Tag Archives: sexually transmitted disease

पर्सनल प्रॉब्लम्स: वेजाइनल डिस्चार्ज के साथ होनेवाली खुजली कहीं एसटीडी तो नहीं? (Does STD Causes Itching & Vaginal Discharge?)

STD Causes, Itching, Vaginal Discharge

मैं 26 वर्षीया महिला हूं और पिछले कई दिनों से योनिस्राव के साथ-साथ होनेवाली खुजली और बदबू से परेशान हूं. मुझे डर है कि कहीं यह वेजाइनल इंफेक्शन या सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिसीज़ (एसटीडी) तो नहीं? कृपया, मेरा मागदर्शन करें.

– दिव्या कौल, श्रीनगर.

आपके द्वारा बताए गए लक्षणों से लग रहा है कि आपको यीस्ट इंफेक्शन है, जो एसटीडी नहीं है. ऐसा बैक्टीरियल इंफेक्शन के कारण भी हो सकता है. आपको तुरंत किसी गायनाकोलॉजिस्ट को मिलना चाहिए, ताकि जल्द से जल्द सही उपचार हो सके. गायनाकोलॉजिस्ट योनिस्राव के बहाव को ध्यान में रखते हुए आपको व आपके पति को एसटीडी के लिए टेस्ट की सलाह भी दे सकते हैं.

यह भी पढ़ें: कंडोम के इस्तेमाल से प्राइवेट पार्ट में खुजली व जलन क्यों होती है?

व्हाइट डिस्चार्ज की समस्या के 5 आसान घरेलू उपाय- देखें वीडियो:

 

STD Causes, Itching, Vaginal Discharge

यह भी पढ़ें: शारीरिक संबंध के बाद १-२ दिन तक ब्लीडिंग क्यों होती है?

मैं 27 वर्षीया कामकाजी महिला हूं. 4 महीने पहले मेरी मां की ब्रेस्ट कैंसर के कारण सर्जरी हुई है. पिछले कुछ हफ़्तों से मेरी बाईं छाती में गांठ जैसी महसूस हो रही है, जिसे छूने पर दर्द होता है. क्या मुझे गायनाकोलॉजिस्ट को मिलना चाहिए?

– गहना उपाध्याय, हावड़ा.

अगर आपको गांठ महसूस हो रही है, तो आपको तुरंत किसी गायनाकोलॉजिस्ट को मिलना चाहिए. आमतौर पर कैंसरयुक्त गांठ में दर्द नहीं होता, पर क्योंकि हाल ही में आपकी मां ब्रेस्ट कैंसर से पीड़ित थीं, इसलिए आपके लिए रिस्क बढ़ जाता है. मैमोग्राफी या सोनोमैमोग्राफी के ज़रिए डॉक्टर आपकी गांठ की जांच कर सकते हैं. इसके अलावा हर महिला को माहवारी के 8वें दिन सेल्फ ब्रेस्ट एक्ज़ामिनेशन करना चाहिए. इसके लिए आइने के सामने खड़े होकर अपने हाथों को पुट्ठों पर रखकर दोनों ब्रेस्ट्स का आकार देखें. निप्पल्स से किसी प्रकार का स्राव तो नहीं हो रहा. उसके बाद उंगलियों से दबाकर देखें कि कहीं कोई गांठ तो नहीं. 40 साल के बाद सभी महिलाओं को हर साल मैमोग्राफी करानी चाहिए.

 

डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

 

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

 

 

पर्सनल प्रॉब्लम्स: क्या एक्स्ट्रा निप्पल होना नॉर्मल है? (Why Do I Have Extra Nipple?)

Extra Nipple

मेरी सहेली बताती है कि उसे एक एक्स्ट्रा निप्पल (Extra Nipple) है. क्या यह नॉर्मल बात है? क्या उसे सर्जरी करानी पड़ेगी या वो इसी तरह रह सकती है. इस बात को लेकर वो बहुत परेशान रहती है. कृपया, बताएं कि क्या सही है. उसे क्या करना चाहिए?

– लता अग्रवाल, सागर.

आपने अपनी सहेली के बारे में जो भी जानकारी दी है, वह कॉमन है. इसमें डरनेवाली कोई बात नहीं है. इस एक्स्ट्रा निप्पल को सुपरन्यूमररी निप्पल कहते हैं. कुछ लोगों में यह जन्मजात भी होता है. सबसे पहले आपकी फ्रेंड को अपना चेकअप करवाना होगा, ताकि पता चल सके कि उन्हें कोई और प्रॉब्लम तो नहीं. एक्स्ट्रा निप्पल को प्लास्टिक सर्जन सर्जरी से निकाल देंगे. इसके लिए बस आपको एक अच्छे प्लास्टिक सर्जन से मिलना होगा.

यह भी पढ़ेंक्या प्रेग्नेंसी में बहुत ज़्यादा उल्टियां होना नॉर्मल है?

Extra Nipple

मैं 33 वर्षीया महिला हूं, पर अभी तक मां नहीं बन पाई हूं. कुछ समय पहले मैंने कंसीव किया था, पर ट्यूब में प्रेग्नेंसी होने के कारण तुरंत सर्जरी करवानी पड़ी थी. मुझे यह जानना है कि क्या इसके बाद मैं नेचुरली कंसीव कर पाऊंगी?

– राजेश्‍वरी पांडेय, पालमपुर.

महिलाओं में दो ट्यूब्स होती हैं, जिन्हें फैलोपियन ट्यूब्स कहते हैं. ये क़रीब 10 सेंटीमीटर लंबी होती हैं. ट्यूबरकुलोसिस (टीबी), प्रमेह, सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिसीज़ और अन्य यौन रोगों के कारण ट्यूब्स में इंफेक्शन हो सकता है या वो पूरी तरह ख़राब भी हो सकती हैं. जैसा कि आपने बताया कि आपकी इमर्जेंसी में सर्जरी की गई थी, दरअसल उसमें आपकी डैमेज्ड ट्यूब निकाल दी गई होगी. सबसे पहले आपकी दूसरी ट्यूब को चेक करना होगा कि उसमें कोई इंफेक्शन तो नहीं, क्योंकि अगर आपकी एक ट्यूब भी
सही-सलामत है, तो आपके नेचुरली कंसीव करने के अभी भी 50% चांसेस हैं. इस बारे में अधिक जानकारी के लिए किसी फर्टिलिटी एक्सपर्ट से मिलें.

यह भी पढ़ें: क्या गर्भाशय का न होना मुमकिन है?

सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिसीज़ से बचने के लिए क्या करें?

  • हर बार सेक्स के दौरान लेटेक्स कंडोम इस्तेमाल करें. कंडोम के साथ-साथ कोई अन्य फैमिली प्लानिंग भी करवाएं.
  • टॉवेल्स या अंडरगार्मेंट्स शेयर करने से बचें.
  • इंटरकोर्स के पहले और बाद में प्राइवेट पार्ट्स को अच्छी तरह साफ़ करें.
  • हेपेटाइटिस बी का वैक्सीनेशन लगवाएं.
  • समय-समय पर एचआईवी की जांच कराते रहें.
  • अगर आपको सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिसीज़ है, तो पार्टनर से रिलेशन न बनाएं, वरना उसे भी इंफेक्शन हो जाएगा.

rajeshree-kumar-167x250

डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected] 

 

 

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

महिलाओं की ऐसी ही अन्य पर्सनल प्रॉब्लम्स पढ़ें