Tag Archives: rai-chana dal-urad dal tadka

स्वाद ही नहीं, सेहत के लिए भी फ़ायदेमंद है दाल में तड़का! (Not Only Taste: Health Benefits Of Tadka)

Health Benefits Of Tadka

क्या आप जानते हैं कि खाने में लगाया जानेवाला छौंक केवल खाने के स्वाद को ही नहीं बढ़ाता, बल्कि सेहत (Health) के लिए बहुत फ़ायदेमंद (Beneficial) होता है. छौंक में मिलाए जानेवाले इंग्रिडयंस, जैसे- हींग, जीरा, राई, लहसुन आदि अनेक बीमारियों में तुरंत राहत पहुंचाते हैं. हम आपको बताते हैं कि छौंक कितने तरह के होते हैं और ये छौंक किस-किस बीमारी में राहत पहुंचाते हैं.
1. लहसुन-हींग का छौंक

Tadka
डिश का फ्लेवर बढ़ाने चाहते हैं, तो उसमें लहसुन-हींग का छौंक लगाएं. वैसे तो यह छौंक अरहर और पीली मूंग दाल में लगाते है, पर आप चाहें तो सादी खिचड़ी में भी इस छौंक को लगा सकते हैं. इस छौंक में डाले जानेवाला लहसुन और हींग दोनों पेट के लिए फ़ायदेमंद होते हैं.

2. प्याज़-जीरा-अदरक-लहसुन-हरी मिर्च का छौंक

Daal Tadka

यह छौंक पंजाबी खाने के स्वाद को और भी बढ़ा देता है. इसमें मिक्स हरी मिर्च वेट लॉस में, लहसुन सर्दीज़ुकाम में और प्याज़ इम्युनिटी को बढ़ाता है.

3. राई-हींग-हल्दी का छौंक: यह छौंक गुजराती खाने में लगाते हैं. राई कोलेस्ट्रॉल के लेवल का कम करती है और पाचन शक्ति को मज़बूत बनाती है. हींग कब्ज़ और गैस में आराम दिलाती है, जबकि एसिडिटी को नियंत्रित करती है.

और भी पढ़ें: आपके खाने का स्वाद बढ़ाएंगे ये 6 होममेड मसाला रेसिपीज़ (These 6 Homemade Masala Recipes Will Increase The Taste Of Your Food)

4. देसी घी-मेथी-लाल मिर्च का छौंक

Benefits Of Tadka

देसी घी का छौंक खाने के स्वाद को और भी बढ़ा देता है. यह छौंक कढ़ी में लगाते हैं. इसमें मिक्स मेथी खाना पचाने में मदद करती है और साबूत लाल मिर्च पेट में होनेवाली जलन को दूर करती है.

5. राई-चना दाल-उड़द दाल का छौंक: चना और उड़द दाल होने के कारण यह छौंक पौष्टिकता से भरपूर होता है, जो साउथ इंडियन फूड में लगाया जाता है. चना दाल में फाइबर, कैल्शियम और प्रोटीन अधिक मात्रा में होता है, जबकि उड़द दाल में प्रोटीन के अलावा अन्य पोषक तत्व होते हैं, जो याददाश्त को बढ़ाते हैं.

6. पंचफोरन

Benefits Of Tadka

राई-जीरा-कलौंजी-मेथी-सौंफ को मिलाकर बनाकर बनाया गया पंचफोरन का छौंक बंगाली खाने में लगाया जाता है. इसमेंं मिक्स कलौंजी जोड़ों के दर्द में कलौंजी बहुत फ़ायदेमंद होती है. सौंफ मुंह की दुर्गंध को दूर करता है और जीरा पाचन शक्ति को बढ़ाता है.

7. साबूत मसालों का छौंक

Tadka

साबूत मसालों के इस छौंक को कश्मीरी खाने में लगाया जाता है. इस छौंक में मिलाए जानेवाले साबूत मसाले शरीर का गरमी देते हैं, जिससे ठंड में राहत मिलती है. इस साबूत मसालों में शामिल लौंग दांत के दर्द में बहुत उपयोगी होती है, जबकि तेजपत्ता दिल की बीमारियों के ख़तरे को कम करता है.

और भी पढ़ें: सीखें दाल बनाने के 10 नए तरी़के (10 Best And Easy Dal Recipes)

– देवांश शर्मा