T series

टी-सीरीज़ कंपनी की ओनर दिव्या खोसला कुमार और बॉलीवुड सिंगर सोनू निगम के बीच नेपोटिज़्म को लेकर होनेवाली कोल्ड वॉर थमने का नाम ही नहीं ले रही है. बॉलीवुड सिंगर सोनू निगम ने म्यूजिक इंडस्ट्री में नेपोटिज़्म के होने की आवाज़ उठाई थी और सोशल मीडिया पर भूषण कुमार को धमकी दी थी. इसके बाद टी सीरीज़ कंपनी के मालिक भूषण कुमार की पत्नी दिव्या कुमार खोसला ने जवाबी हमला बोल दिया. उन्होंने सोनू निगम पर झूठ बोलने का आरोप लगते हुए उन्हें अहसानफरामोश बताया। दिन-ब दिन दोनों के बीच की कोल्ड वॉर गहराती जा रही है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि बॉलीवुड की प्रभावशाली महिलाओं में दिव्या खोसला कुमार का नाम आता है. फिल्म इंडस्ट्री में ही नहीं, बिज़नेस की दुनिया में भी उनका काफी नाम है. आइये हम आपको बताते हैं कि दिव्या खोसला से जुडी हुई कुछ बातें, कैसे दिल्ली की रहने वाली दिव्या खोसला कुमार टी-सीरीज़ की मालकिन और बॉलीवुड का जाना पहचाना चेहरा बन गई. 

दिल्ली के एक मध्यम वर्गीय परिवार से हैं दिव्या खोसला

Divya Khosla Kumar

दिव्या खोसला का जन्म दिल्ली के एक मध्यम वर्गीय परिवार में  हुआ था. उनकी मम्मी टीचर थीं और पिताजी का एक छोटा सा प्रिंटिंग प्रेस था. वे किराये के घर में रहते थे. दिव्या को पढ़ने का बहुत शौक था. वे बचपन से बहुत पढ़ाकू और बुद्धिमान थीं. जब भी समय मिलता दिव्या पढ़ने के लिए लाइब्रेरी चली जाती थी. एक बार दिव्या अपनी मम्मी को बता रही थी मैंने लाइब्रेरी  की सारी किताबें पढ़ ली हैं. एक भी किताब ऐसी नहीं है, जो मैंने नहीं पढ़ी है. दिव्या भले ही मिडिल क्लास फैमिली से थी, पर उनके पेरेंट्स ने उन्हें सारी सुविधाएं दीं, जो वे चाहती थीं. स्कूल-कॉलेज टाइम  में में बहुत सीदी-सादी  टाइप की थी. मेरा कोई बॉयफ्रेंड भी नहीं था. बहुत  सारे लड़के मेरे पीछे पड़े थे।  लेकिन मैं ऐसा कोई काम नहीं करना चाहती थी, जिससे मेरे पेरेंट्स निराश हों.

करियर बनाने के लिए पकड़ी मुंबई की राह

Divya Khosla Kumar

बी.कॉम ऑनर्स करने के साथ-साथ दिव्या ने प्रिंट विज्ञापनों के लिए मॉडलिंग करना शुरू कर दिया था. तब उनकी उम्र केवल १८ साल की थी. दिव्या के मम्मी आर्मी बैक राउंड से थीं, इसलिए उन्हें दिव्या के मॉडलिंग करने पर कोई आपत्ति नहीं थी. पर उनके पिता बिलकुल खुश नहीं थे. पढाई खत्म के बाद वे अकेले ही मुंबई आ गईं. वे मुंबई में किसी को नहीं जानती थी.

Divya Khosla Kumar

अपने आरम्भिक मुंबई प्रवास के दौरान दिव्या को ज्यादा संघर्ष नहीं करना पड़ा. किस्मत ने साथ दिया और दिव्या पहली बार 2000 में सिंगर फाल्गुनी पाठक के म्यूजिक वीडियो ‘अइयो रामा हाथ से ये दिल खो गया’ में नजर आई थीं। जिसमें लोगों ने उन्हें काफी पसंद किया. इसके बाद वे  2003 में कुणाल गांजावाला के म्यूजिक एलबम ‘जिद ना करो ये दिल दा मामला है’ में सलमान खान के साथ नज़र आईं.

पहली ही मुलाकात में भूषण कुमार अपना दिल दे बैठे 

Divya Khosla Kumar

फिल्म ‘अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों’ की शूटिंग के दौरान ही भूषण कुमार और दिव्या की पहली मुलाकात हुई थी.  इसके बाद दोनों की मैसेज और चैट से बात करने लगे. धीरे-धीरे दोनों की दोस्ती परवान चढ़ने लगी.

शादी करते ही छोड़ दी एक्टिंग

Divya Khosla Kumar

इसी बीच  भूषण कुमार की बहन की शादी दिल्ली में तय हो गई. शादी में भूषण कुमार ने दिव्या को पेरेंट्स के साथ इनवाइट किया था. दिव्या की फैमिली को भी भूषण  कुमार अच्छे लगे. दिव्या की माँ ने दिव्या को भूषण कुमार से  शादी करने के लिए तैयार किया. बाद में परिवार की रज़ामंदी से दोनों की शादी हो गई. दिव्या खोसला और भूषण कुमार की शादी १३ फरवरी २००५ में  वैष्णो देवी मंदिर (कटरा) में हुई. शादी के बाद दिव्या खोसला से दिव्या खोसला कुमार बन गई और टी सीरीज़ कंपनी की मालकिन भी. शादी करते ही दिव्या ने एक्टिंग को अलविदा कह दिया.

एक बेटे के मां भी हैं

Divya Khosla Kumar

दिव्या ने  2011 में उन्होंने बेटे रुहान को जन्म दिया और प्यारे से बेटे की मां बनीं.

फिल्म मेकिंग सीखी और डायरेक्टर बनीं

Divya Khosla Kumar

दिव्या खुद को क्रिएटिव मानती है. इसलिए एक्टिंग छोड़ने के बाद फिल्म मेकिंग सीखी. वे हमेशा से ही डायरेक्टर बनना चाहती थी, इसलिए कोर्स खत्म करने के बाद दिव्या ने कई म्यूजिक वीडियोज और एड डायरेक्ट किए. २०१४ में  फिल्म यारियां और  2016 में सनम रे की डायरेक्ट किया. इसके बाद तो  दिव्या ने रणबीर कपूर की ‘रॉय, खानदानी शफाखाना, बाटला हाउस, मरजावां, प्रोड्यूस कीं.

और भी पढ़ें: नरगिस दत्त से लेकर कंगना रनौत तक वो बॉलीवुड एक्ट्रेसेस जिन्होंने अपने करियर में निभाए डबल रोल (10 Bollywood Female Actresses Who Played Double Roles In Their Careers)

Shraddha Kapoor

बॉक्सर मैरी कॉम के बाद अब दूसरी महिला खिलाड़ी पर बायोपिक बनने जा रही है. ये खिलाड़ी कोई और नहीं, बल्कि भारत की स्टार और पूर्व नंबर 1 बैडमिंटन प्लेयर साइना नेहवाल हैं. साइना नेहवाल की ज़िंदगी पर अमोल गुप्ते एक फिल्म बना रहे हैं. फिल्म की चर्चा तो बहुत पहले से थी, लेकिन इसके स्टारकास्ट को लेकर दुविधा थी. शुरुआत में एक बार ये हुआ था कि इस रोल को दीपिका पादुकोण निभाएंगी, लेकिन अब श्रद्धा कपूर के नाम की फाइनल मुहर लग गई है.

खेल प्रेमियों के लिए ये बेहद ख़ुशी की बात है कि उन्हें एक और बायोपिक देखने को मिलेगा. इस फिल्म पर निर्देशक अमोल गुप्ते की टीम रिसर्च में लग गई है. फिल्म को भूषण कुमार प्रोड्यूस करेंगे. साइना इन दिनों बैडमिंटन एशिया चैंपियनशिप के लिए चीन में हैं. इस खबर पर प्रतिक्रिया जताते हुए साइना ने कहा, वाह! मुझे फिल्म के बारे में तो जानकारी थी, लेकिन कास्टिंग के बारे में पता नहीं था. यह शानदार रहेगा, यदि श्रद्धा मेरी भूमिका में हों, क्योंकि वह बेहद टैलंटेड और मेहनती ऐक्ट्रेस हैं. मुझे यक़ीन है कि वह इस रोल के साथ पूरा न्याय करेंगी.

श्रद्धा कपूर भी अपने इस रोल से काफ़ी ख़ुश हैं. उन्होंने कहा कि ज़्यादातर लड़कियां अपने स्कूल के दिनों में कभी न कभी बैडमिंटन खेलती ही हैं. मुझे लगता है कि मैं काफी लकी हूं कि मुझे साइना का किरदार निभाने का मौका मिल रहा है, जो केवल दुनिया की नंबर वन बैडमिंटन प्लेयर ही नहीं, बल्कि एक यूथ आइकन भी हैं. मुझे अपने इस रोल की शुरुआत का बेसब्री से इंतज़ार है. श्रद्धा नेे अपने सोशल मीडिया पेज पर इस फिल्म से रिलेटेड कई पोस्ट किए.

हम आपको बता दें कि साइना अपने आप पर बनने वाली फिल्म से बहुत एक्साइटेड हैं. साथ ही वो इस बात से भी ख़ुश हैं कि उनका रोल कोई और नहीं, बल्कि उनकी अच्छी दोस्त श्रद्धा कपूर निभा रही हैं. साइना कहती हैं कि काफ़ी लोग कहते हैं कि वो और श्रद्धा एक जैसी दिखती हैं. ऐसे में फिल्म में श्रद्धा का चुना जाना पूरी तरह से बेहतरीन लग रहा है.

अब सारा दारोमदार श्रद्धा पर है कि वो फिल्म में कैसा अभिनय करती हैं. दर्शकों ने प्रियंका चोपड़ा को मैरी कॉम के रोल में देखकर बहुत सराहा था. फैन्स से लेकर क्रिटिक तक ने प्रियंका के अभिनय को सराहा था. इतना ही नहीं, जब मिल्खा सिंह पर फिल्म बनी थी, तो उसमें फरहान अख़्तर ने भी ज़बर्दस्त अभिनय किया था. इन दोनों की परफॉर्मेंस को देखकर श्रद्धा से लोगों की उम्मीदें बढ़ना लाज़मी है.