Shekhar Kapur

सिनेमा घरों में राष्ट्रगान को अनिवार्य किए जाने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर बॉलीवुड दो गुटों में बंट गया है. कुछ सेलेब्रिटीज़ इस फैसले से ख़ुश हैं और कुछ नाराज़. आइए जानते हैं किसने क्या कहा?

IMG_20161201_153952 (1)

शेखर कपूर ने टि्वटर पर कहा, ”उम्मीद है कि सुप्रीम कोर्ट संसद में भी हर सदन से पहले राष्ट्रगान गाने का आदेश दे दे. आखिरकार वहां भी फिल्मों की तरह ड्रामा होता है.” 

राम गोपाल वर्मा ने भी टि्वटर पर इससे जुड़े कई सवाल पूछे हैं. उन्होंने लिखा है, ”सम्मान दिल से महसूस किया जाना चाहिए. अगर ज़बरदस्ती सम्मान करने के लिए कहा जाएगा तो ये और भी अपमानजनक होगा.”

राम गोपाल वर्मा ने ताना देते हुए कई सवाल किए कि नाइट क्लबों में ड्रिंकिंग और डांसिग शुरू होने से पहले राष्ट्रगान बजाने को अनिवार्य क्यों नहीं किया जाना चाहिए? मंदिरों, चर्च और मस्जिदों में प्रार्थना से पहले क्या राष्ट्रगान नहीं बजना चाहिए?

चेतन भगत भी कोर्ट के इस फैसले से काफ़ी नाराज़ नज़र आए. उनका टि्वटर पेज इसी विषय से भरा पड़ा है.

प्रकाश झा सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले से काफ़ी ख़ुश नज़र आए. उन्होंने कहा, ”इस फैसले का पूरे दिल से स्वागत है…जय हो!”

परेश रावल ने भी सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत किया और इस फैसले का विरोध कर रहे लोगों पर निशाना साधते हुए कहा, ”जो इसका विरोध कर रहे हैं, मुझे लगता है कि उनमें बुद्धि कम है. वे हर चीज का विरोध करेंगे. यह एक अच्छा फैसला है.’’ संसद के बाहर परेश ने कहा, ” अगर हमारा राष्ट्रगान नहीं बजेगा तो किसका बजेगा, सोमालिया का?”

अशोक पंडित ने भी कोर्ट को सम्मान देते हुए इस फैसले का स्वागत किया है.