Salary

सोशल मीडिया के दौर में जहां एक-दूसरे से कनेक्ट होना हर किसी के लिए बेहद आसान हो गया है तो वहीं विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मों के दुरुपयोग की कई ख़बरें भी सामने आ चुकी हैं. खासकर, कोरोना काल में फेक ख़बरें और गलत जानकारियां जंगल में आग की तरह सोशल मीडिया पर न सिर्फ फैलाई जा रही हैं, बल्कि इनके ज़रिए आम लोगों को भ्रमित भी किया जा रहा है. आए दिन सोशल मीडिया पर कई ऐसी फेक ख़बरें वायरल होती हैं, जिनसे लोगों में भ्रम की स्थिति पैदा हो जाती है. इसी कड़ी में एक ख़बर सोशल मीडिया पर सुर्खियां बटोर रही है, जिसमें दावा किया गया है कि अगले साल यानी 2021 से सरकारी कर्मचारियों की सैलरी में कटौती की जाएगी यानी उन्हें कम सैलरी दी जाएगी.

बताया जा रहा है कि श्रम कानून में परिवर्तन होने के कारण अगले साल से सरकारी कर्मचारियों की सैलरी कम हो जाएगी. इस ख़बर के वायरल होने से लोगों में भ्रम की स्थिति बन गई. इससे पहले कि आप भी इस खबर को सच मानकर इस पर भरोसा कर बैठें, हम आपको बता दें कि प्रेस इन्फॉर्मेशन ब्यूरो यानी पीआईबी फैक्ट चेक ने इस खबर की सच्चाई कुछ और ही बताई है, जिसके बारे में आपको पता होना चाहिए.

Salaries of Government Employees

वायरल खबर में दावा- पीआईबी फैक्ट चेक ने अपने ऑफिशियल ट्विटर हैंडल पर पोस्ट शेयर करते हुए इस वायरल ख़बर की सच्चाई बताई है. पीआईबी फैक्ट चेक में बताया गया है कि एक अखबार की ख़बर में दावा किया जा रहा है कि श्रम कानून में परिवर्तन होने की वजह से अगले साल सरकारी कर्मचारियों की सैलरी कम हो जाएगी.

दावे की हकीकत- पीआईबी फैक्ट चेक ने इस ख़बर को फेक बताते हुए कहा है कि यह दावा बिल्कुल फेक है, क्योंकि वेतन विधेयक 2019 केंद्र और राज्य सरकार के कर्मचारियों के लिए लागू नहीं होगा. इसका मतलब यह है कि अगले साल से सरकारी कर्मचारियों का वेतन नहीं घटेगा.

बता दें कि इस तरह की ख़बरें आए दिन अलग-अलग सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर आती हैं, जिनकी सच्चाई को लोगों तक पहुंचाने और सत्यता को जांचने के लिए पीआईबी फैक्ट चेक करती है. इसके ज़रिए लोगों तक सोशल मीडिया पर वायरल होने वाली फेक ख़बरों और गलत जानकारियों की सच्चाई पहुंचाई जाती है.

इसके साथ ही लोगों से लगातार अपील भी की जाती है कि वो सोशल मीडिया पर वायरल होने वाली किसी भी ख़बर या जानकारी पर भरोसा करने से पहले उसकी सच्चाई की जांच कर लें और बिना सोचे-समझे इस तरह के संदेशों को फॉरवर्ड या शेयर करने से भी बचें.

Fitness Trainer

ओलंपिक का ख़ुमार लोगों पर सिर चढ़कर बोल रहा है. बात चाहे खिलाड़ियों की हो, प्रशंसकों की या फिर खेल प्रेमियों, सब पर ओलंपिक का क्रेज़ साफ़ देखने को मिल रहा है. ऐसे में आप भी अगर खेल जगत में नाम कमाना चाहते हैं, तो चलिए हम आपको बताते हैं एक बेहतरीन उपाय. खिलाड़ियों के पर्सनल ट्रेनर के रूप में चमकाइए अपना करियर.

क्या है फिटनेस ट्रेनर?
ख़ुद फिट रहने के साथ-साथ दूसरों को फिट रखने की काबिलियत ही फिटनेस ट्रेनर का काम है. फिटनेस फिजिक को फ्लेक्सिबल बनाने और एक्सरसाइज़ से शरीर का वज़न कम करने में अहम् भूमिका निभाता है. ये प्रोफेशनली ट्रेंड ट्रेनर होते हैं. इन्हें ह्यूमन एनाटॉमी की जानकारी होती है.

एज्युकेशनल स्किल
अगर आप फिटनेस ट्रेनर के रूप में करियर बनाना चाहते हैं, तो कम से कम बारहवीं पास होना बहुत ज़रूरी है. उसके बाद आप आगे की पढ़ाई कर सकते हैं. ग्रैज्युएशन और पोस्ट ग्रैज्युएशन के बाद भी आप इस फील्ड में आगे बेहतरीन करियर बना सकते हैं.

पर्सनल इंटरेस्ट
पढ़ाई के साथ-साथ पर्सनल इंटरेस्ट होना बहुत ज़रूरी है. आपका ध्यान अगर स़िर्फ ओलंपिक या ऐसे ही गेम्स को देखकर फिटनेस ट्रेनर बनने का शौक़ चढ़ता है और बाद में आप इसे भूल जाते हैं, तो ये फील्ड आपके लिए नहीं है. नई-नई तकनीक, एक्सरसाइज़ से जुड़ी बातें, दिन-रात काम करने का जज़्बा आदि होना बहुत ज़रूरी है.

नौकरी के हज़ार ऑप्शन
क्या आप जानते हैं कि फिटनेस ट्रेनर बनते ही आपके पास नौकरी के कई विकल्प आ जाते हैं. स्पोर्ट्स कोच, फिजिकल थेरेपिस्ट, एथलीट ट्रेनर
आदि बनकर करियर को नई ऊंचाई दे सकते हैं.

सैलरी पैकेज
शुरुआती दौर में फिटनेस ट्रेनर के तौर पर 10-15 हज़ार रुपये हर माह कमा सकते हैं. अनुभव होने के साथ-साथ आप हर घंटे का 10 हज़ार कमा सकते हैं.

प्रमुख संस्थान

  • गोल्ड जिम यूनिवर्सिटी, मुंबई
  • तलवॉकर्स एकेडमी, मुंबई
  • तमिलनाडु फिजिकल एजुकेशन एंड स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी, तमिलनाडु
  • अमेरिकन कॉलेज ऑफ स्पोर्ट्स मेडिसिन
  • के 11 फिटनेस एकेडमी, मुंबई

फिटनेस ट्रेनर का काम

  • लोगों को फिटनेस की बारीकियां बताना.
  • फिटनेस टारगेट तय करना.
  • लोगों के लाइफस्टाइल और उम्र के हिसाब से फिटनेस शेड्यूल बनाना.
  • सही फिटनेस के लिए एरोबिक्स, किक बॉक्सिंग, योग, पाइलेट्स, स्पिनिंग, कराटे, स्पिन साइक्लिगं, वेट लिफ्टिंग आदि को ही इस्तेमाल में लाया जाता है.
  • ज़रूरत के हिसाब से एक्सरसाइज़ का प्रशिक्षण देना.
  • डायट चार्ट बनाना.

नेम विद फेम
अगर आपको ऐसा लगता होगा कि फिटनेस ट्रेनर में कमाई नहीं है, तो आप पूरी तरह से ग़लत सोच रहे हैं. यह एक ऐसा क्षेत्र है, जहां शुरुआत से ही पैसा कमाना शुरू कर देते हैं आप, वो भी हैंडसम अमाउंट. अनुभव होने के साथ-साथ धीरे-धीरे आपका नाम होता है और आप बड़ी-बड़ी पर्सनालिटी के पर्सनल ट्रेनर बनकर ख़ूब नेम-फेम कमाते हैं.

पॉप्युलर फिटनेस ट्रेनर

  • शंकर बसु (विराट कोहली)
  • रामजी श्रीनिवासन (शरत कमल)
  • आदित्य चौधरी (सिद्धार्थ मल्होत्रा)
  • यास्मिन कराचिवाला (कटरीना कैफ़)
  • पायल गिडवानी (करीना कपूर)

– श्वेता सिंह