Tag Archives: sleeping

6 बुरी आदतें जो अच्छी है (6 Bad Habits That Are Good)

सेहतमंद ज़िंदगी (Healthful Life) के लिए हमेशा अच्छी आदतें (Good Habits) अपनाने की सलाह दी जाती है, मगर बुरी (Bad) मानी जाने वाली कुछ आदतें भी ऐसी हैं जो सेहत (Health) के लिए अच्छी साबित हो सकती हैं.

Bad Habits That Are Good

कॉफी पीना
माना कि दिन में 5-6 कप कॉफी गटक जाना कहीं से भी सही नहीं है, मगर रिसर्च बताते हैं कि दिन में 2-3 कप कॉफी पीने से पित्त की पथरी का ख़तरा कम होता है. किडनी स्टोन होने का ख़तरा भी कम रहता है. इतना ही नहीं, यदि आपका मूड ख़राब है तो एक कप कॉफी पी लें. कॉफी में कुछ ऐसे तत्व पाए जाते हैं, जो मूड ठीक करने में मदद करते हैं.

गॉसिप करना
आप सोच रहे होंगे कि भला गॉसिप करने में क्या अच्छाई है? मगर रिसर्च कहते हैं कि गॉसिप करना सेहत के लिए अच्छा है, क्योंकि गॉसिप करने से शरीर से फील गुड हार्मोन रिलीज़ होता है, जो स्ट्रेस और एंग्ज़ाइटी दूर करने में सहायक है. साथ ही ऑफिस में किसी कलीग से मन की बात शेयर कर लेने से आप हल्का महसूस करते हैं.

ज़्यादा सोना
आमतौर पर देर तक सोने वालों को आलसी कहा जाता है, लेकिन शोध के मुताबिक़, जो लोग देर तक सोते हैं यानी अपनी नींद पूरी करते हैं, उनका मेटाबॉलिज़्म अच्छा रहता है और उनका वज़न भी नहीं बढ़ता.

चॉकलेट खाना
चॉकलेट का नाम सुनते ही बच्चों से लेकर बड़ों तक के मुंह में पानी आ जाता है. चॉकलेट जंकफूड है ये सोचकर हम चॉकलेट से परहेज़ करते हैं, जबकि कई रिसर्च में ये बात सामने आई है कि चॉकलेट खाना बुरा नहीं है. ये न स़िर्फ मीठा खाने की संतुष्टि देती है, बल्कि दिल की बीमारियों से भी बचाती है, ख़ासतौर पर डार्क चॉकलेट. ये लो ब्लड प्रेशर को भी नियंत्रित करती है. शोध के मुताबिक़, जो लोग ज़्यादा चॉकलेट खाते हैं उनको स्ट्रोक का ख़तरा कम होता है.

दिन में सपने देखना

Day Dreaming
ऐसा कहा जाता है, जिनके पास कुछ काम नहीं होता वही दिन में सपने देखते हैं. ऐसे लोग आलसी होते हैं, इसलिए काम करने की बजाय जागती आंखों से सपना देखते हैं, जबकि शोध कहते हैं कि दिन में सपने देखने वालों की याददाश्त तेज़ होती है. जर्नल ऑफ साइकोलॉजिकल साइंस में प्रकाशित शोध की मानें, तो दिन में सपने देखने वालों में एकाग्रता अधिक होती है और मल्टीटास्किंग में भी ये अच्छे होते हैं.

ग़ुस्सा करना

Angry Head
हर व्यक्ति का ग़ुस्सा ज़ाहिर करने का तरीक़ा अलग-अलग होता है, हालांकि ग़ुस्से को हमेशा ही सेहत के लिए नुक़सानदायक माना गया है, मगर शोध के अनुसार, ग़ुस्सा बाहर निकाल देने से आप अंदर से शांत हो जाते हैं, जिससे इम्यून सिस्टम इंप्रूव होता है. इतना ही नहीं, ग़ुस्सा ज़ाहिर कर देने से कैंसर का ख़तरा भी कम हो जाता है.

ये भी पढ़ेंः टीनएज बच्चों के लिए टॉप 10 हेल्दी डायट टिप्स (10 Healthy Eating Tips For Teens)

खाने के बाद न करें ये काम ( Things You Should Not Do After Eating )

rsz_the-7-dangerous-things-not-to-do-after-meal-blushhealthcom_

अच्छी सेहत के लिए समय पर खाना और पौष्टिक आहार लेना ही काफ़ी नहीं. आहार का पचना और उसके पोषक तत्वों का शरीर को मिलना भी ज़रूरी होता है. कई बार ऐसा हो नहीं पाता, वजह हो सकती है खाने के बाद आपकी कुछ आदतें. ज़रा नज़र दौड़ाइए उन आदतों पर, जो आप खाना खाने के बाद करने के आदी हों. इन आदतों का ख़ामियाज़ा आपकी सेहत को भुगतना पड़ सकता है. आइए, जानते हैं ऐसी ही कुछ बुरी आदतें, जो दबे पांव आपको कर रही हैं बीमार.

चाय या कॉफी पीने की आदत

खाने के बाद अक्सर लोग चाय या कॉफी पीना पंसद करते हैं. धीरे-धीरे उन्हें इसकी आदत हो जाती है. अगर ऐसी आदत है, तो इसे तुरंत बदलें.
क्यों छोड़ें ये आदत?
* चाय में पॉलिफिनॉल्स और टेनिंस नाम के केमिकल्स होते हैं, जो खाए गए आहार के पोषक तत्वों को ख़त्म कर देते हैं.
* कॉफी में कैफीन होता है, जो आयरन को ख़त्म कर देता है.
* एनीमिया के मरीज़ों के लिए ये आदत ख़तरनाक हो सकती है.
* चाय की पत्तियों में काफ़ी मात्रा में एसिड होता है, जो आहार में मौजूद प्रोटीन को नुक़सान पहुंचाता है, जिससे खाना पचने में द़िक्क़त होती है.
* अगर चाय या कॉफी पीनी हो, तो खाने के एक घंटे बाद पीएं.

फल खाने का समय हो सही

खाने के तुरंत बाद मीठा खाने के शौक़ीन कई बार ये ग़लती कर बैठते हैं. मीठा खाने के चक्कर में वो फल खाना पसंद करते हैं. यूं तो फल को सेहत के लिए फ़ायदेमंद माना जाता है, लेकिन खाने के तुरंत बाद फल खाना नुक़सानदेह हो सकता है.
क्यों छोड़ें ये आदत?
* खाया हुआ आहार पेट में तब तक रहता है, जब तक पाचन की प्रक्रिया पूरी न हो जाए. इस प्रक्रिया के बीच अगर तुरंत फल खा लिया जाए, तो पेट पर  अधिक भार पड़ने लगता है.
* इससे अपच, पेट में भारीपन या जलन, एसिडिटी की शिकायत हो सकती है.
* फल खाने के साथ चिपक जाता है और उसेे आंतों तक पहुंचने में देर लगती है. ऐसे में फल के सारे पोषक तत्व शरीर को नहीं मिल पाते.
* फल में बड़ी मात्रा में एसिड, ग्लूकोज़, फ्रक्टोज़, स्टार्च आदि होते हैं, जो खाना पचाने की प्रकिया को धीमा कर देते हैं.
* अंगूर, पेर, संतरा जैसे फलों में फ्लैवोनॉइड होता है. पेट में मौजूद बैक्टीरिया इसका विभाजन कर थायोसायनिक एसिड में बदल देते हैं, जो थायरॉइड  ग्रंथि को कार्य करने से रोकता है. लंबे समय तक ऐसा होने से ग्रंथि में बीमारियां पनपने
लगती हैं.
* खाने से दो घंटे पहले या दो घंटे बाद फल खाएं.
* वैसे सुबह के समय खाली पेट फल खाना ज़्यादा फ़ायदेमंद होता है.

28health3

धुम्रपान करना

धुम्रपान करना वैसे भी सेहत के लिए हानिकारक माना जाता है. खाने बाद धुम्रपान करना ज़्यादा नुक़सान पहुंचा सकता है.
क्यों छोड़ें ये आदत?
* खाने के बाद एक सिगरेट पीना, दस सिगरेट पीने के बराबर है. यानी दस गुना ज़्यादा घातक हो सकती है सिगरेट.
* खाने के बाद आहार को पचाने के लिए शरीर में रक्त का संचार तेज़ हो जाता है. सिगरेट पीने से उसमें मौजूद निकोटिन और टॉक्सिन्स रक्त में 10 गुना  तेज़ी से रिसता है, जिससे पाचक ग्रंथि, किडनी, दिमाग़, दिल और फेफड़ों को नुक़सान पहुंचता है.
* कैंसर का ख़तरा और भी बढ़ जाता है.
* खाने के तुरंत बाद धुम्रपान करने से एसिडिटी और गैस्ट्रिक जैसी समस्या हो सकती है.

खाने के बाद नहाना मना है

खाने के बाद नहाने के शौक़ीन लोग ज़रा सावधान हो जाएं, क्योंकि ये आदत भी हो सकती है ख़तरनाक.
क्यों छोड़ें ये आदत?
* खाने के बाद रक्त का संचार पेट की तरफ़ ज़्यादा होता है, जहां आहार को पचाने की प्रक्रिया चल रही होती है.
* नहाने से शरीर का तापमान बदल जाता है और तापमान पर नियंत्रण करने के लिए रक्त का प्रवाह शरीर के बाक़ी हिस्से, जैसे- हाथ, पैर की तरफ़ बढ़  जाता है.
* इसकी वजह से पेट के आसपास रक्त की मात्रा कम हो जाती है और पाचन तंत्र की प्रक्रिया धीमी हो जाती है.

वॉक पर चले जाना

वॉक करना यूं तो अच्छी आदतों में शुमार है, लेकिन खाने के बाद तुरंत वॉक पर निकलना सेहत कि लिए हानिकारक है. दोपहर के खाने के बाद आराम और रात के खाने के कुछ देर बाद हल्क़ी सी वॉक आपको स्वस्थ रखती है.
क्यों छोड़ें ये आदत?
* खाने के तुरंत बाद वॉक पर जाने से पाचन क्रिया धीमी हो जाती है और पाचन तंत्र आहार में से पोषक तत्व एब्ज़ॉर्ब नहीं कर पाता.
* वॉक करने से कई बार अपच की शिकायत भी होती है.
* खाना खाने के आधे घंटे बाद वॉक पर जाएं.
* 20 मिनट से ज़्यादा वॉक न करें.

sleep-after-meal

बिस्तर पर चले जाना

खाने बाद आलस आने लगता है और बस आराम करने का मन करता है. लेकिन ये आदत भी है बुरी.
क्यों छोड़ें ये आदत?
* खाने के बाद तुरंत बेड पर चले जाने से या सो जाने से खाना अच्छे से डायजेस्ट नहीं हो पाता और फैट्स में बदल जाता है.
* फैट्स की वजह से मोटापा बढ़ जाता है.
* डायजेशन सही न होने की वजह से आंतों में इंफेक्शन भी हो सकता है.

बेल्ट ढीली करना

स्वादिष्ट खाना देखते ही कई लोग पेट में जगह बनाने के लिए अपनी बेल्ट को लूज़ करने लग जाते हैं, पर ये आदत भी सेहत के लिए सही नहीं.
क्यों छोड़ें ये आदत?
* बेल्ट ढीली करने का मतलब है कि आप ज़रूरत से ज़्यादा खानेवाले हैं. ओवरईटिंग से बचने के लिए इस आदत को छोड़ दें.
* बेल्ट लूज़ करने से बेहतर है, कम खाएं. वैसे भी जितनी भूख लगी हो, उससे कम ही खाना चाहिए, वरना अपच की शिकायत हो जाएगी.

cold-water

ठंडा पानी न पीएं

खाने के बीच-बीच में और तुरंत बाद पानी पीना सेहत के लिए ठीक नहीं है और ठंडा पानी, तो बिल्कुल भी उचित नहीं है.

ब्रश कीजिए लेकिन ज़रा रुककर

खाना खाने के बाद ब्रश करना वैसे अच्छी आदत है, लेकिन खाने के तुरंत बाद ब्रश करना सही नहीं. अगर खट्टा आहार खाया हो, तो ब्रश करते व़क्त इनैमल यानी दातों की ऊपर की परत निकल सकती है. इसलिए ब्रश करें पर कुछ देर बाद.