करने आते हैं. बिज़ी लाइफ से थोड़ा समय निकालें और पार्टनर के साथ ऊटी पहुंचे.

Valentine Destinations

मेन अट्रैक्शन
– बोटैनिकल गार्डन में हमसफ़र की बाहों में बाहें डाले ज़रूर घूमें.
– ऊटी लेक के पास एक छोटा-सा पिकनिक प्लान करें.
– पीकारा वॉटरफॉल ज़रूर देखें.
– टॉय ट्रेन राइड का आनंद ज़रूर लें.

Valentine Destinations

यह भी पढ़ेंः हनीमून मनाने के लिए इन रोमांटिक जगहों पर जाइए
मुन्नार

अपने दिल की धड़कन को क़रीब से महसूस करने, पार्टनर के साथ प्यार का एहसास करने के लिए मुन्नार की सैर करें. इस वैलेंटाइन में अपने प्यार का रिफ्रेश करें मुन्नार जाकर. चाय के बागानों के बीच केरल का एक छोटा-सा हिल स्टेशन मुन्नार समुद्र तल से 1,600 मीटर की ऊंचाई पर बसा एक हिल स्टेशन है. केरल पूरी तरह से ग्रीनरी से भरा है. मुन्नार उसमें से एक है.

Valentine Destinations

मेन अट्रैक्शन
– इरविकुलम राष्ट्रीय उद्यान
– आनामुड़ी शिखर
– आनामुड़ी शिखर

क्या ले जाएं साथ?
• वेस्टर्न वेयर
• फ्यूज़न वेयर
• स्टाइलिश पार्टी वेयर
• बीच वेयर
• स्पोर्ट्स शूज़
• सनग्लासेस
• सनस्क्रीन
• मेकअप किट
• फर्स्टएड बॉक्स
• एक्सेसरीज़

 

– श्वेता सिंह

यह भी पढ़ेंः घूमें दुनिया के 5 सबसे सस्ते देश, जहां भारत का 1 Rs वहां के 200 के बराबर

अधिक ट्रैवल आर्टिकल के लिए यहाँ क्लिक करें: Travel Articles

 [amazon_link asins=’B0757K3MSX,B01E5LINBW,B07121WY6L,B072XPL2X7′ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’0127b8fc-07dc-11e8-9eb8-f58544be988c’]

क्या है बॉलीवुड स्टार्स का न्यू ईयर प्लान? (What is Bollywood celebrities plan for new year?)

 

FotorCreated

नए साल में बस दो ही दिन रह गए हैं, ऐसे में हर कोई अपने न्यू ईयर सेलिब्रेशन को ख़ास बनाने की तैयारियों में जुटा है. आपके फेवरेट सितारे नए साल का जश्‍न मनाने कहां जा रहे हैं, आइए जानते हैं.

saif-Kareena-2

सैफ-करीना
सैफ अली ख़ान और करीना कपूर के लिए ये नया साल बहुत ख़ास होगा, क्योंकि इस साल न्यू ईयर वो अपने क्यूट से बेटे तैमूर अली के साथ सेलिब्रेट करेंगे. सैफ-करीना बेटे तैमूर के साथ यूरोप में न्यू ईयर सेलिब्रेट करने की प्लानिंग कर रहे हैं. सैफ अली अपने न्यूबॉर्न बेबी के साथ ज़्यादा व़क्त बिताना चाह रहे हैं, ऐसे में न्यू ईयर उनके लिए फैमिली आउटिंग का बेहतरीन मौक़ा है.

anushka-virat-hands-2

अनुष्का-विराट
बाकी सेलिब्रिटीज़ जहां न्यू ईयर सेलिब्रेशन के लिए सात समंदर पार जा रहे हैं, वहीं अनुष्का शर्मा और विराट कोहली देहरादून में नया साल मनाएंगे. वैसे वहां स़िर्फ दोनों अकेले नहीं जा रहे, बल्कि उनके पैरेंट्स भी साथ रहेंगे. दोनों के लिए ये नया साल बहुत स्पेशल होने वाला है, क्योंकि ख़बर है कि दोनों 1 जनवरी को सगाई कर सकते हैं.

virat-anushka-mos_122816053849

दोनों को देहरादून में साथ देखा गया है.

priyanka-chopra-3

प्रियंका चोपड़ा
प्रियंका चोपड़ा फिलहाल न्यूयॉर्क में टीवी शो क्वांटिको के दूसरे सीजन की शूटिंग में व्यस्त हैं, मगर ख़बरों की मानें तो वो गोवा में अपने दोस्तों व परिवार के साथ न्यू ईयर सेलिब्रेट करेंगी. गोवा में उनका एक घर भी है.

637263

रणवीर-दीपिका
बॉलीवुड के लव बर्ड्स रणवीर सिंह और दीपिका पादुकोण पहले ही दुबई जा चुके हैं, मगर वे वहां न्यू ईयर नहीं मनाएंगे, सूत्रों के मुताबिक़ दोनों नए साल का जश्‍न किसी सीक्रेट लोकेशन पर मनाना चाहते हैं, लगता है दोनों इस ख़ास मौ़के पर अपने बीच किसी तरह का डिस्टर्बेंस नहीं चाहते.

SRK-Gauri-khan

शाहरुख-गौरी
बॉलीवुड के ये आइडियल कपल दुबई में न्यू ईयर सेलिब्रेट कर सकते हैं. शाहरुख़ का वहां एक आलीशान घर है. हालांकि शाहरुख़ ने न्यू ईयर सेलिब्रेशन को लेकर किसी तरह का ऑफिशियल स्टेटमेंट नहीं दिया है.

Aamir-with-wife-Kiran-Rao-at-a-film-promotional

आमिर-किरण
दंगल में अपनी शानदार एक्टिंग से महावीर फोगाट के किरदार में जान डालने वाले आमिर ख़ान के लिए नए साल बहुत ख़ास रहने वाला है, क्योंकि साल के आख़िर में रिलीज़ हुई उनकी फिल्म दंगल ने बॉक्स ऑफिस पर भी दंगल मचा दिया है और कमाई के मामले में भी बाकी फिल्मों से कहीं आगे निकल गई है. आमिर फिलहाल पंचगनी में हैं और वहीं न्यू ईयर सेलिब्रेट करने वाले हैं.

1e0eda7164bd519ad205886922418d7c

अक्षय-ट्विंकल
अक्षय कुमार और ट्विंकल खन्ना पूरे परिवार के साथ केप टाउन (साउथ अफ्रीका) में हॉलीडे एंजॉय कर रहे हैं और यहीं न्यू ईयर सेलिब्रेट करने के बाद वापस आएंगे.

sg3dec22

अजय-काजोल
अजय देवगन और काजोल पूरी फैमिली के साथ नए साल का जश्‍न मनाने के लिए लंदन जा चुके हैं. न्यू ईयर सेलिब्रेशन के बाद अजय-काजोल 3 जनवरी तक वापस आ सकते हैं.

2

बिपाशा-करण
मालदीव में हनीमून मनाने के बाद बिपाशा बसु और करण सिंह ग्रोवर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. ये लव बर्ड्स इस बार सिडनी हार्बर में न्यू ईयर सेलिब्रेट करेंगे.

SA

सिद्धार्थ-आलिया
सिद्धार्थ और आलिया ने अपने रिश्ते को लेकर भले ही खुलेतौर पर कुछ न कहा हो, मगर अक्सर दोनों साथ दिखते हैं. इतना ही नहीं दोनों न्यू ईयर भी साथ मनाने वाले हैं. सूत्रों के मुताबिक सिद्धार्थ मल्होत्रा और आलिया भट्ट नीदरलैंड की ख़ूबसूरत सिटी एम्स्टर्डम जाने की प्लानिंग कर रहे हैं, दोनों शायद यहीं नए साल का जश्‍न मनाएंगे.

sushant-singh-rajput.jpg
सुशांत सिंह राजपूत
फिल्म एम एस धोनी द अनटोल्ड स्टोरी से पॉप्युलैरिटी पाने पाने वाले सुशांत सिंह राजपूत इस बार अकेले ही न्यू ईयर मनाएंगे. एक्स गर्लफ्रेंड अंकिता लोखंडे से ब्रेकअप के बाद एक्ट्रेस कीर्ति सेनन से उनके रिश्तों की बात कही जा रही थी, मगर फिलहाल तो वो अकेले ही लंदन में हॉलीडे एंजॉय कर रहे हैं और यहीं वो नए साल का जश्‍न मनाएंगे.

katrinakaif6_1441781268

कैटरीना कैफ
बॉलीवुड की चिकनी चमेली कैटरीना कैफ़ इस बार परिवार के साथ न्यू ईयर सेलिब्रेट करेंगी. फिलहाल लंदन में वो अपनी फैमिली के साथ टाइम स्पेंड कर रही हैं.

 

– कंचन सिंह

30 के बाद करें रिटायरमेंट प्लानिंग ( Retirement Planning After 30 )

retirement plan

ज़िंदगी में क़ामयाब करियर पाने के लिए प्लानिंग करना जितना ज़रूरी है, उतना ही अहम् है रिटायरमेंट के बाद की ज़िंदगी का नक्शा तैयार करना यानी अपना रिटायरमेंट प्लान करना. किन अहम् बातों का ध्यान रखकर रिटायरमेंट के बाद की ज़िंदगी को भी आप ख़ुशगवार बना सकते हैं.

कुछ अहम् सवाल
रिटायरमेंट प्लानिंग की बात आते ही सबसे पहले जो बात ज़ेहन में आती है, वो यही है कि रिटायरमेंट के बाद नियमित आमदनी में कोई बाधा तो नहीं आएगी? इसके साथ ही कुछ और सवाल भी जुड़ जाते हैं, जैसे-

  • क्या मेरे पास इतनी संपत्ति या साधन होंगे, जो रिटायरमेंट के बाद भी पर्याप्त आय दे सकें?
  • उस व़क़्त तक ख़र्चों (लिविंग कॉस्ट) का स्तर कितना बढ़ जाएगा?
  • उस समय तक हेल्थ केयर कितना महंगा हो जाएगा?
  • सोशल सिक्यॉरिटी बेनिफिट्स का लेवल क्या होगा?
  • लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट में कितना नफ़ा-नुक़सान होगा? नुक़सान होने पर अगर शुरू में ही ज़्यादा पैसा निकालना पड़ा तो…?

इन सारी चिंताओं का निचोड़ यही है कि रिटायरमेंट तक देश की मुद्रास्फीति में कितनी बढ़ोत्तरी होगी और आपकी बचत, जमाराशि व इन्वेस्टमेंट पर इसका कितना असर पड़ेगा? मुद्रास्फीति का असर ही आपके ख़र्चों यानी लिविंग कॉस्ट व हेल्थ केयर लागत को भी बढ़ा देता है. ज़ाहिर है, रिटायरमेंट प्लानिंग करते व़क़्त आपको मुद्रास्फीति के संभावित स्तर को भी ध्यान में रखना होगा. भविष्य की मुद्रास्फीति के स्तर का अंदाज़ा लगाने के लिए आपको दस या बीस साल पहले के मुद्रास्फीति स्तर से इसके मौजूदा स्तर की तुलना करनी होगी. देखना होगा कि इन सालों में मुद्रास्फीति किस दर से बढ़ी है. इससे दस या बीस साल बाद के संभावित मुद्रास्फीति स्तर का कुछ अनुमान आप लगा सकेंगे.

रिटायरमेंट प्लानिंग के 5 स्टेप्स
मुद्रास्फीति का आकलन कर लेनेे के बाद आप अपने पैसे को इस तरह मैनेज कर पाएंगे कि वह अंत तक आपका साथ दे सके. इसके लिए इन 5 स्टेप्स पर
अमल करें-

1. इन बातों पर ग़ौर करें

  • इन्फ्लेशन (मुद्रास्फीति) आपकी संपत्ति(जमाराशि, निवेश और प्रॉपर्टी) पर कितना असर डालेगी?
  • रिटायरमेंट इनकम टिकाऊ होने के साथ-साथ बढ़ती भी रहेगी या नहीं.
  • लाभदायक सरकारी योजनाओं पर नज़र रखें. सोशल सिक्योरिटी व मेडीकेयर जैसी योजनाएं आपके बजट को संतुलित रखने में मददगार हो सकती हैं.
  • रिटायरमेंट इनकम प्लानिंग में लंबी उम्र, हेल्थ केयर के बढ़ते ख़र्चों और अन्य अतिरिक्त ख़र्चों का ध्यान ज़रूर रखें, ताकि आपको अपना कोई निवेश समय से पहले न निकालना पड़े.

2. बचत व निवेश विकल्पों को परखें
हर व्यक्ति अधिक से अधिक उम्र तक जीना चाहता है. अतः अपनी इनकम प्लान की लॉन्गेविटी (अवधि या उम्र) भी अधिक से अधिक रखें, ताकि आपका पैसा अधिक समय तक आपके साथ रहे. इसके साथ ही, इन्फ्लेशन यानी मुद्रास्फीति को नज़र में रखते हुए अपनी लाइफ़ स्टाइल का एक ख़ाका बनाएं. मुद्रास्फीति न स़िर्फ आपके ख़र्चों की लागत बढ़ा देती है, बल्कि आपकी बचत व निवेश की क़ीमत भी घटा देती है. बचत व निवेश के विकल्पों को अच्छी तरह परखें, जिनमें आप अपना पैसा डालेंगे. इस बात का ध्यान रखें कि यहां भी मुद्रास्फीति आपके मैच्योरिटी अमाउंट पर अपना असर डालेगी. साथ ही ऐसे विकल्पों में बचत या निवेश करें, जिनमें आपको आयकर नहीं देना पड़े या कम देना पड़े. कई निवेश विकल्पों में आयकर से छूट दी जाती है.

3. सेहत से जुड़े जोखिम
उम्र बढ़ने पर सेहत से जुड़ी समस्याएं भी बढ़ेंगी, अत: उस व़क़्त के लिए हेल्थ केयर का पूरा इंतज़ाम अभी से कर लें. ऐसा हेल्थ केयर व इन्श्योरेंस प्लान लें, जिसमें रिटायरमेंट के बाद के सालों में अधिकतम बेनिफिट मिले. आजीवन हेल्थ केयर व इन्श्योरेंस पॉलिसीज़ इसी उम्र में ख़रीद लें. रिटायरमेंट के बाद जिनमें कोई प्रीमियम न देनी पड़े और जो सेहत से जुड़े अधिकांश जोखिम को कवर करें, ऐसे प्लान एवं पॉलिसीज़ चुनें.

4. एक्सेस विथड्राल से बचें
रिटायरमेंट प्लानिंग में यह भी ध्यान में रखना होगा कि उस व़क़्त आपको कोई अतिरिक्त निकासी (एक्सेस विथड्रॉल) न करना पड़े. जिन पॉलिसीज़ व प्लान्स को आपने रिटायरमेंट को ध्यान में रखकर ख़रीदा है, उन्हें बीच में छोड़ना या निकालना न पड़े, इसका पक्का बंदोबस्त करें. साथ ही यह भी सुनिश्‍चित करें कि रिटायरमेंट के बाद भी आप योजना के अनुरूप केवल नियमित पैसे की ही निकासी करेंगे. उस व़क़्त कोई अतिरिक्त निकासी न करनी पड़े, इसके लिए एक आपातकालीन बैंक सेविंग अकाउंट ज़रूर रखें.

5. तमाम जोख़िमों का आकलन
हर व्यक्ति की लाइफ़ स्टाइल व ज़रूरतें अलग-अलग होती हैं, अत: आप भी अपनी जीवनशैली के अनुरूप ही उसी के हिसाब से संभावित जोखिम यानी ख़तरों का आकलन करें. अपनी लाइफ़ स्टाइल व इनकम के हिसाब से रिटायरमेंट प्लान बनाएं और उसमें तमाम संभावित जोखिमों से निपटने के उपाय भी शामिल करें. साथ ही अपने रिटयारमेंट प्लान में अपने जीवनसाथी और उसकी ज़रूरतों व जोख़िम को भी शामिल करें तथा उनके लिए भी बीमा व मेडिकल प्लान या पॉलिसीज़ ज़रूर ख़रीदें. किसी आकस्मिक ख़तरे, दुर्घटना या आर्थिक ज़रूरत से आप कैसे निपटेंगे, इसके लिए भी अलग से कुछ बचत या निवेश कर लें, जिन्हें आपातकालीन ज़रूरतों के व़क़्त निकाला जा सके. साथ ही जैसा कि पहले भी बताया गया है, मुद्रास्फीति, आयकर कटौती, बढ़ते ख़र्चों आदि जोखिमों का भी आकलन करना ज़रूरी है.
और हां, उम्र के इस पायदान पर रिटायरमेंट प्लानिंग के साथ-साथ आपको तमाम मौजूदा जिम्मेदारियां भी तो निभानी ही हैं, जैसे-अपना घर, बच्चों की पढ़ाई, उनकी शादी आदि. अत: इनकी प्लानिंग करना भी न भूलें, ताकि रिटायरमेंट के बाद आपकी परेशानियों में कोई इजाफ़ा न हो.

थर्टीज़ में क्या-क्या करें?
उम्र के इस पड़ाव पर रिटायरमेंट प्लानिंग के साथ-साथ इन बातों पर भी पूरा ध्यान देना ज़रूरी है-

  • बच्चों की परवरिश, स्वास्थ्य पर ख़र्च.
  • जीवनसाथी की मौजूदा ज़रूरत तथा भविष्य की आर्थिक सुरक्षा का बंदोबस्त.
  • बच्चों की उच्च शिक्षा, शादी तथा करियर में सैटल करने के लिए बचत या निवेश.
  • अगर अपना घर न हो तो घर ख़रीदना.
  • रिटायरमेंट प्लानिंग.
अधिक फाइनेंस आर्टिकल के लिए यहां क्लिक करें: FINANCE ARTICLES 

[amazon_link asins=’9386394642,819321899X,0241229545′ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’0df55231-b4b9-11e7-a8a6-796832722788′]

रिटायरमेंट से पहले ख़ुद से पूछें 6 सवाल

shutterstock_136752227

वो दिन गए जब कर्मचारी कंपनी द्वारा तय उम्र में रिटायरमेंट लेते थे. आज का बिज़ी शेड्यूल और वर्क प्रेशर लोगों को शारीरिक और मानसिक रूप से इतना थका देता है कि लोग कंपनी द्वारा तय रिटायरमेंट की उम्र से पहले ही रिटायरमेंट ले लेते हैं. यदि आप भी उन्हीं में से एक हैं और 50 से पहले रिटायरमेंट लेना चाहते हैं, तो रिटायरमेंट से पहले ख़ुद से कुछ सवाल ज़रूर पूछें.

क्या आपने भविष्य के लिए पर्याप्त सेविंग की है?
आमतौर पर लोग प्रति माह अपनी सैलरी का तक़रीबन 10-15% हिस्सा भविष्य के लिए बचाते हैं. यक़ीनन आप भी ऐसा करते होंगे. तो ज़रा ख़ुद से पूछिए, क्या इतनी सेविंग आपके भविष्य के लिए पर्याप्त है? आपका जवाब हां हो सकता है, मगर तब जब आप 60 वर्ष के बाद रिटायरमेंट लेने वाले हों. 50 की उम्र में या उससे पहले महज़ इतनी सेविंग के भरोसे रिटायरमेंट लेना सही ऩहीं. 60 के बाद भविष्य के बचे हुए 15 से 20 साल आप इतनी सेविंग के भरोसे गुज़ार सकते हैं, मगर 50 में या उससे पहले रिटायरमेंट लेने पर बचे हुए 25 से 30 साल गुज़ारने के लिए इतनी सेविंग पर्याप्त नहीं है.

स्मार्ट मूव
यदि आप 50 या उससे पहले निश्‍चिंत होकर रिटायरमेंट लेना चाहते हैं, तो करियर के शुरुआत से ही सैलरी का 20 से 25% हिस्सा प्रति माह सेविंग करें. तब जाकर आप सुकून की ज़िंदगी जी सकते हैं.

क्या आपने सही दिशा और सही जगह सेविंग की है?
कहते हैं, ग़लत दिशा में की गई मेहनत कभी रंग नहीं लाती, तो भला ग़लत दिशा और ग़लत जगह की गई सेविंग आपके भविष्य के लिए कैसे सही और पर्याप्त साबित हो सकती है? अतः रिटायरमेंट से पहले आपका ये जानना भी ज़रूरी है कि आपने अपने बुढ़ापे को सुरक्षित रखने के लिए जहां कहीं भी सेविंग के नाम पर पैसे जमा किए हैं, क्या वहां से आपको पर्याप्त रिटर्न मिलेगा? उदाहरण के लिए- चूंकि कोई प्राइवेट कंपनी आपको डबल मुनाफ़ा दे रही है, इसलिए आपने वहां ज़रूरत से ज़्यादा पैसे इन्वेस्ट कर दिए, मगर कुछ वर्षों बाद आपको पता चलता है कि वो कंपनी फ्रॉड है. जितने रिटर्न की बात उस कंपनी ने की थी, उतना पैसा आपको नहीं मिलने वाला है. ऐसे में आपका रिटायरमेंट लेकर घर पर बैठ जाना आपको मुसीबत में डाल सकता है.

स्मार्ट मूव
अपनी गाढ़ी कमाई का जो भी हिस्सा आप सेविंग के नाम पर इकट्ठा कर रहे हैं, उसे सही दिशा में लगाएं. ऐसे रिटायरमेंट प्लान का हिस्सा बनें, जहां बुढ़ापे के साथ ही पैसों की सिक्योरिटी की भी शत प्रतिशत गारंटी हो.

क्या आपने अनुशासनबद्ध होकर इन्वेस्टमेंट किया है?
सेविंग के नाम पर गोल्ड, शेयर्स, प्रॉपर्टी आदि में इन्वेस्ट करना ही काफ़ी नहीं, बल्कि ये भी जानना ज़रूरी है कि आपने अनुशासनबुद्ध तरी़के से प्रति माह इन्वेस्टमेंट किया है या नहीं. इन्वेस्टमेंट को अनुशासन की ज़रूरत होती है, जैसे- आपने कहीं इन्वेस्ट किया और शुरुआती तीन-चार किस्तें तो आपने समय पर भर दीं, लेकिन उसके बाद पैसे भरने में आलस किया या आनाकानी करने लगे, तो आपको अच्छा रिटर्न नहीं मिलेगा. इंश्योरेंस जैसी कंपनियों में इन्वेस्टमेंट करने का अधिक फ़ायदा तब होता है, जब आप एक अच्छे इन्वेस्टर की तरह समय पर सारी किस्तें भरते रहें. समय पर किस्त भरने पर कंपनी थोड़ा अधिक ब्याज़ देती है. अतः रिटायरमेंट के लिए जल्दबाज़ी न करें. एक बार चेक कर लें कि आपने इन्वेस्टमेंट अनुशासनबद्ध होकर किया है या नहीं.

स्मार्ट मूव
भविष्य को लेकर यदि आप कहीं इन्वेस्ट कर रहे हैं, तो उसे हल्के में न लें. इन्वेस्टमेंट के सही तरी़के का चुनाव करें और अनुशासनबद्ध रहें. तभी आपको अधिक मुनाफ़ा मिलेगा.

कहीं बाकी काम के लिए सेविंग की रकम ख़र्च तो नहीं हुई है?
सुरक्षित भविष्य के लिए यदि आपने अच्छी सेविंग की है, मगर उसका इस्तेमाल वर्तमान ज़रूरतों को पूरा करने के लिए कर लिया है, जैसे- आपने रिटायरमेंट के नाम पर कुछ लाख रुपये बैंक में जमा किए थे, मगर कुछ वर्ष बाद आपने उन पैसों में से कुछ पैसे निकालकर गाड़ी ख़रीद ली या बेटे/बेटी की पढ़ाई में ख़र्च कर दिए, तो 50 की उम्र में या उससे पहले रिटायरमेंट की न सोचें. यदि आप ऐसा करते हैं, तो सेविंग की राशि रिटायरमेंट के बाद आपके लिए पर्याप्त नहीं होगी.

स्मार्ट मूव
भविष्य के लिए आप जो भी राशि जमा कर रहे हैं, उसे पूरी तरह भूल जाएं, तभी आप उसका इस्तेमाल भविष्य में कर पाएंगे. यदि आपके दिमाग़ में सेविंग की रकम होगी, तो आप बार-बार वही ख़र्च करने की सोचेंगे.

क्या आपने अपने ख़र्च और ज़रूरतों का सही आकलन किया है?
रिटायरमेंट से पहले ज़रा ये भी सोच लें कि क्या आपने भविष्य की ज़रूरतों और उन्हें पूरा करने में होने वाले ख़र्च का सही तरी़के से आकलन किया है? कहीं ऐसा तो नहीं कि आपकी आमदनी अठन्नी और ख़र्चा रुपइया है. ऐसा होना स्वाभाविक है, क्योंकि महंगाई के साथ-साथ स्टेटस भी बदलता है, जैसे- नौकरी के शुरुआती दौर में आप बस से ट्रैवल करते हैं, मगर कुछ वर्षों बाद आपको टैक्सी की लत लग जाती है. ऐसे में यदि आपने सेविंग बस के हिसाब से की है, तो आप टैक्सी का किराया अपनी सेविंग की रकम से चुकता नहीं कर सकते. अगर आप ऐसा करते हैं, तो सेविंग की राशि आपके ख़र्च के लिए कम पड़ सकती है.

स्मार्ट मूव
बुढ़ापे को सुरक्षित रखने के लिए जब भी सेविंग की शुरुआत करें, तब हालिया दौर के ख़र्च से भविष्य का ख़र्च डबल मानकर चलें. साथ ही इस बात का भी ध्यान रखें कि बुढ़ापे में आपकी आधी से ज़्यादा कमाई सेहत पर ख़र्च होने वाली है.

क्या आप सारी ज़िम्मेदारियों से मुक्त हैं?
हालांकि सवालों की फेहरिस्त का ये सबसे आख़िरी सवाल है, मगर इसका जवाब सबसे पहले ढूंढ़ने की कोशिश करें. तभी आप रिटायरमेंट के बाद चैन की सांस ले पाएंगे. यदि आपके ऊपर ख़रीदी गई प्रॉपर्टी की किस्त भरने, बच्चों की पढ़ाई, शादी-ब्याह आदि की ज़िम्मेदारी है, तो भूल से भी 50 से पहले रिटायरमेंट लेने की ग़लती न करें, वरना आपके एक ग़लत फैसले से पूरे परिवार का भविष्य अधर में लटक सकता है.

स्मार्ट मूव
समय के अनुसार अपनी ज़िम्मेदारियों को पूरा करते जाएं. साथ ही अलग-अलग ज़िम्मेदारी, जैसे- बच्चों की पढ़ाई, शादी आदि के लिए अलग से इन्वेस्टमेंट करें. इससे आप ज़िम्मेदारियों से जल्दी और आसानी से मुक्त हो जाएंगे.

[amazon_link asins=’B01MU9ZLPM,B075LPVD3L,B01G1K4EMC,B0158FJW4G’ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’a84d194a-b8ac-11e7-8c53-611a97718294′]

एंटी एजिंग डायट प्लान (Anti Aging Diet Plan)

Aging Diet Plan

अक्सर देखा गया है कि एक उम्र के बाद महिलाएं पुरुषों से ज़्यादा उम्रदराज़ दिखने लगती हैं. घर-परिवार की ज़िम्मेदारियों में फंसकर कहीं आप भी ख़ुद को पूरी तरह भूल तो नहीं गईं. अब भी व़क्त है ख़ुद को संभालें और एंटी एजिंग डायट प्लान को अपनाकर दिखें जवां.

 

कैसा हो नाश्ता?

अधिकतर महिलाओं में सुबह का नाश्ता स्किप करने की आदत होती है या फिर वो नाश्ते के नाम पर कुछ भी खा लेती हैं. आप भी अगर अब तक इसी तरह की दिनचर्या का पालन करती रही हैं, तो अब इसे बदल दें. रोज़ाना सुबह अपने नाश्ते में इन चीज़ों को शामिल करें.

बाजरे का पोहा या दलिया

  • ब्राउन राइस पोहा
  • ब्राउन राइस दलिया
  • ब्राउन राइस इडली

लंच में क्या खाएं?

दोपहर के खाने में कुछ भी खाने से बचें और अपने लंच में इन फूड्स को करें शामिल.

  • जौ की रोटी, ब्राउन राइस, हरी मूंग का सलाद, कद्दू के बीज की ग्रेवी में गाजर, क्विक पिकल.
  •  सब्ज़ियों के साथ बाजरा, हरी सब्ज़ी के साथ काबुली चने, सरसों या पालक का साग, प्रेस्ड सलाद.
  •  ब्राउन राइस, राजमा करी, लाल कद्दू किसी भी तरह से बना हुआ.
  •  मसूर की दाल, चुकंदर का सलाद.

डिनर में क्या खाएं?

  •  पालक और चुकंदर का सूप, ब्राउन राइस, मेथी गाजर की सब्ज़ी, मसाले वाली दाल या मछली, रोटी.
  •  टमाटर का शोरबा, दाल, टोफू के साथ हरी शिमला मिर्च, ब्राउन राइस या रोटी.
  •  गाजर और मटर की सब्ज़ी, राजगीरा और ज्वार की रोटी.
  • फूलगोभी का सूप, मसालों के साथ पालक, दाल, रोटियां या ब्राउन राइस.
  •  ब्रोकोली का सूप, फूलगोभी किसी भी तरह से बनाई हुई या स्टीम्ड फिश, दाल.
  •  लौकी का सूप, मसालेदार मेथी, ब्राउन राइस.