Randeep Hooda

देश के टॉप रेटेड न्यूज़ एंकर्स अर्नब गोस्वामी अपने तेज़ तर्रार और आक्रामक अंदाज़ के लिए जाने जाते हैं. इंडिया के बेस्ट न्यूज़ एंकर्स में उनकी गिनती होती है. वैसे तो उनकी काफी ज्यादा फैन फॉलोइंग है, लेकिन पिछले कुछ दिनों से जिस तरह से उन्होंने सुशांत सिंह राजपूत को इंसाफ दिलाने के लिए मुहिम छेड़ रखी थी, उससे वो आज सबके हीरो भी बन गए हैं.

Arnab Goswami


जैसा कि बॉलीवुड का ट्रेंड है कि वो पॉपुलर शख्सियत की लाइफ पर अक्सर फ़िल्म बनाते हैं. हो सकता है कोई मेकर अर्नब पर भी फ़िल्म बनाने की सोचे और अगर अर्नब पर कभी फ़िल्म बनी तो वे कौन से एक्टर्स हैं, जो उनका रोल परफेक्टली प्ले कर पाएंगे, आइये जानते हैं.

राजकुमार राव

Raj Kumar Rao


राजकुमार राव ने अपनी शानदार ऐक्टिंग से बॉलीवुड में अलग ही मुकाम बनाया है. ‘शाहिद’, ‘ओमेर्टा’, ‘शैतान’, ‘बरेली की बर्फी’, ‘न्यूटन’, ‘सिटी लाइट्स’, ‘स्त्री’…. बेहतरीन फिल्मों की लंबी लिस्ट और हर फिल्म में बेहतरीन परफॉर्मेंस… अर्नब के रोल के लिए राजकुमार का सेलेक्शन कभी गलत चॉइस हो ही नहीं सकता.

रणदीप हुडा

Randeep Hooda


अर्नब के किरदार के लिए एक और नाम सामने आता है, वो है रणदीप हुडा का. रणदीप कमाल के एक्टर हैं और बॉलीवुड से लेकर हॉलीवुड तक अपनी एक्टिंग का दम दिखा चुके हैं. उन्हें चाहे कोई भी रोल दे दो, वो उसे अपने 100% देते हैं और खुद को उस कैरेक्टर के लिए इतना तैयार करते हैं कि लगने लगता है कि उस रोल के लिए उनसे बेहतर कोई हो ही नहीं सकता. चाहे ‘वंस अपॉन ए टाइम इन मुंबई’, हो, ‘साहिब बीवी और गैंगस्टर’ हो, ‘सरबजीत’, या ‘हाईवे’, उन्होंने हर रोल को बहुत ही अच्छे से निभाया. अर्नब के रोल के लिए भी वो एक अच्छी चॉइस हो सकते हैं.

नीरज कबि

Neeraj kabi


जिन लोगों ने ‘पाताललोक’ वेबसीरीज़ देखी है, वो ये जानते होंगे कि अर्नब के रोल के लिए नीरज क्यों परफेक्ट होंगे. इस वेबसीरीज़ में नीरज ने जर्नलिस्ट संजीव मेहरा का किरदार निभाया है और इस किरदार में वो बहुत जंचे भी हैं और दर्शकों ने भी उन्हें बहुत पसंद किया है. नीरज कबी ने इससे पहले वेब सीरीज ‘सेक्रेड गेम्स’, फिल्म ‘हिचकी’, ‘डिटेक्टिव ब्योमकेश बख्शी’ व ‘तलवार’ आदि में बेहतरीन एक्टिंग कर चुके हैं. वो बहुत ही उम्दा थिएटर आर्टिस्ट भी हैं.

रोनित रॉय

Ronit Roy


रोनित कमाल के एक्टर तो हैं ही, उनकी पर्सनालिटी भी कमाल की है. उनकी एक्टिंग भी बहुत स्ट्रांग है और किसी भी रोल को वो बहुत ही बेस्ट तरीके से निभा लेते हैं. अर्नब के रोल के लिए रोनित रॉय बेस्ट चॉइस होंगे.

के के मेनन

Kk menon


के के मेनन बॉलीवुड को बेस्ट एक्टर्स में से एक हैं. उनकी एक्टिंग में एक अलग लेवल का ब्रिलियंस है, जिस तक कोई पहुंच भी नहीं सकता. चाहे फ़िल्म ‘गुलाम’ हो या शौर्य, जब वो एक्टिंग करते हैं तो नज़र और कहीं हटती ही नहीं… दमदार आवाज़, ज़बरदस्त एक्टिंग टैलेंट के के मेनन को बिल्कुल अलग लेवल पर ले जाता है. वो हर रोल को 100% देते हैं. चाहे ‘ब्लैक फ्राइडे’ ‘द्रोण’, ‘दंश’, ‘लाइफ इन अ मेट्रो’ या ‘शौर्या’ के के मेनन ने हर रोल में खुद को साबित किया है. अर्नब गोस्वामी के लिए वो भी बेस्ट चॉइस हो सकते हैं.


सैफ अली खान

Saif Ali Khan


सैफ भले ही फिल्में कम करते हों, लेकिन अपने हर रोल के लिए जमकर मेहनत करते हैं और किसी भी रोल को बहुत अच्छी तरह निभा लेते हैं. ओमकारा, रेस, फैंटम, बाजार में अपनी एक्टिंग स्किल से उन्होंने दिखा दिया कि वो कोई भी रोल निभा सकते हैं और बहुत अच्छी तरह से निभा सकते हैं… और हाल ही में आई उनकी फ़िल्म ‘तानाजी’… क्या परफॉर्मेंस दिया था सैफ ने. इसके अलावा सैफ में वो टैलेंट है कि वो एक न्यूज एंकर का रोल भी ईजिली कर सकते हैं.

इमरान हाशमी

Emraan Hashmi


इमरान को भले ही ‘किसर एक्टर’ या हॉट फ़िल्म स्पेशल हीरो का टैग लगा दिया गया हो और उन्हें हमेशा कमतर आंका जाता हो, पर जन्नत, शंघाई और बार्ड ऑफ ब्लड फिल्मों में अपनी बेस्ट परफॉर्मेंस से उन्होंने साबित कर दिखाया है कि वो बेहद टैलेंटेड एक्टर हैं. 2012 में आई फ़िल्म ‘रश’ में इमरान ने एक क्राइम जर्नलिस्ट का रोल प्ले किया था, जिसके लिए क्रिटिक्स ने उनकी बहुत तारीफ की थी. तो अगर अर्नब गोस्वामी की लाइफ पर फ़िल्म बनती है, तो इमरान को लेने के बारे में भी सोचा जा सकता है.

अपने फेवरेट स्टार के बारे में वैसे तो हम कुछ जानते हैं कि वो क्या खाते हैं, क्या पहनते हैं, कैसे रहते हैं, उनकी फैमिली-रिलेशनशिप की बातें… सब कुछ, लेकिन आज हम आपको बताने जा रहे हैं इन फ़िल्म स्टार्स के उन सुपर डैड के बारे में, जो बॉलीवुड से ताल्लुक नहीं रखते, लेकिन अपने फील्ड में मास्टर हैं और बेहद सक्सेसफुल भी.

आयुष्मान के पापा पी खुराना हैं ज्योतिषी

Ayushmann's father P. Khurana

आयुष्मान खुराना बॉलीवुड के जाने माने अभिनेता हैं जो न सिर्फ बेहतरीन एक्टर हैं बल्कि लाजवाब गायक और लेखक भी हैं. पर शायद आप नहीं जानते होंगे कि आयुष्मान के फादर पी खुराना मशहूर ज्योतिषी और अंकशास्त्री हैं और उनके क्लाइंट लिस्ट में काफी बड़े लोग शामिल हैं. पापा के कहने पर ही आयुष्मान ने अपने नाम की स्पेलिंग में बदलाव किए और आज कामयाब भी हैं. उनके नाम में जितने भी शब्द (Alphabets) एक्स्ट्रा हैं वो उनके पिता ने जोड़े हैं. इतना ही नहीं, करियर की शुरुआत से ही आयुष्मान पापा की ज्योतिष सलाह मानते आ रहे हैं, एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था, ”मेरा जर्नलिज्म का एग्जाम चल रहा था और मेरा दिल्ली शिफ्ट होने का प्लान था. लेकिन मैंने सोचा था एक साल बाद जाऊंगा, लेकिन पापा ने कहा कि एक साल बाद जाओगे तो काम नहीं मिलेगा अभी जाओ. मैं एग्जाम खत्म होने के दूसरे दिन ही दिल्ली चला गया. यहां दो साल तक था रेडियो जॉकी का काम किया. वहां सब अच्छा चल रहा था, तो पापा का एक दिन कॉल आया कि मुम्बई चला जा, वहां सक्सेस तेरा इंतज़ार कर रही है और मैं मुम्बई चला आया.” हालांकि आयुष्मान ने कहा कि वो ज्योतिष में विश्वास नहीं करते, लेकिन अपने पिता की बात मानते हैं.

कार्तिक आर्यन के फादर है बच्चों के डॉक्टर

Karthik aryan and His Father

कार्तिक आर्यन का असली नाम कार्तिक तिवारी है. एक नॉर्मल मिडल क्लास फैमिली से आने वाले आर्यन का नाता बॉलीवुड से दूर-दूर तक नाता नहीं था. उनकी फैमिली में ज़्यादातर लोग डॉक्टर हैं, लेकिन कार्तिक को एक्टिंग में इंटरेस्ट था, तो वो इंजीनियरिंग छोड़कर यहां आ गए और अपने एक्टिंग के दम पर और किसी से भी मदद लिए बिना, आज एक कामयाब कलाकार बन गए हैं.
पर शायद बहुत कम लोगों को पता है कि उनके पिता मनीष तिवारी डॉक्टर हैं. वो बच्चों के डॉक्टर यानी बाल रोग विशेषज्ञ हैं. इतना ही नहीं कार्तिक की मां माला तिवारी भी गायनाकोलोजिस्ट यानी स्त्रीरोग विशेषज्ञ हैं. इसके अलावा कार्तिक की एक छोटी बहन भी है, जिसका नाम किट्टू है ओर वो भी एक डॉक्टर है.

सिद्धार्थ मल्होत्रा के फादर हैं मर्चेंट नेवी में ऑफिसर

Siddharth Malhotra and His Father

ज़्यादातर लोगों को लगता है कि सिद्धार्थ मल्होत्रा स्टार किड हैं. पर ये बिल्कुल सच नहीं है. ‘स्टूडेंट ऑफ द ईयर’ फ़िल्म से बॉलीवुड में डेब्यू करने वाले सिद्धार्थ के पिता का नाम सुनील मल्होत्रा है और वो मर्चेंट नेवी के फॉर्मर कैप्टेन रह चुके है जबकि मां रीमा मल्होत्रा एक डॉक्टर हैं. पर सिद्धार्थ ने 18 साल की उम्र से ही मॉडलिंग करनी शुरू कर दी थी. बाद में फिल्ममेकर करण जौहर ने उन्हें अपनी फिल्म ‘माय नेम इज खान’ में सह-निर्देशक के तौर पर काम करने का मौका दिया और करण ने ही उन्हें ‘स्टूडेंट ऑफ द ईयर’ में ब्रेक दिया. आज वो इंडस्ट्री में अपनी अच्छी खासी पहचान बना चुके हैं और उनकी ज़बरदस्त फीमेल फैन फॉलोइंग है.

रणदीप हुडा के पापा हैं जाने माने सर्जन

Randeep Hooda and His Father

रणदीप ने हालांकि गिनती की फिल्में की हैं, लेकिन कम फिल्मों में ही अपनी दमदार एक्टिंग से उन्होंने दर्शकों के दिल पर एक गहरी छाप छोड़ी है. रणदीप की अपने पापा के साथ एक खास तरह की केमिस्ट्री है और अपने पापा के साथ फोटोज वो अक्सर सोशल मीडिया पर शेयर करते रहते हैं. बहुत कम लोगों को पता होगा कि उनके पापा रणबीर हुडा पेशे से सर्जन हैं. रणदीप भी बॉलीवुड के उन चंद एक्टर्स में से हैं, जो हाइली एडुकेटेड हैं. उन्होंने ऑस्ट्रेलिया से मॉर्केटिंग में स्‍नातक की डिग्री प्राप्‍त की और बिजनेस मैनेजमेंट और ह्यूमन रिर्सोस मैनेजमेंट में स्‍नाकोत्‍तर की डिग्री प्राप्‍त की है, लेकिन उन्हें करियर एक्टिंग में ही बनाना था और आखिरकार काफी स्ट्रगल के बाद उन्हें मीरा नायर की चर्चित फिल्म ‘मॉनसून वेडिंग’ से बॉलीवुड में ब्रेक मिल ही गया.

आर माधवन के पापा रंगनाथन हैं टाटा स्टील में मैनेजमेंट एग्जीक्यूटिव

R. Madhavan and His Father

बॉलीवुड और टॉलीवुड दोनों जगह फिल्मों में कई बेहतरीन कैरेक्टर निभानेवाले आर माधवन एक उच्च शिक्षित परिवार से ताल्लुक रखते हैं. पापा रंगनाथन टाटा स्टील में मैनेजमेंट एग्जीक्यूटिव के पद पर कार्यरत हैं, जबकि उनकी मां सरोजा बैंक ऑफ़ इंडिया में मैनेजर हैं. उनकी छोटी बहन यूके में सॉफ्टवेयर इंजीनियर के पद पर कार्यरत हैं. माधवन भी हमेशा से पढ़ाई में बेहद अव्वल थे. उन्हें साल 1988 में अपने स्कूल को बतौर कल्चरल एम्बैसडर के तौर पर कनाडा में रिप्रेजेंट करने का अवसर भी मिला था. माधवन की कभी भी एक्टर बनने की ख्वाइश नहीं थी. वह एक आर्मी ऑफिसर बनना चाहते थे, लेकिन किस्मत उन्हें यहां ले आई और उन्होंने बतौर एक्टर खुद को साबित भी किया.

सनी सिंह के फादर जय सिंह निज्जर हैं स्टंट कोऑर्डिनेटर

Sunny Singh and His Father

प्यार का पंचनामा, सोनू के टीटू की स्वीटी’ और ‘उचड़ा चमन’ जैसी फ़िल्मों में एक्टिंग कर चुके सन्नी सिंह को हर कोई पहचानता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि उनके पापा जय सिंह निज्जर बॉलीवुड में बतौर स्टंट डाइरेक्टर कई फिल्मों में काम कर चुके हैं. उनकी कुछ चुनिंदा फिल्मों में शिवाय, हिम्मतवाला, चेन्नई एक्सप्रेस, सिंघम सीरीज की फिल्में प्रमुख हैं.

सिद्धांत चतुर्वेदी के पापा हैं चार्टर्ड अकाउंटेंट

Siddhant Chaturvedi and His Father


पिछले साल फ़िल्म ‘गली बॉय’ में एमसी शेर का किरदार निभाकर चर्चा में आनेवाले सिद्धांत चतुर्वेदी की इस फ़िल्म में एक्टिंग की खूब तारीफें हुईं. बिना कोई फिल्मी बैकग्राउंड के बावजूद सिद्धांत ने बॉलीवुड में अपनी पहचान बनाई है. आपको बता दें कि उनके पापा चार्टर्ड अकाउंटेंट हैं और
सिद्धांत भी अपने पिता की तरह चार्टर्ड अकाउंटेट बनना चाहते थे, लेकिन 2012 में मुंबई टाइम्स का नेशनल टैलेंट हंट जीतना उनके लिए टर्निंग प्वाइंट साबित हुआ. इसके बाद उन्होंने एक्टिंग पर ही फोकस करना शुरू कर दिया.

Randeep Hooda

रणदीप हुड्डा का एनिमल लव- सोशल मीडिया के ज़रिए हमेशा देते हैं स्ट्रॉन्ग मैसेज! (Randeep Hooda’s Unconditional Love For Animals)

रणदीप हुड्डा बी टाउन के सबसे वर्सटाइल एक्टर्स में से एक हैं और रियल लाइफ में भी ये काफ़ी स्ट्रॉन्ग नज़र आते हैं और अपने बात मज़बूती से कहने से पीछे नहीं हटते. उनका एनीमल लव भी किसी से छिपा नहीं है और उनकी वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफी इसका सबसे बड़ा सबूत है. वो इनके ज़रिए भी समाज को हमेशा ही बेहतर व मज़बूत संदेश देते हैं. उनका इंस्टाग्राम अकाउंट व अन्य सोशल मीडिया अकाउंट्स भी इस बात के गवाह हैं कि वो किस हद तक जानवरों के प्रति भी संवेदनशील हैं.

एडॉप्ट करें, बाय नहीं: वो हमेशा कहते हैं कि पेट्स को एडॉप्ट करें, ख़रीदें नहीं यानी डॉन्ट शॉप, एडॉप्ट! अक्सर लोग कुत्ते-बिल्लियों की अलग-अलग नस्लों को काफ़ी पैसे देकर ख़रीदते हैं, जबकि उनका मानना है कि ख़रीदने की बजाय उन्हें गोद लें, जिन्हें आपकी ज़रूरत है. अगर आपके आसपास कोई जानवर बीमार है या उसे केयर की ज़रूरत है और आप पेट रखना चाहते हैं, तो उन्हें एक सुरक्षित आशियाना दें, क्योंकि उन्हें गोद लेना एक बड़ी ज़िम्मेदारी है.

लिंग भेद न करें: लिंग भेद स़िर्फ इंसानों में ही नहीं, जानवरों के प्रति भी हम इंसान करते हैं. अक्सर लोग मेल डॉग या कैट घर पर रखना पसंद करते हैं बजाय फीमेल के यानी मादा की जगह नर को अधिक पसंद किया जाता है. रणदीप ने ख़ुद एक मादा पप्पी को गोद लेकर समाज को संदेश दिया कि आप भेदभाव से बचें. वो अक्सर अपने सोशल मीडिया पेज पर भी इस लिंग भेद से लड़ते व लोगों को जागरूक करते नज़र आते हैं. उन्होंने एक पोस्ट पर ऐसा ही मैसेज डाला था- हमें कुदरत से सीखना चाहिए- औरतों को बचाने, देखभाल करने और उनकी इज़्ज़त करने में कोई नामर्दी नहीं है.

वाइल्ड लाइफ के बचाने की जुगत में रहते हैं: वो अक्सर शेर व उनके बेबीज़ के पिक्स शेयर करके इमोशनल मैसेज शेयर करते हैं. उन्हें उनके प्राकृतिक जगहों में रहने देने के वो बहुत बड़े समर्थक हैं.

हर जानवर के प्रति प्यार: वो हर तरह की नस्ल व जानवरों के प्रति प्यार करने का संदेश देते हैं. एक पोस्ट में उन्होंने हिरण को सड़क पार करते हुए पिक पर लिखा था- द बेस्ट ट्रैफिक ऑन द रोड यानी सड़क पर सबसे अच्छा ट्रैफिक! यहां तक कि वो तितलियों, पंछियों, बंदरों व लंगूरों के पिक्चर्स भी शेयर करके कोई न कोई दिल को छू लेनेवाला मैसेज देते हैं.

नस्ल पर भेदभाव न करें: अक्सर लोग विदेशी नस्लों के जानवरों को घर में रखना पसंद करते हैं, लेकिन वो हमेशा संदेश देते हैं कि यह भेदभाव न हो और उन्होंने ख़ुद भी देसी पप्पी के एक वीडियो को शेयर करते हुए मज़बूती से अपनी मंशा ज़ाहिर कर दी.

आप भी देखें उनके कुछ पोस्ट्स

 

 

View this post on Instagram

We can learn a lot from #nature .. There is nothing non macho about protecting, nurturing and respecting the #female of the species .. हमें कुदरत से सीखना चाहिए – औरतों को बचाने, देखभाल करने और उनकी इज़्ज़त करने में कोई ना मर्दी नहीं है 🙏🏽 🙏🏽 #wildrandeep #jungleehooda #wildwednesday #wildlife #wildlifephotography #penchnationalpark #wildlifephotographer #nature #incredibleindia #motherearth #notjusttigers #environment #india #photographers_of_india #animals #animallovers #mother #family #protect #mothernature #mptourism #earth #mptigerfoundationsociety #tathasturesorts

A post shared by Randeep Hooda (@randeephooda) on

 

 

यही नहीं, वो लोगों को तो जागरूक करते ही हैं, साथ ही जानवरों के संरक्षण के लिए काफ़ी काम भी करते हैं. सरकार से भी वो अक्सर पत्र-व्यवहार के ज़रिए इस तरफ़ अधिक ध्यान देने की बात कहते रहते हैं.

यह भी पढ़ें: अर्श से फर्श तक: बॉलीवुड के रिच स्टार्स, जिनकी मुफलिसी उन्हें सड़क पर ले आई थी! (Bollywood Stars Who Turned From Rich To Poor)

 

नौकायन टीम का संघर्ष व जीत

इंडोनेशिया के जकार्ता-पालेमबर्ग में चल रहे 18वें एशियाई खेलों का छठा दिन भी भारत के लिए मिला-जुला रहा. जैसे-जैसे एशियन गेम्स आगे बढ़ता जा रहा है, वैसे वैसे भारतीय खिलाड़ियों के प्रदर्शन में भी निखार आता जा रहा है. पहली बार रोइंग टीम ने एक स्वर्ण व दो कांस्य के साथ तीन पदक पर कब्ज़ा किया. दत्तू भोकानाल, स्वर्ण सिंह, ओमप्रकाश व सुखमीत सिंह रोइंग मैन्स टीम ने 6:17:17 के समय के साथ गोल्ड अपने नाम किया. दुष्यंत ने बीमार होने के बावजूद कांस्य पदक जीता. भगवान सिंह व रोहित ने लाइटवेट डबल स्कल्स में ब्रॉन्ज़ मेडल जीता. रोइंग टीम को बहुत-बहुत बधाई. रोहन बोपन्ना और दिविज शरण की जोड़ी ने डबल्स टेनिस में कजाकिस्तान के एलेक्सांद्र बुबलिक व डेनिस येवसेयेव को हराकर गोल्ड अपने नाम किया. अनुभवी निशानेबाज़ हीना सिद्धू ने ब्रॉन्ज़ मेडल जीता. ख़ुशी के साथ थोड़े ग़म भी भारत के हिस्से में आए हैं यानी पहली बार जहां पुरुष कबड्डी टीम को कांस्य पदक से ही संतोष करना पड़ा, वहीं महिला कबड्डी टीम ने सिल्वर मेडल जीता. इसी के साथ भारत 6 गोल्ड, 4 सिल्वर व 13 ब्रॉन्ज़ यानी कुल 23 पदक के साथ पदक तालिका में सातवें स्थान पर है.

Breaking News

आधार- चेहरा वेरिफाई करना होगा ज़रूरी

यूआईडीएआई (यूनिक आईडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया) ने नोटिफिकेशन जारी किया है कि जल्द ही आधार द्वारा ली जानेवाली सभी सेवाओं के लिए चेहरे का मिलान करना भी आवश्यक होगा यानी आधार के साथ चेहरा वेरिफाई करना भी ज़रूरी होगा. यह नियम मोबाइल कंपनियों पर विशेष तौर पर लागू की जाएगी. यह सुविधा मोबाइल कंपनियों के साथ 15 सितंबर से शुरू की जाएगी. इसके बाद इसे बैंक का अकाउंट ओपन करने, राशन कार्ड के लिए भी इस्तेमाल में लाया जाएगा. ध्यान रहे, यदि मोबाइल कंपनियां इन नियमों का पालन नहीं करेंगी, तो उन पर जुर्माना भी लगाया जाएगा. यूआईडीएआई के अनुसार, उन्होंने यह निर्णय फिंगरप्रिंट की गड़बड़ी या उसकी क्लोनिंग रोकने के लिए किया है. दरअसल, जून महीने में हैदराबाद के मोबाइल सिम कार्ड वितरक ने आधार में गड़बड़ी करके हज़ारों सिम कार्ड एक्टिवेट करवाए थे. इसी कारण यूआईडीएआई को यह सख़्त क़दम उठाना पड़ा.

 

गार्डन में होगी बीमारी छूमंतर

नोएडा के सेक्टर 91 में एक ऐसा बगीचा बन रहा है, जो आपकी बीमारियों को दूर करने में मदद करेगा. यहां पर औषधीय गुणों से भरपूर पौधे, पेड़ आदि लगाए जा रहे हैं, जैसे- आंवला, हरसिंगार, करीपत्ता, अर्जुन, बहेड़ा, रीठा, कचनार, दालचीनी, चंपा, बेल, इमली, नीम. इसमें वनस्पति विज्ञान यानी बॉटनी के बारे में पूरी जानकारी दी जाएगी, जो बॉटनी के स्टूडेंट्स के लिए काफ़ी फ़ायदेमंद होगा. इसके अलावा पार्क में लिली पॉन्ड, नेचुरल झील, ओपन थिएटर, लैब आदि भी बनाए जा रहे हैं. 25 एकड़ में फैले इस गार्डन को बनाने में 23.94 करोड़ रुपए ख़र्च होने की संभावना है. औषधी पार्क नामक इस बगीचे को लोगों के लिए नवंबर में खोल दिया जाएगा.

यह भी पढ़ें: न्यूज़ टाइम- आज की 5 ख़ास ख़बरें… (Today’s Updates: Top 5 Breaking News)

गूगल ने बंद किए ईरान के चैनल्स

गूगल ने यूट्यूब पर चल रहे ईरान के क़रीब 39 चैनल्स, 13 गूगल प्लस, 6 ब्लॉगर के अकाउंट को बंद कर दिया है. उनके अनुसार, प्रोटेक्ट योर इलेक्शन के अभियान के तहत उन्होंने ईरान द्वारा चलाए जा रहे इन अकाउंट्स को बंद किया है. गूगल द्वारा की गई छानबीन से पता चला कि फिशिंग और हैंकिंग की कोशिश विदेशी सरकारों द्वारा की जा रही थी. ऐसे में डिजिटल माध्यम पर राजनीतिक अभियान को सुरक्षित रखने के लिए ही उन्होंने यह कड़ा कदम उठाया.

 

रणदीप का सराहनीय क़दम

जब से केरल में बाढ़ व प्राकृतिक आपदा आई है, तब से पूरे भारतभर से सहयोग के हाथ बढ़ते रहे हैं. हर रोज़ इससे जुड़े कोई न कोई सराहनीय कदम सामने आ रही है. अब हिंदी सिनेमा के बेहतरीन कलाकार रणदीप हुड्डा ने इंसानियत की मिसाल पेश की है. उन्होंने न केवल अपना जन्मदिन केरल बाढ़ पीड़ितों के साथ मनाया, बल्कि वहां लंगर करके सभी को अपने हाथों से खाना भी खिलाया. साथ ही उन्होंने असहाय लोगों को शरणार्थी घर तक भी पहुंचाया. वे खालसा एड ग्रुप की ओर से वहां गए थे. इससे पहले भी पेरिस अटैक हो या सीरिया में युद्ध से पीड़ित लोग, उनकी मदद के लिए यह ग्रुप आगे रहा है.

– ऊषा गुप्ता

बॉलीवुड में कई ऐसे सितारे हैं जिन्होंने कड़ी मेहनत और दमदार एक्टिंग की बदौलत अपना एक अलग मुकाम हासिल किया है. हालांकि एक्टिंग की दुनिया में कदम रखने के लिए इन सितारों को काफ़ी मशक्कत भी करनी पड़ी और पैसों के लिए उन्हें फिल्मों से हटकर दूसरे काम भी करने पड़े. चलिए जानते हैं ऐसे ही 10 बॉलीवुड सितारों के बारे में, जो फिल्मों में आने से पहले कुछ और ही काम किया करते थे.

1- अमिताभ बच्चन

पिछले कई सालों से सदी के महानायक अमिताभ बच्चन दर्शकों का मनोरंजन कर रहे हैं, लेकिन फिल्मों में आने से पहले वे कोलकाता की एक शिपिंग कंपनी में भाड़ा ब्रोकर के तौर पर काम किया करते थे.

2- दिलीप कुमार

आपको यह जानकर हैरानी होगी कि हिंदी सिनेमा के ट्रेजेडी किंग कहे जाने वाले एक्टर दिलीप कुमार फिल्मों में आने से पहले फल बेचकर अपना गुज़ारा किया करते थे.

3- रणवीर सिंह

अलाउद्दीन खिलजी और बाजीराव जैसे दमदार किरदार निभाने वाले एक्टर रणवीर सिंह आज किसी पहचान के मोहताज नहीं हैं, लेकिन फिल्मों में आने से पहले वो एक एडवर्टाइज़िंग कंपनी में बतौर कॉपी राइटर काम किया करते थे.

4- सोनम कपूर

अभिनेत्री सोनम कपूर की हाल ही में शादी हुई है. फिल्म ‘सांवरिया’ से फिल्मी दुनिया में कदम रखनेवाली सोनम इससे पहले एक वेट्रेस के तौर पर काम किया करती थीं.

5- अक्षय कुमार

बॉलीवुड के खिलाड़ी अक्षय कुमार फिल्मी दुनिया में कदम रखने से पहले वेटर और शेफ के तौर पर काम करते थे. वो बैंकॉक के एक होटल में वेटर के तौर पर काम कर चुके हैं.

6- शाहरुख खान 

किंग खान फिल्मों में आने से पहले दिल्ली में होने वाले लाइव कॉन्सर्ट में अटेंडेंट का काम किया करते थे. इसके अलावा वो एक मूवी थिएटर में बतौर टिकट सैल्समैन का भी काम कर चुके हैं और इसके लिए उन्हें मेहनताने के तौर पर 50 रुपए मिलते थे. शाहरुख ने एक दफा बताया था कि जब उन्हें पहली बार 50 रुपए का मेहनताना मिला, तो उस पैसे से उन्होंने ताजमहल देखने के अपने सपने को पूरा किया.

7- सोनाक्षी सिन्हा

सलमान खान के साथ फिल्म ‘दबंग’ से अपने फिल्मी करियर का आगाज़ करने वाली एक्ट्रेस सोनाक्षी सिन्हा फिल्मों में आने से पहले कॉस्ट्यूम डिज़ाइनर थीं. उन्होंने साल 2005 में आई फिल्म ‘मेरा दिल लेके देखो’ में कॉस्ट्यूम डिज़ाइन किए थे.

8- रणदीप हुड्डा 

रणदीप हुड्डा को फिल्मी दुनिया में अपने कदम जमाने के लिए काफ़ी संघर्ष करने पड़े हैं. फिल्मों में आने से पहले रणदीप वेटर, टैक्सी ड्राइवर और कार की धुलाई का काम कर चुके हैं.

 

9- नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी 

नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी आज बॉलीवुड का जाना माना चेहरा है, लेकिन उन्हें इस मुकाम तक पहुंचने के लिए कई मुश्किल हालातों का सामना करना पड़ा है. बता दें कि दिल्ली आने से पहले वो केमिस्ट की दुकान में काम करते थे और दिल्ली में रोज़ी रोटी के लिए चौकीदारी की नौकरी भी कर चुके हैं.

10- अरशद वारसी

सर्किट के किरदार के लिए मशहूर एक्टर अरशद वारसी फिल्मों में अपनी किस्मत आज़माने से पहले घर-घर जाकर कॉस्मेटिक सेल्समैन के तौर पर काम किया करते थे. इसके अलावा उन्होंने एक फोटो लैब में भी काम किया.

यह भी पढ़ें: बॉलीवुड के ये 10 सितारे करते हैं अंधविश्वास पर विश्वास

 

 

 

अभिनेता टाइगर श्रॉफ (Tiger Shroff) और दिशा पटानी (Disha Patani) की फिल्म ‘बागी 2’ देशभर के क़रीब 3.5 हज़ार स्क्रीन पर रिलीज़ की गई है. अहमद खान के निर्देशन में बनी यह फिल्म तेलुगु फिल्म ‘क्षणम’ की हिंदी रीमेक है. क्षणम ने साउथ में काफ़ी तगड़ा बिज़नेस किया था, जिसे देखते हुए इसका हिंदी रीमेक बनाने का फ़ैसला किया गया. हालांकि इससे पहले भी टाइगर की फिल्म ‘बागी’ ने बॉक्स ऑफिस पर अच्छा कारोबार किया था और यह फिल्म100 करोड़ के क्लब में शामिल होने में सफल भी रही.

Baaghi 2 movie review

क्या है ‘बागी 2’ की कहानी ?

‘बागी 2’ की कहानी रॉनी (टाइगर श्रॉफ) और नेहा (दिशा पटानी) की है. रॉनी और नेहा एक ही कॉलेज में पढ़ते हैं और दोनों एक-दूसरे से प्यार करते हैं, लेकिन नेहा के पिता रॉनी को पसंद नहीं करते और नेहा की शादी किसी और से करा देते हैं. वहीं रॉनी ऑर्मी ज्वॉइन कर लेता है और एक-दूसरे से अलग होने के क़रीब 4 साल बाद नेहा रॉनी से अपनी किडनैप हुई बेटी को ढूंढ़ने के लिए मदद मांगती है.

नेहा के कहने पर रॉनी गोवा वापस आता है और इस मामले की तफ्तीश के दौरान काफ़ी उतार चढ़ाव आते हैं. इस दौरान रॉनी की मुलाक़ात उस्मान भाई (दीपक डोबरियाल), डीआईजी शेरगिल (मनोज बाजपेयी), एसीपी रणदीप हुड्डा से सिलसिलेवार घटनाओं के बीच होती है. हालांकि रॉनी उस लड़की को ढूंढ़ने में कामयाब होता है या नहीं इसके लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी.

पसंद आई दिशा और टाइगर की केमेस्ट्री 

रियल लाइफ में दिशा और टाइगर के अफेयर की चर्चा तो होती ही रहती है, लेकिन इन दोनों की ऑनस्क्रीन केमेस्ट्री को काफ़ी पसंद किया जा रहा है. बता दें कि फिल्म में टाइगर ने अपने फैंस को हैरान कर देने वाले ढ़ेरों एक्शन सीन खुद ही किए हैं और वन मैन आर्मी के अंदाज़ में जंच भी रहे हैं, लेकिन दिशा अपने किरदार को और भी बेहतर तरीक़े से निभा सकती थीं.

अपने-अपने किरदार में फिट दिखे कलाकार

बता दें कि इस फिल्म से प्रतीक बब्बर ने विलन के रोल से बड़े पर्दे पर वापसी की है. फिल्म में डीआईजी के किरदार को मनोज वाजपेयी ने बेहतरीन ढंग से निभाया है. वहीं एसीपी के रोल में रणदीप हुड्डा ने सराहनीय एक्टिंग की है और दीपक डोबरियाल ने भी उस्मान लंगड़ा के किरदार को बखूबी निभाया है.

फिल्म में टाइगर का एक्शन और फिल्म के संवाद काबिले तारीफ़ है. फिल्म की शूटिंग मनाली, थाइलैंड, गोवा और लद्दाक के ख़ूबसूरत लोकेशन्स पर हुई है. फिल्म का संगीत भी ठीकठाक है. समय-समय पर आनेवाले आतिफ असलम के गाने कहानी को दिलचस्प बनाते हैं. फिल्म का फर्स्ट हाफ दर्शकों को बांधे रखता है इसमें कई ऐसे मौके आते हैं जब सीटियों और तालियों के साथ आपके चेहरे पर मुस्कान भी आती है, लेकिन सेकेंड हाफ में कहानी फिल्म की पटरी से उतरती दिखाई देती है.

बहरहाल, अगर आप एक्शन फिल्मों के शौकीन हैं और टाइगर के एक्शन सीन्स के दीवाने हैं तो इस मामले में टाइगर श्रॉफ आपको बिल्कुल भी निराश नहीं करेंगे.

स्टारकास्ट- टाइगर श्रॉफ, दिशा पाटनी, मनोज बाजपेयी, रणदीप हुड्डा, प्रतीक बब्बर और दीपक डोबरियाल.

अवधि- 2 घंटा 24 मिनट

रेटिंग- 3/5 

यह भी पढ़ें: मॉमी सोहा और पापा कुणाल ने सेलिब्रेट किया इनाया का हाफ बर्थडे

रणदीप हुड्डा का सिख लुक लॉन्च हो गया है. रणदीप इस दमदार अंदाज़ में नज़र आएंगे राजकुमार संतोषी की फिल्म सारागढ़ी में. यह फिल्म 1897 में हुई सारागढ़ी की लड़ाई पर आधारित है. यह लड़ाई नॉर्थ-वेस्ट फ्रंटियर प्रोविंस पर हुई थी, जिसमें आर्मी के सिख रेजीमेंट के 21 सिपाहियों ने दस हज़ार अफगानी लड़ाकों को आगे बढ़ने से रोका था. इस लड़ाई में सभी सिख योद्धा शहीद हो गए थे, लेकिन अफगान आक्रमणकारियों को प्रवेश नहीं करने दिया था. वैसे बॉक्स ऑफिस पर भी बैटल ऑफ सारागढ़ी हो सकती है, क्योंकि इसी युद्ध पर अजय देवगन भी फिल्म बना रहे हैं, उन्होंने अपनी फिल्म सन्स ऑफ सरदार- द बैटल ऑफ सारागढ़ी का पोस्टर भी रिलीज़ किया है. खैर अब इनकी बॉक्स ऑफिस की लड़ाई कितनी दमदार होगी ये देखने में अभी वक़्त है, फिलहाल आप देखिए रणदीप हुड्डा का न्यू लुक इस वीडियो में.

13माधुरी दीक्षित एक बेहतरीन ऐक्ट्रेस और डांसर हैं. उनके साथ स्टेज शेयर करने का रणदीप हुड्डा का सपना आखिरकार सच हो गया. अब आप सोच रहे होंगे कि क्या ये दोनों किसी फिल्म में साथ आ रहे हैं, तो ऐसा बिल्कुल नहीं है. दरअसल, रणदीप को माधुरी के साथ डांस करने का मौक़ा मिला डांस रिएलिटी शो सो यू थिंक यू कैन डांस के सेट पर, जहां रणदीप पहुंचे थे काजल अग्रवाल के साथ अपनी फिल्म दो लफ़्ज़ों की कहानी को प्रमोट करने.10

9माधुरी के साथ डांस करने के अलावा रणदीप ने स्टेज पर तलवार के साथ भी डांस किया.12दो लफ़्ज़ों की कहानी 10 जून को रिलीज़ होगी, ऐसे में प्रमोशन करना तो बनता ही है.

14दिल को हाथों में थामे खड़े हैं रणदीप हुड्डा और काजल अग्रवाल. ये दिल दोनों में से किसका है ये तो पता नहीं, लेकिन ये ज़रूर पता है कि दोनों ने इस दिल को क्यों थाम रखा है. दरअसल, दोनों ही पहुंचे हैं अपनी फिल्म ‘दो लफ्ज़ों की कहानी’ का सेकंड ट्रेलर लॉन्च करने.15 इस मौक़े पर फिल्म के निर्देशक दीपक तिजोरी भी मौजूद थे.9यह एक रोमांटिक फिल्म है, जिसमें रणदीप किक बॉक्सिंग करते दिखेंगे, तो वहीं काजल एक ब्लाइंड लड़की के किरदार में होंगी.10फिल्म 10 जून को रिलीज़ होगी. देखें फिल्म का नया ट्रेलर.

सरबजीत फिल्म का फर्स्ट लुक जितना दमदार था, उतना ही प्यारा है इस फिल्म का पहला गाना. गाने में ऐश्‍वर्या राय बच्चन, रणदीप हुड्डा और ऋचा चड्ढा नज़र आ रहे हैं. गाने को कंपोज़ किया है अमाल मल्लिक ने. 20 मई को रिलीज़ होने वाली फिल्म सरबजीत के निर्देशक हैं उमंग कुमार.

सच्ची घटना पर आधारित फिल्म सरबजीत का ट्रेलर रिलीज़ हो गया है. टाइटल रोल में हैं रणदीप हुड्डा, जबकि उनकी बहन के किरदार में ऐश्वर्या राय बच्चन लग रही हैं काफ़ी दमदार. फिल्म में रणदीप की पत्नी को रोल निभा रही हैं ऋचा चड्ढा. फिल्म की कहानी बहन दलबीर कौर के संघर्ष की कहानी है, जो पाकिस्तान की जेल में कैद अपने भाई को छुड़ाने के लिए दिन-रात एक कर देती है. इस न्याय की लड़ाई में दलबीर कौर को किन-किन मुसीबतों का सामना करना पड़ा है, वह इस ट्रेलर में नज़र आ रहा है. आपको बता दे कि सरबजीत सिंह एक किसान थे, जो साल 1990 में गलती से बॉर्डर पार कर पाकिस्तान पहुंच गए थे और वहां उन्हें बंदी बना लिया गया था. 23 साल तक पाकिस्तान की जेल में यातनाएं सहने वाले सरबजीत की मौत जेल में ही हो गई थी. 20 मई को रिलीज़ होने वाली इस फिल्म के निर्देशक हैं उमंग कुमार.