Tag Archives: prevention

वर्ल्ड हार्ट डे पर विशेष: क्यों बढ़ रही हैं महिलाओं में दिल की बीमारियां?(Heart disease in women)

आपके दिल की धड़कन… पूरे परिवार की धड़कन, जिसके रुकने से आपका दिल भी धड़कना भूल सकता है, आपका पूरा परिवार बिखर सकता है… सोचिए तो अगर उसके दिल ने सचमुच धड़कना बंद कर दिया तो… ऐसा न हो आपके साथ, इसीलिए ज़रूरी है कि समय रहते सावधानी बरती जाए.
dreamstime_m_24647700

एक सर्वे के अनुसार, आज से क़रीब तीन दशक पहले तक पुरुषों और स्त्रियों में दिल की बीमारी होने का औसत 5ः1 था, लेकिन आज हालात कुछ और हैं और दिन-ब-दिन यह अंतर घटता जा रहा है. 1984 व उसके बाद दुनियाभर में हार्ट अटैक से मरनेवाली महिलाओं की संख्या पुरुषों के मुक़ाबले कहीं ज़्यादा हैं. स़िर्फ पचास पार की ही नहीं, तीस व चालीस साल के बीच की उम्र की महिलाओं में भी यह ख़तरा दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है. आंकड़े बताते हैं कि तीस से चालीस साल के बीच की उम्र की महिलाओं में सडेन कार्डियक डेथ के मामले पुरुषों की तुलना में इक्कीस फ़ीसदी से अधिक तेज़ी से बढ़े हैं.
आख़िर क्या हैं इसके कारण और क्या सावधानियां बरतनी ज़रूरी हैं?

 

महिलाओं में बढ़ते हार्ट अटैक के कारण

 

– हाई कोलेस्ट्रॉल, उच्च रक्तचाप, मोटापा, डायबिटीज़ आदि कारण तो हैं ही, जो महिला और पुरुष दोनों को प्रभावित करते हैं, लेकिन महिलाओं के दिल को प्रभावित करने के और भी कई कारण हैं.
– पेट के आसपास जमा चर्बी, उच्च रक्तचाप, डायबिटीज़ और उच्च ट्राइग्लिसिराइड लेवल पुरुषों से ज़्यादा स्त्रियों को प्रभावित करते हैं.
– शारीरिक कारणों के अलावा भावनात्मक कारणों से भी हृदय रोग के ख़तरे बढ़ते हैं और महिलाओं को सबसे ज़्यादा भावनात्मक कारण ही प्रभावित करते हैं, क्योंकि पुरुषों के मुक़ाबले वे काफ़ी संवेदनशील और भावुक होती हैं. क्रोध, दुख, मानसिक तनाव और डिप्रेशन का असर महिलाओं के दिल पर पुरुषों की अपेक्षा ज़्यादा पड़ता है.
– सिगरेट का कश लेती लड़कियों को देखकर लोग अब चौंकते नहीं. ओकेज़नल ड्रिंक भी अब बुरी नहीं मानी जाती. नतीजतन पुरुषों में आम हार्ट अटैक अब स्त्रियों में भी आम हो चला है.
– मेनोपॉज़ के पहले स्त्रियों को एस्ट्रोजन हार्मोन के चलते हार्ट अटैक से जो नेचुरल प्रोटेक्शन मिला था, डायबिटीज़ ने अब उस सुरक्षा कवच में भी सेंध लगा दी है.
– लाइफस्टाइल और खान-पान के तरीक़ों में आया बदलाव भी महिलाओं में हार्ट प्रॉब्लम की एक बड़ी वजह है.
– शारीरिक श्रम व एक्सरसाइज़ की कमी से बढ़ता मोटापा भी दिल को कमज़ोर बना रहा है.
– स्तन कैंसर के ख़तरों से तो महिलाएं परिचित हैं और इससे सुरक्षा के प्रति जागरूक भी हैं, लेकिन हृदय रोगों के बारे में आम मान्यता यही है कि ये तो पुरुषों का रोग है और महिलाओं को इससे कोई ख़तरा नहीं. इसी सोच के चलते हृदय रोग के लक्षण नज़र आने पर भी महिलाएं और उनके परिवारवाले इस पर ध्यान ही नहीं देते और जब तक वो कोई क़दम उठाते हैं, तब तक बहुत देर हो चुकी होती है.
– तेज़ ऱफ़्तार ज़िंदगी, घर और बाहर के काम का दोहरा दबाव, तनाव, रिश्तों और करियर के बीच संतुलन बैठाने की जद्दोज़ेहद आदि कई कारण हैं, जिनसे महिलाओं में दिल की बीमारियों का ख़तरा बढ़ा है.
– प्री एक्लेम्प्सिया, प्रेग्नेंसी के दौरान होनेवाले उच्च रक्तचाप, डायबिटीज़, हाई कोलेस्ट्रॉल और निष्क्रियता स्ट्रोक के ख़तरे को 60% बढ़ा देता है.
– मेनोपॉज़ के दौरान ली जानेवाली एचआरटी यानी हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी से भी स्ट्रोक का ख़तरा 40% बढ़ जाता है.
– गर्भनिरोधक गोलियों के सेवन से भी कुछ तक हद ब्लड क्लॉट और स्ट्रोक का ख़तरा बढ़ जाता है, लेकिन ये ख़तरा उन महिलाओं में ज्यादा होता है, जो डायबिटीज़ से पीड़ित होती हैं या जो धूम्रपान करती हैं.
– माइग्रेन से पीड़ित महिलाओं को स्ट्रोक का ख़तरा अपेक्षाकृत दोगुना होता है.

 

सावधानियां

– सबसे पहले अपने दिल से दोस्ती करें. अपने आप से प्यार करें, ताकि आप अपना ज़्यादा से ज़्यादा ख़्याल रखें.
– स्मोकिंग और अल्कोहल को ना कहें. हालांकि स्मोकिंग पुरुषों में भी हृदय रोग का बड़ा कारण है, लेकिन ये महिलाओं को ज़्यादा प्रभावित करता है.
– जंक फूड को छोड़कर हेल्दी डायट लें, ताकि आपके कोलेस्ट्रॉल का स्तर संतुलन में रहे.
– भले ही कोई लक्षण नज़र न आए, लेकिन फिर भी समय-समय पर अपना पूरा टेस्ट कराते रहें, ताकि रोग की कोई संभावना होने पर समय रहते उसका इलाज कराया जा सके.
– वज़न पर काबू रखें.
– नियमित एक्सरसाइज़, योगा या मॉर्निंग वॉक की आदत डालें.
– महिलाएं यदि हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी ले रही हैं, तो इसके ख़तरों के बारे में डॉक्टर से पहले ही पूछ लें.
– 2 डी इको, लिपिड प्रोफाइल, डायबिटीज़ आदि कुछ आसानी से किए जा सकनेवाले टेस्ट हैं, जिनसे आप अपने दिल की सेहत का जायज़ा ले सकती हैं.
हार्ट अटैक पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं के लिए अधिक ख़तरनाक क्यों? बता रहे हैं डॉ. पवन कुमार-
– दरअसल, स्त्रियों के दिल में पाई जानेवाली कोरोनरी आर्टरीज़ पुरुषों की अपेक्षा छोटी व संकरी होती हैं, जिससे उनके ब्लॉक होने का ख़तरा ज़्यादा रहता है. आर्टरीज़ के ब्लॉक होने पर हार्ट अटैक की गंभीरता भी अधिक होती है. दिल की पेशियों के डैमेज होने व मृत्यु का ख़तरा भी अधिक रहता है.

 

चेकअप कराना कब ज़रूरी है?

– आपकी उम्र 30 वर्ष से अधिक है.
– काम करते वक़्त आपकी सांसें फूलने लगती हैं.
– वज़न औसत से 10 से 15 किलो अधिक है.
– आपको डायबिटीज़, कोलेस्ट्रॉल या उच्च रक्तचाप की शिकायत है.
– आप अपने ऑफिस में स्ट्रेस से जूझ रहे हैं.
– पेट पर चर्बी का जमाव ज़्यादा हो और कमर की चौड़ाई 80 सें.मी. से अधिक हो.
– रक्त में ट्राइग्लिसिराइड की मात्रा 150ास/वश्र से अधिक हो.
– गुड कोलेस्ट्रॉल लेवल 50ास/वश्र से कम हो.
-फास्टिंग ब्लड ग्लूकोज़ लेवल 100ास/वश्र या उससे अधिक हो.
– आपके परिवार में किसी को हार्ट डिसीज़, डायबिटीज़ या हाई ब्लडप्रेशर की शिकायत हो.

 

दिल का दौरा पड़ने के संकेत

– सांस लेने में तकलीफ़ महसूस होनाफ
– थकान लगना, गले, जबड़े या पीठ के ऊपरी हिस्से में दर्द होना.
– सीने में दबाव और दर्द. एन्जाइना के मुक़ाबले यह दर्द ज्यादा देर तक रहता है.
– सीने का दर्द बांहों, कंधों, गले, पीठ और कमर में भी उतर सकता है.
– मितली, पसीना, दम घुटना, चक्कर, बेहोशी, बोलने में तकलीफ़ होना, उलझन महसूस होना, धुंधला दिखना-कुछ लोगों को ये सारे लक्षण प्रकट होते हैं तो कुछ को इनमें से एक भी लक्षण दिखाई नहीं देते.
– ये लक्षण इतने आम होते हैं कि पीड़ित महिला को लगता है कि उसे बस यूं ही अच्छा नहीं महसूस हो रहा है. ये लक्षण दिल का दौरा पड़ने के भी हो सकते हैं, इसका ख़याल तक उसके मन में नहीं आता, लेकिन अगली बार ये लक्षण नज़र आएं तो नज़रअंदाज़ न करें. क्या पता आपकी लापरवाही आपकी जान ले ले.

 

क्या करें?

– जो भी काम कर रही हों, तुरंत बंद कर दें.
– बैठ या लेट जाएं.
– ख़ुद चलकर या कार चलाकर अस्पताल न जाएं. किसी को अस्पताल ले जाने के लिए कहें.
अपनी तकलीफ़ को छोटा समझकर छिपाएं नहीं, न ही नज़रअंदाज़ करें. दिल के दौरे का इलाज जितना जल्दी हो सके, हो जाना चाहिए. वरना आपको अपनी जान से हाथ धोना पड़ सकता है.

कुछ ज़रूरी बातें

रखें ख़याल मांसपेशियों की जकड़न का

अक्सर कभी-कभी बैठे-बैठे तो कभी रात को सोते समय मांसपेशियों में जकड़न यानी क्रेम्प से आप बेचैन हो उठती हैं. इसको हल्के से न लें. यह पेरीफेरल आटीअल डिसीज़ हो सकती है. कूल्हे, जांघ या फिर चलते हुए क्रेम्प के आने का अर्थ है कि उस हिस्से में रक्त प्रवाह नहीं पहुंच रहा. डॉक्टर से ज़रूर सलाह लें.

 

काली चाय दिल के लिए अच्छी

अमेरिकन कॉलेज ऑफ कॉर्डियोलोजी में हुए एक अनुसंधान में यह कहा गया है कि काली चाय हमारे दिल के लिए अ च्छी है. काली चाय में मौजूद एंटी ऑक्सीडेंट स्वस्थ कॉर्डियो वस्कूलर फंक्शन में मदद करते हैं. इससे हार्ट अटैक के ख़तरे कम होते हैं.

 

शहरी लोगों को ज्यादा ख़तरा

दक्षिण एशियाई देशों में भले ही चिकित्सा सुविधाएं बढ रही हैं, पर तनाव, व्यायाम का अभाव, तम्बाकू सेवन व तेज़ रफ्तार वाले लाइफ़स्टाइल के कारण शहरी लोगों में हृदय रोग बढ रहे हैं. हाइपरटेंशन, डिप्रेशन और डायबिटीज़ की पारिवारिक पृष्ठभूमि वाले लोगों को नियमित जांच करवाना ज़रूरी है.

 

टमाटर भी फ़ायदेमंद

कॉर्डियोलॉजिस्ट के चक्कर से बचना है तो प्रोसेस्ड टमाटर पेस्ट, केचअप, सॉस, जूस के अलावा तरबूज का सेवन करें.

 

एस्प्रीन दिल की बीमारी की सबसे सस्ती दवा

एस्प्रीन का सेवन हृदयरोगियों के लिए वरदान है और 20 % तक मृत्युदर कम कर देती है. उच्च रक्तचाप, हाई कोलेस्ट्रॉल, मोटाप, धूम्रपान, हृदयरोग, पारिवारिक पृष्ठभूमि हो तो डॉक्टर 75 मिग्रा. से 100 मिग्रा. तक एस्प्रीन लेने की सलाह देते हैं, ताकि ख़तरे को 30% तक कम किया जा सके. सीने में दर्द हो तो एस्प्रहन चबाने से अटैक से होनेवाली क्षति को कम किया जा सकता है.

 

– प्रतिभा तिवारी

कैसे सुरक्षित रहें चिकनगुनिया और डेंगू से?(How to avoid infecting from Chikungunya and Dengue)

Prevention chikungunya

चिकनगुनिया (Chikungunya) और डेंगू (Dengue) के मरीज़ों की संख्या बढ़ती जा रही है. देशभर में अब तक इससे कई मौतें हो चुकी हैं. इसलिए बेहतर होगा कि आप समय रहते इस बीमारी की एबीसी जान लें और ज़रूरी एहतियात बरतकर ख़ुद को व अपने परिवार को इससे सुरक्षित रखें.

Prevention chikungunya

क्या है चिकनगुनिया?

चिकनगुनिया मच्छर के काटने से होनेवाली बेहद पीड़ादायक संक्रामक बीमारी है. इसमें तेज़ बुखार के साथ रोगी के जोड़ों में इतना भयंकर दर्द होता है कि एक हफ्ते के अंदर ही रोगी एकदम कमज़ोर हो जाता है.
ये एक वायरस है, जो एडिस मच्छर के काटने से होता है. मच्छर काटने के 2-7 दिनों के अंदर मरीज़ को चिकनगुनिया के लक्षण नज़र आने लगते हैं.

 

चिकनगुनिया के लक्षण

– ठंड लगकर तेज़ बुखार. बुखार 100 डिग्री के आसपास होता है.
– सिरदर्द
– मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द. ये दर्द कई बार 6 महीने तक रहता है.
– जी मिचलाना
– भूख न लगना
– थकान महसूस होना
– स्किन पर रैशेज़ आना

 

Diagnosis कैसे किया जाता है?

उपरोक्त लक्षण नज़र आने पर डॉक्टर कुछ ब्लड टेस्ट्स करवाते हैं, जिनमें CBC, RT-PCR, ELISA Tests आदि शामिल हैं. इससे पता चल जाता है कि पीड़ित व्यक्ति को डेंगू या चिकनगुनिया है या नहीं.

उपचार

– सबसे चिंता की बात ये है कि चिकनगुनिया से बचने के लिए कोई दवा या टीका अब तक उपलब्ध नहीं है.
– डॉक्टर्स सिर्फ लक्षण के आधार पर दवाएं देते हैं.
– बुखार और दर्द के लिए पैरासिटामोल या पेनकिलर दिया जाता है.
– बेहतर होगा कि चिकनगुनिया से पीड़ित व्यक्ति ज़्यादा से ज़्यादा आराम करे.
– डायट का ख़ास ख़्याल रखे. लिक्विड फूड ज़्यादा ले.
– बाहर का खाने या पानी पीने से बचें.
– डॉक्टर के संपर्क में लगातार रहे. ख़ुद डॉक्टर बनने की ग़लती न करें.
– कोई भी असामान्यता नज़र आते ही तुरंत डॉक्टर के पास जाए.
– ज़रूरत पड़ने पर डॉक्टर हॉस्पिटल में एडमिट करने की सलाह भी दे सकते हैं.

 

क्या एहतियात बरतें?

चूंकि चिकनगुनिया के लिए कोई दवा उपलब्ध नहीं है और ये रोग मच्छर काटने से फैलता है, इसलिए बेहतर होगा कि कुछ ज़रूरी एहतियात बरते जाएं, ताकि इसके मच्छर आप पर हमला न कर सकें.
– आमतौर पर चिकनगुनिया के मच्छर दिन में काटते हैं. इसलिए दिन में भी मच्छरों से ख़ुद को सुरक्षित रखें.
– अपने घर के अंदर और आसपास सफाई रखें.
– घर में कहीं भी पानी एकत्रित न होने दें.
– कूलर इस्तेमाल करते हों तो उसका पानी रोज़ बदलें. इस्तेमाल न करते हों तो उसका पानी निकालकर उसे अच्छी तरह सुखाकर रख दें.
– घर में और आसपास कीटनाशक का छिड़काव करें.
– ख़ूब पानी पीएं. इससे शरीर का इम्यून सिस्टम मज़बूत रहता है.
– सोते समय मच्छरदानी का इस्तेमाल करें.
– ऐसे कपड़े पहनें कि पूरा शरीर ढंका रहे.
– खिड़की और दरवाज़े पर जाली लगाकर रखें.
– अपने आसपास के लोगों को भी मच्छर को फैलने से रोकने के उपाय करने के लिए प्रोत्साहित करें.
– अगर आपके घर में या आसपास चिकनगुनिया, मलेरिया या डेंगू के किसी मरीज़ का पता चलता है तो इसकी जानकारी तुरंत स्वास्थ्य विभाग को दें, ताकि तुरंत मच्छर रोकने के उपाय किया जा सकें और बीमारी को फैलने से रोका जा सके.

 

होममेड रेमेडीज़

कुछ घरेलू नुस्ख़े भी आज़माए जा सकते हैं. ये आपको काफी राहत देंगे.
– तुलसी और अजवायन चिकनगुनिया में काफी फायदेमंद हैं.
– अजवायन, किशमिश, तुलसी की पत्तियां और नीम की पत्तियां लेकर पानी में उबाल लें. बिना छाने दिन में तीन बार पीएं. आराम आएगा.
– या सिर्फ तुलसी की पत्तियां उबालकर पीने से भी आराम मिलता है.
– पपीते की पत्तियां पीसकर उसका जूस निकाल लें. दो चम्मच जूस मरीज़ को दिन में तीन बार पिलाएं. अगर चिकनगुनिया या डेंगू के कारण प्लेटलेट्स कम हो गया है तो इसके सेवन से प्लेटलेट्स तेज़ी से नॉर्मल होने लगता है.
– चिकनगुनिया में जोड़ों में भयंकर दर्द होता है. इससे राहत पाने के लिए लहसुन को पीसकर इसमें लौंग का तेल मिलाकर जोड़ों पर लेप करें.
– कच्चा गाजर खाएं. इससे इम्यूनिटी बेहतर होगी और जोड़ों के दर्द में भी आराम मिलेगा.
– गरम पानी में एप्सम सॉल्ट और नीम की पत्तियां मिलाकर इस पानी से स्नान करें. बुखार कम होगा और दर्द से भी राहत मिलेगी.

 

 

कैसे बचें डेंगू से?

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइज़ेशन डेंगू को बेहद संक्रामक बीमारी मानता है. डब्ल्यूएचओ के मुताबिक़, पूरे विश्व में हर साल क़रीब 39 करोड़ लोग डेंगू बुख़ार की चपेट में आते हैं. एशिया और अफ्रीका में सबसे ज़्यादा डेंगू से मौतें होती हैं.
डेंगू एक ट्रॉपिकल और तेज़ी से फैलने वाला बुख़ार है. चिकनगुनिया की तरह ही यह भी एडिस मच्छर के काटने से होता है. डेंगू के मच्छर आमतौर पर गंदे पानी की बजाय साफ़ पानी में पनपते हैं और दिन में ज़्यादा सक्रिय रहते हैं.
अगर इसका सही तरी़के से उपचार नहीं हुआ तो यह बुख़ार डेंगू हेमोरेजिक फीवर, डेंगू शॉक सिंड्रोम में बदल सकतस है, जिससे मरीज की जान भी जा सकती है. इसलिए बेहतर होगा कि समय रहते सही इलाज किया जाए.

डेंगू के लक्षण और उपचार चिकनगुनिया की तरह ही होते हैं. इसमें भी शुरू में तेज बुख़ार होता है और ठंड लगती है जो पांच दिन तक रह सकता है.
– सिरदर्द, कमर और जोड़ों में दर्द के अलावा थकावट और कमजोरी महसूस होती है. हल्की खांसी और गले में ख़राश के साथ उल्टी भी होती हैं. शरीर पर लाल रंग के दाने भी दिखते हैं. पूरी तरह से ठीक होने में क़रीब दो हफ़्ते लग जाते हैं. यह बुख़ार बच्चों और बुज़ुर्गों में ज़्यादा ख़तरनाक हो जाता है.

 

उपचार

– चिकनगुनिया की तरह ही डेंगू के मरीज़ को भी पूरी तरह आराम करना चाहिए.
– उसे पानी, नारियल पानी व फलों का जूस बार-बार लेते रहना चाहिए.
– फौरन किसी डॉक्टर के पास जाना चाहिए.