Tag Archives: Prosperity

28 असरदार वास्तु टिप्स से पाएं सौभाग्य व समृद्धि (28 Effective Vastu Tips for Good Luck & Prosperity )

vastu tips

a_ss102

यदि आप जीवन में सौभाग्य व समृद्धि चाहते हैं, तो वास्तु से जुड़ीं इन छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखें.

* तुलसी के गमले में दूसरा और कोई पौधा न लगाएं, ऐसा करने से धनहानि हो सकती है या बनते काम बिगड़ सकते हैं.

* पूर्व या उत्तर में तुलसी अवश्य लगाएं. इससे घर में शारीरिक, मानसिक, आर्थिक लाभ बना रहता है.

* पलंग पर स्टील के बर्तन न रखें, इससे स्वास्थ्य लाभ में कमी आ सकती है.

* चलते हुए आभूषण पहनने से उनकी वृद्धि में कमी आती है. अतः ऐसा न करें.

* पूर्व या उत्तरमुखी होकर आभूषण पहनना सौभाग्यशाली होता है. इससे प्रतिष्ठा बढ़ती है और अपयश से बचाव भी होता है.

* मकान बनवाते समय सबसे पहले बोरिंग, फिर चौकीदार का कमरा और बाद में बाहरी दीवार बनवाएं. इससे काम समय पर पूरा होता है.

* एक्सपायर्ड दवाएं रात को ही फेंकनी चाहिए. इससे घर में दवाओं का आना बंद हो जाता है.

* बिजली के स्विचेज़, बिजली का मुख्य मीटर, टीवी आदि कमरे में आग्नेय कोण अथवा वायव्य कोण पर रखने से धन में वृद्धि होती है.

* मकान की सब दिशाओं की तुलना में उत्तरी व पूर्वी भाग में खाली स्थान अधिक हो तो आर्थिक उन्नति के साथ व्यापार में भी विशेष वृद्धि होगी.

* छत की ढलान उत्तर, पूर्व या उत्तर-पूर्व दिशा में रखें. इससे आर्थिक उन्नति होती है.

* घर में कन्याओं का स्थान उत्तर-पश्‍चिम क्षेत्र में ही बनाना चाहिए. ऐसा करने से कन्याओें से संबंधित कार्य जल्दी होते हैं.

* भूलकर भी दर्पण पश्‍चिम या दक्षिण की दीवार पर न लगाएं. दर्पण पूर्व या उत्तर की दीवार पर लगाएं. ऐसा करने से प्रगति जल्दी होती है.

* भवन की ऊंचाई दक्षिण व पश्‍चिम भाग में अधिक तथा उत्तर व पूर्व भाग में कम हो. इससे कार्यों में आसानी होती है.

यह भी पढ़ें: हैप्पी मैरिड लाइफ के लिए आज़माएं ये असरदार फेंगशुई टिप्स

vastu tips

* सूर्य की किरणों तथा शुद्ध वायु से वंचित मकान अच्छा नहीं होता तथा मध्याह्न के पश्‍चात् की सूर्य किरणें भी घर में स्थित कूप या जलस्थान आदि  पर पड़ें तो भी अच्छा नहीं होता. तात्पर्य यह है कि प्रातःकालीन सूर्य की किरणों का प्रवेश घर में अवश्य ही होना चाहिए, जो कि श्रेष्ठ है.

* भवन निर्माण इस प्रकार से किया जाए कि भूखण्ड में भवन के चारों ओर खुला स्थान रहे. इससे यशवृद्धि होती है.

* वास्तु की दृष्टि से पश्‍चिम तथा दक्षिण की तुलना में उत्तर तथा पूर्व में अधिक खुला हुआ भाग होना चाहिए. फ्लैट्स में इस सूत्र का उपयोग करके लाभ  लिया जा सकता है. ऐसा करने से जीवन में स्थायित्व भी आता है.

* मकान की नींव खोदने का काम आग्नेय कोण से शुरू करके नैऋत्य कोण की तरफ़बढ़े. कंस्ट्रक्शन नैऋत्य कोण की तरफ़ से आरंभ करके आग्नेय  कोण की तरफ़ बढ़े. ऐसा करने से वास्तुदोष का प्रभाव कम होता है.

* उत्तर या पूर्व में लॉन, सुंदर वृक्ष या फुलवारी होनी चाहिए.

* बिल्डिंग प्लॉट के नैऋत्य कोण में बनवाएं. ऐसा करने से सरकारी विभाग परेशान नहीं करता.

* भूखण्ड व वास्तु की चार दीवारें उत्तर व पूर्व की ओर की अपेक्षा दक्षिण व पश्‍चिम की ओर अधिक मोटी तथा ऊंचाई लिए हों.

* सदा पूर्व की ओर मुख करके ही ब्रश करना चाहिए.

* क्षौरकर्म (बाल कटवाना) पूर्व अथवा उत्तर की ओर मुख करके ही कराना चाहिए.

* तोते का आना शुभ माना जाता है. इनके आवागमन से कोई हानि नहीं है.

* बेसमेंट में दुकान या ऑफ़िस लेना आवश्यक हो तो पूर्व या उत्तर की दिशा में ही लें.

* प्लॉट के तीनों तरफ़ रास्तों का होना शुभ होता है.

* घर के दक्षिण या पश्‍चिमी भाग में फर्नीचर होना अत्यंत लाभदायक है. फर्नीचर को उत्तर या पूर्वी दीवार से सटा कर कभी नहीं रखना चाहिए.

* गृह-प्रवेश के समय वास्तुशांति हवन, वास्तु जाप, कुलदेवी-देवताओं की पूजा, बड़ों को सम्मान, ब्राह्मणों एवं परिजनों को भोजन कराना चाहिए.

* पानी का निकास वायव्य कोण, उत्तर व ईशान कोण में रखने से कई तरह के लाभ प्राप्त होते हैं.

[amazon_link asins=’B01J7HYLUG,8120795369,B019H46JP4,8174764895,B019XJHVBE’ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’44c1b567-fcf2-11e7-a10a-f9cb87523915′]

समृद्धि व सफलता के लिए बेहतरीन टिप्स (Useful Tips for Prosperity & Success)

1

दीपावली के मौ़के पर अपने घर-आंगन व जीवन में सुख-समृद्धि व सफलता के लिए कुछ बातों का ध्यान रखना ज़रूरी है.

 

* लक्ष्मीजी साफ़-सुथरे घर में ही प्रवेश करती हैं, इसलिए पहले पूरे घर की सफ़ाई करें. इसमें मकड़ी के जाले और सारा पुराना कबाड़ निकाल दें.  बालकनी, पोर्च, सीढ़ियां एवं बेसमेंट भी साफ़ करें. इससे पॉज़िटिव एनर्जी आती है.

* घर की टूटी एवं बेकार चीज़ें, जैसे- टूटी हुई क्रॉकरी, अनुपयोगी क़िताबें, अख़बार, चप्पल-जूतों के खाली बॉक्सेस, अन्य खाली डिब्बे निकाल दें.

* ऐसी चीज़ें, जिनका आप काफ़ी समय से उपयोग नहीं कर रहे हैं, ना ही भविष्य मेंं करेंगे, उन्हें हटा दें, क्योंकि ऐसी चीज़ें पॉज़िटिव एनर्जी को घर के  अंदर आने से रोकती हैं.

* दिवाली के समय सारे घर के दरवाज़े व खिड़कियां कुछ देर के लिए खुली रखें.

* घर के सारे दरवाज़ों और खिड़कियों की ऑयलिंग करवा लें, ताकि उनके खोलने-बंद करने में आवाज़ ना हो.

* मुख्य द्वार पर सिल्वर स्वस्तिक और अष्टमंगल का चित्र लगाएं.

* लक्ष्मीजी के पैरों के फुटप्रिंट्स बाज़ार में मिलते हैं. उन्हें मुख्यद्वार पर बाहर से अंदर की ओर आती हुई दिशा में लगाएं.

* मुख्यद्वार पर बंदनवार/तोरण सजाएं.

* घंटियोंवाले तोरण ना लगवाएं. आम, कनेर, पीपल और अशोकवृक्ष के पत्तों के बने तोरण लगवाएं. ये वातावरण को शुद्ध करने के अलावा निगेेटिव  एनर्जी को घर से दूर रखते हैं.

* एक पात्र में पानी भरकर उसमें फूलों की पंखुड़ियां डालकर उसे पूर्व या उत्तर दिशा में रखें. काफ़ी फ़ायदा होगा.

* स्वस्तिक, ओम और रंगोली की सजावट उत्तर या पूर्व दीवार पर करें.

New-Rangoli-Design-99

* ऐसी रंगोली जिस पर मिट्टी के दीये प्रज्ज्वलित किए गए हो, उत्तर-पूर्व दिशा में बनाई जाए, तो ये ख़ूबसूरत तो दिखती ही है, साथ ही परिवार में सुख-समृद्धि भी आती है.

* एक पात्र में पानी भरकर फ्लोटिंग कैंडल्स और गुलाब की पंखुड़ियां डालें. इसे घर के मध्य में रखें. पॉज़िटिव एनर्जी आएगी.

* भगवान की मूर्तियां और फोटो नए कपड़े से साफ़ करें.

* दिवाली की लक्ष्मी पूजा हमेशा घर के उत्तर क्षेत्र में करनी चाहिए. यह एरिया धन से जुड़ा है.

* पूजा में लक्ष्मी, विष्णु, गणेश, इंद्र भगवान एवं कुबेर की मूर्तियां इस तरह रखें कि पूजा करते समय पूजन करनेवाले का मुंह उत्तर-पूर्व, पूर्व या उत्तर  दिशा में हो. अपने पूर्वजों या मृत्यु प्राप्त हो चुके लोगों के फोटो कभी भी पूजाघर में ना रखें.

* गणेश भगवान की मूर्ति लक्ष्मीजी के बाईं ओर तथा विष्णु भगवान की मूर्ति लक्ष्मीजी की दाईं ओर होनी चाहिए. ध्यान रहे, मूर्तियों के सामने घर का  दरवाज़ा ना हो.

* दीवाली में भगवान को नए कपड़े पहनाएं और मंदिर की सजावट करें.

* हमेशा कलश पूजाघर के उत्तर या पूर्व में रखें.

* सेंधा नमक को पानी में घोलकर घर के कोने-कोने में छिड़काव करें. वास्तु शास्त्र के अनुसार, नमक में घर की बुरी ऊर्जाओं को अवशोषित करने का  गुण होता है.

* इसी तरह घर का पोंछा लगानेवाले पानी में सेंधा नमक घोलकर उस पानी से पोंछा लगाएं. यह नकारात्मकता को दूर करता है. एक कांच के बाउल में  सेंधा नमक डालकर उसे ऑफिस या घर के चारों कोनों में रख दें.

* दीपावली में रोशनी का बहुत महत्व है. यह घर की ख़ूबसूरती बढ़ाने के साथ-साथ नकारात्मक ऊर्जा को दूरकर घर में ख़ुशहाली लाती है. दिवाली के  लिए उत्तर में ज़्यादातर पीले, हरे लाइटवाली लाइटिंग, पूर्व में अधिकतर लाल, ऑरेंज और पीले बल्बवाली लाइटिंग, पश्‍चिम में पीले, ऑरेंज, पिंक, ग्रे  बल्बवाली व दक्षिण में स़फेद, इंडिगो, जामुनी और लाल रंग की लाइटिंग लगाएं.

* वास्तु शास्त्र के अनुसार, दीपावली में सोने या बर्तन की ख़रीददारी करें.

 
1008469-diwali

* ध्यान रहे, दिवाली की रात पूरे घर में और घर के हर कोने में रोशनी रहे. कहीं भी अंधेरा ना हो. यहां तक कि बाथरूम, किचन, सीढ़ियां और अन्य    जगहों की लाइट्स भी ऑन रखें.

* पूजा किए गए सोने या चांदी के सिक्के लाल रंग के पाउच में रख सुनहरे धागे से बांध दें. इसे संभालकर रखें. यह लक्ष्मीजी का आशीर्वाद है, जिससे
घर-परिवार में सुख-समृद्धि व खुशहाली आती है.

* दिवाली के दिन अपने आर्थिक लक्ष्य की योजना बनाएं और इसे लिखकर रखें. इसके अलावा तीन सिक्के लेें. उन्हें लाल कपड़े में बांधें और उत्तर दिशा   में पानी से भरकर रखे गए बाउल के पास रख दें. इस एरिया को हमेशा साफ़-सुथरा रखें. रोज़ाना अपने लक्ष्य पर फोकस करें. मनोकामना अवश्य  पूरी  होगी.

* घर की उत्तर और पूर्व दीवारों पर शीशे लगवाएं. ये पॉज़िटिव एनर्जी को बढ़ाते हैं.

* बेहतर होगा कि दिवाली के दिन काले कपड़े ना पहनें. स़फेद, लाल, पीला, बैंगनी, क्रीम व नीला कलर पहनें. घर में ख़ुशहाली बनी रहेगी.

* त्योहारों पर मिठाई बांटना अच्छा शगुन समझा जाता है. मिठाइयों के अलावा ड्रायफ्रूट्स बांटना भी शुभ होता है. इससे आपको तो ख़ुशी मिलती ही है.   पानेवाला भी प्रसन्न होकर आपका मुरीद हो जाता है.

इस दिवाली ख़ास परिणामोें और सकारात्मकता के लिए नीचे दिए गए प्रयोग निम्न दिशाओं में करें.

उत्तर- इस दिशा में लगाया गया पानी का चित्र या आकृति आपको नए प्रोजेक्ट शुरू करने में सहायक होगा.

दक्षिण- इस दिशा में रखी गई चट्टानों और पहाड़ोंवाली आकृतियां या चित्र आपको प्रेरणा देंगे.

उत्तर-पूर्व- इस दिशा में ताज़े पानी से भरा हुआ बाउल सौ डॉलर के नोट पर रखें.

पश्‍चिम- अपनी बचत बढ़ाने के लिए पीले फूलोंवाला मिट्टी का गमला इस दिशा में रखें.

उत्तर-पश्‍चिम- काम के प्रति एनर्जी बढ़ाने और पैसे बनाने के लिए इस दिशा में पिग्गी बैंक रखें.

दक्षिण-पश्‍चिम- तबीयत जल्दी ठीक होने और पैसों का प्रवाह बना रहे, इसके लिए इस दिशा में क्रिस्टल बॉल लगाएं. अपने बैंक/इंवेस्टमेंट पेपर्स इस  दिशा में उत्तर की ओर मुंह करके रखें.

पूर्व- नाम और प्रसिद्धि पाने के लिए उगते सूरज का चित्र इस दिशा में लगाएं.

दक्षिण-पूर्व- नौ डंडियोंवाला बैम्बू प्लांट इस दिशा में रखें. संपत्ति बढ़ेगी.