romantic

काजल अग्रवाल इन दिनों अपने हनीमून पर हैं और वो मालदीव के खूबसूरत नज़ारों का मज़ा भी ले रही हैं और पति गौतम के साथ खुलकर रोमांस भी कर रही हैं. इतना ही नहीं काजल कई तस्वीरें फैंस के साथ भी शेयर कर रही हैं ताकि वो भी मालदीव की ख़ूबसूरती में क़ैद हो जाएं!

हाल ही में काजल ने जो पिक्स शेयर की उनमें बेहद ही सुंदर नजारा देखने को मिला. काजल ने अपने अंडरवॉटर बेडरूम की तस्वीरें शेयर कीं. पानी के अंदर बना उनका बेडरूम बहुत ही आलीशान है और वो चारों तरफ़ मछलियों से घिरी हैं. काजल ने लिखा भी है कि ये मुझे देख रही हैं या मैं इन्हें!

Kajal Aggarwal

आप भी देखें उनके इस ड़्रीमी हनीमून की तस्वीरें!

Kajal Aggarwal And Gautam Kitchlu
Kajal Aggarwal
Kajal Aggarwal
Kajal Aggarwal
Kajal Aggarwal And Gautam Kitchlu
Kajal Aggarwal And Gautam Kitchlu
Kajal Aggarwal
Kajal Aggarwal And Gautam Kitchlu
Kajal Aggarwal And Gautam Kitchlu
Kajal Aggarwal
Kajal Aggarwal
Kajal Aggarwal
Kajal Aggarwal

इसमें काजल थोड़ा फिटनेस और वर्कआउट की प्रैक्टिस करने की कोशिश में हैं ताकि हनीमून की ख़ुशी में सेहत नज़रअंदाज़ ना हो जाए! एक फ़ैन ने तो काजल ke कैप्शन और पिक पर कमेंट करते हुए इसे मर्मेड योगा बताया है!

Kajal Aggarwal
Kajal Aggarwal And Gautam Kitchlu
Kajal Aggarwal
Kajal Aggarwal
Kajal Aggarwal
Kajal Aggarwal

यह भी पढ़ें: करीना कपूर को है बेटी की ख़्वाहिश, पहली प्रेग्नेंसी के समय ही ज़ाहिर की थी ये चाहत! (Throwback Interview: When Kareena Kapoor Said She Would Love To Have A Daughter)

बॉलीवुड और बरसात का गहरा कनेक्शन है. चाहे रोमांस हो, ख़ुशी का मौक़ा या दर्द भरे लम्हे, बरसती बूंदों ने बॉलीवुड को ऐसे कई यादगार गीत और सीन्स दिए हैं, जिन्हें यदि बरसात के बिना शूट किया जाता, तो शायद उनकी ख़ूबसूरती उतनी न निखर पाती. बॉलीवुड के ये 10 गाने बरसात को बनाते हैं और भी रोमांटिक, ये गाने सुने बिना आपका मॉनसून अधूरा रह जाएगा.

Romantic Bollywood Songs

1) आज रपट जाएं – फिल्म नमक हलाल

2) रिमझिम गिरे सावन – फिल्म मंज़िल

यह भी पढ़ें: बॉलीवुड के 90 के दशक के 10 रोमांटिक गाने, आपको इनमें से कौन-सा गाना पसंद है? (10 Romantic Bollywood Songs Of 90’s)

3) भीगी-भीगी रातों में – फिल्म अजनबी

4) एक लड़की भीगी भागी सी – फिल्म चलती का नाम गाड़ी

5) प्यार हुआ इकरार हुआ – फिल्म श्री 420

यह भी पढ़ें: ख़ूबसूरत आंखों पर बने बॉलीवुड के 10 रोमांटिक गाने (10 Bollywood Romantic Songs Based On Beautiful Eyes)

6) टिप-टिप बरसा पानी – फिल्म मोहरा

7) बरसो रे मेघा – फिल्म गुरु

8) रिमझिम-रिमझिम – फिल्म 1942 ए लव स्टोरी

यह भी पढ़ें: ‘जब वी मेट’ फिल्म की ‘गीत’ करीना कपूर के 10 मशहूर डायलॉग में से आपका फेवरेट कौन सा है? (10 Famous Dialogues Of Geet (Kareena Kapoor) From ‘Jab We Met’ Film)

9) ताल से ताल मिला – फिल्म ताल

10) जो हाल दिल का – फिल्म सरफरोश

आंखें दिल का आईना होती हैं इसलिए लबों से ज़्यादा आंखें बोलती हैं. बात जब इश्क़ की हो, तो आंखें दिल की ज़ुबां बन जाती हैं, इसीलिए बॉलीवुड फिल्मों में आंखों की ख़ूबसूरती पर कई गाने बने हैं. यहां पर हम आपको बॉलीवुड के 10 ऐसे रोमांटिक गाने दिखा और सुना रहे हैं, जो आपको उन आंखों की याद दिला देंगे, जो आपके दिल के बहुत करीब हैं. आप भी अपने प्यार को याद करके सुनिए ख़ूबसूरत आंखों पर बने बॉलीवुड के ये 10 रोमांटिक गाने और हमें कमेंट करके बताइए कि आपको सबसे अच्छा कौन-सा गाना लगता है.

Bollywood Romantic Songs Based On Beautiful Eyes

1) आंखों की गुस्ताख़ियां माफ़ हों – फिल्म हम दिल दे चुके सनम

2) आंखों में तेरी अजब सी अदाएं हैं – फिल्म ओम शांति ओम

3) तेरे नैना बड़े दगाबाज़ रे – फिल्म दबंग 2

यह भी पढ़ें: इन बॉलीवुड अभिनेत्रियों की हेयर स्टाइल आज भी भूले नहीं होंगे आप (Most Iconic Hairstyles Of Bollywood Actresses)

4) सुरीली अंखियों वाले सुना है तेरी अंखियों में – फिल्म वीर

5) कत्थई आंखों वाली एक लड़की – फिल्म डुप्लीकेट

https://youtu.be/ujxtfgbjqfI

6) तेरे मस्त-मस्त दो नैन – फिल्म दबंग

7) तेरे नैना हंस दिए – फिल्म चांदनी चौक टु चाइना

यह भी पढ़ें: ‘जब वी मेट’ फिल्म की ‘गीत’ करीना कपूर के 10 मशहूर डायलॉग में से आपका फेवरेट कौन सा है? (10 Famous Dialogues Of Geet (Kareena Kapoor) From ‘Jab We Met’ Film)

8) तेरी काली अंखियों से जिंद मेरी जागे – फिल्म माय नेम इज़ खान

9) ये काली-काली आंखें – फिल्म बाज़ीगर

10) आंखों ने तुम्हारी – फिल्म इश्क़ विश्क

आंखें भी होती हैं दिल की ज़ुबां – फिल्म हासिल

Pahla Affair

पहला अफेयर: तुम कभी तो मिलोगे (Pahla Affair: Tum Kabhi To Miloge)

आज फिर मेघों से रिमझिम वर्षा रूपी नेह बरस रहा है. दूर-दूर तक मेरी प्रिय तन्हाई पसरी हुई है. एकाएक रेडियो पर बज रहे गीत पर ध्यान चला गया-
छोटी-सी ये दुनिया पहचाने रास्ते, तुम कहीं तो मिलोगे, कभी तो मिलोगे..

मेरा दिल यूं ही भर आया. कितने साल गुज़र गए आपसे बिछड़े हुए, पर मेरा पागलपन आज भी आपके साथ गुज़ारे उन सुखद पलों की अनमोल स्मृतियां संजोए हुए है.

अल्हड़ उम्र के वो सुनहरे भावुक दिन… चांदनी रात में जागना, अपनी ही बनाई ख़यालों की दुनिया में खो जाना, यही सब कुछ अच्छा लगता था तब. शरत्चंद,विमल-मित्र, शिवानी आदि के उपन्यासों को प़ढ़ना तब ज़रूरी शौक़ों में शामिल थे. को-एज्युकेशन के बावजूद अपने अंतर्मुखी स्वभाव के कारण मैं क्लास में बहुत कम बोलती थी.

उन दिनों कॉलेज में सांस्कृतिक कार्यक्रम चल रहे थे. आप तब मेरे पास आए थे और एक फ़िल्मी गीत के दूसरे अन्तरे को पूरा करने का आग्रह किया था. उसी गीत को गाने पर आपको प्रथम पुरस्कार मिला था. मेरे बधाई देने पर आपने कितनी आसानी से कह दिया था कि यह गीत तो मैंने तुम्हारे लिए ही गाया था. उसके बाद तो मैं आपसे नज़रें चुराती ही फिरती थी. लेकिन अक्सर ऐसा लगता जैसे आपकी ख़ामोश निगाहें हमेशा मेरा पीछा करती रहती हैं.

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: काश, तुम समझे होते (Pahla Affair: Kash Tum Samjhe Hote)

फिर परीक्षा के दिनों में जब मुझे एकाएक बुखार हो गया था, तो आपने बिना परीक्षा की चिंता किए मुझे अस्पताल में भर्ती करवाया था और मेरे माता-पिता के आने तक मेरी पूरी देखभाल की थी.

और जाड़ों में जब हमारी पिकनिक गई थी और मुझे आपके स्कूटर पर पीछे बैठना पड़ा था, उस दिन आपकी पीठ की ओर उन्मुख हो, मैंने जी भर कर बातें की थीं. हम पिकनिक स्पॉट पर सबसे देर से पहुंचे थे, आपका वाहन उस दिन चींटी की ऱफ़्तार से जो चल रहा था.

लेकिन तभी आपके चिकित्सक पिता की विदेश में नियुक्ति हुई और आपका परिवार विदेश चला गया. आपने अपनी मां से आपको यहीं छोड़ने के लिए बहुत अनुरोध भी किया, लेकिन आपका प्रयास असफल रहा. अपने मां-बाप के सामने अपनी पसंद ज़ाहिर करने की आपकी उस व़क़्त न उम्र थी न हालात. और आप अनेक सुनहरे सपने मेरी झोली में डाल सात समंदर पार के राजकुमार बन गए. कुछ वर्षों तक आपके स्नेहिल पत्र मुझे ढा़ंढस बंधाते रहे. फिर एकाएक इस छोटी-सी दुनिया की विशाल भीड़ में आप न जाने कहां खो गये. आपके परिवार की भी कोई खोज-ख़बर नहीं मिली. उन दिनों गल्फ वार (खाड़ी युद्ध) चल रहा था. अनेक प्रवासी-भारतीय गुमनामी के अंधेरे में खो
चुके थे.

मैं अपने प्यार की अजर-अमर सुधियों की शीतल छांव तले जीवन गुज़ारती रही. मुझे ऐसा रोग हो चुका है जिसको प्रवीण चिकित्सक भी समझ पाने में असमर्थ हैं. मुझे अटूट विश्‍वास है कि मेरे जीवन के मंदिर की लौ बुझने से पहले आप ज़रूर मिलेंगे और आपका उजला, हंसता- मुस्कुराता चेहरा ही मेरे जीवन के इंतज़ार को सार्थक बनाएगा. मेरे जीवन का सार बच्चन जी की इन पंक्तियों में है-

स्वागत के साथ ही विदा की होती देखी तैयारी
बंद लगी होने खुलते ही मेरी जीवन मधुशाला

– डॉ. महिमा श्रीवास्तव

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: धूप का टुकड़ा (Pahla Affair: Dhoop Ka Tukda)

Pahla Affair

पहला अफेयर: काश, तुम समझे होते (Pahla Affair: Kash Tum Samjhe Hote)

कभी-कभी अचानक कहे शब्द ज़िंदगी के मायने बदल देते हैं. इसका एहसास पहली बार मुझे तब हुआ जब अचानक एक दिन आदित्य को अपने सामने मेरे जवाब के इंतज़ार में खड़े पाया. मेरी हालत देखकर बोला, ङ्गङ्घदया, ऑफ़िस से जाने के पूर्व सारी औपचारिकताएं होते-होते एक-दो दिन तो लग ही जाएंगे, जाने से पहले तुम्हारा जवाब सुनना चाहता हूं.फफ कहने के साथ वह मुड़ा और मेरे मन-मस्तिष्क में झंझावत पैदा कर गया.

वो तो चला गया, लेकिन मेरी आंखों के सामने वह दृश्य दौड़ गया, जब एक दिन ऑफ़िस में अंतर्जातीय विवाह को लेकर हो रही चर्चा के दौरान मैंने भी घोषणा कर दी थी कि यूं तो मेरे घर में अंतर्जातीय विवाह के लिए सख़्त मनाही है, लेकिन मैं घरवालों के विरुद्ध जा सकती हूं, बशर्ते लड़का क्लास वन ऑफ़िसर हो.

मुझे सपने में भी इस बात का गुमान न था कि आदित्य मेरे कहे को इतनी संजीदगी से ले लेगा. यूं तो मुझे इस बात का मन-ही-मन एहसास था कि आदित्य के मन में मेरे लिए एक ख़ास जगह है और सच कहूं तो मैं भी उसके सौम्य, सरल व परिपक्व व्यक्तित्व के चुंबकीय आकर्षण में बंधने लगी थी. लेकिन जैसे ही घरवालों के दृष्टिकोण की याद आती, मैं अपने मन को समझा देती कि हमेशा मनचाही मुराद पूरी नहीं होती. इसीलिए आदित्य की लाख कोशिश के बावजूद मैं उससे एक निश्‍चित दूरी बनाए रखती और बातों के दौरान उसे घरवालों के विरोध से सचेत करती रहती.

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: उसकी यादें दिल में समाए हूं (Pahla Affair: Uski Yaden Dil Mein Samaye Hoon)

लेकिन होनी को भला कौन टाल सकता था. जब मुझे पता लगा कि उसने ज़ोर-शोर से प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी शुरू कर दी है तो एक अनजाने भय से मैं कांप उठी. उसकी मेहनत रंग लाई और पी. सी. एस. की परीक्षा को अंतिम रूप से पास कर, जब उसने हाथ मांगा तो मैं एक अजीब-सी उलझन में फंस गई. बड़ी कशमकश में थी मैं- मेरे सामने भावी जीवन का निर्णय पत्र था, उसमें हां या ना की मुहर लगानी थी.

ऑफ़िस वालों से विदा लेने से पूर्व वो मेरे पास आया, लेकिन मेरी आंखों से छलकते आंसुओं ने उसके प्रश्‍न का जवाब स्वयं दे दिया. मैं बहुत कुछ कहना चाह रही थी, पर ज़ुबां साथ नहीं दे रही थी. मेरी ख़ामोशी वो बर्दाश्त न कर सका. आख़िरकार वह छटपटा कर कह उठा, दया, मुझे कमज़ोर मत बनाओ, तुम तो मेरी शक्ति हो. आज मैं जो कुछ भी हूं, स़िर्फ तुम्हारी वजह से हूं. हमेशा ख़ुश रहना. ईश्‍वर करे, कोई दुख तुम्हारे क़रीब भी न फटके. इतना कह कर वह थके क़दमों से बाहर निकल गया. उसे जाते हुए देखती रही मैं. चाहती थी उससे कहना कि जीवन पर सबसे पहले जीवन देनेवाले का अधिकार होता है, इस फलसफे को कैसे झुठला सकती थी. लेकिन कहते हैं ना- कभी किसी को मुकम्मल जहां नहीं मिलता कहीं ज़मीं तो कहीं आसमां नहीं मिलता.

आज माता-पिता की इच्छा के फलस्वरूप अपने आशियाने में ख़ुश भी हूं, पर सीने में दबी पहले प्यार की चोट आज भी ये एहसास कराती है कि पहले तोलो, फिर बोलो. आज भी लगता है जैसे पहले प्यार की दस्तक अब भी मन- मस्तिष्क में अपनी गूंज दे रही हो.

– दया हीत

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर- हस्ताक्षर! (Pahla Affair: Hastakshar)

Pahla Affair Kahaniya

पहला अफेयर: उसकी यादें दिल में समाए हूं (Pahla Affair: Uski Yaden Dil Mein Samaye Hoon)

वह अक्सर कहा करता था… मैं आकाश की ऊंचाई को छूना चाहता हूं. इन बादलों में गुम हो जाने पर मैं उस मधुर आवाज़ का इंतज़ार करूंगा, जो तुम मुझे बुलाने के लिए दोगी. तुम गाओगी… न जाओ सैंया, छुड़ाके बहियां, कसम तुम्हारी मैं रो पड़ूंगी… और मैं गाऊंगा… सारंगा तेरी याद में नैन हुए बेचैन, मधुर तुम्हारे मिलन बिना दिन कटते न ही रैन… इसी तरह की अठखेलियों में हंसते-गाते हमारे दिन बीत रहे थे. सौरभ बहुत ही ज़िंदादिल इंसान था. मैंने उसे जितने क़रीब से देखा था, उससे ऐसा आभास होने लगा था कि हम दोनों एक-दूसरे के लिए ही बने हैं और एक-दूसरे के लिए ही हमारा जन्म हुआ है.

उन दिनों सौरभ और मैं रविन्द्र कॉलेज में बी.ए. अंतिम वर्ष में प़ढ़ते थे. सौरभ एयरविंग में सीनियर डिविज़न में था तथा कॉलेज की विंग का कैप्टन था. बुधवार और शनिवार को एयरविंग की परेड होती थी. उस ड्रेस में वो बहुत अच्छा लगता था और सुबह आते ही मुझे सैल्यूट करता था. उसकी इस हरकत पर पूरी क्लास में हंसी का फव्वारा फूट पड़ता था.

सौरभ कहता था, अवनि, तुम्हारे प्रति एक अनजाना-सा आकर्षण महसूस करता हूं मैं. एक किताब में भी पढ़ा था मैंने कि यूं तो दुनिया में करोड़ों स्त्री-पुरुष हैं, लेकिन किसी विशेष के प्रति हमारा आकर्षण इसलिए होता है, क्योंकि कुछ हार्मोन्स हमें आकर्षित करने के लिए प्रेरित करते हैं- और उससे आकर्षित होने को ही हम कहते हैं कि मुझे उससे प्यार हो गया है. दिल की धड़कनें बढ़ जाती हैं, उसके इंतज़ार में दिन-रात एक हो जाते हैं.

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: पहले प्यार की आख़िरी तमन्ना (Pahla Affair: Pahle Pyar Ki Akhri Tamanna)

फिर सौरभ ने एयरविंग के माध्यम से एयरक्राफ्ट की ट्रेनिंग शुरू कर दी थी. वह छोटे प्लेन उड़ाने लगा था. उसका सपना पायलेट बनकर वायुसेना में जाने का था, जहां वह हिमालय की ऊंची-ऊंची वादियों में उड़ सके. लेकिन जब भी वो प्लेन उड़ाने जाता, मेरा दिल बहुत डरता. एक अनजाने भय से मैं कांप जाती.

इसी बीच हमारे फाइनल ईयर की परीक्षाएं ख़त्म हो गई थीं. सौरभ ने वायु सेना में जाने के लिए फॉर्म भरा था, जिसमें उसका सिलेक्शन भी हो गया था. उस समय वो बहुत ख़ुश था. और बोला था, ङ्गङ्घबस मेरी ट्रेनिंग पूरी हुई, नौकरी लगी कि इसके बाद हमारी शादी पक्की समझो.फफ हमारे घरवालों को भी हमारी पसंद पर कोई ऐतराज़ नहीं था.

उसके जाने के बाद रात-रात मैं सौरभ की कुशलता की कामना किया करती थी. हर पल मन बोझिल-सा रहता था, किसी काम में मन नहीं लगता था.

दिसंबर की ठंडी सुबह थी वो. फ़ोन की घंटी लगातार बज रही थी, बेमन से मैंने फ़ोन का रिसीवर उठाया. फ़ोन कानपुर से था. सौरभ के पिताजी बोल रहे थे, अवनि, एक प्रशिक्षण उड़ान के दौरान सौरभ का प्लेन क्रेश हो गया है… इसके आगे कुछ सुुनने की मेरी हिम्मत नहीं हुई और रिसीवर मेरे हाथ से छूट गया.

सौरभ हम सबसे बहुत ऊंचाई पर पहुंच गया था. इस आकाश, इस ब्रह्मांड से भी ऊपर. एक सुखद स्वप्न की तरह कॉलेज की यादें अब केवल यादें ही रह गई हैं. सौरभ की ज़िंदादिली, हंसमुख स्वभाव इतने सालों के बाद भी ज़ेहन में अपना सुरक्षित स्थान बनाये हुए है.

– अवनि

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: ख़्वाब (Pahla Affair: Khwab)

Pyaar Ki Kahaniya

पहला अफेयर: एक ख़ूबसूरत रिश्ता (Pahla Affair: Ek Khoobsurat Rishta)

रात के अंधेरे में शून्य में ताकती निगाहें… रेलगाड़ी के पहियों की आवाज़ें… जाने क्यों आज मिलकर स्मृतियों में दबी पड़ी हुई परतों को उधेड़कर चलचित्र की भांति चलने लगी थी और विक्रम का मन अपने अतीत को लेकर सोचने लगा… इस दुनिया में कोई ऐसा भी था, जो उसके दर्द को हमेशा उससे पहले ही महसूस कर लेता था. दुनिया में विक्रम ने स़िर्फ उसे ही चाहा और उसके सिवा उसने किसी और की तरफ़ मुड़कर भी नहीं देखा. श्रुति नाम था उसका. दुनिया में सबसे ख़ूबसूरत रिश्ता दोस्ती का होता है और उनका आपस में ऐसा ही रिश्ता था और यह दोस्ती की मिठास में डूबा हुआ था. उनकी वफ़ाएं हमेशा एक-दूसरे के साथ थीं.

श्रुति के साथ कॉलेज में विक्रम का यह तीसरा वर्ष था. हर वर्ष की तरह इस साल भी उनके कॉलेज में वार्षिक समारोह का बड़ा शानदार आयोजन किया जा रहा था, जिसमें उन दोनों को भी भाग लेना था. लेकिन इस बार एक हास्य नाटक में दोनों को 60-65 वर्ष के उम्र के फूफा-फूफी का क़िरदार निभाना था, जिसे करने के लिए कॉलेज में कोई और तैयार नहीं था.

यही वजह थी कि दोनों को अपनी सबसे प्रिय क्लास टीचर सुश्री लता मायकेल के विशेष अनुरोध पर यह रोल करना पड़ा. नाटक के समय दोनों ने अपने रोल्स को इस तरह जीवंत कर दिया था कि पूरे कॉलेज में उनकी चर्चा होने लगी. फिर जब उनकी क्लास के छात्र-छात्राएं श्रुति को ‘फूफी’ कहकर पुकारने लगे, तो इससे नाराज़ होकर श्रुति ने टीचर से इसकी शिकायत कर दी. टीचर ने क्लास के सभी स्टूडेंट्स की परेड ली और सबको आदेश दिया कि जो भी श्रुति को ‘फूफी’ कहते हैं, अपनी-अपनी जगह पर खड़े हो जाएं. इस पर विक्रम को छोड़कर सभी खड़े हो गए.

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: उड़ती हवा का वो झोंका जीना सिखा गया (Pahla Affair: Udti Hawa Ka Wo Jhonka Jeena Sikha Gaya)

टीचर ने पूछा, “विक्रम, तुम श्रुति को ‘फूफी’ कहकर नहीं चिढ़ाते, क्यों?” तब विक्रम ने जवाब दिया, “क्योंकि मैं ‘फूफा’ बना था.” इस पर पूरी क्लास ठहाका लगाकर हंस पड़ी. पूरा रूम ठहाकों से गूंज रहा था और अचानक श्रुति का गुलाबी चेहरा मारे शर्म के लाल होता चला गया… और फिर श्रुति की हालत देख विक्रम मन ही मन शर्मिंदा हुआ. वो अपनी प्रिय दोस्त का सम्मान भी करता था. दोनों में कभी भी किसी भी बात को लेकर कोई विवाद नहीं हुआ था. एक-दूसरे पर उनका अटूट विश्‍वास था.

उन दोनों के परिवार भी मध्यमवर्गीय थे… आज दोपहर में विक्रम की मां ने उसे फोन पर बताया था कि श्रुति के घरवाले श्रुति का रिश्ता लेकर कल उनके घर आनेवाले हैं. अर्थात् उनकी यह दोस्ती अब प्यार व शादी में बदलनेवाली है. इससे पहले विक्रम ने कभी सोचा ही कहां था कि वह श्रुति ही होगी, जो एक दिन उसकी जीवनसंगिनी बनेगी.

अचानक रेलगाड़ी के ब्रेक लगने से उसकी तंद्रा भंग हुई… उसका शहर आ गया था…

शायद प्यार का फूल तो कहीं पनप चुका था… जिसे दोनों दोस्ती की गहरी भावना के बीच महसूस नहीं कर पाए थे, लेकिन दूसरों ने उन्हें इसका एहसास दिला दिया था… उनके पहले प्यार को मंज़िल मिल रही थी, इससे ख़ूबसूरत रिश्ता और क्या हो सकता था.

– प्रांशु राजवानी

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: नीली छतरीवाली लड़की… (Pahla Affair: Neeli Chhatriwali Ladki)

Pyaar Ki Kahaniya

पहला अफेयर: कहीं दूर मैं, कहीं दूर तुम… (Pahla Affair: Kahin Door Main, Kahin Door Tum)

प्रेम, प्यार, रोमांस, इश्क़, मुहब्बत… चाहत से लबरेज़ ये शब्द सुनते ही आंखों में अपने आप कई सपने पलने लगते हैं… गालों पर हया की एक लालिमा-सी छा जाती है… मुझे भी इस इश्क़ के रोग ने छू लिया था. 23 साल की थी मैं. नई-नई नौकरी लगी थी. मेरे साथ ही मेरे सहपाठी अभिनव ने भी जॉइन किया था. अभिनव के विभाग में ही उसका एक

शर्मीला-सा दोस्त था पल्लव. अभिनव से मेरा काफ़ी दोस्ताना व्यवहार था, उसी बीच पल्लव का मुझे चुपचाप देखना, आंखें झुकाकर बातें करना और बहुत ही सली़के से व्यवहार करना बेहद भाने लगा था. पल्लव की यही बातें मुझे बार-बार अभिनव के विभाग की ओर जाने को मजबूर कर देती थीं.

आख़िर मेरी क़िस्मत भी रंग लाई और पल्लव का ट्रांसफर मेरे ही विभाग में हो गया. बेहद ख़ुश थी मैं, हद तो तब हो गई, जब हम दोनों को एक ही प्रोजेक्ट पर काम करने का मौक़ा मिला. अब धीरे-धीरे हमें क़रीब आने का मौक़ा मिला. दोस्ती गहरी हुई और फिर ये दोस्ती प्यार में बदल ही गई. पल्लव ने भी अपने प्यार का इज़हार इशारों-इशारों में कर ही दिया. हां, हमने आपस में कोई वादे नहीं किए थे, पर हमारे प्यार को मंज़िल मिलेगी, यह विश्‍वास हम दोनों को ही था.

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: ऐसा प्यार कहां? (Pahla Affair: Aisa Pyar Kahan)

लेकिन नियति पर कब किसी का ज़ोर चला है. मैंने विभागीय परीक्षा दी थी और उसके लिए भी पल्लव ने ही मुझे प्रोत्साहन दिया था. हमने साथ-साथ तैयारी की. दुर्भाग्यवश पल्लव परीक्षा उत्तीर्ण नहीं कर पाया और मैं पास हो गई थी. विभाग में रिक्त पद होने के कारण मेरा अधिकारी पद पर चयन हो गया था. अगली विभागीय परीक्षा को अभी समय था, मैंने पल्लव का हौसला बढ़ाया, लेकिन अब कार्यक्षेत्र में हमारे बीच दूरी बढ़ गई थी और धीरे-धीरे ये दूरियां हमारे संबंधों में भी बढ़ने लगी थीं. मैंने कई कोशिशें कीं, लेकिन पल्लव के मन में हीनभावना ने घर कर लिया था. वो मुझसे नज़रें चुराने लगा था. दूरी बनाए रखने के प्रयास करने लगा था. कुछ पूछती तो यही कहता कि मैं तुम्हारे लायक ही नहीं.

शायद पल्लव जान-बूझकर मुझसे दूर जाना चाहता था. मेरे सामने दूसरी लड़कियों से बातें करता… मेरा सामना तक नहीं करता था अब वो. मैंने फिर कोशिश की, तो उसने कहा, “मैं चाहता हूं तुम मुझे भूल जाओ, मुझसे घृणा करो, क्योंकि मेरा-तुम्हारा कोई मुक़ाबला नहीं. तुम्हें मुझसे बेहतर जीवनसाथी मिलेगा.”

ख़ैर, घर पर भी मेरी शादी की बातें होने लगी थीं और फिर मैंने भी पल्लव के लिए कोशिशें करनी बंद कर दीं, क्योंकि उसने ख़ुद मुझसे दूर जाने का निर्णय कर लिया था. मेरी शादी हो गई. पति के रूप में बेहद शालीन और प्यार करनेवाला साथी ज़रूर मिला, लेकिन मेरा पहला प्यार तो पल्लव था. कुछ समय बाद पता चला कि पल्लव के पिताजी ने काफ़ी दहेज लेकर एक लड़की से उसकी शादी कर दी. मेरा पहला प्यार दम तोड़ चुका था.

कई वर्षों बाद किसी समारोह में अचानक हमारा आमना-सामना हुआ. साधारण-सी औपचारिक बात के बाद हम दोनों अपनी-अपनी राह
चल दिए…

यूं ही अपने-अपने सफ़र में गुम… कहीं दूर मैं, कहीं दूर तुम… मेरा पहला प्यार स़िर्फ एक छोटे-से मेल ईगो की बलि चढ़ गया था, काश! पल्लव तुमने अपना वो झूठा ईगो छोड़ दिया होता… काश!… लेकिन अब कोई फ़ायदा नहीं यह सोचने का, क्योंकि नियति को यही मंज़ूर था!

– अलका कुलश्रेष्ठ

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: तुम्हारा मुजरिम! (Pahla Affair: Tumhara Mujrim)

प्यार (Love)… किसी के लिए महबूब के साथ ज़िंदगी बिताने का ख़याल है, तो किसी के लिए उसके ख़याल में सारी ज़िंदगी गुज़ार देना. कोई प्यार में जीना चाहता है तो कोई जान तक निसार कर देता है. जनाब प्यार का एहसास ही कुछ ऐसा होता है. एक पल में दुनिया बदल जाती है… बदली हुई फ़िज़ां..बदली हुई रुत… बदला हुआ समा…और तो और चेहरे की रंगत भी… एक गुलाबी निखार… जो बता देता है कि आख़िर आपको प्यार हो ही गया है. लेकिन स़िर्फ प्यार होने से कुछ नहीं होता, माना कि उनसे नज़रें मिलते ही आपका दिल तेज़ी से ध़़ड़कने लगता है, पलकें झुक जाती हैं और चेहरे पर गुलाबी सुर्खी छा जाती है, लेकनि जिससे प्यार हुआ है उससे इसका इज़हार करना भी तो ज़रूरी है, क्योंकि आई लव यू (I Love You) कहना कोई आसान काम नहीं. चलिए, हम आपको बता देते हैं कि प्यार का इज़हार कैसे किया जाए.

Ways To Say I Love You

‘मैं तुम्हें प्यार करता हूं’ मात्र एक वाक्य भी बनकर रह सकता है, अगर उसे सही ढंग से कहना न आए तो! प्यार का इज़हार करने के अनगिनत तरी़के हो सकते हैं. अपने प्रिय से अपनी भावनाओं का इज़हार करते समय कभी भी शब्दों को लेकर न तो कोई कंजूसी करें, न ही स्वयं को सीमित रखें. आपके लिए आपका साथी, आपकी प्रेमिका कितनी ख़ास है, यह जतलाना न स़िर्फ रिश्तों में एक जुड़ाव पैदा करेगा, वरन् इससे जीवन में रोमांस भी बढ़ेगा और त्वचा की रंगत भी… जी हां क्योंकि ये प्यार ही तो है जो चेहरे को सुर्ख गुलाबी निखार देता है.

कुछ यूं कहें दिल की बात-

1. अपने साथी के लिए एक रोमांटिक कविता लिखें. इस बात की चिंता न करें कि उसमें शब्दों और रिद्म का मेल है या नहीं. उसमें ख़ास बात यह है कि उसे आपने लिखा है और वह आपके प्यार की सच्ची अभिव्यक्ति है.

2. आजकल मोबाइल पर एसएमएस के चलन ने प्यार के इज़हार को और भी आसान बना दिया है. अपने साथी को रोमांटिक मैसेज भेजें. हो सकता है यह आपको प्रैक्टिकल न लगे, लेकिन रिश्तों में ख़ुशबू तभी बिखरती है जब फूल खिलाएं जाएं.

3. ये ज़रूरी नहीं कि एक बार प्यार का इज़हार होने के बाद जब रिश्ता जुड़ जाए, पति-पत्नी बन जाएं तो तो फिर आई लव यू कहने की ज़रूरत ही नहीं होती. माना कि आप दोनों के बीच प्यार है, लेकिन समय-समय पर इसे जतलाना भी ज़रूरी है. माना कि हम मुहब्बत का इज़हार नहीं करते. इसका मतलब ये तो नहीं कि हम प्यार नहीं करते. यह बात प्रैक्टिकली लागू नहीं होती.

4. बेशक आप दिन-रात एक ही छत के नीचे गुज़ारते हों, लेकिन कुछ शामें घर से बाहर यह जानने के लिए गुज़ारें कि आपके प्यार की पसंद और आदतें क्या हैं. हर तरह की उलझनों और ज़िम्मेदारियों को कुछ समय के लिए झटक कर उनके साथ एक गुलाबी शाम गुज़ारें यानी उन्हें किसी रेस्तरां या क्लब में जाएं. उसकी आंखों में झांकें और उसके मनपसंद खाने का ऑर्डर देते हुए उसके नखरे उठाएं.

5. आते-जाते यों ही उसे छू लें, बालों पर हाथ फेर दें, आंखों से इशारे करें. शर्म के मारे उनका चेहरा गुलाबी न हो जाए तो कहना.

यह भी पढ़ें: इन 10 तरीक़ों से महिलाएं करती हैं फ्लर्ट (10 Smart Techniques Of Women Flirting)

Romantic Ways To Say I Love You

6. आप एक दिन के लिए किसी होटल में भी अपने साथी के लिए कमरा बुक करा उसे स्पा या मसाज का मज़ा लूटने का मौक़ा दे सकते हैं. कुछ घंटे टब में स्नान करते हुए बिताएं.

7. रोमांटिक फ़िल्म देखने जाएं. उन लम्हों को साथ जीएं. साथ में घर में बैठकर रोमांटिक गाने सुनें. अगर आप दोनों पढ़ने के शौक़ीन हैं, तो एक दोपहर कोई कविता की क़िताब पढ़ते हुए गुज़ारें. ह़फ़्ते में एक दिन तो कम-से-कम उनकी पसंद के फूलों जैसे- रजनीगंधा या गुलाब का बुके अवश्य लाएं, फिर देखिए उनके चेहरे पर कैसे गुलाबों-सा निखार आ जाता है.

8. अक्सर सुनने में आता है कि शादी के कुछ सालों बाद प्यार ख़त्म हो जाता है, पर सच तो यह है कि पति-पत्नी टेक इट फॉर द ग्रांटेड की तर्ज़ पर जीने के आदी हो जाते हैं. बस थोड़ा-सा नयापन, थोड़ा-सा चुलबुलापन उनकी ज़िंदगी में फिर शुरुआती दिनों का प्यार वापस ला सकता है. जगह-जगह जैसे तकिए के नीचे, ऑफ़िस बैग में, लंच बॉक्स, शर्ट की पॉकेट में ‘आई लव यू’ की स्लिप रख दें. यह बचकानापन नहीं है. इन्हें पढ़ तो नाराज़ साथी भी खिल उठेगा.

9. उसे कहें कि ‘तुम जैसे हो मैं तुम्हें उसी रूप में चाहता हूं.’,  ‘तुम्हारा साथ मुझे ख़ुशी देता है.’,  ‘तुम्हारा मेरी ज़िंदगी में आना, मेरी ख़ुशक़िस्मती है.’

ये शब्द प्यार की डोर को और मज़बूत करते हैं. कॉम्पिलमेंट देना प्यार के बंधन को मज़बूत करता है. वह चाहे रोज़ अच्छा दिखता हो, लेकिन फिर भी रोज़ उसकी प्रशंसा करना न भूलें. अगर आलोचना भी करनी हो, तो यह जताएं कि आप ऐसा इसलिए कर रहे हैं, क्योंकि आपको और संवारना-निखारना चाहते हैं. क्या इससे बेहतर कोई और तरीक़ा हो सकता है प्यार करने का?

10. प्यार का इज़हार करने में स्पर्श भी एक अहम् भूमिका निभाता है. अपने साथी के साथ बैठकर उसका हाथ पकड़ें, उसे अपने सीने से लगाएं या साथ चलते हुए हाथ थाम लेना प्यार को व्यक्त करने का सबसे सहज तरीक़ा है. स्पर्श बिना कहे भी बहुत कुछ कहने की ताक़त रखता है. आपकी छुअन प्यार ही तो है और अपने प्यार का एहसास आपको उनकी हसीं गुाबी रंगत से साफ़ झलकता नज़र आएगा. – आप जिसे प्यार करते हैं, उसके साथ अधिक-से-अधिक समय बिताने की कोशिश करें. जैसे- उसके साथ कभी-कभार डेटिंग पर जाएं, लॉन्ग ड्राइव पर निकल जाएं या फिर शॉपिंग करें. अपने साथी को कुछ ऐसी चीज़ें दें, जो उसे अपने ख़ास होने का एहसास कराए और आपके रोमांटिक होने का भी. प्यार स़िर्फ ख़ूबसूरत एहसास ही नहीं, बल्कि जीने की ज़रूरत भी है. यह मन को स्वस्थ रखता है तभी तो चेहरे पर गुलाबी निखार आता है और आप रहती हैं हमेशा
जवां-जवां…

– संजीव

यह भी पढ़ें: कैसे जीतें पति का दिल? (How To Win Your Husband’s Heart?)

यह भी पढ़ें: किस राशिवाले किससे करें विवाह? (Perfect Life Partner According To Your Zodiac Sign)

Pahla Affair

पहला अफेयर: तुम मेरे हो… (Pahla Affair: Tum Mere Ho)

पहले प्यार (FirstLove) का एहसास होता है बेहद ख़ास, अपने फर्स्ट अफेयर (Affair) की अनुभूति को जगाने के लिए पढ़ें रोमांस से भरपूर पहला अफेयर 

उस चेहरे को देखने के बाद गौतम को कभी किसी और चेहरे को देखने की चाह नहीं हुई… उसे पहली बार देखते ही गौतम का मन उसकी ओर जाने लगा था. उसने कभी सोचा भी नहीं था कि कभी कोई पलभर में ही इस तरह अपना हो जाएगा… उसके जीवन की वो सबसे सुहानी और सबसे ख़ूबसूरत सुबह थी… जब वो लड़की अपने कमरे की खिड़की के पास हर बात से बेपरवाह होकर अपनी घनेरी ज़ुल्फ़ों को सुलझाने में व्यस्त थी. उस समय सुबह की शीतल हवा के चंचल झोंके उसके ख़ूबसूरत बालों की महकती ख़ुशबू चुराने की चाह में उन्हें और भी बेतरतीब किए जा रहे थे… उसके भीगे सौंदर्य की लावण्यता और भी निखार पर थी.

फिर अचानक ही गौतम को अपनी ओर देखता पाकर उसकी भृकुटि कुछ तन-सी गई और फिर न जाने क्या सोचकर एकाएक बड़ी मोहक अदा के साथ उसके मदभरे होंठों की लाली एक दिलकश मुस्कान बनकर उसके लबों कर खिल उठी… उस समय गौतम कुछ और भी संशय में पड़ गया था. उसकी आंखों में एक नकली रोष था और अपने एक ख़ास अंदाज़ में वह उसे निरंतर देखे जा रही थी, फिर पलक झपकते ही अचानक वह गायब हो गई.

अभी एक माह पहले ही हमारे घर के ठीक सामनेवाले मकान में एक परिवार रहने आया है. मां ने बताया था कि वे उनके मायके अंबिकापुर से आए हैं. इस परिवार में पांच सदस्य हैं और उनमें शालिनी नाम की बहुत सुंदर उनकी एक बेटी है, जो यहां के आई.आई.एम. कॉलेज में पढ़ रही है. शालिनी की मां के साथ उनका हमेशा एक बहन जैसा अपनापन रहा है और वे दोनों कॉलेज के ज़माने से एक-दूसरे की बहुत अच्छी दोस्त व सहपाठी रही हैं.

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: ये मौसम की बारिश… (Pahla Affair: Ye Mausam Ki Barish)

आज सुबह शालिनी का उसे इस तरह देखने का वो रहस्यमय अंदाज़ अब उसकी समझ में आने लगा था और आज सुबह ही अपने ऑफिस जाने के लिए जब वह घर से निकला, तो उसी समय शालिनी भी बड़े बेबाक अंदाज़ में चलते हुए उसके पास आकर रुकी और अपना दायां हाथ आगे बढ़ाकर उसे अपना परिचय देते हुए कहा, “मैं शालिनी…” तब गौतम ने भी उसके कोमल हाथ को थामकर तुरंत जवाब दिया, “और मैं गौतम…” तब उसका नाम सुनकर उसने शरारत से मुस्कुराते हुए कहा, “अरे, मैंने तो सोचा था आपका नाम अक्षय कुमार या रणबीर कपूर होगा…” तब गौतम ने भी जवाब में कहा, “ज़रूर होता, अगर आपका नाम दीपिका पादुकोण या प्रियंका चोपड़ा होता…” इसके पहले कि वो कुछ कहती, गौतम ने घर की ओर इशारा करते हुए कहा, “जाइए, मां घर पर हैं और आपका इंतज़ार कर रही हैं.” अब गौतम की बारी थी उसे हैरान करने की.

आज ही उसे पता चला था कि शालिनी का प्रतिदिन उसके घर में आना-जाना होता है. गौतम की मम्मी के साथ उसका बड़ा गहरा लगाव था. गौतम की मम्मी शालिनी को बेहद प्यार-दुलार करती हैं. गौतम ने जब अपनी भाभी से शालिनी की बात की, तो उन्होंने कहा, “मेरे प्यारे देवरजी, मम्मी तो उसे अब मेरी देवरानी बनाने जा रही हैं. वो हम सबकी पहली पसंद है.” बस, अब गौतम को कुछ कहने की ज़रूरत ही नहीं थी… इतने में ही शालिनी के खिलखिलाने की आवाज़ उसे अपनी मम्मी के कमरे से आई और वो हंसी सीधे उसके दिल में उतर गई… उसका पहला प्यार हमेशा के लिए उसका होने जा रहा था… गौतम सोचकर मन ही मन मुस्कुरा उठा!

– दिशा राजवानी

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: मेरी क्या ख़ता थी…? (Pahla Affair: Meri Kya Khata Thi?)

प्यार ख़ूबसूरत एहसास है, जो ज़िंदगी को ख़ुशनुमा बना देता है. उस पर मोस्ट रोमांटिक लवर का साथ हो, तो ज़िंदगी का हर लम्हा ख़ास बन जाता है. तब यही ख़्वाहिश रहती है कि ताउम्र यूं ही साथ बना रहे. तो चलिए उन सात राशियों के बारे में जानते हैं, जो बेहद रोमांटिक होती हैं.

Romantic Zodiac Signs

सिंह

–     इस राशिवाले बेहद रोमांटिक व इमोशनल होते हैं.

–     इनकी प्यार की अपनी अलग ही दुनिया होती है, जिसमें वे अपने पार्टनर के अलावा किसी की भी दख़लअंदाज़ी बर्दाश्त नहीं करते.

–     ये अपने प्यारभरे अंदाज़ और उमंग-उत्साह के कारण जीवनसाथी को हमेशा प्रभावित करते हैं.

–     पार्टनर की ख़ुशी, भावनाओं व कंफर्ट का पूरा-पूरा ख़्याल रखते हैं.

–     ये थोड़े फिल्मी भी होते हैं. कभी-कभी प्यार में फिल्मी अंदाज़ में पार्टनर को इम्प्रेस करना इन्हें अच्छा लगता है.

–     इन्हें आदर्श प्रेमी कहलाना पसंद है, क्योंकि इनका हर एक्शन इसी तरह का होता भी है.

मिथुन

–     इन्हेें पहली नज़र का प्यार सबसे अधिक प्रभावित करता है.

–     इस राशि के लोग अपने पार्टनर से डर्टी टॉक करने में माहिर होते हैं.

–     इंटिमेसी के मामले में थोड़ी हिचक बनी रहती है, पर अपने सॉफ्ट लव वाले अंदाज़ में सब संभाल लेते हैं.

–     फ्लर्ट के मामले में इनका कोई मुक़ाबला नहीं, जिससे हर कोई प्रभावित हुए बिना नहीं रहता.

–     अपने फ्लर्टिंग के टैलेंट के चलते जीवनसाथी को भी हमेशा ख़ुश रखते हैं.

–     लेकिन इनकी प्यार की दीवानगी कभी-कभी परेशानी का सबब भी बन जाती है.

मेष

– मेष राशिवाले एनर्जी से भरपूर होने के साथ बेहद रोमांटिक होते हैं.

– चाहत को लेकर इनका बोल्ड अंदाज़ लवर्स को काफ़ी प्रभावित करता है.

– लवमेकिंग के मामले में ये पार्टनर की बजाय ख़ुद ही शुरुआत करना अधिक पसंद करते हैं.

– इनका प्यारभरा अप्रोच पार्टनर को रिलेशन बनाने के लिए प्रेरित करता है.

– प्यार में इनकी पहल इस कदर प्रभावशाली रहती है कि पार्टनर ना नहीं कह पाते.

वृश्‍चिक

– ये लवमेकिंग के मामले में रोमांच व जुनून से भरपूर होते हैं.

– लेकिन ये किसी भी शख़्स के क़रीब तब आते हैं, जब उनसे भावनात्मक रिश्ता मज़बूत हो जाता है.

– इन्हें प्यार में एक्सपेरिमेंट्स करना बहुत अच्छा लगता है.

– इसके लिए ये नए-नए आइडियाज़ अपनाते रहते हैं और पार्टनर को इम्प्रेस करने का कोई भी मौक़ा नहीं चूकते हैं.

– प्यार में विश्‍वास इनके रिश्ते की पहली शर्त होती है. यदि आपसी विश्‍वास नहीं, तो प्यार भी नहीं यानी मुहब्बत में इन्हें ईमानदारी अधिक पसंद है.

यह भी पढें: पति की इन 7 आदतों से जानें कितना प्यार करते हैं वो आपको

Romantic Zodiac Signs

यह भी पढ़ें: ख़िर क्यों बनते हैं अमर्यादित रिश्ते?

वृषभ

– इस राशि के लोग अपने पार्टनर को ख़ुश करने के लिए नए-नए आइडियाज़ खोजते रहते हैं.

– ये रोमांस के साथ-साथ सेक्सुअल रिलेशन को लेकर भी काफ़ी एक्साइटेड व इनोटिव होते हैं, जिसके कारण पार्टनर भी एक्साइटेड

रहते हैं.

– कई बार पार्टनर को रोमांचित करने के लिए हद से आगे भी बढ़ जाते हैं.

– ये प्रेमी हो या लाइफ पार्टनर हर किसी को प्यार में ख़ुश रखने की कूबत रखते हैं.

– इनके जीवन में प्यार ही सब कुछ है. इसके बगैर जीवन की यह कल्पना भी नहीं कर सकते.

कर्क

– इनकी यह ख़ूबी है कि ये अपने पार्टनर की भावनाओं की कद्र करते हैं.

– छोटी-छोटी बातों से प्यार के पल जुटाते हैं.

– कभी-कभी अचानक प्यारभरा सरप्राइज़ देने से भी नहीं चूकते.

– इनका प्यार व जुनून इनकी अनुपस्थिति में भी जीवनसाथी को रोमांचित करता है.

– इनके लिए प्यार के साथ-साथ विश्‍वास भी काफ़ी मायने रखता है.

तुला

–     रोमांस के मामले में ये छुपे रुस्तम होते हैं, क्योंकि इनके स्वभाव को देखते हुए कोई नहीं कह सकता कि ये पर्सनल लेवल पर बेहद रोमांटिक हैं.

–     जीवनसाथी का बहुत ख़्याल रखते हैं और अपने बेपनाह प्यार से उन्हें भावविभोर कर देते हैं.

–     साथ ही पार्टनर की पसंद-नापसंद को भी महत्व देते हैं. ऐसा नहीं कि पार्टनर का मूड नहीं और ये प्यार के पींगे बढ़ा रहे हैं.

–     इनके प्यार की ख़ुमारी का आलम यह होता है कि न दिन देखते हैं, न रात, जब पार्टनर को किसी चीज़ की ख़्वाहिश हुई, उसे जुटाने में रात-दिन एक कर देते हैं यानी ये जुनून की हद तक प्यार करते हैं.

–     पार्टनर के प्रति प्यार में इस कदर वफ़ादार होते हैं कि उनसे अपने जीवन से जुड़ी कोई भी बात नहीं छिपाते हैं.

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़ें: लड़कियों के 15 दिलचस्प झूठ

Dil Ki Baatein, Prempatra
तुम्हें याद है वो बारिश का मौसम, जब मैं तुमसे पहली बार मिली थी. रिमझिम-रिमझिम फुहारें बरस रही थीं रह-रहकर और मैं सड़क के उस ओर खड़ी थी. तुमने चुपके से मेरा हाथ पकड़ा और सड़क पार करके मुस्कुराते हुए चल दिए. पता हैं तब मेरे ह्रदय में मंज़िल फिल्म का गाना बज उठा था- रिमझिम गिरे सावन… लता मंगेशकर की आवाज़ में. मैं खुद को मौसमी चटर्जी और तुम्हें अमिताभ बच्चन समझ रही थी. तुम्हारा कद लम्बा नहीं था, पर तुम्हारे व्यक्तित्व में कुछ बात थी. मैं तुम्हें अपना मानने लगी थी. क्या इसे ही प्यार कहते हैं? चाय कुछ ज्यादा ही मीठी बनने लगी थी और मेरी दुनिया सपनीली होने लगी थी. मुझे नया-नया सोशल नेटवर्किंग करने का चस्का लगा था. और ये क्या तुम मुझे मिल गए थे… बिना नाम जाने? अरे, मैंने तुम्हें अपना अमिताभ माना था. कितने प्यारे लगते हैं ना अमिताभ बच्चन-जया बच्चन इस गाने में- लूटे कोई मन का नगर… गाने में. लगता हैं कितना प्यार उड़ेल दिया था दोनों ने निगाहों में. तुम कहोगे कि मैं कितनी फ़िल्मी बातें करती हूं न? पर पता है मैंने यह गाना सुनाने के लिए कितना रियाज़ किया था. बस तुम्हारे लिए. तुम नाराज़ हुए थे. मैंने भी सोचा था कि एक गाने पर इतना नाराज़. मैं तुमसे कभी बात नहीं करूंगी, पर मैं भी तो अच्छी लगती थी न तुम्हें. तुमने जानने के लिए कॉल किया था कि मैं अब तक नाराज़ हूं, पर मैं कहां नाराज़ रह पाती. तुम्हारी कवितायें सब मैंने पढ़ी थी. मुझे पता था ये मेरे लिए नहीं लिखी गई थी, पर मैंने उसे अपना मानकर ही पढ़ा. पता है, आज फिर बारिश का मौसम हैं… मैं यहां घर पर हूं और तुम दिल्ली… तुम्हारे साथ बारिश में भीगने का मन है, जैसे आशिकी 2 में भीगते हैं न… तुम कहोगे मैं फिर फ़िल्मी हो रही हूं, पर मन का क्या करें… मन तो बेचैन हैं… तुमसे मिलने को बेचैन…

तुम्हारे इंतज़ार में,
तुम्हारी जीवनसंगिनी

– श्रुति

मेरी सहेली वेबसाइट पर श्रुति की भेजी गई रचना को हमने अपने वेबसाइट पर प्रकाशित किया है. आप भी अपनी शायरी, गीत, ग़ज़ल, लेख, कहानियों को भेजकर अपनी लेखनी को नई पहचान दे सकते हैं…

यह भी पढ़े: Shayeri