solah shringar

दुल्हन बनना हर महिला का ख़्वाब होता है और शादी के बाद हर महिला के जीवन में कई खूबसूरत बदलाव आते हैं… हमारे देश में दुल्हन के श्रृंगार का बहुत महत्व है… दुल्हन के हर श्रृंगार के पीछे एक ख़ास वजह होती है… क्या आप जानते हैं दुल्हन के श्रृंगार के पीछे छिपे ये रहस्य..?

Suhag Chinha Of Indian Women

शादी के बाद भारतीय महिलाएं मांग में सिंदूर क्यों भरती हैं?

शादी के बाद भारतीय महिलाएं मांग में सिंदूर क्यों भरती हैं? मांग में सिंदूर भरने के पीछे कौन सी धार्मिक मान्यताएं और क्या वैज्ञानिक रहस्य हैं? भारत में सुहागन स्त्रियों के लिए मांग भरना अनिवार्य क्यों माना जाता है? शादी के समय मांग भरने की रस्म को ख़ास महत्व क्यों दिया जाता है? यदि आप भी इन सवालों के जवाब नहीं जानते, तो हम आपको बता रहे हैं मांग में सिंदूर भरने से जुड़ी मान्यताएं और वैज्ञानिक रहस्य.

Suhag Chinha Of Indian Women

1) हमारे देश में सिंदूर को सुहाग का प्रतीक माना जाता है इसलिए शादी के समय वर सिंदूर से वधू की मांग भरता है.
2) सिंदूर सुहागन स्त्रियों के शृंगार में महत्वपूर्ण स्थान रखता है इसलिए शादी के बाद लगभग सभी महिलाएं मांग में सिंदूर भरती हैं.
3) पौराणिक कथाओं के अनुसार, देवी पार्वती अपने पति शिवजी को बुरी नजर से बचाने के लिए सिंदूर लगाती थीं. इसी तरह माता सीता भी भगवान राम की लंबी उम्र के लिए मांग में सिंदूर लगाती थीं.
4) ऐसी धार्मिक मान्यता है कि मां लक्ष्मी का पृथ्वी पर पांच स्थानों पर वास है, जिसमें से एक स्थान सिर भी है, इसीलिए विवाहित महिलाएं मांग में मां लक्ष्मी का प्रिय सिंदूर भरती हैं, ताकि उनके घर में लक्ष्मी का वास हो और घर में हमेशा सुख-समृद्धि बनी रहे.
5) शास्त्रों के अनुसार, जो महिलाएं मांग में लंबा सिंदूर लगाती हैं, उनके पति को बहुत मान-सम्मान मिलता है.
6) सिंदूर में पारा जैसी धातु की अधिकता होती है, जिससे चेहरे पर जल्दी झुर्रियां नहीं पड़तीं यानी सिंदूर लगाने से महिलाओं के चेहरे पर बढ़ती उम्र के संकेत जल्दी नज़र नहीं आते और उनका चेहरा ख़ूबसूरत नज़र आता है.
7) सिंदूर लगाने से स्त्री के शरीर में स्थित वैद्युतिक उत्तेजना नियंत्रित रहती है.
8) लाल रंग महिलाओं की ख़ुशी, ताकत, स्वास्थ्य, सुंदरता आदि से सीधे जुड़ा है इसलिए मांग में सिंदूर लगाना सेहत की दृष्टि से भी फायदेमंद है.
9) महिलाएं इस बात का ख़ास ध्यान रखें कि कभी भी किसी दूसरी महिला का सिंदूर न लगाएं और न ही अपना सिंदूर किसी को दें. ऐसा करने से पति का प्यार बंट जाता है.
10) बिना स्नान किए सिंदूर कभी न लगाएं. यदि सिंदूर जमीन पर गिर जाए, तो उसे उठाकर डिब्बी में न भरें. जमीन पर गिरा हुआ सिंदूर लगाना सही नहीं माना जाता.

यह भी पढ़ें: सिंदूर का गिरना अशुभ क्यों माना जाता है? जानें सिंदूर गिरने के शुभ-अशुभ संकेत (Why Spilling Of Sindoor On The Floor Is Inauspicious)

शादी के बाद महिलाएं बिंदी क्यों लगाती हैं?

दुल्हन के माथे पर सजी बिंदी उसके सुहाग का प्रतीक मानी जाती है. दुल्हन के श्रृंगार और शादी की रस्मों में बिंदी का विशेष महत्व है. शादी के बाद हर भारतीय स्त्री मांग में सिंदूर और माथे पर बिंदी जरूर लगाती है. महिलाओं के श्रृंगार को ध्यान में रखते हुए आजकल मार्केट में बिंदी के कई डिज़ाइन्स उपलब्ध हैं, फिर भी लाल रंग की बिंदी दुल्हन की खूबसूरती में चार चांद लगा देती है.

Deepika
  • धार्मिक मान्यताओं की बात करेँ, तो बिंदी को त्रिनेत्र का प्रतीक माना गया है. दो नेत्रों को सूर्य व चंद्रमा माना गया है, जो वर्तमान व भूतकाल देखते हैं तथा बिंदी त्रिनेत्र के प्रतीक के रूप में भविष्य में आनेवाले संकेतों की ओर इशारा करती है.
  • धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, चंचल मन को एकाग्र करने में बिंदी का बहुत योगदान होता है. महिलाएं जहां पर बिंदी लगाती हैं, वहां पर आज्ञा चक्र होता है और बिंदी लगाने से आज्ञा चक्र पर दबाव पड़ता है, जिससे मन को नियंत्रित रखा जा सकता है.

* वैज्ञानिक मान्यताओं के अनुसार, बिंदी लगाने से महिला का आज्ञा चक्र सक्रिय हो जाता है. यह महिला को आध्यात्मिक बने रहने में तथा आध्यात्मिक ऊर्जा को बनाए रखने में सहायक होता है. बिंदी आज्ञा चक्र को संतुलित कर दुल्हन को ऊर्जावान बनाए रखने में सहायक होती है.

विवाहित महिलाएं मंगलसूत्र क्यों पहनती हैं?

विवाहित महिलाएं मंगलसूत्र क्यों पहनती हैं? ये सवाल कभी न कभी आपके दिमाग में भी ज़रूर आया होगा. भारत में सुहागन स्त्रियां मंगलसूत्र ज़रूर पहनती हैं, ऐसा क्यों है? क्यों शादी के बाद ही महिलाएं मंगलसूत्र पहनती हैं? मंगलसूत्र पहनने के पीछे क्या धार्मिक मान्यता है? क्या मंगलसूत्र पहनने का कोई वैज्ञानिक महत्व भी है? आख़िर भारतीय महिलाएं मंगलसूत्र क्यों पहनती हैं? आपके मन में उठने वाली ऐसी ही तमाम जिज्ञासाओं का समाधान आपको इस लेख में मिलेगा.

Suhag Chinha Of Indian Women

मंगलसूत्र पहनने की धार्मिक मान्यता
भारत में विवाह के समय मंगलसूत्र का विशेष महत्व है. शादी की सबसे ज़रूरी रस्म है मंगलसूत्र पहनाने की रस्म. सात फेरों के सात वचन निभाने का संकल्प लेने के साथ ही वर वधु के गले में मंगलसूत्र पहनाता है. इसके बाद ही शादी की रस्म पूरी होती है. भारत में मंगलसूत्र पहनने की धार्मिक मान्यता ये है कि यहां मंगलसूत्र को सुहाग का प्रतीक माना जाता है इसीलिए सभी सुहागन महिलाएं मंगलसूत्र ज़रूर पहनती हैं. ज्योतिष की दृष्टि से देखा जाए, तो ज्योतिषशास्त्र के अनुसार सोना गुरू के प्रभाव में होता है और गुरु ग्रह वैवाहिक जीवन में खुशहाली, संपत्ति व ज्ञान का प्रतीक माना जाता है. यदि मंगलसूत्र में पिरोए हुए काले मोतियों की बात करें, तो काला रंग शनि का प्रतीक माना जाता है. शनि स्थायित्व तथा निष्ठा का प्रतीक माना जाता है. अतः ऐसा माना जाता है कि मंगलसूत्र के प्रतीक के रूप में गुरु और शनि मिलकर वैवाहिक जीवन में सुख-समृद्धि और स्थायित्व लाते हैं.

मंगलसूत्र पहनने का वैज्ञानिक महत्व
मंगलसूत्र पहनने की धार्मिक मान्यता के साथ-साथ मंगलसूत्र पहनने का वैज्ञानिक महत्व भी है. वैज्ञानिक दृष्टि से देखा जाए तो मंगलसूत्र सोने से निर्मित होता है और सोना शरीर में बल व ओज बढ़ानेवाली धातु है, इसलिए ये शारीरिक ऊर्जा का क्षय होने से रोकती है. सोने का मंगलसूत्र पहनने से महिलाओं में शारीरिक ऊर्जा बरकरार रहती है और इससे उनकी सुंदरता भी निखरती है.

Suhag Chinha Of Indian Women

विवाहित महिलाएं इसलिए पहनती हैं मंगलसूत्र

  • विवाह के समय दुल्हन सबसे ख़ूबसूरत नज़र आती है और सबकी नज़र दुल्हन पर ही टिकी होती है. ऐसे में दुल्हन को किसी की बुरी नज़र न लगे, इसीलिए काले मोती में पिरोया हुआ मंगलसूत्र दुल्हन को पहनाया जाता है. मंगलसूत्र में पिरोए हुए काले मोती बुरी नजर से दुल्हन की रक्षा करते हैं.
  • ऐसा माना जाता है कि विवाहित स्त्री के मंगलसूत्र में इतनी शक्ति होती है कि इससे सुहागन स्त्री के पति पर आने वाली विपत्तियां दूर होती हैं.
  • मंगलसूत्र को प्रेम का प्रतीक माना जाता है, पति-पत्नी में उम्रभर प्रेम बना रहे इसलिए दुल्हन को मंगलसूत्र पहनाया जाता है.

शादी के बाद दुल्हन पायल और बिछिया क्यों पहनती है?

पैरों में पहनी जानेवाली पायल चांदी की ही सबसे उत्तम व शुभ मानी जाती है. पायल कभी भी सोने की नहीं होनी चाहिए. शादी के समय मामा द्वारा दुल्हन के पैरों में पायल पहनाई जाती है या ससुराल से देवर की तरफ़ से यह तोहफ़ा अपनी भाभी के लिए भेजा जाता है. इसी तरह हर वैवाहिक महिला पैरों की उंगलियों में बिछिया पहनती है. बिछिया भी चांदी की ही सबसे शुभ मानी गई है.

Suhag Chinha Of Indian Women

ये है दुल्हन के पायल और बिछिया पहनने का महत्व

  • शादीशुदा महिला के पैरों में पायल संपन्नता की प्रतीक होती है. घर की बहू को घर की लक्ष्मी माना गया है, इसी कारण घर में संपन्नता बनाए रखने के लिए महिला को पायल पहनाई जाती है.
  • दुल्हन के लिए पैरों की उंगलियों में बिछिया पहनना शुभ व आवश्यक माना गया है. ऐसी मान्यता है कि बिछिया पहनने से महिलाओं का स्वास्थ्य अच्छा रहता है और घर में संपन्नता बनी रहती है.
  • वैज्ञानिक मान्यताओं के अनुसार, चांदी की पायल महिला को जोड़ों व हड्डियों के दर्द से राहत देती है. साथ ही पायल के घुंघरू से उत्पन्न होनेवाली ध्वनि से नकारात्मक ऊर्जा घर से दूर रहती है.
  • इसी तरह महिलाओं के पैरों की उंगलियों की नसें उनके गर्भाशय से जुड़ी होती हैं, बिछिया पहनने से उन्हें गर्भावस्था व गर्भाशय से जुड़ी समस्याओं से राहत मिलती है. बिछिया पहनने से महिलाओं का ब्लड प्रेशर भी नियंत्रित रहता है.

शादी के बाद महिलाएं चूड़ियां क्यों पहनती हैं?

चूड़ियां हर सुहागन का सबसे महत्वपूर्ण श्रृंगार है. शादी के बाद महिलाएं बड़े शौक से चूड़ियां पहनती हैं. महिलाओं के लिए कांच, लाक, सोने, चांदी की चूड़ियां सबसे महत्वपूर्ण मानी गई हैं. ख़ास बात ये है कि चूड़ियां पहनना सिर्फ़ महिलाओं का शौक़ नहीं है, बल्कि चूड़ियां पहनने के कई धार्मिक और वैज्ञानिक लाभ भी हैं.

यह भी पढ़ें: पंजाबी दुल्हन हाथों में चूड़ा और कलीरे क्यों पहनती हैं? (Bridal Special: Significance Of Chooda And Kalire For Punjabi Bride)

Aishwarya
  • धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, चूड़ियां पति-पत्नी के भाग्य और संपन्नता की प्रतीक हैं. चूड़ियां महिलाओं के सुहाग का प्रतीक मानी जाती हैं.
  • लाल और हरे रंग की चूड़ियां सुहाग का प्रतीक मानी जाती हैं. लाल रंग प्रेम का माना जाता है और यह महिलाओं को आदि शक्ति से जोड़ता है. इसी तरह हरा रंग प्रकृति का रंग माना जाता है. जिस तरह प्रकृति हमारे जीवन में ख़ुशहाली लाती है, उसी तरह हरा रंग वैवाहिक जीवन में ख़ुशहाली लाता है.
  • महिलाओं को पति की लंबी उम्र व अच्छे स्वास्थ्य के लिए हमेशा चूड़ी पहनने की सलाह दी जाती है. चूड़ियों का सीधा संबंध चंद्रमा से भी माना जाता है.
  • वैज्ञानिक मान्यताओं के अनुसार, चूड़ियों से उत्पन्न होनेवाली ध्वनि महिलाओं की हड्डियों को मज़बूत करने में सहायक होती है. महिलाओं के ब्लड सर्क्युलेशन में भी चूड़ियां सहायक होती हैं.
  • आयुर्वेद के अनुसार, सोने और चांदी की भस्म शरीर के लिए बलवर्धक होती है इसीलिए सोने और चांदी की चूड़ियां पहनने से इन धातुओं के तत्व महिलाओं को बल प्रदान करते हैं, जिससे महिलाएं लंबी उम्र तक स्वस्थ रहती हैं.
  • विज्ञान कहता है कि कांच की चूड़ियों की खनक से वातावरण में मौजूद नकारात्मक ऊर्जा नष्ट होती है और सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है.

क्या आपको पता है कि आप जो सोलह श्रृंगार (Solah Shringar) करती हैं, वो न स़िर्फ आपकी ख़ूबसूरती में चार चांद लगाते हैं, बल्कि आपकी सेहत (Health) को भी दुरुस्त रखते हैं. जी हां, कौन-कौन-से हैं ये सोलह श्रृंगार और क्या हैं उनके हेल्थ कनेक्शन (Health Connection)? आइए देखते हैं.

Solah Shringar

1. बिंदी

–    भौंहों के बीच में माथे पर महिलाएं जहां बिंदी लगाती हैं, उस स्थान को आज्ञा चक्र कहते हैं. आयुर्वेद के अनुसार यहां बिंदी लगाने से मन शांत रहता है, जिससे तनाव नहीं होता.

–     एक्युप्रेशर के अनुसार, सिरदर्द होने पर यहां थोड़ी देर प्रेस करने से सिरदर्द से राहत मिलती है. जो महिलाएं रोज़ाना बिंदी लगाती हैं, वो एक तरह से सुबह-सुबह इस प्रेशर पॉइंट को मसाज देती हैं, जिससे उन्हें बाकी लोगों के मुक़ाबले सिरदर्द कम होता है.

–     साइनस के दर्द में भी बिंदी आपको राहत दिलाती है. इस जगह पर मसाज करने से नाक के आस-पास ब्लड सर्कुलेशन अच्छी तरह होता है, जिससे साइनस के दर्द और सूजन दोनों में राहत मिलती है.

–     बिंदी लगाते व़क्त महिलाएं अगर थोड़ी देर उसे इधर-उधर ठीक करने में समय लगाती हैं, उससे माथे की मसल्स फ्लेक्सिबल व मज़बूत होती हैं, जो झुर्रियां पड़ने से रोकती हैं.

–     बिंदी के अलावा महिलाएं चंदन, टीका, हल्दी, कुमकुम आदि लगाती हैं, जो काफ़ी उपयोगी साबित होता है. रात को सोने से पहले अगर इस स्थान पर चंदन या हल्दी का टीका लगाएं, तो नींद अच्छी आती है. जिन लोगों को अनिद्रा की समस्या है, उनके लिए यह काफ़ी फ़ायदेमंद साबित होता है.

–     माथे और आंखों की नसों का गहरा कनेक्शन होता है. सुप्राट्रोक्लियर नामक नर्व भी यहां से गुज़रती है, जो फ्रंटल नर्व से जुड़ी है. यह आंख की सभी मसल्स से जुड़ी है, इसीलिए यहां मसाज करने से आंखों की रोशनी भी बेहतर होती है और आंखें भी स्वस्थ रहती हैं.

2. सिंदूर

–    सिंदूर के बिना सोलह शृंगार अधूरा माना जाता है.  हल्दी, चूने और पारे से बने सिंदूर में कई औषधीय गुण मौजूद हैं.

–     हल्दी एक बेहतरीन एंटीबायोटिक है, जो कई तरह के इंफेक्शन्स से बचाता है.

–     मरक्यूरी या पारा ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने के साथ-साथ महिलाओं की सेक्स ड्राइव को भी बढ़ाता है. यह शरीर के तापमान को नियंत्रित रखता है. इसके अलावा मस्तिष्क को शांत रखकर यह तनाव से बचाता है.

–     सिंदूर का लाल रंग रक्त और आग का प्रतीक होता है. यह सिर के बीचोंबीच मांग में इसलिए लगाया जाता है, क्योंकि यहां पिट्यूटरी और पीनियल ग्लैंड्स होते हैं, जो सिंदूर लगाने पर सक्रिय हो जाते हैं. इससे शरीर में पॉज़िटिविटी का संचार होता है.

–     यह महिलाओं में एकाग्रता को बढ़ाता है.

3. मांगटीका

–     यह शरीर के तापमान को नियंत्रित करने में मदद करता है.

–     पिट्यूटरी ग्लैंड पर होने के कारण मांगटीका  पॉज़िटिविटी को आकर्षित करता है.

–     आज्ञाचक्र पर होने के कारण यह आपको अपनी भावनाओं को कंट्रोल करने में मदद करता है.

–     यह महिलाओं को एकाग्रचित्त होने में मदद करता है.

4. काजल

–     काजल आंखों की ख़ूबसूरती को बढ़ाने के साथ-साथ आंखों की रोशनी को भी बढ़ाता है.

–     काजल सूरज की हानिकारक किरणों से आंखों की रक्षा करता है.

–     यह आंखों को हाइड्रेटेड रखता है, जिससे ड्राई आईज़ की समस्या नहीं होती.

–     यह रतौंधी और मोतियाबिंद जैसी आंखों की समस्याओं में काफ़ी कारगर साबित होता है.

–     काजल में मौजूद कपूर आंखों को ठंडक प्रदान करता है. आंखों कोतनाव से भी राहत दिलाता है.

–     काजल में मौजूद घी आंखों के डार्क सर्कल्स को दूर करने में मदद करता है.

–     यह आंखों की थकान, जलन और खुजली को दूर करने में भी काफ़ी मदद करता है.

यह भी पढ़ें: जानें हिंदू मैरिज एक्ट… समय के साथ क्या-क्या बदला? (Hindu Marriage Act: Recent Changes You Must Know)

Solah Shringar
5. नथ/ नोज़ रिंग

–     ज़्यादातर महिलाएं नथ या नोज़ रिंग बाईं तरफ़ पहनती हैं. दरअसल, ऐसा माना जाता है कि नाक के इस हिस्से में छेद करके नोज़ रिंग या नोज़ पिन पहनने से पीरियड्स के दौरान होनेवाले दर्द से राहत मिलती है.

–     बाईं नासिका की नर्व्स महिलाओं के रिप्रोडक्टिव ऑर्गन से जुड़ी होती हैं, इसलिए उन्हें डिलीवरी के दौरान होनेवाला लेबर पेन भी कम होता है.

–     यह ब्रेन की वेवलेंथ्स को कंट्रोल करता है, जिससे इनको सम्मोहित करना आसान नहीं होता.

6. झुमके/ ईयररिंग्स

–     ईयररिंग्स या झुमके हमारे शरीर पर एक्युपंक्चर का काम करते हैं.

–     कान की ईयरलोब में कई एक्युप्रेशर पॉइंट्स होते हैं, जिन्हें मसाज करने से दिमाग़ तेज़ होता है और एकाग्रता भी बढ़ती है.

–     दाएं कान से होकर गुज़रनेवाली नर्व किडनी, ब्रेन और सर्विक्स से जुड़ी होती है. यहां सही दबाव बनाया जाए, तो किडनी और ब्लैडर हमेशा हेल्दी रहते हैं.

7. मंगलसूत्र/ हार

–     मंगलसूत्र यानी पवित्र धागे की हिंदू धर्म में बहुत मान्यता है. आयुर्वेद में भी इसका ज़िक्र है कि सोना हेल्दी हार्ट के लिए काफ़ी फ़ायदेमंद है, इसीलिए मंगलसूत्र सोने के बने होते हैं.

–     हृदय के पास होने के कारण यह उसकी फंक्शनिंग में मदद करता है.

–     मंगलसूत्र पहननेवाली महिलाओं का इम्यून सिस्टम मज़बूत रहता है.

–     यह रक्तसंचार को बेहतर बनाता है, जिससे महिलाएं एनर्जेटिक बनी रहती हैं.

–     साथ ही यह ब्लड प्रेशर को भी नियंत्रित करता है.

–     महिलाओं के शरीर में मौजूद सूर्य नाड़ी को उत्तेजित करता है, जिससे उसमें मौजूद ऊर्जा का संचार होता है.

8. मेहंदी

–     यह शरीर के तापमान को नियंत्रित रखने में भी मदद करती है.

–     हाथों की गहरी मेहंदी न स़िर्फ पिया के प्यार की पहचान है, बल्कि सेहत के लिए भी काफ़ी फ़ायदेमंद है.

–     शादी या किसी फंक्शन के व़क्त महिलाएं काफ़ी स्ट्रेस में और नर्वस रहती हैं, इसलिए ऐसे मौक़ों पर मेहंदी लगाई जाती है, ताकि इसके कूलिंग इफेक्ट से उनकी नर्वसनेस और स्ट्रेस कम हो जाए.

–     इसके अलावा सही ब्लड सर्कुलेशन में भी यह मदद करती है.

–     तापमान नियंत्रित रहने से महिलाओं को सिरदर्द और बुख़ार की शिकायत नहीं होती.

–     हाथों-पैरों की मेहंदी नर्व्स को शांत रखती है, जिससे महिलाओं को तनाव कम होता है.

–     अपने एंटीसेप्टिक गुणों के कारण यह छोटी-मोटी खरोंच होने या कटने-जलने पर सेप्टिक होने से बचाती है और घाव को जल्दी ठीक होने में मदद करती है.

9. बाजूबंद

–     यह ब्लड सर्कुलेशन में मदद करता है.

–     साथ ही इसे पहनने से शरीर की ऊर्जा बनी रहती है.

–     सोने से बने बाजूबंद से महिलाओं को इसके सभी गुणों का लाभ मिलता है.

10. चूड़ियां/कंगन

–     पुराने ज़माने से ही हमारे देश में कांच की चूड़ियां पहनने का चलन रहा है, हालांकि आज प्लास्टिक, मेटल और भी कई मटेरियल्स की चूड़ियां और कड़े बनने लगे हैं, पर कांच की चूड़ियों के हेल्थ बेनीफिट ज़्यादा हैं.

–     कांच अपने सोखनेवाले गुण के कारण आसपास के माहौल से पॉज़िटिविटी को आकर्षित करके पहननेवाले तक पहुंचाता है.

–     चूड़ियों की आवाज़ से निगेटिव एनर्जी महिलाओं को अधिक प्रभावित नहीं करती.

–     चूड़ियां और कंगन महिलाओं के ब्लड सर्कुलेशन को नियंत्रित रखने में मदद करती हैं.

–     गोलाकार होने के कारण एनर्जी शरीर से बाहर निकल नहीं पाती और टकराकर वापस शरीर में चली आती है, जिससे जल्द थकान नहीं होती.

–     हाथों में लगातार रगड़ते रहने से हड्डियां मज़बूत होती हैं.

–     बाकी धातुओं की तुलना में कांच की चूड़ियों में इमोशनल बैलेंस को बनाए रखने की क्षमता बेहतर होती है.

यह भी पढ़ें: वार्षिक राशिफल 2019: जानें कैसा रहेगा वर्ष 2019 आपके लिए (Yearly Horoscope 2019: Astrology 2019)

Solah Shringar
11. हाथफूल/अंगूठियां

–     रिंग फिंगर की नर्व मस्तिष्क से होकर हृदय तक जाती है, इसलिए अंगूठी इसी उंगली में पहनाई जाती है, ताकि दोनों दिल से जुड़े रहें.

–     रिंग से उंगली में लगातार घर्षण होता है, जो हृदय को स्वस्थ बनाए रखने में काफ़ी मदद करता है.

–     रिंग्स ब्लड प्यूरिफिकेशन और सर्कुलेशन में भी मदद करती हैं.

–     मध्यमा उंगली में रिंग नहीं पहननी चाहिए, इससे पहननेवाले को निर्णय लेने में दुविधा होती है.

12. करधनी/ कमरबंद

–     यह दुल्हन की ख़ूबसूरती को जितना निखारती है, उतना ही उन्हें फिट भी बनाए रखती है. यही वजह है कि कुछ समाज में महिलाएं रोज़ाना करधनी पहनती हैं.

–     ज़्यादातर करधनी चांदी की होती है, जो अपने औषधीय गुणों के कारण काफ़ी फ़ायदेमंद साबित होती है.

–     कमर और लोअर एब्डोमन में होने के कारण यह महिलाओं के पीरियड्स को नियमित बनाए रखने में मदद करती है.

–     अपनी पेनकिलर ख़ूबी के कारण चांदी की करधनी पहननेवाली महिलाओं को पीरियड्स के दौरान होनेवाले दर्द और मरोड़ से राहत मिलती है.

–     करधनी पहननेवाली महिलाओं का बेली फैट नहीं बढ़ता, जिससे वो स्लिम-ट्रिम बनी रहती हैं.

–     इतना ही नहीं, यह शरीर में फैट्स को बढ़ने से भी रोकती है.

13. पायल

–     आपने शायद ही इस ओर ध्यान दिया होगा कि चांदी की पायल पेनकिलर का भी काम कर सकती है. जी हां, चांदी शरीर में ऊर्जा के संचार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है.

–    पैरों में होने के कारण चलने-फिरने पर होनेवाली पैरों की थकान को दूर करके यह दर्दनिवारक का काम करती है.

–    चांदी में एंटीमाइक्रोबियल प्रॉपर्टीज़ होती हैं, जो कोल्ड और फ्लू के वायरस से बचाती है. साथ ही इसके कारण घाव तेज़ी से भरते हैं.

–     यह जोड़ों के दर्द से भी काफ़ी राहत दिलाती है.

–     यह त्वचा में लचीलेपन को भी बढ़ाती है, जिससे त्वचा संबंधी समस्याएं कम होती हैं.

14. बिछिया/ टो रिंग

–     शादी के व़क्त पैर की तर्जनी में बिछिया पहनना भी एक रस्म है. दरअसल, बिछिया इसी उंगली में इसलिए पहनी जाती है, क्योंकि इसकी नसें सीधे गर्भाशय से जुड़ी होती हैं.

–     बिछिया पहनने से इस उंगली में जो घर्षण होता है, उससे पीरियड्स नियमित रहते हैं. यूं कहें, तो पीरियड्स नियमित रखने का यह एक नेचुरल तरीक़ा है.

–     दोनों पैरों की उंगलियों में बिछिया पहनने से फर्टिलिटी और रिप्रोडक्टिव हेल्थ बैलेंस रहती है.

–     बिछिया गर्भाशय को भी स्वस्थ रखती है, ताकि महिलाओं को गर्भधारण में कोई समस्या न आए.

–     आयुर्वेद भी इस बात पर ज़ोर देता है कि महिलाओं को पैर में चांदी की बिछिया पहननी चाहिए, ताकि उनमें पॉज़िटिव एनर्जी का संचार होता रहे.

15. परफ्यूम

–    इसकी ख़ुशबू दिनभर फ्रेश फील कराती है, जिससे आप नर्वस फील नहीं करतीं.

–     ख़ुशबू मूड को बेहतर बनाने में भी मदद करती है, जिससे महिलाओं का कॉन्फिडेंस बना रहता है.

–     मूड बेहतर रहने से तनाव व डिप्रेशन नहीं आता, जो शारीरिक स्वास्थ्य के साथ-साथ मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी काफ़ी फ़ायदेमंद है.

16. गजरा/हेयर एक्सेसरीज़

–     गजरा या फूल लगाने से महिलाएं फ्रेश फील करती हैं.

–     फूलों की ख़ुशबू से उनका मूड अच्छा रहता है.

–     जैसमीन के गजरे को सौभाग्य से जोड़कर देखा जाता है.

–     गजरे की ख़ुशबू पार्टनर को आकर्षित करती है.

–     सोने-चांदी की हेयर एक्सेसरीज़ अपने गुणों के कारण महिलाओं को स्वस्थ रखने में मदद करती हैं.

– सुनीता सिंह

यह भी पढ़ें:  लघु उद्योग- कैंडल मेकिंग: रौशन करें करियर (Small Scale Industries- Can You Make A Career In Candle-Making?)