romance. love

आज फिर उसे देखा… अपने हमसफ़र के साथ, उसकी बाहों में बाहें डाले झूम रही थी… बड़ी हसीन लग रही थी और उतनीही मासूम नज़र आ रही थी… वो खुश थी… कम से कम देखने वालों को तो यही लग रहा था… सब उनको आदर्श कपल, मेड फ़ॉर ईच अदर… वग़ैरह वग़ैरह कहकर बुलाते थे… अक्सर उससे यूं ही दोस्तों की पार्टीज़ में मुलाक़ात हो जाया करतीथी… आज भी कुछ ऐसा ही हुआ. 

मैं और हिना कॉलेज में एक साथ ही थे. उसे जब पहली बार देखा था तो बस देखता ही रह गया था… नाज़ों से पली काफ़ीपैसे वाली थी वो और मैं एक मिडल क्लास लड़का. 

‘’हाय रौनक़, मैं हिना. कुछ रोज़ पहले ही कॉलेज जॉइन किया है, तुम्हारे बारे में काफ़ी सुना है सबसे. तुम कॉलेज में काफ़ीपॉप्युलर हो, पढ़ने में तेज़, बाक़ी एक्टिविटीज़ में भी बहुत आगे हो… मुझे तुम्हारी हेल्प चाहिए थी…’’

“हां, बोलिए ना.”

“मेरा गणित बहुत कमजोर है, मैंने सुना है तुम काफ़ी स्टूडेंट्स की हेल्प करते हो, मुझे भी पढ़ा दिया करो… प्लीज़!”

“हां, ज़रूर क्यों नहीं…” बस फिर क्या था, हिना से रोज़ बातें-मुलाक़ातें होतीं, उसकी मीठी सी हंसी की खनक, उसके सुर्ख़गाल, उसके गुलाबों से होंठ और उसके रेशम से बाल… कितनी फ़ुर्सत से गढ़ा था ऊपरवाले ने उसे… लेकिन मैं अपनी सीमाजानता था… सो मन की बात मन में ही रखना मुनासिब समझा. 

“रौनक़, मुझे कुछ कहना है तुमसे.” एक दिन अचानक उसने कहा, तो मुझे लगा कहीं मेरी फ़ीलिंग्स की भनक तो नहीं लगगई इसे, कहीं दोस्ती तो नहीं तोड़ देगी मुझसे… मन में यही सवाल उमड़-घुमड़ रहे थे कि अचानक उसने कहा, “मुझे अपनाहमसफ़र मिल गया है… और वो तुम हो रौनक़, मैं तुमसे प्यार करती हूं!” 

मेरी हैरानी की सीमा नहीं थी, लेकिन मैंने हिना को अपनी स्थिति से परिचित कराया कि मैं एक साधारण परिवार कालड़का हूं, उसका और मेरा कोई मेल नहीं, पर वो अपनी बात पर अटल थी.

बस फिर क्या था, पहले प्यार की रंगीन दुनिया में हम दोनों पूरी तरह डूब चुके थे. कॉलेज ख़त्म हुआ, मैंने अपने पापा केस्मॉल स्केल बिज़नेस से जुड़ने का निश्चय किया जबकि हिना चाहती थी कि मैं बिज़नेस की पढ़ाई के लिए उसके साथविदेश जाऊं, जो मुझे मंज़ूर नहीं था. 

“रौनक़ तुम पैसों की फ़िक्र मत करो, मेरे पापा हम दिनों की पढ़ाई का खर्च उठाएंगे.” 

“नहीं हिना, मैं अपने पापा का सहारा बनकर इसी बिज़नेस को ऊंचाई तक के जाना चाहता हूं, तुम्हें यक़ीन है ना मुझ पर? मैं यहीं रहकर तुम्हारा इंतज़ार करूंगा.”

ख़ैर भारी मन से हिना को बाय कहा पर कहां पता था कि ये बाय गुडबाय बन जाएगा. हिना से संपर्क धीरे-धीरे कम होनेलगा था. वो फ़ोन भी कम उठाने लगी थी मेरा. मुझे लगा था कोर्स में व्यस्त होगी, लेकिन एक दिन वो लौटी तो देखा उसकीमांग में सिंदूर, गले में मंगलसूत्र था… मेरी आंखें भर आई… 

“रौनक़, मुझे ग़लत मत समझना, जय से मेरी मुलाक़ात अमेरिका में हुई, उसने मुझे काफ़ी सपोर्ट किया, ये सपोर्ट मुझेतुमसे मिलना चाहिए था पर तुम्हारी सोच अलग है. जय का स्टैंडर्ड भी मुझसे मैच करता है, बस मुझे लगा जय और मैं एकसाथ ज़्यादा बेहतर कपल बनेंगे… पर जब इंडिया आई और ये जाना कि तुम भी एक कामयाब बिज़नेसमैन बन चुके हो, तोथोड़ा अफ़सोस हुआ कि काश, मैंने जल्दबाज़ी न की होती…” वो बोलती जा रही थी और मैं हैरान होता चला जा रहा था… “रौनक़, वैसे अब भी कुछ बिगड़ा नहीं है, हम मिलते रहेंगे, जय तो अक्सर टूर पर बाहर रहते हैं तो हम एक साथ अच्छाटाइम स्पेंड कर सकते हैं…” 

“बस करो हिना, वर्ना मेरा हाथ उठ जाएगा… इतनी भोली सूरत के पीछा इतनी घटिया सोच… अच्छा ही हुआ जो वक़्त नेहमें अलग कर दिया वर्ना मैं एक बेहद स्वार्थी और पैसों से लोगों को तोलनेवाली लड़की के चंगुल से नहीं बच पाता… तुममेरी हिना नहीं हो… तुम वो नहीं, जिससे मैंने प्यार किया था, तुमको तो मेरी सोच, मेरी मेहनत और आदर्शों से प्यार हुआकरता था, इतनी बदल गई तुम या फिर नकाब हट गया और तुम्हारी असली सूरत मेरे सामने आ गई, जो बेहद विद्रूप है! तुम मुझे डिज़र्व करती ही नहीं हो… मुझे तो धोखा दिया, जय की तो होकर रहो! और हां, इस ग़लतफ़हमी में मत रहना किमैं तुम जैसी लड़की के प्यार में दीवाना बनकर उम्र भर घुटता रहूंगा, शुक्र है ऊपरवाले ने मुझे तुमसे बचा लिया…”

“अरे रौनक़, यार पार्टी तो एंजॉय कर, कहां खोया हुआ है…?” मेरे दोस्त मार्टिन ने टोका तो मैं यादों से वर्तमान में लौटा औरफिर डान्स फ़्लोर पर चला गया, तमाम पिछली यादों को हमेशा के लिए भुलाकर, एक नई सुनहरी सुबह की उम्मीद केसाथ!

  • गीता शर्मा 

कॉलेज का वो दौर, वो दिन आज भी याद आते हैं मुझे. 18-19 की उम्र में भला क्या समझ होती है. मैं अपने बिंदास अंदाज़में मस्त रहती थी. कॉलेज में हम चार दोस्तों का ग्रुप था. उसमें मैं अकेली लड़की थी, लेकिन मुझे लड़कों के साथ रहने परभी कभी कुछ अटपटा नहीं लगा. उनमें से सिद्धार्थ तो सीरियस टाइप का था,पर  दूसरा था सुबीर, जो कुछ ज़्यादा ही रोमांटिक था. उसे मेरे बाल और कपड़ों की बड़ी चिंता रहती. लेकिन अजीब से रोमांटिक अंदाज़ में उसके बात करने से मुझेबड़ी चिढ़ होती थी.

लेकिन इन सबसे अलग था हमारे ग्रुप का वो तीसरा लड़का, नाम नहीं लिखना चाहती, पर हां, सुविधा के लिए अवनि कहसकते हैं.

करीब चार साल तक हमारा साथ रहा, लेकिन पढ़ाई और घर के सदस्यों के हाल चाल जानने तक तक ही हमारी बातचीतसीमित थी.

आगे भी एक साल ट्रेनिंग के दौरान भी हम साथ थे, लेकिन हमारे डिपार्टमेंट अलग थे और काफ़ी दूर-दूर थे.

वो दौर ऐसा था कि लड़के-लड़कियों का आपस में बात करना समाज की नज़रों में बुरा माना जाता था, लेकिन अवनिआधे घंटे के लंच टाइम में भी पांच मिनट निकाल कर मुझसे मिलने ज़रूर आता था, बस थोड़ी इधर-उधर की बातें करके चला जाता.

फिर वो समय भी आ गया जब साल भर की ट्रेनिंग भी ख़त्म होने को आई और अवनि को उसके भाई ने नौकरी के लिएअरब कंट्री में बुला लिया था. उसकी कमी खल तो रही थी लेकिन हमारे बीच सिर्फ़ एक दोस्ती का ही तो रिश्ता था. वो जबभी अपने पैरेंट्स से मिलने इंडिया आता तो मुझसे भी ज़रूर मिलकर जाता.

मेरे घर में सभी लोग उससे बड़े प्यार से मिलते थे, वो था ही इतना प्यारा. निश्छल आंखें और बिना किसी स्वार्थ के दोस्तीनिभाना- ये खूबी थी उसकी. मैं अक्सर सोचती कि हम दोनों के बीच कुछ तो ख़ास और अलग है, एक लगाव सा तो ज़रूरहै, वही लगाव उसे भारत आते ही मुझ तक खींच लाता था.

वो जब भी आता मेरी लिए बहुत सारे गिफ़्ट्स भी लाता. उसे पता था कि मेकअप का शौक़ तो मुझे था नहीं, इसलिए वो मेरे लिए परफ़्यूम्स, चॉक्लेट्स और भी न जाने क्या-क्या लाता. 

इसी बीच उसकी शादी भी तय हो गई और जल्द ही उसने सात फेरे ले लिए.

मैं खुश थी उसके लिए, लेकिन उसकी शादी में मैं नहीं जा पाई. हां, अगले दिन ज़रूर गिफ्ट लेकर अवनि और उसकी पत्नीसे मिली.

इसके बाद उससे अगली मुलाकात तब हुई, जब वो अपने एक साल के बेटे को लेकर मुझसे मिलने आया. 

कुछ समय बाद मेरी भी शादी हो गई. वो भी मेरी शादी में नहीं आ पाया. फिर मैं भी घर-परिवार में इतनी खो गई कि कुछसोचने का वक़्त ही नहीं मिला. लेकिन दिल के किसी कोने में, यादों की धुंधली परतों में उसका एहसास कहीं न कहीं था. मुझे याद आया कि आख़री बार जब उससे मिली थी तो जाते समय उसने एक फिल्मी ग़ज़ल सुनाई, जिसका कुछ-कुछअर्थ था कि मैं अपना वादा पूरा नहीं कर पाया, इसलिए मुझे फिर जन्म लेना होगा… 

उसे सुनकर मैं भी अनसुलझे से सवालों में घिरी रही. अब घर-गृहस्थी में कुछ राहत पाने के बाद यूं ही अवनि का ख़यालआया और मन में हूक सी उठी. मैंने एक दिन सोशल मीडिया पर अवनि को ढूंढ़ने की कोशिश की और मैं कामयाब भी होगई. हमारे बीच थोड़ी-बहुत बात हुई और जब मैंने उससे पूछा कि इतने वक़्त से कहां ग़ायब थे, न कोई संपर्क, न हाल-चाल पूछा, मेरी इस बात पर उसने कहा, “तुम्हारी याद तो बहुत आई, पर मैंने सोचा तुम अपनी गृहस्थी में व्यस्त हो, तोबेवजह डिस्टर्ब क्यों करना.”

मैं हैरान रह गई उसकी यह बात सुनकर कि अवनि इतनी भावुक बात भी कर सकता है? फिर काफ़ी दिन तक हमारी बातनहीं हुई.

एक दिन मैं अपने लैपटॉप पर कुछ देख रही थी कि अचानक अवनि का मैसेंजर पर वीडियो कॉल आया, क्योंकि अरब देशों में व्हाट्सएप्प कॉल पर बैन है. 

कॉल लिया तो देखा वो किसी अस्पताल में के बेड पर था और ढेर सारी नलियां शरीर पर लगी हुई थीं.

कहने लगा, “कैसा लगता है जब आदमी अस्पताल में अकेला होता है… किसी बेहद अपने की याद आती है…” उस समय भी वह मुस्कुरा रहा था. लेकिन उसकी आंखें बंद सी हो रही थीं. 

मैंने घबराकर पूछा, “क्या हुआ तुम्हें?” इससे पहले वो कुछ बोलता कॉल डिसकनेक्ट हो गई.

बाद में मैसेज में पूछने पर उसका जवाब आया कि मैं कुछ ठीक हूं. कोविड से रिकवर हो रहा हूं. जल्दी ही तुमसे मिलुंगा…

लेकिन वो नहीं आया, बस उसकी खबर ही आई… अभी हफ्ते भर पहले पता चला कि वो संसार छोड़ गया.

न जाने क्यों उसके चले जाने से ज़िंदगी का, दिल का एक कोना खाली और तनहा हो गया. लेकिन कुछ सवाल वो छोड़गया और मैं खुद से ही पूछ रही थी कि क्या वो मुझसे प्यार करता था… अस्पताल में अकेले में ज़िंदगी के आख़री पलों मेंउसे मेरी ही याद आई. क्या ये प्यार था?

ये सवाल मेरे मन में आज भी रह-रहकर आता है, लेकिन इसका जवाब देने वाला दूर, बहुत दूर जा चुका है…!

अलका कुलश्रेष्ट

कॉम्प्लिमेंटस किसे पसंद नहीं! हर कोई चाहता है कि उसके लुक्स, बिहेविअर, फैशन सेंस या फिर उनके एफ़र्ट्स के लिए उन्हें कॉम्प्लिमेंटस मिले. ऐसा होता भी है पुरुष महिलाओं की तारीफ करने से पीछे नही हटते.लेकिन महिलाएं उन्हें कॉम्प्लिमेंट देने में कंजूसी कर जाती हैं.

हम आपको बता रहे हैं 6 ऐसे कॉम्प्लिमेंट जो आप उन्हें दे सकती हैं.उन्हें स्पेशल फील करा सकती हैं.उनके और करीब आ सकती हैं. उनका दिल जीत सकती हैं.

1. आई  फील सेफ विद यू- ये अपने पार्टनर  को देने वाला बेस्ट कॉम्प्लिमेंट है. आप उन्हें ये कह कर अपना प्यार जता सकते हैं.आप उनके साथ महफूज़ फील करते हैं. उनका साथ आप में एक अलग ऊर्जा का संचार करता है.

2. लकी टू हैव यू- अपने पार्टनर  को बार बार ये बताते रहे कि उनका आपकी लाइफ में होना कितना मैटर करता है और अगर वो ना हो तो आप की जिंदगी कितनी खाली होती. आप बहुत खुश हैं उन्हे पाकर. ये समय समय पर उन्हें बताते रहिये . ये सुनकर उन्हें बहुत खुश मिलेगी.

3. यू आर सच ए ग्रेट किसर-  पुरुषों को कॉम्प्लिमेंट बहुत कम मिलते हैं. लेकिन क्युंकि अब आप एक रिलेशनशिप में है तो आपका उन्हें कंप्लिमेंट करना बनता है. आपका इस तरह से किया गया कंप्लिमेंट .उनमें  एक नई स्फुर्ति पैदा कर देगा. एक बार ट्राय करे.

Compliments For Men

4. इट्स अमेजिंग हाओ हार्ड यू वर्क – महिलाओं और गर्लफ्रेंड्स  अपने पार्टनर को हमेशा काम के ताने देती रहती हैं.  उन्हें उनके काम से हमेशा  शिकायत रहती है. लेकिन वो आपके लिए, घर के लिए हर रोज़ कितनी मेहनत करते हैं अगर  इसके लिए शिकायत की बजाय उनकी  तारीफ कर. आप उनका दिन बना सकती हैं.

5. यू आर सच अ गुड कुक – असल में पुरुष अच्छे कुक होते हैं और बहुत स्वादिष्ट खाना भी बनाते हैं. वाइफ के वर्किंग होने पर किचन में उनकी मदद भी करते हैं. लेकिन उन्हें इस बात के लिए  अप्रेसीएशन कम ही मिलता है अगर आपके पार्टनर में ये स्किल है तो उन्हें जरूर ‘यू आर सच ए गुड कुक’ वाला कॉम्प्लिमेंट दीजिये. फिर देखिये जादू.

6. यू आर ए ग्रेट फादर- हालाँकि ये अधितर महिलाओं के लिए यूज़ किया जाता है कि आप बहुत अच्छी माँ है, लेकिन बदलते समय और जरूरत के अनुसार पुरुष भी बच्चों के पालन पोषण में अपनी भूमिका निभाते हैं. एफॉर्ट लगाते हैं और अच्छे पिता बनने की कोशिश भी  करते हैं. इसके लिए उन्हें एपरीसीएशन दिया जाना चाहिए.आप ये कहकर उन्हें स्पेशल फील करा सकती हैं.  आपके साथ जिम्मेदारी बाँटने के लिए थैंकयू कह सकती हैं.

शिखा शिप्रा

यह भी पढ़ें: महिलाओं की 23 आदतें, जो पुरुषों को बिल्कुल पसंद नहीं आतीं (23 Habits of Women Men Don’t Like)

क्या आपकी सेक्स लाइफ़ बोरिंग और नीरस होती जा रही है? अगर हां, तो उसमें प्यार के नए रंग भरने के लिए पार्टनर के मूड बनने का इंतज़ार करने की बजाय ख़ुद ही शुरुआत करें, फिर देखिए आपका ये बदला-बदला-सा अंदाज़ पार्टनर को कैसे दीवाना बना देता है.

Healthy Sex Life

1) पहल करें
दिनभर की थकान के बाद आपका पार्टनर आराम के मूड में है. लेकिन, आपका दिल कुछ और चाहता है, तो ऐसे में चुपचाप बैठकर उनका मूड बनने का इंतज़ार करने की बजाय ख़ुद ही पहल करें. अचानक आपका बदला-बदला सेक्सी अंदाज़ देखकर पार्टनर अपनी सारी थकान भूल जाएगा.

2) ख़ुद को अच्छी तरह प्रेज़ेंट करें
बिखरे बाल, पसीने से भीगा बदन और थकान भरा चेहरा पुरुषों का मूड ऑफ कर देती है. ख़ासतौर से पसीने की बदबू तो रोमांस का माहौल बनने के पहले ही ख़त्म कर देती है. हो सकता है ख़ुद की अनदेखी की आपकी आदत ही उन्हें आपके पास आने से रोक रही हो. इसलिए ज़रा ख़ुद पर भी ध्यान दें. बेड पर जाने से पहले चेहरा धोने और कपड़े बदलने जैसी छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखकर आप उन्हें अपनी ओर आकर्षित कर सकती हैं.

3) आफ्टर प्ले का कॉन्सेप्ट
अक्सर देखा गया है कि महिलाएं सेक्स के बाद आफ्टर प्ले की कमी महसूस करती हैं. सेक्स के बाद किस करना, एक-दूसरे को बांहों में भरना और जो भी आप करना चाहती हैं, वो अच्छा तो लगता है, लेकिन पुरुषों को ये कॉन्सेप्ट आमतौर पर कम ही भाता है. वैसे भी जब नींद आने लगती है तब किसी की बांहों में ख़ुद को कसा हुआ पाना, नींद उड़ाने जैसा ख़्याल लगता है. इसलिए फोरप्ले का लुत्फ़ उठाइए और लंबे आफ्टर-प्ले के प्रति कूल हो जाइए.

Healthy Sex Life

4) न डालें गिफ़्ट्स का प्रेशर
रोमांस के नाम पर आप समय-समय पर पतिदेव से चॉकलेट्स, डॉल्स या टेडी बियर जैसे गिफ़्ट्स की डिमांड तो नहीं करतीं? माना शादी के शुरुआती दिनों में गिफ़्ट्स लेन-देन का ये आइडिया काफ़ी रोमांटिक लगता है, लेकिन ये तभी तक अच्छा लगता है जब तक ये सरप्राइज़ की तरह रहे. बार-बार गिफ़्ट मांगने की आपकी आदत पार्टनर को इरिटेट भी कर सकती है. इसके अलावा हमेशा आपकी डिमांड पूरी करने के चक्कर में उनका फोकस आप से हटकर गिफ़्ट पर ज़्यादा रहेगा. अगर आप अपने रिश्ते में रूमानियत का एहसास बरक़रार रखना चाहते हैं तो उन्हें प्यार का इज़हार वैसे ही करने दें जैसा वो चाहते हैं.

5) रोक-टोक न करें
आपने शायद कई जगह पढ़ा होगा कि सेक्स की शुरुआत धीरे-धीरे होनी चाहिए. आप भी चाहती हैं कि उनकी नज़र आप पर ऐसे पड़े कि आप ख़ुद को धीरे-धीरे पिघलता हुआ महसूस करें, लेकिन घर लौटते हुए गर्मी, लोकल ट्रेन या मेट्रो की भीड़ या फिर हैवी ट्रैफिक में फंसने के बाद पार्टनर से इतनी पेशेन्स की उम्मीद न रखें. तो क्या हुआ कि वो सॉक्स खोलने तक का भी इंतज़ार न करें, ऐसे में उन्हें रोकने की बजाय आप भी उनका साथ दें और उन ख़ास पलों को एन्जॉय करें.

6) डालें वैक्सिंग की आदत
आप अपनी बॉडी के अनचाहे बाल हटाना ज़रूरी नहीं समझती और अब तक आपके पार्टनर ने भी आपसे इस बारे में कुछ नहीं कहा, तो समझ लें कि वो पऱफेक्ट जेन्टलमेन हैं और उन्हें ऐसी बातें कहना पसंद नहीं. लेकिन, इस बात की गुंजाइश बहुत ़ज़्यादा है कि वैक्सिंग के प्रति आपकी लापरवाही आपके पार्टनर को कुछ नया ट्राई करने से रोक रही हो. क्लीन, ब्यूटीफुल बॉडी पार्टनर को नए एक्सपेरिमेंट्स करने के लिए प्रेरित करती है, लेकिन आप अगर हाइजीन का ख़्याल नहीं रखेंगी तो पार्टनर कुछ नया सोच ही नहीं पाएंगा. तो अब वैक्सिंग, हेयर रिमूविंग क्रीम्स व शेविंग से दोस्ती बढ़ाइए और सेक्स लाइफ़ का लुत्फ़ उठाइए.

यह भी पढ़ें: सेक्स लाइफ से जुड़े 10 सवाल-जवाब हर कपल को मालूम होने चाहिए (10 Sex Questions All Happy Couples Know The Answers To)

Healthy Sex Life

7) आवाज़ का खेल
सेक्स के दौरान कई महिलाएं आवाज़ें निकालती हैं. दरअसल, ऐसा करके वो अपने पार्टनर को ये समझाना चाहती हैं कि उन्हें उनका साथ पसंद है. लेकिन, अधिकतर पुरुषों के लिए चीज़ों को इतनी बारीक़ी से समझना मुश्किल होता है. तो ऐसे में अगर आपके पार्टनर भी आवाज़ों की ज़ुबान नहीं समझते तो दुखी मत होइए, उनका नेचर समझिए और उनका साथ दीजिए.

8) ख़ुद रहें हमेशा तैयार
आप दोनों ‘सेफ सेक्स’ को प्रमोट करते हैं, लेकिन किसी कारणवश अगर आपके पार्टनर के पास कॉन्डम्स नहीं हैं या वे ख़रीदना भूल गए हैं, तो इसे दूरी का कारण न बनने दें. ख़ुद हमेशा तैयार रहें यानी अपने पास हमेशा कॉन्डम का पैकेट संभाल कर रखें और पार्टनर को अपनी स्मार्ट अदाओं से सरप्राइज़ करें. फिर देखिए वे कैसे खुलकर इस पल का आनंद उठाते हैं.

9) दिल से बने रहें जवां
शादी के कुछ सालों बाद अक्सर महिलाएं सेक्स के प्रति उदासीन हो जाती हैं. आमतौर पर इसकी वजह परिवार की बढ़ती ज़िम्मेदारिया होती है लेकिन, ये बहुत हद तक महिलाओं पर निर्भर करता है कि वो अपनी सेक्स लाइफ़ को कितना ख़ुशनुमा बनाना चाहती हैं. तो क्या हुआ अगर आपकी दिनचर्या बहुत व्यस्त है, आप चाहें तो उसमें से थोड़ा वक़्त निकालकर अपनी सेक्स लाइफ़ को रिचार्ज करने के लिए नए आइडियाज़ और मौ़के तलाश सकती है. जैसे- ज़रूरी नहीं कि सेक्स की शुरुआत स़िर्फ बेडरुम में हो, मूड बनाने के लिए बालकनी से लेकर टीवी देखते हुए लिविंग रूम, किचन या डायनिंग टेबल कोई भी जगह चुन सकती हैं.

यह भी पढ़ें: पुरुषों की 6 सेक्स समस्याएं और उनके आसान समाधान (Men’s Sexual Problems And Easy Solutions)

Healthy Sex Life

10) समय का इंतज़ार न करती रहें
ऐसे मौ़के कई बार आते हैं जब दोनों पार्टनर चाहते हुए भी साथ नहीं आ पाते हैं. कभी ऑफ़िस जाने की जल्दी होती है, तो कभी बच्चों के घर लौटने का वक़्त हो जाता है, लेकिन ये किसने कहा है कि आप एक-दूसरे के साथ 10 मिनट रहें और कुछ न करें. हमेशा सेक्स की शुरुआत स्लो हो ये ज़रूरी नहीं, कभी-कभी झटपट किया काम भी दिल को ख़ुश करने के लिए काफ़ी होता है. सच मानिए, कभी-कभार अपनी स्टाइल से हटकर कुछ अलग करने का मज़ा ही कुछ और होता है और इसकी झलक आपके चेहरे पर दिनभर मंद-मंद मुस्कान के रूप में दिखती रहती है.

वैसे तो हर कपल चाहता है कि वो हमेशा साथ रहे, लेकिन कई बार स्थिति ऐसी बन जाती है कि पार्टनर को नौकरी के कारण दूसरे शह (Long Distance Relationship)र जाना पड़ता है. ऐसे में हमसफ़र के प्यार भरे एहसास और साथ को कैसे करें हर पल महसूस? आइए, जानते हैं.

Romantic-Boyfriend-Girlfriend-Holding-Hands-Together-Images-for-WhatsApp-Profile-Picture-Bf-Gf-Romantic-Couple-Pics-Images-Profile-Picture-for-WhatsApp-9
लव लेटर

दूर जाने के बाद अपने प्यार का इज़हार आप ख़तों के माध्यम से कर सकती हैं. माना ये तरीक़ा बहुत पुराना हो चुका है, लेकिन यक़ीन मानिए, इससे बेहतर प्यार के इज़हार का कोई दूसरा तरीक़ा हो ही नहीं सकता. लव लेटर के ज़रिए आप अपनी भावनाओं को अच्छी तरह बयां कर सकती हैं. आपके द्वारा लिखे एक-एक शब्द को वो बार-बार पढ़ेंगे और आपको याद करेंगे.

ये भी पढें: सेक्स लाइफ के 12 दुश्मन

नेटवर्क कनेक्शन

याद करें, जब आप दोनों एकसाथ एक ही छत के नीचे रहते थे, तो कैसे शाम को गैलरी में चाय के कप के साथ एक-दूसरे से दिनभर की बातें शेयर करते थे? क्या हुआ जो हमसफ़र अब दूर हैं, दिनभर में जब भी समय मिले, उन्हें फोन करें. उनसे प्यार भरी बातें करें, उनके काम के बारे में पूछें और कुछ ऐसी बात करें, जो आप दोनों को पसंद हों. एक-दूसरे को ये एहसास दिलाएं कि दोनों एक साथ हैं और एक-दूसरे को कितना चाहते हैं.

विश्‍वास बनाए रखें

किसी भी रिश्ते का आधार होता है विश्‍वास. पार्टनर के दूर जाने पर विश्‍वास ही आप दोनों को जोड़े रखता है. कभी कोई ऐसा काम न करें, जिसको पार्टनर से छुपाना पड़े. एक-दूसरे के प्रति आपकी ईमानदारी और विश्‍वास ही आपके रिश्ते को मज़बूत बनाएगा.

प्यार का एहसास

जीवनसाथी के दूर होने पर आप उन्हें जितना हो सके, अपने प्यार का एहसास दिलाएं. आपके जीवन में उनकी क्या अहमियत है, आप उन्हें कितना मिस करती हैं, इन सबका उन्हें एहसास दिलाएं. दूर रहने पर जब पल-पल आप दोनों को एक-दूसरे की चाहत और ज़रूरत महसूस होगी, तभी तो आप एक-दूसरे के प्यार को समझ पाएंगे.

सरप्राइज़ दें

प्यार बढ़ाने के लिए सरप्राइज़ बड़े ही काम का होता है. जब आपका प्यार, आपका जीवनसाथी आपसे दूर हो, तब जब भी मौक़ा मिले उसकी पसंद की चीज़ें उसे कुरियर करें. इससे जितनी ख़ुशी आपको होगी, उससे कहीं ज़्यादा ख़ुश पार्टनर होगा. तोहफ़ों की इस हेराफेरी से आपके बीच प्यार यूं ही बना रहेगा. साथ ही जब भी छुट्टी मिले चुपके से पार्टनर से मिलने पहुंच जाएं.

बचें इन ग़लतियों से

अक्सर देखा गया है कि हमसफ़र से थोड़े दिन की भी दूरी होने पर कपल्स के रिश्ते में खटास आ जाती है. यदि आप चाहती हैं कि आपके साथ ऐसा न हो, तो बचें इन ग़लतियों सेः
असुरक्षा की भावना
किसी भी रिश्ते में असुरक्षा की भावना रिश्ते को दीमक की तरह चाट जाती है. दूर जाने पर कई बार ऐसा देखा गया है कि कपल्स एक-दूसरे पर विश्‍वास नहीं करते. उन्हें लगने लगता है कि दूर जाने पर कहीं पार्टनर किसी और की तरफ़ आकर्षित न हो जाए. ऐसी सोच रिश्ते को कमज़ोर कर देती है.
ग़लती छुपाना
दूरी बढ़ने पर हो सकता है, आप किसी अजनबी या पुराने दोस्त के बहुत क़रीब आ गई हों और बाद में आपको एहसास हो कि शायद आपको उसके इतने क़रीब नहीं आना चाहिए था. आपकी इस नज़दीकी का पता यदि पार्टनर को चल जाए और वो इस बारे में कुछ पूछे, तो छुपाने की बजाय उन्हें खुलकर सच्चाई बता दें, क्योंकि झूठ बोलकर उस वक़्त तो आप अपने रिश्ते को बचा सकती हैं, मगर रिश्ते की नींव कमज़ोर हो जाएगी.
उलाहने देना
शादी के बाद कोई भी कपल एक-दूसरे से दूर नहीं रहना चाहता, लेकिन कभी ऑफिस के काम, तो कभी किसी अन्य ज़रूरत की वजह से उन्हें अलग-अलग शहरों में रहना पड़ता है. ऐसे में हमसफ़र की मजबूरी समझें और बिना सोचे-समझे उन्हें उलाहने देने की ग़लती न करें.
दूरियां भी हैं ज़रूरी
जानकारों की मानें, तो प्यार को और भी गहरा करने के लिए कुछ समय के लिए कपल्स को एक-दूसरे से दूर रहना ही चाहिए.
बढ़ता है रोमांस
पार्टनर के दूर जाने के बाद आपको हर पल उनके लौटने का बेसब्री से इंतज़ार रहता है. इंतज़ार के वो पल आपको और भी रोमांटिक बना देते हैं.
समर्पण की भावना
हमसफ़र के दूर जाने के बाद आप उस पल को कोसती हैं जब आपका उनसे झगड़ा हुआ था और ये सोचती हैं कि हमसफ़र के आने के बाद आप ख़ुद को उनके सामने समर्पित कर देंगी.
अंतरंगता बढ़ती है
जानकारों की मानें, तो दूर रहने के बाद एक-दूसरे की कमी को जब कपल्स महसूस करते हैं, तो मिलने के बाद उनका एक-दूसरे से प्यार और बढ़ जाता है. वो उन अंतरंग पलों को फिर से खुलकर जीना चाहते हैं.
बुराई नहीं, स़िर्फ अच्छाई नज़र आती है
हमसफ़र जब दूर रहते हैं, तो उनकी अच्छाइयां पल-पल आपको याद आती हैं. उनकी अच्छी बातें याद करके आपके दिल में उनके लिए प्यार व सम्मान और बढ़ जाता है.

×