Subhash Ghai

Jackie Shroffबॉलीवुड के स्टाइलिश ऐक्टर जैकी श्रॉफ़ (Jackie Shroff) हो गए हैं 60 साल के. फिल्म स्वामी दादा से अपने करियर की शुरुआत करने वाले जैकी एकदम बिंदास स्वभाव के हैं. 10 अलग-अलग भाषाओं में लगभग 200 से ज़्यादा फिल्में कर चुके जैकी अब भी फिल्मों में अपनी ऐक्टिंग से लोगों का दिल जीत रहे हैं.

मेरी सहेली (Meri Saheli) की ओर से जैकी श्रॉफ़ को ए वेरी हैप्पी बर्थ डे. आइए, उनके जन्मदिन पर जानते हैं उनके बारे में कुछ रोचक बातें.

  • जैकी श्रॉफ़ का असली नाम जयकिशन काकूभाई श्रॉफ़ है.
  • निर्देशक सुभाष घई ने उन्हें जैकी नाम तब दिया, जब उन्होंने जैकी को अपनी फिल्म हीरो के लिए साइन किया था.
  • सुभाष घई की कई फिल्मों में जैकी ने अभिनय किया है. घई साहब की किसी भी फिल्म के लिए जैकी ना नहीं बोलते थे, फिर चाहे रोल कोई भी हो.
  • जैकी की पहली फिल्म उन्हें देवआनंद ने दी है. बड़े ही फिल्मी अंदाज़ में जैकी को फिल्म स्वामी दादा मिली थी. जैकी फिल्म स्वामी दादा की शूटिंग देखने पहुंचे थे. भीड़ में वे अलग ही नजर आ रहे थे. देव साहब की नज़र जैकी पर पड़ी, उन्होंने जैकी को बुलाया और एक छोटा-सा रोल करने के लिए कहा, जैकी मान गए.
  • फिल्मों में आने से पहले जैकी अपनी बस्ती में जग्गू दादा के नाम से प्रसिद्ध थे.
  • जैकी बेहद अच्छे कुक भी हैं. उनके हाथ का बना बैंगन का भर्ता बॉलीवुड में काफ़ी फेमस है. दरअसल, जैकी ताज होटल में शेफ़ बनना चाहते थे, लेकिन डिग्री न होने की वजह से उन्हें काम नहीं मिला. उसके बाद उन्होंने फ्लाइट अटेंडेंट बनने की सोची, लेकिन डिग्री न होने की वजह से वहां भी बात नहीं बनी.
  • एक दिन जैकी बस स्टॉप पर खड़े थे, जहां उन्हें एक व्यक्ति ने मॉडलिंग करने का ऑफर दिया. जैकी का पहला सवाल था कि क्या मॉडलिंग के बदले उन्हें पैसे मिलेंगे.
  • जैकी दिलदार इंसान हैं. उन्होंने कई निर्माता-निर्देशकों की मदद के लिए छोटे बजट की फिल्में भी साइन कर ली, जिसका असर उनके करियर पर भी पड़ा.
  • जैकी का भिड़ू कहने का अंदाज़ बॉलीवुड में काफ़ी फेमस है.

IMG_7389242354 (1)राज कपूर के बाद बॉलीवुड के दूसरे शोमैन कहे जाने वाले सुभाष घई (Subhash Ghai) हो गए हैं 72 साल के. बॉलीवुड के इस शोमैन ने हिंदी सिनेमा को कई बेहतरीन फिल्में और जैकी श्रॉफ, माधूरी दीक्षित, मीनाक्षी शेषाद्री, मनीषा कोइराला, महिमा चौधरी, श्रेयस तलपड़े जैसे ऐक्टर्स दिए हैं. कोरियोग्राफर सरोज खान को भी उन्होंने ही फिल्मों में मौक़ा दिया था.

आइए जानते हैं उनके बारे में कुछ बातें.

  • 24 जनवरी 1945 को नागपुर में जन्में सुभाष घई हीरो बनना चाहते थे. बचपन के इस सपने को पूरा करने के लिए उन्होंने पुणे के फिल्म एंड टेलीविज़न इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया से डिग्री हासिल की.
  • सुभाष पुणे से मुंबई आ गए और कुछ फिल्मों में ऐक्टिंग की, लेकिन ऐक्टर के तौर पर पहचान नहीं बना पाए.
  • सुभाष की किस्मत में था एक कामयाब निर्देशक बनना. उन्होंने बतौर निर्देशक अपने करियर की शुरूआत की साल 1976 में फिल्म कालीचरण के साथ. फिल्म हिट साबित हुई, जिसके बाद उन्होंने एक के बाद एक कई सुपरहिट फिल्में दीं.
  • साल 1982 में सुभाष घई ने अपनी प्रोडक्शन कंपनी मुक्ता आटर्स की स्थापना की और फिल्म हीरो बनाई. हीरो से उन्होंने जैकी श्राफ को लॉन्च किया था.
  • सुभाष घई बॉलीवुड के पहले ऐसे प्रोड्यूसर हैं, जिन्होंने अपनी फिल्म ताल के ज़रिए फिल्म इंश्योरेंस पॉलिसी की शुरुआत की. इसके अलावा फिल्मों को बैंक से फाइनेंस करवाने का कॉन्सेप्ट शुरू करने का श्रेय भी उन्हीं को जाता है.
  • इंडस्ट्री को नए ऐक्टर्स देने के लिए सुभाष घई ने विसलिंग वूड्स नाम से ऐक्टिंग स्कूल भी खोला है. ये स्कूल दुनिया के टॉप 10 फिल्म स्कूलों में से एक माना जाता है.
  • घई साहब अपने काम के मास्टर हैं, आपको जानकर आश्चर्य होगा कि परदेस फिल्म के सुपरहिट गाने ये दिल दिवाना… उन्होंने केवल 4 घंटे में शूट किया था, क्योंकि शाहरुख को इसी दिन रात की फ्लाइट पकड़नी थी. जब गाना बनकर तैयार हुआ, तब सब ये गाना देखकर दंग रह गए.

मेरी सहेली (Meri Saheli) की ओर से शोमैन सुभाष घई को जन्मदिन की ढेरों शुभकामनाएं.