Reveals

करिश्मा कपूर ने अपने पूर्व पति संजय कपूर से अलग होने की वजह बताई, जो बेहद चौंकानेवाली है. उनके अनुसार, संजय उन्हें अपने रौब व स्टेटस सिंबल के तौर पर यूज़ करने की चाहत रखते थे, इसी कारण उन्होंने शादी की. साथ ही उनका कामयाब अभिनेत्री होना भी एक बहुत बड़ी वजह रही.

Karisma Kapoor and Sanjay Kapoor

शादी के शुरुआती दिन ठीक रहे, लेकिन धीरे-धीरे संजय कपूर बात-बेबात करिश्मा से झगड़ते रहते थे. कभी-कभी हाथापाई तक की नौबत आ जाती थी. बकौल करिश्मा दिल्लीवालों पर रौब दिखाने के लिए संजय कपूर उन्हें ट्रॉफी की तरह इस्तेमाल करने की कोशिश करते थे. सफल एक्ट्रेस के साथ शादी करके मैं भी मशहूर और कामयाब हो जाऊंगा… कुछ इस तरह की सोच थी संजय की. यही लालच उन्हें रिश्ते में बांधे हुए थी.

Karisma Kapoor and Sanjay Kapoor

संजय छोटे-मोटे वाद-विवाद, लड़ाई-झगड़े के अलावा करिश्मा कपूर को शारीरिक व मानसिक प्रताड़ना भी ख़ूब देते थे. बात यहां तक बढ़ गई कि करिश्मा ने संजय के ख़िलाफ़ एफआईआर तक दर्ज़ कराई, क्योंकि वे रोज़-रोज़ के लड़ाई-झगड़े व मारपीट से तंग आ गई थीं. उस पर समायरा और कियान दो बच्चों के परवरिश की चिंता भी उन्हें सताने लगी. आख़िरकार उनकी परेशानियों का अंत तलाक़ के रूप में हुआ.

करिश्मा सिंगल पैरेंटिंग की भूमिका निभाते हुए आज अपने दोनों बच्चों की बेहतरीन परवरिश कर रही हैं. लेकिन अतीत को याद करते हुए आज भी दुखी व घबरा-सी जाती हैं. जहां डिवोर्स होने के बाद करिश्मा ने अपने बच्चों को ही अपनी दुनिया बना ली, वहीं संजय कपूर ने प्रिया सचदेव से शादी कर ली.

Karisma Kapoor and Sanjay Kapoor

ग़ौर करनेवाली बात है कि आज भी अधिकतर महिलाएं अपने बच्चों में ही ख़ुशियां और ज़िंदगी का सूकून ढूंढ़ती हैं, वहीं पुरुष वर्ग एक जीवनसाथी के अलग होने पर जल्द दूसरा साथी तलाश ही लेता है. ये उनकी कमज़ोरी कहें या फिर अकेले न रह पाने की लाचारगी… फिर भी अपवाद कई हैं.

Karisma Kapoor and Sanjay Kapoor

 

करिश्मा की शादी साल 2003 में संजय कपूर से हुई थी. अनके मतभेद व कलह के चलते अंततः सालों बाद करिश्मा ने संजय से अलग होने का कड़ा ़फैसला ले ही लिया. अब इतने समय बाद उन्होंने खुलकर अपने अलग होेने के कारण व दर्द को बयां किया है. रिश्ते यूं ही नहीं बिखरते पल-पल मरने व टूटने के बाद ही कितने एहसास को दरकिनार कर दो लोग अपने रास्ते बदलते हैं. वैसे भी स्वार्थ की बुनियाद पर रिश्ते कम ही टिकते हैं.

यह भी पढ़ेकास्टिंग काउच पर राखी सावंत ने किया चौंकानेवाला खुलासा, डायरेक्टर्स करते थे उल्टी-सीधी डिमांड (Rakhi Sawant Reveals About Casting Couch)

आयुष्मान खुराना की पत्नी ताहिरा कश्यप ने ब्रेस्ट कैंसर से जुड़ी अपनी लड़ाई के बारे में बताया कि किस तरह से वे रातभर अकेले रोती रहती थीं. ऐसे में पति आयुष्मान खुराना शूटिंग में व्यस्त रहते थे. उन्होंने अपने उस दौर के मानसिक अवसाद और उतार-चढ़ाव के बारे में खुलकर एक इंटरव्यू में बताया. उनके अनुसार, वे समझती थी कि फिजिकल हेल्थ ही मायने रखता है और वे ख़ूब एक्सरसाइज करती थीं, पर उन्होंने यह नहीं समझा कि मेंटल हेल्थ भी बहुत ज़रूरी होता है. वे इस कदर परेशान व तनाव में रहती थी कि कई बार तो उनके मन में आया कि वे सब रिश्ते ख़त्म कर दे.

Tahira Kashyap
तन्हा रातभर रोने के बाद भी सुबह बच्चों की ख़ातिर वे उनके सामने मुस्कुराते हुए आतीं. उन्होंने अपने दर्द को अपने तक ही रखा. उनके अनुसार, यदि समय रहते वे डॉक्टर के पास चली जातीं, तो शायद और जल्दी कैंसर से रिकवर कर लेतीं. वे ख़ुद को ख़ुशनसीब समझती हैं कि उनके ब्रेस्ट कैंसर का इनिशियल स्टेज पर पता चल गया और समय पर ट्रीटमेंट हुआ.
ताहिरा का पहले यह मानना था कि शारीरिक स्वास्थ्य ही सेहतमंद ज़िंदगी के लिए काफ़ी है, पर बाद में उन्हें यह एहसास हुआ कि कैंसर जैसी बीमारी में मानसिक और भावनात्मक चीज़ें भी बहुत मायने रखती हैं. फिर उन्होंने बौद्धिक जाप करना शुरू किया, जिससे उन्हें काफ़ी फ़ायदा हुआ.

Tahira Kashyap
ताहिरा कश्यप के केस में हमें यह जानने को मिलता है कि कैंसर जैसी बीमारी में दवाइयों और थेरेपी के साथ-साथ हमारी मानसिक और भावनात्मक स्थिति भी काफ़ी मायने रखती है. ऐसे में परिवार का, अपनों का, ख़ासकर पति का साथ काफ़ी सकारात्मक परिणाम लाता है. इसलिए जिस किसी को भी कैंसर हुआ हो, तब कोशिश करनी चाहिए कि वह अपनों के क़रीब रहे. कैंसर के मरीज को ढेर सारा प्यार अपनापन दें. उन्हें सकारात्मक सोच के लिए प्रेरित करें और हर कदम पर उनका साथ दें.

Tahira Kashyap
जैसा कि आप सभी जानते हैं सोनाली बेंद्रे के केस में उनकी कैंसर की बीमारी इन सभी से ही जल्दी ठीक हुई. इसलिए हर किसी का फर्ज बनता है कि अगर उनके भाई-बंधु में या परिवार में जिस किसी को भी कैंसर हो, वे उनका भरपूर साथ दें. उन्हें फिजिकली और मेंटली मदद करें. ताहिरा ने अपने इंटरव्यू में इसी बात पर अधिक ज़ोर दिया और वे सभी को यही संदेश देना चाहती थीं कि कैंसर से डरे नहीं, उसका डटकर सामना करें और सकारात्मक सोच के साथ रहें.

Tahira Kashyap

यह भी पढ़ेनिक का स्वभाव बिल्कुल मेरे पापा जैसा हैः प्रियंका चोपड़ा (I Feel I Have Married Someone Who Is My Dad’s Chhavi: Priyanka Chopra)