tobacco

विश्व तंबाकू निषेध दिवस (World No Tobacco Day) पहली बार 7 अप्रैल 1988 को विश्व स्वास्थ्य संगठन की 40 वीं वर्षगांठ पर मनाया गया था. बाद में इसे बदलकर 31 मई कर दिया गया. तंबाकू एक धीमा ज़हर है जो मनुष्य को धीरे-धीरे मौत के मुंह में ले जाता है. यदि एक बार किसी को नशे की लत लग जाए तो वह न चाहते हुए भी उसकी ओर खींचा चला जाता है. आइए, जानते हैं कैसे बचे नशे की इस लत से.

World-No-Tobacco-Day (1)

 

ख़तरनाक है तंबाकू

  • धूम्रपान अथवा तंबाकू के सेवन से रीढ़ की हड्डियां कमज़ोर हो जाती हैं.
  • तंबाकू में मौजूद निकोटिन के कारण शरीर से विटामिन सी और ई कम होने लगता है.
  • तंबाकू के सेवन से गला, श्वास नली एवं फेफड़ों का कैंसर होता है.
  • दिल की बीमारियां हो सकती हैं.
  • तंबाकू के सेवन से अनिद्रा की भी समस्या हो जाती है.

तंबाकू छोड़ें

  • तंबाकू छोड़ने के लिए सबसे पहले दृढ़ संकल्प सेने की ज़रूरत है.
  • यदि आपने यह संकल्प कर लिया है कि तंबाकू छोड़ना ही है, तो अपने रिश्तेदारों, मित्रों को यह बता दें, ताकि वो भी इसमें आपकी मदद कर सकें.
  • अपने पास या घर में कहीं भी तंबाकू या नशीली चीजें न रखें.
  • आज एक सिगरेट पी लेता हूं कल से नहीं पीऊंगा… ऐसा कभी न सोचें. यदि आप ऐसा सोचेंगे तो तंबाकू नहीं छोड़ पाएंगे.
  • तंबाकू की लत से छुटकारा पाने के लिए योग करें.

तंबाकू को छोड़ते समय आने वाली कठिनाइयां

किसी भी नशीले पदार्थ को छोड़ने में कुछ कठिनाइयां आती हैं, जिसे विड्रावल लक्षण भी कहते हैं –

  • अनिद्रा
  • बेचैनी
  • हृदय की धड़कन का बढ़ना
  • भूख न लगना
  • नशे की तीव्र इच्छा मन में जागृत होना
  • सिरदर्द

यदि इस प्रकार की कठिनाइयों का सामना आप कर रहे हैं, तो डॉक्टर से संपर्क करें. इसके अलावा आयुर्वेदिक दवाएं भी इस अवस्था में कारगर सिद्ध होती हैं.