Tag Archives: pregnancy

Personal Problems: क्या पीरियड्स में सेक्स करने से प्रेग्नेंसी हो सकती है? (Can You Pregnant During Your Periods?)

मेरी एक सहेली ने पीरियड्स के पहले दिन सेक्स किया था, जिसके बाद दूसरे दिन से उसे ब्लीडिंग हुई ही नहीं. पीरियड्स न होने की वजह से वो काफ़ी परेशान है. कहीं वो प्रेग्नेंट तो नहीं?
–  मोहिनी राणा, इलाहाबाद.

अगर पीरियड्स के दौरान ब्लीडिंग फ्लो सही था, तो प्रेगनेंसी के बहुत काम चान्सेस हैं. आपके इस तरह के ब्लड फ्लो का कारण हार्मोन्स का असंतुलन हो सकता है. फिर भी निश्चिन्त होने के लिए यूरिन प्रेग्नेंसी टेस्ट करा लें. या फिर आप अगले पीरियड्स तक इंतज़ार करें, अगर तब भी ब्लीडिंग इस बार की तरह हो तो समझ जाएं की यह नॉर्मल है. प्रेगनेंसी स्टेटस की सही जानकारी के लिए आप बीटा एचसीजी ब्लड टेस्ट भी करा सकती हैं.

यह भी पढ़ें: पीएमएस के दौरान बहुत ज़्यादा चिड़चिड़ापन महसूस होता है (I Feel Very Frustrated During PMS)

Pregnant in Periods

 

मेरी एक समस्या है कि सेक्स के बाद अक्सर मेरा जी मिचलाने लगता है. सेक्स के बाद उल्टी जैसा फील होना क्या नॉर्मल है?
– सानिका मोरे, पुणे.

ये बेहद ही सामान्य बात है. हार्मोनल बदलाव की वजह से सेक्स से पहले और बाद में इस तरह की समस्या होती है. सेक्सुअल ऐक्टिविटी शुरू करने से पहले पानी पीना अवॉइड करें. सेक्सु्अल ऐक्टिविटी के बाद अपने गुप्तागों को क्लीन करें. रूम का तापमान कम रखें, इन चीज़ों को करने से आपको काफ़ी मदद मिलेगी. आप चिंता न करें, क्योंकि ये चिंता वाली बात ही नहीं है.

 

यह भी पढ़ें:  पीरियड्स देरी से आने के क्या कारण हो सकते हैं? (What Could Be The Reasons For Delayed Periods?)

Dr. Rajshree Kumar

 

डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

 

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

 

Personal Problems: कंसीव न कर पाने के क्या कारण हो सकते हैं? (What Could Be Possible Reasons For Non Conception?)

मैं 26 वर्षीया महिला हूं. ढाई साल पहले मेरी शादी हुई थी, पर अभी तक मैं कंसीव नहीं कर पाई हूं. मुझे इसके लिए क्या करना होगा?
– शीतल पटेल, सूरत.

अगर गर्भधारण के लिए ट्राई करते हुए आपको 12 महीने से ज़्यादा का समय हो गया है, तो आपको इसके लिए किसी एक्सपर्ट डॉक्टर, जैसे- गायनाकोलॉजिस्ट या फर्टिलिटी एक्सपर्ट को मिलना होगा. वो कुछ टेस्ट्स करके चेक करेंगे कि आपके केस में सबकुछ ठीक है या नहीं. कंसेप्शन के लिए कुछ बातें ज़रूरी हैं, जैसे- हर महीने महिला के ओवरीज़ से एग का रिलीज़ होना, एग फैलोपियन ट्यूब्स से होकर यूटरस में पहुंचे और इस दौरान एग पुरुष के स्पर्म से फर्टिलाइज़ हो और फिर फर्टिलाइज़्ड एग यूटरस में प्लांट हो. इस पूरी प्रक्रिया में आपके एग्स और ओव्यूलेशन काफ़ी मायने रखता है, इसलिए डॉक्टर टेस्ट के ज़रिए आपके ओवेरियन रिज़र्व को चेक करेंगी. आप चाहें, तो किसी फर्टिलिटी एक्सपर्ट से भी मिल सकती हैं.

यह भी पढ़ें: क्या इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्टिव्स के साइड इफेक्ट्स होते हैं? (Does Emergency Contraceptives Have Any Side Effects?)

 

urine infection
मैं 32 वर्षीया महिला हूं. कैसे कहूं, समझ में नहीं आ रहा, पर मुझे बार-बार यूरिन इंफेक्शन की समस्या हो जाती है. मैं क्या करूं, कृपया बताएं.
– उमा पांडे, कानपुर.

जर्म्स और बैक्टीरिया के कारण क्रॉनिक यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन होता है, पर ई-कोली बैक्टीरिया इसका मुख्य कारण हो सकता है. बार-बार यूरिन पास करने की इच्छा होना, यूरिन में ब्लड आना, ब्लैडर एरिया में दर्द और लोअर बैक में दर्द होना इसके लक्षण हैं. अगर यूरिन इंफेक्शन आपकी किडनी तक पहुंच जाए, तो बुख़ार, उल्टी आना, चक्कर आना और थकान जैसे लक्षण दिखाई देते हैं. कुछ बैक्टीरिया यूरिन के ज़रिए बड़ी तेज़ी से बढ़ते हैं. सेक्सुअल एक्टिविटी के कारण भी महिलाएं इसकी शिकार हो सकती हैं. कम पानी पीना और अनहाइजीनिक पब्लिक टॉयलेट का इस्तेमाल भी आपको यह इंफेक्शन दे सकता है, इसलिए सावधान रहें. ख़ूब पानी पीएं, ताकि जर्म्स शरीर से फ्लश आउट हो जाएं. किसी गायनाकोलॉजिस्ट से मिलें.

यह भी पढ़ें:  पीरियड्स देरी से आने के क्या कारण हो सकते हैं? (What Could Be The Reasons For Delayed Periods?)

Dr. Rajshree Kumar

 

डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

 

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

गर्भपात रोकने के 5 चमत्कारी घरेलू उपाय (How To Prevent Miscarriage Naturally- Top 5 Home Remedies)

गर्भपात रोकने के 5 चमत्कारी घरेलू उपाय आपको मां बनने का सुख देते हैं. गर्भपात के कारण कई महिलाएं मां नहीं बन पातीं और उनका मां बनने का सपना अधूरा रह जाता है. गर्भपात के कारण महिलाओं को शारीरिक-मानसिक कष्ट से गुज़रना पड़ता है, इससे बचने के लिए हम आपको बता रहे हैं गर्भपात रोकने के 5 चमत्कारी घरेलू उपाय.

Home Remedies

1) हरी दूब के पंचांग (जड़, तना, पत्ती, फूल, फल) को पीसकर, उसमें मिश्री व दूध मिलाकर 150-200 ग्राम शरबत के रूप में सुबह-शाम पीने से गर्भपात नहीं होता.
2) गाय का ठंडा किया हुआ दूध व जेठीमधु का काढ़ा बनाकर पिलाएं. साथ-साथ इसी काढ़े को नाभि के नीचे के भाग पर लगाएं. इससे गर्भस्राव की संभावना कम हो जाती है.
3) अशोक की छाल का क्वाथ बनाकर कुछ दिनों तक सुबह-शाम पिलाने से गर्भवती स्त्री के गर्भस्राव की संभावना नहीं रहती.
4) एक पके केले को मथकर, उसमें शहद मिलाकर गर्भवती को खिलाएं. ऐसा करके गर्भपात की संभावना को रोका जा सकता है.
5) पीपल और बड़ी कंटकारी की जड़ पीसकर भैंस के दूध के साथ कुछ दिनों तक लेने से भी गर्भपात नहीं होता.

यह भी पढ़ें: स्तनों (Breast) को बड़ा और सुडौल बनाने 5 अचूक घरेलू उपाय (Breast Enhancement: 5 Home Remedies To Increase Breast Size)

 

गर्भपात रोकने के लिए ये नुस्ख़े भी हैं बहुत काम के

* वंशलोचन, मिश्री, नागकेशर को लेकर बारीक चूर्ण कर लें. इसे 2 ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम गाय के दूध के साथ खाने से लाभ होता है.
* मूली के बीजों का कपड़छन बारीक चूर्ण और भीमसेनी कपूर को गुलाब के अर्क में मिलाकर गर्भ ठहरने के बाद योनि में कुछ दिनोें तक मलने से बहुत लाभ होता है. अगर किसी स्त्री को बार-बार गर्भस्राव होता है तो उसके लिए यह प्रयोग बहुत ही फ़ायदेमंद है.

गर्भपात रोकने के 5 चमत्कारी घरेलू उपाय जानने के लिए देखें वीडियो:

 

Personal Problems: पैप स्मियर टेस्ट क्यों किया जाता है? (What Do They Check For In A Pap Smear Test?)

पैप स्मियर टेस्ट, Pap Smear Test
मैं 33 वर्षीया कामकाजी महिला हूं और मेरी 7 महीने की एक बच्ची है. कुछ दिनों पहले ही मुझे पता चला कि प्रेग्नेंसी के दौरान अगर मां को थायरॉइड हो, तो वो बच्चे को भी हो सकता है. हालांकि प्रेग्नेंसी के दौरान दवाई लेने के कारण मेरा थायरॉइड नॉर्मल था, पर क्या इसकी संभावना है? कृपया, मेरा मार्गदर्शन करें.
– सरोजनी भारद्वाज, पटना.

सबसे पहले तो आपको डरने की कोई ज़रूरत नहीं है, क्योंकि प्रेग्नेंसी में थायरॉइड की शिकायत होना कोई बड़ी बात नहीं. यह किसी तरह का इंफेक्शन नहीं है, जो मां से बच्चे को हो जाएगा. थायरॉइड डिसफंक्शन प्रेग्नेंसी के दौरान भी हो सकता है, पर ज़्यादातर मामलों में डिलीवरी के 6 हफ़्तों के भीतर ही इसका समाधान कर दिया जाता है. इसलिए ज़रूरी है कि आप डिलीवरी के बाद थायरॉइड का लेवल चेक करते रहें. अगर मां को थायरॉइड डिसफंक्शन है, तो इसका यह बिल्कुल मतलब नहीं कि भविष्य में यह बच्चे को हो सकता है. आमतौर पर डिलीवरी के बाद नियोनैटोलॉजिस्ट बच्चे के थायरॉइड हार्मोंस लेवल चेक करते हैं, ताकि किसी भी तरह की असामान्यता को तुरंत ठीक किया जा सके.

यह भी पढ़ें: कंडोम के इस्तेमाल से प्राइवेट पार्ट में खुजली व जलन क्यों होती है?

पैप स्मियर टेस्ट, Pap Smear Test

 

मैं 26 वर्षीया शादीशुदा महिला हूं. हाल ही में मैंने पैप स्मियर टेस्ट के बारे में सुना. यह क्या है और क्यों किया जाता है?
– वृंदा नलावडे, नागपुर.

पैप स्मियर एक स्क्रीनिंग टेस्ट है, जो सर्वाइकल कैंसर की शुरुआती जांच के लिए किया जाता है. वैसे हर शादीशुदा महिला को यह टेस्ट साल में एक बार और लगातार तीन सालों तक ज़रूर कराना चाहिए. अगर तीनों सालों की रिपोर्ट निगेटिव आती है, तो फिर हर तीन साल में एक बार यह टेस्ट कराना चाहिए. इस टेस्ट का मुख्य उद्देश्य सर्विक्स के सेल्स में होनेवाले बदलावों को देखकर कैंसर की संभावना को तुरंत ख़त्म करना है. दरअसल, शरीर के किसी भी हिस्से में कैंसर अचानक से नहीं हो जाता, बल्कि सालों पहले उसके लक्षण दिखाई देते हैं, इसलिए रेग्युलर चेकअप से कैंसर की किसी भी आशंका को दूर किया जा सकता है.

यह भी पढ़ें: क्या कंसीव करने की संभावना को जानने के लिए कोई टेस्ट है?

 

 डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

Personal Problems: मिसकैरेज के बाद प्रेग्नेंसी के कितने चांसेज़ हैं? (What Are The Chances For Pregnancy After Miscarriage?)

Chances For Pregnancy After Miscarriage
मैं 40 वर्षीया कामकाजी महिला हूं. मैं यह जानना चाहती हूं कि मेरे लिए इस उम्र में कौन-से टेस्ट्स करवाने ज़रूरी हैं?
– महक वर्मा, जालंधर.

किसी भी हेल्थ प्रोफेशनल से आप अपना जनरल चेकअप करवा सकती हैं, जिसमें बीपी, पल्स रेट, चेस्ट व हार्ट की जांच के अलावा सिर से पैर तक की जांच की जाती है. इसके साथ ही पैप स्मियर टेस्ट व पेल्विक की जांच भी ज़रूर करवाएं. अगर कुछ डिटेक्ट हुआ, तो आपको सोनोग्राफी भी करानी पड़ सकती है. इसके अलावा साल में एक बार बेसिक एक्ज़ामिनेशन, जैसे- ब्लड टेस्ट, लिपिड प्रोफाइल, लीवर और किडनी प्रोफाइल, चेस्ट एक्स-रे और ईसीजी ज़रूर करवाएं. अगर आप फिट और हेल्दी हैं, फिर भी हर साल आंख और दांत की जांच ज़रूर करवाएं.

यह भी पढ़ें: क्या कंसीव करने की संभावना को जानने के लिए कोई टेस्ट है?

 

Chances For Pregnancy After Miscarriage

मैं 34 वर्षीया कामकाजी महिला हूं. 4 साल पहले मेरा मिसकैरेज हो गया था, जिसके बाद से अब तक मैं कंसीव नहीं कर पाई हूं. मेरी प्रेग्नेंसी के कितने चांसेज़ हैं? कृपया, मार्गदर्शन करें.

– राखी सक्सेना, नई दिल्ली.

35 साल की उम्र के बाद महिलाओं में फर्टिलिटी धीरे-धीरे घटने लगती है, जो 40 के बाद बहुत तेज़ी से घटती है. जैसा कि आपने बताया कि 4 साल पहले आपका मिसकैरेज हो चुका है, इसलिए सबसे पहले आपकी जांच करनी होगी. साथ ही आपके पति की फर्टिलिटी चेक करने के लिए उनका सिमेन एनालिसेस टेस्ट कराना होगा. अगर आपके पीरियड्स रेग्युलर हैं, तो इसका मतलब है कि आपकी ओवरीज़ सही तरी़के से काम कर रही हैं. ऐसे में ट्यूब्स की जांच करनी होगी. कई बार ओवरीज़ और ट्यूब्स नॉर्मल होते हैं, पर बार-बार हो रहे पेल्विक इंफेक्शन के कारण भी कंसीव करने में परेशानी होती है, जिसके लिए लैप्रोस्कोपिक जांच ज़रूरी है. बेहतर होगा कि आप अपने गायनाकोलॉजिस्ट को कंसल्ट कर लें.

यह भी पढ़ें: पर्सनल प्रॉब्लम्स: गर्भधारण नहीं कर पा रही हूं, क्या मुझमें कोई प्रॉब्लम है?

 

 डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

 

Personal Problems: क्या 35 के बाद मां बनना रिस्की है? (Does Pregnancy After 35 Has Risks?)

Pregnancy after age 35, second pregnancy after 35
मैं 35 साल की हूं. मेरी शादी देर से हुई है. मैं मां बनना चाहती हूं, लेकिन मैंने सुना है कि 35 के बाद मां बनना रिस्की होता है और बच्चे सुंदर, स्वस्थ होने की पूरी गारंटी नहीं होती. क्या ये सच है. मैं क्या करूं?

ये सच है कि 30 की उम्र के बाद मां बनना थोड़ा ख़तरनाक होता है. वैज्ञानिक शोधों से भी यह बात साबित हो चुकी है.  ऐसे में एबनॉर्मल बच्चे (जैसे अपंग या विकलांग बच्चे) होने की संभावना बढ़ जाती है. पर ये ज़रूरी नहीं कि एबनॉर्मल बच्चा ही पैदा हो. आप जेनेटिक काउंसलिंग करवा सकती हैं. वैसे बता दूं कि मां बनने की सही उम्र 30- 35 है.

यह भी पढ़ें: कंडोम के इस्तेमाल से प्राइवेट पार्ट में खुजली व जलन क्यों होती है?

Pregnancy after age 35, second pregnancy after 35

 

मैं 20 साल की हूं. मेरी समस्या यह है कि अन्य लड़कियों की तुलना में मेरे स्तन बहुत छोटे हैं. मैंने कई ऐसे विज्ञापन पढ़े हैं, जो बिना किसी सर्जरी के स्तन का आकार बढ़ाने का दावा करते हैं. मेरी जल्दी ही शादी होनेवाली है. मैं उन इलाजों और उनके साइड इ़फेक्ट्स के बारे में जानना चाहती हूं.

ये सच है कि ब्रेस्ट एनलार्जमेंट के लिए आए दिन विज्ञापन प्रकाशित होते रहते हैं, लेकिन उनकी सच्चाई के बारे में कुछ भी कहना मुश्किल है. अगर आप चाहें तो एक्सरसाइज़ करके अपने स्तनों का आकार बढ़ा सकती हैं. इसके लिए आप जिम ज्वाइन कर सकती हैं और इंस्ट्रक्टर को अपना उद्ददेश्य बता दें. इसके अलावा आप गर्भनिरोधक गोलियों का इस्तेमाल भी कर सकती हैं. ये न सिर्फ़ स्तनों का आकार बढ़ाएंगी, बल्कि अनचाहे गर्भ से भी सुरक्षित रखेंगी. वैसे सबसे अच्छा तरीका है-ब्रेस्ट इम्प्लांट, जिसमें 40,000 से 80,000 रुपए ख़र्च आता है. वैसे मेरा मानना है कि ये सब दिमागी फ़ितूर है. अगर आप अपने शरीर के बारे में पॉज़िटिव सोच रखें तो ब्रेस्ट का साइज़ कोई मायने नहीं रखता.

यह भी पढ़ें: पर्सनल प्रॉब्लम्स: गर्भधारण नहीं कर पा रही हूं, क्या मुझमें कोई प्रॉब्लम है?

 

 डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

Personal Problems: मेनोपॉज़ के बाद कभी-कभी ब्लीडिंग होती है (Bleeding After Menopause: Causes & Treatment)

मैं 55 साल की हूं और 3 साल पहले मेरा मेनोपॉज़ हुआ है. लेकिन मेरी समस्या यह है कि पिछले 2 महीनों से मुझे कभी-कभी ब्लीडिंग हो रही है, जिसके कारण मैं बहुत चिंतित हूं. ऐसा क्यों हो रहा है?

– ज्योति छाया, हरियाणा.

मेनोपॉज़ के बाद रक्तस्राव को साधारण नहीं समझना चाहिए और आपको फ़ौरन गायनाकोलॉजिस्ट से परामर्श लेना चाहिए. ऐसा निम्न कारणों से हो सकता है– अगर आप हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी का इस्तेमाल कर रही हों, आपको फायब्रॉयड या गर्भाशय कैंसर की शिकायत हो, योनि कैंसर हो, सर्वाइकल कैंसर या यूटेरियन कैंसर की शिकायत हो. ऐसा सर्वाइकल या योनि में इंफेक्शन के कारण भी हो सकता है. बेहतर होगा कि आप अपना पूरा चेकअप करवाएं.

यह भी पढ़ें: Personal Problems: बच्चे को कितने समय तक ब्रेस्टफीडिंग करानी चाहिए?

Bleeding After Menopause, Causes, Treatment

मुझे दो महीने का गर्भ है. ये मेरा पहला बच्चा है. मुझे सुबह बहुत चक्कर आता है और उल्टियां भी होती हैं. मुझे क्या करना चाहिए?

– कार्तिका, नासिक.

गर्भावस्था में सुबह के समय नॉसिया या उल्टी होना सामान्य बात है. अगर आप खाली पेट हैं तो आपकी समस्या और भी बढ़ सकती है. सुबह उठने के बाद बिस्किट और चाय या दूध लें. खाली पेट कभी न रहें. दिन के समय भी कार्बोहाइड्रेड से युक्त आहार लें. फैटी फूड से परहेज़ करें. ये शिकायत सामान्यत: तीसरे महीने के बाद दूर हो जाती है. अगर ऊपर बताए गए निर्देशों का पालन करने के बाद भी आराम नहीं मिलता है, तो डॉक्टर से मिलें जो आपको उल्टियां बंद करने के लिए कोई गोलियां देंगे.

यह भी पढ़ें: कंडोम के इस्तेमाल से प्राइवेट पार्ट में खुजली व जलन क्यों होती है?

यह भी पढ़ें: पर्सनल प्रॉब्लम्स: गर्भधारण नहीं कर पा रही हूं, क्या मुझमें कोई प्रॉब्लम है?

 

 डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

 

Personal Problems: क्या प्रेग्नेंसी में ब्लडप्रेशर की दवा लेना सेफ है? (Is It Safe To Have Blood Pressure Medicine During Pregnancy?)

Safe, Blood Pressure. Medicine During Pregnancy
मेरी नौ महीने की बेटी है, जिसे मैं ब्रेस्ट फीडिंग करती हूं. मेरी प्रेग्नेंसी रिपोर्ट पॉज़ीटिव आई है और सोनोग्राफी में 5 हफ़्ते की प्रेग्नेंसी का पता चला है. मेरे डॉक्टर ने मुझे सर्जिकल एबॉर्शन की बजाय मेडिकल एबॉर्शन की सलाह दी है. क्या यह सेफ और इफेक्टिव है?
– महिमा झा, हिसार.

स्टडीज़ में यह बात साबित हो चुकी है कि मेडिकल एबॉर्शन सेफ और इफेक्टिव तरीक़ा है. इसमें दो गोलियां दी जाती हैं. सर्जिकल प्रोसीजर भले ही कितना भी छोटा हो, फिर भी उसमें एनीस्थिसिया दिया जाता है और प्रोसीजर में कॉम्प्लीकेशंस की संभावना भी बनी रहती है, क्योंकि आपके डॉक्टर ने आपको मेडिकल एबॉर्शन की सलाह दी है, तो उन्होंने इसके बारे में आपको पूरी जानकारी भी दी होगी. इसलिए बेफिक्र रहें. ये बिल्कुल सेफ है.

 Blood Pressure Medicine During Pregnancy
मैं पहली बार मां बनी हूं और मेरी 8 महीने की प्रेग्नेंसी है. डॉक्टर ने कहा है कि मेरा ब्लड प्रेशर बढ़ रहा है, जिसे कंट्रोल करने के लिए मुझे दवा लेनी होगी. कहीं ये दवाएं मेरे बच्चे को कोई नुक़सान तो नहीं पहुंचाएंगी? मुझे क्या करना चाहिए?
– अमृता जैन, राजकोट.

पहली बार मां बननेवाली बहुत-सी महिलाओं को यह समस्या होती है, जिसे प्रेग्नेंसी के कारण होनेवाला हाइपरटेंशन कहते हैं. अगर ब्लड प्रेशर कंट्रोल न किया गया, तो यह आपके और आपके बच्चे की सेहत को नुक़सान पहुंचा सकता है. ज़्यादातर एंटी-हाइपरटेंसिव दवाएं टेस्टेड ही होती हैं, इसलिए इफेक्टिव और बच्चों के लिए सेफ हैं. अगर आपके डॉक्टर ने आपको इसकी सलाह दी है, तो वैसा ही करें.

 

यह भी पढ़ें: कंडोम के इस्तेमाल से प्राइवेट पार्ट में खुजली व जलन क्यों होती है?

यह भी पढ़ें: पर्सनल प्रॉब्लम्स: गर्भधारण नहीं कर पा रही हूं, क्या मुझमें कोई प्रॉब्लम है?

 

 डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

 

क्या सी सेक्शन के बाद आईयूसीडी इस्तेमाल कर सकते हैं? (Can I Use IUD After Cesarean Delivery?)

Can I Use IUD After Cesarean Delivery
मैं 29 वर्षीया महिला हूं और मेरा छह महीने का एक बच्चा भी है. मेरी सीज़ेरियन डिलीवरी हुई थी, पर मैं 3-4 साल तक दूसरा बच्चा नहीं चाहती. मेरी दोस्त के मुताबिक सीज़ेरियन डिलीवरी वाले इंट्रा यूटेराइन कॉन्ट्रासेप्टिव डिवाइस (आईयूसीडी) का इस्तेमाल नहीं कर सकते. क्या यह सच है?
– नैना जैन, राजकोट.

ऐसा बिल्कुल भी नहीं है. बहुत से लोगों को इस तरह की ग़लतफ़हमी हो जाती है, पर अगर आपको हैवी ब्लीडिंग नहीं होती, आपके यूटेरस का शेप नॉर्मल है और कभी पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिसीज़ की हिस्ट्री नहीं है, तो आप इसे बिना किसी परेशानी के इस्तेमाल कर सकती हैं. ये कुछ 2-3 सालों के लिए होते हैं, तो कुछ 10 सालों के लिए. यह एक इफेक्टिव व बेहतरीन गर्भनिरोधक है.

 

 Can I Use IUD After Cesarean Delivery

 

मेरी 14 वर्षीया बेटी को हर महीने पीरियड्स के 14-16वें दिन तक दर्द होता है, जबकि उसके पीरियड्स नियमित हैं और रक्तस्राव के दौरान उसे बिल्कुल भी दर्द नहीं होता. जबकि 14-16वें दिनवाला दर्द कभी-कभी इतना ज़्यादा बढ़ जाता है कि उसे पेनकिलर लेना पड़ता है. क्या उसे कोई प्रॉब्लम है? कृपया, मार्गदर्शन करें.
– प्रेरणा आचार्य, गोरखपुर.

जैसा कि आपने बताया है कि आपकी बेटी को महीने के 14-16वें दिन दर्द हो रहा है, जो मिड साइकल में होता है. यह एक सामान्य दर्द है, जिसे मितल्समर्ज़ कहते हैं. यह शरीर में ओवम रिलीज़ होने के कारण होता है. यह एक सामान्य अवस्था है, इसलिए आपको डरने की कोई ज़रूरत नहीं. आमतौर पर पेनकिलर लेने से यह दर्द चला जाता है. धीरे-धीरे कुछ समय बाद यह अपने आप ठीक हो जाता है.

यह भी पढ़ें: कंडोम के इस्तेमाल से प्राइवेट पार्ट में खुजली व जलन क्यों होती है?

यह भी पढ़ें: पर्सनल प्रॉब्लम्स: गर्भधारण नहीं कर पा रही हूं, क्या मुझमें कोई प्रॉब्लम है?

 

 डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

 

पर्सनल प्रॉब्लम्स: क्या प्रेग्नेंसी प्लान करने से पहले मेडिकल चेकअप करवाना चाहिए? (Do I Need Pre Pregnancy Checkups?)

Need Pre Pregnancy Checkups
मैं 35 वर्षीया शादीशुदा महिला हूं और मुझे बेटा भी है. मैं एक स्वस्थ महिला हूं और मुझे कोई बुरी आदत भी नहीं है. अगर मुझे दूसरा बच्चा चाहिए, तो क्या मुझे कंप्लीट मेडिकल चेकअप की ज़रूरत है?
– रंजना शिंदे, पुणे.

प्रेग्नेंसी के दौरान मां व बच्चे दोनों की अच्छी सेहत के लिए मां का स्वस्थ होना बहुत ज़रूरी है. प्रेग्नेंसी प्लान करने से पहले सभी ज़रूरी टेस्ट्स करवाएं. रेग्युलर हेल्थ चेकअप में ब्लड टेस्ट ज़रूर करवाएं. इससे थायरॉइड, डायबिटीज़ और ओबेसिटी जैसी बीमारियों का पता उनके शुरुआती दौर में ही चल जाता है. थायरॉइड के कारण जहां कंसीव करने में परेशानी होती है, वहीं डायबिटीज़ व ओबेसिटी से प्रेग्नेंसी के दौरान द़िक्क़तें आ सकती हैं. अगर कंसीव करने से पहले इनका पता चल जाए, तो सही तरी़के से इलाज किया जा सकता है और प्रेग्नेंसी में कोई प्रॉब्लम नहीं आती. प्रेग्नेंसी प्लान करने से पहले किसी अच्छे गायनाकोलॉजिस्ट को मिलें.

 Need Pre Pregnancy Checkups
मेरी बेटी की उम्र 15 साल है. पीरियड्स के दौरान उसे बहुत दर्द होता है. क्या उसे इलाज की ज़रूरत है? क्या उसे किसी डॉक्टर को दिखाना चाहिए?
– ममता शाह, सूरत.

दर्दयुक्त माहवारी आपकी बेटी की सेहत के साथ-साथ उसकी पढ़ाई-लिखाई व पर्सनल लाइफ को भी प्रभावित कर सकती है. अगर इसके कारण वह अपनी लाइफ नॉर्मल तरी़के से जी नहीं पा रही है, तो आपको ज़रूर उसका इलाज कराना चाहिए. यह कई कारणों से हो सकता है, इसलिए सबसे पहले किसी एक्सपर्ट डॉक्टर से उसका चेकअप कराएं. वो उसे सोनोग्राफी करवाने की सलाह दे सकते हैं. पूरा चेकअप हो जाने के बाद डॉक्टर आपको कुछ पेनकिलर्स या ओरल कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स लेने की सलाह दे सकते हैं.

यह भी पढ़ें: कंडोम के इस्तेमाल से प्राइवेट पार्ट में खुजली व जलन क्यों होती है?

यह भी पढ़ें: पर्सनल प्रॉब्लम्स: गर्भधारण नहीं कर पा रही हूं, क्या मुझमें कोई प्रॉब्लम है?

 

 डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

 

 

पर्सनल प्रॉब्लम्स: लैप्रोस्कोपिक सर्जरी के कितने दिनों बाद प्रेग्नेंसी प्लान करूं? (Pregnancy After Laproscopy)

Pregnancy After Laproscopy
मैं 39 वर्षीया शादीशुदा महिला हूं. दो साल पहले ही मेरी शादी हुई थी. कुछ दिनों बाद ही मेरी एंडोमिट्रियोटिक सिस्ट की लैप्रोस्कोपिक सर्जरी हुई थी. मैं जल्द से जल्द मां बनना चाहती हूं. मुझे कब प्रेग्नेंसी प्लान करनी चाहिए.                  
– कंचन देसाई, चेन्नई.

आजकल बहुत-से लोग लेट शादी करते हैं, पर अगर आप 39 साल की हो चुकी हैं, तो आपको ध्यान रखना होगा कि हर ओवरी में सीमित संख्या में ही ओवम होते हैं. 40-41 साल की उम्र तक महिलाओं में प्रजनन क्षमता घट जाती है. इसके अलावा 41 साल की उम्र में होनेवाली प्रेग्नेंसीज़ में कई बार गर्भपात या बच्चे में कोई शारीरिक विकृति होने की भी संभावना रहती है. आपने पहले ही लैप्रोस्कोपिक सर्जरी करवाई है, इसलिए किसी अच्छे इंफर्टिलिटी कंसल्टेंट से मिलें, ताकि जल्द से जल्द आप प्रेग्नेंसी प्लान कर सकें.

यह भी पढ़ें: पर्सनल प्रॉब्लम्स: पीरियड्स पोस्टपोन कैसे करूं?

Pregnancy After Laproscopy

मैं 45 वर्षीया महिला हूं. मुझे अक्सर योनिमार्ग से स़फेद स्राव निकलता है और कभी-कभी बहुत खुजली भी होती है. मुझे क्या करना चाहिए?
– करिश्मा यादव, पटना. 

कई बार योनिमार्ग से स़फेद स्राव निकलता है, पर अगर आपको उससे कोई समस्या नहीं है, तोउसके इलाज की कोई ज़रूरत नहीं होती है, वो अपने आप ठीक हो जाता है. योनि में खुजली होना और यूरिन पास करते समय जलन होना किसी इंफेक्शन के कारण हो सकता है और इसके कारण भी स़फेद स्राव होता है. अगर आपको डायबिटीज़ आदि कोई समस्या है, तो काफ़ी हद तक मुमकिन है कि यह फंगल इंफेक्शन हो. सबसे पहले फंगल इंफेक्शन का इलाज कराएं, इसके लिए आप अपने डॉक्टर से सलाह ले सकती हैं. इसके बाद आपको अपने डायबिटीज़ पर नियंत्रण करना होगा. योनि से होनेवाले स्राव के कई कारण हो सकते हैं, इसलिए जल्द से जल्द किसी अच्छे गायनाकोलॉजिस्ट से मिलें.

यह भी पढ़ें: पर्सनल प्रॉब्लम्स: एग फ्रीज़िंग की प्रक्रिया में कितना वक्त लगता है?

यह भी पढ़ें: कंडोम के इस्तेमाल से प्राइवेट पार्ट में खुजली व जलन क्यों होती है?

 

डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

 

 

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

 

पर्सनल प्रॉब्लम्स: एग फ्रीज़िंग की प्रक्रिया में कितना वक्त लगता है? (What Is The Process For Egg Freezing?)

What Is The Process For Egg Freezing
मैं 32 वर्षीया कामकाजी व तलाक़शुदा महिला हूं. मुझे बच्चों का बहुत शौक़ है, इसलिए दोबारा घर बसाकर मां बनना चाहती हूं, पर इसमें कितना व़क्त लगेगा मुझे भी नहीं पता, इसलिए अपने एग्स को फ्रीज़ करके रखना चाहती हूं. क्या मुझे बता सकती हैं कि एग फ्रीज़िंग की प्रक्रिया में कितना व़क्त लगता है?
– रजनी ठाकुर, पुणे.

एग फ्रीज़िंग की प्रक्रिया में लगभग एक महीने का व़क्त लगता है, जिसमें पहले 2 हफ़्ते मेडिकेशन और अगले 2 हफ़्ते एग्स रिट्रिवल में लगते हैं. पहले 10-12 दिन मेडिकेशन में जाते हैं, जिसके दौरान 4-5 बार अल्ट्रासाउंड भी किया जाता है. दो हफ़्ते बाद जब आपके एग्स मैच्योर हो जाते हैं और ओवरीज़ इसके लिए तैयार हो जाती हैं, तब डॉक्टर रिट्रिवल की प्रक्रिया शुरू करते हैं. इसके लिए आपको एक दिन की छुट्टी लेनी पड़ेगी, ताकि रिट्रिवल के बाद आप बेड रेस्ट ले सकें. आमतौर पर डॉक्टर यह प्रक्रिया वीकेंड पर रखते हैं, ताकि पेशेंट को आराम मिल सके.

यह भी पढ़ें: शारीरिक संबंध के बाद १-२ दिन तक ब्लीडिंग क्यों होती है?

What Is The Process For Egg Freezing

मैं 29 वर्षीया कामकाजी महिला हूं. पिछले कई सालों से पीरियड्स के दौरान मुझे काफ़ी दर्द होता था, तो मैं पेनकिलर ले लेती थी. पर जब ज़्यादा तकलीफ़ बढ़ी, तो गायनाकोलॉजिस्ट को दिखाया. उन्होंने चेकअप करके बताया कि मुझे एंडोमेटिरियोसिस है. यह क्या है, कृपया मेरा मार्गदर्शन करें.
– मनीषा राजभर, पटना.

यूट्रस की अंदरूनी लाइनिंग के टिश्यूज़ को एंडोमेट्रियम कहते हैं. जब ये टिश्यूज़ यूट्र्स के बाहर ओवरीज़ या पेल्विक एरिया में चले जाते हैं, तब उस अवस्था को एंडोमेटिरियोसिस कहते हैं. इसके सही कारणों का अभी तक पता नहीं चल पाया है. आमतौर पर यह 25-40 की उम्र की महिलाओं में होता है. इसके कारण महिलाओं को पेड़ू में और पीरियड्स के दौरान काफ़ी दर्द होता है. यह एक वंशानुगत समस्या है. ओरल कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स के सेवन से इसके होने की संभावना कम हो जाती है.

यह भी पढ़ें: कंडोम के इस्तेमाल से प्राइवेट पार्ट में खुजली व जलन क्यों होती है?

 

डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

 

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies