Tag Archives: rahul dravid

बेमिसाल… द्रविड़ जैसा कोई नहीं, बने सबके लिए मिसाल (BCCI Accepts Dravid’s Demand For Equal Pay In Cash Rewards)

BCCI, Dravid's Demand For Equal Pay In Cash Rewards

BCCI, Dravid's Demand For Equal Pay In Cash Rewards
राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) अपनी सादगी और टैलेंट के दम पर अपनी अलग पहचान तो कबके बना चुके हैं, पर हर बार वो एक नई मिसाल देकर कुछ ऐसा कर जाते हैं कि उनका सम्मान और बढ़ जाता है. हाल ही में बीसीसीआई (BCCI) ने अंडर-19 विश्व कप (Under 19 World Cup) जीतने के बाद मुख्य कोच (Coach), सहायक कोच और टीम के खिलाड़ियों के लिए इनामी रकम की घोषणा की थी, जिसमें राहुल द्रविड़ को सबसे ज़्यादा 50 लाख दिए जाने का ऐलान हुआ था. लेकिन इनामी रकम की असमानता को लेकर द्रविड़ ने नाखुशी जाहिर की. राहुल का कहना है कि सबने उतनी ही मेहनत की है तो इनाम में असामनता क्यों? राहुल ने अपनी इनामी राशि कम करके सपोर्टिंग स्टाफ के लिए भी समान रकम की मांग की और बीसीसीआई ने इस मांग को स्वीकार करते हुए विश्व कप ही नहीं, बल्कि अंडर-19 टीम से एक साल पहले तक जुड़े स्टॉफ के हर सदस्य को इनामी रकम देने का फैसला किया है. सभी को समान राशि दी जाएगी. यहाँ तक कि उस ट्रेनर के परिवार को भी उतनी ही रकम मिलेगी, जिसका पिछले साल टीम के साथ ऑन ड्यूटी निधन हो गया था.

यह भी पढ़ें: विराट ने जीत का श्रेय अनुष्का को दिया

यह भी पढ़ें: ICC अंडर 19 वर्ल्ड कप: ऑस्ट्रेलिया को हरा, चौथी बार भारत बना चैम्पियन, बधाइयों और इनामों की बरसात!

राहुल द्रविड़ के इस क़दम ने उनके फैंस के बीच उनका सम्मान और बढ़ा दिया और सभी ने ट्वीट्स करके अपने मन की बात कही. आप भी पढ़ें ये ट्वीट्स

[amazon_link asins=’8129116502,B079P3H522,B07543DFZJ,0143417509′ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’5f6a9cb0-1ac2-11e8-948d-6be7d6a2e3ce’]

राहुल द्रविड़ को मिला बेटे समित से परफेक्ट बर्थडे गिफ्ट…. (Happy Birthday The Wall… Interesting Facts About Rahul Dravid)

Interesting Facts About Rahul Dravid
Interesting Facts About Rahul Dravid

राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) को क्रिकेट का जेंटलमैन कहा जाता है और उनके बर्थडे पर उन्हें मिला है परफेक्ट गिफ्ट अपने बेटे समित से… समित ने वन डे मैच में150 रनों की पारी खेली और यह साबित कर दिया कि वो भी अपने पिता के नक़्शे कदम पर ही चलनेवाले हैं

 द्रविड़ 45वां जन्मदिन मना रहे हैं. आइए जानते हैं उनके बारे में कुछ खास बातें…

उनकी मज़बूत शख़्सियत का अंदाज़ा तो इसी बात से लगाया जा सकता है कि अगर क्रिकेट में कोई जेंटलमैन है, तो राहुल… अगर क्रिकेट की कोई बेहद मज़बूत दीवार है, तो वो हैं राहुल… अगर किसी क्रिकेटर को मिस्टर डिपेंडेबल या भरोसेमंद कहा जाता है, तो वो भी हैं राहुल!
अपने शांत मिज़ाज और उत्कृष्ट खेल से किसी ने स्पोर्ट्स लवर्स के दिलों पर राज किया है, तो राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) ही हैं. विरोधी खेमा भी जिन्हें अदब और सम्मान की नज़र से देखता रहा है, जिनकी तारीफ़ों के क़सीदे पढ़ने में हर कोई ख़ुद को गौरवान्वित महसूस करता रहा है, ऐसे क्रिकेटर के जन्मदिन पर हम उन्हें सैल्यूट करते हैं.

Interesting Facts About Rahul Dravid

  • बेहद शालीन, बहुत ही सिंपल लेकिन अल्ट्रा टैलेंटेड राहुल का जन्म 11 जनवरी 1973 को मध्य प्रदेश की एक मराठी फैमिली में हुआ था, लेकिन बाद में वे बैंगलुरू शिफ्ट हो गए थे, जहां उनकी स्कूलिंग व आगे की शिक्षा हुई. उनके क्रिकेट रिकॉर्ड्स की बात करें, तो फेहरिस्त बेहद लंबी होगी, बेहतर होगा उनसे जुड़े कुछ महत्वपूर्ण व दिलचस्प तथ्य जानें-
  • राहुल को प्यार से जैमी भी बुलाया जाता है, कयोंकि उनके पिता जैम कंपनी में काम करते थे.
  • राहुल द्रविड़ ही एकमात्र नॉन-ऑस्ट्रलियन क्रिकेटर हैं, जिन्होंने ब्रैडमैन ओरेशन को एड्रेस किया था, जो कि अपने आप में बेहद गौरव की बात है.
  • 1999 में हुए 7वें वर्ल्डकप (50-50) में राहुल द्रविड़ ही सर्वाधिक रनों के मामले में शीर्ष पर थे. ऐसे में उन लोगों के मुंह भी बंद हो गए थे, जो उन्हें वनडे के लिए अनफिट व मात्र टेस्ट का खिलाड़ी ही मानते थे.

यह भी पढ़ें: Exclusive Interview: जग जिस पर हंसता है, इतिहास वही रचता है… रेसलर संग्राम सिंह 

Interesting Facts About Rahul Dravid

  • क्रिकेट के इतिहास में द्रविड़ ही एकमात्र ऐसे क्रिकेटर हैं, जिन्होंने जिस मैच में डेब्यू किया, उसी मैच से वो रिटायर भी हुए. जी हां, 2011 में भारत की टी20 टीम में उन्हें सिलेक्ट किया गया था, जिसमें उन्होंने 21 गेंदों पर 31 रन बनाए थे.
  • बहुत कम लोग ही जानते हैं कि क्रिकेट से पहले द्रविड़ का प्यार हॉकी था. वो हॉकी के बेहतरीन खिलाड़ी थे और वो कर्नाटक की जूनियर स्टेट टीम के लिए सिलेक्ट भी हुए थे.
  • ग्लेन मैकग्रा का ये कथन भी काफ़ी मशहूर हुआ था, जिसमें उन्होंने राहुल की शान में कहा था- भारतीय टीम में मात्र एक ही खिलाड़ी ऐसा था, जो 90 के दशक की ऑस्ट्रेलियन टीम में डायरेक्ट एंट्री पा सकता था, वो है- राहुल द्रविड़.

Interesting Facts About Rahul Dravid

  • 2001 में कोलकाता टेस्ट में वीवीएस लक्ष्मण और राहुल द्रविड़ के बीच 376 रन की साझेदारी टेस्ट क्रिकेट का एक यादगार लम्हा है.
  • आॅस्ट्रेलिया के खिलाफ इस टेस्ट में लक्ष्मण ने 281 रन तो द्रविड़ ने 180 रन बनाए थे.
  • टीम इंडिया के लिए 164 टेस्ट में 13288 रन, 344 वनडे में 10889 रन और एकमात्र टी20 इंटरनेशनल मैच में 31 रन बनाने वाले बल्लेबाज़ राहुल पद्म श्री और पद्म भूषण जैसे सर्वोच्च भारतीय नागरिक सम्मान हासिल कर चुके हैं.
  • राहुल द्रविड़ ने 164 टेस्ट मैचों में 210 कैच पकड़े हैं जो कि वर्ल्ड रिकॉर्ड है.
  • अपने शानदार खेल की वजह से मिस्टर भरोसेमंद का उपनाम हासिल करने वाले राहुल द्रविड़ ने लगातार 94 टेस्ट खेले हैं. उन्होंने 93 टेस्ट भारत तो एक आईसीसी इलेवन के लिए खेला है. वह ऐसा करने वाले सुनील गावस्कर (106) के बाद दूसरे भारतीय खिलाड़ी हैं. वर्ल्ड रिकॉर्ड एलन बॉर्डर (153) के नाम है.

[amazon_link asins=’8129116502,9381810788,1473605172,B0763CBTDG’ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’8cee526d-f68d-11e7-90d5-a5600f92678e’]

युवराज सिंह और धोनी की भूमिका को लेकर राहुल द्रविड़ ने पूछे कुछ सवाल! (Rahul Dravid: Decide On Dhoni & Yuvraj Singh)

राहुल द्रविड़

55079_42374082

 

  • क्या युवराज सिंह(Yuvraj Singh) और महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) की टीम में जगह बनती है?
  • और क्या वे 2019 की वर्ल्ड कप (World Cup 2019) टीम का हिस्सा बनने की दावेदारी रखते हैं?
  • आज की तारीख़ में क्या युवाओं को मौक़ा नहीं मिलना चाहिए?
  • क्या 2019 वर्ल्ड की तैयारी अभी से नहीं करनी चाहिए?
  • क्या संभावित टीम व खिलाड़ियों के लिए अभी से नींव नहीं बननी चाहिए…?
  • ये चंद ऐसे सवाल हैं, जो भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team) के पूर्व कप्तान और इंडिया ए व जूनियर क्रिकेट टीम के कोच राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) ने उठाएं हैं.
  • ज़ाहिर है कि सवाल यदि राहुल- द वॉल जैसी शख़्सियत की तरफ़ से आएंगे, तो उन्हें गंभीरता से लेना होगा.
  • युवी और धोनी की परफॉर्मेंस को देखते हुए हर कोई यह जानना चाहता है कि आख़िर उनकी टीम इंडिया में क्या भूमिका है? माही के बल्ले में अब वो आग नहीं और युवी की फील्डिंग में वो पहले जैसी बात नहीं. तो क्यों न युवाओं को परखा जाए, क्यों न उन्हें मौका दिया जाए?
  • यही नहीं, राहुल ने जडेजा (Jadeja) और अश्‍विन (R Ashwin) के रिप्लेसमेंट की भी बात कही. उनका कहना है कि अगर फ्लैट विकेट पर ये गेंदबाज़ विकेट नहीं ले पा रहे, तो आपको उनका सब्स्टिट्यूट तलाशना होगा और आपके पास कुलदीप यादव जैसी खिलाड़ी हैं भी, तो क्यों न उन्हें बढ़ावा दिया जाए.
  • बात तो सही है, आख़िर कब तक एक ही ढर्रे पर चलता रहा जाए, बदलाव तो होने ही चाहिए और जब राहुल द्रविड़ जैसा खिलाड़ी बदलाव की बात कहे, तो ज़ाहिर है वो बदलाव क्रिकेट की बेहतरी के लिए ही होंगे.

क्रिकेट के जेंटलमैन राहुल द्रविड़ को जन्मदिन की शुभकामनाएं! (The Wall Turns 43: Happy birthday Rahul dravid)

rahul dravid

rahul dravid
उनकी मज़बूत शख़्सियत का अंदाज़ा तो इसी बात से लगाया जा सकता है कि अगर क्रिकेट में कोई जेंटलमैन है, तो राहुल… अगर क्रिकेट की कोई बेहद मज़बूत दीवार है, तो वो हैं राहुल… अगर किसी क्रिकेटर को मिस्टर डिपेंडेबल या भरोसेमंद कहा जाता है, तो वो भी हैं राहुल!
अपने शांत मिज़ाज और उत्कृष्ट खेल से किसी ने स्पोर्ट्स लवर्स के दिलों पर राज किया है, तो राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) ही हैं. विरोधी खेमा भी जिन्हें अदब और सम्मान की नज़र से देखता रहा है, जिनकी तारीफ़ों के क़सीदे पढ़ने में हर कोई ख़ुद को गौरवान्वित महसूस करता रहा है, ऐसे क्रिकेटर के जन्मदिन पर हम उन्हें सैल्यूट करते हैं.

rahul dravid

  • बेहद शालीन, बहुत ही सिंपल लेकिन अल्ट्रा टैलेंटेड राहुल का जन्म 11 जनवरी 1973 को मध्य प्रदेश की एक मराठी फैमिली में हुआ था, लेकिन बाद में वे बैंगलुरू शिफ्ट हो गए थे, जहां उनकी स्कूलिंग व आगे की शिक्षा हुई. उनके क्रिकेट रिकॉर्ड्स की बात करें, तो फेहरिस्त बेहद लंबी होगी, बेहतर होगा उनसे जुड़े कुछ महत्वपूर्ण व दिलचस्प तथ्य जानें-
  • राहुल को प्यार से जैमी भी बुलाया जाता है, कयोंकि उनके पिता जैम कंपनी में काम करते थे.
  • राहुल द्रविड़ ही एकमात्र नॉन-ऑस्ट्रलियन क्रिकेटर हैं, जिन्होंने ब्रैडमैन ओरेशन को एड्रेस किया था, जो कि अपने आप में बेहद गौरव की बात है.
  • 1999 में हुए 7वें वर्ल्डकप (50-50) में राहुल द्रविड़ ही सर्वाधिक रनों के मामले में शीर्ष पर थे. ऐसे में उन लोगों के मुंह भी बंद हो गए थे, जो उन्हें वनडे के लिए अनफिट व मात्र टेस्ट का खिलाड़ी ही मानते थे.

rahul dravid

  • क्रिकेट के इतिहास में द्रविड़ ही एकमात्र ऐसे क्रिकेटर हैं, जिन्होंने जिस मैच में डेब्यू किया, उसी मैच से वो रिटायर भी हुए. जी हां, 2011 में भारत की टी20 टीम में उन्हें सिलेक्ट किया गया था, जिसमें उन्होंने 21 गेंदों पर 31 रन बनाए थे.
  • बहुत कम लोग ही जानते हैं कि क्रिकेट से पहले द्रविड़ का प्यार हॉकी था. वो हॉकी के बेहतरीन खिलाड़ी थे और वो कर्नाटक की जूनियर स्टेट टीम के लिए सिलेक्ट भी हुए थे.
  • ग्लेन मैकग्रा का ये कथन भी काफ़ी मशहूर हुआ था, जिसमें उन्होंने राहुल की शान में कहा था- भारतीय टीम में मात्र एक ही खिलाड़ी ऐसा था, जो 90 के दशक की ऑस्ट्रेलियन टीम में डायरेक्ट एंट्री पा सकता था, वो है- राहुल द्रविड़.

– गीता शर्मा 

मुझे अब भी बहुत कुछ सीखना है- राहुल द्रविड़! (“I still have to learn a lot”: Rahul Dravid)

यदि नियमों में बदलाव किए जाएं और मुझे आंखों पर पट्टी बांधकर क्रिकेट खेलने की अनुमति मिल जाए, तो भी मैं इतना बेहतरीन क्रिकेट कभी नहीं खेल पाऊंगा, जितना ये तमाम क्रिकेटर्स खेलते हैं… ये बात कही भारतीय क्रिकेट की दीवार कहे जानेवाले राहुल द्रविड़ ने. आख़िर क्यों कहा उन्होंने ऐसा, आइए जानें-

Rahul Dravid (2)

  • दरअसल भारत की मेज़बानी में अगले वर्ष होनेवाले नेत्रहीन टी20 वर्ल्ड कप के लिए के लिए भारतीय नेत्रहीन क्रिकेट संघ यानी सीएबीआई ने राहुल द्रविड़ को अपना ब्रांड एंबेसेडर बनाया है.
  • इस अवसर पर राहुल ने अपने मन की बात कही, “मैं नेत्रहीन क्रिकेट खेलने के लिए सक्षम ही नहीं हूं. उनकी क्षमताएं असाधारण हैं.”
  • गौरतलब है कि यह टूर्नामेंट 28 जनवरी से 12 फरवरी तक चलेगा. टूर्नामेंट का उद्घाटन समारोह नई दिल्ली में और ग्रांड फिनाले बैंगलुरू में होगा.
  • इसमें 10 देश हिस्सा ले रहे हैं- इंडिया, ऑस्ट्रेलिया, नेपाल, न्यूज़ीलैंड, बांग्लादेश, श्रीलंका, साउथ अफ्रीका, वेस्ट इंडीज़, इंग्लैंड और पाकिस्तान.

rahul-dravid-1

  • राहुल द्रविड़ ने ब्लाइंड क्रिकेट के भविष्य पर बात करते हुए कहा कि कुछ समय पहले तक जागरूकता, सुविधाओं व संभावनाओं की कमी के चलते यह अधिक पॉप्युलर नहीं था, लेकिन पिछले 4-5 सालों में इसका काफ़ी विस्तार हुआ है और अब यह सही दिशा में आगे बढ़ रहा है.
  • मैं उन लोगों को धन्यवाद देना चाहता हूं, जो इस पर काम कर रहे हैं और इसे आगे बढ़ाने की दिशा में मेहनत कर रहे हैं. ख़ासतौर से सीएबीआई के अध्यक्ष जीके महंतेश से मुझे काफ़ी कुछ सीखना है, क्योंकि उनकी उपलब्धियां मेरी उपलब्धियों से बड़ी हैं. मैं स़िर्फ जागरूकता पैदा कर सकता हूं, जबकि उन्होंने ब्लाइंड क्रिकेट का काफ़ी विकास किया है.

– गीता शर्मा