Tag Archives: Super Tips

10 कुकिंग टिप्स हर महिला को मालूम होने चाहिए (10 Awesome Cooking Tips & tricks Every Woman Should Know)

Awesome Cooking Tips, Cooking tricks

खाना बनाना एक कला है और टेस्टी खाना बनाने के लिए हमेशा कुछ नया ट्राई करते रहना चाहिए. यहां हम आपको 10 ऐसे यूज़फुल किचन टिप्स बता रहे हैं, जो हर महिला को मालूम होने चाहिए. ये 10 ईज़ी किचन टिप्स आपकी कुकिंग को आसान बना देंगे.

Awesome Cooking Tips, Cooking tricks

 

1) टमाटर का सूप बनाने के लिए उसे उबालते समय ही एक हरी मिर्च, एक लहसुन की कली और एक टुकड़ा अदरक डाल दें, सूप स्वादिष्ट बनेगा.
2) ग्रेवी के लिए अदरक-लहसुन का पेस्ट तैयार करते समय हमेशा लहसुन की मात्रा 60% और अदरक 40% होना चाहिए, क्योंकि अदरक का स्वाद बहुत स्ट्रॉन्ग होता है.
3) अगर आप रात में चने, छोले या राजमा भिगोना भूल गई हैं, तो कोई बात नहीं. सुबह उन्हें एक से डेढ़ घंटे तक गरम पानी में भिगोकर रखें और उबालते समय उसमें 2 खड़ी सुपारी डाल दें.
4) खसखस को 10-15 मिनट पानी में भिगोने के बाद ही मिक्सर में पीसें. इससे वो अच्छी तरह पिस जाएगा.
5) सब्ज़ियां, सलाद आदि बहुत छोटे आकार में काटने से उनकी पौष्टिकता कम हो जाती है.
6) अचार और सब्ज़ियों में घर में तैयार लालमिर्च पाउडर डालने से स्वाद और रंग अच्छा आता है.
7) हरी सब्ज़ियों को ढंककर पकाएं ताकि उनमें मौजूद विटामिन भाप के साथ उड़े नहीं.
8) दाल में अगर पानी ज़्यादा हो जाए तो उसे फेंके नहीं, बल्कि सब्ज़ी, सूप आदि में इसका इस्तेमाल कर लें.
9) अगर मसाले में नारियल पिसा हो तो उसे ज़्यादा देर तक न भूनें.
10) करी को शाम तक फ्रेश रखने के लिए उसमें आधा नींबू निचोड़ दें.

यह भी पढ़ें: आलू की 5 बेस्ट और ईज़ी रेसिपीज़

 

ये टिप्स भी हैं काम के
* आंच से उतारने के बाद भी कड़ाही/पैन गरम होने की वजह से खाना पकता रहता है, इसलिए खाने को (खासकर चावल की डिश को) ज़्यादा पकने से बचाने के लिए उसे पूरी तरह पकने से कुछ देर पहले ही आंच से उतार लें.
* चिकन, मटन और फिश को फ्रिज में रखने से पहले अच्छी तरह धो लें. साथ ही इन्हें अलग-अलग पैकेट्स में रखें.
* अगर आप फिश या सब्ज़ी के लिए राई का पेस्ट बना रही हैं, तो इसकी कड़वाहट दूर करने के लिए इसमें थोड़ा-सा भिगोया हुआ खसखस, मिर्च और नमक मिलाएं.
* टमाटर को आसानी से छीलने के लिए उसे बीच से काट लें और कटे हुए भाग को नीचे की ओर रखते हुए माइक्रोवेव में 2-3 मिनट के लिए रखें.
* नॉन स्टिक पैन को गरम करने से पहले उसे नॉन स्टिक वेजीटेबल कुकिंग स्प्रे से कोट कर लें. साथ ही उसे 3 मिनट से ज़्यादा देर तक गरम न करें.
* पाई बनाने या किसी चीज़ को माइक्रोवेव में गरम करने के लिए कांच के बर्तन का इस्तेमाल करें, जबकि केक बनाने के लिए नॉन-स्टिक या सिलिकॉन पैन का प्रयोग करें.
* कोई भी चीज़ ग्रिल करने से पहले ग्रिल पर नॉन-स्टिक कुकिंग स्प्रे छिड़के ताकि कोई भी चीज़ ग्रिल करते समय चिपके नहीं.

यह भी पढ़ें: आम की 5 बेस्ट और ईज़ी रेसिपीज़

 

औषधीय गुणों से भरपूर पीपल के 14 बेहतरीन फ़ायदे (14 Amazing Health Benefits Of Peepal)

Health Benefits Of Peepal
Health Benefits Of Peepal
वृक्षों में पीपल (Health Benefits Of Peepal) का स्थान सबसे ऊंचा है. वायुमंडल में सबसे अधिक मात्रा में ऑक्सीजन पीपल के द्वारा ही उत्सर्जित होती है. इसी से हम सांस लेकर जीवित रहते हैं. पीपल में अमृत तत्व पाया जाता है. इसमें देवताओं का निवास स्थान माना गया है. लेकिन आध्यात्मिक महत्व के अतिरिक्त इसकी सबसे बड़ी विशेषता यह है कि पीपल के जड़ से लेकर पत्तों तक में रोग निवारण की अद्भुत क्षमता है. दूध जैसा दिखनेवाला इसका रस हृदय रोग को दूर करता है. आयुर्वेदिक ग्रंथों में भी पीपल के औषधीय गुणों का महत्व बतलाया गया है.

 

* सांस फूलने या दमा का दौरा पड़ने पर पीपल की सूखी छाल के चूर्ण की 5 ग्राम मात्रा गुनगुने पानी के साथ दिन में तीन बार लेने से काफ़ी राहत मिलती है और धीरे-धीरे यह रोग शांत हो जाता है.
* यदि कब्ज़ हो, तो पीपल के पत्तों को छाया में सुखाकर उसके चूर्ण को गुड़ के साथ मिलाकर गोलियां बना लें. रात को सोने के कुछ समय पहले दो गोली गुनगुने दूध के साथ सेवन करने से तुरंत ही लाभ होता है.
* आंखों से पानी गिरने पर पीपल की पांच कोपलें एक कप पानी में रात को भिगो दें और सुबह उसी पानी से आंखों को धोएं.
* कोपलों के रस में शुद्ध शहद मिलाकर सलाई से आंखों में प्रतिदिन लगाने से आंखों की लाली तथा जलन भी दूर होती है.
* पीपल के छोटे पत्तों को कालीमिर्च के साथ पीसकर मटर के आकार की गोलियां बनाएं. एक गोली दांतों तले दबाकर कुछ देर रखने से दांतों का दर्द दूर हो जाता है.
* 50 ग्राम पीपल की गोंद में समान मात्रा में मिश्री मिलाकर चूर्ण बनाएं. प्रतिदिन सुबह 3 ग्राम यह चूर्ण सेवन करने से शरीर की गर्मी शांत होती है और नकसीर से छुटकारा मिल जाता है.
* पीपल और लसौढ़े के 5-5 पत्ते अच्छी तरह पीसकर उसमें सेंधा नमक मिलाकर पंद्रह दिनों तक पीने से पीलिया रोग पूर्ण रूप से ख़त्म हो जाता है.
* पीपल के पंचांग का चूर्ण एवं गुड़ समान मात्रा में मिलाकर सौंफ के अर्क के साथ दिन में दो बार सेवन करने से पेट के सारे कीड़े मर जाते हैं. बच्चों के लिए यह बहुत उपयोगी नुस्ख़ा है.
* पीपल के सूखे फलों को कूट-पीसकर कपड़छान चूर्ण बना लें. संतानहीन स्त्रियों को इस चूर्ण की 5 ग्राम की मात्रा एक ग्लास शुद्ध गुनगुने दूध के साथ नियमित सेवन करना चाहिए. गर्भाधान अवश्य होगा. केवल मासिक धर्म के दिनों में इसका सेवन न करें.
* शीघ्रपतन की शिकायत हो, तो पीपल की दुधिया रंग की 11 बूंदें शक्कर या बताशे में टपकाकर प्रतिदिन सेवन करने से सारा दोष मिट जाता है. कुछ महीनों तक इसका सेवन जारी रखें.
* पीपल की छाया में प्रतिदिन विश्राम करने वाले लोग चर्म रोग से बचे रहते हैं.
* सन्निपात ज्वर के रोगी को पीपल के पत्तों पर लिटाने से उसका ज्वर उतर जाता है.
* बच्चे को नज़र लग जाने पर पीपल के पत्तों को जलाकर उसका धुआं बच्चे के शरीर पर लगाने से नज़र उतर जाती है.

सुपर टिप

पीपल के पांच पके हुए फल प्रतिदिन खाने से स्मरणशक्ति बढ़ती है. साथ ही शरीर भी पुष्ट एवं ओजयुक्त होता है.

 

दादी मां के अन्य घरेलू नुस्ख़े/होम रेमेडीज़ जानने के लिए यहां क्लिक करें- Dadi Ma Ka Khazana