poem

गर्मी में भी
सबसे ज़्यादा खीझ मनुष्य को हुई
उसने हवाओं को क़ैद किया
बना डाले एसी
और.. रही-सही हवा भी जाती रही

सर्दियों में भी
सबसे ज़्यादा वही ठिठुरा
उसने कोहरे ढकने की कोशिश की
और.. धूप भी रूठी रही
कोहरा भी ज़िद पर अड़ा

बारिश में भी सबसे पहले सीले
मनुष्य के ही संस्कार
परिणामस्वरूप
बारिश नहीं रही अब पहले जैसी

बसंत में भी
उसको नहीं भाया फूलों का खिलना
उसने पेड़ काटे.. जंगल खोदे
परिणामत:
वह भटक रहा है
अपने ही कंक्रीट के जंगलों में

और इस तरह..
वह अंत तक ढोता रहा
अपने झूठ-मूठ के मनुष्यपन को…

Namita Gupta 'Mansi'
नमिता गुप्ता ‘मनसी’
Kavita

यह भी पढ़े: Shayeri

वक़्त से लम्हों को
ख़रीदने की कोशिश की
वह मुस्कुराया
बोला
क्या क़ीमत दे सकोगे
मैं बोला
अपने जज़्बात दे देता हूं
तुम मुझे लम्हे दे दो
वह बोला कम हैं
इस मोल न ख़रीद सकोगे
मैं बोला जीवन ले लो
वह बोला
वह तो महबूब के हाथों
गिरवी रख चुके हो
और उस उधार को चुका कर
तुम्हारे महबूब से
तुम्हारी ज़िंदगी ले पाने की
औकात मेरी नहीं है
मैं बोला तुम क़ीमत बता तो
ऐ वक़्त
बिना लम्हों के
ज़िंदा कैसे रहूंगा
सुनो मुझ से मेरी यादें ले लो
बड़ी क़ीमती है
वह हंसा
एक तरफ़ मुझ से लम्हों की क़ीमत पूछते हो
और दूसरी तरफ़ मोलभाव कर
ऑफर देते हो
इंसान हो
अपनी फ़ितरत से
नहीं बाज आओगे
चलो मैं बता देता हूं
अपने दिल को
शीशा कर लो
कुछ ओस की बूंदें
भर लो
देख लो आर-पार ज़िंदगी के
अपनी मुट्ठी खोल लो
अपनी आंखों को ऊपर कर लो
तुम इंसान सिर्फ़
ख़रीदना और बेचना जानते हो
यहां तक कि
प्यार भी
लम्हे ख़रीद पाना
तुम्हारी औकात के बाहर है
कोई दौलत दे कर
न ख़रीद पाओगे
हां वक़्त के कदमों में झुक सको
तो हाथ ऊपर कर अजान दे दुआ मांगना
हो सकता है
उसकी रहमत से
कुछ लम्हे
तुम्हारी झोली में
आ गिरे
आमीन…

मुरली मनोहर श्रीवास्तव

Kavita

यह भी पढ़े: Shayeri

Kavita

नव वर्ष की पावन बेला मन मेरा तो हर्षित है
नए सूर्य की आभा से मानो सब आलोकित है

उम्मीद और आशा की ओढ़ चुनर ये आया है
स्वागत में अल्लाहदित इसके हवाओं ने गीत गाया है

चहुं ओर उल्लास है आनंदमयी प्रकाश है
चांद और तारों के संग झूमता आकाश है

निराशा के घोर तम का तर्पण आओ करते हैं
पुष्प आशा के नव वर्ष को सब मिल अर्पण करते हैं

बिखर गया जो गए साल में फिर से उसे संजोते हैं
उजड़ गया था चमन हमारा नई फसल फिर बोते हैं

ग़म में अश्रु बहुत बहाए अब ख़ुशियों की बारी है
नव चेतना से संचित हो जीने की तैयारी है

वर्ष था संघर्षोंभरा मुश्किलों का जोर था
सीखा गया जो हमें भूले अपनेपन का दौर था

खोई थी पहचान हमारी स्वयं से नाता जोड़ गया
हम ही श्रेष्ठ धरा पर इस भ्रम को कैसे तोड़ गया

चिरनिद्रा में सोकर हम तो भौतिकता में खोए थे
प्रतिफल मिला हमे वो ही जो बीज हमने बोए थे

सरिता का नीर स्वच्छ कलकल पंछियों का मधुर गान
कोरोना आया कैसा कुदरत से कराई पहचान

जीवन का अनूठा सबक गत वर्ष जाते दे गया
पर थे जो कुछ अनमोल पल वो छीन हमसे ले गया

जो चला गया, बीत गया, वो था कल पुराना
दृढ़ संकल्पों की ख़ुशबू से महकेगा नया ज़माना

सकारात्मक सोच की उड़ान आओ भरते हैं
नव भावों के नव सृजन से नव वर्ष का आगाज़ करते हैं…

Saarika phalor
सारिका फलोर

यह भी पढ़े: Shayeri

Kavita

तुम और मैं
मिले तो मुझे अच्छा लगा
गुज़रे वक़्त की कसक कुछ कम हुई
परंतु मन के डर ने कहा
तुम दूर ही अच्छे हो..

जानती हूं मैं
तुम्हारे आने से होंठो पर मुस्कान आई
और मन में उमंग भी छाई
फिर भी कहती हूं
तुम दूर ही अच्छे हो..

देखने लगी मैं
भविष्य के लिए सुनहरे सपने
सजने लगे आंखों में नई उम्मीदें
फिर भी यह लगा
तुम दूर ही अच्छे हो..

समझ गई मैं
तुम क्षणिक जीवन में विश्‍वास करते हो
परंतु मैंने शाश्वत जीवन की कल्पना की थी
इसलिए मैंने कहा
तुम दूर ही अच्छे हो..

जान गई मैं
हमसफ़र ना हुए तो क्या हुआ
ख़ूबसूरत और मीठी याद तो हो
पास होकर भी
तुम दूर ही अच्छे हो…

अमृता सिन्हा

यह भी पढ़े: Shayeri

Kavita

नेत्र कहूं नयन कहूं या कहूं मैं चक्षु
आंखों की भाषा सिर्फ़ नहीं है अश्रु
जीवन का दर्पण है आंखें
भक्ति का अर्पण है आंखें
प्रेम की अभिव्यक्ति आंखें
तो कभी विरह का क्रन्दन बन जाती आंखें
जो अधरों से ना फूटे वो बोल है आंखें
प्रियतम की प्रीत का हसीन एहसास करती आंखें
कभी प्रेम तो कभी समर्पण आंखें
तो कभी नशे से मदहोश हो झूमती आंखें
ग़म को अश्रुओं में बहाती आंखें
तो कभी उसी ग़म को हंसी में छिपाती आंखें
दिल के दरवाज़ों में बंद राज़ को बेपरदा करती आंखें
तो कभी हर राज़ को दफ़न करती आंखें
चाहे जितना छिपाओ मन के भावों को पर
हर भाव की अभिव्यक्ति बन जाती ये आंखें
रात को ख़्वाब सजाती
दिन में हक़ीक़त से रूबरू करवाती ये आंखें
ख़ुशक़िस्मत है वो जिन पर आंखों की नेमत है
है अगर दो आंखें तो ज़िंदगी का हर लम्हा रोशन है…

Sarika Fallor
सारिका फलोर

यह भी पढ़े: Shayeri

Kavita
Kavya

हे प्रभु
यदि तुम्हारे साथ भी मुझे
कुछ कहने से पहले
सोचना पड़े
अर्थात अच्छे-बुरे
सही-ग़लत का विचार करना पड़े
तो फिर तुम
परमात्मा कहां हुए?
सीमाओं में बंधे अपने जैसे ही
एक और कुछ अधिक
शक्ति व स्वतंत्रता से सम्पन्न
मनुष्य की कल्पना
परमात्मा को
कहां जन्म देती है
जिसकी शक्ति क्षमता और
सीमाओं का निर्धारण कर
हम किसी क्षण में अपने भीतर
जन्म देने का प्रयास करते हैं
वह हमारी ही कल्पना का निर्माण है
जबकि हम तुम्हारे अस्तित्व से
अस्तिव पाते हैं
तुम हमारे
अस्तित्व से बंधे नहीं हो
तुम किसी भी अस्तित्व से
बंधन से घटना, बातचीत और
चिंतन से मुक्त
बुद्धि से परे शुद्ध चेतना स्वरूप परिभाषित हो
जबकि तुम परिभाषा से भी
मुक्त हो और इसीलिए अनेक
परिभाषाओं से युक्त हो कर भी
अभी तक परिभाषित नहीं हो
और तुम से कुछ कहना पड़े
कहने से पहले सोचना पड़े
तो यह शब्द व भाषा की सीमितता है
हमारे मानव जन्म का
किन्हीं प्रयोजन के अर्थों में
सीमित हो जाना है
भाषा, संवेदन, बुद्धि
सब का किसी बिंदु पर
कह पाने की क्षमता से
असमर्थ हो जाना है
मौन भी भाषा है
मौन भी शब्द है,
मौन भी कथ्य है
तुमसे कुछ कहने में
मौन भी असमर्थ है
क्योंकि अभिव्यक्ति शक्ति भी
तुमसे ही जन्मती है
करुणा भाव नेत्र
सब अभिव्यक्ति के माध्यम हैं
मैं तुमसे कुछ कहने चला हूं
बोलो कैसे कह सकता हूं
कहीं ऐसा हुआ है क्या?
कि जो कहा गया हो
वही कह दिया गया हो
कह दिया गया तो वह है
जो समझ लिया जाता है
समझ लिया
कह दिया गया तो नहीं है
वरना कहे हुए को अनेक माध्यम से
बार-बार समझाने की
आवश्यकता ही क्यों होती?
हे प्रभु तुम समझ लो
जो कहने के लिए मैं
बार-बार उद्धरित हो रहा हूं
क्योंकि तुम्हारे साथ
कुछ कहने से पहले
मैं सोच नहीं सकता
तुम समझ सकते हो
क्योंकि तुम परमात्मा हो
और मैं जितनी बार कहने की कोशिश करूंगा
उतनी बार मुझे उसे
समझाने का प्रयास करना होगा
ॐ…

Murali Manohar Srivastava
मुरली मनोहर श्रीवास्तव
Kavya

यह भी पढ़े: Shayeri

Kavita

वस्त्रहरण

दौपदी का, हुआ था युगों पहले

धृतराष्ट्र के

द्यूत क्रीड़ागृह में

युगों के प्रवाह में नष्ट नहीं हुआ वो

द्यूत क्रीड़ागृह

अपितु इतना फैला

इतना फैला कि आज समूचा देश ही

बन गया है

द्यूत क्रीड़ागृह

दाँव पर लगती है

हर मासूम लड़की की ज़िंदगी

जिसने किया है गुनाह

सपने देखने का

किया है गुनाह

युगों के संवेदनहीन अंधत्व पर हंसने

और

अपनी शर्तों के साथ आत्मनिर्भर जीवन जीने का

युगों पहले कहा था

भीष्म ने सिर झुकाकर अग्निसुता से

धर्म की गति अति सूक्ष्म होती है पुत्री

नहीं है प्रावधान

धर्म में

रोकने का दुःशासन के हाथ

और मैं हूँ बंधा धर्म के साथ

विवश हूँ, क्षमा करो

और आज फिर वही

अनर्गल, नपुंसक विवशता

क़ानून की

मैं विवश हूँ, बंधा हूँ क़ानून के साथ

नहीं रोक सकता किसी नाबालिग के हाथ

पिंजरे में हैं मेरे अधिकार

और

वो है स्वतंत्र करने को, नृशंसता के सभी हदें पार

अभिभावकों, मंच पर आओ

‘ओ री चिरैया’ के गीत गाओ,

और दो आँसू बहाकर

घर जाकर

अपने आँगन की चिरैया के पर कतरकर

कर दो उसे पिंजरे में बंद

क्योंकि हम हैं विवश

अपराधियों को सड़कों पर

विचरने देने को स्वच्छंद

तो क्या

इक क्रांति युग में लाने की

सैलाब दिलों में उठाने की

अथक यात्रा ख़त्म हुई?

टूटी सारी आशाएँ?

मिट गए सभी भ्रम?

नहीं, नहीं, हम अग्निसुता, हम भैरवी

हम रणचंडी, हम माँ काली

हम इतने कमज़ोर नहीं

अभी नहीं मिटा है एक हमारा

उस परमशक्ति पर दृढ़ विश्‍वास

सह लेंगे हम उसी भरोसे

और कुछ वर्षों का वनवास

बाधा, विघ्नों में तप-तपकर

आत्मशक्ति को और प्रखरकर

पाएंगे हम पात्रता

हो उस महाशक्ति के हाथ हमारे रथ की डोर

फिर जोड़ेंगे महासमर

फिर होगा विप्लव गायन

देंगे फिर युग को झकझोर

शर शैया पर लेटेगा ही

इक दिन ये जर्जर क़ानून

मिटाने को अंधी संवेदनहीनता

जब होगा हर इक दिल में जुनून

लचर न्याय व्यवस्था को

जगत से जाना ही होगा

हम सबको संगठित तपस्या कर

नवयुग को लाना ही होगा…

bhavana prakash
भावना प्रकाश

यह भी पढ़े: Shayeri

Hindi Poems

प्रकृति प्रेम…

Kavita

अभी तलाश रही हूं कुछ पीले शब्द
कि एक कविता लिखूं
पीली सी
ठीक उस पीली सोच वाली लड़की के जैसी
भीगती हुई
पीली धूप में तर-बतर
बटोरती हुई सपनों में
गिरे पीले कनेर
जो नहीं जानती फूल तोड़ना
घंटों बतियाती है जो चुपचाप
पीले अमलतास से
निहारा करती है रोज़
रिश्तों के पीले सूरजमुखी…

Namita Gupta 'Mansi'
नमिता गुप्ता ‘मनसी’
Kavita

यह भी पढ़े: Shayeri

Poetry

संघर्ष चल रहा है
युद्धीय स्तर पर
मन और बुद्धि के बीच
निरंतर संघर्ष..

विचार शक्ति का तर्क है कि
‘तुम्हें यूं याद करना
व्यर्थ है- पीड़ा दायक है
पागलपन भी
वह एक सपना था
मीठा ही सही
पर
बहुत पुराना
नामुमकिन है अब
उसको पाना
सपने टूटे तो
आहत करते हैं..

यह मन भी तो
पर कहां मौन है?
उत्तर है उसका
‘जीवन जिया जाता होगा
दिमाग़ी क़ानूनों से
मैं तो जानू बस
प्रीत की भाषा’

अजब टेढ़ी हैं इसकी राहें
है दलदल भी बहुत
ऊबड़-खाबड़ इस पथ पर
आंख मूंद चलोगे तो
घायल तुम ही हो जाओगे
रे मन..

पर यह मन
सुनकर भी अनसुनी कर देता है
मुस्कुराकर मन ही मन
अपने मन की ही करता है…

Usha Wadhwa
उषा वधवा

यह भी पढ़े: Shayeri

Poetry

द्रौपदी

स्वयंवर

मैं अग्निसुता, मैं स्वयंप्रभा

मैं स्वयं प्रभासित नारी हूं

मैं यज्ञ जन्मा, और पितृ धर्मा

नहीं किसी से हारी हूं

हे सखे बताओ किंचित ये

क्यों हलचल सी मेरे मन में है?

वरण करूं मैं जिसका क्या

ऐसा कोई इस जग में है?

कैसे चुनूंगी योग्य पति

कैसे मैं उसे पहचानूंगी?

गर मेरे योग्य नही है वो,

तो कैसे मैं ये जानूंगी,

मेरे तेज को क्या कोई

सामान्य जन सह पाएगा

फिर सिर्फ़ निशाना साध मुझे

कोई कैसे ले जाएगा?

हे प्रभु, कहा है सखा मुझे

तो सखा धर्म निभाना तुम

क्या करूं क्या नहीं

सही राह दिखलाना तुम!..

bhavana prakaash
भावना प्रकाश

यह भी पढ़े: Shayeri

Kavita-

देखा था पहली बार
वसंत को
तुम्हारी आंखों से
छलकते प्यार में
महसूस किया था
टेसू की तरह
रक्तिम अपने होंठों पर
हवा में लहराते पत्तों की तरह
सरगोशी करते कुछ शब्दों में
सुनी थी उसकी आवाज़
कानों के बेहद क़रीब
फिर रोम-रोम में
उतर गया था
एक स्पर्श सा वसंत
अमलतास के पीले उजालों सा
कचनार की कलियां
चटक कर खिल गई थी
गालों पर
आज भी
उस वसंत की छुवन
महुए के नशे सी
तारी है दिल पर…

Vinita Rahurikar
विनीता राहुरीकर

यह भी पढ़े: Shayeri

Poetry

कोयलिया
तू हर दिन किसे बुलाती है?

भोर होते ही सुनती हूं तेरी आवाज़
विरह का आर्तनाद
प्रणयी की पुकार
मनुहार
सभी कुछ है उसमें
गूंज उठता है उपवन
हर दिन
दिन भर

ढूंढ़ती है उसे तू डाल-डाल
भोर से सांझ तक
तेरा खुला निमंत्रण पाकर भी
नहीं आता क्यों मीत तेरा?
विरक्त है तुझसे?
या वह
विवश?

प्रात: होते ही गूंज उठती है
फिर वही पुकार
कुहू-कुहू की अनुगूंज
खिड़की की राह भर जाती है
मेरे कमरे में
द्विगुणित हो गूंजती है
मेरे आहत मन में
पुकारता है मेरा भी मन
मनमीत को
विरह का आर्त्त
प्रणयी की पुकार
मनुहार
सभी कुछ उसमें
पर सखी
कैसे पहुंचे उस तक
मेरी आवाज़?
पंख विहीन मैं
मेरे तो लब भी सिले हुए हैं!..

Usha Wadhwa
उषा वधवा

यह भी पढ़े: Shayeri

Kavita