tradition

Know the reason why Dhanteras, Saraswati and Lakshmi are worshiped on Deepawali?

भारत त्योहारों का देश कहलाता है और ध्यान रहे इन त्योहारों के भीतर भारतीय दर्शन का मर्म छिपा हुआ है. दीपों का त्योहार दीपावली हिन्दुओं के प्रमुख त्योहारों में से एक है और वह एक दिन का न होकर पांच दिन का त्योहार होता है.
मान्यता है कि भगवान धन्वंतरि समुद्र मंथन के समय अमृत कलश लेकर प्रकट हुए थे. धनतेरस इन्हीं आरोग्य के देवता और वैद्य धन्वंतरि के जन्मदिन पर मनाया जाता है, जो कि दीपावली से दो दिन पूर्व आता है.
सही भी है हमारा असली धन, तो हमारा शारीरिक, बौद्धिक और आध्यात्मिक विकास ही है.
भारत सरकार ने भी धनतेरस को ‘राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस’ के रूप में मनाने का निर्णय लिया है.
एक बात जो दिमाग़ में आती है वह यह कि यह त्योहार ‘वाग बरस’ नहीं बल्कि ‘वक बारस’ है.
शब्दकोश वाक्य भाषण और भाषा का अर्थ देता है. पीड़ा के कुछ हिस्से को भाषण के रूप में जाना जाता है. सरस्वती वाणी या भाषा की देवी है. यही वजह है कि सरस्वती को वाग्देवी के नाम से भी जाना जाता है. हमारी वाणी और भाषा को अच्छा रखने और बुद्धि को दूषित किए बिना हमारे आचरण को अच्छा रखने की दृष्टि से दीपावली के दिन मां सरस्वती की पूजा की जाती है.
वाक्य को विकृत करके लोगों ने बाघ को मार डाला और पूरे त्योहार को बाघ बरस के रूप में जाना जाने लगा, लेकिन हमारी हिन्दू संस्कृति और दर्शन का कहना है कि लक्ष्मी की पूजा करने से पहले सरस्वती की पूजा की जानी चाहिए. इसलिए हमारे पूर्वज धनतेरस के अगले दिन लक्ष्मी की पूजा से पहले ‘वास बार’ के दिन मां सरस्वती की पूजा करते हैं.
इस त्योहार का बाघों से कोई लेना देना नहीं है. उस दिन केवल मां सरस्वती की पूजा की जानी चाहिए और उनके चरणों में प्रणाम कर प्रार्थना करनी चाहिए- “हे मां आप हमारे घर लक्ष्मी के रूप में आएं, हमें पवित्रता प्रदान करें और हमारी वाणी में रहें. हमारे दिल साफ़ हैं और हमारे घर साफ़-सुथरे हैं. जहां पहले सरस्वती है, लक्ष्मी भी कल वहीं रहेगी…”

– उषा वधवा

Dhanteras, Saraswati And Lakshmi

यह भी पढ़ें: राशि के अनुसार ऐसे करें मां लक्ष्मी को प्रसन्न (How To Pray To Goddess Lakshmi According To Your Zodiac Sign)

Gift Ideas For Bhai Dooj

भाई दूज के लिए स्मार्ट गिफ्ट आइडियाज़… (Smart Gift Ideas For Bhai Dooj)

इस भाई दूज (Bhai Dooj) अपने भाई को स्पेशल फील करवाने के लिए दें उसे कोई स्पेशल गिफ्ट (Special Gift)..

  • कोई ऐसी चीज़ गिफ्ट करें, जो वो लंबे समय से ख़रीदने की सोच रहा हो, चाहे वो कोई बुक हो, कोई एक्सेसरी हो या कोई ड्रेस.
  • आप उसकी फेवरेट मिठाई के साथ चांदी का ब्रेसलेट भी दे सकती हैं. यह एक ऐसा गिफ्ट होगा, जो सभी को पसंद आएगा.
  • पर्सनलाइज़्ड गिफ्ट दे सकती हैं. कार्ड होल्डर, डायरी या पेन.
  • इमेज प्रिंट वाली नोटबुक, कुशन कवर, न्यू ईयर कैलेंडर, वॉल डेकोरेटिव पीस या फिर टी शर्ट भी दे सकती हैं.
  • अगर वह पढ़ने का शौकीन है, तो आप लेटेस्ट बुक या उसके मनपसंद लेखक की क़िताबों का सेट भी गिफ्ट कर सकती हैं या डिक्शनरी भी गिफ्ट की जा सकती है.
  • आप गिफ्ट हैंपर्स भी दे सकती हैं, जो अपने आप में कंप्लीट होता है.
  • गिफ्ट वाउचर्स भी ग्रेट आइडिया है. यह लोगों को काफ़ी पसंद भी आता है और वो अपना मनचाहा गिफ्ट ले सकते हैं.
  • स्वीट्स, फ्रूट्स और ड्राय फ्रूट्स हैंपर्स भी अच्छा ऑप्शन है. साथ में बुके व ग्रीटिंग भी दे सकती हैं.
  • फ्लोटिंग या एरोमैटिक कैंडल सेट्स भी दे सकती हैं.
  • कोई टूर स्पॉन्सर करके भी गिफ्ट दिया जा सकता है.
  • हैंड मेड कोई चीज़ उपहार में दे सकते हैं. यह बहुत ही पर्सनल भी लगेगा और दिल को छू लेनेवाला गिफ्ट होगा.
  • कुछ यादगार पुरानी तस्वीरों को फ्रेम करवाकर गिफ्ट करें. अपने बचपन की यादों को संजोकर फोटोज़ फ्रेम करवाकर दे सकती हैं.
  • अगर आपका भाई हेल्थ कॉन्शियस है, तो आप शुगर फ्री चॉकलेट्स व मिठाइयां गिफ्ट कर सकती हैं. इसके गिफ्ट हैंपर्स की काफ़ी वेरायटी उपलब्ध है.
  • हैंडमेड वास या पेन होल्डर भी पेंट करके या डेकोरेट करके गिफ्ट किया जा सकता है.
  • बेडशीट्स भी प्रिंट करवाकर दी जा सकती हैं. यह आइडिया भी लोगों को काफ़ी पसंद आता है.
  • वुडन फ्रेम को भी कलर्स से पेंट करके एथनिक झरोखा बनाकर विंडो फ्रेम या वॉल डेकोरेटिव पीस के तौर पर गिफ्ट कर सकते हैं. यह बहुत ही क्लासी लगता है.
  • परफ्यूम, ग्रूमिंग या कॉस्मेटिक्स से जुड़ी चीज़ें भी गिफ्ट की जा सकती हैं.
  • अपने हाथों से पेंट या एंब्रायडरी की हुई पेंटिग, बैग या कोई ड्रेस भी दे सकती हैं.
  • होम अप्लायन्सेस भी गिफ्ट कर सकते हैं, जैसे- कॉफी मेकर, हैंड ब्लेंडर या सैंडविच मेकर्स, ताकि वो आसानी से अपने लिए कुछ कुक कर सके.
  • आप भाई-बहन के मैसेजेस के मग्स या कुशन कवर्स विद कोट्स भी गिफ्ट कर सकती हैं यानी उन पर कुछ कहावतें, जोक्स, दिलचस्प या दार्शनिक बातें छपी हों.
  • मोबाइल या लैपटॉप एक्सेसरीज़ भी बहुत अच्छा गिफ्ट आइडिया है. आजकल कलरफुल ईयरफोन्स, मोबाइल व लैपटॉप कवर्स, स्लीव्स और जैकेट्स आते हैं. इनमें भी बीडेड और बहुत ही एथनिक कवर्स आते हैं, जो फेस्टिवल के समय गिफ्ट किए जा सकते हैं.
  • पेन सेट, पर्स या वॉलेट्स भी गिफ्ट करना अच्छा ऑप्शन है.
  • होम डेकोर एक्सेसरी, लैंप्स या लैनटर्न्स भी अच्छा गिफ्ट आइडिया है. फेस्टिवल सीज़न में तो यह और भी अच्छा लगेगा.
  • हैंड मेड चॉकलेट्स, केक और मिठाइयां भी पसंद आएंगी. इसमें उसे पर्सनल टच महसूस होगा. आप सरप्राइज़ के तौर पर उसे बताए बगैर उसके लिए इसे तैयार करें.
  • फेस्टिवल के दौरान कई कॉम्बो ऑफर्स भी मिलते हैं, जैसे- एक पर एक फ्री या फिर ड्राय फ्रूट्स, चॉकलेट्स या मिठाइयों के हैंपर्स भी ऑफर्स में आते हैं, जो बड़ों और बच्चों दोनों को बहुत भाते हैं.

यह भी पढ़ें: 9 बेस्ट वेट लॉस ऐप्स (9 Best Weight Loss Apps)

यह भी पढ़ें: गरीबों का मसीहा- मेडिसिन बाबा (The Incredible Story Of ‘Medicine Baba’)

 

Diwali

कैसे मनाएं सेफ दिवाली? (How To Celebrate Happy And Safe Diwali)

दिवाली (Diwali) रोशनी का त्योहार (Festival) है. यह अपने साथ ढेर सारी ख़ुशियां लाती है. हम सभी इस त्योहार को पूरे धूमधाम से उमंग-उत्साह से मनाते है. लेकिन इस रोशनी के पर्व में थोड़ी सावधानी भी बेहद ज़रूरी है यानी फेस्टिवल मनाएं, पर सेफ्टी (Safety) का भी पूरा ख़्याल रखें, विशेषकर पटाखे जलाते समय. यहां पर हम कुछ सेफ्टी रूल्स (Safety Rules) बता रहे हैं.

–    पटाखे जलाते समय पैरों में चप्पल या जूते ज़रूर पहनें. कभी भी नंगे पांव पटाखे न जलाएं.

–    पटाखे हमेशा खुली जगह पर जलाएं यानी कभी भी घर के अंदर या बंद स्थान पर पटाखे ना फोड़ें. पटाखे जलाने के लिए घर के बाहर, छत पर या फिर आंगन भी ठीक है.

–    साथ ही आसपास देख लें कि कहीं कोई आग फैलानेवाली या फ़ौरन आग पकड़नेवाली चीज़ तो नहीं है.

–    बच्चे-बड़े सभी पटाखे जलाते समय आसपास बाल्टी भरकर पानी ज़रूर रखें. साथ ही जलने पर लगनेवाली इमर्जेंसी दवाएं भी

ज़रूर रखें.

–    यदि पटाखे से जल जाएं, तो जले हुए स्थान पर तुरंत पानी के छींटें मारें.

–    हमेशा लाइसेंसधारी और विश्‍वसनीय दुकानों से ही पटाखे ख़रीदें.

ये न करें…

–    कुछ लोग बहादुरी दिखाने के लिए पटाखे हाथ में पकड़कर जलाने की कोशिश करते हैं. ऐसा न करें, क्योंकि ऐसा करने से पटाखों के हाथ में फटने और दुर्घटना होने की संभावना रहती है.

–    पटाखों को दीये या मोमबत्ती के आसपास ना जलाएं.

–    जब आपके आसपास कोई पटाखे जला रहा हो, तो उस समय आप भी पटाखे ना जलाएं.

–   बिजली के तारों के आसपास क्रैकर्स न फोड़ें.

–   यदि किसी पटाखे को जलने में बहुत अधिक समय लग रहा है, तो उसे दोबारा ना जलाएं, बल्कि किसी सेफ जगह पर फेंक दें.

–   आधे जले हुए पटाखों को इधर-उधर ना फेंकें. उसे पानी में डुबोकर फेंक दें.

–    रॉकेट जैसे पटाखे ऐसे समय में बिल्कुल न जलाएं, जब ऊपर किसी तरह की रुकावट जैसे पेड़, बिजली के तार आदि हों.

–   दीपावली पर कॉटन के कपड़े पहनकर ही पटाखों का आनंद लें. ध्यान रहे, रेशमी या फिर नायलॉन के आउटफिट बिल्कुल भी न पहनें.

–    खुली फ्लेम के कारण पटाखे जलाने के लिए माचिस या लाइटर का इस्तेमाल न करें, यह ख़तरनाक हो सकता है.

–    कभी भी छोटे बच्चों के हाथ में कोई पटाखा न दें.

–   यदि आपकी कार है, तो उसे गैराज में रख दें या फिर उसे अच्छी तरह से कवर कर दें.

–   दीपावली पर घर की खिड़कियां बंद ही रखें तो अच्छा है. साथ ही उन पर रेशमी पर्दे न लगाएं, वरना कोई चिंगारी लगने पर तेज़ी से आग फैलने का डर बना रहता है.

–   सभी पटाखों को हमेशा किसी बंद डिब्बे में ही रखें, विशेषकर दिवाली की रात को.

–    क्रैकर्स जलाते समय पैकेट में दिए गए निर्देशों को भी ज़रूर देख लें और उसी के अनुसार पटाखों को जलाएं.

–   बेहतर होगा कि पटाखे जलाते समय फुल स्लीव्स के ड्रेसेस ही पहने जाएं.

–    पटाखों का आनंद लेते समय किसी इमर्जेंसी वाली सिचुएशन के लिए भी तैयार रहें.

–   यदि आप बहुत सारे लोगों के साथ मिलकर पटाखे जला रहे हैं, तो इस बात का ख़्याल रखें कि एक समय में एक ही शख़्स पटाखे जलाए, क्योंकि यदि कई लोग साथ-साथ पटाखे जलाएंगे, तो दुर्घटना होने की संभावना बढ़ जाती है.

–    यदि आपके घर में पालतू जानवर, जैसे- बिल्ली, डॉगी आदि हैं, तो उन्हें पटाखों से दूर ही रखें. बेज़ुबान जानवर दिवाली के दिन शोर-शराबे से बेहद परेशान हो जाते हैं. यदि संभव हो, तो उनके कान में कॉटन डाल दें.

–    भीड़वाली जगह, पतली गलियों या घर के पास में पटाखे न जलाएं.

–    छोटे बच्चों को ख़ुद से पटाखे न जलाने दें. उनके साथ किसी बड़े को ज़रूर रखें.

–    कभी भी पैंट की जेब में पटाखे न रखें.

–    ढीले-ढाले कपड़े पहनकर पटाखे न जलाएं.

–    जहां पर पटाखे रखे हों, वहां पर माचिस की जली तीली या फिर अगरबत्ती आदि न फेंकें.

–    ध्यान रहे, कभी भी पटाखों के साथ कोई एक्साइटमेंट या फिर एक्सपेरिमेंट करने का प्रयास न करें. यह ख़तरनाक हो सकता है.

–    सड़क के कुत्तों या फिर अन्य जानवरों को पटाखों से परेशान न करें.

–   पटाखे जलाते समय पेट्रोल, गैस सिलेंडर, डीज़ल, केरोसिन आदि चीज़ें आसपास न हों, इस बात का ख़्याल रखें.

–   यदि पटाखे जलाते समय जल जाएं, तो तुरंत टूथपेस्ट व बरनॉल लगाएं. आवश्यक लगे, तो डॉक्टर को दिखाएं.

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़ें: चरणामृत और पंचामृत में क्या अंतर है? (What Is The Difference Between Charanamrit And Panchamrit)