Tag Archives: Sex

प्यार, सेक्स, कमिटमेंट… कितना बदला रिश्ता! (Love, Sex, Commitment- Changing Concepts Of Relationship)

एक लफ़्ज़, जिसकी पाकीज़गी को शिद्दत से महसूस किया जाता था… प्यार! एक एहसास, जिसे मुहब्बत के ख़ूबसूरत स्वरूप के रूप में साकार किया जाता था… सेक्स! एक अनकहा साथ, जिसे ताउम्र ही नहीं, सात जन्मों का बंधन कहा जाता था… कमिटमेंट! लेकिन समय के साथ और बदलते परिवेश ने इन तमाम शब्दों की परिकल्पना और हक़ीक़त को पूरी तरह से बदल डाला है. आज के संदर्भ में प्यार का मतलब आकर्षण! आज की तारीख़ में सेक्स का मतलब शारीरिक भूख! आज के युग में कमिटमेंट का मतलबमहज़ बेव़कूफ़ी!

Relationship

बदलते समाज की बदलती तस्वीर...

जी हां, यही सच्चाई है कि रिश्तों को सार्थक व पूर्ण करते इन तीनों शब्दों का अर्थ आज पूरी तरह बदल चुका है. बीते व़क्त की बात करें, तो काफ़ी कुछ सहज था. सबके काम व ज़िम्मेदारियां भी बंटी हुई थीं. रिश्तों को लेकर भी मर्यादा व अनुशासन था. प्यार को पवित्र अर्थों में देखा जाता था. जिससे प्यार किया, उसके साथ ही सेक्स करने की बात सोची जाती थी और उसी के साथ शादी के बंधन में बंधकर ज़िंदगीभर उस रिश्ते को प्यार से निभाने का संकल्प भी लिया जाता था.

लेकिन आज ऐसा नहीं है. प्यार को लोग महज़ आकर्षण समझते हैं, जो तब तक ही निभाया जाता है, जब तक कि यह आकर्षण एक-दूसरे के प्रति बरक़रार रहता है. सेक्स के लिए भी अब कमिटेड रिश्ते में बंधने की ज़रूरत नहीं है. सेक्स तो शरीर की डिमांड है, जब ज़रूरत हो, तब कर लो. अगर पार्टनर साथ नहीं है, तो जो मन को भा जाए, उसके साथ कर लो. यही हाल कमिटमेंट का है कि रिश्ते तो बनाते हैं लोग, पर नो गारंटीवाले रिश्ते. कब तक चलेंगे, कह नहीं सकते.

इन रिश्तों और शब्दों के मायने बदलने के कई कारण हैं…

–     हमारा समाज बदल चुका है और उसी के साथ लोगों की सोच भी.

–     अब लोग कमिटमेंट करना ही नहीं चाहते, क्योंकि उन्हें ख़ुद नहीं पता होता कि रिश्ता कब तक चलेगा और कितना टिकेगा.

–     लाइफ फास्ट हो गई है और इस बदलती लाइफस्टाइल का सबसे ज़्यादा असर हमारे रिश्तों पर ही पड़ रहा है.

–     पहले एक-दूसरे के लिए पार्टनर्स एडजेस्टमेंट्स करते थे, अपनी चाहतों को छोड़कर पार्टनर की ख़्वाहिश को पूरा करने की कोशिशें करते थे. उसके सपनों में ही अपने ख़्वाबों को साकार होता देखते थे… और यह सब वो ख़ुशी-ख़ुशी करते थे.

–     वहीं अब सभी लोग सेल्फ सेंटर्ड होते जा रहे हैं. अपनी ख़ुशी, अपने सपने, अपनी ख़्वाहिशें… भले ही वो रिश्ते में भी हों, पर वहां भी अपनी-अपनी अलग ज़िंदगी ही जी रहे होते हैं.

–     स्पेस के नाम पर एक तय दूरी बनाए रखते हैं. कोई किसी के फोन को, ईमेल को या लैपटॉप को खोल नहीं सकता.

–     एक-दूसरे के पासवर्ड्स नहीं पता होते. एक-दूसरे के सोशल मीडिया अकाउंट्स के बारे में ज़्यादा कुछ नहीं पता होता.

–     ऐसे में कमिटमेंट और प्यार की जगह ही कहां बचती है.

–     रही सेक्स की बात, तो अब सेक्स को लेकर भी बहुत कैज़ुअल हो गए हैं. आजकल ज़रूरी नहीं कि पार्टनर के साथ ही सेक्स हो.

–     ज़रूरी नहीं कि शादी के बाद ही सेक्स हो.

–     क्योंकि शादी तक कौन इंतज़ार करे और क्या पता शादी कब और किससे हो?

यह भी पढ़ें: कंडोम न इस्तेमाल करने के बहाने, आपका बहाना क्या है? (Ridiculous Excuses By Men For Not Using Condoms)

Couple Goals

–     ऐसे में सेक्स के एहसास से अछूता क्यों रहा जाए?

–     एक्सपोज़र इतना बढ़ गया है कि आजकल सब कुछ आसानी से उपलब्ध है.

–     बच्चों की परवरिश के तौर-तरी़के भी बदल गए हैं.

–     पैरेंट्स की सोच बदल गई है, तो भला संस्कार भी पहले जैसे कैसे रहेंगे, उनमें भी बदलाव लाज़िमी है.

–     फ्री सेक्स का कॉन्सेप्ट आज की जेनरेशन को ज़्यादा सुविधाजनक लगता है, जिसमें न प्यार की भावनाओं का पहरा और न ही कमिटमेंट का बंधन.

–     भावनाएं और कमिटमेंट में बहनेवालों को आज की तारीख़ में बेव़कूफ़ समझा जाता है और इनसे परे जो लोग हैं, उन्हें स्मार्ट कहा जाता है.

–     ऐसा नहीं है कि स़िर्फ लड़के ही ऐसी सोच रखते हैं, लड़कियां भी इसी तरह की सोच को तवज्जो देती हैं.

–     वो भी प्रैक्टिकल होने और लाइफ के प्रति प्रैक्टिकल अप्रोच रखने में ही ज़्यादा विश्‍वास करती हैं.

–     उनके लिए भी करियर और पैसा, प्यार और कमिटमेंट से ज़्यादा महत्वपूर्ण है. वो रिश्तों में भी भावनाएं नहीं अपनी सुविधाएं ढूंढ़ती हैं.

–     अपनी मर्ज़ी से जीने का शग़ल, न कोई कमिटमेंट, न कोई स्ट्रगल… हां, स्ट्रगल अगर करियर और पैसों के लिए हो, तो कोई बात नहीं, पर रिश्तों के लिए यह वेस्ट ऑफ टाइम है.

–     रिश्ता निभे तो ठीक, वरना उसे लंबे समय तक ढोना समझदारी नहीं.

–     पर रिश्ता निभाने के लिए दोनों ही तरफ़ से कोई अतिरिक्त प्रयास की गुंजाइश आज नहीं है.

–     पहले लड़कियां यह प्रयास करती थीं और आज भी कुछ लोग हैं, जो पूरी तरह प्रैक्टिकल नहीं हुए हैं, पर अब जब लड़कियों के भी प्रयास कम हो गए, तो रिश्तों से प्यार और कमिटमेंट गायब हो गया.

–     लड़कों की ओर से न पहले प्रयास होते थे और न आज ही कोशिशें होती हैं.

–     तो प्यार और कमिटमेंट के बिना अब स़िर्फ सेक्स ही रह गया है, वो भी जब मूड हो और जिसके साथ मूड हो.

–     एक ही पार्टनर के साथ अब सेक्स उबाऊ लगने लगा है. लोग अपनी लाइफ में स्पाइस ऐड करने के लिए शादी के बाहर भी सेक्स करने से परहेज़ नहीं करते.

–     शादी में तो वैसे भी एक्साइटमेंट नहीं रह गया. कुछ समय बाद सब कुछ रूटीन लगने लगता है और फिर उस पर डबल इंकम नो सेक्स का बढ़ता कॉन्सेप्ट, क्योंकि पार्टनर के साथ सेक्स के लिए न टाइम है, न एनर्जी.

–     ऐसे में जब सेक्स का मन हो, तो जो मिले उसके साथ कर लो.

–     ऐसा भी है कि पहले समाज का एक डर और परिवार का बंधन भी था, जो लोगों को मनमानी से रोकता था. यही अनुशासन कहलाता था.

–     पर आज यह डर भी ख़त्म होता जा रहा है, क्योंकि घर, परिवार, पैरेंट्स और समाज ने भी इस बदलाव को कुछ हद तक स्वीकार कर लिया है.

–     यूं भी हर कोई आत्मनिर्भर है, तो वो किसी भी रोक-टोक को अनुशासन न समझकर अपनी निजी ज़िंदगी में दख़लअंदाज़ी मानते हैं.

–     सभी का यही कहना होता है कि यह उनकी ज़िंदगी है, चाहे जैसे जीएं.

–     सोशल मीडिया ने भी बहुत हद तक इन रिश्तों और शब्दों के मायनों को बदलने में भूमिका निभाई है. लोग ऑफिस के बाद अब सबसे ज़्यादा यहीं बिज़ी रहते हैं और यहीं सुकून तलाशते हैं. जहां डिजिटल वर्ल्ड और फेक रिश्ते उन्हें ज़्यादा आकर्षित करते हैं. ऐसे में रियल वर्ल्ड के रिश्ते बोरिंग लगने लगते हैं और वहां प्यार और कमिटमेंट की जगह कम ही रह जाती है.

–     ऐसे में प्यार, सेक्स और कमिटमेंट का यह बदलता स्वरूप कुछ समय तक तो यूं ही रहनेवाला है.

यह स्वरूप अब भले ही सुविधाजनक लग रहा होगा, पर भविष्य में इसका ख़ामियाज़ा तो सभी को भुगतना पड़ेगा. जहां कहने को अपना कोई नहीं होगा, ऐसा कोई शख़्स कहीं नज़र नहीं आएगा, जिसके कंधे पर सुकून से सिर रखकर अपने ग़म भुला सकें. व्यावसायिक और ज़िंदगी की चुनौतियों के बीच कभी न कभी तो यह एहसास होगा ही कि कोई ऐसा हो, जिसे अपना कह सकें. जिसके साथ प्यार भी हो, कमिटमेंट भी और सेक्स भी उसी के साथ हो, क्योंकि प्यार और रिश्ते का सही मायनों में भी यही अर्थ होता है, बाकी सब व्यर्थ और अनर्थ ही है.

– ब्रह्मानंद शर्मा

यह भी पढ़ें: जानें वो 10 कारण जो आपको ऑर्गैज़्म से वंचित रख रहे हैं? (10 Reasons You’re Not Having An Orgasm)

यह भी पढ़ें: माथे पर क्यों किस करते हैं पार्टनर्स? (What It Means When Partner Kisses On Forehead?)

कंडोम न इस्तेमाल करने के बहाने, आपका बहाना क्या है? (Ridiculous Excuses By Men For Not Using Condoms)

Ridiculous Excuses By Men For Not Using Condoms

आज भी हमारे देश में ज़्यादातर लोग सेक्स में कंडोम को उतना महत्व नहीं देते, जितना देना चाहिए. कंडोम न स़िर्फ अनचाहे गर्भ से बचाता है, बल्कि यौन रोगों से भी बचाता है. यह सब जानते हुए भी बहुत से लोग इसके इस्तेमाल से कतराते हैं. ऐसे बहुत-से लोग है, जो इसे फ़िज़ूलख़र्ची मानते हैं. उन्हें लगता है कि एक ही पार्टनर से संबंध बनानेवालों को इसकी कोई ज़रूरत नहीं. इसकी लंबी फेहरिश्त है, जो इन्हीं की तरह इसे न इस्तेमाल करने के हज़ारों बहाने देते हैं. ऐसे ही कुछ बहानों के बारे में हम आपको बता रहे हैं.

– मुझे एसटीआई की फ़िक्र नहीं

कंडोम न इस्तेमाल करने का यह सबसे आम बहाना है. इन्हें ऐसा लगता है कि इन्हें एसटीआई नहीं होगा और अगर हुआ भी तो एंटीबायोटिक्स ले लेंगे. लेकिन आपको बता दें कि कंडोम भी आपको सभी एसटीआई से सुरक्षित नहीं कर पाता. कंडोम इस्तेमाल करने के बावजूद हर्पिस और सिफिलिस जैसी यौग रोगों से आपको सुरक्षित नहीं रख पाता यानी 98% ही एसटीआई से आपको सुरक्षित रखता है. अब आप ही सोचिए 100% ख़तरा मोल लेना सही है या 98% सुरक्षित रहना. आपकी सुरक्षा आपके हाथ में है. कंडोम इस्तेमाल करें और एसटीआई से बचें.

– पार्टनर इस्तेमाल करने के लिए दबाव नहीं डालती

यह भी एक और बहाना है, जो ज़्यादातर पुरुष बनाते हैं. वो अपनी पूरी ज़िम्मेदारी यह कहकर पार्टनर पर डाल देते हैं कि वो उन्हें कंडोम इस्तेमाल करने के लिए फोर्स नहीं करती, इसलिए वो ज़रूरी नहीं समझते. यहां बात दबाव डालने की होनी ही नहीं चाहिए, यह तो आपको समझना है कि आपको अपनी और अपने पार्टनर की सेहत का ख़्याल रखना है या नहीं. आप दोनों स्वस्थ रहेंगे, तभी अपनी सेक्स लाइफ एंजॉय कर पाएंगे, इसलिए बेवजह के बहाने छोड़िए और कंडोम इस्तेमाल करने को तवज्जो दीजिए.

– उसे फेंकना बहुत मुश्किल का काम है

इस्तेमाल के बाद कंडोम को संभालकर टिश्यू पेपर में लपेटकर डस्टबिन में डालना होता है, लेकिन अगर इसे भी अब आप बहाना बनाएंगे, तो हाइजीन का ख़्याल कैसे रखेंगे. ज़्यादातर लोगों को इस्तेमाल किए हुए कंडोम को उतारने में उकताहट होती है और फिर बेड से उठकर जाने में आलस भी आता है, इसलिए वो कंडोम इस्तेमाल ही नहीं करते. आप अपने बेड के बगल में ही एक छोटा-सा डस्टबिन रखें. रात को सोते समय टिश्यू पेपर का पैकेट साइड टेबल पर रखें. इस तरह आपको बेड से उठकर जाना भी नहीं पड़ेगा.

यह भी पढ़ें: जानें वो 10 कारण जो आपको ऑर्गैज़्म से वंचित रख रहे हैं? (10 Reasons You’re Not Having An Orgasm)

– पार्टनर पिल्स लेती है

सर्वे में शामिल 40% लोगों ने कहा कि वो इसलिए कंडोम इस्तेमाल करने की ज़रूरत महसूस नहीं करते, क्योंकि उनकी पार्टनर बर्थ कंट्रोल पिल्स लेती है. ज़्यादातर लोग आज भी इसे गर्भनिरोधक की तरह ही इस्तेमाल करते हैं, जबकि यह उससे कहीं बढ़कर है. यह न स़िर्फ अनचाहे गर्भ से आपको बचाता है, बल्कि कई तरह के यौग रोगों से भी आपकी सुरक्षा करता है.

– फैमिली प्लानिंग नहीं करनी

यह भी एक बहुत अच्छा बहाना है कि फैमिली प्लानिंग नहीं करनी, इसलिए कंडोम इस्तेमाल नहीं करते. हम आपको पहले ही बता चुके हैं कि कंडोम स़िर्फ प्रेग्नेंसी रोकने के लिए नहीं है, बल्कि यह एसटीआई से भी आपको सुरक्षित रखता है. जहां तक बात प्रेग्नेंसी की है, तो महीने के कुछ दिनों में ही आपकी पार्टनर फर्टाइल होती है, जब कंसीव करने की संभावना होती है, उसके अलावा बाकी के दिनों में आप कंडोम इस्तेमाल कर सकते हैं.

– पार्टनर का इंट्रेस्ट चला जाता है

कुछ लोग यह भी बहाना बनाते हैं कि कंडोम पहनने में इतना समय लग जाता है कि तब तक पार्टनर का इंट्रेस्ट चला जाता है. ऐसे में दोबारा उसे मूड में लाना बहुत मुश्किल हो जाता है और यही कारण है कि मैं कंडोम नहीं पहनता. अब यह क्या बात हुई भला? कंडोम पहनने में स़िर्फ कुछ सेकंड्स लगते हैं, ऐसे में इंट्रेस्ट ख़त्म होने का सवाल ही नहीं उठता, तो ये फ़ालतू के बहाने छोड़िए और कंडोम इस्तेमाल करना शुरू करें.

– अनीता सिंह

यह भी पढ़ें: माथे पर क्यों किस करते हैं पार्टनर्स? (What It Means When Partner Kisses On Forehead?)

जानें वो 10 कारण जो आपको ऑर्गैज़्म से वंचित रख रहे हैं? (10 Reasons You’re Not Having An Orgasm)

सेक्स (Sex) और रोमांस (Romance) का इतना एक्सपोज़र होने के बावजूद आज भी बहुत-सी ऐसी महिलाएं (Women) है, जो ऑर्गैज़्म (Orgasm) से वंचित रह जाती हैं. ऑर्गैज़्म न आने के कई कारण हैं, पर ज़्यादातर मामलों में देखा गया है कि महिलाएं ख़ुद इसके लिए कोई ख़ास कोशिश नहीं करतीं. ऑर्गैज़्म एक ऐसा एहसास है, जो न स़िर्फ महिलाओं को आत्मिक सुख का एहसास कराता है, बल्कि उन्हें पूर्णता का एहसास भी कराता है. अपनी शादीशुदा ज़िंदगी को और रोमानी बनाना चाहती है, तो ऑर्गैज़्म बहुत ज़रूरी है. तो फिर ऐसा क्या है, जो आपको इस एहसास से वंचित रख रहा है, आइए जानते हैं.

Reasons Of Not Having An Orgasm

1. आप डेस्क जॉब करती हैं

लगातार बैठकर काम करनेवाली महिलाओं की पेल्विक मसल्स शॉर्ट होने लगती हैं, जिससे उन्हें पेल्विक पेन होता है. पेल्विक पेन आपके ऑर्गैज़्म में बाधा बनता है. इसके लिए मैरिज काउंसलर और सेक्स थेरेपस्टिस्ट काम के दौरान हर आधे घंटे में अपनी सीट से उठने की सलाह देते हैं. बीच-बीच में ये ब्रेक आपकी पेल्विक मसल्स को मज़बूती प्रदान करते हैं.  स्न्वैट्स और बटरफ्लाई एक्सरसाइज़ेस पेल्विक मसल्स की मज़बूती के लिए बेस्ट हैं.

2. बहुत ज़्यादा हाई हील्स पहनती हैं

हाई हील्स पहनना न स़िर्फ आपके पैरों में दर्द का कारण बनता है, बल्कि यह आपको ऑर्गैज़्म से भी वंचित रख सकता है. दरअसरल, पैरों की सोअस मसल्स पेल्विक नर्व्स से जुड़ी होती हैं, जिनके डैमेज होने से ऑगैऱ्ज्मवाला सिग्नल आप तक जल्दी नहीं पहुंचता. इसलिए ज़रूरी है कि आप अपने सोअस मसल्स को ध्यान में रखते हुए बहुत ज़्यादा हाई हील्स न पहनें और न ही बहुत ज़्यादा देर तक पहनें.

3. पानी कम पीती हैं

पानी की कमी से न स़िर्फ रोज़मर्रा की हेल्थ प्रॉब्लम्स, जैसे- कब्ज़ और थकान की समस्या होती है, बल्कि यह आपके ऑर्गैज़्म को भी प्रभावित करता है. आपके शरीर में मौजूद अरॉउज़ल टिश्यूज़ को बेहतर ढंग से काम करने के लिए फ्लूइड की ज़रूरत होती है, जिसकी पूर्ति शरीर को हाइड्रेटेड रखकर ही की जा सकती है. अगर आप डिहाइड्रेशन का शिकार हैं, तो आपके लिए ऑगैऱ्ज्म पाना और भी मुश्किल हो जाता है. इसलिए कोशिश करें कि रोज़ाना 7-8 ग्लास पानी ज़रूर पीएं.

4. सेक्स के दौरान चुप रहना

शायद आपको यह बात पता नहीं होगी कि सेक्स के दौरान की चुप्पी आपको ऑर्गैज़्म से वंचित रख सकती है. अगर सेक्स के दौरान आप आवाज़ नहीं करतीं या सिसकारी नहीं भरतीं, तो ऑर्गैज़्म मिलने में आपको काफ़ी व़क्त लगता है. अगर सेक्स के दौरान आप आवाज़ करती हैं, तो आपको ऑर्गैज़्म जल्दी और लंबे समय तक मिलता है.

 

5. दवाइयां हैं ज़िम्मेदार

दवाइयों में मौजूद प्रोलैक्टिन एक ऐसा तत्व है, जो आपकी सेक्स ड्राइव को कमज़ोर बनाता है. इसके लगातार इस्तेमाल से महिलाओं में सेक्स में रुचि कम हो जाती है. अगर आप भी लंबे समय से ब्लड प्रेशर की दवाइयां, बर्थ कंट्रोल पिल्स या फिर एंटीडिप्रेसेंट का इस्तेमाल कर रही हैं, तो समझ जाएं कि आपके और आपके ऑर्गैज़्म के बीच कौन दुश्मन बनकर खड़ा है. ऐसी स्थिति से निपटने के लिए सेक्स थेरेपिस्ट महिलाओं को लुब्रिकेंट इस्तेमाल करने की सलाह देते हैं.

यह भी पढ़ें: जानें सुबह के वक़्त सेक्स के 5 फ़ायदे (5 Health Benefits Of Morning Sex)

Orgasm
6. ऑक्सीटॉसिन लेवल बहुत कम है

एक्सपर्ट्स के मुताबिक ऑर्गैज़्म के लिए ‘फील गुड’ या ‘लव हार्मोन’ कहा जानेवाला ऑक्सीटॉसिन हार्मोन का लेवल बहुत मायने रखता है. अगर आपके शरीर में इसका लेवल कम है, तो आपको ऑर्गैज़्म मिलने में मुश्किल होती है. ऑक्सीटॉसिन की कमी का कारण स्ट्रेस है, जो आजकल अमूनन हर किसी को परेशान करता है. पार्टनर के साथ ज़्यादा से ज़्यादा व़क्त बिताना, किसिंग और हगिंग इस हार्मोन के प्रोडक्शन को बढ़ाने में मदद करता है.

7. ब्लैडर का फुल रहना

जिस तरह सेक्स के बाद यूरिन पास करना आपको यूरिनरी ट्रैक्ट से बचा सकता है, ठीक उसी तरह सेक्स से पहले ब्लैडर खाली करके आप ऑर्गैज़्म जल्दी पा सकती हैं. ब्लैडर फुल होने पर ऑर्गैज़्म की फीलिंग जल्दी नहीं आती. ख़ासतौर से महिलाएं संबंध बनाने से पहले यूरिन पास करें, ताकि ब्लैडर खाली रहे और आप उस व़क्त को एंजॉय कर सकें.

8. आप मास्टरबेशन नहीं करतीं

आज भी बहुत-सी महिलाएं इसे ग़लत मानती हैं, जिसका सीधा असर उनकी सेक्स लाइफ और उनके ऑर्गैज़्म पर पड़ता है. मास्टरबेशन एक ऐसी प्रक्रिया है जसिके ज़रिए आप ख़ुद को संतुष्ट करती हैं. मास्टरबेशन के दौरान आपकी फैंटसीज़ चरम पर होती हैं और आप खुद को संतुष्ट करने के लिए अपनी बॉडी को बेहतर समझती हैं, जो पार्टनर के साथ सेक्स करते वक़्त आपको ऑर्गैज़्म दिलाने में आपको मदद करता है. एक्सपर्ट भी सप्ताह में एक बार मास्टरबेशन की सलाह देते हैं.

9. पार्टनर को अपनी फैंटसीज़ नहीं बतातीं

यह भी एक कारण है कि आप ऑर्गैज़्म तक नहीं पहुंच पातीं. आप क्या चाहती हैं, क्या नहीं चाहती इस बारे में पार्टनर को खुलकर्र नहीं बतातीं। आपको दर है कि कहीं वो आपको ग़लत न समझ ले. पर ज़रूरी नहीं ऐसा हो. हो सकता है उसे अच्छा लगे कि आपने अपने दिल की बात उनसे कही. जब आपकी फैंटसीज़ पूरी होंगी, तो आपको ऑर्गैज़्म मिलना ही है.

10.  दिमाग़ ही दुश्मन है

आपने अपने दिमाग में यह बात बिठा ली है कि ऑर्गज़्म आपके लिए नहीं बना है. अगर शादी के इतने सालों में इसका एहसास नहीं हुआ तो, अब कभी नहीं होगा. लेकिन ऐसा है नहीं, हो सकता है, आपने इसके लिए कोशिश ही नहीं की. महिलाओं को पुरुषों के मुकाबले ऑर्गैज़्म मिलने में थोड़ा समय लगता है और यह बात बहुत काम पुरुषों को पता होती है. महिलाओं को भी उस सुख का एहसास हो इसके लिए महिलाओं को ही पहल करनी होगी. आप टॉप पोज़िशन ट्राय करें आपको इसका जल्द एहसास होगा.

 

 – अनीता सिंह   

यह भी पढ़ें: माथे पर क्यों किस करते हैं पार्टनर्स? (What It Means When Partner Kisses On Forehead?)

यह भी पढ़ें: कितना फ़ायदेमंद है हस्तमैथुन? (Health Benefits Of Masturbation)

माथे पर क्यों किस करते हैं पार्टनर्स? (What It Means When Partner Kisses On Forehead?)

Kiss On Forehead Means
माथे पर क्यों किस करते हैं पार्टनर्स? (What It Means When Partner Kisses On Forehead?)

किस या चुंबन (Kiss) अपनेआप में एक भाषा है, जो हौले से किसी के दिल की भावनाओं को आप तक पहुंचा देती है. यह स़िर्फ एक एहसास नहीं एक जज़्बा है, जुनून है और है दिल का सुकून. चेहरे पर या हाथों पर किस करने के अपने मायने हैं, लेकिन माथे (Forehead) पर पार्टनर का किस कुछ और ही कहता है. क्या है माथे पर किस के मायने, आइए जानते हैं.

– इमोशनल कनेक्शन

माथे पर किस करने का मतलब होता है कि वो व्यक्ति आपसे इमोशनली बहुत जुड़ा हुआ है. जब पार्टनर आपके माथे पर किस करता है, तो वह यह जताना चाहता है कि हमारा रिश्ता इससे कहीं गहरा और रूमानी है.

– रूह को छूने की कोशिश है

माथे पर किस करने से हमारा पीनियल ग्लैंड उत्तेजित हो जाता है, जिससे फील गुड हार्मोंस रिलीज़ होते हैं, जो आपको मानसिक शांति प्रदान करते हैं. यह सुकून आपको किसी और ही दुनिया में होने का एहसास कराता है. यह पार्टनर के आपकी रूह को छू लेने की बेहतरीन तरकीब है.

– आपके प्रति सम्मान झलकता है

माथे पर किस करके पार्टनर आपको बताना चाहता है कि आप उनके लिए महज़ एक शरीर नहीं, बल्कि उससे बढ़कर कहीं हैं और वो इस बात की बहुत कद्र करता है. इस किस के ज़रिए वो अपना प्यार और सम्मान आप तक पहुंचाना चाहता है.

यह भी पढ़ें: जानें सुबह के वक़्त सेक्स के 5 फ़ायदे (5 Health Benefits Of Morning Sex)

Kisses On Forehead
– वैसा ही प्यार-एहसास वो ख़ुद चाहते हैं

माथे पर किस करने का एक मतलब यह भी होता है कि आपका पार्टनर चाहता है, जो रूहानी कनेक्शन आप महसूस कर रहे हैं, वो भी करें. आपके माथे पर किस के उन्हें भी किस मिले. वो भी वह सम्मान और प्यार महसूस करना चाहता है.

– ‘कोई मिल गया’ का एहसास दिलाना चाहते हैं

अक्सर देखा गया है कि नए-नए रिलेशनशिप में एक-दूसरे को कंफर्टेबल और लव्ड फील कराने के लिए माथे पर किस करते हैं. पर इसका एक मतलब यह भी है कि वो आपको बताना चाहते हैं कि जिसकी उन्हें तलाश थी, वो मिल गया है. अपने प्यार को आप तक पहुंचाने का यह उनका नायाब तरीक़ा है.

– सेक्सुअल अट्रैक्शन कम हो रहा है

जब पार्टनर स़िर्फ माथे पर किस करे और सेक्स में पहल करना लगभग बंद कर दे, तो आपको थोड़ा संभलने की ज़रूरत है. एक्सपर्ट कहते हैं कि पार्टनर को परखने के लिए उन्हें माथे की लिप पर किस करने की कोशिश करें, फिर उनका रिएक्शन देखें.

यह भी पढ़ें: कितना फ़ायदेमंद है हस्तमैथुन? (Health Benefits Of Masturbation)

बढ़ती उम्र, बदलती सेक्स की चाहत (Does Sex Drive Decreases With Age?)

बदलाव जीवन का नियम है और इसे टाला नहीं जा सकता. बदलाव के साथ ख़ुद को ढालना आसान नहीं होता है, परंतु हर किसी को कभी-न-कभी बदलाव को अपनाना ही पड़ता है. यही बात बढ़ती उम्र (Age) के साथ सेक्स, सेक्स डिज़ायर (Sex Desire) और सेक्सुअल परफॉर्मेंस (Sexual Performance) पर भी लागू होती है. बढ़ती उम्र के साथ सेक्सुअल डिज़ायर और सेक्सुअल परफॉर्मेंस में क्या-क्या बदलाव (Changes) आते हैं और उनका किस तरह सामना करना चाहिए, यह जानने के लिए हमने मुंबई की सेक्स स्पेशलिस्ट डॉ. एस. लता से बातचीत की.

 Sex Drive
सेक्स डिज़ायर और उम्र

सेक्स डिज़ायर उम्र के साथ घटने लगती है, परंतु लोग इस बात पर बहुत कम ध्यान देते हैं और अधिकतर समय उसका कारण जानने या ‘पहले जैसी सेक्स की ताक़त कैसे वापस पाएं’ यह सोचने में लगाते हैं. उम्र बढ़ने के साथ-साथ स्त्री और पुरुष दोनों में शारीरिक बदलाव होते हैं, जैसे- त्वचा की संवेदनशीलता कम होना, बालों का स़फेद होना, हार्मोनल बदलाव, उम्र  से संबंधित बीमारियां, पुरुषों में सेक्स हार्मोन टेस्टोस्टेरॉन की कमी होना और स्त्रियों में मेनोपॉज़ का होना. जब लोग उम्र के 40वें वर्ष में प्रवेश करते हैं, तो उन्हें तरह-तरह की बीमारियां घेरने लगती हैं, जैसे- आर्थराइटिस, डायबिटीज़, दिल की बीमारी, कमर दर्द आदि, जिसका सीधा असर सेक्स जीवन पर पड़ता है. ये सभी बीमारियां ऐसी हैं, जो सेक्स की इच्छा को कम करती हैं.

महिलाओं में सेक्सुअल डिज़ायर कम होने के कारण

शारीरिक व मानसिक कारण

महिलाओं में उम्र के साथ-साथ सेक्स हार्मोन, एस्ट्रोजेन की कमी हो जाती है, जिससे उनमें सेक्स की इच्छा कम हो जाती है. इसके अलावा उम्र बढ़ने के साथ-साथ महिलाओं के वेजाइना की वॉल पतली और ड्राई हो जाती है, जिससे सेक्स के दौरान बहुत दर्द होता है. यह भी एक कारण होता है कि महिलाओं में उम्र बढ़ने के साथ सेक्स की इच्छा कम हो जाती है.

सामाजिक दबाव

भारतीय समाज में आज भी महिलाओं पर इतनी बंदिशें हैं कि वे खुलकर सेक्स के बारे में बात तक करने से घबराती हैं. उम्र बढ़ने पर सामाजिक दबाव और बढ़ जाता है. महिलाएं हमेशा सोचती हैं कि अब इस उम्र में सेक्स करना ठीक नहीं, बच्चे बड़े हो गए हैं, समाज क्या कहेगा? यह भी एक कारण है कि उनमें उम्र बढ़ने के साथ सेक्स करने की इच्छा कम हो जाती है.

बीमारियां और दवाइयां

उम्र बढ़ने के साथ कई तरह की बीमारियों का सामना करना पड़ता है, जैसे- ब्लड प्रेशर, मानसिक दबाव, नींद न आना. इन सब से बचने के लिए तरह-तरह की दवाइयां लेनी पड़ती हैं. उन दवाइयों का असर भी सेक्स जीवन को प्रभावित करता है. इनमें से ब्लड प्रेशर की दवाइयां और मानसिक तनाव की दवाइयों का प्रयोग महिलाएं अधिक करती हैं.

लाइफ़स्टाइल

शहरों में महिलाओं की बदलती लाइफ़स्टाइल का असर भी सेक्स पर पड़ता है. बड़े शहरों में रहनेवाली महिलाएं काम करती हैं, सिगरेट-शराब पीने से भी बहुत-सी महिलाएं परहेज़ नहीं करतीं और अक्सर बाहर का खाना खाती हैं. इन सबका असर शरीर और सेक्स की इच्छा पर पड़ता है.

लुक्स

उम्र बढ़ने के साथ-साथ लुक्स में भी काफ़ी बदलाव आते हैं. इस बात का भी असर सेक्स लाइफ़ पर पड़ता है. शारीरिक आकर्षण कम हो जाने से महिलाओं में सेक्स की इच्छा कम हो जाती है, क्योंकि महिलाएं अपने लुक्स को लेकर काफ़ी कॉन्शियस रहती हैं.

यह भी पढ़ें: जानें सुबह के वक़्त सेक्स के 5 फ़ायदे (5 Health Benefits Of Morning Sex)

Sex Problems

पुरुषों में सेक्सुअल डिज़ायर कम होने के कारण

हार्मोनल बदलाव

उम्र बढ़ने के साथ पुरुषों में भी हार्मोनल बदलाव आते हैं, जिसमें सेक्स हार्मोन, एंड्रोजन, टेस्टोस्टेरॉन में कमी हो जाती है, जो पुरुषों में सेक्स डिज़ायर के लिए ज़रूरी है. इसकी कमी होने से उनमें सेक्स की इच्छा में कमी आती है.

इरेक्टाइल डिस़्फंक्शन

उम्र बढ़ने के साथ हार्मोंस में कमी के कारण पुरुषों में इरेक्शन की समस्या हो जाती है. इरेक्शन ठीक से न होने से सेक्स करने में असमर्थता की वजह से सेक्स की इच्छा में भी कमी आ जाती है.

मानसिक दबाव

पुरुष अधिकतर कई तरह का दबाव अपने ऊपर लेते हैं, जैसे- काम का दबाव, परिवार का दबाव, बच्चों की पढ़ाई का दबाव और उनकी सबसे बड़ी समस्या यह है कि वे अपनी समस्याएं बहुत कम शेयर करते हैं. ऐसे में ये दबाव उन्हें शरीर से कमज़ोर कर देते हैं. इसके अलावा मानसिक तनाव के कारण भी उनकी सेक्स लाइफ़ प्रभावित होती है.

पार्टनर के सहयोग की कमी

उम्र बढ़ने के साथ-साथ महिलाओं में सेक्स की इच्छा कम हो जाती है, जिससे वो अपने साथी पर ज़्यादा ध्यान नहीं दे पाती हैं, इससे उनका वैवाहिक जीवन नीरस हो जाता है और पुरुषों में भी सेक्स की चाह कम होने लगती है. इसलिए यह ज़रूरी है कि उम्र बढ़ने के साथ-साथ अपने साथी की तरफ़ ध्यान भी दें. एक-दूसरे की ज़रूरत के हिसाब से बदलाव लाएं, ताकि सेक्स की चाहत बनी रहे.

बच्चे होना

बच्चे होने पर पत्नी ज़्यादातर बच्चों को ही पूरा अटेंशन देने लगती है और पति से उसका जुड़ाव कम हो जाता है. इसके अलावा अधिकतर महिलाओं की सोच होती है कि बच्चे बड़े हो रहे हैं और बढ़ते बच्चों के सामने सेक्स करना ग़लत है. बस उनकी ये सोच उन्हें सेक्स से दूर कर देती है.

यह भी पढ़ें: दूर कीजिए सेक्स से जुड़ी 10 ग़लतफ़हमियां (Top 10 Sex Myths Busted)

Sex Desire

कैसे लें बढ़ती उम्र के साथ सेक्स का आनंद?

सेक्स के आनंद को उम्र के साथ कम न होने देना हमारे अपने हाथ में होता है. यदि कुछ बातों का ध्यान रखें, तो उम्र बढ़ने के बावजूद सेक्स की इच्छा को बनाए रखा जा सकता है.

एक्सपेरिमेंट करें

बढ़ती उम्र में पहले की तरह सेक्स करना बहुत मुश्किल होता है, इसलिए सेक्स करने के लिए अलग आसन और कुछ नए तरी़के अपनाने चाहिए. इससे सेक्स का आनंद भी बढ़ता है और सेक्स करने की इच्छा भी बनी रहती है.

सलाह लें

सेक्स की इच्छा में कमी आने पर आप स्पेशलिस्ट से सलाह लें, काउंसलर की मदद लें. उनके बताए उपाय काफ़ी कारगर साबित होंगे.

फ़िटनेस पर ध्यान दें

न स़िर्फ स्वास्थ्य की दृष्टि से, बल्कि सेक्स के नज़रिए से भी फ़िटनेस बहुत ज़रूरी है. ख़ुद को फ़िट रखेंगे, तो बीमारी दूर रहेगी, ऊर्जावान महसूस करेंगे और सेक्स की चाहत जागेगी. साथ ही आपका शारीरिक आकर्षण भी बरक़रार रहेगा, जो आपके पार्टनर को आपकी ओर खींच लाएगा.

– अभिषेक शर्मा

यह भी पढ़ें: जानें पुरुषों के कामोत्तेजक अंग (Erogenous Zones Of The Male Body)

10 मैजिकल फूड्स जो बनाएंगे आपकी सेक्स लाइफ को पावरफुल (10 Magical Foods That Will Rev Up Your Sex Life)

अगर आप अपनी यौन क्षमता (Sexual Ability) को बढ़ाना (Increase) चाहते हैं, तो अब आपको कोई दवाई लेने की ज़रूरत नहीं है. हम आपको वियाग्रा से बेहतर और असरदार आहार बताएंगे, जिनके नियमित सेवन से आप अपनी यौन क्षमता को दोगुना बढ़ा सकते हैं.

Sex Foods

आज के इस आधुनिक दौर में तनाव व काम के दबाव के चलते अधिकांश लोगों की कामेच्छा में कमी आने लगी है, जिसके चलते वे बेड पर अपने पार्टनर के सामने परफॉर्म नहीं कर पाते हैं. अगर आप भी ऐसी ही किसी समस्या से पीड़ित हैं तो अपने डायट में कुछ चीज़ों को शामिल करके आप अपनी सेक्स लाइफ को बेहतर बना सकते हैं.

केसर

केसर कामेच्छा को बढ़ाने का एक कारगर घरेलू नुस्खा है. केसर वाला दूध सेक्स लाइफ को बेहतर बनाने में मदद करता है. दरअसल, केसर एस्ट्रोजेन, सेरोटोनिन और मूड बनाने वाले हार्मोन्स को बढ़ाता है, जिससे तनाव, स्ट्रेस कम होता है और मूड बेहतर होता है.

पिस्ता-बादाम

बादाम में भरपूर मात्रा में विटामिन ई पाया जाता है जो यौन इच्छा को बढ़ाने वाले हार्मोन्स को रिलीज़ करता है. बादाम के साथ पिस्ते का सेवन एक हेल्दी विकल्प हो सकता है. इसमें मौजूद कॉपर, मैग्नीशियम और ज़िंक यौन उत्तेजना को बढ़ाने में मदद करते हैं. नियमित तौर पर बादाम और पिस्ते के सेवन से स्पर्म काउंट और क्वालिटी बढ़ती है.

केला

केले को फाइबर का एक बेहतरीन स्रोत माना जाता है. इसमें घुलनशील फाइबर होता है जो यौन शक्ति को बढ़ाने में मदद करता है. केले में मौजूद विटामिन्स और मिनरल्स सेक्स पावर को बढ़ाकर उसे बेहतर बनाते हैं. अगर आप अपनी सेक्स लाइफ को बेहतर बनाना चाहते हैं तो अपने डायट में केले को ज़रूर शामिल करें.

तरबूज

तरबूज में फाइटोन्यूट्रीएंट्स भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं, जो सेक्स लाइफ को बेहतर बनाने में मदद करते हैं. इसके अलावा इसमें बीटा कैरोटीन, लाइकोपीन जैसे तत्व होते हैं, जिससे फील गुड हार्मोन्स का स्तर बढ़ता है और बिस्तर पर साथी के साथ परफॉर्मेंस में सुधार आता है.

स्ट्रॉबेरी

स्वाद के साथ-साथ स्ट्रॉबेरी सेक्स लाइफ को बेहतर बनाने के लिए भी जाना जाता है. इसमें भरपूर मात्रा में विटामिन सी पाया जाता है. इसके नियमित सेवन से फर्टिलिटी बेहतर होती है. कई रिसर्च में भी इस बात का खुलासा हुआ है कि पुरुषों में फर्टिलिटी बढ़ाने में विटामिन सी काफ़ी महत्वपूर्ण होता है.

यह भी पढ़ें: जानें सुबह के वक़्त सेक्स के 5 फ़ायदे (5 Health Benefits Of Morning Sex)

Super Foods For Sex
अंडे

अंडे प्राकृतिक रूप से यौन शक्ति बढ़ाने में मदद करते हैं. अंडे में विटामिन बी5 और बी6 होते हैं जो सेक्स लाइफ को बेहतर बनाने में मदद करते हैं. इसमें अत्यधिक मात्रा में पाए जाने वाले प्रोटीन के कारण पुरुषों में स्टेमिना बढ़ता है और शारीरिक कमज़ोरी दूर होती है. अपनी  सेक्स  लाइफ को बेहतर बनाने के लिए अपने डेली डायट में अंडे को ज़रूर शामिल करें.

कॉफी

कॉफी का अधिक मात्रा में सेवन सेहत और आपकी सेक्स लाइफ के लिए घातक हो सकता है, लेकिन संतुलित मात्रा में कॉफी पीने से कामोत्तेजना में बढ़ोत्तरी होती है. कई रिसर्च में भी इस बात का खुलासा हुआ है कि दिन भर में 2-3 कप कॉफी पीने से पुरुषों में लिबिडो बढ़ता है.

डार्क चॉकलेट

डार्क चॉकलेट एक ऐसा सुपरफूड है जो न स़िर्फ कामेच्छा को बढ़ाने में मदद करता है, बल्कि इससे सेक्स लाइफ भी बेहतर होती है. दरअसल, इसमें एल-आर्जिनिन और अमिनो एसिड होता है जो सेक्स ड्राइव को प्राकृतिक तरी़के से बढ़ाने में मदद करता है.

हरी सब्ज़ियां

अगर आप अपनी नीरस सेक्स लाइफ में रोमांच लाकर इसे बेहतर बनाना चाहते हैं तो पौष्टिक तत्वों, विटामिन्स और मिनरल्स से भरपूर हरी सब्ज़ियों का सेवन करें. पालक, सरसों, ब्रोकोली जैसी हरी पत्तेदार सब्ज़ियों का सेवन करने से पुरुषों की फर्टिलिटी और स्पर्म क्वॉलिटी बेहतर होती है.

हरी मिर्च

स्वाद में तीखी हरी मिर्च सेहत के साथ-साथ आपकी सेक्स लाइफ में भी रोमांस का तड़का लगाने में मदद कर सकती है. हरी मिर्च का सेवन करने से पुरुषों के प्राइवेट पार्ट्स के आसपास के अंगों में ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है और कामोत्तेजना बढ़ती है. इसलिए आज ही से अपने डायट में हरी मिर्च को शामिल कर लें.

यह भी पढ़ें: दूर कीजिए सेक्स से जुड़ी 10 ग़लतफ़हमियां (Top 10 Sex Myths Busted)

यह भी पढ़ें: कितना फ़ायदेमंद है हस्तमैथुन? (Health Benefits Of Masturbation)

नीरस सेक्स लाइफ में लाएं गरमाहट (Heat Up Your Boring Sex Life)

करियर और ज़्यादा पैसों की चाहत ने आजकल कपल्स (Couples) को काम में इतना मशगूल कर दिया है कि पर्सनल लाइफ के लिए भी उनके पास वक़्त नहीं रहता. कॉल सेंटर और मल्टीनैशनल कंपनीज़ में काम करने वाले ज़्यादातर कपल्स स़िर्फ वीकेंड पर ही मिल पाते हैं. ऐसे में उनकी सेक्स लाइफ़ (Sex Life) का प्रभावित होना लाज़मी ही है. लंबे वर्किंग आवर का सेक्स लाइफ़ पर असर और उससे निपटने के उपायों पर आइए, एक नज़र डालते हैं.

Heat Up Your Sex Life

अंतरंग पलों पर हावी होता काम प्राइवेट सेक्टर में बढ़ते लंबे वर्किंग आवर के चलन का न स़िर्फ सेहत, बल्कि सेक्स लाइफ़ पर भी नकारात्मक असर हो रहा है. ब्रिटेन में हुए एक सर्वे में भी ये बात सामने आ चुकी है कि ज़्यादा देर तक काम करने वाले हर 5 में से 1 एम्पलॉई की सेक्स लाइफ़ ख़त्म हो जाती है. लंबे वर्किंग आवर की वजह से हमारे देश में भी कपल्स की सेक्स लाइफ़ बुरी तरह प्रभावित हो रही है. ज़्यादा देर तक काम करने का सेक्स लाइफ़ पर निम्न असर हो सकता हैः

–     प्यार के अंतरंग पलों के लिए वक़्त की कमी.

–     थकान की वजह से सेक्स में दिलचस्पी न होना.

–     ऑर्गेज़्म की अनुभूति न होना.

–     बेड पर रिलैक्स फील न करना.

–     महिलाओं को इंटरकोर्स के समय ल्यूूब्रिकेशन की समस्या होना.

–     पुरुषों को उत्तेजना (इरेक्शन) में मुश्किल आना.

–    तनाव की वजह से पार्टनर को संतुष्ट न कर पाना.

–     सेक्स के दौरान एक्सपेरिमेंट न करना.

–     कामेच्छा में कमी के कारण पार्टनर से दूरियां बढ़ना.

वैसे आप अपनी पर्सनल लाइफ़ को पटरी पर लाने के लिए करियर से समझौता तो नहीं कर सकते, लेकिन अपनी पर्सनल और प्रो़फेशनल लाइफ़ में तालमेल बिठाने के लिए कुछ क़दम ज़रूर उठा सकते हैं. इसके लिए आपको बस थोड़ी-सी कोशिश करनी होगी.

पार्टनर के साथ ईमानदार रहें

पूरे हफ़्ते काम के बिज़ी शेड्यूल की वजह से अगर आपको प्यार के उन ख़ास पलों का आनंद उठाने का वक़्त नहीं मिला तो क्या हुआ ? आपका प्यार भरा स्पर्श और साथ ही उनके लिए काफ़ी होगा. पार्टनर के साथ अपने दिल की बात शेयर करें. इससे क़रीब होने का एहसास होगा. यदि कपल्स आपस में बात ही नहीं करेंगे, तो दोनों के बीच की दूरियां बढ़ सकती हैं. इसलिए भले ही वीकडेज़ में आपको सेक्स के लिए वक़्त न मिले, लेकिन पार्टनर से बात करने के लिए समय ज़रूर निकालें. इससे आप दोनों एक-दूसरे की व्यस्तता को समझ सकेंगे और पार्टनर द्वारा समय न दिए जाने पर उपेक्षित भी महसूस नहीं करेंगे.

यह भी पढ़ें: जानें सुबह के वक़्त सेक्स के 5 फ़ायदे (5 Health Benefits Of Morning Sex)

Sex Life
थोड़ी अटेंशन दें

रिश्तों की गरमाहट बरक़रार रखने के लिए स़िर्फ ईमानदारी ही काफ़ी नहीं है, बल्कि पार्टनर का ध्यान रखना यानी उन्हें यह एहसास दिलाना ज़रूरी है कि आपको उनकी कितनी परवाह है. पार्टनर के प्रति अटेंशन सेक्स लाइफ़ की कमी पूरी करने के लिए ज़रूरी है.

अपनी भाषा पर ध्यान दें

कई बार हम घर पर भी ऑफ़िस की भाषा में बात करने लगते हैं, जो सही नहीं है. ऑफ़िस में जूनियर्स को इंस्ट्रक्शन देने वाली भाषा का इस्तेमाल ग़लती से भी पार्टनर के साथ न करें. इससे पार्टनर की भावनाओं को ठेस पहुंच सकती है. अगर आप हेल्दी रोमांटिक लाइफ़ चाहते हैं, तो घर पहुंचकर ऑफ़िस को भूल जाएं और पार्टनर से प्यार भरी मीठी आवाज़ में बात करें.

छुट्टी के दिन भूल जाएं ऑफ़िस का काम

अगर आप अपने रिश्ते की मिठास बरक़रार रखना चाहते हैं, तो वीकेंड और छुट्टियों के दिन पार्टनर को प्राथमिकता दें यानी उनका ख़्याल रखें, उनकी पसंद का काम करें, उनके साथ ज़्यादा से ज़्यादा वक़्त बिताएं. उस एक दिन सबकुछ भूलकर बस एक-दूसरे के बारे में ही सोचें. इससे न स़िर्फ पूरे हफ़्ते की थकान और तनाव दूर हो जाएगा, बल्कि आपके रिश्ते की डोर भी मज़बूत होगी. ग़लती से भी उस दिन ऑफ़िस के काम को घर न लाएं. अगर आप चाहते हैं कि कोई आपको डिस्टर्ब न करे, तो अपना मोबाइल स्विच ऑफ़ कर दें.

सेक्स को बनाएं स्पेशल

रोज़ाना तो आपके पास प्यार के लिए वक़्त नहीं होता, लेकिन जब भी वक़्त मिले, तो उन लम्हों को ख़ास बनाने की कोशिश करें. पार्टनर के साथ रोमांटिक डिनर करें, उन्हें रोमांटिक मैसेज़ करें या फिर प्यार भरी बातों से उन्हें रिझाने की कोशिश करें. सेक्स लाइफ़ को स्पाइसी बनाने के लिए आप साथ में शॉवर का भी मज़ा ले सकते हैं.

एक्सपेरिमेंट करें

आमतौर पर बिज़ी कपल्स एक ही सेक्सुअल पैटर्न को फॉलो करते हैं, रोज़मर्रा की ज़िंदगी की तरह सेक्स में भी एक ही रूटीन होने से वो बोरिंग व नीरस बन जाता है. अतः रिश्तों में नई ताज़गी और ऊर्जा लाने के लिए सेक्सुअल एक्सपेरिमेंट्स करते रहें.

यह भी पढ़ें:  सेक्सुअल पावर बढ़ाने के लिए खाएं ये 5 सुपर फूड्स (Top 5 Super Foods To Boost Your Sex Power)

यह भी पढ़ें: दूर कीजिए सेक्स से जुड़ी 10 ग़लतफ़हमियां (Top 10 Sex Myths Busted)

जानें सुबह के वक़्त सेक्स के 5 फ़ायदे (5 Health Benefits Of Morning Sex)

सुबह (Morning) के समय सबसे बेहतरीन कार्डियो एक्सरसाइज़ क्या हो सकता है? चलिए हम आपको एक हिंट देते हैं. ज़्यादातर लोग मन ही मन फिट रहने के लिए यही एक्सरसाइज़ करना पसंद करेंगे. जी हां, हम सेक्स (Sex) की बात कर रहे हैं.

Health Benefits Of Morning Sex

 आजकल की इस भागदौड़ भरी ज़िंदगी में अधिकांश लोग घंटों तक लगातार काम करते हैं, जिसके चलते घर आते-आते वे इस कदर थक जाते हैं कि रात में घर पहुंचने के बाद बिस्तर पर जाते ही गहरी नींद की आगोश में समा जाते हैं. रोज़मर्रा की इस दिनचर्या से कइयों की सेक्स लाइफ पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है. कई बार लोग तनाव और चिंता के कारण भी सेक्स के प्रति उदासीन नज़र आते हैं, जबकि सेक्स तनाव दूर करने के साथ-साथ मूड को बेहतर बनाने में मदद करता है. ज़्यादातर लोग रात में सेक्स करना पसंद करते हैं, लेकिन आपको यह जानकर हैरानी होगी कि रात की बजाय सुबह के व़क्त किया गया सेक्स सेहत के लिहाज से ज़्यादा फ़ायदेमंद माना जाता है.

दरअसल, साल 2015 में सेक्स टॉय कंपनी लव हनी ने एक सर्वे कराया था, जिसमें 2300 लोगों को शामिल किया गया था. इस सर्वे में शामिल अधिकांश पुरुषों ने यह माना कि उन्हें सुबह 6-9 बजे के बीच सेक्स करना अच्छा लगता है, जबकि महिलाओं का कहना था कि उन्हें रात में 11-2 बजे के बीच सेक्स करना ज़्यादा पसंद है. इसके अतिरिक्त साल 2018 में हुए एक सर्वे में शामिल 1000 वयस्कों में से 53 फ़ीसदी ने यह माना कि सुबह में सेक्स करने से वे दिनभर ऊर्जावान महसूस करते हैं.

1. तनाव होता है गायब

सुबह के व़क्त सेक्स करने से शरीर में ऑक्सीटोसिन नामक स्ट्रेस दूर करने वाला हार्मोन रिलीज़ होता है, जिससे तनाव को दूर भगाने में मदद मिलती है और मूड बेहतर होता है. अगर आपको अपने दिन की शुरुआत अच्छी करनी है तो सुबह के समय सेक्स करने की आदत डाल लीजिए.

2. त्वचा में आता है निखार 

सुबह के समय पुरुषों में कामेच्छा को बढ़ाने वाला सेक्स हार्मोन टेस्टोस्टेरॉन का स्तर तेज़ी से बढ़ता है, जिससे लिंग में कड़ापन आता है. सुबह के व़क्त सेक्स करने से बीमारियों की संभावना कम हो जाती है और इससे त्वचा में गजब का निखार आता है.

Morning Sex Benefits
3. वीर्य की गुणवत्ता होती है बेहतर

एक रिसर्च के अनुसार, सुबह के व़क्त सेक्स करने से पुरुषों में वीर्य की गुणवत्ता 12 फ़ीसदी तक बढ़ जाती है. खासकर जिन महिलाओं को गर्भधारण करने में दिक्कत होती है, उन्हें सुबह में सेक्स करना चाहिए. इससे गर्भधारण की संभावना बढ़ जाती है और सेक्स संबंधी कई समस्याओं से भी छुटकारा मिलता है.

4. बढ़ती है रोग-प्रतिरोधक क्षमता

सुबह के व़क्त सेक्स करने से शरीर में इम्योनोग्लोबिन ए नामक एंटीबॉडी बनता है, जो शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मदद करता है. इससे दूसरी बीमारियों का ख़तरा 30 फ़ीसदी तक कम होता है और व्यक्ति लंबे समय तक स्वस्थ रहता है.

5. बेहतरीन एक्सरसाइज

सुबह के समय सेक्स करना किसी बेहतरीन एक्सरसाइज से कम नहीं है. दरअसल, सुबह के समय हवा में ऑक्सीज़न की मात्रा अधिक होती है और इस दौरान सेक्स करने से व्यक्ति बड़ी-बड़ी सांसें लेता है, जिससे ऑक्सीज़न आसानी से फेफड़ों तक पहुंचता है. इससे दिमाग शांत रहता है और हार्ट अटैक का ख़तरा भी काफ़ी हद तक कम होता है.

यह भी पढ़ें: दूर कीजिए सेक्स से जुड़ी 10 ग़लतफ़हमियां (Top 10 Sex Myths Busted)

यह भी पढ़ें: सेक्सुअल पावर बढ़ाने के लिए खाएं ये 5 सुपर फूड्स (Top 5 Super Foods To Boost Your Sex Power)

सेक्सुअल पावर बढ़ाने के लिए खाएं ये 5 सुपर फूड्स (Top 5 Super Foods To Boost Your Sex Power)

आपको शायद पता नहीं होगा कि कुछ फूड्स (Foods) ऐसे भी हैं, जो आपके सेक्सुअल पावर (Sexual Power) को तुरंत बढ़ा (Increase) देते हैं. यूं कहें, तो ये वायग्रा (Viagra) की तरह काम करते हैं. ये आपकी सेक्स ड्राइव को बढ़ाकर आपकी सेक्स लाइफ (Sex Life) को और भी हेल्दी (Healthy) बनाते हैं. क्या हैं ये सुपर फूड्स (Super Foods) आइए देखें.

 

Foods To Boost Sex Power

सुपर फूड्स
1. स्ट्रॉबेरी

ये विटामिन सी का बेहतरीन स्रोत है, जो पुरुषों में स्पर्म काउंट को बढ़ाता है. साथ ही यह हार्ट और आर्टरीज़ में रक्त संचार को सुचारू बनाए रखता है. स्ट्रॉबेरीज़ को डार्क चॉकलेट में डुबोकर खाएं, यह कामोत्तेजना को बढ़ाता है.

2. बादाम

ज़िंक, सेलेनियम और विटामिन ई के गुणों से भरपूर बादाम सेक्स बूस्टर का काम करता है. सेलेनियम जहां इंफर्टिलिटी की समस्या को दूर रखता है, वहीं ज़िंक सेक्स हार्मोन की बढ़ोत्तरी करता है और विटामिन ई हार्ट को हेल्दी रखता है.
रोज़ाना बादाम का सेवन याद्दाश्त बढ़ाने के साथ-साथ सेक्सुअल लाइफ को भी हेल्दी बनाता है.

3. तरबूज़

इसमें कामोत्तेजना बढ़ानेवाले फाइटोन्यूट्रिएंट्स भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं. इसमें मौजूद लाइकोपीन और बीटा-कैरोटीन सेक्स ड्राइव को बूस्ट करने में मदद करता है.

4. शकरकंद

पोटैशियम से भरपूर शकरकंद हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में काफ़ी मददगार होता है, जिससे पुरुष इरेक्टाइल डायस्फंक्शन के ख़तरे से बचे रहते हैं. बीटा कैरोटीन और विटामिन ए इंफर्टिलिटी को दूर रखते हैं.

5. स़फेद तिल

ज़िंक से भरपूर तिल बेहतरीन सेक्स बूस्टर फूड है. यह टेस्टोस्टेरॉन और स्पर्म प्रोडक्शन की बढ़ोत्तरी में मदद करता है.

यह भी पढ़ें: कितना फ़ायदेमंद है हस्तमैथुन? (Health Benefits Of Masturbation)

Foods To Boost Sex Power
सेक्स किलर फूड्स

चीज़, डायट सोडा, सोया, आर्टिफीशियल स्वीटनर्स, फ्राई व फैटी फूड्स, कैन्ड फूड आदि अवॉइड करें.

स्मार्ट सेक्सी टिप्स

1. अपनी सेक्स लाइफ को थोड़ा स्पाइसी बनाएं. कभी-कभार रूटीन से हटकर कुछ नया ट्राई करें.

2. पार्टनर को आकर्षित करने के लिए सेक्सी कपड़े पहनें. यह आपकी कामोत्तेजना का बढ़ाता है.

3. अरोमा कैंडल्स की ख़ुशबू सेक्स के प्रति आकर्षित करने में आपकी मदद करती हैं. अपने बेडरूम को मनपसंद ख़ुशबू से महकाएं.

4. कोशिश करें कि साल में एक बार स़िर्फ पति-पत्नी 2-4 दिनों के लिए बाहर जाएं. यह आपकी सेक्स लाइफ को दोबारा रिवाइव कर देता है.

5. पार्टनर को मॉर्निंग किस और गुडनाइट किस देना कभी न भूलें.

6. रोमांटिक बातें आपके रिश्ते में अहम् भूमिका निभाती हैं. अपनी बातों से उन्हें रिझाने का कोई मौक़ा हाथ से न जाने दें.

7. अगर दोनों ही वर्किंग हैं, तो वर्किंग आवर्स के बीच एक बार आई लव यू या मिस यू जैसे मैसेजेस आपकी सेक्स लाइफ के रोमांच को बनाए रखते हैं.

8. पार्टनर के शौक़ को जानते हैं, तो कभी-कभार उन्हें सरप्राइज़ ज़रूर दें.

9. सिर्फ़ गिफ़्ट ही आपके पार्टनर को ख़ुश नहीं करता, बल्कि किसी दिन बिन बताए उन्हें ऑफिस से पिक अप करने पहुंच जाएं या फिर सरप्राइज़ लंच प्लान करें.

10. एक-दूसरे को अपनी फैंटसीज़ के बारे में बताएं.

11. कुछ अलग करना चाहते हैं, तो शनिवार रात की बजाय रविबार की सुबह आपके प्यार के लिए बेस्ट टाइम होगा.

12. अक्सर महिलाएं पुरुष के पहल का इंतज़ार करती हैं. इस बार आप पहल करके उन्हें ख़ुश कर सकती हैं.

– सुनीता सिंह

यह भी पढ़ें: महिलाओं के 10 कामोत्तेजक अंग (Top 10 Sexiest Erogenous Parts Of A Women’s Body)

यह भी पढ़ें: नहीं जानते होंगे आप ऑर्गैज़्म से जुड़ी ये 10 बातें (10 Surprising Facts Of Female Orgasm)

बेडरूम का कलर भी बताता है आपकी सेक्स लाइफ का सीक्रेट (Bedroom Color Also Reveals Your Sex Life Secret)

जैसे कपड़ों का रंग आपकी पर्सनैलिटी और मूड को दर्शाता है, वैसे ही आपके बेडरूम का कलर (Bedroom Color) भी आपकी सेक्स लाइफ के सीक्रेट्स (Sex Life Secret) को बयां करता है. रंगों के बिना सेक्स लाइफ का रोमांच अधूरा है. रंग न केवल आपके मूड को फ्रेश करते हैं, बल्कि सेक्स लाइफ को रोमांटिक व ख़ूबसूरत बनाने में भी मदद करते हैं. कैसे? आइए जानें.

 Sex Life Secret
पर्पल कलर

सेक्सोलॉजिस्ट के अनुसार, पर्पल कलर पैशेनेट कलर माना जाता है. जिन कपल्स के बेडरूम का कलर पर्पल होता है, वे दूसरे कपल्स की तुलना में सेक्स को अधिक एंजॉय करते हैं, लेकिन पार्टनर की संतुष्टि की बजाय अपने सेक्सुअल सैटिस्फेक्शन को अधिक महत्व देते हैं. यदि आप अपनी सेक्स लाइफ को पैशनेट बनाना चाहते हैं, तो अपने बेडरूम की दीवारों पर पर्पल कलर कराएं. अगर दीवारों का कलर पर्पल नहीं कराना चाहते हैं, तो बेडरूम में पर्पल कलर की बेडशीट, पिलो कवर, कर्टन और पर्पल कलर की एक्ससेरीज़ का इस्तेमाल करें.

रेड कलर

लाल रंग प्यार, रोमांस और उत्तेजना का प्रतीक होता है. जिन कपल्स के बेडरूम का कलर रेड होता है, वे अपनी सेक्स लाइफ को पूरी तरह से एंजॉय करते हैं. उनकी सेक्स लाइफ बहुत अच्छी होती है और रिश्तों की बॉन्डिंग भी बहुत मज़बूत होती है. बेडरूम में रेड कलर की मौजूदगी पार्टनर को रोमांटिक बनाती है, जिससे सेक्स लाइफ में एक्साइटमेंट बना रहता है. ऐसे कपल्स रिलेशनशिप के दौरान बहुत जल्दी उत्तेजित हो जाते हैं और अपनी सेक्स लाइफ को एंजॉय करते हैं.

पिंक कलर

जिन दंपतियों के बेडरूम का कलर पिंक होता है, उनके बीच रिश्तों को लेकर अच्छी ट्यूनिंग होती है. दोनों पार्टनर स्वभाव से बेहद रोमंाटिक होते हैं, लेकिन जब बात संबंध बनाने की आती है, तो महिला पार्टनर असहज महसूस करती है, पुुरुष पार्टनर को उतना सपोर्ट नहीं करती, जितना करना चाहिए. बस, उन्हें अपनी बातों से आकर्षित करती है.

यह भी पढ़ें:  कितना फ़ायदेमंद है हस्तमैथुन? (Health Benefits Of Masturbation)

Sex Life Secret
ब्राउन कलर

ऐसे कपल्स जिनके बेडरूम का कलर ब्राउन होता है, वे बेहद रोमांटिक होते हैं. पार्टनर की भावनाओं और ज़रूरतों को अच्छी तरह से समझते हैं. इन्हें प्राइवेसी पसंद होती है. पार्टनर्स के बीच अगर नोंक-झोंक हो जाती है, तो दूसरे पार्टनर के मनाने पर मान जाते हैं. रिलेशनशिप एक्सपर्ट्स के अनुसार, ब्राउन कलर का नाम आते ही सबसे पहले चॉकलेट का ख़्याल आता है. वर्ष 2014 में हुए एक अध्ययन के अनुसार, प्यार और चॉकलेट के बीच गहरा संबंध है. जब कोई सिंगल (पुरुष/महिला) चॉकलेट खाता है, तो उसके मन में रोमांस व आकर्षण पैदा होता है. इसी तरह से बेडरूम की दीवारों पर ब्राउन कलर कराने से कपल में भी रोमांटिक भावनाएं पैदा होती है.

ब्लू कलर

यह रंग एक ओर मानसिक शांति व अच्छी नींद का प्रतीक माना जाता है, वहीं दूसरी ओर इसे सेक्सुअल फीलिंग बढ़ानेवाला कलर भी माना जाता है. जो कपल अपने बेडरूम में ब्लू कलर कराते हैं, वे बेहतरीन सेक्स पार्टनर्स होते हैं. उनके लिए सेक्स एक आर्ट है, इसलिए वे संबंध बनाने में जल्दबाज़ी नहीं करते.

ऑरेंज कलर

जिन दंपतियों के बेडरूम का कलर ऑरेंज होता है, सेक्स के मामले में वे थोड़े-से वाइल्ड क़िस्म के होते हैं. उनके लिए संबंध बनाना जितना महत्वपूर्ण होता है, उतना ही महत्व वे फोरप्ले को भी देते हैं. सेक्सुअल फैंटसी में जीना उन्हें अच्छा लगता है.

यलो कलर 

जो कपल अपने बेडरूम की दीवारों को पीले रंग से रंगते हैं, वे एनर्जेटिक होते हैं, लेकिन एनर्जेटिक होने का प्रभाव सेक्स लाइफ पर दिखाई नहीं देता यानी उनकी सेक्सुअल डिज़ायर थोड़ी कॉम्प्लिकेटेड (जटिल) होती है. वे स्ट्रॉन्ग पार्टनर की भावनाओं का सम्मान करते हुए उसके सामने झुक  जाते हैं.

ग्रीन कलर

हरा रंग हरियाली का प्रतीक है. जो दंपति अपने बेडरूम की दीवारों पर हरा रंग कराते हैं, उनका सेक्स लाइफ के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण होता है. हालांकि वे सेक्स के प्रति पैशनेट नहीं होते, लेकिन अपने पार्टनर और रिश्ते के प्रति वफ़ादार होते हैं.

ग्रे कलर

जिन दंपतियों के बेडरूम का कलर ग्रे होता है, सेक्स में उनकी रुचि कम होती है. पुरुष पार्टनर के लिए सेक्स मात्र तनाव दूर करने का एक ज़रिया होता है, उसी तरह से महिला पार्टनर भी सेक्स को मात्र फॉर्मैलिटीज़ मानकर करती है.

                                  – पूनम कोठारी

यह भी पढ़ें:  जानें परफेक्ट सेक्स पार्टनर की 5 ख़ूबियां (5 Signs Of Perfect Sex Partner)

10 अलर्ट्स जो बताएंगे कहीं आपकी सेक्स लाइफ बेरंग तो नहीं? (10 Alerts Of Colorless Sex Life)

शादी के कुछ सालों बाद कपल्स (Couples) की सेक्स लाइफ (Sex Life) में रूटीन (Routine) आ जाता है, जिससे अपनी उन्हें सेक्स लाइफ बेरंग (Colorless) लगने लगती है. इसके बहुत से कारण हो सकते हैं. कभी-कभी तो कपल्स को एहसास ही नहीं होता कि उनकी सेक्स लाइफ बेरंग हो गई है. अगर आपकी सेक्स लाइफ बहुत इंट्रेस्टिंग नहीं है, तो आप भी इन अलर्ट्स को देखें और पहचानें कि कहीं आपकी सेक्स लाइफ भी बेरंग तो नहीं हो गई है.

Colorless Sex Life

अलर्ट्स जो बताएंगे कहीं आपकी सेक्स लाइफ बेरंग तो नहीं?

1. सेक्स अब पहले की अपेक्षा कम होता है.

2. रोमांटिक बातें लगभग बंद हो गई.

3. सेक्स में कुछ नया करने की चाह नहीं होती.

4. सेक्स मात्र शारीरिक क्रिया बनकर रह गई.

5. एक-दूसरे की बात सुनने या चाहत जानने की जिज्ञासा नहीं रही.

6. पार्टनर सेक्स को टालने लगे हैं.

7. हमेशा थकान या बिज़ी रहने के कारण सेक्स में दिलचस्पी कम हो गई.

8. सेक्स को पहले की तरह एंजॉय नहीं करते.

9. सेक्स के समय पार्टनर की दिलचस्पी और उसका सहयोग नहीं मिलता.

10. पार्टनर अब पहले की तरह आकर्षक नहीं लगता, फिर भले ही वो कितने ही आकर्षक कपड़ों में सामने आए और सेक्स में पहल भी करे, लेकिन आपका ध्यान ही नहीं जाता उसकी तरफ़.

ये तमाम लक्षण आपके लिए सिग्नल है कि आपको कुछ करना होगा, ताकि आपकी सेक्स लाइफ बोरिंग रूटीन बनकर न रह जाए.

फिर से लाएं खोई गर्माहट और ताज़गी

– पार्टनर की दिलचस्पी सेक्स में कम हो गई है, तो आपका फर्ज़ बनता है कि आप पहल करें और पार्टनर की दिलचस्पी फिर से जगाएं.

– पार्टनर से पूछें कि उसे कोई मानसिक या शारीरिक समस्या तो नहीं. यदि है, तो एक्सपर्ट से संपर्क करें.

– सेक्स में ज़बर्दस्ती कभी भी न करें, क्योंकि इससे पार्टनर की सेक्स के प्रति दिलचस्पी और आपके प्रति लगाव भी कम होता जाएगा.

– उससे प्यार से बात करें, बात करते समय सहलाएं. चूमें और बालों में हल्के-हल्के उंगलियां फेरें. ऐसा करने पर मूड न होने पर भी धीरे-धीरे मूड बनने लगता है और पार्टनर बेहतर महसूस करता है.

– हाइजीन का पूरा ख़्याल रखें. कई बार इस तरह की बातें भी सेक्स में दिलचस्पी कम कर देती हैं और पार्टनर चाहकर भी कुछ बोल नहीं पाता. बेहतर होगा कपल्स साफ़-सफ़ाई का पूरा ध्यान रखें.

– कमरे का माहौल भी शांत और रोमांटिक हो. चादर वगैरह भी साफ़-सुथरी होनी चाहिए.

यह भी पढ़ें: जानें परफेक्ट सेक्स पार्टनर की 5 ख़ूबियां (5 Signs Of Perfect Sex Partner)

Sex Life

– बेडरूम को अपने स्मार्ट फोन और लैपटॉप से दूर ही रखें. बहुत ज़्यादा इनका प्रयोग या टीवी देखना भी सेक्स लाइफ पर नकारात्मक प्रभाव डालता है. अक्सर इन गैजेट्स ने हमारी लाइफ में बहुत हद तक जगह बना ली है, लेकिन इन्हें हम-तुम के बीच ‘वो’ न बनने दें. इससे पार्टनर को लगेगा कि आपको उसमें दिलचस्पी ही नहीं है और न आपका ध्यान उसकी बातों की तरफ़ है.

– पर्सनल टाइम में पार्टनर को पूरा अटेंशन दें, उसे यह लगना चाहिए कि यह व़क्त स़िर्फ और स़िर्फ आप दोनों का है, जिसमें किसी और के लिए कोई जगह नहीं.

– पार्टनर को यह महसूस कराएं कि सेक्स से भी कहीं अधिक ज़रूरी आपके लिए उनका साथ है. इस तरह का भावनात्मक लगाव एक-दूसरे को और क़रीब लाता है.

– सेक्स में क्या नयापन लाना चाहिए इस पर भी खुलकर न स़िर्फ चर्चा करें, बल्कि साथ मिलकर प्लान करें कि आज की रात या इस वीकेंड को कैसे और भी रोमांटिक बनाया जा सकता है.

– कलर्स भी सेक्स लाइफ पर प्रभाव डालते हैं, तो एक-दूसरे की पसंद-नापसंद को ध्यान में रखते हुए कमरे में कलर्स ऐड करें और अपने आउटफिट्स और इनर वेयर में भी सेक्सी कलर्स और स्टाइल सिलेक्ट करें.

– सेक्स के व़क्त काम व तनाव को भूलकर पार्टनर पर ही पूरा ध्यान केंद्रित होना चाहिए, वरना अक्सर लोग उस व़क्त भी दूसरी बातें करते हैं और सेक्स को एक क्रिया मात्र बना देते हैं, जिससे पार्टनर को लगता है कि उनका साथी उन्हें स़िर्फ इच्छा पूरी करने वाला जिस्म समझता है.

– दूसरी तरफ़ कुछ लोग सेक्स को एक हथियार के रूप में भी इस्तेमाल करते हैं, ख़ासकर महिलाएं सेक्स को इमोशनल ब्लैक मेलिंग का बेहतरीन हथियार समझती हैं और सेक्स के व़क्त ही तरह-तरह की डिमांड करके पति से बातें मनावाने की कोशिश करती हैं. ऐसा करने से पति के मन में पत्नी के प्रति वो सम्मान नहीं रह जाता और वो भी प्रैक्टिकल अप्रोच अपनाने लगता है.

– सेक्स के समय रोमांटिक बातें ही करें. ताने-उलाहने व शिकवे-शिकायत से बचें.

– पुरानी रोमांटिक बातें व साथ गुज़ारे हसीन पलों को याद करें, उन पर बात करें, साथ हसें, खिलखिलाएं, क्योंकि ये तमाम बातें आपको ताज़गी का एहसास कराती हैं.

– सेक्स लाइफ को बोरिंग होने से बचाने का मतलब स़िर्फ बेडरूम तक ही सीमित नहीं होता, बल्कि हर पल, हर लम्हे को आपके बेहतर बनाना होगा. एक-दूसरे का अटेंशन देना होगा, क्योंकि पूरे दिन के क्रिया-कलापों का निचाड़ ही सेक्स लाइफ में झलकता है. दिन अच्छा होगा, मूड अच्छा होगा, तो रिश्ता बेहतर होगा… और बेहतर रिश्ते का मतलब है बेहतर सेक्स लाइफ और मज़ूबत-अटूट बंधन.

– विजयलक्ष्मी

यह भी पढ़ें: कितना फ़ायदेमंद है हस्तमैथुन? (Health Benefits Of Masturbation)

यह भी पढ़ें: सेक्स लाइफ का राशि कनेक्शन (What Does Your Zodiac Sign Say About Your Sex Life?)

बोरिंग सेक्स लाइफ में यूं लाएं नया रोमांच (Hot Sex Ideas To Spice Up Your Boring Sex Life)

शादी के शुरुआती साल बेहद हसीन होते हैं. पार्टनर एक-दूसरे को समझने के साथ-साथ एक-दूसरे की कंपनी, क़रीब होने का एहसास और प्यार-मुहब्बत को काफ़ी एंजॉय करते हैं. लेकिन अक्सर ऐसा होता है कि धीरे-धीरे ज़िम्मेदारियां बढ़ती हैं और एक्साइटमेंट की जगह रूटीन लाइफ कपल्स (Life Couple) की ज़िंदगी का हिस्सा हो जाती है. इसमें कहीं न कहीं सेक्स (Sex) भी रूटीन सा ही होने लगता है, जिसका असर आपसी रिश्तों (Relationships) पर पड़ने लगता है. बेहतर होगा कि आप अपनी सेक्स लाइफ (Sex Life) को बोरिंग (Boring) न होने दें, ताकि आपके रिश्ते में गर्माहट बनी रहे.

Hot Sex Ideas

  1. साथ बिताने के लिए अगर समय नहीं है, तो ज़ाहिर है भावनात्मक लगाव पर नकारात्मक प्रभाव होगा और बिना भावनात्मक लगाव के सेक्स भी बोरियत का ही एहसास कराएगा.

क्या करें: भले ही आप कितने भी बिज़ी हों, आपको एक-दूसरे के लिए समय निकालना ही होगा. वीकेंड पर बाइक राइड या लॉन्ग ड्राइव पर जाएं. आप बीच, वॉटर पार्क, मूवी या आसपास के गार्डन में भी जाकर कुछ समय एक-दूसरे के साथ बिता सकते हैं. आपस में बिताए इस समय का असर आपकी बेडरूम लाइफ पर काफ़ी सकारत्मक होगा.

2. कुछ साल साथ रहने के बाद सेक्स को लेकर एक्साइटमेंट कम हो जाता है और सेक्स लाइफ बेहद बोरिंग होने लगती है.

क्या करें: कुछ नया करें. बेडरूम में कैंडल्स जलाएं और रोमांटिक माहौल बनाएं. अपने पार्टनर से पूछें कि वो सेक्स में क्या नया चाहते हैं और ख़ुद भी अपनी चाहत के बारे में बताएं. सेक्सी आउटफिट पहनें और सेक्सी बातें करें. इससे नयापन आएगा.

3. अक्सर कपल्स बिज़ी रहते हैं और थक जाते हैं. यही थकान उनके रिश्तों और सेक्स लाइफ में भी नज़र आने लगती है.

क्या करें: अपने रिश्ते को सबसे अधिक अहमियत दें. अपनी प्रायोरिटी लिस्ट में अपने रिश्ते को टॉप पर रखेंगे, तो रिश्ते में थकान कभी नहीं आएगी. इसके अलावा यदि आप एक-दूसरे को अधिक महत्व देंगे और सपोर्ट करेंगे, तो बाकी चीज़ों व समस्याओं से बेहतर तरी़के से निपट सकेंगे. इससे तनाव और थकान दोनों ही नहीं होगी.

4. अक्सर कपल्स एक-दूसरे से कहने में झिझकते हैं कि वो सेक्स लाइफ में बदलाव चाहते हैं और कुछ नया करना चाहते हैं. उन्हें लगता है कि कहीं पार्टनर बुरा न मान जाए और उसे यह न लगे कि वो उससे संतुष्ट नहीं.

क्या करें: बात करें, लेकिन बात करने का तरीक़ा ऐसा हो कि पार्टनर को बुरा भी न लगे. आप ये न कहें कि आप बोर हो गए/गई हैं, बल्कि यह कहें कि हमको कुछ अलग और न्यू ट्राई करना चाहिए. कम्यूनिकेशन बहुत ज़रूरी है और पॉज़िटिव कम्यूनिकेशन आपकी सेक्स लाइफ और बेहतर बनाता है.

5. रूटीन लाइफ के चलते छोटी-छोटी ख़ुशियों के महत्व को भी आप भूलने लगते हैं. एक-दूसरे को छूना, कॉम्प्लीमेंट देना, गिफ्ट देना, सरप्राइज़ देना आदि एकदम से रिश्ते में से ग़ायब ही हो जाता है.

क्या करें: इन बातों को कभी भी अपने रिश्ते से ग़ायब न होने दें. एक-दूसरे के लुक्स व फिटनेस को सराहें. प्यारभरी शरारतें, एक-दूसरे का छूना, गले लगना, किस करना… इस तरह की तमाम छोटी-छोटी बातें रिश्ते को ताज़ा रखती हैं. कभी एक छोटा-सा मैसेज, एक सरप्राइज़ गिफ्ट किस तरह से आपकी रूटीन लाइफ में ताज़गी भर देगा आप सोच भी नहीं सकता. इन सबका असर आपकी सेक्स लाइफ पर भी ज़रूर पड़ता है.

6. बहुत कोशिश के बाद भी साथ समय नहीं बिता पाते, तो ऐसे में रिश्ते में बासीपन और स्वभाव में चिड़चिड़ापन आ जाता है, जो सेक्स लाइफ को बुरी तरह प्रभावित करता है.

क्या करें: कुछ रोचक व इनोवेटिव सोचें, जहां आप साथ में समय बिता सकें. एक साथ वर्कआउट करेें, जॉगिंग या वॉक के लिए जाएं. स्विमिंग क्लास या डांस क्लास जॉइन करें. ये बातें आपको एक-दूसरे के क़रीब लाएंगी. थोड़ा समय निकालकर एक-दूसरे को सेक्सी मसाज दें, इससे नयापन आएगा और आप दोनों फ्रेश फील करेंगे.

यह भी पढ़ें: कितना फ़ायदेमंद है हस्तमैथुन? (Health Benefits Of Masturbation)

यह भी पढ़ें: सेक्स लाइफ का राशि कनेक्शन (What Does Your Zodiac Sign Say About Your Sex Life?)

– विजयलक्ष्मी