pms problem

मेरी उम्र 23 वर्ष है. मैं पीएमएस (प्री- मेन्स्ट्रुअल सिंड्रोम) की समस्या से परेशान हूं. माहवारी आने के एक ह़फ़्ते पहले मुझे स्तनों में दर्द होने लगता है, पेट फूलने लगता है, चिड़चिड़ाहट होती है और बहुत ग़ुस्सा आता है. माहवारी के बाद मैं सामान्य हो जाती हूं. हर महीने की इस समस्या से मैं कैसे छुटकारा पाऊं?
– प्रियंका गुप्ता, धार.

पीएमएस (प्री-मेन्स्ट्रुअल सिंड्रोम) एक आम समस्या है, जो हार्मोंस में परिवर्तन के कारण होती है और लगभग सभी महिलाएं इस दौर से गुज़रती हैं. इसका कोई इलाज नहीं है. आप हेल्दी डायट लें. नमक, चाय-कॉफ़ी आदि का सेवन कम करें. एक्सरसाइज़ करने और कैल्शियम के सेवन से भी थोड़ा फ़ायदा हो सकता है. कुछेक मामलों में हार्मोंस की दवाइयां भी दी जाती हैं.

यह भी पढ़ें: Personal Problems: एक्टॉपिक प्रेग्नेंसी क्या होती है? (What Is Ectopic Pregnancy?)

मैं 36 वर्षीय महिला हूं और मेरे दो बच्चे हैं. दूसरे बच्चे के बाद मैंने अपनी दोनों ट्यूब बंद करवा दी थी. मेरे पहले बच्चे की मौत 4 वर्ष की उम्र में हो गई. अब मैं फिर से मां बनना चाहती हूं. क्या मैं ट्यूब्स को फिर से खुलवा सकती हूं.
– मनाली शहाणे, रायगढ़.

लेप्रोस्कोपिक द्वारा दोबारा ट्यूब खुलवाई जा सकती है. हालांकि इस ऑपरेशन की सफलता की संभावना कम होती है, क्योंकि ट्यूब्स बहुत ही नाज़ुक होती हैं. यदि आपको इसमें सफलता न मिले तो आप आईवीएफ ट्रीटमेंट करवा सकती हैं. इसमें सफलता की गुंजाइश काफ़ी ज़्यादा है.

यह भी पढ़ें: Personal Problems: क्या गर्भनिरोधक गोलियों से वज़न बढ़ता है? (Do Contraceptive Pills Cause Weight Gain?)

Dr. Rajshree Kumar

डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा ऐप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies