Tag Archives: Shardiya Navratri

नवरात्रि 2019: जानें शरद नवरात्रि कलश/घट स्थापना का शुभ मुहूर्त और पूजन विधि (Shardiya Navratri 2019: Date-Time-Kalash Sthapana Muhurat-Puja Vidhi-Colours)

शरद नवरात्रि 29 सितंबर 2019 से शुरू हो रहा है. मां दुर्गा का आशीर्वाद पाने और हर मनोकामना पूरी करने के लिए नवरात्रि कलश/घट स्थापना का शुभ मुहूर्त और पूजन विधि जान लें. पंडित राजेंद्रजी बता रहे हैं शरद नवरात्रि कलश/घट स्थापना का शुभ मुहूर्त और पूजन विधि.

Shardiya Navratri 2019

ये है शरद नवरात्रि कलश/घट स्थापना का शुभ मुहूर्त
मां दुर्गा की कृपा पाने के लिए कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त सुबह 6 बजकर 16 मिनट से लेकर 7 बजकर 40 मिनट तक रहेगा. इसके अलावा जो भक्त सुबह कलश स्थापना न कर पाएं, उनके लिए दिन में 11 बजकर 48 मिनट से लेकर 12 बजकर 35 मिनट तक का समय कलश/घट स्थापना के लिए शुभ है. अत: इन दो मुहूर्त में आप अपनी सुविधानुसार शरद नवरात्रि कलश/घट स्थापना कर सकते हैं.

 

ये है कलश/घट स्थापना का सही तरीका
कलश/घट स्थापना करने के लिए व्यक्ति को नदी की रेत का उपयोग करना चाहिए. इस रेत में जौ डालने के बाद कलश में गंगाजल, लौंग, इलायची, पान, सुपारी, रोली, कलावा, चंदन, अक्षत, हल्दी, रुपया, पुष्प आदि डालें. इसके बाद ॐ भूम्यै नमः कहते हुए कलश को 7 अनाज के साथ रेत के ऊपर स्थापित कर दें. कलश की जगह पर नौ दिन तक अखंड दीप जलता रहे.

यह भी पढ़ें: नवरात्रि स्पेशल: नवरात्रि में किस राशि वाले किस देवी की पूजा करें (Navratri Special: Durga Puja According To Zodiac Sign)

Shardiya Navratri 2019

 

नवरात्रि में ऐसे करें मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा

1) पहला दिन: इस दिन मां दुर्गा के नौ रूपों में से प्रथम रूप मां शैलपुत्री की पूजा की जाती है. मां शैलपुत्री चंद्रमा को नियंत्रित करती हैं इसलिए इनकी पूजा करने से चंद्रमा से संबंधित दोषों का निवारण होता है.

2) दूसरा दिन: इस दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा की जाती है. ज्योतिषशास्त्र के अनुसार, मां ब्रह्मचारिणी मंगल ग्रह को नियंत्रित करती हैं इसलिए इनकी पूजा करने से मंगल दोष कम किए जा सकते हैं.

3) तीसरा दिन: इस दिन मां चंद्रघंटा की पूजा की जाती है. मां चंद्रघंटा शुक्र ग्रह को नियंत्रित करती हैं इसलिए इनकी पूजा करने से शुक्र ग्रह के बुरे प्रभाव को कम किया जा सकता है.

4) चौथा दिन: इस दिन मां कुष्मांडा की पूजा की जाती है. मां कुष्मांडा की पूजा करने से सूर्य के बुरे प्रभाव को कम किया जा सकता है.

5) पांचवां दिन: इस दिन मां स्कंदमाता की पूजा की जाती है. मां स्कंदमाता बुध ग्रह को नियंत्रित करती हैं इसलिए इनकी पूजा करने से बुध ग्रह के दोषों को कम किया जा सकता है.

6) छठा दिन: इस दिन मां कात्यायनी की पूजा की जाती है. मां कात्यायनी बृहस्पति ग्रह को नियंत्रित करती हैं इसलिए इनकी पूजा करने से बृहस्पति के कुप्रभाव को कम किया जा सकता है.

7) सातवां दिन: इस दिन मां कालरात्रि की पूजा की जाती है. मां कालरात्रि शनि ग्रह को नियंत्रित करती हैं इसलिए इनकी पूजा करने से शनि दोष को दूर किया जा सकता है.

8) आठवां दिन: इस दिन मां महागौरी की पूजा की जाती है. मां महागौरी राहु ग्रह को नियंत्रित करती हैं इसलिए इनकी पूजा करने से राहु के कुप्रभाव को कम किया जा सकता है.

9) नौवां दिन: इस दिन मां सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है. मां सिद्धिदात्री केतु ग्रह को नियंत्रित करती हैं इसलिए इनकी पूजा करके केतु के बुरे प्रभाव को दूर किया जा सकता है.

यह भी पढ़ें: नवरात्र स्पेशल: किस दिन क्या भोग लगाएं (Navratri Special: 9 Bhog For Nav Durga)

Shardiya Navratri

ये है नवरात्रि में नौ रंगों का महत्व
नवरात्रि में नौ रंगों का बहुत महत्व होता है. नवरात्रि में हर दिन का एक रंग होता है इसलिए ख़ासकर महिलाएं उस दिन उसी रंग के कपड़े पहनती हैं. ऐसी मान्यता है कि नवरात्रि में नौ रंग पहनकर सुख-सौभाग्य की प्राप्ति होती है.

शरद नवरात्रि 2019 में किस दिन कौन-सा रंग पहनें

1) नवरात्रि पहला दिन- 29 सितंबर 2019- ऑरेंज कलर (Orange Colour)

2) नवरात्रि दूसरा दिन- 30 सितंबर 2019- सफेद रंग (White Colour)

3) नवरात्रि तीसरा दिन- 1 अक्टूबर 2019- लाल रंग (Red Colour)

4) नवरात्रि चौथा दिन- 2 अक्टूबर 2019- रॉयल ब्लू कलर (Royal Blue Colour)

5) नवरात्रि पांचवां दिन- 3 अक्टूबर 2019- पीला रंग (Yellow Colour)

6) नवरात्रि छठा दिन- 4 अक्टूबर 2019- हरा रंग (Green Colour)

7) नवरात्रि सातवां दिन- 5 अक्टूबर 2019- ग्रे कलर (Gray Colour)

8) नवरात्रि आठवां दिन- 6 अक्टूबर 2019- बैंगनी रंग (Purple Colour)

9) नवरात्रि नौवां दिन- 7 अक्टूबर 2019- पीकॉक ग्रीन कलर (Peacock Green Colour)

यह भी पढ़ें: नवरात्रि स्पेशल: 10 सरल उपाय नवरात्र में पूरी करते हैं मनचाही मुराद (Navratri Special: 10 Special Tips For Navratri Puja)