Tag Archives: songs

बॉलीवुड का फेवरेट फेस्टिवल है करवा चौथ, देखें गाने और सीन्स (Top 5 Karwa Chauth Songs And Scenes)

Karwa Chauth Video Songs

करवा चौथ बॉलीवुड की पारिवारिक फिल्मों का फेवरेट त्योहार रहा है. कई फिल्मों में इस फेस्टिवल को बड़े ही भव्य अंदाज़ में दिखाया गया है. फिल्मों में करवा चौथ के सीन्स बेहद ही रोमांटिक और इस सिचुवेशन पर फिल्माए गए गाने बहुत ही कलरफुल हैं. यशराज फिल्म से लेकर करण जौहर तक कई लोगों ने फिल्मों में करवा चौथ को बड़े ही ग्लैमरस तरीक़े से दिखाया है.

आइए, देखते हैं इस ख़ूबसूरत त्योहार पर फिल्माए गए कुछ गाने.

फिल्म- दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे

फिल्म- हम दिल दे चुके सनम

फिल्म- कभी ख़ुशी कभी ग़म

फिल्म- करवा चौथ

फिल्म- बहू बेटी

फिल्मों में कई सीन्स भी हैं, जिसने करवा चौथ के महत्व और इससे जुड़े रीति-रिवाज़ों को बड़े पर्दे पर ख़ूबसूरती से दिखाया है.

फिल्म- बागबान

फिल्म- बाबुल

फिल्म- इश्क विश्क

हैप्पी बर्थडे लता दीदी, देखें उनके 10 बेहतरीन गाने (Birthday Special: Top 10 Songs of Lata Mangeshkar)

लता मंगेशकर हो गई हैं 88 साल की. लता दीदी ने साढ़े छह दशकों में 30 से ज़्यादा भाषाओं में हज़ारों गाने गाए हैं. हर जेनेरेशन उनकी आवाज़ की दीवानी है. यूं तो लता दीदी ने हज़ारों गाने गाए हैं, जिनमें से टॉप 10 चुनना बेहद ही मुश्किल है. फिर भी हमने कोशिश की है उनके गानों में से कुछ गाने चुनकर उनके फैन्स तक पहुंचाने की.

फिल्म- वो कौन थी (1964)

फिल्म- ख़ामोशी (1969)

यह भी पढ़ें: हैप्पी बर्थडे देव साहब, जानें कुछ बातें, देखें उनके 10 गानें 

फिल्म- दो रास्ते (1969)

फिल्म- वीर-ज़ारा (2004)

यह भी पढ़ें: नवरात्र में मां दुर्गा की आराधना करें बॉलीवुड के 11 गरबा के गानों के साथ 

फिल्म- रज़िया सुल्तान (1983)

फिल्म- घर (1978)

यह भी पढ़ें: 67 की हुईं शबाना आज़मी, पहली ही फिल्म में मिला था नेशनल अवॉर्ड, जानें दिलचस्प बातें 

फिल्म- पाकिज़ा (1972)

फिल्म- बातों बातों में (1979)

यह भी पढ़ें: बर्थ डे स्पेशल: ऋषि कपूर को बतौर चाइल्ड ऐक्टर मिला था पहला नेशनल अवॉर्ड, देखें टॉप 10 गाने

फिल्म- सरस्वतीचंद्र (1967)

फिल्म- इज्ज़त (1968)

यह भी पढ़ें: हैप्पी बर्थडे गुलज़ार साहब! देखें उनके 10 बेहतरीन गाने 

हैप्पी बर्थडे रणधीर कपूर… देखें उनके टॉप 5 गाने… (Happy birthday Randhir Kapoor)

randhir kapoor

randhir kapoor

फिल्म इंडस्ट्री में वैसे ही बहुत चुनौतियां हैं, उस पर यदि कपूर खानदान का नाम जुड़ा हो, तो अपेक्षाओं का बोझ भी अलग से ढोना पड़ता है… ऐसा ही हुआ राज कपूर के बेटे रणधीर (Randhir Kapoor) के साथ और शायद यही वजह रही कि उनका एक्टिंग करियर बहुत ज़्यादा ऊंचाइयों तक तो नहीं पहुंच पाया, लेकिन उन्होंने अपनी एक अलग छाप ज़रूर छोड़ी.

कल आज और कल से अपनी एक्टिंग व अपनी डायरेक्शन की शुरुआत कर रणधीर ने फिल्म इंडस्ट्री में क़दम रखा, यह फिल्म एवरेज रही. इसके बाद उन्होंने कई बड़ी फिल्में कीं, जैसे- हाथ की सफ़ाई, रामपुर का लक्ष्मण, जीत, जवानी दिवानी, धरम करम, कसमें वादे. इन तमाम फिल्मों ने उन्हें बड़े एक्टर्स की कतार में ला खड़ा किया, लेकिन 80 के दशक में उनका करियर ढलान पर आ गया और उसके बाद वे सपोर्टिंग रोल्स में ही नज़र आए.

हालांकि बतौर डायरेक्टर उनकी फिल्म हिना को ऑस्कर के लिए भी भेजा गया और हिना उस दशक की बहुत बड़ी हिट फिल्म भी साबित हुई. इसके बाद रणधीर ने हाउसफुल मूवी से बतौर एक्टर कमबैक किया, जो काफ़ी कामयाब रही.

यदि बात उनकी पर्सनल लाइफ की करें, तो बबीता के साथ उनकी शादी बहुत ज़्यादा नहीं चली, लेकिन अलग-अगल रहते हुए भी दोनों ने अपनी ज़िम्मेदारियां निभाईं, यही वजह है कि आज करिश्मा व करीना के रूप में हमारे सामने बेहद उम्दा कलाकार मौजूद हैं. रणधीर कपूर को उनके जन्मदिन पर हम शुभकामनाएं देते हैं.

देखें उनके ये सुपरहिट गाने…

फिल्म: जवानी दीवानी 

फिल्म: कल आज और कल 

फिल्म: रामपुर का लक्ष्मण 

फिल्म: धरम करम 

फिल्म: हरजाई 

 

बर्थडे स्पेशल: संगीत प्रेमियों के चितचोर यसुदास के टॉप 5 गाने (Birthday Special: top 5 songs of Yesudas)

yesu1

साउथ से लेकर नार्थ तक को अपनी आवाज़ से जोड़नेवाले संगीत प्रेमियों के चितचोर यसुदास को मेरी सहेली की ओर से जन्मदिन की बहुत-बहुत बधाई! आवाज़ के इस जादूगर ने अपनी आवाज़ से न केवल दक्षिण भारत, बल्कि पूरे देश को अपना दीवाना बना दिया. आमतौर पर ऐसा होता नहीं. फिल्म इंडस्ट्री बंटी हुई है. भले ही एक-दो फिल्म इधर-उधर लोग कर लें, लेकिन साउथ के लोग वहां और बॉलीवुड के लोग यहां अपनी सफलता कमाते हैं. यसुदास ने इस लाइन को पूरी तरह से क्रॉस करते हुए दोनों जगह के लोगों को अपना दीवाना बनाया और ख़ूब सफलता प्राप्त की.

आवाज़ के जादूगर
यसुदास की आवाज़ में ग़ज़ब की खनक है. उनके गाने को बिना संगीत के भी पिरोया जा सकता था. इसका मुख्य कारण है, उनकी खनकती आवाज़. लोग उन्हें आवाज़ का जादूगर कहते हैं. 10 जनवरी 1940 में केरल के कोच्चि शहर में जन्में यसुदास नेे मलयालम, तमिल, कन्नड़, हिंदी सहित कई भाषाओं में गीत गाए हैं. तभी तो केवल साउथ ही नहीं, बल्कि पूरे देश में उनके दीवाने हैं.

जब देश के लिए जुटाए फंड
आज की तरह के गायकों से एकदम अलग यसुदास स़िर्फ अपने लिए नहीं गाते. ऐसे कई मौ़के आए हैं, जब उन्होंने देश को अपनी तरफ़ से आर्थिक मदद की है. साल 1965 में जब भारत और चीन के बीच युद्ध हुआ, तो यसुदास रिकॉर्डिग रूम से बाहर निकले और कई जगह गाना गाकर युद्ध के लिए फंड जुटाने लगे. इसी तरह 1971 में भी जब बांग्लादेश को पाकिस्तान से आज़ाद कराने के लिए भारत ने युद्ध शुरू किया, तो यसुदास सड़कों पर उतर आए और खुले ट्रक में गाने गाते हुए राष्ट्र के लिए एक बार फिर फंड जुटाया.

एक नज़र यसुदास के माइल स्टोन गानों पर
चांद जैसे मुखड़े पे बिंदिया सितारा… गोरी तेरा गांव बड़ा प्यारा… जैसी कई रोमांटिक गाने आज भी पॉप्युलर हैं. यसुदास की खनकती आवाज़ में गाए इन गानों को एक बार फिर सुनिए आप.

 

श्वेता सिंह