safe holi

रंगों का त्योहार होली इस साल थोड़ा अलग होगा. कोरोना के चलते होली खेलने पर सरकार ने तो कई तरह की पाबंदियां लगाई ही हैं, आपको अपनी तरफ से भी कुछ एहतियात बरतने होंगे, ताकि सेफ्टी में किसी तरह की कोई गलती न होने पाए और आप व आपका परिवार सुरक्षित रहे, हेल्दी रहे.

– सबसे बेहतर तो यही है कि आप घर के अंदर खेलें. तमाम बॉलीवुड स्टार्स भी अपने फैन्स से यही अपील कर रहे हैं कि इस बार होली का त्योहार घर में ही मनाएं. इससे वायरस फैलने का रिस्क नहीं होगा.

Covid Safe Holi



– अगर किसी के घर जा ही रहे हैं तो मास्क ज़रूर पहनें और अपने साथ सैनिटाइजर कैरी करना न भूलें.

– लोगों को गले लगाने, हाथ मिलाने या किसी भी तरह के फिजिकल कॉन्टैक्ट से बचने की कोशिश करें.

– खासतौर से रंग लगाने के लिए लोगों के चेहरे छूने से बचें.

– वॉटर कलर से दूर रहें. मास्क को गीला होने से बचाएं, क्योंकि एक बार गीला हो जाने के बाद मास्क आपको उतनी सुरक्षा नहीं देता.

Sunny Leone


– यदि आपको या किसी को भी सर्दी-जुखाम या बुखार जैसे लक्षण दिखाई दें, तो बेहतर होगा कि वो खुद को आइसोलेट रखे और होली खेलने से बचे. इससे किसी और को इंफेक्शन होने का खतरा नहीं रहेगा.

– भीड़-भाड़ से बचें. घर पर भी ज़्यादा लोगों का आना-जाना टालें. वायरस के खतरा को कम करने के लिए फिलहाल ये बेहद ज़रूरी है.

– फीजिकल डिस्टेंसिंग का पालन करें. सुरक्षित दूरी बनाए रखें.

Covid Safe Holi

– घर आने वाले मेहमानों को पहले सैनिटाइज करें और उन्हें अच्छे से हाथ धोने के लिए कहें. ये आपकी और उनकी दोनों की सुरक्षा के लिए ज़रूरी है.

– उनके चेहरे को छूकर उन्हें रंग लगाने से या उन पर रंगों की बौछार करने से बचें. उचित सामाजिक दूरी बनाए रखें.

– ध्यान रखें कि जिस कमरे में आप बैठे हैं, वहां क्रॉस वेंटिलेशन की व्यवस्था हो.

– खिड़कियां खुली रखें, ताकि ताजी हवा में आ सके. कोशिश करें कि एसी बंद ही हो.

– खाने की कोई भी चीज़ छूने से पहले हाथ धोना या सैनिटाइज करना न भूलें.

– बाहर का खाने से बचें. घर पर ही मनपसन्द डिश बनाकर खाएं. ये सुरक्षित भी रहेगा और आपको बीमारी से बचाएगा भी.

– बेवजह की भीड़ करने से बचें और केवल अपने करीबियों के साथ ही होली सेलिब्रेट करें.

Kiara Advani


– सोशल गैदरिंग से बचें क्योंकि यदि कोई संक्रमित है,तो उससे वह वहां मौजूद लोगों में संक्रमण फैला सकता है.

– इस बार होली रंगों से खेलने की बजाय एक-दूसरे को बधाई दें. प्यार के रंग इस्तेमाल करें. स्वीट देकर होली विश करें. इससे सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर पाएंगे आप.

होली (Holi) मस्ती का, रंगों का और प्यार का त्योहार होता है. गिले-शिकवे भुलाने का और सबको अपना बनाने का इससे बेहतर मौक़ा शायद दूसरा नहीं होता. लेकिन इस रंग में भंग भी पड़ सकता है, अगर आपने सावधानी नहीं बरती तो. एक समय था, जब फूलों से या प्राकृतिक रंगों से होती खेली जाती थी. लेकिन जबसे केमिकलवाले रंगों (Chemical Colours) का चलन बढ़ा है, तब से स्किन प्राब्लम्स (Skin Problems) भी बढ़ी हैं. के. जे. सोमाया हॉस्पिटल (K J Somaya Hospital) के डर्मैटोलॉजी डिपार्टमेंट की प्रोफेसर और हेड डॉ. शीतल पुजारे बता रही हैं स्किन प्रॉब्लम्स से जुड़ी ज़रूरी बातें.

 

Play Safe Holi

– आर्टिफिशियल कलर्स में काफ़ी केमिकल्स होते हैं, जैसे- ब्लैक में लेड ऑक्साइड, ग्रीन में कॉपर सल्फेट, सिल्वर में एल्युमीनियम ब्रोमाइड, ब्लू में कॉबाल्ड नाइट्रेट, ज़िंक सॉल्ट्स और रेड में मरक्यूरि सल्फेट.
– इसके अतिरिक्त उनकी चमक बढ़ाने के लिए उनमें माइका डस्ट और ग्लास पार्टिकल्स भी मिलाए जाते हैं.
– ये तमाम चीज़ें त्वचा पर काफ़ी बुरा प्रभाव डालती हैं. आपको खुजली, त्वचा की ऊपरी परत निकलना, त्वचा का ड्राई होना और स्किन अल्सर तक हो सकता है.
– ये रंग आसानी से नहीं छूटते और स्किन पर व बालों में जम जाते हैं.
– अगर आपको पहले से ही त्वचा की कोई समस्या है, तो वो भी बढ़ सकती है. पिंपल्स से लेकर एक्ज़िमा की तकलीफ़ गंभीर हो सकती है.
– स्काल्प में जमा होने पर ये रंग हेयर फॉल को बढ़ा सकते हैं.
– आंखों में जलन-खुलजी हो सकती है. सांस की तकलीफ़ बढ़ सकती है.

यह भी पढ़ें: मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ। मैं शिव हूँ।

कैसे बचें इन रंगों के प्रभाव से?
– सबसे बेहतर उपाय है कि नेचुरल रंगों का प्रयोग करें.
– यदि यह संभव न हो, तो होली खेलने से पहले त्वचा और बालों पर तेल लगा लें.
– नाख़ूनों को छोटा रखें, ताकि रंग उनमें न जम सकें और नेल इनामिल लगाएं, जिससे रंगों से बचाव हो सके.
– आई वेयर आंखों को बचाने का बेहतर तरीक़ा है, यदि आंखों में रंग चला जाए, तो फ़ौरन पानी से आंख धोएं.
– कलर को छुड़ाने के लिए त्वचा को ज़ोर-ज़ोर से न रगड़ें. धीरे-धीरे रंग हल्के पड़ते जाएंगे.

किन स्थितियों में लें एक्सपर्ट की मदद?
– यदि आपको अत्यधिक स्किन एलर्जी, रेडनेस और खुजली बढ़ गई हो.
– अगर चेहरे पर सूजन आ गई हो.
– अगर सांस लेने में तकलीफ़ हो रही हो.
– बाल बहुत ज़्यादा झड़ने लगें या एक्ने एकदम से बढ़ जाएं.
– होंठों व नाख़ूनों का रंग नीला पड़ गया हो.

यह भी पढ़ें: मुंहासों से छुटकारा दिलाते हैं 10 आसान घरेलू उपाय

Holi

होली के रंगारंग मौसम को बिंदास तरी़के से मनाने में ही आनंद आता है. पूरे देश में होली के दिन जो धूम दिखती है, उसका कोई जवाब नहीं. होली के दिन किसी तरह की रोक-टोक नहीं होती, इसीलिए तो कहते हैं कि बुरा न मानो होली है. होली में दुश्मनी भुलाकर एक-दूसरे के साथ रंग खेलने का लुत्फ़ सभी उठाते हैं, लेकिन होली के बाद लोगों को कई तरह की परेशानियां होने लगती हैं. इसका एक कारण है होली को सुरक्षित तरी़के से न मनाना. चलिए हम आपको बताते हैं कि कैसे खेलें सेफ होली.

गुलाल से खेलें होली
तरह-तरह के रंगों की बजाय गुलाल से होली खेलना ज़्यादा सुरक्षित है. ये आसानी से निकल जाते हैं और चेहरे पर किसी तरह का प्रभाव नहीं छोड़ते. गुलाल से होली खेलना हमेशा बेहतर माना जाता है, लेकिन कुछ लोग रंगों के बिना होली को अधूरा मानते हैं. आप भी अगर उनमें से एक हैं, तो ज़रा बचकर खेलिए होली. बेहतर होगा कि आप भी दूसरों की तरह बदलें और रंगों की बजाय गुलाल से खेलें होली.

Holi

आंखों का रखें ख़्याल
होली में मदहोश होकर रंग खेलने की ज़रूरत नहीं है. दोस्तों को देखा नहीं, कि पीछे से दौड़ पड़े बाल्टी का रंग लेकर उस पर डालने. ज़रा सोचिए इस तरह से रंग उसकी आंखों में जा सकता है और आंखों में जलन हो सकती है. आप इस तरह की होली खेलने से बचें. आप ख़ुद जब अपनी टोली के साथ होली खेलने निकलें, तो गॉगल्स लगाकर जाएं. इससे आपकी आंखें सेफ रहेंगी.

Holi

चेहरे पर रंग न लगाएं
आजकल रंगों में केमिकल्स के साथ ही मिट्टी, पत्थर के छोटे-छोटे टुकड़े और कई बार तो ग्लास के टुकड़े भी मिले होते हैं. रंगों की मात्रा बढ़ाने के लिए दुकानदार ऐसा करते हैं. कई मामलों में देखा गया है कि जब इस तरह के रंग चेहरे पर लगाएं जाते हैं, तो चेहरे पर जलन और कई बार तो चेहरे पर छोटे-छोटे कट्स भी हो जाते हैं. ख़ून बहने लगता है. इस तरह की होली खेलने का क्या फ़ायदा.

होली खेलने से पहले करें ऑयल मसाज
होली खेलने एक बार आप निकल गए, तो फिर बच नहीं सकते, इसलिए होली खेलने से पहले ही पूरी बॉडी को ऑयल मसाज दें. हो सके, तो नारियल का तेल या ऑलिव ऑयल से बॉडी मसाज करें. इससे रंग छुड़ाते समय आसानी होगी.

Holi

नेचुरल तरी़के से खेलें होली
ईको होली भी आप खेल सकते हैं. कई जगह रंगों की बजाय फूलों की होली खेली जाती है. आप भी फूलों की होली खेलें. फूलों से होली खेलने पर किसी तरह का नुकसान नहीं होता. इससे न तो पानी की बर्बादी होती है और न ही त्वचा संबंधी कोई परेशानी. आप पूरी तरह से सुरक्षित रहते हैं.

स्मार्ट टिप्स

  • होली खेलते समय इस बात का ध्यान रखें कि ऑयल कलर यूज़ न करें.
  • बालों में अच्छी तरह से तेल लगाकर ही जाएं.
  • हो सके, तो बालों को खुला छोड़ने की बजाय लूज़ पोनी टेल या प्लेट्स बनाएं.
  • पानी वाले रंग से होली खेलने की बजाय गुलाल से होली खेलें.
  • होली में भांग का सेवन ज़्यादा न करें.
  • अगर आप बीच पार्टी में होली एंजॉय कर रहे हैं, तो शराब, भांग आदि से बचें.
  • होली में फुल कपड़े पहनकर ही खेलें. इससे आपकी त्वचा रंगों से बची रहती है.
×