Tag Archives: planning

घर का काम बढ़ाता है बच्चों का आत्मविश्‍वास (Household work boost your children’s confidence)

 

बच्चों पर हुए एक अध्ययन में यह बात सामने आई है कि उन्हें घरेलू कामों में शामिल करने से बच्चों का आत्मविश्‍वास व आत्मसम्मान बढ़ता है. एक्सपर्ट्स की राय में हाउसहोल्ड वर्क यानी घरेलू काम को बच्चे एंजॉय करते हैं, बशर्ते उसे रुचिकर तरी़के से कराया जाए और काम को बोझ न बनाया जाए.

Parenting

* अध्ययन बताते हैं कि किसी की सहायता करने से व्यक्ति में आत्मसम्मान की भावना बढ़ती है.
* प्रशंसा मिलने पर आत्मविश्‍वास बढ़ता है, दोबारा काम करने की इच्छा जागृत होती है और धीरे-धीरे काम के प्रति ज़िम्मेदारी का एहसास होने लगता है.
* फिर वो अपने व अपनों के प्रति ज़िम्मेदार बनते चले जाते हैं.
* यदि आपके बच्चों को संयुक्त परिवार में रहने के कारण या फिर नौकर-चाकरों की सुविधा के कारण ऐसे काम करने की ज़रूरत ही नहीं पड़ी है, तो स्वाभाविक है कि ऐसे काम करना उन्हें शुरुआत में अच्छा और ज़रूरी नहीं लगेगा, लेकिन अगर उन्हें रुचिकर तरी़के से तथा काम के महत्व को समझाकर करवाया जाए, तो यह उनके विकास के लिए ही फ़ायदेमंद होगा.

शैक्षिक, सामाजिक व व्यावहारिक कुशलता बढ़ती है

* बच्चे काम के साथ व्यावहारिक व सामाजिक कुशलता भी सीख जाते हैं. * घर और बाहर के अंतर को समझने लगते हैं.
* उनका बचपन बड़ी सहजता से युवावस्था की दहलीज़ तक पहुंच जाता है.
* एक्सपर्ट्स का मानना है कि हाउसहोल्ड वर्क ऐसी वर्ल्ड क्लास एक्टिविटी है, जिसे किसी भी प्रकार के स्कूल या संस्था में नहीं सिखाया जा सकता है.

स्ट्रेस लेवल कंट्रोल में रहता है

* पढ़ाई व क्लासेस के बोझ तले बच्चे पूरी तरह से मानसिक रूप से थक जाते हैं.
* कभी-कभी तो यह स्ट्रेस इतना ज़्यादा होता है कि वे कुंठित व अवसादग्रस्त होने लगते हैं.
* ऐसे में घरेलू काम, जैसे- बेड लगाना, मनपसंद डिश बनाने में हेल्प करना, डस्टिंग, क्लीनिंग आदि मन को रिलैक्स कर देते हैं.
* बच्चे फिर से उत्साहित व फ्रेश हो जाते हैं.
* उनका स्ट्रेस लेवल कंट्रोल में रहता है.

प्लानिंग व अनुशासन में रहना सीखते हैं

* बच्चों को जब किसी भी काम की ज़िम्मेदारी दी जाती है, तो वे उसे अपने खेल, टीवी प्रोग्राम आदि के हिसाब से प्लान करने लगते हैं, ताकि वो काम भी करें और अपना रूटीन भी सही रख पाएं.
* इस प्रकार बचपन से ही वो प्लानिंग करना सीख जाते हैं.

* अनुशासन सफलता के लिए आवश्यक है.

* जब बच्चे काम करते हैं, तो उन्हें अपने वक़्त को इस तरह से प्लान करना होता है कि खेलकूद के लिए भी समय मिले और पढ़ाई के लिए भी.
* बिना अनुशासन के यह संभव नहीं.
* इस तरह से उन्हें काम और खेल दोनों के प्रति अनुशासित होना पड़ता है, अन्यथा संतुलन हो ही नहीं पाएगा.

पैरेंट्स गाइड

* बच्चे की उम्र व क्षमता का ध्यान रखें.
* काम देने से पहले अपने बच्चे की उम्र, शक्ति व क्षमता को ध्यान में रखना ज़रूरी है और फिर उसी के अनुरूप काम दिया जाना चाहिए.
* निर्देश देते समय सही शब्दों का प्रयोग करें.
* जो भी काम करवाना चाहते हैं, उसे उचित शब्दों के साथ स्पष्ट रूप से कहें, जैसे- ‘अपना कमरा साफ़ करो’ कहने की बजाय इस तरह कहें- ‘कपड़े आलमारी में रखो, क़िताबें शेल्फ में रखो, खिलौने बास्केट में रखो.’ इस तरह उसे समझ में आएगा कि कमरा कैसे साफ़ किया जा सकता है.
* उदाहरण देकर सिखाएं- जैसा काम आप करवाना चाहते हैं, पहले आप ख़ुद उस तरी़के से काम को करें, ताकि वो देखकर बच्चे सीख सकें.
* अपने साथ-साथ ही बच्चों से काम करवाएं. धीरे-धीरे वे आपके कहे बिना ही अकेले काम करने लगेंगे.

– प्रसून भार्गव

 

अन्य पैरेंटिंग संबंधित जानकारी अथवा टिप्स के लिए यहाँ क्लिक करे – Parenting Tips

कैसे करें यंगस्टर्स फाइनेंशियल प्लानिंग की शुरूआत? (Financial Planning for youngsters)

13866

बेहतर वर्तमान और सुरक्षित भविष्य के लिए बहुत ज़रूरी है कि अर्ली एज में ही फाइनेंशियल प्लानिंग शुरू कर दी जाए. इस उम्र में मौज-मस्ती करने के साथ-साथ आप भी करें कुछ ज़रूरी काम, जिससे आपका आने वाला कल हंसता-मुस्कुराता रहे. आपकी नेक्स्ट जेनेरेशन हैप्पी और सेफ रहे. आप पर भी ज़्यादा भार न पड़े. तो चलिए जानते हैं कि कैसे करें आप फाइनेंशियल प्लानिंग.

सेल्फ मोटीवेशन
किसी भी तरह का नया काम शुरू करने के लिए सबसे ज़रूरी है कि आपका सेल्फ पर कंट्रोल रहे. पैरेंट्स के कहने पर आप कोई काम कर तो देते हैं, लेकिन उसमें आपका इंटरेस्ट नहीं होता. पैरेंट्स के कहने पर इंश्योरेंस करवाना, पैसे बचाना आदि से काम नहीं चलेगा. आपको ख़ुद इनिशिएटिव लेना होगा. आपको ये सोचना होगा कि फ्यूचर को किस तरह से नर्चर करना है. जब तक आप ख़ुद को मोटीवेट नहीं करेंगे, सही फाइनेंशियल प्लानिंग नहीं कर सकते.

सेल्फ कंट्रोल
पैरेंट्स के कहने पर कम ख़र्च, शॉपिंग पर लगाम लगाने से अच्छा है कि आप ख़ुद ही कंट्रोल करना सीखें. पैसे कहां से आते हैं, ये आप भी जानते हैं. आपको पता है कि पूरे महीने काम करके आप कितनी सैलरी पाते हैं और फिर उसे एक ही हफ़्ते में उड़ा देते हैं. जेब ख़र्च से लेकर शॉपिंग, क्रेडिट/डेबिट कार्ड, सभी पर आपको कंट्रोल करके अपने फ्यूचर के बारे में सोचना होगा.

फाइनेंशियल प्रोग्राम्स देखें
अगर आपको समझ नहीं आ रहा है कि किस तरह से शुरूआत की जाए, तो बेहतर होगा कि क्रिकेट, सीरियल, मूवी आदि से समय निकालकर कुछ व़क्त ऐसे प्रोग्राम्स देखें, जिसमें फाइनेंस से जुड़ी बातें बताई जाती हैं. बेहतर होगा कि आप न्यूज़ पेपर में फाइनेंस वाला पेज पढ़ना शुरू करें. इससे धीरे-धीरे आप फाइनेंस से जुड़ने लगेंगे और आपकी रुचि बढ़ेगी.

स्मॉल इन्वेस्टमेंट
ये बात हम भी जानते हैं कि अभी-अभी आपने अपनी नौकरी शुरू की है. कॉलेज छोड़े आपको कुछ महीने ही बीते हैं, इसलिए हम नहीं कहेंगे कि बड़े इन्वेस्टमेंट करें. अपनी सैलरी का एक छोटा-सा हिस्सा इन्वेस्ट करें. बेहतर होगा आरडी से शुरूआत करें. एक पॉलिसी लें. आप ईयर्ली पॉलिसी लेने की बजाय मंथली प्रीमियम भरें.

टैक्स की जानकारी रखें
भले ही आपकी सैलरी टैक्सेबल नहीं है, लेकिन टैक्स की जानकारी रखना आपका फर्ज़ है. टैक्स स्लैब, इन्वेस्टमेंट आदि के बारे में जानकारी रखें. टैक्स बचाने के लिए कहां-कहां इन्वेस्ट कर सकते हैं, इसकी जानकारी आपको होनी चाहिए.

स्मार्ट टिप्स
– अपने पैरेंट्स से सलाह लें.
– दोस्तों से इन्वेस्टमेंट की सलाह न लें.
– अगर समझ में नहीं आ रहा है, तो किसी एक्सपर्ट की सलाह लें.
– हो सके, तो सैलरी का एक हिस्सा अभी से रिटायरमेंट के लिए सेव करें.
– मेडिकल इंश्योंरेंस करवाएं.

श्वेता सिंह 

अधिक फाइनेंस आर्टिकल के लिए यहां क्लिक करें: FINANCE ARTICLES 

[amazon_link asins=’B072YRR5DS,9386394553,9385965565′ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’8a7dca7c-b4b1-11e7-a83c-e70132ff480f’]