Shreyas Talpade

अक्षय कुमार की फिल्‍म ‘लक्ष्मी बॉम्ब’ का पोस्‍टर और ट्रेलर रिलीज हो चुका है, जिसमें वह लाल साड़ी पहने हुए बेहद हैरान कर देने वाले लुक में नजर आ रहे हैं. ये फ़िल्म जल्दी ही डिजिटल प्लेटफार्म पर रिलीज होगी, लेकिन फ़िल्म में अक्षय के फीमेल गेटअप को लेकर आजकल बड़ी चर्चा है.

Akshay Kumar Ayushman Kurana in female role


वैसे ये पहली बार नहीं है कि कोई एक्टर लड़की के किरदार में नजर आ रहा है, इससे पहले कमल हासन से लेकर गोविंदा, शाहरुख और आमिर खान जैसे तमाम बड़े स्टार्स भी महिलाओं के गेटअप में नजर आ चुके हैं। खुद अक्षय कुमार इससे पहले फिल्म ‘खिलाड़ी’ के एक सीन में लड़की का किरदार निभाते हुए नजर आए थे.

Akshay Kumar in female role


आयुष्‍मान खुराना

Ayushman in female role


आयुष्‍मान खुराना की हाल ही में रिलीज हुई फिल्‍म ‘ड्रीम गर्ल’ में वे अपने ‘पूजा’ के लुक के चलते हुए खूब पॉपुलर हुए थे. इस फिल्म में आयुष्मान फीमेल टेलीकॉलर का किरदार निभाया था, जो पैसे कमाने के चक्कर में लड़की की तरह सिर्फ बोलता ही नहीं है. फ़िल्म में कई बार वे लड़की के गेटअप नज़र भी आए हैं. फ़िल्म में उनके इस unconventional रोल के लिए काफी सराहना मिली.

अमिताभ बच्चन

Amitabh Bachchan in female role


बिग बी अमिताभ बच्चन फिल्म ‘मुकद्दर का सिकंदर’ में महिला गेटअप में नज़र आए थे. इस फ़िल्म के गाने मेरे अंगने में तुम्हारा क्या काम है में अलग अलग महिला गेटअप में उनके लुक को लोगों ने खूब एन्जॉय किया था. आज भी ये गाना और उनका लुक सबको बहुत पसंद आता है.

सलमान खान

Salman Khan in female role


हमारे दबंग सलमान खान भी फिल्म ‘जान-ए-मन’ में एक लड़की के किरदार में नजर आ चुके हैं. फिल्म में सलमान पिंक ड्रेस में मस्कुलर बॉडी के साथ, किसी फीमेल बॉडी बिल्डर जैसे लग रहे थे.

शाहरुख खान

Shahrukh Khan in female role


किंग खान यानी बॉलीवुड के बादशाह शाहरुख खान ने भी फिल्म ‘डुप्लीकेट’ में एक फीमेल कैरेक्टर निभाया था. उनका ये लुक सच में बेहद क्यूट था.

रितेश देशमुख

Ritesh Deshmukh in female role


रितेश ने कई फिल्मों में लड़कियों का किरदार निभाया है. ‘अपना सपना मनी मनी’ और ‘हमशक्ल’ में रितेश लड़की के कैरेक्टर में नजर आए थे और बेहद क्यूट लगे थे. साल 2006 में रिलीज हुई इस फिल्म का निर्देशन संगीत सिवान ने किया था.

सैफ अली खान   

Saif Ali Khan in female role


फिल्म ‘हमशकल्स’ में सैफ अली खान भी महिला का किरदार निभा चुके हैं.

शाहिद कपूर

Shahid Kapoor in female role


शाहिद कपूर फ़िल्म ‘मिलेंगे मिलेंगे’ के कुछ सीन्स में लड़की के गेटअप में नज़र आये थे. ये फ़िल्म तो थी रोमांटिक ड्रामा फ़िल्म, पर कुछ सीन्स की डिमांड को ध्यान में रखते हुए वो लड़की बने थे. फ़िल्म में उनकी हीरोइन थीं करीना कपूर.

श्रेयस तलपड़े

Shreyas Talpade in female role


बॅालीवुड स्टार श्रेयस तलपड़े एक बार नहीं, कई बार महिला किरदार निभा चुके हैं. ‘पेइंग गेस्ट’ और ‘गोलमाल 2’ जैसी फिल्मों में उनके महिला गेटअप और उनकी कॉमेडी ने सबको खूब हंसाया था.

आमिर खान

Aamir khan in female role


आशुतोष गोवारिकर की फिल्म ‘बाजी’ में एक्टर आमिर खान एक आइटम सॉन्ग के लिए महिला किरदार में नजर आए थे. आमिर ने ‘डोले डोले दिल’ के लिए पूरी बॉडी वैक्सिंग कराई थी. साल 1995 में आई आमिर खान की फिल्‍म ‘बाज़ी’ का एक गाना ‘डोल डोले दिल डोल’ खूब चर्चा में रहा था. फिल्म में वैसे तो आमिर का रोल एक पुलिस अफसर का था, लेकिन एक स्टिंग के लिए उन्होंने लड़की का लुक अपनाया था. इसके अलावा वो टाटा स्काई, कोका कोला, और गोदरेज के टीवी एड्स में भी फीमेल अवतार में नजर आ चुके हैं…

कमल हासन

Kamal Haasan in female role


साउथ की फिल्मों और बॅालीवुड के सुपरस्टार कमल हासन फिल्म ‘चाची 420’ में महिला के किरदार में दिखाई दिए थे. इस फ़िल्म में कमल अपनी बेटी के लिए कामवाली बाई बनते हैं. फ़िल्म को दर्शकों का खूब प्यार मिला. कमल हसन के किरदार को लोगों ने इतना पसंद किया कि फ़िल्म का नाम सुनते ही आज भी उन्हें सबसे पहले कमल हासन का नाम याद आता है.

गोविंदा

Govinda in female role


गोविंदा ने कॉमिक रोल के लिए कई फिल्मों में महिला का किरदार निभाया है. इनमें ‘आंटी नंबर वन’, ‘राजा बाबू’ ‘हद कर दी आपने’ और ‘शोला और शबनम’ मुख्य हैं.  गोविंदा का ‘आंटी नंबर वन’ में महारानी का किरदार सबसे ज्यादा चर्चित रहा.

अजय देवगन

Ajay Devgan in female role


बेहद शर्मीले और ज़्यादातर एक्शन व सीरियस रोल करनेवाले सिंघम अजय देवगन ने साल 2008 में रिलीज हुई फिल्‍म ‘गोलमाल’ में महिला गेटअप में नजर आ चुके हैं.

संजय दत्त

Sanjay Dutt in female role


बॉलीवुड के मुन्ना भाई यानी संजय दत्त भी फिल्म ‘मेरा फैसला’ में एक महिला का क‍िरदार निभा चुके हैं. इसका खुलासा खुुुद संजय दत्‍त ने अपने एक इंटरव्‍यू में कि‍या था.

ऋषि कपूर

Rishi Kapoor in female role


70 के दशक में आई अपनी फिल्‍म ‘रफू चक्कर’ में एक हसीन लड़की का किरदार निभाकर ऋषि कपूर न जाने कितने दिलों की धड़कन बन गए थे. फीमेल गेटअप में एक्‍टर ने कई हसीनाओं को खूबसूरती में मामले में पीछे छोड़ दिया था.

शशि कपूर  

Sashi kapoor in female role


80 के दशक के मशहूर एक्टर शशि कपूर भी फिल्म ‘हसीना मान जाएगी’ में एक लड़की के गेटअप में डांस करते दिखे थे.

शम्मी कपूर  

Shammi kapoor in female role


शम्मी कपूर 1963 में आई फिल्म ‘ब्लफ मास्टर’ में महिला किरदार में नजर आए थे.

Bhaiaji Superhit Review

इन दिनों सनी देओल की कई सालों से अटकी फिल्में सिलसिलेवार आ रही हैं. पिछले हफ़्ते मौहल्ला अस्सी आई, जो काफ़ी समय से बन रही थी. अब आज भैयाजी सुपरहिट सिनेमा के पर्दे पर आ पाई है. दोनों ही फिल्मों में अभिनय के मामले में सनी देओल ने काबिल-ए-तारीफ़ अभिनय किया है.

भैयाजी अपनी पत्नी सपना के छोड़कर चले जाने से परेशान हैं. वे किसी भी क़ीमत पर अपनी पत्नी को वापस लाना चाहते हैं. इसके लिए फिल्मों में काम करने के लिए मुंबई आना, अभिनय करना, कुछ पुराने दुश्मनों से भिड़ना आदि चलता रहता है. इसमें निर्देशक व लेखक के रूप में अरशद-श्रेयस की जुगलबंदी देखते ही बनती है.

भैयाजी सुपरहिट में भी सनी देओल दबंग के क़िरदार में अपना दबदबा दिखाने में सफल रहे हैं. वे अपनी पत्नी सपना (प्रीति ज़िंटा) को बेइंतहा चाहते हैं और उससे डरते भी हैं. सपना के क़िरदार में प्रीति ने बेहतरीन काम किया है. वे बोलती कम और गोली ज़्यादा चलाती हैं. हमेशा शरारती-चुलबुली अंदाज़ में दिखनेवाली प्रीति एक नए ही अंदाज़ में सपना के रूप में चटक साड़ियों, भरी चूड़ियों में प्रभावशाली पत्नी के ज़बर्दस्त रोल में नज़र आती हैं. लंबे समय बाद प्रीति ज़िंटा को पर्दे पर देखना सुकून की तरह रहा. जब-जब पर्दे पर अरशद और श्रेयस की एंट्री होती है, लोगों के चेहरे पर मुस्कान आ जाती है. दोनों ही कलाकारों की कॉमेडी टाइमिंग लाजवाब है. कह सकते हैं कि प्रीति ज़िंटा के अलावा अन्य सभी कलाकारों यानी अमीषा पटेल, अरशद वारसी, श्रेयस तलपड़े, मिथुन चक्रवर्ती, मुकुल देव, जयदीप अहलावत, पंकज त्रिपाठी, संजय मिश्रा, प्रकाश राज, एवलिन शर्मा सभी ने अपनी-अपनी भूमिकाओं को पूरी ईमानदारी से निभाया है.

नीरज पाठक का निर्देशन स्तरीय है. थोड़ी-सी और मेहनत करते तो फिल्म के सभी उम्दा कलाकारों से और भी बढ़िया काम करवा सकते थे. निर्माता चिराग धारीवाल और फौजिया अर्शी के साहस की दाद देनी होगी कि इतने सालों बाद ही सही फिल्म रिलीज़ तो हुई. साजिद-वाजिद, संजीव-दर्शन, जीत गांगुली, राघव सच्चर, अमजद नजीम, फौजिया अर्शी जैसे संगीतकारों का जमावड़ा है, पर एक भी गाना दिलोदिमाग़ पर ठहर नहीं पाता है. सुखविंदर सिंह, असीस कौर, यासेर देसाई के गाए गीत बस थोड़ी-सी राहत भर दे पाते हैं. फिल्म में एक्शन, कॉमेडी के साथ ईमोशंस भी है. भैयाजी सुपरहिट  होगी की नहीं पता नहीं पर भैयाजी तो हमेशा ही हिट हैं.

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़ेदेखें Top 10 सुपरहिट पंजाबी गानें (Superhit Punjabi Songs)

कल यानी 10 नवंबर को फिल्म ओम शांति ओम के रिलीज़ हुए 10 वर्ष हो गए. इस अवसर पर फिल्म की डायरेक्टर फराह ख़ान ने दीपिका पादुकोण, शाहरुख ख़ान, अर्जुन रामपाल और श्रेयश तलपड़े के साथ पर्दे के पीछे के बहुत से दिलचस्प पिक्चर्स शेयर किए. उनमें से एक पिक्चर उस फोटोशूट का है, जिसे देखने के बाद फराह ख़ान ने दीपिका को इस फिल्म की हीरोइन के रूप में दीपिका को कास्ट करने का निर्णय किया था.

FIRST Photoshoot, Deepika Padukone

फराह ख़ान ने शाहरुख ख़ान को फिल्म के लिए शर्ट निकालने के लिए थैंक्स बोला.  फराह ख़ान ने फिल्म के म्यूज़िक डायरेक्टर विशाल-शेखर को भी शुक्रिया कहा.

FIRST Photoshoot, Deepika Padukone

फराह ने अर्जुन रामपाल के साथ की एक पिक्चर डाली, जिसमें वे बूढ़े व्यक्ति के गेटअप में हैं. फराह ने लिखा कि वे इस गेटअप में भी हैंडसम दिख रहे हैं.

FIRST Photoshoot, Deepika Padukone

FIRST Photoshoot, Deepika Padukone

FIRST Photoshoot, Deepika Padukone

FIRST Photoshoot, Deepika Padukone

FIRST Photoshoot, Deepika Padukone

FIRST Photoshoot, Deepika Padukone

FIRST Photoshoot, Deepika Padukone

ओम शांति ओम के 10 वर्ष पूरे होने की ख़ुशी में एक इंटरटेंमेंट पोर्टल से बात करते हुए फराह ने दीपिका की सफलता पर चर्चा की. उन्होंने कहा कि शाहरुख ख़ान के जन्मदिन की पार्टी में मैंने उससे कहा था कि तुमने इंडस्ट्री में 10 साल पूरे कर लिए. फराह दीपिका की तारीफ़ करते हुए बोलीं कि वे सिर्फ़ एेक्टर ही नहीं, बल्कि एक कमर्शियल हीरोइन है. जो अच्छा डांस करती है, ग्लैमरस दिखती है और साथ ही एेक्टिंग भी कर लेती है. उसने अपना करियर बहुत अच्छे से मैनेज किया है और मुझे उस पर गर्व है.

ये भी पढ़ेंः Delhi Pollution: वरुण, परिणीति और विजेंदर सिंह भी हैं दिल्ली के प्रदूषण से परेशान

 

फिल्म- गोलमाल अगेन (more…)

फिल्म: डैडी

स्टारकास्ट: अर्जुन रामपाल, फरहान अख्तर, राजेश श्रिंगारपुरे, निशिकांत कामत, ऐश्वर्या राजेश, आनंद इनागले, 

निर्देशक: आशिम अहलूवालिया

रेटिंग: 3.5 स्टार

फिल्म रिव्यू, डैडी, दगड़ी चाल, अरुण गुलाब गवली, अर्जुन रामपाल, फिल्म,पोस्टर बॉयज़, Movie Review, Daddy, Poster Boys

अर्जुन रामपाल एक अलग अंदाज़ में नज़र आ रहे है फिल्म डैडी में. फिल्म एक पॉलिटिकल ड्रामा है. अर्जुन न सिर्फ़ फिल्म में अभिनय कर रहे हैं, बल्कि वो इस फिल्म के को-राइटर भी हैं. आइए, जानते हैं कैसी है डैडी.

कहानी

कहानी है दगड़ी चाल में रहने वाले अरुण गुलाब गवली (अर्जुन रामपाल) की. फिल्म की शुरुआत होती है 70 के दशक से जब मुंबई की मिल्स पर ताला लग जाता है और मिल में काम करने वाले लोग बेरोज़गार हो जाते हैं. पैसों के लिए फिर वो धीरे-धीरे अंडरवर्ल्ड की तरफ़ बढ़ने लगते हैं. ऐसे में एक गैंग बनती है, जिसका नाम होता है बीआरए गैंग और इसके मुख्य सदस्य होते हैं, अरुण, बाबू (आनंद) और रामा (राजेश). फिल्म में मुंबई पर राज करने वाले अरुण गवली का केवल गैंगस्टर से पॉलिटिक्स तक पहुंचने का सफ़र ही नहीं दिखाया गया है, बल्कि एक पति, पिता और बाद में अपने अपराध के लिए सज़ा काटने की भी कहानी भी नज़र आएगी.

फिल्म की यूएसपी और कमज़ोर कड़ी

फिल्म की यूएसपी है अर्जुन की ऐक्टिंग. अर्जुन का लुक और डायलॉग बोलने का अंदाज़ बेहद प्रभावी है. फिल्म का पहला पार्ट अरुण गवली के डॉन बनने के सफ़र पर है, तो वहीं दूसरा भाग में परिवार और नेता बनने की कहानी दिखाई गई है.

70 के दशक को अच्छे ढंग से पर्दे पर उतारा गया है.

अशिम आहलुवालिया का निर्देशन और बेहतर हो सकता था.

स्क्रिप्ट में कमी रह गई थी, जो फिल्म में साफ़ नज़र आ रहा है.

मकसूद के किरदार में फरहान अख़्तर का अभिनय ठीकठाक है.

फिल्म देखने जाएं या नहीं

अगर आपको क्राइम या अंडरवर्ल्ड पर बनी फिल्में पसंद है, तो आप ये फिल्म देखने जा सकते हैं.

फिल्म: पोस्टर बॉयज़

स्टारकास्ट: सनी देओल, बॉबी देओल, श्रेयस तलपड़े, सोनाली कुलकर्णी,

निर्देशक: श्रेयस तलपड़े

रेटिंग: 3 स्टार

पोस्टर बॉयज़ इसी नाम पर बनी मराठी फिल्म की रीमेक है. कॉमेडी और ठहाकों के बीच फिल्म में एक ख़ास संदेश भी है, जिस पर शायद ही कोई खुलकर बात करता है. नसबंदी जैसे विषय को बड़े ही मज़ाकिया अंदाज़ में पेश करने की कोशिश की गई है फिल्म में.

कहानी

फिल्म शुरू होती है जंगेठी गांव से, जहां रहने वाले जगावर चौधरी (सनी देओल), विनय शर्मा (बॉबी देओल) और अर्जुन सिंह (श्रेयस तलपडे)अपनी तस्वीर नसबंदी के सरकारी पोस्टर पर देखकर झटका खा जाते हैं. तीनों में से किसी की भी नसबंदी नहीं हुई है. लेकिन इस ऐड की वजह से तीनों की ज़िंदगी में भूचाल आ जाता है. जगावर की बहन की शादी रुक जाती है. विनय की बीवी छोड़कर चली जाती है और अर्जुन शादी टूट जाती है. उनकी तस्वीर किसने इस सरकारी पोस्टर पर छापी है, इसका पता लगाने के लिए तीनों कमर कस लेते हैं. अब इस नसबंदी के पोस्टर की वजह से तीनों की लाइफ में क्या-क्या होता है और वो कैसे इससे निपटते हैं, ये जानने के लिए आपको फिल्म देखनी होगी.

फिल्म की यूएसपी और कमज़ोर कड़ी

फिल्म की यूएसपी है फिल्म का मज़ेदार सब्जेक्ट. सनी देओल, बॉबी देओल और श्रेयस तलपड़े की कॉमिक टाइमिंग ज़बरदस्त है.

फिल्म के वनलाइनर्स कमाल के हैं. कॉमेडी के डबल डोज़ के साथ सबसे ख़ास बात यह है कि ये फिल्म एक ज़रूरी संदेश भी देगी कि नसबंदी करवाना कोई ग़लत बात या कलंक नहीं है.

फिल्म के सभी कलाकारों का अभिनय अच्छा है.

फिल्म देखने जाएं या नहीं

अगर आपको कॉमेडी फिल्में पसंद हैं, तो ये फिल्म बिल्कुल न छोड़ें. सनी, बॉबी को एक बार फिर पर्दे पर साथ देखना वाक़ई दिलचस्प है. इसे पैसा वसूल फिल्म कहा जा सकता है.

पोस्टर बॉयज़

मिलिए नए पोस्टर बॉयज़ से, सनी देओल, बॉबी देओल और श्रेयस तलपड़े पोस्टर पर लग रहे हैं कमाल. सिर पर पगड़ी बांधे और हाथों में डबल्स पकड़े तीनों का ये पोस्टर जितना फनी है, उतना ही फनी है फिल्म का ट्रेलर भी. इस पोस्टर पर लिखा है हमने नसबंदी करवा ली है… आप भी करवा लो… दरअसल फिल्म में तीनों की फोटो नसबंदी वाले गलत विज्ञापन में छप जाती है और इसके पोस्टर जगह-जगह लगा दिए जाते हैं, जिसके बाद शुरू होती है इनकी लाइफ में प्रॉब्लम्स. नसबंदी के विज्ञापन के पोस्टर बॉयज़ बने तीनों को देखकर आप हंसे बिना रह नहीं पाएंगे.

लंबे समय बाद सनी देओल और बॉबी देओल बड़े पर्दे पर साथ नज़र आएंगे साथ ही श्रेयस तलपड़े इस फिल्म से डायरेक्शन में डेब्यू भी कर रहे हैं.

ये फिल्म श्रेयस की ही ओरिजनल मराठी फिल्म पोस्टर बॉयज़ की हिंदी रीमेक है. फिल्म 8 सितंबर को रिलीज़ होगी. देखें ट्रेलर.

यह भी पढ़ें: जग्गा जासूस की नाकामी के लिए ऋषि कपूर ने अनुराग बासु को कोसा 

बॉलीवुड और टीवी से जुड़ी और ख़बरों के लिए क्लिक करें.

गोलमाल

गोलमाल अगेन के सेट पर मज़ाक मस्ती न हो, भला ऐसा कैसे हो सकता है. रोहित शेट्टी की गोलमाल सीरीज़ की चौथी फिल्म गोलमाल अगेन की शूटिंग शुरू हो चुकी है और मुंबई में फिल्म का पहला शेड्यूल भी कंप्लीट हो गया है. जितना मज़ा और हंसी आपको गोलमाल की तीनों सीरीज़ देखकर आया है, लगता है इस बार वो मज़ा डबल होने वाला है. फिल्म की एक वीडियो रिलीज़ किया गया है, जिसमें कैमरे के पीछे भी फिल्म की पूरी स्टारकास्ट मस्ती करती नज़र आ रही है. आप भी देखें ये मज़ेदार वीडियो.

फिल्म- वाह ताज!
स्टारकास्ट- श्रेयस तलपड़े, मंजरी फणनिस
निर्देशक- अजीत सिन्हा 
रेटिंग- 1.5 स्टार
फिल्म का नाम और इसका ट्रेलर काफ़ी मज़ेदार था, लेकिन अफ़सोस कि ये हम फिल्म के बारे में नहीं कहा जा सकता. फिल्म बेहद ही बोरिंग है और इसके कॉमेडी सीन्स पर बिल्कुल हंसी नहीं आती है. यह एक अच्छी सटायर फिल्म हो सकती थी, लेकिन न ही कहानी ने और न ही फिल्म के किरदारों ने फिल्म में कोई इंपैक्ट छोड़ा. अक्सर रियल सबजेक्ट पर व्यंगात्मक फिल्म बनाना रिस्की साबित हो सकता है. ऐसा ही कुछ हुआ है वाह ताज के साथ भी.3कहानी

सोचिए ताजमहल पर कब्ज़ा करने के लिए एक महाराष्ट्रियन कपल टैक्टर पर बैठ कर महाराष्ट्र से आगरा पहुंचता है. ये सुनने में जितना अजीब है, उतने ही अजीब तरीक़े से फिल्माया भी गया है. इस फिल्म की कहानी इंट्रेस्टिंग होने की बजाय बोरिंग हो गई है. फिल्म की कहानी में कुछ नयापन नहीं है. एक बिज़नेसमैन के किसानों से ज़मीन छीनने पर जब किसानों का नेता इसका विरोध करता है, तो उसकी हत्या करवा दी जाती है. उस किसान के भाई विवेक (श्रेयस तलपड़े) जो कि विदेश में पढ़ाई कर रहा है, जब उसे ये बात पता चलती है तो वह अपनी गर्लफ्रेंड रिया (मंजरी फणनिस) के साथ गांव आ जाता है और ज़मीन पाने के लिए एक खेल खेलता है. दोनों ताजमहल के कागज़ात जमा करते हैं और तुकाराम व सुनंदा बनकर ताजमहल पर दावा ठोक देते हैं. फिर कहानी कई मोड़ लेती है.2

कमज़ोर कड़ी

पूरी की पूरी फिल्म ही कमज़ोर है. श्रेयस और मंजरी की एक्टिंग ठीक ठाक है, लेकिन दूसरे कलाकारों की ओवरएक्टिंग आपको बोर करेगी. फिल्म में कोर्ट रूम का एक सीन दिखाया गया है, जिसमें जज और वकील के बीच हुई बहस आपको ज़रूर हंसाने में कामयाब होगी.

फिल्म देखने जाएं या नहीं?

ये आप पर निर्भर करता है कि आपको क्या करना है. अगर दूसरी फिल्मों की टिकट्स नहीं मिल रही हैं और आपके पास वीकेंड पर करने को कुछ नहीं है, तो आप इस फिल्म को देखने जा सकते हैं. लेकिन अगर आपको अपने पैसे प्यारे हैं, तो इस फिल्म पर उसे बिल्कुल न खर्च करें.

भारत की शान माने जाने वाले ताजमहल को किसने बनवाया है ये तो आप जानते ही होंगे, लेकिन क्या आप जानते हैं कि ताजमहल किसकी ज़मीन पर बना है? नहीं, तो चलिए आपको मिलवाते हैं. ताज की ज़मीन पर दावा कर दिया है किसान तुकाराम और उनकी पत्नी ने. दोनों अपनी ज़मीन पर कब्ज़ा करने के लिए पहुंच जाते हैं आगरा. यक़ीनन ये सब आपको बहुत ही मज़ेदार लग रहा होगा. आप भी हंसे बिना रह नहीं पाएंगे और कह उठेंगे वाह ताज!. श्रेयस तलपड़े और मंजरी फडणीस स्टारर वाह ताज! फिल्म का ट्रेलर रिलीज़ हो गया है. भ्रष्ट सिस्टम से लड़ते हुए किसान की कहानी को बड़े ही कॉमिक और व्यंगात्मक तरीक़े से दिखाने की कोशिश की गई है. ट्रेलर में आवाज़ फिल्म 23 सितंबर को रिलीज़ होगी.