Tag Archives: social

सोशल मीडिया पर भद्दे कॉमेंट्स का शिकार हुए ये खिलाड़ी (Players trolled on social media)

players

खिलाड़ियों को खेल से जोड़ने की बजाय समाज का एक तबका ऐसा है, जो उन्हें मज़हब से जोड़कर सोशल मीडिया पर तरह-तरह की नसीहत देते रहता है. कैसे कपड़े पहने है, कौन-सा रंग पहना है, एक्सरसाइज़ क्यों कर ली जैसी बातों को लेकर वो सोशल मीडिया पर कुछ भी स्टार प्लेयर्स के बारे में बोलते रहते हैं. क्या ये उचित है? आख़िर वो उनकी पर्सनल लाइफ है. किसी की पर्सनल लाइफ में टांग अड़ाना कितना सही है? आइए, हम आपको बताते हैं कि पिछले कुछ दिनों से कौन-कौन से प्लेयर हैं, जिन्हें सोशल मीडिया पर भद्दे कॉमेंट्स झेलने पड़े.

सानिया मिर्ज़ा
वैसे तो कुछ लोग हमेशा ही सानिया के प्लेइंग आउटफिट को लेकर बवाल मचाते रहे हैं, लेकिन इस बार तो सोशल मीडिया पर सानिया को कुछ लोगों की नसीहत सुननी पड़ी. असल में 27 दिसबंर को सानिया ने सोशल साइट्स पर अपनी एक ख़ूबसूरत सी फोटो डाली, जिसमें वो लाल रंग की साड़ी पहने हुए हैं. फोटो डालते देर नहीं कि उन्हें लोग बुरका न पहनने से लेकर इस्लाम की तौहीन करने का अपराधी मानने लगे.

players

मोहम्मद कैफ़
क्रिकेट से दूर रहकर भी अचानक से एक दिन सोशल मीडिया पर मोहम्मद कैफ़ ट्रोल होने लगे. जी हां, ये बात अलग है कि उन्हें कपड़ों पर किसी तरह का कॉमेंट नहीं झेलना पड़ा. वो बेचारे तो योगा को लेकर फंस गए. सूर्य नमस्कार क्या कर लिया ऐसा लगा मानों दुनिया का सबसे बड़ा पाप कर दिया. सोशल मीडिया पर कैफ़ ने अपनी कुछ तस्वीरें डालीं, जिसमें वो सूर्य नमस्कार कर रहे हैं, बस क्या था, भड़क गए समाज के नुमाइंदे. लग गए कैफ़ को सीख पर सीख देने और उनकी तौहीन करने.

players

मोहम्मद शमी
सोशल मीडिया पर ट्रोल होने में क्रिकेटर शमी भी पीछे नहीं रहे. अपनी पत्नी और बेटी के साथ शमी ने एक फोटो सोशल मीडिया पर शेयर की, जिसमें उनकी पत्नी मरून रंग के गाउन में नज़र आ रही थीं. बस क्या था, न जाने ऐसा क्या दिखा उस गाउन में कि कुछ लोग शमी को भला-बुरा कहने लगे. लोगों की इस प्रतिक्रिया का शमी ने जवाब भी दिया, लेकिन उसका असर उन लोगों पर कहां पड़ने वाला था. इसके बाद नए साल पर शमी ने अपनी पत्नी के साथ एक और फोटो शेयर की, जिसमें वो साड़ी और डीप नेक ब्लाउज़ पहने थीं. लोगों को वो हज़म नहीं हुआ और वो अपनी आदत के अनुरूप कॉमेंट करने लगे.

players

players

मानाकि सोशल मीडिया एक ऐसा प्लेटफॉर्म है, जहां आप अपनी भड़ास निकाल सकते हैं और अपनी मन की बात कर सकते हैं, लेकिन किसी की पर्सनल लाइफ में कॉमेंट करने का हक़ सोशल मीडिया आपको नहीं देता. इस तरह की हरक़त करके आप अपना वजूद और संस्कार दुनिया के सामने रख देते हैं.

श्वेता सिंह 

 

 

 

बुज़ुर्गों का समाज में महत्व (Why It Is Important to Care For Our Elders)

old age care
बुज़ुर्गों का समाज में महत्व (Why It Is Important to Care For Our Elders)

old age care

चेहरे पर अनुभवों की सिल्वटें जब झुर्रियों के रूप में उभर आती हैं, तब ज़िंदगी काफ़ी बदल जाती है. एक लंबा अनुभव साथ होता है, लेकिन उन अनुभवों को बांटने के लिए उनके अपनों के पास ही व़क्त नहीं होता. ऐसे में बुज़ुर्ग ख़ुद को महत्वहीन समझने लगते हैं. जबकि सच यही है कि उनका महत्व समाज व परिवार दोनों ही के लिए बहुत ज़्यादा है.

  • हमें अपने रीति-रिवाज़ व संस्कार उन्हीं से मिलते हैं.
  • जब ज़िंदगी कठिन मोड़ से गुज़रती है, तो उन्हीं की सलाह व प्रेरणा काम आती है.
  • समाज को सही राह पर चलने की शिक्षा उन्हीं से मिलती है.
  • आज की पीढ़ी व समाज में भी फ़िज़ूलख़र्ची और ज़िंदगी को लापरवाह अंदाज़ में जीने के तरी़के बढ़ रहे हैं, ऐसे में वो ही हमें सही राह दिखाते हैं.
  • ज़िंदगी को अनुशासन से जीना कितना ज़रूरी है, समय की पाबंदी, पानी व बिजली की बचत, कम सुविधाओं में भी कैसे गुज़ारा किया जा सकता है आदि वो अच्छी तरह से जानते व समझा सकते हैं.
  • विनम्रता का महत्व व सकारात्मकता से जीने का अंदाज़ उन्हीं से हम सीख सकते हैं.
  • उन्होंने किस तरह से अभावों के बीच भी जीना व संघर्ष करना सीखा, जबकि हमें वो सारी सुविधाएं प्रदान करते हैं, ऐसे में हमें ज़िंदगी से शिकायतें क्यों हैं? हम अपने घर के बड़े-बुज़र्गों को देखकर उनसे सबक ले सकते हैं.
  • बेहतर होगा कि उनकी कांपती ज़िंदगी का दर्द हम समझें और उन्हें अपना व़क्त देकर उनका क़ीमती आशीर्वाद लें, ताकि ज़िंदगी आसान व ख़ुशगवार हो.