Tag Archives: rip

सितारों ने दी अरुण जेटलीजी को भावभीनी श्रद्धांजलि… (RIP: Celebrities Mourns Arun Jaitley’s Death)

आज भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता श्री अरुण जेटलीजी के निधन से हर कोई ग़मगीन है. प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति, नेता, खिलाड़ी, सिलेब्रिटी के अलावा फिल्मी हस्तियों ने भी अपनी संवेदनाएं व्यक्त की. पीएम नरेंद्र मोदीजी को प्रिय मित्र खोने का दुख हुआ, वहीं प्रेसिडेंट रामनाथजी ने उनके जाने को राष्ट्र की अपूरणीय क्षति बताई.


पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटलीजी लंबे समय से बीमार थे और दिल्ली के एम्स में उनका इलाज चल रहा था. वे 9 अगस्त से ही अस्पताल में भर्ती थे और उनकी तबीयत लगातार ख़राब हो रही थी. आज यानी 24 अगस्त को 12 बजकर 7 मिनट पर उन्होंने आखिरी सांस ली और 66 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा कह दिया…

शोक संदेश…

सनी देओल- देश ने एक और महान नेता खो दिया है. हमारी संवेदनाएं अरुण जेटलीजी के परिवार के साथ हैं.

अजय देवगन- अरुणजी के निधन से बेहद दुखी हूं. भारत के लिए उनकी गतिशील दृष्टि का मैं प्रशंसक रहा हूं. इस दुखद घड़ी में उनके परिवार के प्रति मैं सांत्वना प्रकट करता हूं. ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे.

अनिल कपूर- क़रीब बीस साल पहले हमारी पहली मुलाक़ात हुई थी. तब से अब तक वे आदर्श की तरह रहे. उनका जाना देश के लिए अपूरणीय क्षति है. वे बेहद याद आएंगे. परिवार के साथ पूरी संवेदना है.

आशा भोसले- अरुण जेटली के निधन की ख़बर सुनकर बहुत दुखी हूं, मेरी संवेदनाएं उनके परिवार के साथ हैं.

वरुण धवन- देश के लिए उन्होंने जो भी किया उसे हमेशा याद किया जाएगा. ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे. आपके द्वारा की गई हर चीज के लिए धन्यवाद. आप हमेशा याद किए जाएंगे. परिवार के प्रति संवेदना.

फिल्मकार मधुर भंडारकर- अरुणजी के निधन से बेहद दुखी हूं. ये बीजेपी और पूरे देश के लिए एक बड़ी क्षति है. वह एक कट्टरपंथी और करिश्माई नेता थे. उनके परिवार के प्रति संवेदनाएं.

कॉमेडियन कपिल शर्मा- अरुण जेटली के निधन की ख़बर सुनकर दुखी हूं. एक महान और प्रभावशाली नेता थे. आप हमेशा याद आएंगे सर.

गायक अदनान सामी- अरुणजी के निधन की ख़बर सुनकर दुख हुआ. वे बहुत दयालु थे. उनकी आत्मा को शांति मिले.

इन सभी के अलावा हेमा मालिनी, रितिक रोशन, अनूप जलोटा, करण जौहर, ईशा देओल, अर्जुन कपूर, संजय दत्त, रितेश देशमुख, बॉक्सर मेरी कॉम, क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग, फिल्म समीक्षक तरण आदर्श, मॉडल पार्वती आदि ने भी अपनी संवेदनाएं प्रकट कीं. मेरी सहेली की ओर से अरुण जेटलीजी को भावभीनी श्रद्धांजलि.. ॐ शांति!..

अरुण जेटलीजी की जीवन यात्रा

* अरुण जेटली का जन्‍म 28 दिसंबर, 1952 को दिल्‍ली में हुआ था.
* उनके पिता पेशे से वकील थे.
* अरुण जेटली ने नई दिल्ली के सेंट जेवियर्स स्कूल से 1957-69 तक पढ़ाई की. श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स से बीकॉम किया.
* दिल्‍ली यूनिवर्सिटी से 1977 में लॉ की पढ़ाई पूरी की.
* वे लॉ की पढ़ाई के दौर में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के छात्र नेता भी थे.
* डीयू में पढ़ाई के दौरान ही वह 1974 में डीयू स्टूडेंट यूनियन के अध्यक्ष बने थे.
* देश में जीएसटी के रूप में ‘एक देश, एक कर’ देने में उनकी भूमिका महत्‍वपूर्ण रही थी.
* अटल बिहारी वाजेपयी जी की सरकार में भी वे मंत्री रहे.

– ऊषा गुप्ता 

भावभीनी श्रद्धांजलि: कादर ख़ान नहीं रहे… (Veteran Film Star Kadar Khan Leaves Behind A Versatile Legacy…)

हिंदी सिनेमा के दिग्गज अभिनेता बहुमुखी प्रतिभा के धनी कादर ख़ान (Kadar Khan) हमारे बीच नहीं रहे. वे एक नेकदिल इंसान के साथ-साथ एक सच्चे हमदर्द व दोस्त थे. अपने हो या पराए सभी के साथ उनका अपनापन उन्हें बेहद ख़ास बना देता था. हम सभी उन्हें उनकी लाजवाब अभिनय, फिर चाहे वो चरित्र अभिनेता, खलनायक, कॉमेडी ही क्यों न हो के लिए हमेशा याद करते रहेंगे.

Kadar Khan

अभिनय के साथ-साथ उनकी कथा, पटकथा, संवाद की लेखनी भी दमदार थी. उन्होंने मनमोहन देसाई और प्रकाश मेहरा के साथ मिलकर कई सुपरहिट फिल्मों की स्क्रिप्ट भी लिखी है. इसमें धर्म वीर, अमर अकबर एंथनी, देश प्रेमी, सुहाग, कुली, गंगा जमुना सरस्वती, मुकद्दर का सिकंदर, लावारिस, कुली नंबर वन, मैं खिलाड़ी तू अनाड़ी, कर्मा आदि ख़ास हैं. उन्होंने क़रीब ढाई सौ फिल्मों के संवाद लिखे और तीन सौ से भी अधिक फिल्मों में काम किया.

उनकी कॉमेडी तो इतनी उम्दा थी कि जब भी वे पर्दे पर आते थे दर्शकों के चेहरे पर मुस्कान आ जाती थी. यूं तो उन्होंने अमिताभ बच्चन से लेकर शाहरुख ख़ान तक सभी कलाकारों के साथ काम किया, पर गोविंदा के साथ उनकी जोड़ी सुपरहिट रही. दोनों के कॉमेडी के पंच और सीन्स आज भी लोगों को ख़ूब हंसाते-गुदगुदाते हैं.

आज कादर ख़ान भले ही हमसे दूर चले गए हों, पर उनके संवाद व सशक्त अभिनय हमारे दिलों में सदा ज़िंदा रहेंगे.

ज़िंदगी के सफ़र पर एक नज़र…

* कादर ख़ान का जन्म काबुल में 22 अक्टूबर 1937 को हुआ था.

* उन्होंने अपनी फिल्मी करियर की शुरुआत दाग़ फिल्म से की थी.

* फिल्म में अभिनय करने से पहले उन्होंने फिल्म जवानी दीवानी के संवाद लिखे थे.

* मेरी आवाज़ सुनो और अंगार फिल्मों के लिए उन्हें बेस्ट डायलॉग के लिए फिल्मफेयर अवॉर्ड भी मिला था.

* हिंदी सिनेमा में उनके उल्लेखनीय योगदान के लिए उन्हें साहित्य शिरोमणि पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था.

* वे मुंबई के इंजीनियरिंग कॉलेज में लेक्चरर भी रहे थे.

* शक्ति कपूर के साथ उनकी यादगार जोड़ी रही थी. दोनों ने सौ से भी अधिक फिल्मों में साथ काम किया.

* उनकी आख़िरी फिल्म दिमाग़ का दही थी, जो साल 2015 में आई थी.

* अभिनय से रिटायरमेंट लेने के बाद वे मुंबई से कनाडा अपने बेटे सरफराज़ के यहां चले गए.

* 81 वर्षीय कादर ख़ान के अंतिम समय में उनकी पत्नी हिज्रा, उनके बेटे, बहू, नातियां उनके साथ थीं.

* उनके बेटे के अनुसार, कनाडा में ही उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा.

* फिल्म इंडस्ट्री व अन्य लोगों ने सोशल मीडिया पर उन्हें श्रद्धांजलि दी. अमिताभ बच्चन, अनुपम खेर, स्मृति ईरानी, असरानी, परेश रावल, अनिल कपूर, अक्षय कुमार, अर्जुन कपूर, वरुण धवन, मधुर भंडराकर के साथ-साथ अन्य लोगों ने अपनी भावनाएं व्यक्त की.

* अमिताभ बच्चन ने भावुक होते हुए कहा कि कादर ख़ान बहुमुखी प्रतिभा के धनी व समर्पित कलाकार थे. उनकी लेखनी भी ग़ज़ब की थी. मेरे अधिकतर सफल फिल्में, जैसे- मुकद्दर का सिकंदर, कुली, हम, शहंशाह, मि. नटरवरलाल, सुहाग, अदालत सहित तक़रीबन 21 फिल्मों में अभिनेता, संवाद, पटकथा लेखक के रूप में उन्होंने काम किया था.

* ज़िंदगी का सफ़र हमें कहां से कहां ले जाता है, कई बार इसे हम भी नहीं समझ पाते. तभी तो कादर ख़ान अफगानिस्तान के काबुल में जन्मे, भारत में मुंबई में अपनी अदाकारी-लेखनी का लोहा मनवाया, अंतिम पड़ाव पर परिवार के साथ कनाडा में बिताए.

मेरी सहेली परिवार की ओर से भानभीनी श्रद्धांजलि!

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़े2018 में ये फिल्में हुईं बुरी तरह फ्लॉप (Check Out The Biggest Flops Of 2018)

रामेश्वरम में बोनी कपूर ने जाह्नवी और ख़ुशी के साथ श्रीदेवी की अस्थियाँ कीं विसर्जित (Boney Kapoor, Jahnvi and Khushi immerse Sridevi’s ashes in Rameswaram)

immerse Sridevi’s ashes in Rameswaram

रामेश्वरम में बोनी कपूर ने जाह्नवी और ख़ुशी के साथ श्रीदेवी की अस्थियाँ कीं विसर्जित (Boney Kapoor, Jahnvi and Khushi immerse Sridevi’s ashes in Rameswaram)
बोनी कपूर ने अपनी दोनों बेटियों के साथ तमिलनाडु की रामेश्वरम नदी में श्रीदेवी की अस्थियाँ विसर्जित कीं! ये पल परिवार के लिए बेहद भावुक था. पिछले दिनों इतना सबकुछ अचानक होने के बाद अब श्रीदेवी से जुड़ी ये अंतिम क्रिया भी पूरी हो चुकी है.
ग़ौरतलब है कि बोनी ने श्रीदेवी और उनके बीच के वो आख़री लम्हे भी मीडिया के साथ हाल ही में शेयर किए!

 

कार्डिएक अरेस्ट नहीं, क्या बाथ टब में डूबने से हुई श्रीदेवी की मौत? पार्थिव शरीर भारत आने में होगी देर (Sridevi died of accidental drowning)

Sridevi died of accidental drowning

Sridevi died of accidental drowning

कार्डिएक अरेस्ट नहीं, बाथ टब में डूबने से हुई मौत,पार्थिव शरीर भारत आने में होगी देर (Sridevi died of accidental drowning)
दुबई में हुए पोस्टमार्टम की रिपोर्ट के मुताबिक़ श्रीदेवी की मौत की वजह ऐक्सिडेंटल ड्राउनिंग यानी दुर्घटनावश पानी में डूबना है. रिपोर्ट के मुताबिक़ श्री के शरीर में शराब के भी अंश पाए गए!


श्रीदेवी का पार्थिव शरीर अब मंगलवार तक भारत आने की उम्मीद है. दुबई पुलिस शायद बोनी कपूर का भी बयान दर्ज करे.