train

शाहरुख खान अपनी फिल्मों का प्रमोशन हमेशा कुछ अलग अंदाज़ में करते हैं. इस बार उन्होंने रईस के प्रमोशन के लिए अपनाया ट्रेन का रास्ता, लेकिन ये सफ़र शाहरुख के फैन्स के लिए सुहाना नहीं रहा.

24-1485233886-raees-by-rail-promotion-one-dead-in-vadodara2 (1)दरअसल दिल्ली में रईस की टीम को करना था फिल्म का प्रमोशन, जिसके लिए मुंबई से दिल्ली का सफ़र उन्होंने ट्रेन में करने की सोची. मुंबई सेंट्रल से दिल्ली के लिए सोमवार शाम को उन्होंने अगस्त क्रांति ट्रेन पकड़ी. शाहरुख के साथ निर्देशक राहुल ढोलकिया और प्रोड्युसर रितेश सिधवानी भी थे.srk-4 (1)रास्ते में पड़ने वाले हर स्टेशन पर उनके फैंस की भीड़ उनकी एक झलक पाने के लिए इकठ्ठा थी. लेकिन गुजरात के वडोदरा स्टेशन पर हज़ारों की संख्या में मौजूद फैंस को कंट्रोल करना मुश्किल हो गया. जैसे ही उनकी ट्रेन प्लेटफॉर्म नंबर 6 पर पहुंची फैंस शाहरुख की झलक पाने के लिए एक-दूसरे को ढकेलने लगे. भीड़ को काबू करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा.

भगदड़ में फरीद खान पठान नाम के एक व्यक्ति की मौत हो गई. फरीद दिल के मरीज़ थे और इसी ट्रेन से सफर करने वाले अपने घर वालों के लिए खाना लेकर गए थे. शाहरुख खान ने फरीद की मौत पर दुख जताया और कहा, “मैं फरीद खान की मौत से बहुत दुखी हूं. वडोदरा में मौजूद क्रिकेटर इरफान पठान और उनके भाई यूसूफ़ पठान से मैंने फरीद खान के परिवार की हर मुमकिन मदद करने के लिए कहा है.”

– प्रियंका सिंह

मुंबई लोकल में ऐड होगा लोकल फ्लेवर, बदलेंगे स्टेशनों के नाम!

mumbai local

  • जी हां, मुंबई की लोकल ट्रेनों (local trains) से यात्रा करनेवाले यह जान लें कि अब कुछ स्टेशन्स को उन्हें नए नामों से पहचानना होगा.
  • राज्य सरकार व गृह मंत्रालय ने तय किया है कि कुल 6 स्टेशन्स के नाम बदले जाएंगे.
  • रेलवे का कहना है कि नाम बदले जाने का फैसला सरकार ही लेती है, रेलवे स़िर्फ उसे लागू करता ह
  • कौन-से होंगे ये स्टेशन्स और क्या होंगे इनके नए नाम?
    – दादर का नया नाम होगा चैत्यभूमि
    – ग्रांट रोड बन जाएगा गांवदेवी
    – सैंडहर्स्ड रोड हो जाएगा डोंगरी
    – चर्नी रोड होगा गिरगांव
    – रे रोड बनेगा घोडापदेव
    – मरीन लाइन्स हो जाएगा सोनापुर
  • इसके अलावा सीएसटी यानी छत्रपति शिवाजी टर्मिनस के आगे ‘महाराज’ जोड़ा जाएगा. वेस्टर्न लाइन में जोगेश्‍वरी और गोरेगांव के बीच जो नया स्टेशन है यानी ओशिवरा इलाके का स्टेशन राम मंदिर के नाम से जाना जाएगा.
  • नाम बदलने पर लोगों की अलग-अलग प्रतिक्रियाएं हैं. कुछ लोग इसे आनेवाले म्यूनिसिपल इलेक्शन से जोड़कर देख रहे हैं कि लोकल फ्लेवर ऐड करने से वोट बैंक प्रभावित हो सकता है, तो कुछ का कहना है कि नाम बदलने में समय व ऊर्जा ख़र्च करने से बेहतर होगा कि सुविधाएं बढ़ाने व बेहतर करने की दिशा में प्रयास किए जाएं.
  • वैसे आम मुंबईकर तो जानता ही है कि नाम बदलने से उसके रोज़मर्रा के संघर्ष में ज़्यादा फ़र्क़ नहीं पड़नेवाला, उसे तो उसी भीड़भरी लोकल में यात्रा करनी है.

– गीता शर्मा