Smart Tricks

वर्तमान समय में लोग कुछ अधिक ही अधीर होते जा रहे हैं. एक तरह से कह सकते हैं कि हम सभी दूसरों को सुनने की क्षमता खो रहे हैं. साथ ही हमेशा ख़ुद को सही साबित करने की होड़ लगी रहती है. हमने दूसरों की भावनाओं को समझना भी बंद कर दिया है, जिससे हमारे रिश्तों में खटास पैदा होती जा रही है. यही कारण है कि हम बहुत सारे विवाहित जोड़ों को तलाक़ लेते हुए देखते हैं और कई युवा जोड़े टूट रहे हैं. रिश्तों में बहस या फिर वाद-विवाद अधिक हो रहा है. छोटी-छोटी बहस बढ़ते हुए बड़ा रूप ले लेती है और पति-पत्नी के रिश्ते बिखर जाते हैं. इसी संबंध में काउंसलर और टैरो कार्ड रीडर जीविका शर्मा ने कई उपयोगी बातें बताई.

एक व्यक्ति को अपने रिश्ते को बचाने के लिए क्या करना चाहिए?
व्यक्ति को एक प्रयास ज़रूर करना चाहिए, यदि वो वास्तव में अपने रिश्तों को बचाना चाहते हैं. साथ ही व्यक्ति को अपने रिश्ते को लेकर गंभीर होना चाहिए.
निम्न बातों को ध्यान रखते हुए एक व्यक्ति अपने रिश्ते को बचा सकता है-

  • अपना ही तर्क चलाने की कोशिश ना करें. माना रिश्ते में बहस, वाद-विवाद, तर्क आदि सामान्य हैं, क्योंकि कोई भी दो व्यक्ति बिल्कुल समान नहीं होते. और जब मतभेद होते हैं, तो तर्क भी होंगे ही. इसलिए यदि आप जब कभी भी अपने पार्टनर के साथ बहस करते हैं, तो आपको इसे अपने साथी को बेहतर तरीक़े से सीखने के अवसर के रूप में देखने की ज़रूरत है. सकारात्मक बातचीत करें. परिस्तिथियों से भागे नहीं, बल्कि आपसी बातचीत से समस्या हमेशा के लिए हल हो जाएगी.
Smart Ways To End An Argument
  • जब भी अपने साथी के साथ किसी बात पर बहस होती है, तो आपको अपने क्रोध पर नियंत्रण रखना चाहिए. अगर आप ग़ुस्सा दिखाते हैं, तो आप जीवनसाथी को कभी नहीं सुन सकते और ना ही समझ सकते हैं. और जब आप सुन नहीं सकते, तो आप बहस के मूल कारण तक नहीं पहुंच पाएंगे. ऐसे में यदि आप दोनों यह नहीं जानते हैं कि आप दोनों किस बारे में बहस कर रहे हैं, तो भला कोई समाधान कैसे निकल सकता है? इसलिए यदि आप वास्तव में हमेशा के लिए वाद-विवाद को समाप्त करना चाहते हैं, तो अपने क्रोध को नियंत्रित करना अत्यंत महत्वपूर्ण है.


यह भी पढ़ें: रिश्तों को लेंगे कैज़ुअली, तो हो जाएंगे रिश्ते कैज़ुअल ही… ऐसे करें अपने रिश्तों को रिपेयर! (Relationship Repair: Simple Ways To Rebuild Trust & Love In Your Marriage)

  • अपने गुस्से को नियंत्रित करने के बाद आप अपने साथी के साथ विनम्रता से बात करें. ध्यान रहे विवाद को नियंत्रित करने और इसे हल करने के लिए आपको वास्तव में उस टोन की जांच करने की आवश्यकता है जो आप उपयोग कर रहे हैं यानी कठोर और व्यंग्यात्मक लहजे का प्रयोग ना करें. ऐसा करने से आपके साथी के मन में ग़ुस्सा पैदा होगा, जिससे बात बनते-बनते बिगड़ जाएगी. विनम्रता एक तर्क को शांति से हल करने की कुंजी है. यह आपके साथी के ग़ुस्से को कम करने में भी मदद करेगा.
  • अपने पार्टनर के साथ बहस के दौरान विद्रोही तरीक़े से कार्य न करें. इसका मतलब है कि अगर आपका जीवनसाथी कुछ विषय लाता है या उस पर बात करता है, तो उन पर हमले के अंदाज़ में जवाब न दे. आपको एक आरोप का दूसरे आरोप से सामना नहीं करना चाहिए. यह समझने की कोशिश करें कि आपका साथी अपनी बात के साथ क्या कहना चाहता है. यदि आप स्थिति को उनके दृष्टिकोण से देख सकते हैं, तो क्या आप तर्क के बेयरिंग तक नहीं पहुंच पाएंगे. इस तरह आप मुद्दे को बेहतर ढंग से समझ पाएंगे.
    एक बार जब आप उनकी बात समझ जाते हैं, तो आप परिस्थिति को भी अच्छी तरह देख पाएंगे. यदि आपका साथी ग़लत भी है, तो एक शांतिपूर्ण तरीक़े से बात को समझा और समझाया जा सकता है.
Argument With Your Partner
  • आपको स्थिति को नियंत्रित करने की आवश्यकता है और इसे वहां से जाने न दें, जहां से वापस नहीं आ सके. क्योंकि एक बार स्थिति नियंत्रण से बाहर हो जाने पर समाधान थोड़ा मुश्किल हो जाता है. और आमतौर पर यही वह समय होता है, जब अधिकांश रिश्ते टूट जाते हैं.
    उपर्युक्त सावधानियां बरतने से आपको अपने रिश्ते को बचाने में मदद मिलेगी, जो आपके लिए बेहद महत्वपूर्ण है. हम अक्सर कुछ ऐसा कहते हैं जिसे हम कहना नहीं चाहते, ना ही कभी ऐसा इरादा होता है, पर हो जाता है और बाद में पछतावा होता है. यह पूरी तरह से सामान्य बात है और ऐसा कुछ नहीं है, जिसके बारे में आपको शर्म आनी चाहिए. लेकिन अपनी ग़लती को स्वीकार न करने और जब भी कुछ ग़लत होता है, तो अपने साथी को दोष देने की आदत रिश्ते को तोड़ देती है. ऐसा ना करें.


यह भी पढ़ें: 35 छोटी-छोटी बातें, जो रिश्तों में लाएंगी बड़ा बदलाव (35 Secrets To Successful And Happy Relationship)

उपर्युक्त बातों पर ध्यान देते हुए आप तर्क को नियंत्रित कर सकते हैं. आप एक-दूसरे को बढ़ने में मदद कर सकते हैं. यह विवाहित जोड़ों के साथ-साथ उन लोगों पर भी लागू होता है जो डेटिंग कर रहे हैं. इसलिए यदि कोई रिश्ता आपके लिए मायने रखता है, तो आपको यह सुनिश्चित करने की ज़रूरत है कि वह कभी भी टूटे या बिखरे नहीं.

Argument With Your Partner

चेहरे, बाल, कपड़ों आदि पर होली के रंगों के दाग़ निकालना कई बार मुश्किल हो जाता है. इसके लिए इन उपयोगी टिप्स को आज़माएं.

* बेसन में दूध और नींबू मिक्स करके चेहरे पर लगाएं. 10-15 मिनट के बाद गुनगुने पानी से धो लें.

* आटे से चेहरे को साफ़ करके पानी से धो लें, फिर मॉइश्‍चराइज़र लगा लें.

* खीरे के जूस में एक टीस्पून सिरका और एक टीस्पून गुलाबजल मिलाकर चेहरा साफ़ करें.

* जौ के आटे में बादाम का तेल मिलाकर त्वचा पर लगाएं. थोड़ी देर स्क्रब करके धो लें.

* मसले हुए केले में दूध, मिल्क पाउडर व शहद मिलाकर बालों में लगाकर 20 मिनट के लिए रहने दें. फिर बाल धो लें.

* होली के एक दिन पहले रात में बालों में तेल लगाएं. आंवले को रातभर भिगोकर रखें. होली खेलने के बाद शैंपू से बाल धोएं और उसके बाद आंवले के पानी से फाइनल रिंस करें.

यह भी पढ़े: होली- रंगों के दाग़ को यूं छुड़ाएं… (11 Best Ways To Remove Holi Colours)

स्मार्ट मूव

* होली खेलने से पहले बाल व चेहरे पर ऑलिव ऑयल लगाएं.

* वॉटरप्रूफ मेकअप करके पाउडर लगा लें. इसके बाद होली खेलें.

* होंठों पर लिप बाम लगाएं.

* मुलतानी मिट्टी को दो-तीन घंटे भिगोकर रख दें. होली खेलने के बाद इसे पूरे शरीर पर लगाकर स्नान कर लें.

फैब्रिक केयर

* यदि कपड़ों पर होली के रंग के दाग़ हों, तो बिना जेलवाला टूथपेस्ट लगाकर सूखने के लिए छोड़ दें. बाद में धो लें.

* रूर्ई में नेल पेंट रिमूवर डालकर दाग़वाली जगह पर रगड़ें. बाद में वॉशिंग पाउडर से धो लें.

* कपड़े को खट्टी दही या छाछ में भिगोकर थोड़ी देर के लिए भिगोकर रख दें. फिर दाग़वाली हिस्से को रगड़कर साफ़ कर लें.

* कपड़ों पर नींबू का रस लगाकर कुछ देर रखने के बाद धो लें.

* ब्लीच के साथ बेकिंग सोडा मिलाकर रब करने से भी दाग़ चले जाते हैं.

ऊषा गुप्ता

* आलू के परांठे में एक्स्ट्रा स्वाद ऐड करने के लिए मिश्रण में साबूत धनिया कूटकर मिलाएं. 

* डोसे का आटा पीसते समय इसके मिश्रण में चावल व दाल के साथ आधा कटोरी चिवड़ा भी डालकर पीस लें. इससे डोसे कुरकुरे बनेंगे.

Smart Cooking Tricks

* ड्रायफ्रूट चॉकलेट का स्वाद लेना है, तो पिघले हुए चॉकलेट में सूखे मेवे मिलाकर उसे चिकनाई लगी थाली में फैला दें. ठंडा होकर चॉकलेट ड्रायफ्रूट्स में मिल जाएगी.

* हरी मिर्च व पुदीने को बारीक़ काटकर-सुखाकर पाउडर बना लें. इसे फ्लेवर हर्ब की तरह इस्तेमाल करें.

* एक टीस्पून देसी घी में राई का तड़का लगाकर इडली के घोल में मिलाने से इडली अधिक स्वादिष्ट बनती है.

* यदि मोटे आटे की पूरियां बनाएंगे, तो तेल कम लगेगा और पचने में भी आसान होगी. इसके अलावा पूरी के आटे में अरबी उबालकर मसलकर मिला लेने से पूरी कुरकुरी व स्वादिष्ट बनती है.

* फ्रूट डेज़र्ट सर्व करते समय ऊपर से स़फेद तिल व अलसी डालने से टेस्ट बढ़ जाएगा.

* सब्ज़ी बनाते समय मसाले के पेस्ट में लहसुन की मात्रा अधिक व अदरक की कम रखें, इससे ग्रेवी बढ़िया बनती है.

* इलायची, कालीमिर्च व लौंग को हल्का-सा भूनकर पाउडर बना लें. वेज-नॉनवेज स्टार्टर को सर्व करने से पहले उस पर यह पाउडर छिड़कें. स्टार्टर का स्वाद दुगुना हो जाएगा.

* फूलगोभी की सब्ज़ी खिली-खिली बने, इसके लिए सब्ज़ी बनाते समय उसमें दूध मिला दें.

* मठरी को खस्ता बनाने के लिए मैदे को दही से गूंधें, लेकिन दही खट्टा न हो, इस बात का ख़्याल रखें.

* यदि पोहे में तीन टेबलस्पून दूध मिला दिया जाए, तो जब आप बचे हुए पोहे को दोबारा गर्म करके खाएंगी, तब भी वो ताज़ा लगेगा.

* नाश्ते के लिए कुछ अलग ट्राई करना है, तो ढोकले के छोटे-छोटे टुकड़े करके बेसन के घोल में डुबोकर पकौड़े की तरह तल लें.

* यदि अंडे की भुर्जी में टमाटर का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो पल्प व बीज निकालकर टमाटर को बारीक़ काटकर डालें.

* यदि एप्पल पाई बनाते समय सेब को काटकर सिरके के पानी से धो लेंगे, तो पाई ख़ूबसूरत दिखेगी और सेब का रंग भी नहीं बदलेगा.

* इंस्टेंट अचार का स्वाद बढ़ाने के लिए इसमें गन्ने या सेब का सिरका मिलाएं.

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़ेसीखें कुकिंग के नए तरीके (Learn New Tips And Tricks Of Smart And Easy Cooking)

* बदनदर्द हो, तो गरम दूध में तीन-चार इलायची पीसकर मिला लें और चुटकीभर हल्दी डालकर उसे रात को सोते समय मरीज़ को पिलाएं. सुबह लगेगा जैसे रात को दर्द उठा ही नहीं था.

* अधिक सिरदर्द हो, तो तुलसी के पत्तों को पीसकर लेप करने से तुरंत आराम मिलता है.

Health Tricks

* पांच खजूर को उबालकर उसमें एक टीस्पून मेथीदाना का चूर्ण डालकर नियमित रूप से पीने से कमरदर्द दूर होता है.

* दांतों में दर्द की टीस उठने पर एक टीस्पून सोंठ पीसकर गर्म पानी के साथ फांक लें. दांत के दर्द से राहत मिलेगी.

* चूना व शहद मिलाकर लेप करने से पसली के दर्द से राहत मिलती है.

* गुड़ को पानी में छानकर पीने से सिरदर्द में लाभ होता है.

* शरीर के किसी अंग में दर्द की टीस उठती हो, तो आप सुबह-शाम पिसे हुए आंवले का चूर्ण गुनगुने पानी के साथ लें. फिर कुछ देर बाद कुटी-पिसी हुई इलायची दूध में डालकर पीएं. इस प्रयोग से शरीर में चुस्ती-फूर्ती बनी रहेगी और शरीर के किसी अंग में दर्द की टीस नहीं उठेगी.

यह भी पढ़ेबीमारियों से बचने के लिए वास्तु टिप्स (Vastu Tips For Better Health)

*100 ग्राम मेथीदाना हल्का-सा भूनें. फिर इसे हल्का-सा कूटकर उसमें चौथाई भाग काला नमक मिला लें. सुबह-शाम दो चम्मच गुनगुने पानी के साथ लें. इस प्रयोग को निरंतर 15 दिनों तक करने से कैसा भी असहनीय दर्द हो, दूर हो जाएगा.

* 10-12 तुलसी के पत्ते में 5-10 कालीमिर्च मिलाकर बारीक़ पीसकर चाट लें. इससे अजीर्ण के सारे विकार दूर हो जाएंगे.

* दांतों में दर्द की टीस उठने पर एक टीस्पून सोंठ पीसकर गर्म पानी के साथ फांक लें. दांत के दर्द से राहत मिलेगी.

* सोंठ और एरंड मूल का क्वाथ बनाकर उसमें पिसी हुई हींग और काला नमक डालकर पीने से कमरदर्द में आराम मिलता है.

* बहुत पुराना सिरदर्द है, तो 11 बेलपत्र पीसकर उसका रस निकालें और सर्दियों में यह रस बिना कुछ मिलाए ही पी लें. हां, गर्मियों में थोड़ा पानी मिलाकर पीएं. कितना ही पुराना सिरदर्द हो, तीन दिन में ही आराम मिल जाएगा.

ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़ेवर्किंग मदर के लिए लाभकारी हेल्थ व फिटनेस टिप्स (Health Tips For Working Mothers)

×