Tag Archives: release

जाह्नवी-ईशान की डेब्यू फिल्म धड़क की आ गई है रिलीज़ डेट… (New Dhadak Poster: Release Date Revealed)

Dhadak Movie Release Date

Dhadak Movie Release Date

फिल्म धड़क (Dhadak) से अपना डेब्यू करने जा रही जाह्नवी कपूर (Janhvi Kapoor) को लेकर सभी एक्साइटेड हैं. फिल्म के पोस्टर रिजलीज़ के साथ ही अब फिल्म की रिलीज़ डेट भी आ चुकी है. जी हां, फिल्म रिलीज़ होने जा रही है इस साल 20 जुलाई को. पोस्टर से ही साफ़ हो रहा है कि ईशान खट्टर (Ishaan Khatter) और जाह्नवी की केमिस्ट्री ज़बर्दस्त होगी. फिल्म इसलिए भी चर्चा में है, क्योंकि यह मराठी ब्लॉकबस्टर सैराट की हिंदी रिमेक है. तो बस अब 20 जुलाई तक इंतज़ार करें, तब तक जाह्नवी की ये ख़ूबसूरत तस्वीरें देखें-

Dhadak Movie Release Date

Dhadak Movie Release Date

Dhadak Movie Release Date

Dhadak Movie Release Date

यह भी पढ़ें: देखें ये रिश्ता क्या कहलाता है के क्यूट कपल कार्तिक और नायरा का रोमांटिक अंदाज़

[amazon_link asins=’0241289297,B01BKD6T5U,9351778479,B077PXPZHZ’ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’f4d66b35-fdda-11e7-bc7b-35986d9cfc05′]

 

फिल्म ‘बैंक चोर’ चुराएगी आपका दिल (Movie Review: Bank Chor)

Bank Chor Review

फिल्म- बैंक चोर

स्टारकास्ट- रितेश देशमुख, विवेक ओबेरॉय, रिया चक्रवर्ती, भुवन अरोड़ा , विक्रम थापा

निर्देशक – बम्पी

रेटिंग- 3 स्टार

bank-chor-movie-review-759 (1)विवेक ओबेरॉय और रितेश देशमुख की जोड़ी को आप पहले भी मस्ती, ग्रैंड मस्ती, द ग्रेट ग्रैंड मस्ती में साथ देख चुके हैं. एक बार फिर इनकी जोड़ी साथ नज़र आ रही है फिल्म बैंक चोर में. फिल्म का प्रमोशन तो जमकर किया गया है, आइए, जानते हैं कैसी है फिल्म.

कहानी

बैंक चोर नाम से ही ज़ाहिर होता है कि चोर बैंक को लूटने आते हैं, लेकिन इस दिखाने का अंदाज़ मज़ेदार है. कहानी है चंपक (रितेश देशमुख) और उसके दो दोस्तों- गेंदा और गुलाब की. एक दिन तीनों एक बैंक को लूटने का प्लान बनाते है. अब जहां चोर होंगे, वहां पुलिस की एंट्री तो होगी ही. जैसे ही चंपक अपने दोस्तों के साथ बैंक लूट रहे होते हैं, वहां पुलिस आ जाती है. इंस्पेक्टर अमज़द खान (विवेक ओबेरॉय) इन चोरों को पकड़ने पहुंचते हैं. मीडिया को इस लूट की ख़बर लग जाती है. कुल मिलाकर सब इन चोरों के पीछे पड़ जाते हैं, लेकिन कहानी में टि्वस्ट तब आता है, जब ये चोर कुछ ऐसा करते हैं कि वो हीरो बन जाते हैं. क्या है वो टि्वस्ट ये जानने के लिए आपको फिल्म देखनी होगी.

किसकी ऐक्टिंग में है दम?

रितेश देशमुख की ऐक्टिंग और कॉमिक टाइमिंग हमेशा की तरह कमाल है. उनके दोस्त बने भुवन अरोड़ा और विक्रम थापा ने अच्छा काम किया है. डायलॉग्स मज़ेदार हैं और आपको ख़ूब हंसाएंगे. फिल्म का बैकग्राउंड स्कोर भी अच्छा है. दिल्ली और मुंबई की भाषा में होने वाली नोकझोंक भी मज़ेदार है. विवेक ओबेरॉय भी अपने किरदार में जंच रहे हैं.

फिल्म देखने जाएं या नहीं?

अगर आपको कॉमेडी फिल्में पसंद हैं, तो एक बार ये फिल्म देख सकते हैं. वैसे भी रितेश देशमुख और विवेक ओबेरॉय जब एक साथ एक ही फिल्म हों, तो एक बार फिल्म देखनी तो बनती ही है.

Film Review: ‘सचिन: अ बिलियन ड्रीम्‍स’ थिएटर गूंज उठा तालियों से, गर्व होगा फिल्म देखकर (Movie Review: Sachin: A Billion Dreams)

Sachin Movie Review

फिल्म- सचिन: अ बिलियन ड्रीम्‍स

स्काटारस्‍ट- सचिन तेंदुलकर, अंजलि तेंदुलकर, सारा तेंदुलकर, अर्जुन तेंदुलकर, मयूरेश पेम, एम एस धोनी, विरेंद्र सहवाग.
डायरेक्‍टर- जेम्‍स अर्सकाइन
रेटिंग- 4 स्‍टार

Sachin-film-teaser-released

क्रिकेट के भगवान माने जाने वाले सचिन तेंदुलकर की बायोपिक को बड़े पर्दे पर देखना वाक़ई एक अनुभव होगा. सचिन: अ बिलियन ड्रीम्‍स फिल्म सचिन के एक आम लड़के से क्रिकेट का भगवान बनने तक के सफ़र की कहानी है. आइए, जानते हैं कैसे है ये फिल्म.

फिल्म की सबसे ख़ास बात यह है कि ये डॉक्यू ड्रामा फिल्म है. इस फिल्म में सचिन और उनका परिवार भी नज़र आएगा. अब तक जो बायोपिक्स प्लेयर्स की लाइफ पर बनी हैं, उसमें किसी न किसी ऐक्टर ने अभिनय किया है, लेकिन इस फिल्म में सचिन भी नज़र आएंगे, जो इस फिल्म को और ख़ास बनाता है.

इस फिल्म सचिन का बचपन दिखाने के लिए भले ही बाल कलाकार से ऐक्टिंग कराई गई है, लेकिन बाक़ी की फिल्म इंटरव्यू, पूराने वीडियोंज़ के साथ ही आगे बढ़ती है. भले ही मसाला फिल्मों की तरह शूट न हुई हो, लेकिन मसाला फिल्मों से कहीं ज़्यादा एंटरटेनिंग है. फिल्म के निर्देशक जेम्‍स अर्सकाइन का निर्देशन काबिले तारीफ़ है. ए आर रहमान का संगीत भी बेहतरीन है.

क्रिकेट ग्राउंड से लेकर उनकी पर्सनल लाइफ तक कई ऐसी बातें हैं, जो उनके फैन्स नहीं जानते होंगे, उन छोटी-छोटी बातों को भी आप इस फिल्म में देख पाएंगे. फिल्म जैसे-जैसे आगे बढ़ेगी, कभी आपको हंसाएगी, कभी आपकी आंखें नम हो जाएंगी. फिल्म देखने के बाद आपको गर्व ज़रूर महसूस होगा कि हम सब उस देश का हिस्सा हैं, जहां सचिन जैसे महान खिलाड़ी रहते हैं

फिल्म देखने जाएं या नहीं?

चाहे आप क्रिकेट प्रेमी हों या ना हों, ये फिल्म आप बिल्कुल मिस नहीं कर सकते हैं. वीकेंड पर पूरे परिवार के साथ ज़रूर ये फिल्म देखने जाएं. एंटरटेनिंग होने के साथ-साथ ये फिल्म काफ़ी कुछ सीखा जाएगी आपको.

 

OMG! बाहुबली 2 ने पहले ही दिन कमाए 100 करोड़, बनाया नया रिकॉर्ड (Baahubali 2 Broke Records Earned 100 Crore On First Day)

बाहुबली 2

बाहुबली 2

बाहुबली 2 ने पहले ही दिन कर दी है सुल्तान और दंगल जैसी फिल्मों की छुट्टी. एक ही दिन में बाहुबली 2 ने कर ली है 100 करोड़ की कमाई कर ली है. फिल्म के हिंदी वर्जन ने ही 35 से 40 करोड़ के बीच कमा लिए हैं. फिल्म समीक्षकों ने इसकी जानकारी सोशल मीडिया पर दी है. शुक्रवार के दिन ही लगभग हर थिएटर को 95 फ़ीसदी ऑडियंस मिली थी. सबसे बड़ी बात ये फिल्म किसी फेस्टिवल पर रिलीज़ नहीं हुई है, फिर भी एक दिन में 100 करोड़ कमा कर बाहुबली 2 ने रिकॉर्ड बना दिया है.

यह भी पढ़ें: रिलीज़ हो गई बाहुबली 2: द कंक्लूजन, कटप्पा ने बाहुबली को क्यों मारा? मिल गया इसका जवाब

बाहुबली: द बिगनिंग 180 करोड़ में बनी थी और लगभग 600 करोड़ की कमाई फिल्म ने की थी. बाहुबली 2- द कंक्लूज़न की लागत 250 करोड़ की और जिस तरह से पहले दिन ही ये फिल्म 100 करोड़ के क्लब में पहुंची है, उसे देखकर यही लगता है कि ये फिल्म और भी बड़े रिकॉर्ड्स बना सकती है.

राष्ट्रगान को हटाने की मांग को आमिर ने ठुकराया…पाकिस्तान में नहीं रिलीज़ होगी दंगल (Aamir Khan Said No ‘Dangal’ In Pakistan Without The National Anthem)

Dangal

dangal

आमिर खान ने किया दंगल. पाकिस्तान की मांग के सामने आमिर का दंगल देखने लायक है. दरअसल, बॉलीवुड की फिल्मों पर से हाल ही में पाकिस्तान ने बैन हटा लिया था और पाकिस्तान के फिल्म डिस्ट्रिब्यूटर्स की मांग पर दंगल फिल्म वहां रिलीज़ होने वाली थी. लेकिन पाकिस्तान सेंसर बोर्ड ने फिल्म देखने के बाद ऐसी शर्तें रख दी आमिर के सामने की वो भड़क उठे. पाकिस्तान सेंसर बोर्ड चाहता था कि फिल्म से दो सीन्स, जिसमें भारत का झंडा लहराता हुआ दिखाई देता है और दूसरा, जहां अंत में भारत का राष्ट्रीय गान बजता है, को हटाया जाए, तभी वो दंगल को पाकिस्तान में रिलीज़ की अनुमति देंगे. आमिर खान ने पाकिस्तान की इस मांग को ये कहते हुए ठुकरा दिया है कि यह फिल्म स्पोर्ट्स पर है, जिसका पाकिस्तान से कोई संबंध नहीं है. आमिर ने कहा कि वो इन दोनों ही सीन्स को फिल्म से नहीं निकालेंगे, भले ही दंगल पाकिस्तान में रिलीज़ हो ना हो.

उरी हमले के बाद भारत में पाकिस्तानी कलाकारों पर बैन के बाद पाकिस्तान ने भी बॉलीवुड की फ़िल्मों की रिलीज़ पर रोक लगा दी थी. कुछ वक़्त पहले ही इस बैन को हटा लिया गया था और दंगल को रिलीज़ करने की बात चल रही थी.  ख़ैर आमिर ने फिलहाल पाकिस्तान की इस डिमांड को मानने से इंकार कर दिया है.

FILM REVIEW: कुंग फू योगा है पैसा वसूल फिल्म (Movie Review: Kung Fu Yoga)

फिल्म- कुंग फू योगा (Kung Fu Yoga)
स्टारकास्ट- जैकी चैन, सोनू सूद, अमायरा दस्तूर, दिशा पटानी
निर्देशक- स्टेनली टोंग
रेटिंग- 2.5 स्टार
jakcy-620x400 (1)
हॉलीवुड फिल्म कुंग फू योगा भारत में रिलीज़ हो गई है. फिल्म में तीन बॉलीवुड कलाकार सोनू सूद, अमायरा दस्तूर और दिशा पटानी भी हैं. भारता, चाइना और दुबई में शूट हुई इस फिल्म में जैकी चैन के ऐक्शन सीन्स देखने लायक हैं.
कहानी
जैक (जैकी चैन) चाइना के एक मशहूर आर्कियॉलजिस्ट है और उनकी असिस्टेंट हैं कायरा (अमायरा दस्तूर). जैकी एक भारतीय प्रोफेसर अश्मिता (दिशा पटानी) के साथ मिलकर एक टीम बनाते हैं और तिब्बत में खोए भारतीय खजाने की तलाश में निकल जाते हैं. खजाने की तलाश के दौरान जैक की टीम का सामना रैंडल (सोनू सूद) से होता है, रैंडल इस छुपे खजाने को अपने पूर्वजों का खजाना बताते हैं. इन दोनों की लड़ाई में कौन जीतता है, इसके लिए आपको फिल्म देखनी होगी.
फिल्म की यूएसपी और कमज़ोरी
फिल्म की यूएसपी है जैकी चैन का ऐक्शन और उनका बॉलीवुड डांस. इसके अलावा फिल्म में इस्तेमाल की गईं लग्ज़री कारें भी आपको पसंद आएंगी. फिल्म में लग्जरी कार रेस देखने लायक है. दिशा पटानी और अमायरा दस्तूर के ऐक्शन सीन भी काफ़ी अच्छे हैं.
फिल्म देखने जाएं या नहीं?
अगर आप जैकी चैन के फैन हैं और ऐक्शन फिल्में पसंद करते हैं, तो ये फिल्म देख सकते हैं. ऐक्शन फिल्में पसंद करने वालों के लिए ये फिल्म पैसा वसूल साबित होगी. लेकिन जिन्हें ऐक्शन फिल्में नहीं पसंद उन्हें ये फिल्म बोर करेगी.
– प्रियंका सिंह

Film Review: काबिले तारीफ़ है ‘काबिल’ (Movie Review: Kaabil)

फिल्म- काबिल (Kaabil)
स्टारकास्ट- तिक रोशन, यामी गौतम, रोनित रॉय, रोहित रॉय
निर्देशक- संजय गुप्ता
रेटिंग- 4.5 स्टार 
Kaabil-1-3 (1)
कहानी
ये कहानी है सुप्रिया (यामी गौतम) और रोहन (ऋतिक रोशन) के प्यार की. दोनों ही देख नहीं सकते, लेकिन पहली ही मुलाकात में एक कनेक्शन महसूस करते हैं. ये कनेक्शन प्यार में बदल जाता है और दोनों शादी कर लेते हैं. ज़िंदगी अच्छी-ख़ासी चल रही होती है, लेकिन फिर दोनों की लाइफ में आता है एक भयानक मोड़. सुप्रिया का रेप हो जाता है, नेत्रहीन रोहन अपनी पत्नी को इंसाफ़ दिलाने के लिए दर-दर भटकता है, लेकिन उसके हाथ निराशा ही लगती है. प्यार करने वाला और हमेशा ख़ुश रहने वाला रोहन ख़ुद ही बदला लेने की ठान लेता है.
फिल्म की यूएसपी
ऋतिक रोशन की ऐक्टिंग फिल्म को एक अलग लेवल पर लेकर चली जाती है.
फिल्म के निर्देशक संजय गुप्ता ने फिल्म के सीन्स को जिस तरह शूट किया है, उसे देखकर आपको लगेगा कि जो कुछ भी पर्दे पर हो रहा है, वो सब कुछ सच है.
सिनेमैटोग्राफर ने अपना काम बड़े ही बेहतरीन तरीक़े से किया है.
किसकी ऐक्टिंग में था दम
ऋतिक रोशन की ऐक्टिंग शानदार है. ख़ासकर उनका एंग्री यंग मैन वाला लुक एक बार फिर साबित कर देगा कि ऋतिक इंडस्ट्री के बेहतरीन कलाकारों में से एक हैं. यामी गौतम ने भी अच्छा काम किया है.
फिल्म देखने जाएं या नहीं
बिल्कुल ये फिल्म देखने जाएं. अगर आपके पास समय न भी हो, तो थोड़ा टाइम निकालें और ये फिल्म देखें, क्योंकि अच्छी फिल्में रोज़-रोज़ नहीं बनतीं. अगर आप ऋतिक के फैन हैं, तो आपकी दीवानगी और बढ़ जाएगी उनके लिए.
– प्रियंका सिंह

Film Review: फ़ीकी है ‘कॉफी विद डी’ (Movie Review: Coffee with D)

फिल्म- कॉफी विद डी (Coffee with D)

स्टारकास्ट- सुनील ग्रोवर, अंजना सुखानी, पंकज त्रिपाठी, दीपानिता शर्मा

निर्देशक- विशाल मिश्रा

रेटिंग- 1.5 स्टार

cwd

कहानी
कॉफी विद डी कहानी है एक न्यूज एंकर की, जिसका नाम है अर्नब घोष (सुनील ग्रोवर). अपनी नौकरी बचाने के लिए वो अंडरवर्ल्ड डॉन डी (जाकिर हुसैन) का इंटरव्यू करने जाता है. जिसके बाद उसकी लाइफ में क्या-क्या होता है, इस पर आधारित है ये फिल्म.
कमज़ोर कड़ी
फिल्म की कहानी काफ़ी प्रेडिक्टेबल है, इसलिए फिल्म बोरिंग लगने लगती है. विशाल मिश्रा पहली बार फिल्म का निर्देशन कर रहे हैं, ऐसे में निर्देशन में थोड़ी कमी ज़रूर नज़र आती है.
किसकी ऐक्टिंग में था दम
सुनील ग्रोवर यूं तो अच्छे ऐक्टर माने जाते हैं, लेकिन इस फिल्म में अपनी ऐक्टिंग की छाप छोड़ने में वो कामयाब नहीं हो पाए हैं. डॉन के किरदार में जाकिर हुसैन ठीक ठाक लग रहे हैं. फिल्म के गाने भी फिल्म को संभाल नहीं पाए.
फिल्म देखने जाएं या नहीं
अगर आप सुनील ग्रोवर के फैन हैं, तो चले जाएं फिल्म देखने. लेकिन अगर आप ये फिल्म नहीं भी देख पाते है, तो कोई बड़ा नुक़सान नहीं होगा आपका. वैसे आप चाहें तो फिल्म के टीवी पर आने का भी इंतजार कर सकते हैं.
– प्रियंका सिंह

Film Review: साल की पहली तीन फिल्में रिलीज़ हुईं, बॉक्स ऑफिस पर ओके जानू, हरामखोर और ट्रिपल एक्स! (Film Review: OK Jaanu, XXX: Return of xander cage And Haramkhor)

साल 2017 की पहली तीन फिल्में रिलीज़ हो गई हैं. श्रद्धा कपूर और आदित्य रॉय कपूर की फिल्म ओके जानू, नवाज़ुद्दीन सिद्दीक़ी की हरामखोर और दीपिका पादुकोण की बॉलीवुड फिल्म ट्रिपल एक्स: रिटर्न ऑफ ज़ेंडर केज. तीनों ही फिल्में अलग-अलग जॉनर की हैं. dc-Cover-k4um0er2af9v9996mnegh0kv87-20160401122817.Medi (1)

सबसे पहले बात करते हैं ओके जानू की. नए ज़माने की रोमांटिक कहानी है. श्रद्धा कपूर और आदित्य रॉय कपूर की जोड़ी को दर्शकों ने फिल्म आशिक़ी 2 में बेहद पसंद किया था. इस बार भी ये जोड़ी कमाल कर रही है. कहानी ऐसे कपल की है, जो शादी में भरोसा नहीं करते. दोनों लिव-इन रिलेशनशिप में रहते हैं और अपनी करियर बनाना चाहते हैं. शुरुआत में सब कुछ ठीक रहता है, लेकिन फिर करियर को लेकर दोनों के रिश्ते में प्रॉब्लम शुरू हो जाती है. तो क्या दोनों को एक-दूसरे से प्यार हो गया है? क्या वो अपने करियर के लिए एक-दूसरे से दूर हो जाते हैं? इन सवालों के जवाब आपको फिल्म से मिलेंगे. फिल्म का म्यूज़िक अच्छा है. deepika-padukone-xxx-return-of-xander-cage- (1)अब बात दीपिका पादुकोण और विन डीज़ल की फिल्म ट्रिपल एक्स: रिटर्न ऑफ ज़ेंडर केज की. भारत में ये फिल्म पहले रिलीज़ हुई है. दीपिका की पहली हॉलीवुड फिल्म है, जिसमें उन्होंने कई ख़तरनाक स्टंट्स किए हैं. यह फिल्म ट्रिपल एक्स सीरीज की तीसरी फिल्म है. विन डीज़ल अपनी इस फिल्म को प्रमोट करने भारत आए हैं. दीपिका के लिए एक बार ये फिल्म देखना तो बनता ही है. वैसे भी अगर आप हॉलीवुड फिल्में पसंद करते हैं, तो ये फिल्म ज़रूर देख सकते हैं.filmreview (1) (1)तीसरी फिल्म है नवाज़ुद्दीन सिद्दीक़ी की हरामखोर, जो कई दिनों से रिलीज़ का इंतज़ार कर रही थी और अब जाकर रिलीज़ हुई है. स्टूडेंट और टीचर के रोमांस पर बनी है हरामखोर. फिल्म की कहानी मध्य प्रदेश के एक छोटे से गांव से शुरू होती है, जहां एक शादीशुदा गणित के टीचर को उसकी क्लास में पढ़ने वाली 15 साल की लड़की से प्यार हो जाता है. फिल्म की कहानी सुनने में जितनी दिलचस्प लगती है, देखने में उतनी नहीं है, क्योंकि फिल्म की एडिटिंग ठीक से नहीं हुई है, जिसके कारण सीन्स को कनेक्ट करना थोड़ा मुश्किल लगता है. वैसे इस फिल्म को कई फिल्म फेस्टिवल में पसंद किया गया है. नवाजुद्दीन सिद्दीक़ी को न्यूयॉर्क इंडियन फिल्म फेस्टिवल में इस फिल्म के लिए बेस्ट एक्टर का अवॉर्ड भी मिला है.

कुल मिलाकर इस वीकेंड पर तीन फिल्में थिएटर में आपको एंटरटेन करने के लिए तैयार हैं.

– प्रियंका सिंह

India में पहले रिलीज़ होगी दीपिका की हॉलीवुड फिल्म XXX:The Return of Xander Cage (Deepika Padukone’s first hollywood film XXX return of xander cage release in india first)

Deepika Padukone

Deepika Padukone

दीपिका पादुकोण की पहली हॉलीवुड फिल्म XXX:The Return of Xander Cage भारत में पहले रिलीज़ होगी. ये न्यूज़ ख़ुद दीपिका ने टि्वटर पर शेयर की है. 14 जनवरी को ये फिल्म भारत में रिलीज़ होगी. फिल्म में दीपिका ने ज़बरदस्त ऐक्शन सीन्स किए हैं.

विन डीज़ल के साथ भी उनके कई बेहतरीन स्टंट सीन्स हैं. ट्रेलर में दीपिका के डायलॉग बोलने का तरीक़ा और उनके चलने-फिरने का अंदाज़ काफ़ी दमदार है.

दीपिका के साथ उनके फैन्स के लिए भी ये ख़ुशी की बात है. नए साल का गिफ्ट दीपिका ने अभी से दे दिया है अपने फैन्स को. देखें फिल्म का ट्रेलर.

MOVIE REVIEW: डियर ज़िंदगी वाक़ई डियर फिल्म है, फिल्म सिखाएगी जीने का नया तरीक़ा (MOVIE REVIEW: Dear Zindagi)

फिल्म- डियर ज़िंदगी

स्टारकास्ट- शाहरुख खान, आलिया भट्ट, कुणाल कपूर, अली ज़फर, अंगद बेदी

निर्देशक- गौरी शिंदे

रेटिंग- 4 स्टार

A_still_from_the_song_Ae_Zindagi_Gale_Laga_Le_Dear_Zindagi (1)

शाहरुख खान और आलिया भट्ट स्टारर फिल्म डियर ज़िंदगी रिलीज़ हो गई है. पिछली बार की तरह इस बार भी गौरी शिंदे ने साबित कर दिया है कि वो एक कमाल की निर्देशिका हैं. इंग्लिश विंग्लिश जैसी बेहतरीन फिल्म के चार साल बाद वो लेकर आई हैं फिल्म डियर ज़िंदगी. इस फिल्म को देखने के बाद वाक़ई आपकी ज़िंदगी में कई बदलाव आ सकते हैं. अगर आप आजकल की बिज़ी लाइफ में जहां पैसे कमाने और कुछ पाने की चाहत में रिश्तों को और ख़ुद को भूलते जा रहे हैं, तो ये फिल्म आपकी मदद कर सकती है.

कहानी: 

फिल्म की कहानी कायरा (आलिया भट्ट) से शुरू होती है, जो अपने फैमिली से दूर रहती है और विदेश में सिनेमैटोग्राफी का कोर्स करने के बाद मुंबई में अपने दोस्तों के साथ रह रही है. कायरा एक फिल्म शूट करना चाहती है, उसे ये मौक़ा फिल्म मेकर यजुवेंद्र सिंह (कुणाल कपूर) से मिलते-मिलते रह जाता है. इसी बीच कायरा के पिता उसे गोवा बुलाते हैं अपने फ्रेंड के नए होटल का एड शूट करने के लिए, जहां कायरा की मुलाकात होती है डॉ, जहांगीर खान (शाहरुख खान) से. जहांगीर खान उर्फ जग कायरा को ज़िंदगी जीने का एक नया तरीक़ा सिखाते हैं.

फिल्म की यूएसपी: 

फिल्म की यूएसपी है इसकी स्क्रिप्ट. लेकिन एक स्क्रिप्ट को पर्दे पर सही तरीक़े से उतारने का ज़िम्मा होता है निर्देशक का, जिसे गौरी शिंदे ने बख़ूबी निभाया है. फिल्म के सभी किरदारों पर काफ़ी मेहनत की गई है, जो पर्दे पर नज़र भी आ रही है. मसाला फिल्मों की तरह इसमें न ही कोई एक्शन है और ना ही बेमतलब के गान, जो इस फिल्म की ख़ूबसूरती को और बढ़ा देते हैं. इस कहानी को फिल्माने के लिए गोवा का लोकेशन एकदम परफेक्ट च्वाइस रहा. फिल्म का टाइटल सॉन्ग पहले ही पसंद किया जा रहा है. सदमा फिल्म का गाना ऐ ज़िंदगी गले लगा ले… गाना आपको रिफ्रेश कर देगा, जिसका सारा श्रेय जाता है अमित त्रिवेदी और अरिजीत सिंह को. फिल्म सेकंड हाफ़ में भले ही थोड़ी स्लो हो जाती है, लेकिन फिर भी कहानी की पकड़ बरकरार रहती है.

एक्टिंग का दम:

जब फिल्म में शाहरुख खान और आलिया भट्ट जैसे स्टार्स हों, तो फिर एक्टिंग के बारे में ज़्यादा कुछ कहने को नहीं रह जाता है. डॉक्टर जहांगीर के रोल में शाहरुख खान चक दे इंडिया के कोच की याद दिलाएंगे, तो वहीं आलिया भट्ट कायरा के रोल के साथ पूरा न्याय कर रही हैं.

क्यों देखने जाएं फिल्म?

अगर आपको वाक़ई लाइफ परेशान कर रही है या आपको लगने लगा है कि ज़िंदगी बोरिंग हो गई है, तो आपको इस फिल्म की ज़रूरत है. ये फिल्म आपको ज़िंदगी को एक नए नज़रिए से देखने का मौक़ा देगी. इसके अलावा अगर आप शाहरुख खान या आलिया भट्ट के फैन हैं, तो ये फिल्म देखने ज़रूर जाएं, क्योंकि फिल्म में इनकी एक्टिंग कमाल की है. डियर ज़िंदगी एक पैसा वसूल फिल्म है.

FILM REVIEW: मज़ेदार फिल्म है ‘ढिशूम’

3रोहित धवन की ‘ढिशूम’ एक हल्की-फुल्की मनोरंजक फिल्म के तौर पर पसंद आ सकती है. सबसे पहले बात कहानी की करते हैं, कहानी में क्रिकेट, ख़ूबसूरत लोकेशन्स और कॉमेडी का तड़का लगा है.
कहानी में क्रिकेट के प्रति दीवानगी से लेकर मैच फिक्सिंग तक के मुद्दों को दिखाया गया है. लेकिन कहानी में लॉजिक की कोई जगह नहीं है. कब, क्यों और कैसे? जैसे सवालों में उलझे बिना अगर आप फिल्म देखें तो इसका भरपूर मज़ा उठा सकते हैं. ढिशूम में आपको वह सब मिलता है, जिसकी उम्मीद लेकर आप कोई भी मसाला फिल्म देखने जाते हैं. जॉन और वरुण का तालमेल कहानी की ढीली पकड़ की कमी को पूरा करता है. कहानी में हालांकि दम नहीं है, लेकिन अरेबियन नाइट्स जैसे लोकेशन्स, बैकग्राउंड में चलता गाना और कॉमेडी परोसती पंच लाइन्स फिल्म को बांधे रखती है. जॉन एक सख्त पुलिस ऑफिसर की भूमिका के साथ न्याय करते नजर आते है. तो वहीं वरुण की कॉमिक टाइमिंग शानदार है. फिल्म में एक चोरनी के किरदार में नज़र आईं जकैलिन फर्नांडिस के पास एक आइटम सॉन्ग और हीरो को लुभाने के अलावा ज़्यादा कुछ करने को नहीं है. लंबे समय बाद विलेन के रूप में अक्षय खन्ना की वापसी शानदार है. फिल्म में अक्षय कुमार एक छोटे, लेकिन अलग किरदार में नजर आते हैं. सुषमा स्वराज के रूप में गढ़ा गया मोना अंबेगांवकर का किरदार प्रभाव छोड़ता है. मोना जितनी देर भी पर्दे पर रहती हैं, बेहतरीन नज़र आती हैं. अभिजीत वघानी का बैकग्राउंड म्युज़िक लुभाता है और प्रीतम का गाना ‘सौ तरह के ..’ फिल्म को दम देता है. मनोरंजन परोसने के चक्कर में फिल्म की कहानी में थ्रिल अपना असर खोता नजर आया. अयानंका बोस की सिनेमैटोग्राफी ऊंचे दर्ज़े की है.

फिल्म का दम यही है कि कमियों के बावजूद यह मनोरंजन करने में कामयाब है. अगर दिमाग़ लगाए बिना केवल मनोरंजन के लिहाज़ से फिल्म देखना चाहें तो फिल्म देखने ज़रूर जाएं.