Tag Archives: severe vomiting

Personal Problems: प्रेग्नेंसी में बहुत ज़्यादा उल्टियां हों तो क्या करें? (What Can I Do For Sever Vomiting In Pregnancy?)

मुझे डेढ़ महीने का गर्भ (Pregnancy) है, पर मुझे बहुत ज़्यादा उल्टियां (Vomiting) हो रही हैं. मुझे समझ में नहीं आ रहा है कि क्या करूं? कृपया सलाह दें.
– वृंदा धवन, रोहतक.

अगर आपको बहुत ज़्यादा उल्टियां हो रही हैं, तो आपको तुरंत डॉक्टर को मिलना चाहिए. डॉक्टर यूरिन टेस्ट के ज़रिए जांच करेंगे कि यूरिन में कीटोन्स तो नहीं, अगर ऐसा हुआ, तो आपको एडमिट करके आईवी फ्लूइड दिया जाएगा. इसके साथ ही वो आपको कुछ दवाइयां भी दे सकते हैं. वैसे 3 महीनों के बाद यह समस्या अपने आप कम हो जाती है, पर फिर भी ऐसे में आपको हर 2-3 घंटों में कुछ खाना चाहिए. सुबह-सुबह चाय-कॉफी या चॉकलेट से बचें. ठंडा दूध पीएं.

यह भी पढ़ें: Personal Problems: व्हाइट डिस्चार्ज से पीरियड्स जैसा पेटदर्द होता है (What Is Causing White Discharge With Menstrual Cramps?)

Vomiting In Pregnancy

मैं 38 वर्षीया महिला हूं. मेरी पिछली डिलीवरी हॉस्पिटल पहुंचने से पहले घर पर ही हो गई थी, जिसके बाद से ही मुझे पीठदर्द और शरीर के निचले हिस्से में भारीपन महसूस हो रहा है. डॉक्टर के मुताबिक़ मेरा गर्भाशय और यूरिनरी ब्लैडर का कुछ हिस्सा नीचे की ओर खिसक गया है. मैं सर्जरी नहीं करवाना चाहती, इसलिए उन्होंने मुझे रिंग पेसरी इंसर्ट करवाने की सलाह दी है, पर इसे हर 3 महीने में बदलना होगा. मुझे क्या करना चाहिए? आप क्या सलाह देंगी.
– मोहिनी राव, नोएडा.

आपके द्वारा बताए लक्षणों से लग रहा है कि आपको गर्भाशय व यूरिनरी ब्लैडर का प्रोलैप्स हुआ है. जैसा कि आपने बताया रिंग पेसरी आपकी समस्या का एक अस्थायी विकल्प है, जो गर्भाशय को उसकी जगह पर वापस पहुंचा देता है, पर इसे हर 3 महीने में या इंफेक्शन होने पर निकलवाना पड़ता है. सर्जरी इसका स्थायी इलाज है, पर चूंकि आप सर्जरी नहीं करवाना चाहतीं, इसलिए इसे ट्राई कर सकती हैं.

यह भी पढ़ें:  पीरियड्स देरी से आने के क्या कारण हो सकते हैं? (What Could Be The Reasons For Delayed Periods?)
rajeshree kumar
डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

 

 

 

 

हर बीमारी का आयुर्वेदिक उपचार  उपाय जानने के लिए इंस्टॉल करे मेरी सहेली आयुर्वेदिक होम रेमेडीज़ ऐप

पर्सनल प्रॉब्लम्स: क्या प्रेग्नेंसी में बहुत ज़्यादा उल्टियां होना नॉर्मल है? (Is Severe Vomiting Normal During Pregnancy?)

problems in Pregnancy
मैं 40 वर्षीया कामकाजी महिला हूं. मैं यह जानना चाहती हूं कि मेरे लिए इस उम्र में कौन-से टेस्ट्स करवाने ज़रूरी हैं?
– पल्लवी राणा, इंदौर.

किसी भी हेल्थ प्रोफेशनल से आप अपना जनरल चेकअप करवा सकती हैं, जिसमें ब्लड प्रेशर, पल्स रेट, चेस्ट व हार्ट की जांच के अलावा सिर से पैर तक की जांच की जाती है. इसके साथ ही पैप स्मियर टेस्ट व पेल्विक की जांच भी ज़रूर करवाएं. अगर कुछ डिटेक्ट हुआ, तो आपको सोनोग्राफी भी करानी पड़ सकती है. इसके अलावा साल में एक बार बेसिक एक्ज़ामिनेशन, जैसे ब्लड टेस्ट, लिपिड प्रोफाइल, लिवर और किडनी प्रोफाइल, चेस्ट एक्स-रे और ईसीजी ज़रूर करवाएं. अगर आप फिट और हेल्दी हैं, फिर भी हर साल आंख और दांत की जांच ज़रूर करवाएं.

यह भी पढ़ें: शारीरिक संबंध के बाद १-२ दिन तक ब्लीडिंग क्यों होती है?

 ulti
मैं 24 वर्षीया महिला हूं और पहली बार कंसीव किया है. मुझे डेढ़ महीने का गर्भ है. सब कहते हैं कि पहले तीन महीने उल्टियां होती ही हैं. पर मुझे बहुत ज़्यादा उल्टियां हो रही हैं. मुझे समझ में नहीं आ रहा कि मैं क्या करूं? कृपया, उचित सलाह दें.
– रश्मि सिंह, झांसी.

अगर आपको बहुत ज़्यादा उल्टियां हो रही हैं, तो आपको तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिए. डॉक्टर यूरिन टेस्ट के ज़रिए जांच करेंगे कि यूरिन में कीटोन्स तो नहीं. अगर ऐसा हुआ, तो आपको एडमिट करके आईवी फ्लूइड दिया जाएगा. इसके साथ ही वो आपको कुछ दवाइयां भी दे सकते हैं. वैसे 3 महीने के बाद यह समस्या अपने आप कम हो जाती है, पर फिर भी ऐसी स्थिति में आपको हर दो-तीन घंटों में कुछ खाना चाहिए. सुबह-सुबह चाय-कॉफी या चॉकलेट से बचें. इसकी बजाय आप ठंडा दूध पीएं.

यह भी पढ़ें: नसबंदी ओपन करानेवाली सर्जरी की सफलता के कितने चांसेस हैं?

प्रेग्नेंसी में उल्टी के लिए होम रेमेडीज़ 

  • सुबह सोकर उठने पर सबसे पहले घूंट-घूंट कर थोड़ा पानी पीएं.
  • अदरक की चाय बनाकर पीएं या अदरक का एक टुकड़ा मुँह में रखें.
  • उल्टी में नींबू काफ़ी फायेदमंद साबित होता है. नींबू पानी में शहद मिलाकर पीएं. आप चाहें तो नींबू के तेल की कुछ बूंदें रुमाल में छिड़कें और जब भी उल्टी जैसा लगे तो उसे सूंघती रहें.
  • सौंफ भी इसमें काफ़ी कारगर सिद्ध होती है. आप चाहें तो सौंफ को यूँ ही फांकें या फिर १ कप पानी में उबालकर उसमें नींबू का रस और शहद मिलाकर पीएं.

 

यह भी पढ़ें: क्या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान गर्भनिरोधक की ज़रूरत नहीं पड़ती?

rajeshree-kumar-167x250
डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected] 

 

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

 

महिलाओं की ऐसी ही अन्य पर्सनल प्रॉब्लम्स पढ़ें