Tag Archives: tricks

सर्दियों में यूं रखें सेहत का ख़्याल (Winter Health Care)

Winter Health Care

सर्दियों में यूं रखें सेहत का ख़्याल (Winter Health Care)

ठंड का मौसम अपने साथ सर्दी-ज़ुकाम और कई तरह की एलर्जी (Allergies) और इंफेक्शन्स (Infections) लेकर आता है. ऐसे में ज़रूरी है कि आप अपना और अपनों का ख़ास ख़्याल रखें, ताकि सर्दियों (Winter) के सुहाने मौसम का लुत्फ़ उठा सकें.

विंटर हेल्थ प्रॉब्लम्स

सर्दी के मौसम में गठिया और अस्थमा के मरीज़ों की द़िक्क़तें काफ़ी बढ़ जाती हैं. किसी को सालभर पुरानी चोट परेशान करने लगती है, तो किसी को मसल पेन. इनके अलावा और

कौन-कौन-सी बीमारियां हैं, जो सर्दियों के मौसम में आपको परेशान कर सकती हैं, आइए जानें.

सर्दी-खांसी

सर्दी-खांसी एक आम समस्या है, लेकिन सर्दी के मौसम में यह आपको काफ़ी परेशान कर सकती है. यह  रोग काफ़ी संक्रामक होता है, इसलिए अगर घर में किसी को सर्दी है, तो वह  छींकते-खांसते व़क्त रुमाल का इस्तेमाल करे. बहती नाक, सीने में जकड़न, छींकें आना, सिरदर्द, गले में खराश और हल्का बुख़ार इसके लक्षण हैं.

होम रेमेडीज़

–    जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमज़ोर होती है, वे बार-बार सर्दी-ज़ुकाम से परेशान रहते हैं. ऐसे लोगों को, ख़ासतौर से सर्दियों में, आंवले का मुरब्बा खाना चाहिए.

–     आधा टीस्पून शहद में कुछ बूंदें नींबू का रस और चुटकीभर दालचीनी पाउडर मिलाकर दिन में दो बार लें.

–    गुनगुने नींबू पानी में शहद मिलाकर लेने से सर्दी-खांसी से राहत मिलती है.

–     सर्दी-खांसी से राहत पाने के लिए एक कप पानी में थोड़ी-सी अलसी मिलाकर उबालें. पांच मिनट बाद आंच से उतार लें. छानकर उसमें नींबू का रस और शहद मिलाकर पीएं.

–    घी में लहसुन की कुछ कलियां गरम करके खाएं. गरम-गरम लहसुन खाने से खांसी में काफ़ी राहत मिलती है.

–     रात को सोने पर खांसी की समस्या बढ़ जाती है, क्योंकि लेटने पर नाक में मौजूद कफ़ धीरे-धीरे गले तक जाने लगता है, जिससे खांसी बढ़ जाती है. इसके लिए बेहतरीन उपाय है कि आप सिर को थोड़ा ऊंचा रखें. इससे खांसी कम होगी और आप सो भी पाएंगे.

गले में इंफेक्शन

गले में खिचखिच और ड्राईनेस, जो धीरे-धीरे दर्द का कारण बनता है, यह गले के इंफेक्शन के कारण होता है. मौसम में आई ठंडक और इंफेक्शन्स के कारण ऐसा होता है.

होम रेमेडीज़

–    इसके लिए हमारी दादी-नानी का फेवरेट नुस्ख़ा है गरारा करना. गुनगुने पानी में चुटकीभर नमक डालकर गरारा करने से बैक्टीरिया निकल जाते हैं, जिससे गले की खराश से छुटकारा मिलता है. इसे दिन में दो-तीन बार करें.

–     हल्दीवाला दूध भी एक ऐसा ही रामबाण नुस्ख़ा है. यह गले की सूजन और दर्द से राहत दिलाता है. बार-बार होनेवाली खांसी में भी हल्दीवाला दूध काफ़ी राहत पहुंचाता है.

–     एप्पल साइडर विनेगर को आप हर्बल टी या गरारेवाले पानी में डालकर इस्तेमाल करें.

–     लहसुन की एक कली चूसने से भी गले के इंफेक्शन और दर्द से राहत मिलती है.

–     इसके अलावा हर्बल टी और गरमागरम सूप आपके लिए काफ़ी फ़ायदेमंद साबित होगा.

यह भी पढ़ें: पुरुषों में नपुंसकता के कारण व लक्षण (Male Infertility – Symptoms And Causes)

अस्थमा

यह फेफड़े की बीमारी है, जिसमें श्‍वासनली में जलन और दर्द होने लगता है. सीने में जकड़न, छींकें आना, खांसी और सांस फूलना इसके लक्षण हैं. यह दो तरह का होता है, एलर्जिक और नॉन एलर्जिक. एलर्जिक अस्थमा धूल, धुएं, पेंट आदि के कारण होता है, जबकि नॉन एलर्जिक अस्थमा कोल्ड, फ्लू, स्ट्रेस और ख़राब मौसम के कारण होता है.

होम रेमेडीज़

–    एक कप पानी में आधा टीस्पून मुलहठी पाउडर और आधा टीस्पून अदरक मिलाकर चाय बनाकर पीएं.

–     एक ग्लास दूध में आधा टीस्पून कद्दूकस अदरक और आधा टीस्पून हल्दी पाउडर डालकर दिन में दो बार लें.

–     एक कप उबलते पानी में एक टीस्पून दालचीनी पाउडर और 1/4 टीस्पून कालीमिर्च, पिप्पली और सोंठ का समान मात्रा में मिलाया हुआ चूर्ण मिलाकर 10 मिनट तक उबालें. पीने से पहले एक टीस्पून शहद मिलाएं. यह अस्थमा अटैक्स से काफ़ी राहत देता है.

–    एक बाउल गरम पानी में पांच-छह बूंदें लैवेंडर ऑयल डालकर भाप लें.

इन्फ्लूएंज़ा

सर्दियों के मौसम में सर्दी और फ्लू कभी भी किसी को भी अपनी गिरफ़्त में ले सकते हैं. यह एक ऐसी समस्या है, जिसमें आपकी सारी एनर्जी ख़त्म हो जाती है. नाक बहना, सिरदर्द, बदनदर्द, बुख़ार और थकान फ्लू के आम लक्षण हैं.

–     आधा टीस्पून गिलोय को पीसकर एक कप पानी में उबालकर पीएं. इससे फ्लू के लक्षणों से काफ़ी राहत मिलती है.

–     समान मात्रा में शहद और प्याज़ का रस मिलाकर दिन में तीन बार फ्लू जाने तक लें.

–     एक टीस्पून शहद में 10-12 तुलसी की पत्तियों का रस मिलाकर दिन में एक बार लेने से भी राहत मिलती है.

–     गरम पानी में कुछ बूंदें नीलगिरी तेल की डालकर भाप लेने से काफ़ी राहत मिलेगी.

–    एक कप पानी में कालीमिर्च पाउडर, जीरा और गुड़ डालकर उबालें. यह चाय फ्लू के लक्षणों से राहत दिलाती है. आप चाहें, तो गुड़ में तिल मिलाकर उसके लड्डू बनाकर खाएं.

जोड़ों में दर्द

ठंड के कारण मसल्स और हड्डियों में अकड़न-सूजन के कारण यह मौसम कुछ लोगों के लिए कष्टदायक बन जाता है. इसके लिए सबसे अच्छा उपाय है कि सोकर उठने पर आप स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज़ करें.

हल्की-फुल्की एक्सरसाइज़ आपको जोड़ों के दर्द से छुटकारा दिला सकती है.

–     आधी बाल्टी गरम पानी में दो कप सेंधा नमक मिलाकर उसमें टॉवेल डुबोकर प्रभावित जोड़ की सिंकाई करें.

–    रोज़ाना सुबह एक टीस्पून मेथी पाउडर फांककर एक ग्लास गुनगुना पानी पीएं.

–     नीलगिरी के तेल से जोड़ों पर मालिश करें. इससे दर्द और जलन दोनों में आराम मिलता है.

–    रात को सोने से पहले गुनगुने सरसों के तेल से जोड़ों पर मसाज करें. यह प्रभावित जोड़ों में रक्तसंचार बढ़ाता है, जिससे दर्द और अकड़न से राहत मिलती है.

–     एक कप गुनगुने पानी में एक टीस्पून एप्पल साइडर विनेगर और थोड़ा-सा शहद मिलाकर दिन में दो बार खाने से पहले लें.

हार्ट प्रॉब्लम्स

आपको जानकर हैरानी होगी कि ठंड में हार्ट अटैक्स के मामले बढ़ जाते हैं, क्योंकि ठंड के कारण हार्ट की कोरोनरी आर्टरीज़ सिकुड़ने लगती हैं, जिससे ब्लड प्रेशर कम हो जाता है.

–     जिन्हें हार्ट प्रॉब्लम्स हैं, उन्हें ख़ासतौर से सर्दियों में रोज़ाना चार-पांच लहसुन की कलियां खानी चाहिए. यह खून को पतला करने का काम करता है, जिससे ब्लड फ्लो सही तरी़के से होता है.

–     एक ग्लास गुनगुने पानी में आधा टीस्पून अर्जुन की छाल का पाउडर और शहद मिलाकर लें. इससे आपको काफ़ी राहत मिलेगी.

–     अदरक-लहसुन के रस में शहद या गुड़ मिलाकर खाने से भी हार्ट प्रॉब्लम्स में राहत मिलती है.

–     इसके अलावा खानपान का ध्यान रखें. दो बार में हैवी खाने की बजाय चार-पांच बार में थोड़ा-थोड़ा खाएं. अपने वज़न को नियंत्रित रखें. अगर वज़न अचानक से बढ़ने लगे, तो डॉक्टर को बताएं.

– सुनीता सिंह

यह भी पढ़ें: सेहत का हाल बताता है मुंह (What Your Mouth Says About Your Health)

रिंकल फ्री स्किन के टॉप 10 सीक्रेट्स… (10 Best Ways To Reduce Wrinkles)

Ways To Reduce Wrinkles

रिंकल फ्री स्किन के टॉप 10 सीक्रेट्स… (10 Best Ways To Reduce Wrinkles)

हेल्दी, ग्लोइंग और यंगर स्किन हम सभी चाहते हैं, लेकिन कभी लापरवाही में, तो कभी जानकारी के अभाव में हम कुछ ईज़ी स्किन केयर रूटीन (Easy Skin Care Routine) को इग्नोर कर देते हैं, जिससे रिंकल्स (Wrinkles) और अनहेल्दी स्किन की समस्या (Problems) हो जाती है. ऐसे में स्टेमजेन थेराप्यूटिक्स के सीईओ डॉ. प्रभु मिश्रा कुछ सीक्रेट्स बता रहे हैं, जिससे एजिंग प्रोसेस के साथ होनेवाली स्किन एजिंग की प्रक्रिया को धीमा किया जा सके.

सन एक्सपोज़र को अवॉइड करें: प्रीमैच्योर एजिंग और रिंकल्स का सबसे बड़ा कारण होती हैं सूर्य की तेज़ हानिकारक किरणें. इसलिए जब भी बाहर जाएं सन ब्लॉक ज़रूर लगाएं. आंखों के आसपास की स्किन पतली होती है, तो यहां सबसे पहले फाइन लाइन्स उभरती हैं. सनस्क्रीन आपको प्रोटेक्शन देता है. साथ ही फूल स्लीव्स, स्कार्फ और सन ग्लासेस भी पहनें.

हेल्दी डायट: शरीर के अन्य अंगों की तरह आपकी स्किन को भी सही पोषण की ज़रूरत होती है. संतुलित डायट लें, जिसमें मौसमी फल, सब्ज़ियां हों. यलो, पर्पल, ऑरेंज और रेड कलर के फ्रूट्स व सब्ज़ियां ख़ासतौर से लें, क्योंकि ये एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होते हैं. फिश, वॉलनट्स, फ्लैक्स सीड, ऑलिव ऑयल स्किन को मॉइश्‍चराइज़्ड और नरिश्ड रखते हैं.

हाइड्रेटेड रहें: पानी भरपूर मात्रा में पीएं. रूखेपन से ही रिंकल्स जल्दी उभरते हैं. आपको भीतर से भी नमी की ज़रूरत होती है. यदि पानी ज़्यादा नहीं पी सकतीं, तो विटामिन सी, नींबू पानी, वॉटरमेलन जूस, नारियल पानी या छाछ का सेवन ज़रूर करें.

ये भी पढ़ें: सूजी हुई आंखें ठीक करने के 10 घरेलू उपाय (10 Best Home Remedies To Get Rid Of Puffy Eyes)

कैफेन, अल्कोहल और तंबाकू से दूर रहें: ये तीनों ही चीज़ें आपकी स्किन को बहुत जल्दी मैच्योर दिखाने लगती हैं. इनकी अत्यधिक सेवन से बचें. साथ ही जंक फूड और अत्यधिक ऑयली फूड से भी बचें.

एक्टिव रहें: हल्की एक्सरसाइज़ बेहद ज़रूरी है. यह आपकी स्किन की इलास्टिसिटी बरक़रार रखती है. बेहतर होगा एक्टिव रहें. योग-प्राणायाम भी करें. इन सबसे स्किन के टॉक्सिन्स निकल जाते हैं.

स्ट्रेस से दूर रहें: आज की लाइफस्टाइल में यह थोड़ा मुशिकल है, लेकिन नामुमकिन नहीं. अगर आप चाहती हैं ग्लोइंग, यंग और हेल्दी स्किन, तो स्ट्रेस को ख़ुद पर हावी न होने दें, वरना समय से पहले ही रिंकल्स आने की आशंका बन जाएगी.

कोलाजन को बूस्ट करें: कोलाजन ही वो प्रोटीन है, जो स्किन को फर्म और टोन रखता है. स्किन की कसावट और लचीलापन बनाने के लिए यह सबसे ज़रूरी है. उम्र बढ़ने के साथ-साथ इसमें कमी आने लगती है और रिंकल्स उभरने लगते हैं. आप बाहर से कोलाजन क्रीम लगाकर और भीतर से पोषक आहार खाकर कोलाजन को बूस्ट कर सकते हो. बींस, अंडे का स़फेद भाग, हरी सब्ज़ियां, चीज़ कोलाजन को बूस्ट करता है. विटामिन सी का भी भरपूर सेवन करें.

नींद पूरी लें: कम से कम 7-8 घंटे की नींद आपकी त्वचा की हेल्थ के लिए भी ज़रूरी है. भरपूर नींद से त्वचा रिफ्रेश हो जाती है और रिंकल्स की संभावनाएं कम हो जाती हैं.

अपनी त्वचा को हार्श केमिकल्स से बचाएं: डेली स्किन केयर रूटीन फॉलो करें, लेकिन बहुत ज़्यादा केमिकल्स के इस्तेमाल से बचें. साथ ही त्वचा को बहुत ज़्यादा रगड़-रगड़कर न पोंछें. मेकअप लगाकर न सोएं. रिंकल्स की एक बड़ी वजह यह भी है कि बिना मेकअप रिमूव किए ही सो जाना. इससे रोमछिद्र बंद ही रह जाते हैं और त्वचा सांस नहीं ले पाती.

अच्छा स्किन केयर रूटीन फॉलो करें: क्लींज़िंग, मॉइश्‍चराइज़िंग के साथ-साथ एक्सफोलिएट भी करें. नियमित रूप से मसाज और ऑयल्स का इस्तेमाल करें. इससे ब्लड फ्लो बेहतर रहता है और स्किन हेल्दी रहती है.

ये भी पढ़ें: क्विक हेयर स्टाइल्स (Quick Hair Styles)

पेस्टल कलर कॉम्बीनेशन ट्रिक्स (Pastel Color Combination Tricks)

फैशन (Fashion) की दुनिया में यूं तो रंग (Colors) बदलते ही रहते हैं, लेकिन पेस्टल कलर्स (Pastel Colors) कभी भी आउट ऑफ फैशन नहीं होते और वो हमेशा ही लगते हैं बेहद ख़ूबसूरत. सर्दियों ने दस्तक दी है, तो इनमें ये कलर्स और भी भाते हैं. कैसे इन्हें आप नए तरी़के या अन्य कलर्स के साथ कंबाइन कर सकती हैं, आइए जानें.

Pastel Color Combination

पेस्टल कलर कॉम्बीनेशन ट्रिक्स  (Pastel Color Combination Tricks)

 

  • इन कलर्स की सबसे बड़ी ख़ासियत यह होती है कि ये मूड रिफ्रेश कर देते हैं.
  • भावनाओं को भी ये प्रभावित करते हैं.
  • पेस्टल कलर कॉम्बीनेशन की बात करें, तो आप फ्रेश एंड ब्राइट की थीम ले सकती हैं यानी पेस्टल में हल्का-सा ब्राइट कलर एड कर सकती हैं.
  • प्रोफेशनल थीम रखनी हो, तो पेस्टल्स के साथ रेड और ब्लू का कॉम्बीनेशन ट्राई करें.
  • डार्क एंड अर्दी कलर स्कीम भी ट्राई की जा सकती है, जहां बहुत ज़्यादा कंट्रास्ट देखने को मिलता है. इसमें कुछ अनएक्सपेक्टेट कलर कॉम्बीनेशन ट्राय करें, जैसे- प्लम और रेडिश ऑरेंज.
  • क्रिस्प और ड्रामेटिक कलर स्कीम के लिए आप टॉप पर ग्रेइश टोन्स के साथ बॉटम में ब्राइट कूलर ग्रीन ट्राई करें. डार्कर और लाइटर शेड्स की रेंज बहुत अट्रैक्टिव लगती है.
  • कूलर ब्लूज़ बहुत ही लुभाते हैं. मोनोक्रोमैटिक कलर स्कीम्स बहुत ही वर्सटाइल होती हैं.
  • वॉटरी ब्लू-ग्रीन्स के शेड्स ट्राई करें.
  • नेचुरल में ब्राउन और ग्रीन का कॉम्बीनेशन ट्राई करें.
  • आईसी ब्लू के साथ ग्रे कलर बेहद रिफ्रेशिंग लगता है.
  • बबलगम पिंक और टरकॉयज़ ह्यूज़ का कॉम्बीनेशन मूड को फ्रेश कर देगा.
  • सनसेट टु डस्क कलर थीम भी ट्राई करने में बुराई नहीं. इसके अलावा वॉर्म नेचुरल्स से लेकर समर सनफ्लावर तक कलर कॉम्बीनेशन ट्राई करें.

यह भी पढ़ें: फेस शेप के अनुसार ईयररिंग्स सिलेक्शन (How To Choose The Right Earrings For Your Face Shape)

यह भी पढ़ें: 10 शेपवेयर्स से मिनटों में छुपाएं मोटापा (10 Types Of Shapewear To Look Slimmer And Attractive)

फेस्टिवल फैशन मंत्र (Festival Fashion Mantra)

वो टूटकर न गिरे एक ख़्वाब मेरा, उसे पलकों के दरमियान कैद कर लूं मैं… मेरी आंखों ने जो देखे हैं तेरी मुहब्बत के हसीन सपने, उन्हें अपने लबों पर ताउम्र के लिए सजाकर रख लूं मैं… कभी तू चांद बनकर आ जाना, कभी तू रात बन जाना, कभी बारिश की फुहारों-सी बेपनाह बरस जाना, कभी धूप-सी खिल जाना… और मैं बस तुझे सोचता रहूं… मैं बस तुझे देखता रहूं… यूं ही… ख़ामोशी ओढ़े अपने इश्क़ का इज़हार करता रहूं…

Festival Fashion Mantra

फेस्टिवल फैशन मंत्र

यूं तो हम फेस्टिव सीज़न में ट्रेडिशनल वेयर ही पहनना पसंद करते हैं, लेकिन अब समय बदल रहा है और लोगों का टेस्ट भी. आजकल लोग एक्सपेरिमेंट करना पसंद करते हैं और फेस्टिव सीज़न में भी मॉडर्न लुक चाहते हैं. वैसे भी फेस्टिवल टाइम में हम सभी चाहते हैं कि सबसे अलग लगें, ताकि सबकी नज़रें हम पर ही हों. ऐसे में यहां हम कुछ फैशन ट्रेंड्स और टिप्स बता रहे हैं, जिन्हें आज़माकर आप कुछ अलग लुक क्रिएट कर सकती हैं.

ट्रेडिशनल वेयर कभी नहीं होता आउट ऑफ फैशन

– ट्रेडिशनल वेयर फेस्टिवल की पहली पसंद होता है.

– आप इसे मॉडर्न लुक के साथ पहन सकती हैं.

– आजकल साड़ियों को अलग-अलग तरह से ड्रेप किया जाता है. आप ड्रेपिंग स्टाइल से डिफरेंट लुक क्रिएट कर सकती हैं.

– साड़ी के फैब्रिक से भी फ़र्क़ पड़ता है. फेस्टिवल टाइम ही होता है, जब आप हैवी साड़ियां पहन सकती हैं. बनारसी से लेकर चंदेरी, सिल्क आदि.

–  लहंगा-चोली भी सबको बहुत पसंद होता है, इनमें भी काफ़ी वेरायटी मिल जाएगी.

– लहंगा स्टाइल में फ्लेयर्ड के अलावा फिटेड, फिश कट, ए लाइन लहंगे आदि आप अपनी बॉडी टाइप के अनुसार ट्राई कर सकती हैं.

– चोली में भी आजकल ट्रेंड्स बदल गया है. आप ट्रेंडी टॉप को भी चोली की तरह पहन सकती हैं.

– हाई नेक टॉप, लेसी टॉप, क्रॉप टॉप, ब्लैक कलर टॉप, ब्लिंग या सीक्वेंस का टॉप- इनमें से कुछ भी पेयर कर सकती हैं.

– फ्लोर लेंथ अनारकली ड्रेसेस बेहद ग्लैमरस लगती हैं. वो भी ऑप्शन है.

– आप अगर ड्रेस सिंपल रखना चाहती हैं, तो उसे हैवी दुपट्टे और ज्वेलरी के साथ पेयर करके फेस्टिवल लुक दे सकती हैं.

लहंगा होगा पॉप्युलर

–  लॉन्ग लहंगा टाइप घाघरा फेस्टिवल में इन होंगे. अपने ड्रेस को मुगल और राजस्थानी लुक दें.

– अनारकली इस फेस्टिव सीज़न में भी इन होगा. हां इसका लुक थोड़ा बदल गया है.

– घाघरा पैंट और शरारा भी फेस्टिव सीज़न के लिए परफेक्ट हैं.

–  एसिमेट्रिकल कुर्ता के साथ वाइड सलवार सिलेक्ट करें.

– अनारकली कुर्ता भी ट्राई कर सकती हैं. ये लंबे समय से फैशन में है और इस सीज़न में भी इन रहेगा.

– इसी तरह ब्रोकेड की शॉर्ट जैकेट को पेंसिल स्कर्ट के साथ पहनें.

– स्कर्टटेड ड्रेस, वेरायटी ऑफ पैंट्स, फ्लेयर्ड ट्यूनिक्स, लूज़ पायजामा- इनमें से आप कुछ भी ट्राई कर सकती हैं.

–  कॉटन या सिल्क का प्लेन घाघरा सिलेक्ट करें. इसके हैवी बॉर्डर और लटकन लगवा लें. क्रॉप्ड टॉप के साथ कंबाइन करके पहनें. कम बजट में आपका ख़ूबसूरत फेस्टिव ड्रेस रेडी हो जाएगा.

Festival Fashion Mantra

 

साड़ी है फेवरेट चॉइस

– साड़ी तो ऑलटाइम फेवरेट है ही, इसलिए अपने फेस्टिव वार्डरोब में डिज़ाइनर साड़ी शामिल करें.

– डिफरेंट लुक के लिए साड़ी के साथ वेस्टकोट ट्राई करें. ये ख़ूबसूरत लगता है.

– आजकल कॉलर वाले और बंद गले के ब्लाउजेज़ ट्रेंड में हैं.

– आजकल लहंगा और गाउन साड़ी भी बहुत पॉपुलर है और यंगस्टर्स की पहली पसंद भी.

– डिफरेंट लुक के लिए धोती साड़ी, पैंट साड़ी भी ट्राई कर सकती हैं.

– शॉर्ट कुर्ता के साथ साड़ी पेयर करें. ये भी फेस्टिव सीज़न में आपको डिफरेंट लुक देगा.

यह भी पढ़ें: 10 शेपवेयर्स से मिनटों में छुपाएं मोटापा (10 Types Of Shapewear To Look Slimmer And Attractive)

Festival Fashion Mantra

क्रॉप टॉप्स

–  ब्लिंग में कोई क्रॉप टॉप सिलेक्ट करें या फिर आप प्लेन ब्लैक भी पहन सकती हैं. इन्हें हाई वेस्ट स्कर्ट, लहंगा या फ्लेयर्ड पैंट्स के साथ पेयर करें.

– आप सीक्वेंसवाला या कोई एंब्रायडर्ड टॉप भी पहन सकती हैं. ये आपको परफेक्ट फेस्टिव लुक देगा.

–  अगर आपका टॉप सिंपल है, तो आप लोअर्स के साथ एक्सपेरिमेंट करके फेस्टिव लुक क्रिएट कर सकती हैं.

–  आप सीक्वेंसवाली या शिमरी पैंट या स्कर्ट पहन सकती हैं.

कलर्स इन ट्रेंड

–  सॉफ्ट कलर्स सिलेक्ट करें. ये ट्रेंड में हैं और फेस्टिवल के लिए परफेक्ट चॉइस भी.

–  बेज, ऑफ व्हाइट के साथ गोल्ड वर्क का कॉम्बीनेशन रॉयल लुक देता है.

–  पेस्टल शेड्स भी इस फेस्टिव सीज़न में काफी पॉप्युलर रहेंगे. पेस्टल ग्रीन, पीच, पिंक जैसे सॉफ्ट पेस्टल कलर्स ट्राई करें.

– चाहें तो एक ही कलर के दो शेड को कंबाइन करें. ये लेटेस्ट फैशन मंत्र है.

– ऑफ व्हाइट कलर सिलेक्ट कर रही हैं तो उसके साथ ऑलिव ग्रीन का कॉम्बीनेशन ट्राई करें. ये आपको ट्रेंडी लुक देगा.

– गोल्ड कभी आउट ऑफ फैशन नहीं होता और त्योहारों व स्पेशल ओकेज़न पर रॉयल लुक भी देता है. इसलिए अपने वार्डरोब में इन्हें भी शामिल करें.

फ्रिंजेस का है फैशन

– आजकल फ्रिंजेस काफ़ी इन है. यह बहुत ही अलग लगता है और अपने फेस्टिवल सीज़न को कूल बनाने के लिए आप भी इसे ट्राई कर सकती हैं.

– टॉप्स में या पैंट्स में या लेयर्स, हैंड बैग्स… सभी में फ्रिंजेस उपलब्ध हैं. आपकी चॉइस है कि आपको इसे कैसे पहनना है.

मेश यानी नेट भी है कूल

–  ये लाइटवेट भी होता है और कूल लुक देता है. आप सिंपल प्लेन इनर के ऊपर नेट पहन सकती हैं.

–  नियॉन कलर्स पर भी आप नेट पहनकर डिफरेंट लुक ट्राई कर सकती हैं.

–  मेटालिक इनर्स पर भी आप ब्लैक मेश पहन सकती हैं.

नियॉन ट्राई करें

–  नियॉन कलर्स सिंपल-सी ड्रेस को भी फेस्टिव लुक देते हैं.

–  अगर बहुत ज़्यादा ब्राइट कलर्स पहनने से परहेज़ है, तो स़िर्फ टॉप्स में एक्सपेरिमेंट करें. लाइट लोअर के साथ नियॉन टॉप्स पहनें.

– आप ट्रेडिशनल वेयर में भी इन कलर्स को ट्राई कर सकती हैं.

गॉर्जियस गाउन्स

–  इनकी सबसे बड़ी ख़ूबी यह होती है कि ये कभी भी आउट ऑफ फैशन नहीं होते.

– आप गाउन्स भी पहन सकती हैं.

–  ये हर ओकेज़न पर ग्लैमरस और ख़ूबसूरत ही लगते हैं.

– ट्रेडिशनल लुक के लिए एम्ब्रॉयडरीवाला या कॉटन गाउन पहनकर ट्रेडिशनल हैवी ज्वेलरी पहनें.

– अगर मॉडर्न लुक चाहती हैं, तो शिमरी, सीक्वेंस या मेटालिक गाउन्स ट्राई करें.

बॉडी ज्वेल्स

– ये भले ही आपको थोड़ा एक्स्ट्रा लगे, पर यक़ीन मानें, ये फेस्टिवल लुक में मैजिक क्रिएट कर देंगे. आपके सिंपल से आउटफिट को भी अलग दिखाएंगे.

– अगर आप पूरा नया आउटफिट नहीं लेना चाहतीं, तो बॉडी पर ग्लिटर और स्टोन्स अप्लाई करें. फेस पर भी अपने मेकअप में आप ग्लिटर और ज्वेल ऐड कर सकती हैं.

फेस्टिवल मस्टहैव्स

फेस्टिवल मस्टहैव्स: एम्ब्रॉयडर्ड कुर्तीज़ या टॉप्स, सीक्वेंसवेय, शिमरी आउटफिट्स, लेसी वेयर, साड़ियां, लहंगा-चोली, अनारकली, स्टाइलिश चोली और ट्रेंडी ब्लाउज़ेस, कोर्सेट, अलग-अलग तरह के दुपट्टे, चंकी ज्वेलरी, हील्स और ट्रेडिशनल फ्लैट्स.

– योगिनी भारद्वाज

यह भी पढ़ें: फैशन ब्लंडर्स: क्या आप भी करती हैं ये 5 ग़लतियां? (5 Fashion Blunders You Might Be Making)

 

फेस्टिवल मेकअप टिप्स (Festival Makeup Tips)

फेस्टिवल मेकअप टिप्स (Festival Makeup Tips)

ख़्वाबों में मिला था अक्सर तुमसे, रू-ब-रू जब देखा, तो पाया… कहते थे जिसे परी या अप्सरा, वो है तेरे ही हुस्न का साया… रंगों-सी ख़ूबसूरत, चांदनी-सी हसीन… संदली ख़ुशबू-सी महकती, रेशम-सी हो तुम नाज़नीन… फेस्टिवल टाइम में आप भी चाहती होंगी कि हर नज़र आप पर ही ठहर जाए, तो ऐसे में यहां बताए गए फेस्टिवल मेकअप (Festival Makeup) से अपना लुक क्रिएट करें और लगें सबसे जुदा, सबसे हसीन.

रेड लिप्स…

 

Festival Makeup Tips

 

–   रेड लिप्स हमेशा ही हॉट और इन रहते हैं.

–   ये ग्लैमरस लुक देते हैं और हर ओकेज़न पर कूल लगते हैं.

–    ईवनिंग लुक के लिए जहां ये हॉट लगते हैं, वहीं डे में आपको इंस्टेंट फ्रेश लुक देते हैं.

–   इस लुक के लिए फेस मेकअप करें. प्राइमर और फाउंडेशन लगाने के बाद ब्लश ऑन करें.

–    आई मेकअप सिंपल रखें. अपर आईलिड पर ब्लैक आईलाइनर अप्लाई करें. चाहें तो विंग्ड लाइनर यूज़ करें.

–    लिप्स पर हॉट चिली रेड कलर अप्लाई करें. एक कोट के बाद टिश्यू से एक्स्ट्रा लिप कलर को हटा दें, फिर से लिप कलर अप्लाई करें. अगर मैट फिनिश पसंद है, तो मैट लिपस्टिक यूज़ करें, पर फेस्टिवल में थोड़ा शाइनी इफेक्ट चाहती हैं, तो ग्लॉसी लिप कलर अप्लाई करें.

–    रेड लिप कलर का शेड आप अपनी स्किन टोन के अनुसार सिलेक्ट कर सकती हैं.

गोल्डन ग्लो

Makeup Tips

–   फेस्टिवल टाइम हो, तो शिमरी लुक और गोल्ड को अवॉइड नहीं किया जा सकता. आप अपने लुक में भी ला सकती हैं यही गोल्डन ग्लो.

–    फेस मेकअप करें. ब्रॉन्ज़र यूज़ करें.

–    शिमरी गोल्ड आईशैडो अप्लाई करें.

–    फेस्टिवल लुक के लिए क्रीमी आईशैडो यूज़ करेंगी, तो बेहतर होगा. चाहें तो अलग से गोल्डन ग्लिटर अप्लाई कर सकती हैं या ग्लिटरी शैडो लगाएं.

–    अपर आईलिड पर ब्लैक आईलाइनर लगाएं. आंखों में काजल और उसके बाद मस्कारा अप्लाई करें.

–    लिप्स को भी गोल्डन टच दें. मेटालिक लिप कलर यूज़ करें.

–    गोल्डन हेयर एक्सेसरीज़ से अपने लुक को कंप्लीट करें.

फ्रूटी कलर्स

Diwali Makeup Tips

–   फेस्टिवल टाइम वैसे भी कलर्स और ग्लो का होता है. यही कलर्स आपके फेस पर आकर ठहर जाएं, तो ग्लो अपने आप आ जाता है.

–    बेसिक फेस मेकअप के बाद आप अपनी आईज़ और लिप्स को कलर्स से हाईलाइट करें.

–    आंखों पर कलरफुल मैट यानी पाउडर आईशैडो अप्लाई करें, जैसे- इनर कॉर्नर पर पिंक या यलो कलर और आउटर पर ऑरेंज या रेड या फिर अपने आउटफिट के अनुसार कलर्स अप्लाई करें.

–    मस्कारा ज़रूर लगाएं.

–   लिप्स पर भी आप दो-तीन शेड्स का कॉम्बीनेशन ट्राई कर सकती हैं.

–   ब्राइट पिंक कलर अप्लाई करें और बीच में गोल्ड लिक्विड लिप कलर लगाकर शिमर अप्लाई करें.

–    लिप कलर्स ग्लिटरी और ग्लॉसी रखें, ताकि फेस्टिवल लुक हाईलाइट हो.

–    स्ट्रेट सिल्की हेयर इस लुक को कॉम्प्लीमेंट करेंगे.

यह भी पढ़ें: दिवाली में 10 ब्यूटी टिप्स से पाएं नया निखार (10 Best Skin Care Tips For Diwali)

सिल्वर लुक, स्मोकी आईज़

Makeup Tips For Diwali

–   फ्रेश और कूल लुक के लिए आप सिल्वर लुक ट्राई कर सकती हैं.

–    आउटफिट सिल्वर और व्हाइट रखें और इसी को कॉम्प्लीमेंट करता हुआ मेकअप करें.

–    बेस फेस मेकअप करें. क्लीन लुक रखें. मैट फिनिश होगा, तो बेहतर रहेगा.

–    आंखों में काजल लगाएं.

–    अब स्मोकी लुक के लिए शिमरी ग्रे ब्लैक आईशैडो अप्लाई करें. स्मजर से स्मज करें. अच्छी तरह ब्लेंड कर लें.

–   अपर आईलिड पर अंदर की तरफ़ डार्क ब्लैक रखें, बाहर की तरफ़ शेड लाइट करती जाएं, ताकि स्मोकी इफेक्ट क्रिएट हो.

–    मस्कारा अप्लाई करें.

–    लिप्स पर लाइट पिंक कलर अप्लाई करें.

–    सिल्वर ईयररिंग्स और हेयर एक्सेसरीज़ से लुक को कंप्लीट करें.

बी नेचुरल

Natural Makeup Tips

–    अगर आपको बहुत ज़्यादा कलर्स या लाउड मेकअप पसंद नहीं, तो आप अपना लुक सिंपल और नेचुरल भी रख सकती हैं.

–    आपका आउटफिट अगर बहुत कलरफुल है, तो बेहतर होगा न्यूड मेकअप ही सिलेक्ट करें.

–   बेसिक फेस मेकअप करें. मैट फिनिश के लिए कॉम्पैक्ट यूज़ करें या लूज़ पाउडर भी लगा सकती हैं.

–    आंखों में ख़ूब सारा काजल लगाएं.

–    मस्कारा अप्लाई करें.

–    चाहें, तो अपर आईलिड पर आईलाइनर लगा सकती हैं.

–    लिप्स पर नेचुरल पिंक, ब्राउन या न्यूड लिप कलर लगाएं. बेहतर होगा मैट फिनिश हो, ताकि लुक नेचुरल लगे.

–   नेचुरल कर्ली हेयर इस लुक को कॉम्प्लीमेंट करेंगे.

– गीता शर्मा

यह भी पढ़ें: सांवली त्वचा के लिए 10 आसान मेकअप टिप्स (10 Essential Makeup Tips For Dark Skin Tones)

ये रेशमी ज़ुल्फ़ें…हेल्दी बालों के लिए स्मार्ट टिप्स (Smart Tips For Healthy-Shiny Hair)

Healthy Shiny Hair
ये रेशमी ज़ुल्फ़ें…हेल्दी बालों के लिए स्मार्ट टिप्स (Smart Tips For Healthy-Shiny Hair)

आप भी अपने बालों को रेशमी और घना करना चाहती हैं, तो इन ईज़ी टिप्स को फॉलो करें-आप भी अपने बालों को रेशमी और घना करना चाहती हैं, तो इन ईज़ी टिप्स को फॉलो करें-प हेयर केयर रूटीन फॉलो करें.

कोई रेशम कहता है इन्हें, तो कोई सावन की घटा… कोई ग़ज़ल कहता है इन पर, तो कोई ढूंढ़ता है अपनी वफ़ा… मेरे लिए मुहब्बत की पनाह हैं ये तेरी ज़ुल़्फें, इन्हीं में बसा है मेरी हसरतों का मुकम्मल जहां…

  • बालों को क्लीन रखना बेहद ज़रूरी है.
  • हफ़्ते में 2-3 बार माइल्ड शैंपू से हेयर वॉश करें.
  • कंडीशनर यूज़ करना न भूलें.
  • बाल धोने के बाद हमेशा उन्हें थपथपाकर सुखाएं, रगड़कर न पोंछें,  वरना बाल टूटने लगेंगे.
  • गीले बालों को बांधें नहीं, इससे फंगल इंफेक्शन का ख़तरा हो सकता है.
  • बेहतर होगा नेचुरल तरी़के से ही बालों को सूखने दें.
  • हेयर ड्रायर का अधिक इस्तेमाल न करें.
  • हेयर वॉश से पहले ऑयल मसाज ज़रूर करें.
  • स्काल्प मसाज करने से ब्लड सर्कुलेशन बढ़ता है.
  • बहुत अधिक केमिकल्स के प्रयोग से बचें.
  • बाहर जाते समय बालों को धूप से बचाने के लिए स्कार्फ बांधें या छतरी लें.
  • हेल्दी डायट भी हेल्दी बालों के लिए बहुत ज़रूरी है.
  • प्रोटीन, विटामिन ई और सी से भरपूर डायट लें. डेयरी प्रोडक्ट्स, बादाम, फिश, अंडे, साबूत अनाज, गाजर, पालक, आंवला, टमाटर आदि डायट में शामिल करें.
  • दोमुंहे बालों की समस्या से बचने के लिए बालों को नियमित रूप से ट्रिम करवाती रहें.
  • अगर बहुत ज़्यादा स्टाइलिंग प्रोडक्ट्स और हार्श केमिकल्स के प्रयोग से आपके बाल डैमेज हो गए हैं, तो बनाना और ऑलिव ऑयल का मास्क अप्लाई करें.
  • मिल्क मास्क से बाल सॉफ्ट और शाइनी होते हैं, दूध में अंडा और नारियल तेल मिक्स करके बालों पर अप्लाई करें.
  • दही भी बालों को हेल्दी रखता है. आप उसका भी मास्क यूज़ कर सकती हैं.
  • फ्रिज़ी बालों के लिए एवोकैडो पल्प बेहतरीन मास्क का काम करता है. आप चाहें तो इसमें अंडा या मेयोनीज़ भी मिक्स कर सकती हैं.
  • अगर आपके बाल बहुत ड्राई हैं, तो शहद और नारियल तेल का मास्क आपके लिए परफेक्ट है.
  • स्ट्रॉबेरी हेयर मास्क बालों को मॉइश्‍चराइज़ करेगा और एक स्वीट-सी ख़ुशबू भी बालों को मिलेगी.
  • एलोवीरा पल्प बेहतरीन हेयर मास्क है. इसमें हीलिंग प्रॉपर्टीज़ होती हैं. यह बालों को हेल्दी रखता है.
  • जोजोबा ऑयल से नियमित रूप से स्काल्प मसाज करें. इससे ब्लड सर्कुलेशन तो बढ़ेगा ही, बालों को मॉइश्‍चर भी मिलेगा.
  • आधा कप दही में एक टीस्पून विनेगर मिलाकर बालों में लगाएं. यह डैमेज्ड बालों के लिए बेहतरीन मास्क है. यह बालों से एक्स्ट्रा ऑयल निकालकर उनका चिपचिपापन कम करेगा, डैंड्रफ से भी राहत मिलेगी.
  • बालों में वॉल्यूम और शाइन चाहिए, तो मेयोनीज़ बेहतरीन मास्क है. आधा कप मेयोनीज़ में कुछ बूंदें किसी भी एसेंशियल ऑयल की मिलाकर बालों व स्काल्प में अप्लाई करें. आधे घंटे बाद शैंपू कर लें.

यह भी पढ़ें: रूसी को जड़ से ख़त्म करने के आयुर्वेदिक घरेलू उपाय (Home Remedies To Get Rid Of Dandruff Naturally)

यह भी पढ़ें: मॉनसून हेयर केयर (Monsoon Hair Care Tips)

मॉनसून में कैसे रखें सेहत का ख़्याल? (Monsoon Health Care)

 

Monsoon Health Care
मॉनसून में कैसे रखें सेहत का ख़्याल? (Monsoon Health Care)

गर्मी की तपिश से राहत दिलानेवाली बारिश की फुहारें अपने साथ कई हेल्थ प्रॉब्लम्स भी लेकर आती हैं. सर्दी-ज़ुकाम जैसी आम समस्याओं के अलावा टायफॉइड, हैजा, मलेरिया जैसी गंभीर और जानलेवा बीमारियां भी इसी मौसम की देन हैं, लेकिन सही खानपान और कुछ हेल्दी आदतें अपनाकर आप बरसात में होनेवाली बीमारियों से बच सकते हैं.

मॉनसून हेल्थ प्रॉब्लम्स

बारिश का मौसम अपने साथ कई आम व गंभीर बीमारियां भी लेकर आता है, इसलिए ज़रूरी है कि हम पहले से ही उसके लिए सावधान रहें. एटलांटा हॉस्पिटल के जनरल फिजिशियन डॉ. फतेह सिंह ने बरसाती बीमारियों से बचाव के बारे में हमें जानकारी दी.

डेंगू, मलेरिया और चिकनगुनिया 

जहां डेंगू में तेज़ बुख़ार, बहुत ज़्यादा सिरदर्द और जोड़ों में दर्द होता है, वहीं बुख़ार, ठंड लगना, मांसपेशियों में दर्द और कमज़ोरी आना मलेरिया के लक्षण हैं. चिकनगुनिया के भी लक्षण लगभग यही हैं.

बचाव

–    इससे बचाव का सबसे आसान तरीक़ा यही है कि घर के आसपास कहीं भी पानी का जमाव न होने दें, ताकि मच्छरों को पनपने के लिए जगह न मिले.

–    घर में कबाड़ जमा करके न रखें. जितना हो सके, घर साफ़ रखें.

–    बारिश से पहले घर में पेस्ट कंट्रोल ज़रूर करवाएं.

हैजा

बारिश के मौसम में फैलनेवाली यह एक गंभीर व जानलेवा बीमारी है, जो दूषित भोजन या पानी के कारण होती है. गंदगी और हाइजीन की कमी इस बीमारी को बढ़ावा देती है. उल्टी और पतली दस्त इस बीमारी के शुरुआती लक्षण हैं.

बचाव

–    सबसे ज़रूरी है कि आप हैजे का टीका लगवाएं, इससे 6 महीनों तक आप सुरक्षित रहेंगे.

–   हाथ धोने के लिए लिक्विड हैंड सोप का ही इस्तेमाल करें.

–   साफ़ और शुद्ध पानी के लिए प्यूरिफायर का इस्तेमाल करें अथवा पानी उबालकर पीना सबसे बेहतरीन उपाय है.

–    दूध व दूध से बनी चीज़ें, जैसे- आइस्क्रीम, मलाई वगैरह ज़्यादा न खाएं.

–    स्ट्रीट फूड से दूर रहें.

टायफॉइड

बारिश के दौरान होनेवाली यह एक आम बीमारी है. यह भी दूषित पानी व खाने के कारण ही होती है. इसमें सबसे ख़तरनाक बात यह है कि ठीक होने के बावजूद इसका इंफेक्शन मरीज़ के गॉल ब्लैडर में रह जाता है. बुख़ार, पेटदर्द और सिरदर्द इसके लक्षण हैं.

Monsoon Health Tips

बचाव

यह एक संक्रामक बीमारी है, जो बहुत तेज़ी से फैलती है, इसलिए मरीज़ को अलग कमरे में दूसरों से थोड़ा दूर रखें.

–    उबला व साफ़ पानी ही पीएं.

–    डिहाइड्रेशन से बचने के लिए मरीज़ को लगातार लिक्विड डायट लेते रहना चाहिए.

–    खाना खाने से पहले हाथों को अच्छी तरह ज़रूर धोएं.

–    होमियोपैथिक ट्रीटमेंट ज़्यादा मददगार होती है.

यह भी पढ़ें: पैदल चलने के 10+ चमत्कारी फ़ायदे (10+ Health Benefits Of Walking)

डायरिया/ पेट के इंफेक्शन्स

इस मौसम में पेट की बीमारियां, जैसे- डायरिया और गैस्ट्रो सबसे ज़्यादा लोगों को परेशान करती हैं, जो वायरल या बैक्टीरियल इंफेक्शन के कारण हो सकती हैं. पेट के ज़्यादातर इंफेक्शन्स में उल्टी और दस्त होते हैं, जिसके लिए तुरंत डॉक्टर से मिलना बहुत ज़रूरी है.

बचाव

–    खानपान के साथ-साथ पर्सनल हाइजीन का  भी ख़ास ख़्याल रखें. टॉयलेट के बाद और डायपर बदलने पर हैंडवॉश से हाथ ज़रूर धोएं.

–    बर्तनों और कटिंग बोर्ड को अच्छी तरह साफ़ रखें.

–    ऐसे फल और सब्ज़ियां खाएं, जिनके छिलके निकाल सकते हैं.

–   अगर ट्रैवेल करनेवाले हैं, तो हेपेटाइटिस ए का टीका ज़रूर लगवाएं.

पीलिया

मॉनसून के दौरान लिवर में वायरल इंफेक्शन काफ़ी आम बात है. हेपेटाइटिस के वायरस पानी के ज़रिए तेज़ी से फैलते हैं. यह इंफेक्शन गंभीर हो सकता है, क्योंकि हेपेटाइटिस का कारण पीलिया होता है, जिससे आंखें और यूरिन आदि पीले पड़ जाते हैं.

बचाव

–    हेपेटाइटिस ए और बी का वैक्सीन लें.

–    दूषित खाने और पानी से बचें.

–    हाइजीन का ख़ास ख़्याल रखें.

हेल्थ अलर्ट्स

–    अगर तीन दिन से बुख़ार आ रहा है, तो ख़ुद से दवा खाने की बजाय डॉक्टर को दिखाएं, क्योंकि यह कोई गंभीर बुख़ार भी हो सकता है.

–   शरीर पर किसी भी तरह के रैशेज़ या फोड़े-फुंसी नज़र आएं, तो तुरंत डॉक्टर को दिखाएं, यह कोई इंफेक्शन भी हो सकता है.

–    अगर आपको अस्थमा या कोई और ब्रीदिंग प्रॉब्लम है, तो ध्यान रखें कि सीलनवाली दीवार से चिपककर न बैठें. घर की दीवारें गीली न रखें, वरना फंगस के कारण आपको तकलीफ़ हो सकती है.

–    अस्थमा और डायबिटीज़ के मरीज़ ज़्यादा तीखा और मसालेदार खाना न खाएं, वरना उन्हें हेल्थ प्रॉब्लम्स हो सकती हैं.

–   डायबिटीज़ के मरीज़ नंगे पांव गीली ज़मीन पर न चलें, वरना जर्म्स और बैक्टीरिया से आपको इंफेक्शन हो सकता है.

मॉनसून डायट

मॉनसून में हमारी पाचन क्रिया धीमी हो जाती है, इम्यून सिस्टम कमज़ोर हो जाती है और शारीरिक क्षमता पर भी इसका असर पड़ता है. इस मौसम में खाना ठीक तरी़के से पचता नहीं, जिससे एसिडिटी और गैस जैसी समस्याएं होने लगती हैं. ऐसे में आपको खानपान का ख़ास ध्यान रखना चाहिए.

–    बारिश में उबालकर छाना हुआ पानी ही पीएं, वरना दूषित पानी के कारण बीमार पड़ सकते हैं.

–    मॉनसून में हरी पत्तेदार सब्ज़ियां खाने से बचें, क्योंकि बारिश में उनमें कीड़े लगने लगते हैं, जो आपके खाने के साथ पेट में जा सकते हैं.

–    मसालेदार और तले हुए खाने से अपच, उबकाई आना, वॉटर रिटेंशन आदि की समस्या हो सकती है.

–    रोज़ाना गर्म दाल या सूप ज़रूर पीएं. उसमें हल्दी, लौंग, कालीमिर्च और सौंफ ज़रूर डालें. यह इंफेक्शन से लड़ने में आपकी मदद करेगा.

–    खाने के बाद सौंफ का पानी पीने से गैस और एसिडिटी की समस्या नहीं होती. घर के सभी सदस्यों को खाने के बाद ये पानी दें.

–    उबला व अच्छी तरह पका हुआ खाना मॉनसून में आपकी सेहत की देखभाल करेगा.

–   एंटीबैक्टीरियल और एंटीऑक्सीडेंट के गुणों से भरपूर हर्बल टी और ग्रीन टी इस मौसम में काफ़ी फ़ायदेमंद साबित होती हैं. इसे डेली डायट का हिस्सा बनाएं.

–    गाय का दूध पीएं. यह हल्का व सुपाच्य होता है, जिससे आपको इंस्टेंट एनर्जी मिलती है.

–    खाने में गेहूं के आटे और मैदा की जगह जौ और चने के आटे का इस्तेमाल करें.

–    रोज़ाना अरहर की दाल की बजाय मूंगदाल का इस्तेमाल करें.

–    फ्रेश फ्रूट्स में आप सेब, अनार, मोसंबी और केला खाएं. ड्रायफ्रूट्स को अपने डेली डायट का हिस्सा बनाएं.

–    इस मौसम में जितना हो सके, प्रोसेस्ड फूड अवॉइड करें.

–   नॉन वेज के शौक़ीन बरसात में इसका सेवन कम कर दें.

–    अगर आप दही खाना पसंद करते हैं, तो ज़रूर खाएं, पर उसमें नमक या शक्कर मिला लें.

–    इस मौसम में गाय का घी खाना काफ़ी फ़ायदेमंद होता है, क्योंकि वो न स़िर्फ आपकी पाचन क्रिया  को दुरुस्त रखता है, बल्कि रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाकर आपकी याद्दाश्त को बेहतर बनाता है.

–   कच्ची सब्ज़ियां और सलाद खाने से बचें. अगर घर पर खा रहे हैं, तो सब्ज़ियों को अच्छी तरह धोकर ही इस्तेमाल करें.

हेल्दी लाइफस्टाइल

–   बहुत ज़्यादा भीड़भाड़वाली जगह पर जाना अवॉइड करें, क्योंकि वहां वायरल इंफेक्शन होने की संभावना ज़्यादा रहती है.

–    फुल स्लीव शर्ट और फुल पैंट पहनें, ताकि मच्छर काट न सकें.

–    जिन्हें एलर्जी और इंफेक्शन्स की समस्या है, वो नीम की पत्तियों को उबालकर उसे नहाने के पानी में मिलाकर नहाएं.

–    एक्सरसाइज़ इस मौसम में भी उतनी ही ज़रूरी है, जितनी हर मौसम में.

–    हो सके तो शाम को घर पहुंचने पर नहाएं.

अपनाएं ये होम रेमेडीज़

–    सर्दी-खांसी से राहत के लिए एक कप पानी में सोंठ पाउडर उबालकर पीएं, राहत मिलेगी.

–    गले में ख़राश या दर्द है, तो गुनगुने पानी में नमक और हल्दी मिलाकर गरारे करें.

–    सर्दी से नाक बंद हो गई हो, तो गर्म पानी में नीलगिरी तेल कीकुछ बूंदें डालकर भाप लें या फिर रुमाल में उसकी कुछ बूंदें छिड़ककर सूंघें.

–    अगर वायरल फीवर है, तो एक कप पानी में तुलसी और अदरक मिलाकर उबाल लें. आंच से उतारकर शहद मिलाएं और चाय की तरह पीएं.

–    अपच व बदहज़मी से बचने के लिए हर बार खाने से पहले अदरक के एक छोटे से टुकड़े पर सेंधा नमक लगाकर खाएं.

–    रोज़ाना हल्दीवाला दूध न स़िर्फ आपको दूषित पानी के कारण होनेवाली बीमारियों से बचाएगा, बल्कि आपकी रोगप्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ाएगा.

– सुनीता सिंह

यह भी पढ़ें: डायट सीक्रेट: बारिश के मौसम में क्या खाएं, क्या नहीं? (Diet Secret: Foods To Avoid This Monsoon)

 

 

 

हेल्दी टिफिन आइडियाज़ (Healthy Tiffin Ideas)

Healthy Tiffin Ideas

हेल्दी टिफिन आइडियाज़ (Healthy Tiffin Ideas)

बच्चों को खाना खिलाना किसी चैलेंज से कम नहीं, क्योंकि बच्चों को रोज़ एक जैसा खाना पसंद नहीं आता. बच्चों को टिफिन में क्या दें, जो हेल्दी भी हो और टेस्टी भी, इस बात को लेकर लगभग सभी माएं परेशान रहती हैं. आपकी इस मुश्किल को सुलझाने के लिए हमने जुटाए हैं हेल्दी टिफिन आइडियाज़.

–    बच्चे के टिफिन के लिए यदि परांठे बना रही हैं, तो आटे को पानी की बजाय पकी हुई पीली दाल में गूंधें. चाहें तो इसमें कटा हुआ प्याज़, हरा धनिया, अदरक-लहसुन का पेस्ट, नींबू का रस भी मिला सकती हैं, फिर इसके परांठे बना लें.

–    ज्वार, बाजरा, रागी, नाचनी आदि का आटा मिक्स करके उसमें सब्ज़ियां स्टफ़ करके बच्चों के लिए हेल्दी परांठे बनाएं.

–    बच्चों के फेवरेट नूडल्स में ढेर सारी सब्ज़ियां डालकर उसे हेल्दी बनाएं.

–    पास्ता बनाते समय उसमें भी ख़ूब सारी सब्ज़ियां डाल दें.

–    यदि ढोकला बना रही हैं, तो दो ढोकले के बीच में एक पनीर या चीज़ की लेयर रख दें.

–    टिफिन के लिए यदि सूजी का उपमा बना रही हैं, तो उसमें बारीक़ कटी हरी सब्ज़ियां डाल दें.

–    सूजी की बजाय आप दलिया का उपमा भी बना सकती हैं और इसमें भी कटी हुई सब्ज़ियां डाल सकती हैं.

–   इसी तरह पोहा बनाते समय उसमें कटी हुई सब्ज़ियां, कॉर्न, पनीर आदि मिला सकती हैं.

–    आलू टिक्की बना रही हैं, तो उसमें उबला व पीसा हुआ राजमा मिला दें.

बच्चों के टिफिन के लिए बनाएं 5 टेस्टी आलू रेसिपी, देखें वीडियो:

 

–    इडली बनाते समय भी उसमें कटी हुई सब्ज़ियां या सब्ज़ियों को पीसकर डाल दें.

–    पाव भाजी बना रही हैं, तो सब्ज़ी बनाते समय उसमें कॉर्न, पनीर आदि भी मिक्स करें.

–    सैंडविच में मिक्स वेजीटेबल्स भी स्टफ़ कर सकती हैं.

–    ऑमलेट बना रही हैं. तो उसमें शिमला मिर्च, प्याज़, टमाटर आदि काटकर डाल दें. इससे टिफिन और हेल्दी बन जाएगा.

–    बच्चों के टिफिन के लिए डोसा बनाते समय उसे मैक्सिकन स्टाइल में बनाएं. इसके लिए उसमें आलू स्टफ करने की बजाय लंबाई में पतली-पतली कटी सब्ज़ियां स्टफ कर लें.

–   हरी मूंगदाल के चीले भी बेस्ट ऑप्शन हैं. इसके लिए हरी मूंगदाल को रातभर पानी में भिगोकर रखें. सुबह पीसकर उसमें नमक, हरी मिर्च, अदरक-लहसुन का पेस्ट, कटा हुआ प्याज़, नींबू का रस आदि मिलाकर चटपटे और हेल्दी चीले बनाएं.

–    आटे में बारीक़ कटी या पीसी हुई सब्ज़ियां मिलाकर भी चीले बनाए जा सकते हैं.

–    यदि बच्चा चाट या भेल की फ़रमाइश करे, तो उसमें उबले कॉर्न, राजमा, चना, सोया आदि डाल दें.

यह भी पढ़ें: कुकिंग की ये 9 टेक्नीक्स बनाएंगी आपके खाने को टेस्टी (These 9 Techniques Will Make The Food Tasty)

 

10+ मॉनसून मेकअप टिप्स (Monsoon Makeup Tips)

मॉनसून में मौसम तो रूमानी होता है पर सबसे बड़ी समस्या ये होती है कि अपना लुक कैसे बरकरार रखा जाए? यहां हम आसान मेकअप टिप्स दे रहे हैं जिन्हें अपनाकर आप मॉनसून में भी हॉट और सेक्सी लगेंगी.

Monsoon Makeup

10+ मॉनसून मेकअप गाइड (Monsoon Makeup Tips)

– लाइट और नेचुरल मेकअप करें.

– स्टाइलिश लुक के लिए आप ब्राइट कलर की वॉटरप्रूफ लिपस्टिक यूज़ कर सकती हैं.

– वॉटरप्रूफ काजल और आईलाइनर भी लगा सकती हैं.

– इस मौसम में आप कलर्स के साथ एक्सपेरिमेंट कर सकती हैं.

– बेहतर होगा हैवी फाउंडेशन, ब्लश आदि  न लगाएं.

– अगर आपको मेकअप लगाना ही है, तो पहले चेहरे पर ब़र्फ रगड़ लें, इससे मेकअप टिका रहेगा और भीगने पर भी वो फैलेगा नहीं.

– अगर आपकी स्किन ड्राई या कॉम्बीनेशन है, तो ब़र्फ रगड़ने के बाद टोनर अप्लाई करें.

– अगर ऑयली है, तो ब़र्फ रगड़ने के बाद एस्ट्रिंजेंट लगाएं.

– आईशैडो में क्रीमी पिंक, लाइट ब्राउन, पेस्टल और बेज कलर्स इस सीज़न को कॉम्प्लीमेंट करते हैं.

– वॉटर बेस्ड मॉइश्‍चराइज़र्स ही यूज़ करें.

– हेयर स्टाइल सिंपल रखें, बाल शॉर्ट रख सकती हैं, तो बेहतर है.

– आईब्रोज़ ट्रिम करवाकर रखें, क्योंकि इस मौसम में आईब्रो पेंसिल यूज़ करना बैड आइडिया है, वो कभी भी स्मज होकर आपका लुक ख़राब कर सकती है.

यह भी पढ़ें: 10 क्विक मेकअप टिप्स से पाएं पार्टी परफेक्ट लुक

कामकाजी महिलाओं के लिए हेल्दी स्नैकिंग आइडियाज़ (Healthy Snacking Ideas For Working Women)

Healthy Snacking Ideas, Working Women cooking tips

वर्किंग वीमेन (Working Women) के लिए ज़रूरी है वर्क लाइफ (worklife) और पर्सनल लाइफ (personallife) में बैलेंस बनाते हुए भी अपने हेल्थ को इग्नोर न करना, ऐसी में ये हेल्दी स्नैकिंग (Healthy Snacking) टिप्स (Tips) उनकी मदद करेंगे


Healthy Snacking Ideas, Working Women cooking tips

अब वो व़क्त तो रहा नहीं, जब महिलाएं केवल किचन और घर की शोभा बढ़ाती थीं. समय बदलने के साथ-साथ महिलाओं की भूमिका में भी बहुत परिवर्तन आ गया है. फैमिली लाइफ के अलावा आज उसकी सोशल और प्रोफेशनल लाइफ भी है. यही वजह है कि उसके लिए चुनौतियां बढ़ी हैं. घर-परिवार, जॉब और बच्चों की देखभाल… इन सबके बीच उसकी अपनी सेहत काफ़ी प्रभावित होती है. लेकिन अगर वो हेल्दी डायट ले और अपनी हेल्थ को इग्नोर न करे, तो इन सारी चुनौतियों का सामना वो बेहतर तरी़के से कर पाएगी.
लें सही डायट
– काम के बीच अपने लिए कुछ भी ख़ास बनाकर खाना थोड़ा मुश्किल है, लेकिन अगर आप स्मार्टली स्नैकिंग करें, तो यह आसान हो जाएगा.
– ऑयली और जंक फूड की जगह हेल्दी फूड लें.
– आपके दोपहर के भोजन में कम से कम एक हरी सब्ज़ी, एक हिस्सा ताज़ा सलाद का और एक हिस्सा कैल्शियम से भरपूर डेयरी प्रोडक्ट, जैसे- छाछ, पनीर या दही, का होना चाहिए.
– महिलाओं को वैसे भी कैल्शियम की अधिक ज़रूरत होती है, तो ऐसे में अपनी ज़रूरतों को नज़रअंदाज़ न करें.
– पानी भरपूर पीएं. अपने डेस्क पर पानी की बोतल भरकर रखें, ताकि हमेशा हाइड्रेटेड रहें.
– काम के तनाव के बीच, देर तक काम करने और डेड लाइन्स पूरी करने के चक्कर में खानपान अनियमित और अनहेल्दी हो जाता है. लेकिन ऐसा जंक फूड न लें, जिनमें न एनर्जी है, न पोषण. बेहतर होगा कि जब भूख लगे, तो फ्रेश फ्रूट या फिर नट्स खाएं.
– एक्सरसाइज़ के लिए समय नहीं मिल पाता, तो बैठे-बैठे कुछ देेर के लिए मेडिटेशन करें. इससे तनाव कम होकर ऊर्जा मिलेगी.
– दिल्ली बेस्ड न्यूट्रिशनिस्ट रितिका समादार के अनुसार, “वर्किंग वुमन को सेहत संबंधी समस्याएं होने की अधिक आशंका रहती है, क्योंकि समय के अभाव के चलते उनकी खाने में हेल्दी फूड और पोषण की कमी रहती है. वो जब भी समय मिलता है, कुछ भी अनहेल्दी खा लेती हैं, जिससे स़िर्फ फैट्स और कैलोरीज़ ही बढ़ती हैं. इससे बचने के लिए स्मार्ट स्नैकिंग की ज़रूरत है.
– रोज़ सुबह रातभर पानी में भिगोए हुए बादाम खाएं, इससे दिनभर एनर्जी बनी रहेगी, क्योंकि यह विटामिन ई, फाइबर, प्रोटीन, राइबोफ्लेविन और अन्य कई पोषक तत्वों से भरपूर होता है.
– स्नैकिंग के लिए ऐसी हेल्दी चीज़ें सिलेक्ट करें, जिन्हें कैरी करना भी आसान हो.”

यह भी पढ़ें: बिना एंटीबायोटिक्स के साइनस से आराम पाने के कारगर तरीक़े

कैसे करें स्मार्ट स्नैकिंग?
– सलाद काटने का समय नहीं हो, तो गाजर, ककड़ी, टमाटर, सेब आदि को आप यूं ही बैग में रख लें और लंच के समय काटकर खाएं.
– जब कभी भूख लगे, तो ऑयली खाने की बजाय एक सेब या कोई अन्य फ्रूट खाएं.
– कभी-कभी भूख दिमाग़ में भी होती है, इसलिए जब भी भूख महसूस हो, तो पहले पानी पीएं. हो सकता है इसी से आपकी भूख शांत हो जाए.
– कोल्ड ड्रिंक्स की बजाय ताज़ा फलों का जूस पीएं.
– ग्रीन टी भी अच्छा ऑप्शन है. यह काफ़ी हेल्दी होती है.
– बहुत अधिक मीठा न खाएं. इससे फैट्स बढ़ेगा.
– अपने खाने में या फिर एक बाउल दही में कुछ क्रश्ड बादाम मिलाकर खाएं. यह बहुत ही हेल्दी ऑप्शन है और इससे पेट भी भरा रहेगा.
– हर 4 घंटे में भूख लगती ही है, ऐसे में अपने डेस्क या ड्रॉअर में ऐसे हेल्दी स्नैक्स रखें, जिनमें 200 से कम कैलोरीज़ हों.
– मल्टीग्रेन बिस्किट्स या क्रैकर्स, पीनट बटर, नट्स, चना, स्प्राउट्स, फ्रूट्स आदि रखें.
– बेहतर होगा कि बादाम का पैकेट लाकर ड्रॉअर में रखें, जब कभी भूख लगे, तो इसे अलग-अलग तरह से खाने में मिलाकर खाएं.
– आप रोस्टेड आल्मंड भी खा सकती हैं. चिप्स और समोसे से यह ऑप्शन बेहतर है.
– फैट फ्री, माइक्रोवेव में भुने पॉपकॉर्न भी एक विकल्प है, क्योंकि यह अधिक समय तक पेट भरे होने का एहसास कराते हैं.
– ऑलिव्स भी बहुत हेल्दी होते हैं और गुणों से भरपूर भी.
– व्हाइट ब्रेड की बजाय ब्राउन ब्रेड लें. पीनट बटर के साथ या अन्य हेल्दी चीज़ों के साथ उसकी सैंडविच बनाकर खाएं.

यह भी पढ़ें: जानें घुटनों में दर्द के 10 कारण और आराम पाने के आसान उपाय

 

कहीं सोशल मीडिया आपकी स्किन को ख़राब तो नहीं कर रहा? (Is Social Media Bad For Your Skin?)

Is Social Media Bad For Your Skin
सोशल मीडिया (Social Media) ने हमारे रिश्ते, सोशल लाइफ और हेल्थ (Health)  को तो प्रभावित किया ही है, लेकिन इसका साइड इफेक्ट हमारी स्किन पर भी हुआ है. घंटों सोशल मीडिया पर टाइम बिताने की वजह से हमें कई स्किन प्रॉब्लम्स (Skin Problems) हो रही हैं.

Is Social Media Bad For Your Skin

उम्र के निशांः आजकल सबका ज़्यादातर समय कंप्यूटर और मोबाइल पर बीतता है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि इसकी वजह से आंखों के किनारों पर झुर्रियां पड़ जाती हैं और डार्क सर्कल की प्रॉब्लम भी हो सकती है.

समाधानः बेहतर होगा कि कंप्यूटर या मोबाइल पर बहुत ज़्यादा समय ना बिताएं. बीच-बीच में ब्रेक लेते रहें. रात को अच्छी क्वालिटी की आई क्रीम आंखों के आसपास लगाकर हल्के हाथों से मसाज करें.

मुंहासे/एक्ने की परेशानीः क्या आप जानते हैं कि आपके मोबाइल फोन पर आपकी टॉयलेट सीट की तुलना में 10 गुना ज़्यादा बैक्टीरिया होते हैं. आप जब फोन कान से लगाते हैं, तो ये बैक्टीरिया आपके चेहरे पर स्थानांतरित हो जाते हैं, जिससे मुंहासे की प्रॉब्लम होने लगती है.

समाधानः मोबाइल हाइजीन का ख़्याल रखें. अपना मोबाइल हमेशा क्लीन रखें. बेहतर होगा रोज़ एक बार सेनिटाइजर से अच्छी तरह मोबाइल को पोंछ लें. इससे इंफेक्शन की संभावना नहीं रहती और आपकी स्किन भी सुरक्षित रहती है.

नींद ने भी छीनी ख़ूबसूरतीः कंप्यूटर और मोबाइल फोन की तेज़ रोशनी हमारे स्लीप पैटर्न को बिगाड़ती है. अक्सर सोने से पहले मोबाइल पर व्हाट्स अप या मैसेज देखा जाता है. इससे हमारे शरीर में मेलाटोनिन बनता है, जिससे नींद डिस्टर्ब हो जाती है और हम ठीक से सो नहीं पाते.

समाधानः सोते समय सेलफोन देखने की आदत छोड़ दें.

यह भी पढ़ें: 10 गलतियां बिगाड़ सकती हैं त्वचा की ख़ूबसूरती 

यह भी पढ़ें: ख़ूबसूरती बढ़ाते हैं ये 10 ब्यूटी फूड

स्ट्रेस का भी होता है असरः आजकल सोशल मीडिया का बहुत ज़्यादा दबाव है. लगातार इसके संपर्क में रहने से स्ट्रेस होता है, जिसका स्किन पर साइड इफेक्ट होता है.

समाधानः सबसे पहले तो सोशल मीडिया को एडिक्शन न बनने दें. मोबाइल या कंप्यूटर को टाइमपास या मनोरंजन का ज़रिया न बनाएं. स्किन से स्ट्रेस दूर करने के लिए कोई अच्छी सी डे और नाइट रिपेयर क्रीम से मसाज करें.

नोमोफोबियाः बहुत से लोग जब फोन घर पर भूल जाते हैं तो पैनिक हो जाते हैं. मोबाइल के ना होने और फोन से कॉन्टेक्ट में ना रहने पर उत्पन्न होने वाला डर नोमोफोबिया कहलाता है. इससे तनाव उत्पन्न होता है, जो त्वचा पर असर डालता है. इससे प्रीमेच्योर एंजिग या सोरायसिस भी हो सकता है.

समाधानः इस तरह का डर अपने ऊपर हावी न होने दें. स्ट्रेस से दूर रहें.

20 स्मार्ट कुकिंग आइडियाज़ (20 Smart Cooking Ideas)

स्मार्ट कुकिंग आइडियाज़, Smart Cooking Ideas

Smart Cooking Ideas

  1. घर पर समोसे या आलूवड़े बना रही हों, तो आलू की भरावन में ताज़ा पिसा हुआ घर पर समोसे या आलूवड़े बना रही हों, तो आलू की भरावन में ताज़ा पिसा हुआ गरम मसाला डालें. समोसे/आलूवड़े स्वादिष्ट बनेंगे.
  2. पनीर में सोयाबीन और बाजरे का आटा बराबर मात्रा में मिलाएं. इसमें बारीक़ कटे प्याज़, हरी मिर्च और नमक डालकर कड़ा आटा गूंध लें. इस मिश्रण से टिक्की बनाकर तवे पर सेंक लें.
  3. उबले हुए अंडे को काटने के लिए चाकू की बजाय धागे का प्रयोग करें. अंडे अच्छी तरह से कटेंगे.
  4.  क्रिस्पी फ्रेंच फ्राइज़ बनाने के लिए काटने से पहले आलू को कम-से-कम आधे घंटे के लिए ठंडे पानी में रखें.
  5. उपमा का स्वाद बढ़ाने के लिए इसे पकाते समय पानी की जगह दही मिलाएं.
  6. घर में गार्लिक ब्रेड बनाने के लिए लहसुन को बारीक़ पीस लें और बटर डालकर अच्छी तरह मिलाएं. इस मिश्रण को ब्रेड पर फैलाकर टोस्ट करें. गार्लिक ब्रेड तैयार है. चाहें तो इसमें लाल या कालीमिर्च पाउडर और हरा धनिया भी डाल सकती हैं.
  7. मिल्क शेक बनाते समय दूध में एक टीस्पून जैम या जेली मिलाएं. मिल्क  शेक टेस्टी बनेगा.
  8. उबले अंडे को चार भाग में काटें. उबले आलू को भी चौकोर आकार में काटें. दोनों को मिक्स करके उसके ऊपर कालीमिर्च पाउडर, चाट मसाला और नमक छिड़कें. एग पोटैटो सलाद तैयार है.
  9. पानीपूरी में आलू की जगह स्प्राउट्स (अंकुरित अनाज, जैसे- साबूत मूंग, मोठ आदि) भरकर पौष्टिक पानी पूरी तैयार कर सकती हैं.
  10. अरहर की दाल में उबला हुआ पानी डालकर पंद्रह मिनट के लिए भिगोएं. अब इसमें एक टीस्पून तिल का तेल डालकर चावल मिलाएं और पका लें. खिचड़ी ज़ायकेदार बनेगी.
  11. हेल्दी बेक्ड समोसा बनाने के लिए मैदे की जगह गेहूं के आटे का प्रयोग करें. गेहूं के आटे को मोयन (थोड़ा-सा घी या तेल), नमक और आवश्यकतानुसार पानी डालकर गूंध लें. उबले हुए आलू और मटर में चाट मसाला, नमक, गरम मसाला, बारीक़ कटी हरी मिर्च और हरा धनिया मिलाएं. अब आटे की लोइयां बनाकर पूरी की तरह बेल लें. हर पूरी को दो भागों में काट लें. दोनों भागों में आलू का मसाला भरकर समोसे का आकार दें. ब्रश की सहायता से समोसों पर तेल लगाएं. अब इन्हें माइक्रोवेव में कन्विक्शन मोड पर बेक कर लें.
  12. हरी पत्तेदार सब्ज़ियां पकाने से पहले तेल में थोड़ा-सा नमक डालें, ऐसा करने से पकने के बाद सब्ज़ियों का रंग काला नहीं पड़ता.
  13. बटर की जगह मस्टर्ड सॉस, हरी चटनी या टोमैटो सॉस का इस्तेमाल करें.
  14. चावल बनाते समय 1 टीस्पून नींबू का रस डालकर अच्छी तरह मिक्स करें. इससे चावल के दाने चिपकगें नहीं.
  15. इसी तरह से चावल में नींबू के रस की जगह 1 टीस्पून देसी घी भी मिला सकते हैं.
  16. पूरी या पकौड़े बनाते समय गरम तेल में चुटकीभर नमक डालने से पूरियां और पकौड़े कम तेल सोखते हैं.
  17. प्याज़ को मिक्सर में पीसने से पहले तेल में हल्का-सा भून लें. ठंंडा होने पर पीस लें. इससे खाना टेस्टी बनता है.
  18. परांठों को घी/तेल में सेंकने की बजाय बटर लगाकर सेंकने परांठे और भी टेस्टी बनते हैं.
  19. खीर बनाने से पहले चावल को मिक्सर में थोड़ा-सा दरदरा पीस लें. दरदरे पीसे चावलों से बनी खीर बहुत स्वादिष्ट होती है.
  20. रायते को और भी टेस्टी बनाने के लिए भुना हुआ जीरा-हींग पाउडर डालने की बजाय उसका छौंक लगाएं.
  21. पकौ़ड़े बनाते समय बेसन के घोल में चुटकीभर अरारोट और 1 टीस्पून गरम तेल मिलाने से पकौड़े कुरकुरे बनते हैं.

                                                                                                                                        – देवांश शर्मा

टेस्टी और ईज़ी रेसिपीज़ बनाने के लिए यहां क्लिक करें : रेसिपीज़  

यह भी पढ़े: सेहत से भरपूर पत्तागोभी का रस

[amazon_link asins=’B01DBPL4IW,B06XH1T3M6,B00NBLZ3QQ,B01E9DZXLO,B01686P77K’ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’27fe0bfb-baef-11e7-be90-ef373aa5d4b9′]